Author Topic: Idioms Of Uttarakhand - उत्तराखण्डी (कुमाऊँनी एवं गढ़वाली) मुहावरे  (Read 112334 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

खवाई बरेती, भुग्तायी गवाह
====================

यानी

बाराती की इज्जत खाने के बाद तथा गवाह की इज्जत बयान देने के बाद कम हो जाती है !

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

सिधक मुख कुकुर चाटो
===============

यानी

सीधे व्यक्ति को सभी परेशान करते है !

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

This is the Garwali Idoms taken "Aan Kaath" compiled myself and Dayal Pandey Ji
=====================================================


चलवे थैला, जखी जुला, वाखी खौला

यानी

लेके थैला, जहाँ जायंगे, वही खायंगे

अर्थ :  पहले से कि गयी व्यस्था )

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

तखी देखि तवा परात
उख देवी बिताई सारी रात

हिंदी : जहाँ देखा तवा पराद, वही बिताई सारी रात -

मतलब : सुविधाजनक स्थान देखकर विश्राम करना)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

जख पोंणज्यो हुए चार, तख दिन न बार
----------------------------------------------
जहाँ मिले चार पुरोहित, वहां तिथि ना बार!

Meaning
=======

(जानकार लोगो मै कोई फैसला नहीं होता है)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
जै कु पाप, तै कु छाप

जिसका पाप, उसी की छाप

Meaning
======

यानी जैसी करनी वैसी भरनी 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

आपु चलता रीता, हरु पदौदा गीता

----------------------------------

(अपना नियम के चले तो हरु भी गीता पड़ ने लगा)

जानकार को उपदेश की आवश्यकता नहीं पड़ती

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

अंधारा की मार, खबर नी सार !
------------------------------------

अँधेरे की मार, खबर किसी की नहीं !

(बिना पूछताछ के काम करना)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

मुश क हाव जोतण

यानी :चूहे के हाल चलाना

अर्थ : किसी कार्य को गभीरता से ना लेना

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
कब थोरि ब्यालि, कब खोरि खालि..

भावार्थ - पता नहीं कब बछिया ब्याएगी, कब खाने को मिलेगा / सुखी दिनों इन्तजार करते-करते निराश हो जाना    
----------------
काणि क ब्या में नौ खचाव

भावार्थ - कानी (आंख से वंचित) की शादी में बाधाएं ही बाधाएं / सफलता मिलने में मुश्किलों का सामना करना
----------------
भ्यार नौंणि, भितर कौंणि

भावार्थ - बाहरी दिखावा, कथनी-करनी में अन्तर होना
-----------------
हगणि-मुतणि, द्याप्त पुजणि

भावार्थ - स्तरीय काम को अयोग्य और नासमझ लोगों के हाथों में देना.
-----------------

उपरोक्त सभी मुहावरे कुमांउनी मासिक पत्रिका "पहरू" से साभार

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22