Author Topic: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi  (Read 18735 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,513
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #220 on: August 06, 2020, 12:54:47 PM »
 How the Subordinate should talk with the Chief Executive officer
(Example from Shukra Niti)
Appointing and Training the Department Head Strategies for CEO – 7
Successful Strategies for successful Chief executive Officer – 107
Guidelines for Chief Executive Officers (CEO) series – 107
(Guiding Lessons for CEOs based on Shukra Niti)
(Refreshing notes for Chief Executive Officers (CEOs) based on Shukra Niti)   
By: Bhishma Kukreti (Sales and Marketing Consultant)
प्रियं तथ्यं पथ्यं च वहेद्धर्मार्थकं  वच: I
समानवार्तया चापि तद्धितं बोधयेत्सदा II 224II
.............
...............
..............
परार्थनाशनं न स्यात्तथा  ब्रूयात्सदैव हि I (228 का आधा भाग )
(Shukra Niti Second Chapter Yuvrajadi Lakshan, 2224-227)
Translation-
The duties of well-wisher subordinate of the king are  to  Speak mild, true, righteous, words with the King and offer quotes those are beneficial to the king and tell to the king that he is great donor, righteous act lover, brave, follower of code of conducts., The the subordinate should make the King understands that those go out of code conducts they were destroyed. The subordinate should offer examples too. At the same time, the subordinate should tell the king that the King is the Best of other Kings. Then the subordinate should inspire the king to act as per need. Till the job is completed the subordinate should not speak any other matter.
(Shukra Niti Second Chapter Yuvrajadi Lakshan,224-227 )
 
References -
1-Shukra Niti, Manoj Pocket Books Delhi, page 93-94   
 Copyright@ Bhishma Kukreti 2020
Guidelines for  subordinate to speak with Chief Executive Officers; Guidelines for  subordinate to speak with Managing Directors; Guidelines for  subordinate to speak with Chief Operating officers (CEO); Guidelines for  subordinate to speak with  General Mangers; Guidelines for  subordinate to speak with Chief Financial Officers (CFO) ; Guidelines for  subordinate to speak with Executive Directors ; Guidelines for  subordinate to speak with ; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with  CEO; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with COO ; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with CFO ; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with  Managers; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with  Executive Directors; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with MD ; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with Chairman ; Refreshing Guidelines for  subordinate to speak with President


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,513
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #221 on: October 16, 2020, 11:43:34 AM »
     Immutable Definition of    Brand Loyalty

