Author Topic: Articles By Bhisma Kukreti - श्री भीष्म कुकरेती जी के लेख  (Read 745588 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
यूनानी स्वास्थ्यवर्धक ठुंगार सलाद

यूनानी (ग्रीक )  स्वास्थ्यवर्धक सलाद , ठुंगार
स्वस्थ्यवर्धक ठुंगार /सलाद श्रृंखला - १
  संकलन - भीष्म कुकरेती   
 सलाद आज एक आवश्यकता च।  भलो  स्वास्थ्य व विशेष पोषक तत्वों बान सलाद/ठुंगार  की जरूरत पोड़दी। 
आज खावो यूनानी  स्वास्थ्यवर्धक ठुंगार

-
-खीरा /छुटि ककड़ी कटी
- शिमला मर्च हौरू   बर्गआकर कट्युं
- चेरी टमाटर  अध कट्यां  - २ कप
-  फेटा चीज  ५ ओंस  १/२ इंच
-  गोळ कट्यां लाल प्याज
-१/३ कप पोदीना कट्युं
- ओलिव  तेल - १/३ कप
ड्रेसिंग
-विनिगर -तीन चमच
-ल्यासण -३ पिस्युं
-ओरिगना १/ २  चमच
-पीली सरसों -१/४
-काळ लूण - १/४ चमच
- काळी मर्च चूरा  - छिड़कणो
Copyright@ भीष्म कुकरेती
विभिन्न स्वास्थ्यवर्धक सलाद, ठुंगार  , भिन्न भिन्न देशों सलाद, ठुंगार  , भिन्न भिन्न क्षेत्रों सलाद , ठुंगार    श्रृंखला   जारी 


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
क्यूबाक  स्वास्थ्यवर्धक सलाद

क्यूबा देशौ  पारम्परिक स्वास्थ्यवर्धक सलाद , ठुंगार
-
स्वस्थ्यवर्धक ठुंगार /सलाद श्रृंखला - २
-
  संकलन - भीष्म कुकरेती   
-
 सलाद आज एक आवश्यकता च।  भलो  स्वास्थ्य व विशेष पोषक तत्वों बान सलाद/ठुंगार  की जरूरत पोड़दी। 
आज खावो -खलावा   स्वास्थ्यवर्धक ठुंगार

-
सलाद अवयव -
कट्युं  लेट्यूस -१ बुट्या
८ टुकड़ा गोळ कट्यां  टमाटर
८  बरीक  गोळ कटीं  मूळी  ह्वे   सक त लाल मूळी
१ प्याजक छल्ला
१ आवोकाडो - कट्युं

ड्रेसिंग अवयव
१/२ एक्स्ट्रा वर्जिन ओलिव  तेल
१/४ कप निम्बू रस
२ चमच नारंगी रस
१ चमच टुकड़ों म कट्युन ल्यासण
१ चमच काळो लूण
१/४ काळी मर्च चूरा
सब अवयवों तै काटो ठीक से मिलावो अर  ड्रेसिंग डाळो। 

-
Copyright@ भीष्म कुकरेती
 भिन्न देशों के स्वास्थ्यवर्ध्क सलाद , भिन्न भीं क्षेत्रों के स्वास्थ्यवर्धक सलाद श्रृंखला जारी


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1


 
   
    क्या आप फ़ूड फोटोग्राफी में फूड   स्टाइलिंग  पर ध्यान देते हो ?
-
 क्या तुम  फूड   फोटोग्राफी म फूड स्टाइलिंग पर ध्यान दींद  छा ?

फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग - ५
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती 
-
फ़ूड फोटोग्राफी म फ़ूड फोटो वास्तव म   चित्रांकित भोजन की एक अभिव्यक्ति च अर फोटो ही अब कुछ बुलण म सक्षम हूण  चयेंद।  यांकण फोटो लीण  से पैल  फ़ूड की सजावट पर भौत व एकाग्रता से ध्यान दीण  जरूरी च।  फ़ूड सजावट यानी  फ़ूड फोटोग्राफी वास्ता फ़ूड स्टाइलिंग।  फ़ूड  फोटोग्राफी हेतु स्टाइलिंग म निम्न  १० बथुं  पर ध्यान दीण जरूरी च -
१- फोटोग्राफी कुण कम फ़ूड उपयोग कारो - प्लेट म भीड़ युक्त भोजन कम आकर्षित करद तो प्लेट म कम से कम भोजन रखि फ्तो खैंचो।
२- प्लेट का ंथी पेपर धरी बनावट म आकर्षण लाओ - प्लेट क मथि पार्चमेंट पेपर या बेकिंग पेपर से प्लेट दर्शनीय ह्वे जांद।
३- नेपथ्य म कॉन्ट्रास्ट लाओ - उन  त सफेद रंग आकर्षण लांदो पर नेपथ्य म कॉन्ट्रास्ट रंग हो तोआकर्षण बढ़ जांद।
४- थुड़ा  सि  भोजन तै  प्राकृतिक रूपम खतेण द्यावो - यदि भोजन प्राकृतिक रूप से थुड़ा सि  प्राकृतिक ढंग से खत्युं हो तो  फोटोम आकर्षण आंद।
५- सरल बनावट वल प्लेट या क्रॉकरी भली हूंद - यद्यपि कलायुक्त क्रॉकरी (प्लेट , कप थाली आदि ) भली लगदन किन्तु फोटो म कलेक्ट क्रॉकरी  फूड कु  आकर्षण छीन लीन्दन।
६- खाणा  प्राकृतिक रूप ही भल हूंद -जख  तक  ह्वे साको  फोटो खैंचद  दैं खाणा प्राकृतिक रंग रुप  ही रण द्यावो।
७- पाक विधि बि  दिखावो -  पाक विधि बि  दिखावो जख तक ह्वे  साको। 
८- स्वाद वळ  पक्ष उभारो - फोटो लींद  दैं स्वाद पक्ष तै उभारो जन आइस क्रीम क्रीमीनेस  अर  चटण  कु पक्ष दिखाए जांद। 
९- कुछ  रचनात्मक विचार व कथा फोटो म लाओ। 
१० - खाओ अर  तब बच्युं  खाणा की फोटो खैंचो किलैकि अधा खयूं  भोजन अधिक आकर्षित हूंद। 
११- कुछ भोजन की ऊँचाई पर ध्यान आवश्यक हूंद जन आइस क्रीम अर बिस्किट्स या सलाद या  भात , झंगोरा की की डळी  या  ढेर।   
१२- फूड  गार्निशिंग की उपेक्षा कतई नि   हूण  चयेंद जन धणिया पत्ता या रायता म लाल मर्च क बूरा आदि। 
 

 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography; फूड   स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता, फूड फोटोग्राफी में फ़ूड स्टाइलिंग के कुछ गुर , फ़ूड स्टाइलिंग के गुर


