Author Topic: Articles By Bhisma Kukreti - श्री भीष्म कुकरेती जी के लेख  (Read 734782 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
Special Issue of Chitthi Patri of 2021: A Delightful and Collectable Issue
-
Bhishma Kukreti
-
 Chitthi Patri is one of the longest running Garhwali magazines . Madan Duklan had been publishing this marvellous magazine since 1985.
 For many years, Madan Duklan the editor of Chitthi –Patri (one of the longest Garhwali language magazine) had been bringing special subject issue of Chitthi Patri, one of the longest-running magazines on yearly basis. There is no two options that every special issue of the magazine had been a collectable issue. However, the issue of 2021 had been exceptional that being a general issue the magazine is very much collectable issue and a mile stone in Garhwali Magazine History that this time the magazine is real magazine comprising various genres in one issue.
 There are 182 pages in Chitthi –Patri issue of 2021.
There are various subjects in the issue as
Lok Dhwani
Lok Bimb
Lok Swar
Kumauni Lekh
Lok Purush
Mukhabhent
Geet
Katha
Kavita
Vyangy
Gazal
Laghukatha
Nai kalam
Puraani Kalam
Bal Kvaita
Bhashantar
Upnyas Ansha
Chhal Chhant
Rangmanch
Lok Katha
Lok Geet
Ravalti Geet
Sal –Nyal
Carona Kal
  The above titles show that this issue took all the subjects of a Language Literature. Or it might be said that after so many years , content wise a  complete Garhwali magazine is published.
 It is our duty for congratulating the Chitthi Patri editorial team for bringing such a delightful magazine issue.
Those Garhwalis can read Hindi must call this marvellous historical issue of Chitthi Patri
-
Chitthi Patri
A Garhwali Magazine , 2021 Issue
Editor in Chief – Madan Duklan
Publisher
Samaya Sakshya , Faltu Line
Dehradun




Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
Jan Meen Samjhi : Bagi-Uppanai Ladai

(Views of Preetam Apachhyan on long poetry Bagi Uppanai by Kanhaiyalal Dandriyal
Transliteration by Bhishma Kukreti
-
(Bagi Uppanai is a Garhwali long poetry (Khand Kavya) by one of World’s greatest poets Kanhaiyalal Dandriyal. Preetam Apachhyan wrote forwarding notes for the said long poetry by the world’s one of greatest poets Kanhaiyalal Dandriyal. This is a translation of said forwarding note)
 ‘Bagi –Uppanai Ldai’ (The Fight between buffalo and jumping insect)  is quite a different poetry collection among Garhwali language poetries. The Garhwal history reaches from older times till today through symbols, signs, and a mindboggling storyline.
 लम्बी चौड़ी गोठ छई वा
जैको नौं छयो गढ़वाळ
Though the characters in ‘Bagi –Uppanai Ldai’ areas he buffalo, ox, buffalo, bulls, cows, calves, he-goat, goats sheep, jumping insect (uppan , mosquitos, cow biting insects, the characteristics are of human beings. In this long poem, in the first half, the characters as buffalo used to protect the hilltop by staking their lives. And later on, through symbolic sign, he was a simple man that was deceived by cunning community men. Strong animals as Ox, Bulls type of Characters are human beings but simple in nature.
   The poet narrated Nagarkot outside of Garhwal. The characteristics of Nagarkot is blind faith, no education, cast system, revenging, infant death,  oppression, violence, depending on other’s mind, jealousy, alcoholism, etc. in Later stage, fox and Tiger were appointed as officer for rehabilitation started entering into cow shade (Goth)  by taking the above characteristics. The fight between buffalo and jumping insect is not fought on a plain terrain but there is political anomalies and complot, deception, and re-deception.
 Bhainsi Biyog is the mirror of our own society. The narration here is, Gossiping by women, a fickle young girl too, and  MA Bed goat. The luck of M.A Bed goat was bad and she took Sanyas. The fickle girl takes education in Cambridge convent school and leaves her community and changes into a foreigner attitude. The beauty parlor girl becomes a music teacher. The readers understand easily the symbols and understand whom the spears are being aimed at.
 Jumping insects, mosquitos, bugs, black legers are smaller in size but they create havoc for bulls, buffalos, etc as the wicked humans beings collectively are very harmful and dangerous to the simple-natured humans.
 From long poetry angle, there are animals insects as characters of human beings and represent Garhwal and its society. There is no historical character in this long poetry. But the buffalo would be representing the heroic character as he fights with oppression, offenders, encroachers, etc. He creates an army of buffalo, goats, cows, kids, sheep for fighting the oppression. They wake up to fight with jumping insects.
 The last chapter of long poetry ‘Jantai Sarkar’ is the concluding part of the long poetry ‘ Bagi-Uppanai Ldai’. The poet shows the realism that the common men are in a high position just for the sake of it otherwise the real rights are with bugs, jumping insects, mosquitos black leg insects only.
 The long poetry shows that everybody is looting the common men as the tiger is now the terrorist,  the fox is looting the bank. This is the reality of the present time.
 Conclusively it could be said that in the long poetry ‘Bagi-Uppnai Ladai’ , the poet is angry on the ironic situation and scoffs of the society. However, the poet is not hopeless-  The poet has hope as
सर्वशदाता बणो य धरती
गढवाळऐ बौड़ा मरजाद
डांडी पाख्युं अपणा गोंकी
गढ़वळयूँ तैं लगिन पराज
                    Dr. Preetam Apachhyaan
 






Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

नंदिता अयर : ज्वा ब्लॉगर्स  से कुकबुक लेखिका बौण

 भारतीय महिला ब्लॉगर्स   द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -२७
Cookbooks  Publicatins in India  series - 27
भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १२
Cookbooks after  Independent  India  -  12
-
संकलन -भीष्म कुकरेती
-
 नंदिता अयर  एक तमलियन  मेडिकल डाक्टर च , न्यूट्रिशन की विशेषज्ञा च अर ज्वा  बंगलौर म रौंदी।  २००६  से नंदिता  अयर की रूचि भोजन पाक विधि म जगी।  नंदिता अयर  कु ' सन  २००६ म शुरू कर्युं सैफ्रॉन टेल ' फ़ूड ब्लॉग पाठकों तै भौत पसंद आयी अर अब वींक लेख (शाकाहारी  भोजन व पोषकपूर्ण  भोजन ) बीबीसी , डीएनए , फेमिना आदि म छपदन। 
  नंदिता अयर  की भोजन पाक कला पुस्तक ' द एव्री डे  हेल्दी वेजिटेरियन' 2018 म प्रकाशित ह्वे अर पाठकों मध्य भौत प्रसिद्ध ह्वे।  पुस्तक म पुराणो अवयवों से नया प्रकारौ शाकाहारी भोजन पकाण विधि छन।  नंदिता एयर की या पुस्तक  'पोषक भोजन ' की बड़ी वकालत करदी अर सिखांदी बि  च। 
  एक ब्लॉगर्स कनो  पुस्तक प्रकाशित कर सकदी सिखण  ह्वावो त  नंदिता अयर कु  कार्य से प्रेरणा लीण  चयेंद। 
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, भारत म स्वतन्त्रता बाद कुक बुक्स प्रकाशन , भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला जारी , भारतीय महिलाओं द्वारा प्रसिद्ध कुकबुक प्रकाशन , प्रसिद्ध महिला सेफ , भारत में महिलाओं  का कुकबुक प्रकाशन में योगदान , स्वतंत्रता पश्चात महिलाओं द्वारा कुकबुक प्रकाशन , ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
ऋचा हिंगले : ब्लॉगर्स से कुकबुक लेखिका कु सफर

 भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला

भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -२८
Cookbooks  Publications in India  series - 28
भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १३
Cookbooks after  Independent  India  -  13
-
संकलन -भीष्म कुकरेती
-
ऋचा हिंगले क जीवन चरित्र आम महिलाओं वास्ता एक प्रेरक चरित्र च।  ऋचा एक ब्लॉगर -VeganRicha . com  च , फ़ूड फोटोग्राफर च ,रसीपी डेवलपर च।  ऋचा हिंगले क पाक विधा का  प्रशिक्षण बड़ो सरल हूंदन अर  ऋचा तै कथगा इ  संस्थाओं न पुरुष्कृत बि कार।
ऋचा हिंगले   की  Oprah.com ,Huffington post ,Glamour , Babble  आदि म बड़ी प्रशंसा बि  ह्वे।
ऋचा हिंगले की द्वी रेसिपी पुस्तक प्रकाशित ह्वेन
Vegan Richa's  Indian Kitchen , 2015 - भारतीय भोजन की सरल भाषा म रेसिपीज छन पुस्तकम। 
Vegan Richa's Everyday  Kitchen 2017 - अंतराष्ट्रीय शाकाहारी भोजन को रेसिपी सहित वृत्तांत वळि पुस्तक
द्वी पुस्तकों जर्मन म अनुवाद ह्वे।
भौत दिनों तक द्वी पुस्तक अमेजन डॉट म बेस्ट सेलिंग पुस्तक बि  रैन।
ऋचा क जन्म  भारत म ह्वे पर अब ऋचा विदेश म ही रैंदी।

ऋचा हिंगले क ब्लोगर्स से लेखिका बणनो सफर सैकड़ों महिलाओ तै प्रेरणा दींद। 

 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, भारत म स्वतन्त्रता बाद कुक बुक्स प्रकाशन , भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला जारी , भारतीय महिलाओं द्वारा प्रसिद्ध कुकबुक प्रकाशन , प्रसिद्ध महिला सेफ , भारत में महिलाओं  का कुकबुक प्रकाशन में योगदान , स्वतंत्रता पश्चात महिलाओं द्वारा कुकबुक प्रकाशन , ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1


फ़ूड फोटोग्राफी में अवयव दिखाने का महत्व
-
 फूड फोटोग्राफी म  कच्चा भोज्य पदार्थ दिखाणो महत्ता
Showing Ingredients in Food Photography
 