Immutable Laws of Brand Loyalty -2
(Brand Loyalty Management based on Narada Bhakti Sutra)
(Examples of Narada Bhakti Sutra for Brand Loyalty Management)
By: Bhishma Kukreti (Management Acharya)
अथतो भक्तिं ब्याख्यास्याम: - II 1 II
Now, we shall explain Loyalty or Devotion.
सा तस्मिन परम प्रेम रूपा  II2II
That (Bhakti or Devotion) is the highest love for the one or God
अमृत स्वरूपा च II 3 II
And of the nature of immortal bliss
यल्लब्ध्वा  पुमान् सिद्धो भवति अमृतो भवति तृप्तो भवति II 4 II
 On attaining which, the man become perfect, immortal and satisfied forever.
यत्प्राप्य न किंचिद्वांछति, न शोचति , न द्वेष्टि , न रमते , नोत्साही भवति II5II
On gaining that (devotion) one asks nothing, cries over nothing (extreme joy cry),  hates nothing and delights in nothing , and is never enthusiastic  in worldly  deeds (but that does not mean the devotee is boring person) . 
यंज्ञात्वा मत्तो मवति, स्तब्धो भवति, आत्मारामो भवति II 6II
Experiencing devotion /Bhakti, the devotee becomes exhilarated, beyond self-control, stands still, and celebrates in the Self.
  Brand Loyalty defined as per Narada Bhakti Sutra -
 The Brand loyalty of Customer is total love for the brand, the customer loyalty for the brand is as good as eternal love for the customer; the brand loyal customer feels total satisfaction from the brand and the real brand lover does not have any type of fluctuation for the brand in customer’s Chitta (mind, intellect and ego).
   Definition of Brand Loyalty by modern Branding Advisors:
 Brand Loyalty from Narada Bhakti Sutra angle, is an ideal situation for the brand. Every Marketer has to reach to that idealistic position to get loyal customer as per Narada Bhakti Sutra.
However, the modern branding scholars defined Brand Loyalty from various angles as follows (2) –
Cunningham (1956) defined the Brand Loyalty that the brand loyalty is the proportion of total purchase by the largest single brand.
Day (1969) illustrates that the true brand loyalty occurs when the customer holds favourable attitude towards the brand in addition to purchasing it repeatedly.
Jacoby and Chestnut (1978) defined the brand loyalty is the biased behavioural response expressed over time, by some decision making unit , with respect to one or more alternative brands out of a set of such brands and is a function of psychological (decision –making-evaluative  ) process .
Dick and Basu (1994) define the brand loyalty that the brand loyalty is the strength of the relationship between an individual’s relative attitude and repeat patronage.
Amine (1998) described Brand Loyalty as the brand loyalty is an effective buying behaviour of a brand (and not only an intention to buy it) , repeated over time (its buying proportion 50% of the purchases made within a product  category) and reinforced with strong commitment to the brand.
Fournier (1998) explains that brand loyalty is a long term, committed and affects laden partnership.
Oliver (1999) shows that the brand loyalty is a deeply held commitment to rebuy or re-patronize a preferred product/service consistently in the future, thereby causing repetitive the same brand or same brand –set purchasing, despite situational influence and marketing efforts having the potential to cause switching behaviour.
Neal (1999) elucidates the brand loyalty as   the proportion of times a purchase chooses the same product or service in a category compared with her or his total number of purchases in a category assuming that acceptable competitive products or services are available. 
 All the above brand loyalty scholars defined Brand Loyalty from business angle but the definition derived from the Narada Bhakti Sutra fit for products, services and concepts too. And the author would like to put the definition derived from Narada Sutra again as-
The brand loyalty is the highest love for the brand by the customer; the customer feels the brand as it is nectar and eternal bliss and there is no fluctuation in the Chitta (Mind, Intellect and ego) of customer for the brand is called true brand loyalty.
Every marketer should try to work on achieving the Brand Loyalty by customer as per new definition based on Narada Sutra .
 References
NBS= Narada Bhakti Sutra
1-Narada Bhakti Sutra evam Shandilya Bhakti Sutra, Gita Press Gorakhpur, India 
2- All the definitions are taken from - Alexander Frab (2001), Achieving Brand Loyalty in China through after sales service Springer Gabbler, p 102
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India 2020
The Immutable Definition of Brand Loyalty based on Narada Bhakti Sutra will be explained in following chapters …

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,513
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #222 on: October 22, 2020, 10:17:26 AM »
Characteristics of True Brand Loyal Prospects (Customers)

Brand Loyalty Management -3 
 (Brand Loyalty Management based on Narada Bhakti Sutra)
(Examples of Narada Bhakti Sutra for Brand Loyalty Management)
By: Bhishma Kukreti (Branding Acharya)
 
