Author Topic: Nain Nath Rawal - नैन नाथ रावल: उत्तराखंड का प्रसिद्ध लोक गायक: न्योली सम्राट  (Read 19360 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
दोस्तों,

उत्तराखंड के लोक संगीत मे के गायक एव गायिका अक्सर आते रहते है परन्तु एक लंबे समय तक अपना योगदान नही दे पाते!  उत्तराखंड के प्रसिद्ध लोक गायक स्वर्गीय गोपाल बाबु गोस्वामी, श्री नरेन्द्र सिह नेगी जी, श्री हीरा सिह राणा जी की तरह नैन नाथ रावल भी एक लंबे समय से उत्तराखंड के लोक संगीत मे अपना योगदान दे रहे है !

नैन नाथ रावल खासतौर से न्योली बहुत ही अच्छा गाते है !  इस थ्रेड मे हम नैन नाथ रावल के गानों और झोडा, चाचरी, जागर आदि के बारे मे चर्चा करगे .

एम् एस मेहता

  

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
मैंने बचपन मे नैन नाथ रावल की " बागेश्वर लाइन " एल्बम सुनी थे जिसमे न्योली बहुत अच्छे दंग से गया गया है

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,870
  • Karma: +27/-0
Dhanyavaad Mehta ji is jaankaari ke liye.

Waiting for more info.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0


नैन नाथ रावल जी के कम से कम ३० एल्बम अभी तक बाज़ार मे आ चुके है ! 

बागेश्वर लाइन के एल्बम से कुछ गाने

१)  मेरी साली हिम साली, मेरी संग हिट्ली
२)  हाई हिरदा गाड़ी चला ले तुवी चला ले, बागेश्वर की लाइन मे
३)  न्योली
४)  छोड़ साली, मेरो हाथ

इसके आलवा, नैन नाथ रावल ने " गंग नाथ" का जागर की एक एल्बम भी निकली है!

Risky Pathak

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,502
  • Karma: +51/-0
Nain Naath Rawal Jee ki Gagnaath Jaagri bhi maarket me aayi thi...

Or wo Bhot Bhot Bhot Badiya Thi.... Nain naath Jee sach me Jaagri ke bhi Ustaad Hai...

Us Jagar ki Kuch Line....

Paalyuli Junglaa, Nyoli Baasi re...
Ko chhe tu ghsyaara, Daathuli baaji re...

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
नैननाथ रावल जी दन्या के पास के रहने वाले है, उन्के झोडे़ की बानगी

http://www.youtube.com/watch?v=n2-wo1Q6urQ


पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
नैननाथ रावल जी की आवाज में मुझे अपनापन लगता है, जो हमारे पुराने गायक हैं, क्लासिकल, उन्हीं की तरह वे गाते हैं, वे स्वयं भी एक जगरिया परिवार से हैं। इन्हें ठेठ पहाड़ी गायक अगर कहा जाय तो उचित होगा। एक और खास बात इन्होने कभी भी बाजारु भेड़चाल में अपने ठेठ कुमाउंनी अंदाज और लोक वाद्यों को नहीं छोड़ा, उनके झोड़ों या गीतों में आज भी हुड़का और मशकबीन का प्रयोग होता है।