Author Topic: House Wood carving Art /Ornamentation Uttarakhand ; उत्तराखंड में भवन काष्ठ कल  (Read 8629 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,501
  • Karma: +22/-1


  राईला  (नैनीताल )  के एक भवन  में कुमाऊं शैली  की काष्ठ कला अंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन

-
   Traditional House Wood Carving Art in  Raila Nainital;
कुमाऊँ, गढ़वाल, केभवन (बाखली,तिबारी,निमदारी,जंगलादार मकान,खोली ) में कुमाऊं शैली  की काष्ठ कला अंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन-448 
(प्रयत्न किया है कि आलेख में इरानी , इराकी , अरबी   शब्द न हों )
-
संकलन - भीष्म कुकरेती
-
 गढ़वाल की तरह ही कुमाऊं में जंगलेदार भवन निर्माण शैली  का मूल संभवतया  हरसिल राजा विल्सन का बंगला है।  इस सर्वेक्षण में पाया गया कि गढ़वाल में जंगलेदार भवनों की संख्या अधिक पायी गयी व कुमाऊं क्षेत्र में न्यून संख्या। 
प्रस्तुत भवन (संभवतया होम स्टे है )  स्वतंत्रता के पश्चात का निर्माण है व छत में ब्रिटिश शैली का प्रभाव है।  प्रस्तुत   राईला  (नैनीताल )  का   भवन  दुपुर व दुखंड /तिभित्या  है।  भवन में काष्ठ उत्कीर्णन /कुर्याण  नहीं है अपितु ज्यामितीय कटान से निर्मित स्तम्भ महत्वपूर्ण (शैली )  है।
  भवन के भ्यूंतल (Ground  Floor ) व पहले तल में  तीनेक फिट के बरामदे हैं दोनों ब्रांडों में बाहर  सात सात ज्यामितीय कटान से निर्मित चौखट स्तम्भ हैं। 
पहले तल में दो स्तम्भों के मध्य दो ढाई फिट की ऊंचाई में जंगला बंधा है और  दो कड़ियों के मध्य ज्यामितीय कटान का सपाट  जंगल है जिसमे XX  आकर की सरंचना निर्मित है।
  निष्कर्ष निकलता है कि   राईला  (नैनीताल )  के  प्रस्तुत  भवन  में ज्यामितीय कटान की कला ही प्रमुख काष्ठ कला है। 
सूचना व फोटो आभार: मनोज मेहता
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी।  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021 
  Traditional House Wood Carving Art in Nainital;  Traditional House Wood Carving Art in Haldwani,  Nainital;   Traditional House Wood Carving Art in  Ramnagar, Nainital;  Traditional House Wood Carving Art in  Lalkuan , Nainital; 
नैनीताल में मकान काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन ,  ; हल्द्वानी ,  नैनीताल में मकान  काष्ठ कला अलंकरण, ; रामनगर  नैनीताल में मकान  काष्ठ कला अलंकरण,  ; लालकुंआ नैनीताल में मकान  काष्ठ कला अलंकरण , उत्कीर्णन 


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,501
  • Karma: +22/-1

अल्मोड़ा बाजार के एक  भवन खोली  (गजेंद्र बिष्ट छायाचित्र ३ ) में  कुमाऊं की    'काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत'  की काष्ठ कला  अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन
Traditional House Wood Carving art of, Almora Bazar, Almora district Kumaon
 