सा न कामयमाना निरोधरूपत्वात (NBS 7)
It is no worldly desire, for it is the nature of ‘Suppression’.
निरोधस्तु लोकवेदव्यापारन्यास: ( NBS 8  )
The meaning of ‘Suppression’ is abandoning all worldly and Vedic actions.   
तस्मिन्ननन्यता तद्विरोधिषुदासीनता II (NBS 9)
And special devotion to Him and insignificance to all things that are obstacles to it. The true lover does not look for getting the reward even from the God and loves Him or the sake of love only.
अन्याश्रयाणान्  त्यागोSनन्यता (NBS 10)
Exclusive devotion is desertion of all supports.
लोकवेदेषु तदनुकूलाचरण त्वदिरोधिषुदासीनता   (NBS11)
Insignificance to the obstacles consist undertaking only such are actions - whether of ordinary life or those commanded in the Vedas as favourable to it.
 -
Characteristics of Brand Loyalists   or Loyal Prospects /Customers in Modern marketing Literature
 -
 In the Marketing literature, most of the time the brand loyalty is judged for buying or purchasing the product while in life, we require loyalty at every level in our political life, in personal relationship with wife and family and friends too and of course in religion too.
 In a note by Young Entrepreneur Council describes following characteristics of Loyal Customers (2)- 
1-The loyal Customer do not consider Cost an issue
2-The loyal customers advocate for the brand.
3- The loyal prospective offer testimonials and review
4- Loyal Prospects  put full trust on the brand
5- Commercially, the brand loyal prospects buy repeatedly
-
A branding scholar Bhishma Kukreti illustrates following characteristics of loyal customers in Yogic Branding of Seasonal Consumer Durables –
The loyal customers (especially aimed to B2 B) do not search more suppliers.
The loyal customers play a role of evangelists and inspire others to go for their liked brand.
Loyal Customers do not support competing brands and do not get lured by competing brands.
Loyal customers behave as a friend, a guardian and companion too.
-
  According to Narada Bhakti Sutra, the characteristics of a Brand Loyalist are as under –
The Brand loyalists do not ask many benefits from the brand.
The Brand loyalist does not desire free birds from the brand along with product, services and concept.
The Brand loyalist pays attention only on the brand line or slogan or is totally satisfied if the brand products/service or concept is as per the brand line.
Exclusive devotion for the brand by the loyalist is desertion of all other supports.
Brand Loyalists does not leave loving the brand if there are obstacles for the brand. References
NBS= Narada Bhakti Sutra
1-Narada Bhakti Sutra evam Shanilya Bhakti Sutra, Gita Press Gorakhpur, India   
2- Smallbiztrends.com /2016/09/how-to-identify—a loyal –customer.
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India 2020
Characteristics of Loyal Prospects /Customers as per Narada Bhakti sutra will be elaborated more in following chapters --

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,513
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #223 on: October 23, 2020, 09:25:25 AM »
 
राजनैतिक विपणन या Political  Marketing  में निम्न विषयों पर चर्चा की जाएगी

१- राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग की परिभाषाएं
२- क्यों युवाओं को  राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग के सिद्धांतों को समझना आवश्यक है ?
३-  राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग में राजनीति शास्त्र व मार्केटिंग / विपणन का महत्व
४- राजनैतिक रणनीति
५-  राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग में  राजनैतिक अन्वेषण की महत्ता व अन्वेषण को समझना
६- राजनैतिक छवि निर्माण - Creating  political Branding
७-  आंतरिक राजनैतिक छवि निर्माण व आंतरिक राजनैतिक विपणन (अपनी पार्टी में अपनी हैसियत निर्माण  )
८-    राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग   में संचार व संवाद /Communication
९- जन सम्पर्क की आवश्यकता व जनसम्पर्क के माध्यम
१०-   राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग   में सामजिक कार्यों की महत्ता
११-  चुनावी रणनीति व जीतने के  विभिन्न मार्ग
१३-  राजनैतिक विपणन या पॉलिटिकल मार्केटिंग में धन की आवश्यकता  व धन एकत्रीकरण
१४- व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा  का महत्व
१५- राजनीती में कोई समाप्त नहीं होता बल्कि राजनीतिज्ञ डूब घास होते हैं
१५- जो जीता  वह  सिकंदर बाकी बंदर  सिद्धांत नहीं 


राजनैतिक विपणन  परिभाषा : याने चाय   विक्रेता  से  प्रधान मंत्री पद  तक  पंहुचना   

राजनीतिक विपनणन  : योग   सिद्धांत  आधारित - 2
  Political Marketing: Theories based on Yoga Principles - 2   
-
 लेखक -:भीष्म कुकरेती (प्रबंध आचार्य )
-