उत्तराखंडी फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली    उत्तराखंडी फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग -१५
   Food Styling for Effective Uttarakhandi Food Photography part - 15
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती
-
फ़ूड फोटोग्राफी एक जटिल कार्य हूंद।  फूड फोटोग्राफी म भौत सि तकनीक , तकनीकी व कलात्मक सिद्धांत, भोजन गंथि जगाण विधि  व मनोविज्ञान कु ख़याल  रखण पड़द।  फ़ूड स्टाइलिंग अर फूड फोटोग्राफी म कच्चा भोज्य पदार्थ दिखाणो अपण महत्व हूंद। अधिकतर दिखे गे  कि  फूड  स्टाइलिस्ट अर  फूड फोटोग्राफर पक्यूं  भोजन पर ही अधिक ध्यान दींदन जबकि कच्चा भोज्य पदार्थ , प्रॉपर्टीज अर  बैकग्राउंड भौत महत्वपूर्ण हूंदन।  इनि  कच्चो अवयवों भी फ़ूड फोटोग्राफी म महत्व हूंद जैपर
-
 फ़ूड फोटोग्राफी म  कच्चा भोज्य पदार्थ (ingrediants ) दिखाणो मुख्य कारण-
 -
भौत दफै  भोजन पछ्यण  कठिन ह्वे  जांद - भौत दां  पक्यूं  भोजन की पछ्याण कठिन ह्वे जांद कि  क्या च अर क्यांक बण्यु होलु  जनकि कढ़ी (झुळ्ळी ) , हरड़ै  दाळ , भौत सा  पंद्यर  साग जनकि अल्लो झोळ , गट्टा झोळ आदि ) , हौर  भुज्जी , भौत सा पक्वड़  (उड़द या सूंटा  पक्वड़ ) , भौत सि  चटणी  आदि।  , इन  भोजन म अंतर नि  दिखेण   से पाठक भोजन से एकदम तादात्म्य स्थापित नि कौर  सकद।  तो अंतर् भेद दिखाणो बान   कच्चा भोज्य दिखाण  आवश्यक ह्वे  जांद।   कच्चा भोज्य पदार्थ (मुख्य या सबि ) भोजन म अंतर् स्पष्ट कर लीन्दन। 
-
कच्चा भोज्य पदार्थ याने अवसरों (opportunities )  की वृद्धि -  कच्चा भोज्य पदार्थों तै पक्यूं  भोज का साथ दिखाणम  फूड स्टाइलिस्ट अर  फ़ूड फोटोग्राफर का पास विस्तृत आयाम मिल जांद। क्रिएटिविटी वास्ता भौत सा अधिक अवसर /चांस मिल जांदन।
-
कच्चा भोज्य पदार्थ पाठकौ  दगड़  इकदम  तादात्म्य स्थापित करद - कच्चो भोज्य पदार्थ मनोवैज्ञानिक रूप से फटाक से तादाम्य स्थापित करण म सफल हूंद। 
-
                    कच्चा भोज्य पदार्थ दिखाणो  तीन प्रकार
-
 कच्चा भोजन तै दिखाणो  तीन विकल्प हूंदन -
१- केवल मुख्य अवयव /कच्चा भोज्य पदार्थ (main  ingredient ) दिखाण
२-  सबि  अवयव (ingredients ) दिखये जाव
३-   अवयवों मध्य रूप दिखाए जाय जनकि  उसयीं / भिगयीं   दाळ , छिलीं  लौकी , मूळी , छिल्यां  फुळड़ (मत्र आदि ) , क्ट्यां  लिंगड़ आदि या खिटयूं  दूध या कढ़ी पकोड़ा  फोटो दगड़   पकोड़ा दिखाण ।
रचनात्मक विचार व आवश्यकतानुसार  एक विकल्प चुनण  चयेंद।
-
 प्राकृतिक कच्चा भोज्य पदार्थ म अति आकर्षण हूंद व भोजन भेद (Food  identification ( का वास्ता बि  आवश्यक हूंद तो कोशिश करे जाय कि दाळ , पंद्यर साग (करी ) , कढ़ी आदि फोटो म अवयव की फोटो बि  खैंचे जाय। 

 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Uttarakhand Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ? फ़ूड फोटोग्राफी में इंग्रेडियन्ट  दिखाना,  फ़ूड  फोटोग्राफी में कच्चा माल दिखाना , raw ingredients  in food photography


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
फूड फोटोग्राफी में प्लेट्स -कटोरियों के इस्तेमाल की हिदायतें