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

बंगाल स्वीट्स : बंगाल  कु  मिठाई  पाक विधि पर दुसर ग्रंथ


ब्रिटिश कालम  पाक शास्त्र  ग्रंथ  - ५
  Cookbooks in British Period in India
-
   भीष्म कुकरेती 
-
ईस्ट इण्डिया कम्पनी कु  हेड ओफिस कोलकत्ता हूण से इ  ना पुर्तगालिओं  व्यापार केंद्र हूण  से  उख  अंग्रेजी भाषा शिक्षा  भौत अधिक राय तो लिखवार , सुधारक पैदा ह्वेन।  भारतीयों मध्य बनि बनि  विषयों म ग्रंथ  , प्रकाशन कु  रिवाज बि बंगाल म हौर  क्षेत्रों से ज्यादा इ राई।  इनि  जख भारतम अन्य क्षेत्रों म  गुजरात छोड़ि  (पारसी बि  अंग्रेजी पढ़न म अग्नै  रैन  अर  अंग्रेजियत का क्रींबी ह्वेन ) रसोई विज्ञान म ब्रिटिश काल म बंगाल न पहल करी। 
बिप्रोदास मुखोपध्याय कु  बंगला भाषा म मिष्टान पाक 1904  म प्रकाशित ह्वे  त  एक दूसर एडीसन  १९१४ म प्रकाशित ह्वे  जु  संकेत दींद कि  बंगला पाठकों म बंगाली भोजन पकाणू प्रति रूचि छे। 192 1 म श्रीमती जे.  हलदर की अँगरेकी म 'ग्रंथ प्रकाशित ह्वे  जैक १९४८ म पाँचों संस्करण  प्रकाशित ह्वे।  पैलो संस्करण चक्रवर्ती  चटर्जी & कम्पनी लिमिटेड न छाप।  ग्रंथ बड़ो प्रसिद्ध ह्वे अर दुसर  संस्करण  १९२६ म छप।  अर्थात बंगाली समाज म पुस्तक प्रेम बिंदी छौ अर संस्कृति प्रेम बि।  यांसे  पैल  मिसेज जे. हलदर ' द स्टेसमैन' म हर ऐतवारो  कुण  'नोट्स ऐंड क्वेरीज ' स्तम्भ म  भारत से पाठकों अयां  प्रश्नों उत्तर दींदी छे ।  'बंगाल स्वीट्स' म निम्न अध्याय छया -
१- द  रोमांस ऑफ बंगाली स्वीट्स
२- द कौन्फेक्सनरी ऑफ़ बंगाल
३- कॉमर्सियल पॉसिबिलिटीज ऑफ़ बंगाल स्वीट्स
४- यूटेंसिल्स
५- इनग्रेडियंट्स
६- ओप्रेसन्स
७- मिल्क  ऐंड इतस प्रोडक्ट्स
८- सूगर  ऐंड  सिरप
९- रेसिपीज़
१०- रेसिपीज लूची etc
११- रेसिपीज - साल्ट प्रोडक्ट्स
१२- रेसिपीज - मोहनभोग ऐंड बरशा
१३- रेसिपीज - कोकोनट कंजर्वज
१४- रेसिपीज - मिठाइज
१५- रेसिपीज - पंटोहा etc
१६- रेसिपीज -रसगोल्ला etc
१७- रेसिपीज - संदेश 
१८- रेसिपीज - खोया ऐंड मिल्क प्रीपेरेसन्स
१९- रेसिपीज - मिसलेनियस
२० -प्रिजर्वेसन  ऑफ़ स्वीट्स
रोमांस ऑफ़ बंगाली स्वीट्स म मिसेज जे. हलदरन  बंगाल संस्कृति म मिठाई महत्व व बंगाल म कख मिठाई बजार /प्रोडक्शन केंद्र छन। 
मिसेज हलदर का अनुसार मिठाई द्वी परकारा होंदन - दूध से बणीं  मिठै  (मोंडा )   अर  बगैर दूध से  अर  बेसन व अन्य  ऑटो या दालों से बणी मिठै  ।
पाक को  यूनिवर्सल /सार्वभौमिक अर्थ हूंद बल गरमी /आग से गाढ़ो करण।
श्रीमती हलदरन  छुटि  से छुटि  बातों पर ध्यान दे  अर  आज बि  या ुस्तक रेसिपीज लिखणो  एक उदाहरण प्रस्तुत करदी , देहरादून सरीखा स्थलों म बंगाली स्वीट्स शॉप हूणो पैथर बिप्रोदास मुखोपाध्याय व श्रीमती जे हलदर  को हाथ  च जॉन  तब अपण  ुस्तक तब अंत्तराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध कार।  मिसेज हलदर  की पुस्तक इ  ना बल्कण  म  ब्रिटेन म बि  बिक।


 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;  बंगाल में  पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; बंगाल में मिठाई पाक शास्त्र ग्रंथ इतिहास ; Cookbooks in British Period in India  history ;  श्रृंखला जारी रहेगी