 राजनीति व  विपणन से मिलकर राजनैतिक विपणन शब्द निर्मित हुआ है।  अर्थात राजनैतिक संबंधी विपणन जिसका अर्थ होता है राजनीति में संचार व संवाद के सिद्धांत अपनाना।  विपणन का अर्थ विक्री या बेचना नहीं है अपितु संचार व संवाद (Communication ) है। 
मोटे - मोटे रूप में राजनीति  विपणन  का अर्थ है कि राजनीति विपणन  संचरण /संवाद  की वह विधि है जिससे  छवि निर्मित होती है या बिगाड़ी जाती है , राजनैतिक  उम्मीदवार द्वारा  विचारों व अनेक माध्यमों के बल पर  मतदाता  के राजनैतिक आवश्यकताओं को साधकर  वोट  प्राप्त किये जाते हैं।  राजनीति विपणन द्वारा मतदाताओं को अपने पक्ष में किया जाता है।  इसके अतिरिक्त राजनीति विपणन में पार्टी से टिकट भी लिए जाते हैं व अपने  ही दल में प्रतिनिधि को आंतरिक प्रतियोगिता द्वारा पछाड़ा भी जाता है। 
  राजनैतिक विपणन हेतु वर्तमान में दो महानुभावों की जीवनी समझना आवश्यक है।  भूतपूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह व वर्तमान भारतीय प्रधान मंत्री  नरेंद्र मोदी की जीवन यात्रा  राजनीति विपणन के अलग अलग प्रकार के  विधियां हैं व किसी भी राजनैतिक आकांक्षी हेतु सर्वोत्तम उदाहरण हैं।  दोनों एक गरीब परिवार में जन्मे व   राजनीति के सर्वोच्च शिखर पर पंहुचे। 
 लॉक व हैरिस अनुसार  " राजनीति विपणन   नियमबद्धता या अनुशासन ही नहीं अपितु  एक कर्म भी है।  एक अनुशासन अनुसार राजनीति विपणन  एक विधि है जो  राजनीतिज्ञों या राजनीति व वातावरण के मध्य होती है।  राजनीति विपणन कर्म अनुसार रणनीति व रणनीति को साकार करने की विधि है।   राजनीति विपणन में पोजिशनिंग व संचार -संवाद बहुत ही आवश्यक अवयव होते हैं।   राजनीती   विपणन   में कर्म में  रणनीति  को कार्यवनित करने की विधि यों  , तरीकों के बारे में  अध्ययन  किया जाता है। 
  राजनीति की परिभाषा है ऐसा कार्य और अभिमत जिसका संबंध किसी देश या शासन चलने हो।  तो विपणन की परिभाषा है - विपणन वह मानवीय प्रक्रिया है  जो विनियम द्वारा आवश्यकताओं  व इच्छाओं की संतुष्टि या प्राप्ति हेतु  कियावनित की जाती हैं। 
अर्थात राजनीति विपणन में शासन प्राप्ति हेतु ग्राहकों /जनता की आवश्यकताओं व इच्छाओं की संतुष्टि हेतु कर्म किया जाता है। 

 
  Copyright@ Bhishma Kukreti The  Management  Acharya  , Mumbai 2020 
 ,  Political Marketing articles will be continued in next chapter
रानीतिक विपन : योग   सिद्धांत  आधारित  शेष आगे ..


    आज  विपक्ष को मोदी विरोध के स्थान पर भारतीय मीडिया की साख गिरानी आवश्यक है     
राजनीतिक विपणन  : योग   सिद्धांत  आधारित - 3
Political Marketing: Theories based on Yoga Principles -
 
