Author Topic: CONNECTION OF FAMOUS PERSONALITIES WITH NAINITAL AND OTHER PLACES OF UK ?  (Read 32959 times)

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Obama's Chief Agriculture Negotiator has Uttarakhand link
« Reply #50 on: October 03, 2009, 01:00:24 PM »
Islam “Isi” Siddiqui, a 40-year veteran of the agricultural policy sector, was nominated Sept. 22 by President Barack Obama to serve as Chief Agriculture Negotiator in the Office of the U.S. Trade Representative.

Siddiqui is currently vice president for science and regulatory affairs at CropLife America, where he is responsible for pesticide-related issues.

 He previously served in the Clinton administration as undersecretary of agriculture, and then as senior trade advisor to Agriculture Secretary Dan Glickman. Siddiqui also spent 28 years in the California Department of Food and Agriculture, where he served as director of the division of plant industry from 1984-1997.

Siddiqui received a degree in plant protection from Uttar Pradesh Agricultural University in Pantnagar (Uttarakhand) and masters and Ph.D. degrees in plant pathology from the University of Illinois at Champaign-Urbana.

Read full news here - http://www.indiawest.com/readmore.aspx?id=1484&sid=1

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Abbas Tyabji - Mussoorie
« Reply #51 on: July 23, 2010, 10:34:46 AM »
Source - www.hindustantimes.com
 
I don’t know if many people have heard of a man from Uttarakhand called Paripurnanand Pinauli. I certainly had not. One morning, he came to my office to invite me to join hands with him and his friends to resurrect the memory of one of the forgotten heroes of the freedom movement and the Mahatma’s close friend, Abbas Tyabji. Pinauli, a freedom fighter and former MP, with some friends including Salman Khurshid, Minister of State for Minority Affairs, had located the grave of Tyabji in Mussoorie, where it lay in ruins. They had vowed to restore it and Southwood, Tyabji’s home, where Gandhi, Nehru and Azad often visited.

 
As a boy, Tyabji was sent to Britain for his education. He returned to practise at the Baroda High Court and rose to become its Chief Justice. He was known and respected for his impartiality while dealing with cases. In 1919, after the Jallianwala Bagh massacre. The Indian National Congress appointed him the chairman of a fact-finding committee. He cross-examined hundreds of witnesses and victims and their depositions made him cut off all links with Western elitism and become a lifelong comrade of Gandhi.
 
When Gandhi was arrested in Dandi, Tyabji was given the charge of the next phase of the Salt Satyagraha. On May 7, 1930, he launched the Dharasna Satyagraha. Gandhi wrote in his autobiography that it was under Tyabji’s influence that Gujarat accepted the non-cooperation movement even before the Congress did.
 
The most striking photograph of Tyabji is in the book Sulaimanis: Lives less Ordinary by Zafar Saifullah, where he is sitting with friends under a tree and playing the sitar. It is this much-splendoured personality that is resurrected by the Uttarakhand Freedom Fighters’ Association and Abbas Tyabji Trust. At a time when the polarisation between Hindus and Muslims is widening, we should join Pinauli and Khurshid in their endeavours to fulfil the dream of resurrecting the vision of Tyabji.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
buy birth control online buy adalat online buy amoxicillin online buy abilify online buy lumigan online buy valtrex online buy yaz no prescription buy drugs no prescription buy naltrexone online buy cheap drugs online buy aciphex online buy abilify online buy naltrexone online quit smoking drugs online      Home Enterainment Thurman ‘interested in Bollywood’   Thurman ‘interested in Bollywood’   Monday, 04 July 2011 00:00 E-mail Print PDF    Thurman ‘interested in Bollywood’
Uma Thurman has said that she would like to maintain her personal relationship with India by starring in a Bollywood film.
Speaking to Gulf News, the Kill Bill star explained that she had a deep connection to the country that stemmed beyond more than just her Indian name.
Thurman spent part of her childhood living in the Almora district in the Indian state of Uttarakhand, and was named “Uma” by her father, who is a Sanskrit scholar and a Tibetologist.The actress said: “I have friends there and I feel very connected to it... the smell, the sights, the people. It’s familiar.
When asked about the possibility of starring in a Bollywood movie, Thurman commented: “That will be the best. I am good friends with Mira Nair.”
Nair directed Thurman in the film Hysterical Blindness   http://www.star.com.jo/main/index.php?option=com_content&view=article&id=23052&catid=25:entertainment&Itemid=120