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

   आइस क्रीम, कुल्फी  की फोटोग्राफी  का कुछ नियम व सावधानियां

फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग - ६
 Food  Styling for  Effective  Food Photography part - 6
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
  भीष्म कुकरेती
-
  दिखे जाव त  सबि  भोजनुं  फोटो लीण  कठिन ही हूंद किलैकि  फोटो लीण  अर  स्टाइलिंग तरीका से फोटो तै आकर्षक बणान सरल त  नई च।  इनमा आइस क्रीम फोटोग्राफी फोटोग्राफरों वास्ता एक दिवा स्वप्न ही सिद्ध हूंद।  तो प्रत्येक फोटोग्राफर तै निम्न कुछ नियमुं  पर ध्यान दीण  आवश्यक च -
१- आइस क्रीम फोटो ग्रैफी म उद्देश्य का प्रति  उत्तरदायी हूण  आवश्यक - पैल  यू  द्याखो  कि आइस क्रीमै  फोटो कैकुण लीणा  छ अर फोटो मकसद क्या चजनकि  ब्रैंडिंगौ कुण , मैगज़ीन कुण  या सोशल मीडिया कुण।  ये ही हिसाब से रचनात्मक कार्य हूण  चयेंद। .  .
२-  यदि कॉमर्शियल का वास्ता फोटोग्राफी च तो असली आइस क्रीम की फोटो खैंचो।
३- प्रत्येक बातों प्रबंध पैलि  हूण  चएंद  अर  हर दृश्य व शॉट क पैलि  विशेषण हूण  चयेंद।
४-  स्टैंड प्रयोग - चाए फोटो सोशल मीडिया कुण  हो या कॉमर्शियल सबि जगा स्टैंड प्रयोग आवश्यक च। 
५- नकली आइस क्रीम कु  प्रयोग - भौत सा जगा नकली आइस क्रीम बणान बि  आवश्यक हूंद जनकि  उबाळयूं , मिंडयूं अल्लू तै आइस क्रीम की जगा प्रयोग।
६- मानवीय तत्व - आइस क्रीम फोटोग्राफी म मानवीय तत्वों जुड़न भौत आवश्यक च।  जनकि हथुंन आइस क्रीम पकड़न आदि आदि।
७- आइस क्रीम म  लाळ  चुवाण  वळ टॉपलिंग आकर्षक हूण  चयेंद।
८- प्रॉपर्टीज से फोटो खिंचणम कथा हूण  चयेंद।
९- फोटोग्राफी जटिल ना अपितु सरल हूण चयेंद।
१०- रचनाधर्मिताक  वास्ता   परम्परा तुड़ण  आवश्यक च। 
११ - हर समय तापमान पर ध्यान रौण  चयेंद।
१२ - फोटो म एकी  स्टालिंग की   हूण  चयेंद
१३-  सही उपकरणुं  प्रयोग
१४- आइस  क्रीम फोटोग्राफी म गति व दक्षता आवश्यक हूंद।
 यद्यपि आइस क्रीम की फोटो लीण  कठिन च किन्तु दृढ संकल्प व बार बार पर्यटन आवश्यक च।   

 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ?  Food  Styling for  Effective  Food Photography, आइस क्रीम फोटोग्राफी हेतु सावधानियां ;


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

रेसिपीज ऑफ ऑल  नेसन्स : भारत तै भोजन द्वारा प्रसिद्धि

-
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  - ७

भारतम ब्रिटिश कालम  कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - ६
Cookbooks in British Period in India - 6
-
 भीष्म कुकरेती

-
 बनेगल स्वीट्सन भारत क मिठाई तै अंतर्राष्ट्रीय  ख्याति दिलाई।  इनि  १९३५ म कॉउंटेस  मोर्फ़ि क संपादित व संकलित  छप्युं  ग्रंथ '  न बि भारतीय मिठाईयों तै अंतर्राष्ट्रीय ख्याति दिलाई।  जन महाभारत अर  कालिदास साहित्य आज बि उत्तराखंड तै प्रसिद्धि दिलांद उनी  रेसिपीज ऑफ ऑल नेसन्स  ग्रंथ भारतीय मिठाईयों  अर  अन्य भोजनुं तै प्रसिद्धि दिलांदी।  यीं  पुस्तक तै लोग अबि  बि  संदर्भ पुस्तक रूप म पढ़दन। पुस्तक की संपादिका वास्तव म कोउन्ट्स नि  छे अपितु यु   मर्सेली अजरा हिंक्स कु नकली नाम छौ।  हिंक्स यान से पैल वा नृत्य पर समाचार पत्रों कुण  लिखद  छे। 
  निम्न देशों क रेसिपी ये ८२1  पृष्ठों वळ  'रेसिपीज  ऑफ आल  नेसन्स '  ग्रंथ म च -
फ़्रांस , इटली , इजिप्ट , पुर्तगाल , ऑस्ट्रिया , हंगरी , जर्मनी ,रूस ,पोलैंड , नॉर्वे ,स्वीडन , डेनमार्क ,बेल्जियम , हॉलैंड , इंग्लैण्ड , न्यू ओर्लियन्स , इण्डिया ,चीन अर  जापान।  इखमा यूरोप क शास्त्रीय भोजन , चाय , ब्रेकफास्ट , पेय पदार्थं रेसिपीज छन।  भारतीय संदर्भ म रेसिपीज ऑफ ऑल  नेसन्स; म मिठाईयों  अर  अन्य भोजन जन कि  चावल , करी  चिकन करी , मटन करी , कई खिचड़ी, पुलाव , चिकन पुलाव , बिरयानी , चिकन दो प्याजा , कबाब करी , फिश करी ,  हलवा , पराठा , अचार,  चटनी आदि को  , विवरण च।  भारतीय भोजन ये ग्रंथ म पृष्ठ ६७५ बिटेन ६९५ तक छन। 
रेसिपीज ऑफ़ ऑल नेसन्स
कम्पाइलड ऐंड  एडिटेड  बाइ कॉउंटेस मोरफी
 प्रकाशक - लंदन
हर्बर्ट जोसेफ लिमिटेड
१९३५
भाषा - अंग्रेजी   
 इनि  भौत सा ग्रंथों न भारतीय भोजन तै प्रसिद्धि दिलाई। 
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
 
