Author Topic: Delicious Recepies Of Uttarakhand - उत्तराखंड के पकवान  (Read 189727 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
तन्दूर की कहानी

सरोज शर्मा (भोजन मूल शोधार्थी)
ई बात अलग च कि ई आज भारतीय खाणुक अहम हिस्सा च ।
तंदूर: खाण पकाण क एक तकनीक और उपकरण च जै मा हजार तरह का खाण पकयै जंदिन, पुरण जमन मा यै कु तोरीन बोलदा छा,
यै मा संदेह नीच कि तंदूर मुगलों का जमन मा खूब लोकप्रिय छा खासकर जहांगीर का बगत दूसर जगा लिजांण वला हल्का तंदूर विकसित हूंयी, लेकिन पैल तंदूर जै कु जिक्र प्राचीन यात्रा वृतांत मा मिलद वू जमीन क ताल हूंद छा, तुगलको का रसौड़ा मा कबाब और नान बणाण मा हूंद छा, चंगेज खान ल पैल बार यैकु परिचय तुर्को और अरबों से करवाई बाद मा ई भारत आई,
चिकन का शौकीन तंदूरी चिकन कु नाम ही सुण लीं त ऊंक गिचची मा पाणि आ जा,
भारत मा व्यंजनु कु स्वाद बणाण मा हमर पारंपरिक तंदूर महत्वपूर्ण भूमिका निभांद, भारत मा तंदूर कु इतिहास सिन्धु घाटी और हड़पपा सभ्यताओ से मनै जांद, यूं एतिहासिक स्थलों की खुदै मा तंदूर का अवशेष पयै गैं,तंदूर क उपयोग भारतीय उपमहाद्वीप तक नी च ,बल्कि पश्चिम और मध्य एशिया मा भि
लोग तंदूर क उपयोग करदा छाई, तंदूर का अवशेष प्राचीन मिश्र और मोसोपोटामिया क सभ्यताओ मा भि पयै गैं, जमीन क ताल कु तंदूर आर्मेनियाई तोरीन क याद दिलांद, यू आज क ओवन क जन काम करद, ये नजरिए से यू मुगल नी च, बल्कि आर्मेनियाई च, मुगलो का बाद ये थै अफगान तंदूर क साथ मिलैकि नै रूप दियै ग्या, जै से सांझा चुल्हा बणाण मा मदद ह्वाई जु एक पंजाबी तंदूर च, हम अगर गुरू नानक देव कु जिक्र नि करला त तंदूर क इतिहास अधूरा रैण, ऊंक द्वारा तंदूर क उपयोग कु बढावा दियै ग्या, ऊंन जातिगत बाधाओं क दूर करण और समानता कु बढावा दीण खुण सांझा चुल्लू बणाण कु आग्रह कैर, सांझा चूल्ला कि अवधारणा ल न केवल जातिगत बाधाओं थै दूर करण मा मदद कैर बल्कि महिलाओ खुण भि एक बैठक केन्द्र क निर्माण कैर दयाई।