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
  हैड़ाखान को मायका मानते थे शम्मी कपूर       Aug 14, 08:57 pm    बताएं           -लगाव के चलते बेटे का विवाह हैड़ाखान में किया था
-हैड़ाखान तथा चिलियानौला मंदिरों की भव्य रिकार्डिग कर विदेशों में प्रसारित किया था
जागरण कार्यालय, भीमताल: शम्मी कफूर के निधन की खबर से नैनीताल जिला स्तब्ध हो गया है। बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि प्रसिद्ध धाम हैड़ाखान (भीमताल) को वह अपना मायका मानते थे। सन् 1975 में शम्मी कपूर ने हैड़ाखान बाबा के पहली बार दर्शन किए और पहली बार आशीर्वाद लिया। यह ऐसा दौर था कि शम्मी कपूर एशियाई सिनेमा में गहरी पैठ बना चुके थे।  बाबा के परम भक्त व हैड़ाखान मंदिर के प्रमुख ट्रस्टी के रूप में वह मंदिर के समस्त कार्य कलापों में हिस्सा लेने लगे। उनका मंदिर से लगाव इस कदर बढ़ा कि उन्होंने अपने पुत्र निक्की कपूर का विवाह वर्ष 1982 में हैड़ाखान मंदिर में किया। इस दौरान राजकपूर से लेकर शशि कपूर का पूरा परिवार शम्मी कपूर के साथ हैड़ाखान पहुंचा था। यह परिवार पांच दिन तक हैड़ाखान में रहा। यहां बता दें कि हैड़ाखान मंदिर में वर्ष 1975 से आगमन के बाद शम्मी कपूर ने गेरुवा  वस्त्र व रुद्राक्ष की मालाएं पहननी शुरू कर दी थी। यही नहीं बाद के वर्षो में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व.राजेश पायलट व उनकी पत्‍‌नी रमा पायलट की शम्मी जी से यहीं मित्रता हो गई थी। शम्मी कपूर ने हैड़ाखान व चिलियानौला रानीखेत के मंदिरों की भव्य रिकार्डिग की थी। विदेशों में प्रसारण के बाद यहां विदेशी शिष्यों की बाढ़ आ गई और हैड़ाखान मंदिर विश्व के मानचित्रों में प्रमुखता से छा गया।
इधर शम्मी कपूर के निधन पर मंदिर ट्रस्टी के चेयरमैन त्रिलोक सिंह (गुरु जी) सहित तमाम ट्रस्टियों ने शोक प्रकट किया है। ट्रस्टी राघवेन्द्र सिंह संभल ने बताया कि शम्मी जी के निधन का समाचार मिलते ही पूरे इलाके में शोक छा गया है। शम्मी कपूर जी को हैड़ाखान मंदिर व आसपास के क्षेत्र से काफी लगाव था।



(Source - Dainik Jagran)

   

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
उत्तराखंड के एक बाबा के जबर्दस्त भक्त थे ऐप्पल सीईओ

दुनिया की सबसे धनी कंपनी ऐप्पल के पूर्व सीईओ स्टीव जॉब्स भारत के बड़े प्रशंसक रहे हैं और वह यहां की बहुत चीजों से प्रेरित भी हुए हैं। बहुत कम लोग जानते हैं कि उन्होंने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था।