फूड  फोटोग्राफी ( फूड स्टाइलिंग द्वारा ) म प्लेट्स , कटोरी इस्तेमाल  हिदायत

 
उत्तराखंडी फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली    उत्तराखंडी फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग -१६
   Food  Styling for  Effective  Uttarakhand’s   Food Photography part -  16
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती
-
 फूड  फोटोग्राफी एक कला व तकनीक कु जोड़ च तो क्वी  फिक्स्ड नियम नि  छन किन्तु कुछ हिदायत (तकनीक का कारण ) आवश्यक छन।  जनकि फूड  फोटोग्राफी म कन प्लेट्स /थाली /तस्तरी या बाउल /कटोरी/कप गिलास इस्तेमाल हूण  चयेंद पर अनुभवी फूड फोटोग्राफरों राय इन च -
१- सफेद क्रॉकरी - जख तख  भोजन कु  सवाल च तकरीबन प्रत्येक भोजन सफेद क्रॉकरी दगड़ फिट ह्वे जांद।  कुछ जगह म रंगीन क्रॉकरी जरूरत पड़दी निथर सफेद क्रॉकरी ही इस्तेमाल हूंद।   
२- जख तक ह्वे  साको सपाट या समतल प्लेट /तस्तरी इस्तेमाल करण  चयेंद।
३- कटोरी या त  खड़ी या थोड़ा सि  भैर झुकीं मुंड्याल की हूण  चयेंद।  अधिक झुकीं मुंड्याळै  कटोरी /गिलास फोटोग्राफी कठिन बणै  दींदन। 
४- छुटि प्लेट अर  छुटि कटोरी  /क्रॉकरी ज्यादा इस्तेमाल हूण  चयेंद।  बड़ी प्लेट या कटोरी म भोजन कम दिखेंद।  बड़ी प्लेट या बड़ी कटोरी क फोटो लीण  बि कठिन हूंद।
५- डार्क/गहरो रंग / कलर क्रॉकरी - सफेद क्रॉकरी बाद डार्क कलर क्रॉकरी सही रंग हूंद।  डार्क क्रॉकरी (प्लेट , कटोरी , गिलास ) विशेष कर लाइट रंग/हळको रंग  कु  भोजन पर सूट करदो। 
६- चमक रहित क्रॉकरी इस्तेमाल करण  चयेंद।  कमसे कम चमकती प्लेट या बाउल इस्तेमाल करण  चयेंद।
७- रंगीन प्लेट्स अर  रंगीन कटोरी प्रयोग-  तभी ठीक लगद जब भोजन कॉन्ट्रास्ट कलर या मेल खांद रंग को हो। 
८- वर्गाकार/आयताकार  प्लेटों फोटोग्राफी टिप्स - भौत कम प्रयोग करण  चयेंद।  भोजन की जब मांग हो तो ही आयताकार , वर्गाकार क्रॉकरी प्रयोग करे जांद।  जब फोटो लीण  हो तो  कैमरा दूरी  अर   कोण  कु पूरो ख़याल करण  चयेंद। 
९- थप्पीदार भोजन वास्ता कम ऊंचाई क प्लेट इस्तेमाल करण  चयेंद।  भौत बार थप्पीदार भोजन रोटी क थप्पी , पापड़ थप्पी आदि तो लो रिज /कम गहरी थाली /प्लेट प्रयोग करण  चयेंद। 
१०- कागज - कागज  (टिस्यू पेपर ,  बांस पेपर , पार्चमेंट पेपर , अखबार ) क्रॉकरी भौत बढ़िया विकल्प हूंद किन्तु प्रयोग म ध्यान दीण  चयेंद।
फ़ूड फोटोग्राफी कला व तकनीक कु संगम च तो  तकनीक का प्रभाव समझण आवश्यक च।  प्लेट,  कटोरी  आदि फोटो लींद  दां   फोटो पर भौत सा प्रभाव डळदन त  प्लेट व कटोरयूं चुनाव सही ढंग से करण  आवश्यक च। 
 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Uttarakhand  Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ? फूड  फोटोग्राफी में  सफेद प्लेटों का इस्तेमाल , फूड  फोटोग्राफी में  डार्क  प्लेटों का इस्तेमाल ; फूड  फोटोग्राफी में  रंगीन  प्लेटों का इस्तेमाल; फूड  फोटोग्राफी में   प्लेटों  की जगह कागज इस्तेमाल


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
रुचिरा रामानुजम अर रंजनी राव : तड़कापास्ता  ब्लॉग प्रसिद्ध  लेखिका

 भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला
ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -२९
Cookbooks Publications in India series - 29
भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १४
Cookbooks after  Independent  India  -  14
-
संकलन -भीष्म कुकरेती
-
रुचिरा रामानुजम रंजिनी राव अफु तैं बुलदं बल द्वी भोजन प्रेमी रुस्वड़ कविता म घुस  गेन।  यूंक भोजन ब्लॉग तड़कापास्ता एक विशेष ब्लॉग च जखम जग प्रसिद्ध भोजन व पाक कला पर खूब छ्वीं लगदन।  इख तक की यात्रा विवरण बि  पर केंद्र विन्दु भोजन ही रौंद। पकक कला सब जगा फैलाणा  रौंदन तो बंगलौर म  पाक कला संबंधी वर्कशॉप बी उर्यांदन।
ब्लोगर्स रुचिरा  रामानुजम अर रंजिनी राव क तीन रेसिपी पुस्तक प्रकाशित हुईं छन -
अराउंड द वर्ल्ड विद तड़का गर्ल्स  2013
ईबुक - मैंगो मसाला
अर -
बुकवर्म ऐंड  जेलीज बेलीज 2017
रुचिरा  रामानुजम  अर रंजिनी राव की विशेष पुस्तक च बुकवर्म ऐंड  जेलीज बेलीज   जु  बच्चों तै ध्यान म रखी रचे गे यु एक अभिनव प्रयोग छ। 
रुचिरा रामानुजम अर रंजिनी राव की जीवनी प्रेरणादायी च। 
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, भारत म स्वतन्त्रता बाद कुक बुक्स प्रकाशन , भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला जारी , भारतीय महिलाओं द्वारा प्रसिद्ध कुकबुक प्रकाशन , प्रसिद्ध महिला सेफ , भारत में महिलाओं  का कुकबुक प्रकाशन में योगदान , स्वतंत्रता पश्चात महिलाओं द्वारा कुकबुक प्रकाशन , ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

कंकणा  सक्सेना : ब्लॉगर से कुकबुक लेखिका की यात्रा
 भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला
ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -३०
Cookbooks  Publications in India  series - 30
भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १५
Cookbooks after  Independent  India  -  15
-
संकलन -भीष्म कुकरेती
-
कंकणा सक्सेना  क ब्लॉग प्लेफुल कुकिंग भौत प्रसिद्ध ह्वे . कंकणा सक्सेना न  अफि फ़ूड स्टाइलिंग , फ़ूड फोटोग्राफी अर फ़ूड कंटेंट लिखण  सीख न कि  कै स्कूलम अर  कंकणा सक्सेना तै  तीनि विधाओं म माहरत हासिल च।   कंकणा सक्सेना क विशेषता च सरल शब्दों म नया नया अवयवों से भोजन पकाण  सिखाण। 
  योग फ्यूजन द्वारा नया नया रेसिपीज  लाण म कोंकणा प्रसिद्ध च।
 सन  2019  म कोंकणा सक्सेना की द  टेस्ट ऑफ़ ईस्टर्न इण्डिया पुस्तक छप अर  प्रसिद्ध पुस्तक ह्वे  गे  .  टेस्ट ऑफ़ ईस्टर्न इण्डिया पुस्तक म ८४ रेसिपीज छन जखम ३५ शाकाहारी भोजन की रेसिपी छन।  निम्न अध्याय द  टेस्ट ऑफ़ ईस्टर्न इंडिया म छन -
लेट अस स्टार्ट विद बेसिक्स
फॉर द लव ऑफ राइस
फील गुड फ़ूड
प्लांट बेस्डेड मेन  फ़ूड
स्मैक युवर पैलैट
सीट टच
स्नैक ऐंड  सिप
 अध्यायों से साफ़ पता चलदो बल  टेस्ट ऑफ़ इस्टर्न इण्डिया  पुस्तक म क्या क्या होलु।
कंकणा सक्सेना क जीवनी बतांदी कि  यदि स्वयं मेंहनत करे जाव तो वांछित फल मिल जांद .