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
किचेन टिप्स भाग -2)
-
Sumita Praveen from Mumbai
-
आज हम लोग चुलाणफनिक सौमानक भौते ज़रूरी टिप्स हौर ट्रिक्सक बारे में पढुल, जैल हमार काम कतुक आसान व्है जाल ।
किचेनक ट्रिक्स हौर टिप्स हम सबुनेक लिजि फैदक बात छू, यो पढ़भेर हमार मुश्किल आसान है जनि और भौते भारी भरकम  काम कें हम आसानील कर लिन्हु। ये लिजि हम तुमार लिजि चुलफनिक टिप्स हौर ट्रिक्स लीभेर ऐ रयूँ।
 फ्रीजर में फॉयल पेपर बिछे भेर राखो। येल बरफेक ट्रे या दोहर क्वे ले सौमान निकालणे लिजि आसानी व्हैल।
दूध जमुणे लिजि जामन लगे भेर दूध कें फेंट भेर धरो। दै भलोभल जमोल। गर्मी दिनांन दूध कें हल्क गर्म कभेर दै ले कम हाल्या किलैकि दै खट्ट नि हौल। ठंडी दिनांन दूध थोड़ गर्म कभेर जामन ले थोड़ जादा हाल्या येल दै भलोभल जामोल।
अगर त्वेम कम पत्ति वैल चाहा पसंद करछा तो पत्ति दार चाहाक इस्तेमाल कर्या। अगर कड़क चाहा भल मान्छा तो मिषणी चापत्ति, गुलाबी चैंच्छ तो दाणन वाई चापत्ति इस्तेमाल कर्या। हमेशा ताज्जी चाहा पिण चैं। एक्सपर्ट लोग सलाह दिनि कि दोहेर बार चाहा कभे नि गरम करण चैं।
पोहा भलाभल खिली- खिली बनूँने लिजि पोहा कें ध्विने व भिजुनेक बाद पानी भलीके निथार भेर अलग भान में धर्या पछि  लिम्बूक रस निचोड़ ल्यो। पोहे खिली -खिली बणाल।
जब ले भटूरा बनाला तो मैदा दगड़ सूजी मिला भेर भटूरा बणाया। यो तरिकेल बेलण में तो सुविधा होली हौर तो हौर भटूरा सवाद दगड़ कुरकुरा ले व्हाल।
उपमा बन्युन बखत एक कप सूजी दगड़ लगभग 1/4कप दै, पाण डालते बखत मिलाया। उपमा भौते सवाद व खिली खिली बणौल। ज़रूर ट्राय कर्या यो टिप कें भौते पसंद आल तुमुकें।
मैदा हौर ग्यूँक बणी हुई चीजन कें करारा बन्युने लिजि सोडाक उपयोग कभे नि कर्या। यो खाणि पिणि सौमान बिटिक विटामिन्स कें नष्ट कर दिनि। सोडा डालया पछि खाणेक सामग्री तेल जादा पिनि। येक बदली त्वेम पिस्यूँ में तेल मिला भेर ये कें भली के मिश लिया। रेसिपी एकदम करारा बणेल।
मुंफली भुनणेक बाद यकेँ एक किचेन टॉवेल में राखो। याद राख्या कपड़ जादा म्वाट नि हुन चैं। थोड़ पतव हुन चैं।  कपड़क चारों खुण पकड़ भेर एक पोटली बणे लियो। अब हल्क हाथेल रगड़ ल्यो। बगैर के मेहनतेक सार छिल्क निकव जाल। अब जो डीप फ्राय करणी वाल झार हुन्छ वील मुंफली हौर छिल्क अलग कर लिया। आपु देखला कि बगैर क्वे झंझटेक मुंफली दाण अलग है गईं हौर जादा टैम ले बरबाद नि व्है ।
सुमीता प्रवीण
मुंबई

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
फ्रिज इस्तेमाल क तरीका
-
अनीता ढौंडियाल , कोटद्वार
-
आजक समै फ्रिज एक भौत ही जरुरी उपकरण च
पर हमतैं येकू इस्तेमाल जानकारी जरुर होण चैंदी
उन त ये मा सामान रखणू क कयी बौक्स बण्या हुंदन पर हम क्वी बि सामान क्खी बि रख देंदां जु स्वाद क दगड़ सेहत क वास्ता नुकसानदायक होंद
आस्ट्रेलियाई विशेषज्ञों क मुताबिक, अगर हम फल सब्जियों तै
फ्रिज मा सै जगम रखला त वु कै दिन तक ताजी राली
चाइस व्हाइटगुड्स विशेषज्ञ एशले इरेडेल क मुताबिक फ्रिज मा फल अर भुज्यूं तैं जादा समै तक चलाणू तैंऊं तैं हमेशा अलग-अलग रखण चयेंदु कट्ठा रखण से उ जल्दी खराब ह्वे जंदन ऊन ब्वाली कि फ्रिज मा हर चीज क बीच मा हवा प्रसारित करणूं तैं जगा छोण्न चैंदी फ्रिज तैं जादा देर तक खुला नि रखत चयेंदु अब हमतैं जानकारी होण चैंदी कि कु सामान कखम रखण चयेंदु
दूधक सामान
मक्खन अर चीज तैं ढकीक फ्रिज क दरोजम बण्यां डब्बा मा रखण चयेंदु यांसे मक्खन गललू भि ना अर सवदी भि रालु
दूध तैं भिदरोजम बणी जगम रखण चयेंदु अगर दूध तैं जादा समै तक रखण त हमेशा सीधू रखण पतीला मा नि रखण
अंडा तैं भि वेकी जगा मा ही रखण प्लास्टिक का डब्बा मा बन्द करी नि रखण नथर नमी ऐ जांदी
फल सब्जी
फ्रिज म सबसे ताल क्रिस्पर दराज हूंदी वक्खी अलग-अलग रखण चयेंदु
फ्रिज मा प्याज लासण नि रखण चयेंदी टमाटरों कु भि अलग जगा हूंदी वक्खी रखण चयेंदी
मांस
अगर जादा समय तक नि रखण त सीदा फ्रीजर मा रख सकदां अगर तीन चार दिनों तैं रखण त कै हवा बन्द डब्बा मा धैरिकि
फ्रिजर मा धैर सकदां
ब्रेड रवटी
ब्रेड तैं फ्रिज मा कबी नि रखण पर लपेटी फ्रिजर मा रख सकदां यां से मुलैम राली अर इस्तेमाल से कुछ देर पैली निकालण से ब्रेडौ स्वाद भि बण्यू रालू