कुमाऊँ ,गढ़वाल, के भवन  में ( बाखली ,तिबारी, निमदारी ,जंगलादार  मकान  खोली,  कोटि बनाल )   कुमाऊं की    'काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत'  की काष्ठ कला  अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन - 449 
 (प्रयत्नहै कि इरानी , इराकी , अरबी शब्द वर्जन )
 संकलन - भीष्म कुकरेती
-
  गजेन्द्र बिष्टसंग्रह से अल्मोड़ा बाज़ार के कई भवनों के छाया चित्र प्राप्त हुए हैं।  आज  गजेन्द्र बिष्टद्वारा प्रेषित अल्मोड़ा बाजार के एक भवन खोली में  कुमाऊं की    'काठ   कुर्याणौ   ब्यूंत'  की काष्ठ कला  अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन पर चर्चा होगी।  अल्मोड़ा बाजार के प्रस्तुत भवन की खोली  अपने  युवा काल में बड़ी आकर्षक रही होगी और आज भी आकर्षक है। 
खोली में दोनों और तीन उप स्तम्भों  के युग्म से निर्मित मुख्य स्तम्भ हैं।  दो उप स्तम्भ एक प्रकार के हैं व एक भिन्न प्रकार का जिसमें   दूब   घास  की पत्तियों जैसे अंकन हुआ है जो लता नुमा दृष्टिगोचर होती हैं।  शेष दो अन्य उप स्तम्भों के आधार में घुंडियां या कुम्भियाँ का अंकन हुआ है व ड्यूल भी है ऊपरी कुम्भी  के ऊपरी सीधे कमल दल जैसा अंकन हुआ है।  इसके ऊपर उप स्तम्भ में चौखट में पत्तियों का अंकन हुआ है।  उप स्तम्भ ऊपर जाकर शीर्ष /मुरिन्ड /header  के अलग अलग स्तर बन जाते हैं।  इस तरह मुरिन्ड /मथिण्ड /header  के स्तरों /layers  की काष्ठ कला  उप स्तम्भों के ऊपरी भाग जैसी है। 
  मुरिन्ड /मथिण्ड के नीचे वाले भाग में तोरणम स्थापित है।  तोरणम के स्कन्धों में जीरा बीज , पत्ती  जैसे आकृतियों का अंकन हुआ है। 
खोली के ऊपर छपरिका के नीचे काष्ठ कला में ज्यामितीय कटान दृष्टिगोचर होता है।   
निष्कर्ष निकलता है कि अल्मोड़ा बाज़ार के भवन की इस खोली  में प्राकृतिक व ज्यामितीय कला का अंकन हुआ है।  .
सूचना व फोटो आभार : गजेंद्र बिष्ट संग्रह
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी।  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2020
Traditional House Wood Carving art of , Kumaon ;गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली, कोटि  बनाल  ) काष्ठ  कला अंकन, लकड़ी पर नक्काशी   
अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ; भिकयासैनण , अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ;  रानीखेत   अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ; भनोली   अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ; सोमेश्वर  अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ; द्वारहाट  अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ; चखुटिया  अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ;  जैंती  अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ; सल्ट  अल्मोड़ा में  बाखली  काष्ठ कला ;


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,501
  • Karma: +22/-1

किमोली (चम्पावत ) के  दूसरे  जंगले दार भवन (संख्या २ ) में ' कुमाऊँ  शैली'   की  पारम्परिक  'काठ  कुर्याणौ  ब्यूंत 'की  काष्ठ कला अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन
Traditional House Wood carving Art of  Kimoli , Champawat, Kumaun 
कुमाऊँ ,गढ़वाल, के भवन ( बाखली,   खोली , )  में ' कुमाऊँ  शैली'   की  पारम्परिक  'काठ  कुर्याणौ  ब्यूंत 'की  काष्ठ कला अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन  -450
( लेख में इरानी , इराकी अरबी शब्दों की वर्जना प्रयास हुआ है )
 संकलन - भीष्म कुकरेती   
-
 किमोली से दो एक भवनों की सूची मिली है।   आज किमोली (चम्पावत ) के  दुसरे   जंगले दार भवन (संख्या २ ) में ' कुमाऊँ  शैली'   की  पारम्परिक  'काठ  कुर्याणौ  ब्यूंत 'की  काष्ठ कला अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन पर चर्चा होगी।
किमोली का प्रस्तुत भवन जंगलेदार भवन है व तिपुर व दुखंड है।   भवन के भ्यूंतल व पहले तल में बरामदे स्थापित  हैं।  भ्यूंतल (Ground  floor  ) के  बरामदे  क्र बाहर दो तीन सपाट  चौखट स्तम्भ हैं जो ज्यामितीय कटान के उदाहरण हैं।
  पहले तल के बरामदे के बाहर ओर   सामने सात  व आड़े भी सात खड़े सपाट स्तम्भ हैं।  स्तम्भ के आधार में दोनों ओर खपचों  से स्तम्भ को  खड़े में आधार  देते हैं।  स्तम्भों के मध्य काष्ठ  जंगले  स्थापित हैं जिनमे   ज्यामितीय  कटान के XX  नुमा कटान से जंगले  बने हैं। 
ऊपर  मुरिन्ड / header की कड़ी भी सपाट है। 
 किमोली  के प्रस्तुत जंगलेदार भवन  में भव्य शैली का आकर्षण है व  काष्ठ  में  ज्यामितीय कटान की कला दर्शनीय है। 
सूचना व फोटो आभार : के एस  बोरा (जय ठक्कर संग्रह )
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी।  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2021
Bakhali House wood Carving Art in  Champawat Tehsil,  Champawat, Uttarakhand;  Bakhali    House wood Carving Art in  Lohaghat Tehsil,  Champawat, Uttarakhand;  Bakhali, House wood Carving Art in  Poornagiri Tehsil,  Champawat, Uttarakhand;  Bakhali , House wood Carving Art in Pati Tehsil ,  Champawat, Uttarakhand;  चम्पावत , उत्तराखंड में भवन काष्ठ कला,  चम्पावत    तहसील , चम्पावत , उत्तराखंड में भवन काष्ठ कला,; लोहाघाट तहसील   चम्पावत , उत्तराखंड में भवन काष्ठ कला अंकन ,  पूर्णगिरी तहसील ,  चम्पावत , उत्तराखंड में भवन काष्ठ कला अंकन   ;पटी तहसील    चम्पावत , उत्तराखंड में भवन काष्ठ कला,, अंकन   


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22