Linked Events

  • कर्क संक्रान्ति (हरेला): July 16, 2012

Author Topic: Harela Festival Of Uttarakhand - हरेला(हरयाव)  (Read 110322 times)

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #20 on: July 14, 2008, 12:49:38 PM »
Sabhi Sadasyon ko Harela ki advance wishes :)

betaal

  • Newbie
  • *
  • Posts: 5
  • Karma: +0/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #21 on: July 14, 2008, 02:46:04 PM »
Excellent contributions by all members.
Harela is the festival, with which, we all are emotionally very much attached. I remember Pandit ji visiting our place on the occasion of Harela.
Loved the feeling.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #22 on: July 14, 2008, 02:55:09 PM »
नवरात्रि के लिए उत्तराखण्ड के प्रत्येक घर में टोकरी में आठ अनाज बोए जाते हैं। जिसे स्थानीय भाषा में हरेला कहते हैं। अष्टमी को पूजा के बाद हरेला काटा जाता है और उसे मंदिर में चढ़ाया जाता है। यहां पर प्रार्थना का आयोजन, विशेषरूप से महिलाओं द्वारा अपने पुत्र और पुत्री की बेहतरी के लिए किया जाता है।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #23 on: July 14, 2008, 05:53:48 PM »
Sir aapse request hai ki aur topics pai bhi apni rai de please.

Excellent contributions by all members.
Harela is the festival, with which, we all are emotionally very much attached. I remember Pandit ji visiting our place on the occasion of Harela.
Loved the feeling.

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #24 on: July 14, 2008, 05:54:35 PM »
Aur uske baad ghar ke mukhya sadasya unhi patto ko aashirvaad ke roop main sabke sar pai rakhte hain.

नवरात्रि के लिए उत्तराखण्ड के प्रत्येक घर में टोकरी में आठ अनाज बोए जाते हैं। जिसे स्थानीय भाषा में हरेला कहते हैं। अष्टमी को पूजा के बाद हरेला काटा जाता है और उसे मंदिर में चढ़ाया जाता है। यहां पर प्रार्थना का आयोजन, विशेषरूप से महिलाओं द्वारा अपने पुत्र और पुत्री की बेहतरी के लिए किया जाता है।

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #25 on: July 14, 2008, 05:56:38 PM »
Dikara:


Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #26 on: July 14, 2008, 05:58:21 PM »
Harela:


Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #27 on: July 14, 2008, 06:03:14 PM »
Source: http://www.kmvn.org/culturalheritage.aspx

At the time of Harela there is a tradition of making clay idols (Dikaras) The Shaukas use their own and Tibetan knitting art form to decorate mattresses known as Dans. In these woollen goods we find the mixed influence of the Kumaoni and Tibetan styles. Kumaon also has a distinctive style of making different baskets (Doka.Dala, Tokri), wooden casks (Theki,Harpia, Naliya) for keeping curd, butter and ghee, mattresses (mosta) and ropes etc. The art of hilljatra mukhotas (masks) is also worth mentioning.

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Re: हरेला(हरयाव): Harela
« Reply #28 on: July 14, 2008, 10:12:45 PM »
Mere Uttarakhandi Bhai, Bhaheno ko Harele ke Badhai, Shubkamnai,
 
I want to convey my feelings in the following few lines.
 
la harau la bagau, jee raiya jag raiya
tumara ma, babu jado bachi rao
dub ja hugar jaiya, pati ja pugar jaiya
sara gaon me padhan ban jaya
ek ke ekashi ha jayo,
paach pachas hai jao,
sabo khur math me tumar har rau
 
That's all I remember,  bus bhanau ko samajhana,
 
With lots of love and regards
 
A.B.Joshi

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
पर्व पर होगा पौधरोपणJul 14, 11:59 pm

टनकपुर (चंपावत): हरेला क्लब के तत्वावधान में उत्तराखण्ड की संस्कृति के प्रचार व प्रसार के लिए हरेला पर्व के अवसर पर संयुक्त चिकित्सालय परिसर में पौधरोपण किया जायेगा।

हरेला क्लब के सचिव दीनदयाल धामी ने बताया कि 16 जुलाई को हरेला पर्व के अवसर पर संयुक्त चिकित्सालय परिसर में पौधरोपण किया जायेगा। इसके बाद उत्सव गार्डन में क्लब की नई कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण व परिचय समारोह आयोजित किया जायेगा। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उपजिलाधिकारी जीवन सिंह नगन्याल होंगे। श्री धामी ने इस कार्यक्रम में क्षेत्र के लोगों से बढ़-चढ़ कर भाग लेने का आह्वान किया । उन्होंने कहा कि क्लब का मुख्य उद्देश्य शिक्षा, स्वास्थ्य , खेल, महिलाओं के उत्थान के साथ वृक्षारोपण, विकलांग व पीड़ित परिवारों को सहयोग करना है।


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22