 स्टीव जब छात्र थे तो उन्हें भारत आने की बड़ी इच्छा थी लेकिन उनके पास पैसे नहीं थे। इसलिए उन्होंने वीडियो गेम बनाने वाली एक कंपनी में टेक्निशियन की नौकरी करके पैसे जमा किए। 1972 में स्टीव कॉलेज की पढ़ाई छोड़कर इधर उधर के काम करते थे। उनके पास खाने के पैसे नहीं होते थे तो वह मुफ्त का खाना हरे कृष्णा मंदिर में खा लिया करते थे। लेकिन वहां जाते-जाते वह हरे कृष्णा भक्त भी हो गए। इसके बाद वह हिप्पियों जैसी वेशभूषा रखने लगे थे।

 1974 में ज़ॉब्स एक हिप्पी की तरह भारत आए। यहां वह नशीली दवा एलसीडी का भी सेवन करने लगे। यहां पर ही उन्हें ऐप्पल नाम की कंपनी स्थापित करने की प्रेरणा मिली। भारत में स्टीव उत्तराखंड गए। नैनीताल के पास बाबा नीम करोरी (बाबा नीम करोली) के आश्रम में वह पहुंचे। बाबा के बारे में कहा जाता था कि बाबा हनुमान जी के अवतार हैं। लेकिन स्टीव को बाबा जी के दर्शन नहीं हुए क्योंकि वह स्वर्ग सिधार चुके थे। इसी आश्रम में स्टीव को ऐप्पल कंपनी शुरू करने की इच्छा जागी।



 उसी साल स्टीव भारत से लौटे लेकिन एक बदले हुए इंसान की तरह। उन्होंने बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था। भारत के प्रति उनका प्रेम और बढ़ गया। उन्होंने यहां अपना सेंटर भी खोला लेकिन यहां उसे सफलता न मिलने के कारण उसे बंद कर दिया। 

http://business.bhaskar.com/article/steve-jobs-devoted-to-indian-baba-2385547.html

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
एप्पल के संस्थापक व सी.ई.ओ. स्टीव जॉब्स नैनीताल जिले में स्थित कैंची धाम के नीम करोली बाबा आये थे.। तब तक बाबा स्वर्गवासी हो चुके थे. लेकिन नीम करोरी बाबा आश्रम में उन्हें अपनी कम्पनी शुरू करने की प्रेरणा मिली.


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Kainchi Ashram in Nainital Uttarakhand, inspired Steve Jobs to Found Apple
« Reply #56 on: October 07, 2011, 01:24:04 PM »
Kainchi Ashram in Nainital Uttarakhand, inspired Steve Jobs to Found Apple

Steve jobs, the charismatic Apple Founder and CEO stepped down as Apple CEO yesterday. Tim Cook, the second most powerful man in Apple, today, is the new CEO (Notably, Steve Jobs has been battling his health for quite some time now. He is a pancreatic cancer survivor.); this and other news surrounding Job’s success with Apple iPod, iPhone and iPad; are buzzing in tech world today.
 
 But just as Jobs is known for his addresses at Apple product launches, his historic Stanford speech and his passion for innovation and curve jumping thinking, something which turned Apple from bankruptcy to the world’s biggest tech company; he’s also known for his views and comments about another revolutionary, the Microsoft Founder Bill gates.
 
 From time to time, Steve Jobs -- once a Hare Rama Hare Rama (ISKCon) Sunday meal hungry college dropout; has reflected upon his thoughts about Microsoft founder Bill Gates; something which many think shed a great deal of light on Jobs’ past and pre-Apple days.
 
 In one such occasion, reports WSJ, Jobs told New York Times in a 1997 interview referring to Gates:
 
 "I wish him the best, I really do. I just think he and Microsoft are a bit narrow. He'd be a broader guy if he had dropped acid once or gone off to an ashram when he was younger,"
 
 According to people who have followed Jobs’ life closely, he didn’t say the above, just for the sake of saying. Jobs’ actually recommended Gates the mantra, which he did when he was young and continued trying till now.
 