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
छेना पोड़ा कु इतिहास( बेक पनीर)
-
सरोज शर्मा (भोजन मूल शोधार्थी)
-   
छेना पोड़ा कु शब्दिक अर्थ च उड़िया मा बेक पनीर, यू घौर का ताजू पनीर छेना से बणद, चिन्नी थैं भूरु हूण तक बेक किए जांद, छेना पोड़ा शुध्द भारतीय मिठै जैकु स्वाद क्रेमलाइज चिन्नी से निर्धारित किए जांद,
इतिहास
छेनापोडा की उत्पति बीसवी शताब्दि का पूर्वार्ध मा दस पल्ला क ओडिशा गौं मा ह्वाई, एक कनफेक्शनरी का मालिक विधाधर साहू न बचयूं पनीर मा चिन्नी और मसला मिलाण कु फैसला कौर, वै थैं चुल्हा मा छोड़ दयाई जु गर्म छा अगला दिन वै थैं आश्चर्य ह्वाई कि वैन कतगा स्वादिष्ट मिठै बणयाल, आज ये भारत कई राज्यों मा लोकप्रिय च,यै क अलावा यी तटीय ओडिशा,और भारत मा प्रसिद्ध लोकप्रिय मिठै च।


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

कूकी ( बिस्कुट)कू इतिहास।

-उषा बिज्लवाण-देहरादून ‌।
-
  बिस्कुट एक साधारण खाद्य पदार्थ पर इतिहास भौत लम्बूऔर‌ रोचक।क्या आप तै पता छ कि बिस्कुट आइ कख बटी छ और अलग-अलग संस्कृतियों या स्थानों मा ये कू स्वरूप क्या छ?आवा जाण दौं वासतव मा कूकी क्या छ। कूकी या बिस्कुट आटा या मैदा से बणाए जाण वालू मीठू मुलायम या सख्त, मोटू या पतलू केक छ जू लगभग सब तैं पसन्द औंदू। पैली कूकी ओवन कू तापमान जांचणक इस्तेमाल किए जांदू छौ।यू ७ वीं सदी ईसा पूर्व ईरान (पर्शिया)की बात छ कीक कि यखी सबसेपैली गन्ना। कू उत्पादन ह्वै छौ। युद्ध के दौरान गन्ना और कूकीज तैं दुनिया का दूसरा देशों जन यूरोपय मा भी पछाण मिली। और १४ शताब्दी का अन्त तक कुकीज़ यूरोप मां आम ह्वैगी छौ। पुनर्जागरण काल की पाक कला की किताबों मां ज्यादातर कुकीज़ की ही रैसिपी मिलदी छै। एलिजाबेथियन इंग्लैंड मां लोकप्रिय थै छोटी छोटी चौकोर कुकीज़ जू अण्डा की जर्दी और मसालौं से चर्मपत्र का कागज पर पकाए जान्दा छा। औद्योगिक क्रांति क बाद तकनीकी मा सुधार क कारण कुकीज का प्रकारों मा भी क्रांति आई । सामग्री सबूं की एक ही थै आटू, चीनी ,तेल कर मक्खन। यूरोपियन जब अमेरिका ऐन त अपणा साथ कुकीज़ की विधि भी लैन।अमेरिकन बटर कुकीज़ इंग्लिश टी केक(चाय का साथ खाये जाण वालू केक)और स्कोटिश शौर्ट ब्रैंड(स्कोट लैंड का छोटी डबल रोटी)की तरह ही होन्दा छा। दक्षिणी कालोनियों मा हर एक गृहिणी तै पता छौ कि टी केक कन बणाए जांदा छा।वैम वू केवल मक्खन और कभी कभी गुलाब जल का कुछ बूंद डालदा छा।पाक कला की किताब मा पैली अमेरिकन कुकीज़ का रचनात्मक नाम छा जंब्लस,प्लंकेट्स अर क्राइंग बेबीस जैसे यन अनुमान नि लगै सकदा छा कि भीतर क्या छ। तकनीकी का विकास का साथ ही संयुक्त राज्य अमेरिका मा कुकीज मां और नई नई चीज जन नारियल और सन्तरा कू इस्तेमाल किए जाण लगी छौ।