फ़ूड फोटोग्रैफी में पोरिंग / गिरने का प्रभाव

फ़ूड फोटोग्राफी म गिरण  प्रभाव/ बगाण /चुवाण    /pour effect  लाण
 फ़ूड फोटोग्राफी में भोजन के गिरने का प्रभाव लाना
फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग - ७
   Food  Pour  shot  in Food  Styling for  Effective  Food Photography part -  7
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती 

फ़ूड फोटोग्राफी म गति दिखाण कु  बड़ु महत्व च।  गति फोटो म जीवन या जान  लाणो  एक जरिया च।  उदाहरणार्थ - सब्जी मथि  क्रीम या दूध  धुळ्यूं  हो , ग्लास म फ्रूट रस या वाइन डळे जाव।  जग बिटेन जूस या दूध डळण, केतली बिटेन कॉफी या चाय डळद  दिखाण  आदि कुछ उदाहरण छन।
कुछ भोजन  फ़ूड पोरर कु  भलो काम कर सकद आप म गाढ़ो द्रव छन जु  बगद ही बढ़िया लगदन  या बगद रूप  या चूंद या गिरद ही छन जनकि  आइसक्रीम म क्रीम बगद जग , च या गिरद च।  बगर्स बिटेन  सॉस या भरीं रुटि पुटुक  घी हो तो घीक चूण दिखाणम फोटो म अलग ही जीवन आयी जान्दो अर  फोटो जिव्हा कोशिकाओं तै उत्प्रेरित करि फोटो आकर्षण बढ़ाणम कारगार सिद्ध हूंदन। 
भौत सि  जगा तेल/दवा  या शहद डळण  दिखाण  जरूरी हूंद  तो फ़ूड स्टाइलिंग म गिरणो /चूणो  प्रभाव वास्ता स्थिति पैदा करण  पडदन। 
फ़ूड स्टाइलिंग का फ़ूड पोरर या भोजन अवयव गिराण / चुवाण  वळ व्यवसायिक स्टाइलर -
   कमउम्रसियल फ़ूड फोटोग्राफी जक बजट करोड़ो या लाखों म हूंद सि प्रोफेसनल फ़ूड पोरर की सेवा लीन्दन।  बाकी लोग अपण कर्मचारी तै फ़ूड पोरिंग की त्वरित ट्रेनिंग देकि फ़ूड पोरिंग का कार्य करदन या सम्पादित करदन।  भौत बार विज्ञापन कम्पनी या  विज्ञापन फिल्म अपण  कर्मचारियों से फ़ूड पोरर का काम करवांदन।  मीन स्वयं अपण कर्मचारियों से फ़ूड पोरर कु  काम करवाई जबविटेक स्मार्ट बेन्द्र से  केक म क्रीम पड़द  दिखाण  छौ। 
   फ़ूड पोरर जणदु  च कि कब  कै हिसाबन फ़ूड गिराण  कि   जबरदस्त  प्रभाव  पोड  जा। 
 दोस्त।  परिवार वळ बि  फ़ूड पोरिंग कु  काम तजबिजु  से कौर सकदन। 
फ़ूड पोरिंग या भों गिराणो  कुण मथ्याक अर तौळक बर्तन सही हूण चयेंद विशेषतः जै बिटेन  भोजन /द्रव / गाढ़ो द्रव गिराण हो।  चूंकि भों की मात्रा कुछ विशेष हूंद तो जै  जग , चमच , डाडु , गिलास , बोतल से द्रव  गिराण  हो वैक जाँच पड़ताल कर लीण  चयेंद।   फोटो लीण  से पैल कुछ प्रैक्टिस अवश्य करण  चयेंद।   तौळक बर्तन या गिलास या बोतल या कप भि  महत्वपूर्ण हूंद। भौत बार मसाला या अन्य अवयव गिराण बि दिखाण  पड़द  त  भोजन /भोज्य द्रव्य  गिराण  वळ  पािल प्रशिक्षण दीण  आवश्यक च।
जु  योजना /प्लान बणाम  असफल हूंद  वु  असफल कार्य की  योजना बणांद।   भली भाँती सोच वैचारिक फोटो म पोरिंग /भोज्य पदार्थ कु  गिराण क कल्पना हूण  चयेंद अर हर सीढ़ी (step ) का  बारा  म योजना बणैक कार्य शुरू करण  चयेंद।   पैल  .नकली डमी शॉट लेक कार्य शुरू करण  चयेंद।
प्रोफेसनल फोटोग्राफर्स तै शटर स्पीड व फ्लैश समय कु  पूरो  ज्ञान व विचार कर  लीण  चयेंद। 
कै  जगा व कै पर  पर ध्यान दीण -  चूंकि पोरिंग कुछ ट्रिकी बात च तो यु  निर्णय ले लीण  चयेंद  कि फॉक्स गिरण वळ द्रव्य पर हूण या फ़ूड क  दूसर  अवयव या वातावरण पर।
फॉक्स अर  कंट्रास्ट - फॉक्स व कंट्रास्ट कु  ख़याल बि  आवश्यक च। 
द्रव कु  गिरण म इकजनि पन  /संगतता हूण  आवश्यक च।
गिराण /चुवाण / पोरिंग  म हथों प्रयोग अवश्य हो।
 प्रोफेसनल फोटोग्राफर तै निम्न ध्यान आवश्यक च -
एक्सपोजर म डाइल कु प्रबंध
प्रिफोकस
ट्राइपॉड को प्रबंध अवश्य हो
अंतिम बात -  फोटो म गिराण/चुंवाण /पोरिंग शॉट लीण  से  पैल   योजना व  खूब प्रैक्टिस जरूरी च। 