   भीष्म कुकरेती (प्रबंध आचार्य )   
-
विपणन आचार्य : भीष्म कुकरेती
-
 आज अक्टोबर  नवम्बर 2020  में   विरोधी दल सबसे अधिक  incambacy  झेल रहे हैं और लगता नही विरोधी दल इस incombancy से निजात पायेंगे . 2015 से यदि विधान सभाओं में विरोधी दल जीत भी रहे हैं तो भी मोदी छवि के सामने उनकी छवि नगण्य ही है . वास्तव में अपने बुरे हाल के लिए विरोधी दल ही उत्तरदायी हैं I
मोदी ब्रैंड से लड़ने - भिड़ने की विरोधी दलों की रणनीति ही अशुद्धियों से भरा है . सभी विरोधी दलों के  नेता मोदी की सीढ़ी अलोव्ह्ना करते हैं व  चरों खाने चित्त पड़ जाते हैं . विरोधी दलों के उच्चाधिकारियों व रणनीतिकारों को समझना आवश्यक है कि आक्रमण प्रतिद्वंदी के प्रबल पक्ष पर कभी भी आक्रमण नही किया जाता है I  रावण –राम द्वंद में राम तब तक असफल होते रहे जब तक  राम रावण के शक्तिशाली अंगों पर तीर चलाते रहे . जब राम ने रावण के शरीर के  सबसे हीन स्थल (नाभि ) को बींधा तो अमर रावण भी धराशायी हो गया . यही हाल सुयोधन व भीमसेन के द्वंद का भी रहा . जब तक  राजा भीमसेन  सम्राट सुयोधन के शक्तिशाली शरीर पर गदा प्रहार करते रहे मुंह की खाती रहे I जैसे ही राजा भीमसेन ने सम्राट सुयोधन के  शरीर के सबसे हीन स्थल (जांघ ) पर गदा प्रहार किया हस्तिनापुर से कौरव राज्य समाप्त हो गया .
   विरोधी दलों के रंनेतिकारों को समझना चाहिए कि प्रधान मंत्री मोदी की छवि राहुल गाँधी, ममता बनर्जी , स्टालिन के  चित्त (मन. बुद्धि , अहम ) में शक्तिशाली नेता की ही है . अत: ब्रैंड मोदी पर सीधा आक्रमण करना हानिकारक ही होगा जैसे राम का रावण पर नाभि छोड़ अन्य स्थलों पर आकर्ण असफल रहा I इसके अतिरिक्त प्रधान मंत्री मोदी तपे  राजनीतिज्ञ हैं जो प्रतिपक्ष के अस्त्र सहस्त्र को ही अपना अस्त्र –शस्त्र बना कर प्रतिपक्ष के आक्रमण को स्वहा कर डालने में सखम हैं (अभी तक ) . उदाढ़रानार्थ – सोनिया गाँधी का मौत के सौदागर , कौंग्रेस नेता का चाय का मजाक , राहुल गाँधी द्वारा राफल रणनीति के अंतर्गत चौकीदार चोर है आदि  जैसे  अस्त्रों को विपणन के  चतुर मोदी ने चकनाचूर ही नही किया अपितु शत्रु पक्ष पर हे सभी अस्त्र गिरा दिए . तमिलनाडू या केरल में भाजपा का न जीतेने का अर्थ कदापि नही कि इन प्रदेशों में मोदी ब्रैंड हीन है .  राजनीति व विपणन में  छवि के अतिरिक्त कुछ अन्य अवयव भी कार्य करते हैं .
  विरोधी दलों को मोदी ब्रैंड के शक्तिशाली स्थल पर आक्रमण के स्थान पर  ब्रैंड मोदी  के हीन स्थलों पर आक्रमण करना चाहिए I मोदी नाम रटने के स्थान पर ब्रैंड मोदी का नाम न लेना ही श्रेयकर है I राजनीति विपणन में अति  प्रवीण  स्वर्गीय इंदिरा गांधी  उपेक्षा अस्त्र –शस्त्र के महत्व को भली भांति समझती थीं . राजनीति  विपणन विदुषी इंदिरा गंधी   आलोचना करते समय बड़े नेताओं का नाम नही लेती थी अपितु उनके उपेक्षा करती थीं व लुप्त –गुमनाम  विरोधियों (आरएसएस  व विदेश ताकतें )  की तीखी