 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, भारत म स्वतन्त्रता बाद कुक बुक्स प्रकाशन , भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला जारी , भारतीय महिलाओं द्वारा प्रसिद्ध कुकबुक प्रकाशन , प्रसिद्ध महिला सेफ , भारत में महिलाओं  का कुकबुक प्रकाशन में योगदान , स्वतंत्रता पश्चात महिलाओं द्वारा कुकबुक प्रकाशन , ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन ,


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
मल्लिका बसु : ब्लॉग से कुकबुक्स प्रकाशन यात्रा

 भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला
ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -३१
Cookbooks  Publications in India  series - 31
भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १६
Cookbooks after  Independent  India  - 16 
-
संकलन -भीष्म कुकरेती
-
 ब्लोगर्स से रेसिपी लेखिका बणनो  श्रृंखला  म अच्छी संख्या च।  इनि  व्यक्तित्व च मल्लिका  बसु।  मल्लिका बसुक जनम कोलकता म एक रानीतिक घराना म  ह्वे  छौ. जब मल्लिका जौर्न्लिज्म की पढाई कुण लन्दन गे त उख वीं तै अंडा उबाळण बि आंद  छौ।  तब अपण  मां  क  चिट्ठी म रेसिपी  से भोजन पकाण  सीख।  मल्लिका बसु लंदन म ी सलाहकार बण अर फिर एक भोजन ब्लॉग मल्लिका बसु खोल। ये दौरान मल्लिका न जेम्स ऑलिव , मधुर जाफरी जन सेफो न पर  टीवी कार्यकर्म बी प्रसार कार। 
मल्लिका क द्वी भोजन पाक कला पर पुस्तक छप गेन -
मसाला : इंडियन कुकिंग फॉर मॉडर्न लिविंग
मिस मसाला: रियल इंडियन कुकिंग फॉर बिजि लिविंग।
यूँ द्वी पुस्तकों म मल्लिका बसुन रेसिपीज देन  भौत सरल भाषाम। 
मल्लिका बसु कम्युनिकेशन संसार से ब्लॉग संसार  म गे अर  फिर कुकिंग बुक लेखिका बौण  अर  यु जीवन चक्र  महिलाओं तै प्रेरित करद।
-
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
-
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, भारत म स्वतन्त्रता बाद कुक बुक्स प्रकाशन , भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला जारी , भारतीय महिलाओं द्वारा प्रसिद्ध कुकबुक प्रकाशन , प्रसिद्ध महिला सेफ , भारत में महिलाओं  का कुकबुक प्रकाशन में योगदान , स्वतंत्रता पश्चात महिलाओं द्वारा कुकबुक प्रकाशन , ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन



Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

साईं कोराने खांडेकर : ब्लॉगर जैन कुकबुक छाप
-
 भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला
ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -३२
Cookbooks  Publications in India  series - 32
भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १७
Cookbooks after  Independent  India  -17   
-
संकलन -भीष्म कुकरेती
-
साईं कोरोने खांडेकरन सन  २००८ म 'झोला' ब्लॉग शुरू कार। जख्म साई कोराने खांडेकर अपर अनुभव साझा करदी छे।  2018 म साई कोराने  खांडेकर जब भोजन सलाहकार , अर लिख्वार बण त अपण ब्लॉग 'साईखांडेकर शुरू कार।  अब तक खांडेकरन  द्वी कुक बुक छपा येन।  साई करोने खांडेकर क अपर फ़ूड स्टूडियो बि  च। 
क्रम्ब : ब्रेड स्टोरीज ऐंड रेसिपीज - कति  संस्करण छप गेन।
पंगत ये फीस्ट: फ़ूड एंड  लोर फ्रॉम मराठी किचन
द्वी कुकबुक प्रसिद्ध ह्वेन। 


 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, भारत म स्वतन्त्रता बाद कुक बुक्स प्रकाशन , भारतीय महिलाऊं  द्वारा कुकबुक प्रकाशन श्रृंखला जारी , भारतीय महिलाओं द्वारा प्रसिद्ध कुकबुक प्रकाशन , प्रसिद्ध महिला सेफ , भारत में महिलाओं  का कुकबुक प्रकाशन में योगदान , स्वतंत्रता पश्चात महिलाओं द्वारा कुकबुक प्रकाशन , ब्लॉगर्स जु कुकबुक लेखिका बणिन


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22