-
 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ?
फ़ूड फोटोग्राफी में पोरिंग / भोजन पदार्थ गिराने का प्रभाव लाना


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

 जयदेव रचित रतिमंजरी ( एक काम  विषयी  लघु  संस्कृत ग्रंथ ) 
-
संस्कृत अर  गढ़वळिम कामशास्त्र विषयक शास्त्र इतिहास
 History of Kamasutra Subjects in Sanskrit
  वात्सायन कृत कामसूत्र का गढ़वाली  अनुवाद  भाग  - ४
 Garhwali Translation of Kamsutra and History of such literature -4
-
संकलन - भीष्म कुकरेती
-
   कामसूत्र अनुशीलन का रचियिता वाचस्पति गैरोला तै समर्पित

-
  संस्कृत में तीन जयदेव कवि  ह्वेन।
१- गीत गोविन्द रचयिता
२ - प्रसन्न राघव नाटक रचयिता
३० जयदेव पीयूषवर्ष  ने अलंकार विषयक ग्रंथ चंद्रलोक रच। 
 एक  हौर  जयदेव  कवि ह्वेन जु रतिमंजरी क रचनाकार मने  जांदन।  रतिमंजरी एक लघु काव्य च जैमा  ६० श्लोक छन पर कामसूत्र क हिसाब से जयदेवन कामशास्त्र क सुंदर विवेचन कर्युं च अर कार्य प्रशंसनीय च।
  रतिमंजरी म सात प्रकरण इन छन -
१- पद्मिन्यादिनायिकाप्रकरणम
२- कामकलावर्णन वर्णनप्रकरणम
३- सम्भोगसामान्यप्रकरणमवर्णन
४- नायिकारतिविशेषवर्णनप्रकरणम
५- भगलिंगदोषवर्णनप्रकरणम
६- नायकलक्षणप्रकरणम
७- षोडशबंधनिरुपणप्रकरणम
  यूं सात प्रकरणम ही रचयिता न सरा कामसूत्र क विशेष तत्वों  क  इन व्याख्या करी जन  बुल्यां  गागर म सागर भर दे हो।
ग्रंथ म कै  नायक कुण   क्वा  नायिका सही च अर  कैं  नायिका कुण   कु  नायक सही च को पुरो वृत्तांत समझायुं च।  ग्रंथ क प्रारम्भ म जयदेव न अफु  तै जयदेव सुबोध बताई। 