 
Sombari Baba whose meditation
 cave Kainchi Mandir
Deeply influenced by the Indian spiritualism in 70s; Steve Jobs born February 24, 1955, visited India in 1974 as a hippie (the same hippie connection which makes many connect Steve with untidiness even now) for what he calls “spiritual retreat” and a philosophical quest. The move many psychologists, link to Jobs being adopted by foster parents right after birth; but later his biological parents(Steve jobs born as Steven Paul Jobs to an American mother and a Syrian father in San Francisco, California) happened to tie the knot and gave birth to and raised a child, Jobs’ biological sister. how he funded his India journey, by taking a job at Atari.
 
 While at Cupertino Junior High School and Homestead High School in Cupertino, California, Steve, who always had inclination towards computers, used to attend after-school lectures at the Hewlett-Packard Company. After his graduation from high school in 1972, Jobs enrolled in Reed College in Portland, Oregon, but dropped out after first semester (first three months). Instead he enrolled himself in non degree Calligraphy (beautiful handwriting) classes; and stayed with friends in their hostel room. Monet skint, as he had ditched college degree, jobs used to audit classes at Reed, returned Coke bottles for food money, and didn’t refrain from getting weekly free meals at the local “Hare Krishna” temple (this is the Sunday free meal connection at Hare Rama Temple).
 
 Jobs returned to California in 1974; and took a technician job at popular video games manufacturer Atari, primarily to save money for visiting India in search of spiritual enlightenment. Spending time there as a hippie in quest of eternal knowledge (experimented with psychedelics, calling his “acid” or Lysergic acid diethylamide experiences "), Jobs returned from India in the same year as a “Buddhist”; if not in practice but at least in appearance.
 
 In 1976, Jobs founded Apple along with his college friend Steve Woznaik; with whom he used to attend after school Hewlett-Packard Company classes as well. According to Steve, he got the inspiration to found Apple, during his stay in India. In India, Steve visited Kainchi Ashram, in Nainital, in the state of Uttarakhand (the Ashram of Baba Neem Karoli or Baba Neeb Karori, considered a reincarnation of Lord Hanuman, a monkey God in Hinduism); and it’s where he is believed to have got the vision to create Apple.

http://www.tech24hours.com/2011/08/kainchi-ashram-in-nainital-uttarakhand.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
उत्तराखंड से कालजयी कथाकार श्रीलाल शुक्ल का गहरा नाता


देहरादून। कालजयी साहित्यकार श्रीलाल शुक्ल का उत्तराखंड से गहरा नाता रहा। नाता साहित्य रचना के बहाने। उन्होंने अपना अंतिम उपन्यास पहाड़ों की रानी मसूरी की वादियों में रहकर पूरा किया। सन् 2002 में तकरीबन दो माह उन्होंने यहां प्रवास किया। इस दौरान उनके आखिरी उपन्यास ‘राग-विराग’ को अंतिम रूप मिला। शुक्रवार को श्रीलाल शुक्ल के निधन पर दून के साहित्यकारों ने भी उनसे जुड़े संस्मरणों को साझा किया।
पद्मश्री लीलाधर जगूड़ी ने उनके मसूरी प्रवास को याद किया। बताया कि बहुत कम ऐसे बड़े साहित्यकार हुए, जिन्होंने साहित्य रचना के दौरान नए लेखकों को भाव दिया। श्रीलाल शुक्ल ऐसे ही लोगों में थे। नया रचना कर्म करने के दौरान पैराग्राफ सुनाते थे और साथ ही प्रतिक्रिया भी मांगते थे-कैसा लिखा?
उनके अनुसार बहुत कम लोगों को यह मालूम होगा कि श्रीलाल शुक्ल न केवल गद्यकार बल्कि कविता प्रेमी भी थे। यहां तक उन्होंने साहित्य कर्म में अपनी शुरुआत ही कविता की रचना के साथ की थी। आजादी के बाद के भारत की अंतर विरोधी और निराशाजनक तस्वीर उन्होंने ‘राग-दरबारी’ के जरिए पेश की। ग्रामीण परिवेश से आने वाले श्रीलाल शुक्ल ने गांव की बदहाली की कहानी भी कही।
कहानीकार जितेन ठाकुर ने ‘कथाक्रम’ कार्यक्रम के दौरान श्रीलाल शुक्ल के साथ लखनऊ प्रवास की अपनी यादों को ताजा किया। कहा कि अल्पभाषी श्रीलाल शुक्ल ने नए लेखकों के साथ जो आत्मीयता का रिश्ता कायम किया, वह सभी बड़े लेखकों के लिए उत्प्रेरक का काम करेगा।