आलोचना करती थीं . इससे उस समय के प्रखर नेता अटल बिहारी वाजपयी आदि पर इंदिरा गाँधी  के कारण चौपालों में  चर्चा ही नही हो पाती थी I अब कुछ समय से केजरीवाल व उनके दल ने  भी यह रणनीति अपना  ली है व ब्रैंड मोदी पर सीधा  आक्रमण से बचते हैं . बहुत बार प्रतिद्वंदी पर सीधा आक्रमण न करना ही आक्रमण  साबित होता है . किसी की उपेक्षा मृत्यु से भी हानिकारक होता है . अत: विपक्षियों को जब तक ब्रैंड मोदी हीन नही होते तब तक ब्रैंड मोदी पर सीधा आक्रमण से बचना चाहिए .
   marketing /विपणन में आक्रमण व रक्षा आवश्यक है I विपक्षियों को ब्रैंड मोदी के मंत्रियों व सहयोगियों के हीन पक्ष पर शूल आक्रमण आवश्यक है . अत: ऊन  सहयोगियों का शोध आवश्यक है जिन पर आक्रमण कर ब्रैंड मोदी को घायल किया जा सके I विरोधियों को ध्यान देना चाहिए कि ब्रैंड मोदी पर सीधा आक्रमण ना हो अपितु हीन मंत्रियों पर आक्रमण हो . जैसे  यदा कदा  महराष्ट्र के फडनवीस या झारखंड के दास अथवा उत्तराखंड के मुख्य मंत्री पर शूल रुपी आक्रमण किया जाय .
   आज भारत के मीडिया संचार माध्यम  बहुत  दुर्बल /l हीन अवस्था से गुजर रहा है . यह सर्व विदित है कि अन्यान कारणों से टीवी माध्यम बदहवास स्थिति में हैं या शासक के  याचक  बने हैं . जब कि इसी मीडिया ने वीपी सिंह , केजरीवाल सरीखे कागजी नेताओं को शिखर पर पंहुचाया . ब्रैंड मोदी के सबसे बड़े सहयोगी रूप  में भारतीय मीडिया विशेषत: हिंदी –अंग्रेजी टीवी मीडिया है व ब्रैंड मोदी सरकार के हीन पक्षों को  नही दर्शा रहे हैं . मीडिया चूँकि व्यापार में है तो शासk व उपभोक्ताओं को ध्यान में रखना उनके लिए जीवन मृत्यु का जैसा है I और यही दुर्बलता  आम भारतीय ही नही अपितु  भाजपा कार्यकर्ता भी  अनुभव करता है . विपक्षियों को खुले आम मीडिया के पक्षपाती आचरण पर  धारदार –शूलयुक्त  आक्रमण करना चाहिए .  किन्तु मीडिया पर धारदार आक्रमण सरल भी नही है . सभी विपक्षी  दलों के कार्य कर्ता यदि  सोसल मीडिया में मीडिया की साख गिराएंगे तो  ब्रैंड मोदी को धक्का लगने के अधिक अवसर हैं .
 जब भी विपक्षी दल के प्रवक्ता किसी चैनेल में चर्चा में भाग लें तो एक वाक्य  बार  बार अवश्य दुह्रावें कि- चैनेल एंकर होकर  आप भाजपा के प्रवक्ता  का अनुसरण करें  अच्छा नही लगता .  कुछ महीनों में  मीडिया को समझ जायेगा कि अब न्यूट्रल रहना ही आवश्यक हैं .
 वर्तमान में  विपक्षी दलों के पास एक ही मार्ग है कि  ब्रैंड मोदी  पर आक्रमण  करने मीडिया की  साख गिराए .  सभी विरोधी दलों को एक हो किसी भी रूप में भारतीय मीडिया की साख गिराने का कार्य करें .मीडिया पर आक्रमण एक साथ व पूरी शक्ति से होना चाहिएI 

 Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai 2020 
 ,  Political Marketing articles will be continued in next chapter
रानीतिक विपन : योग   सिद्धांत  आधारित  शेष आगे ..


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22