  Copyright@ Bhishma Kukreti 2021
कामसूत्र याने रति सूत्र साहित्य इतिहास , कामसूत्र विषयक संस्कृत ग्रंथ इतिहास , रतिमंजरी बाराम सूचना , रति विषयक इतिहास



Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
तेल,  घी , वसा कब पीण  अर  कब नि  पीण
-
तेल  , घी  का हितकारी गुण  व अहितकारी गुण
-
चरक संहितौ सर्व प्रथम  गढ़वळि  अनुवाद   
 खंड - १  सूत्रस्थानम ,   तेरवां   स्नेह अध्याय    )  १७ वां   पद   बिटेन  -२२  तक
  अनुवाद भाग -  ९५
गढ़वाळिम  सर्वाधिक पढ़े  जण  वळ एकमात्र लिख्वार-आचार्य  भीष्म कुकरेती
-  !!!  म्यार गुरु  श्री व बडाश्री  स्व बलदेव प्रसाद कुकरेती तैं  समर्पित !!!
--
तेल बल , शुक्राणु , रस , कफ , मेद अर मज्जा  बढ़ांदु , विशेषकर  हड्डी ताकत  वर्धक अर  सरैल तै चिपुळ करणम हितकारी च। १७।
घी शरद ऋतू (असूज  कातिक ) म चर्बी अर मज्जा; वसंत ऋतू (फागुण -चैत ) अर तेल बरखा समौम (सौण -भादों )  प्रयोग करण चयेंद।  अति ग्रीष्म अर अति शीत म स्नेह (घी तेल आदि ) स्नेह नि पीण चयेंद। तीब्र व्याधिम ,रातौ समय ,पित्त की अधिकता म स्नेह पीण ठीक च। कफप्रधान व्याधी अर हेमंत -शिशिर ऋतू म दुफरा म स्नेहपान करण  चयेंद। १८-१९। 
वातप्रधान या पित्तप्रधान रोगी ग्रीष्म ऋतू म दिनम  स्नेहपान  करद त  मूर्छा , उन्माद ,तीस ,या कामला रोग पैदा हूंद (या हूणों आशंका)।   कफप्रधान रोगी जु शीट ऋतूम या राति  स्नेह प्रयोग करद त  वै पर अफरा ,अरुचि,शूलपीड़ा या पांडुरोग ह्वे  जांद। घी पीणो उपरान्त गरम पाणी , तेल पीणो /प्रयोग उपरान्त यूष , वसा व मज्जा  का उपरान्त माण्डु  पीण उत्तम च।  अथवा सब स्नेह प्रयोग का बाद  गरम  पाणी पीण  श्रेयकर च।  २० - २२। 

 -
*संवैधानिक चेतावनी : चरक संहिता पौढ़ी  थैला छाप वैद्य नि बणिन , अधिकृत वैद्य कु परामर्श अवश्य
संदर्भ: कविराज अत्रिदेवजी गुप्त , भार्गव पुस्तकालय बनारस ,पृष्ठ  १५८    बिटेन   १५९   तक
सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती (जसपुर गढ़वाल ) 2021
शेष अग्वाड़ी  फाड़ीम

चरक संहिता कु  एकमात्र  विश्वसनीय गढ़वाली अनुवाद; चरक संहिता कु सर्वपर्थम गढ़वाली अनुवाद; ढांगू वळक चरक सहिता  क गढवाली अनुवाद , चरक संहिता म   रोग निदान , आयुर्वेदम   रोग निदान  , चरक संहिता क्वाथ निर्माण गढवाली
 Fist-ever authentic Garhwali Translation of Charaka  Samhita, First-Ever Garhwali Translation of Charaka  Samhita by Agnivesh and Dridhbal,  First ever  Garhwali Translation of Charka Samhita. First-Ever Himalayan Language Translation of  Charaka Samhita   