यख तक की कैलौग्स भाइयौं द्वारा १८०० मा कार्नफ्लेक्स का अविष्कार का बाद अनाजौं कू इस्तेमाल भी शुरू ह्वैगी छौ और फ्रिज का अविष्कार का बाद १९३० मां आइसबौक्स कूकीज भी काफी लोकप्रिय ह्वैन। आवादुनिया भर मां लोकप्रिय कुकीज़ का सारा मां जाणदौं ।एनिमल क्रैकर इंग्लैड बटी संयुक्त राज्य अमेरिका मा आई और १८०० मां अमेरिका मा ही बणना शुरू ह्वैन। पी टी बरनम और वूंका सरकस का औणा का बाद "एनिमल्स" एनिमल क्रैकर्स मां परिवर्तित ह्वै जू कि देखे जांदू कू चौकोर डब्बा वै पर सरकस कू पिंजरा और हत्था ताकि आसानी से कखी भी ली जै सकदां। ऐनजैक कुकीज़ आस्ट्रेलिया कू छा और यू बिस्कुट अपणा लम्बी उम्र का कारण आस्ट्रेलियन फौजियौं तै ब्रैड कू विकल्प बणगी छौ। इटली मां कुकीज़ तै बिस्कोटी बोले जान्दू कीक की यू द्वी द्वी बार पकाए जांदू।ये मां आटातैलौग्स का आकार मां ढाले जांदू और फिर पकाए जांदू जब तक की सुनहरा भूरा नी ह्वै जांऊं।फिर यूं तै अलग अलग करी क फिर पकाए जांदा छा। डच मां बिस्कुटों तैं रस्क कुकी और जर्मनी मां ज्वीबैक। चौकलेट चिप कुकी वास्तव मां गलती से यूथ ग्रेव्स वेकफील्ड द्वारा मशाचूसेट्स मां १९३७ मां बणीन। अपणा रेस्टोरेंट मां मेहमानों तैं बिस्कुट बणौदी छै एक दिन आटा मां चौकलेट डाली ये उद्देश्य से की चौकलेट पकौंदा टैम गल जारी पर वैका छोटा छोटा टुकड़ा रैगिन और वही गलती न एक नइ कुकीज कु रूप धारण कर दिनीऔर चौकलेट कु नाम पड़ी "द टोल हाउस क्रंच कुकीज़"। १९३९ मा बैटी क्रॉकर न कुकीज़ कु उल्लेख अपणा रेडियो सीरीज पर करी"फेमस फूड्स फ्रम फेमस ईटिंग प्लेसस" और जल्दी लोग सब जगा चौकलेट कुकीज़ की मांग करण लगीन। रूथ न नेस्ले कंपनी का साथ एक समझौता करी जै मां वूंतैंचौ चॉकलेट का रैपर का पिछली तरफ रेसिपी लिखण की अनुमति मिल गी‌ थै। १९९७ मां चौकलेट चिप कुकीज मैशाचूसैट्स का अधिकारिक कूकीज बण गी छौ। फिगर न्यूटन कु मूल कख छ यू अभी भी विवादास्पद छ। एक दावा कर दू कि जाम कुकीज१८९१ फिलाडेल्फिया काअविष्कारक हेनरी मिचेल कु अविष्कार छ जब वून यनी मशीन बणाई छै जू कुकीज़ मां जैम भर देन्दी और कुकीज़ कु नाम न्यूटन शहर का नाम से रखे गै। दूसरा दावा करदन की कुकीज कु अविष्कार सबसे फैली १८९९ मां चार्ल्स मार्टिन रोसर न करी छौ ।वूंकी कुकी और कैंडी बणौणवाली मशीन छै। लेडीफिंगर्स ११शताब्दी मां युरोप मां बहुत लोकप्रिय छै।१९वीं शताब्दी का शुरूआत मां लेडीफिंगर्स संयुक्त राज्य अमेरिका मा और बेकरियों जन मैरिसविले और पैनसिलवैनिया ये का स्पेशियलिस्ट थान और यू "द लेडिफिंगर स्पेशियलिस्ट" का नाम से जाणे जांदा था। नज़रेथ शुगर कुकीज़ दूसरू नाम ऐमिश शुगर कुकीज़ मूल रूप से जर्मनी की कुकीज छन पर परफैक्ट किये गै पैनसिलवैनिया का नजरेथ मा जर्मन आंदोलनकारियों द्वारा जू वख१७०० मां बसगी छा। कुकीज़ कू आकार वख का प्रधान सिध्दांत की तरह होंदू छौ।
   

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
लासण अर आदौ पेस्ट
-
अनिता ढौंडियाल कोटद्वार
-
लासण अर आदू मसला क रुप मा लगभग हर खाणू मा इस्तेमाल करे जांदू इ खाणक स्वाद क दगड़ स्वास्थ्यवर्धक भी होन्दू
उन त यु पेस्ट बजारम मिल जदन पर हम घौरम भी आसानी से बणै सकदां अर द्वी मैना तक फ्रिज मा स्टोर भि कर सकदां
सामान
लासण आधा किलो
आदू तीन सौ ग्राम
तेल एक कट्वरी
लोण एक छ्वटु चम्मच
बणाणू सगोर
सबसे पैली लासण छील ध्या अर आदू भी साफ कर द्या
अब द्वी चीज मिक्सी मा डालिकि तेल अर लोण डालिकि पीस ल्या ह्वेगी तैयार
अब हवाबन्द डब्बा मा रखी फ्रिज मा धैर सकदां द्वी मैना तक खराब नि होंद
आदू हमेशा लासण से कम रखण किलैकि जादा रखण से कड़ु ह्वे सकद


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
हाफ बोइल्ड ऐग अर ब्राउन ब्रेड बच्चों तै एक हैल्थी नाश्ता।   
Usha Bijlwan   
विधी- नौन स्टिक पैन ल्या आधा चम्मच से भी कम तेल डाला गर्म होण पर अण्डा सीधा फोड़िक डाल द्या कुछ नी करण बस सफेद हिस्सा  हल्कू सी पकण देण बस बन्द करदेण तैयार छ हाफ बोइल्ड ऐग पौष्टिक नाश्ता

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
साबुत उड़द की दाल

अनिता ढौंडियाल कोटद्वार
-
चार माबतूं
-
समान
द्वि कटोरी दाल, आधा कटोरी राजमा, एक इंच आदू,द्वी लौंग
चुटकी भर हींग, एक कटोरी प्याज बरीक कट्यूं, पांच फोली लासण, एक कटोरी टमाटर कट्यूं, एक चम्मच धनिया पाउडर, आधा चम्मच हल्दी, आधा चम्मच लाल मर्च, एक चम्मच गरम मसलू, एक बड़ू चम्मच घी, एक चम्मच मक्खन
बणौणू सगोर
सबसे पैली दाल ध्वेकी कुकर मा डालिकि पांच कट्वरी पाणी
डाला, अब आदू बरीक कूटिकि अर द्वि लौंग भि डाल द्या
कुकर बन्द कैरी गैस मा धैर द्या, एक सीटी औंण पर झौल कम कर द्यावा आधा घंटा तक पकावा
अब एक पतीला मा घी गरम कैरी प्याज भूटा हींग डाल द्या प्याज लाल होण पर टमाटर लासण कूटिकि अर सब्या मसला भि डाल द्या लोण अन्दाजन डाला एक मिनट तक ढक द्या
झौल कम रखण
जब मसला घी छोणन लग जाव त उसेयीं दाल डाला
द्वि तीन कट्वरी पाणी डालिकि दस मिनट तक तेज झौल मा पकावा हैरू धणिया डाली एक मिनट ढक द्या
परोसदां मक्खन डाला
भात झंगोरा दगड़ी खावा गरम
जब मसला घी छ