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
 
फूड फोटोग्राफी  हेतु योजना का महत्व


फूड फोटोग्राफी छुट कामौ हो या बड़ो विज्ञापनौ योजना आवश्यक च
-
फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग -८
   Food  Styling for  Effective  Food Photography part -  8
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती 
-
  फूड   फोटोग्राफी  चाहे सोसाम मीडिया जन फेसबुक या इंस्टग्रामौ कुण  हो या बृहद बजट कु फूड विज्ञापनौ  कुण  हो सब जगा योजना आवश्यक च।  यदि असफल हूण तो  योजनाहीन ढंग से फूड फोटो ले ल्यावो।  जु शाबाशी  चैणी च त प्लानिंग आवश्यक च।  बिन प्लान का इनि च बिन झूलों क  नंगी बर्फ दिखणो जाण। 
एक सासत्व सत्य च बल फूड  फोटोग्राफी म प्रत्येक फ्तो खंड बिलकुल विशेष हूंद अर  एक घंटा पैल  से बिलकुल अलग बि  ह्वे सकद।  यदि विज्ञापन दाता फोटोग्राफर या एजेंसी तै  काम दीन्दो त  विज्ञापन दाता की मंशा हूंद  बल हरेक शॉट /फोटो खंड ग्रहों /दृश्यों तै भाई जावो।  हर शॉट से ग्राहक बणन चएंदन।  विज्ञानदाता की या इ  इच्छा हूंद कि  विज्ञापन फोटो विलक्छणी  ही हो।   तो सोशल मीडिया म तुम या ही गाणी -स्याणी करदा कि  फूड  फोट देखि  सोशल मीडिया म सैकड़ों Like मिल जावन। 
 व्यवसायिक फूड  फोटो म्यार विषय नी  किन्तु जु योजना विज्ञापनो  वास्ता फूड फोटोग्राफी म लगद तकरीबन वै  प्रकारै  योजना , कम आकर व विस्तार म ही क्योक ना हो  व्यक्तिगत  फूड फोटोग्राफी म बि आवश्यक हूंद।
१- कुछ खोज आवश्यक च -  फूड   फोटोग्राफी कुण   फूड स्टाइलिंग पर कुछ खोज या सीख आवश्यक हूंद। कै फूड तै सजाणो क्या क्या चयेंद  आदि की खोज आवश्यक च। 
२-एक शॉट लिस्ट बणाओ  चाहे मस्तिष्क म ही बणाण पर फोटो शॉट लिस्ट आवश्यक च।  रेसिपी क्या च अर पकांद  दै क्या क्या होलु . नेपथ्य व बगराउण्ड म धरातल कनो होलु।  धरातल क्या फूड तम आकर्षण लाण म सफल होलु ? फूड  का आलावा नॉन फूड प्रॉपर्टीज क्या क्या होला (चमच , कटोरी , फूलदान , नमकदानी आदि आदि ), द्वी तीन अलग अलग शॉट्स की कल्पना आवश्यक च ,
 ३ कुछ डमी प्रैक्टिस आवश्यक च।
४- फोटो लीण  से पैल  सब तयारी क निरीक्षण आवश्यक च।
५- प्रकाशौ  इंतजाम व प्रभाव निरीक्षण कर ल्यावो
६- फूड प्रोसेसिंग व पकान्द  दैं  क्या क्या कैंक फोटो लीण  क योजना बणा  ल्यावो अर वै हिसाब से भोजन  प्रोसेस व पकावो .
७- फोटो क निरीक्षण करदा जावो अर  आवश्यक हो तो दुबर  फोटो ल्यावो। 
          हीरो प्रोडक्ट कु निर्णय
प्रत्येक फोटो म एक हीरो फूड  हूंद तो फोटो लीण  से पैल  वै  फूड की पछ्याण  कर ल्यावो। ये हीरो फूड पर कैमरा कनो होलु की कल्पना व जांच आवश्यक च।  फूड स्टालिंग हीरो  फूड तै हीरो फूड बणानो बान करण जां  से  फोटो म या फिल्म म हीरो प्रोडक्ट स्मरणीय ह्वे जावो। हीरो प्रोडक्ट तै फोटोग्राफी से पैल कबि  नि खाण  चयेंद। 
भौत सा बगत  फूड फोटो कुण अवयवों की फोटो आवश्यक हूंद तो फूड प्रोसेसिंग आदि कु  ज्ञान आवश्यक च कि क्यांक अर कखम फोटो लीण। 




 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ?


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22