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1
तिल की पंजीरी पौष्टिक भि और सवदि भि
-
सरोज शर्मा सहारनपुर बटिक
-

तिल 250 ग्राम
चिन्नी 250 ग्राम
मावा 500 ग्राम
बदाम पिस्ता मर्जी क मुताबिक
तिल भूनिक अलग धैर दयाव
मावा भून ल्याव
चिन्नी कि चाशनी बणैकि वै मा मावा बड़िया से मिलाव अब तिल दरदरा कूटिक मिलाव खूब अच्छे से मिला ल्याव, एक थालि मा घी लगैकि सरया मिश्रण अच्छे से एक कटवरि क तला मा घी लगैक दबा दबा कि फैलाव माथ बटिक पिस्ता बदाम से सजाव हवै गै तैयार खावा और खिलावा।


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,808
  • Karma: +22/-1

किचन का ऐक्जौस्ट फैन साफ़ करणो सही  ब्यूंत 
-
वीरेंद्र गौड़
-

 
            कै आम भारतिय या गड़वळि ,रस्वड़मा जथगा जौरत चुल्ल अर भांडुंकि हूंद,उथगा इ जौरत एग्जॉस्ट यानि भितर से भैर हव्वा फिंकण वाळ पंखाकि हूंद।यु पंखा खाणक बणांद दैं तेल अर हौर धुवां जन कि मसलुंकि खसबौ अर मर्चुकि खिंखरांण तुरंत भैर निकळ्द,यांसै यु गंदु अर चिपचुपु बण्यूं रौंदु।
येक साफ रौणु भौत जादा जरूरि च जांसै यु खराब नि ह्वा अर ढंगसे काम कना रा।आज तुमतैं द्वी चार टिप्स बतौला जै से येक सफै कन कैकुन बि सौंगु ह्वै जाउ।
पंखातै निकळण-सबसै पैल वैक बटण बंद कौर द्या अर पलग सॉकेट से भैर निकाळ दीं,चूंकि यु पंखा भौत ऊंचै फर लग्यूं रौंद त यैतै निकळणकुन स्कूल या गीड़ा बि यूज़ करै जै सकुदु।
जाळिकि सफै-जाळि ये पंखाकि सबसै जरुरि भाग च,ये फर सबसै जादा धूळ जमिदि जांसै हव्वाक कम ह्वै जांद।जाळि साफ करणकुन येथै खोलिक एक बल्ट्यूंद तात पाणि मा अद्धा चम्मच अमोनिया छोळ द्या,येमा जाळि तै पंदरा से बीस मिंटकुन डुबै द्या।इनमा सरि मोटि गंदगि साप ह्वै जैलि,बचीं खुचीं तै स्क्रबरन रगड़िक छाळ पाणिन ध्वै द्यावा।
ब्लेडकि सफै-ब्लेड फर छक्वैक तेल अर ग्रीस जम्यूं रौंद,यैतै साफ करणकुन तात पाणिमा अद्धा कप अमोनिया अर बेकिंग सोडा छोळ द्या,कुछ देर येमा ब्लेड डुबैकि बचीं गंदगि स्क्रबरन रगड़िक साफ कपड़न पोंछ द्या।पैलकि नै जन चमकण बिसै जाल।
ब्लेड चमकाणकुन भांड धूण वळ पौडेल,ब्रेकिंग सोडा अर सिरका तै तात पाणिमा छोळिक बि इस्तमाल करै जै सकुदु च,ये सै बि ब्लेड चमक जैलि।
किलैकि एग्जॉस्ट फैनक भितर मसीन हूंद त इनमा वैक भितर पाणि जैकि फैन खराब बि ह्वै सकुदु,इलै वैतै बिना खुलीं बि साफ करै जै सकुदु,यांकुन तात पाणि मा लारा धूणक पौडर डाळिक स्क्रबर या पुरण टूथब्रुशकि मदद से फैनक सब्बि हिस्सों तै रगड़िक कुछ देर कुन यन्नि छोड़िक बाद मा छाळु पाणिन ध्वैकि कपड़ान पोंछ्द्या।
अजकालक दिनुमा एग्जॉस्ट फैन रस्वड़क भौत जरुरि हिस्सा च,वैतै साफ रौणु भौत जरुरि च ,जांसै टैम टैम पर धुवां वगैरा भैर निकळ साक अर रस्वड़ साफ रौ।


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22