http://www.amarujala.com/state/Uttarakhand/39667-2.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
 गढ़वाली जागर गाते हैं विलियम सैक्स


 
 
अमरीका निवासी प्रोफ़ेसर विलियम सैक्स ने बनारस हिंदू विश्विविद्यालय से हिंदी में एमए किया
देहरादून से शालिनी जोशी
प्रोफ़ेसर विलियम सैक्स उर्फ़ बद्री प्रसाद नौटियाल वैसे तो जर्मनी की हिडेलबर्ग युनिवर्सिटी के दक्षिण एशियाई संस्थान में एंथ्रोपोलॉजी विभाग के अध्यक्ष हैं.
लेकिन पहाड़ की संस्कृति से उनका इतना गहरा लगाव है कि उनको जागर नंदा रज्जत और पाँडव जैसी लोक परंपराओं में महारथ हासिल है.
रिचुअल हीलिंग पर काम कर रहे प्रोफ़ेसर सैक्स का कहना है कि इन परंपराओं में शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का राज़ छिपा है.
पहाड़ी वेशभूषा में जब प्रो. विलियम सैक्स गढ़वाली बोली में धाराप्रवाह जागर सुनाते हैं तो लगता है सुदूर पहाड़ी गाँव से आया कोई निपुण लोकगायक देवताओं का आह्वान कर रहा है.
रिचुअल हीलिंग
 
 
जागर नंदाजात और पाँडव जैसी परंपराएँ महज़ लोकनृत्य और गायन नहीं हैं बल्कि इन अनुष्ठानों या रीतियों से जो उत्तेजना फ़ैलती है उससे आदमी की शारीरिक और मानसिक बीमारियाँ दूर होती हैं
[/t][/t]
[/t]
प्रोफ़ेसर विलियम सैक्स
उत्तराँचल के कुमाऊँ और गढ़वाल में समान रूप से लोकप्रिय जागर देवताओं की पूजा करने के लिए गाया जाता है और कहते हैं कि इसे गाते-नाचते समय व्यक्ति में देवी या देवता प्रवेश कर जाते हैं.
लेकिन प्रोफ़ेसर सैक्स का कहना है,"जागर नंदाजात और पाँडव जैसी परंपराएँ महज़ लोकनृत्य और गायन नहीं हैं बल्कि इन अनुष्ठानों या रीतियों से जो उत्तेजना फैलती है उससे आदमी की शारीरिक और मानसिक बीमारियाँ दूर होती हैं".
प्रो. सैक्स इसे रिचुअल हीलिंग का नाम देते हैं और उनकी राय में सामुदायिक समरसता कायम रखने में भी इसका बड़ा योगदान रहा है.
वे इसी व्यवहार पर शोध भी कर रहे हैं.
पहाड़ का सफ़र
 
 
यहाँ आए तो एंथ्रोपोलॉजिस्ट की हैसियत से लेकिन अब उनका मन यहाँ रम गया है. लोगों से घुलने-मिलने के लिए वे उनके हर काम में शामिल होते हैं, गाय-भैंस को चारा-पानी देने, मंड़ाई-कटाई, यहाँ तक कि कभी वे हल भी पकड़ लेते हैं
[/t][/t]
[/t]
वासुदेव मैथानी
मूल रूप से अमरीका के निवासी प्रोफ़ेसर सैक्स ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से हिंदी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की है.
इसके बाद उत्तराँचल की लोकप्रिय नंदाजात यानी नंदा देवी की डोली यात्रा पर जब वे पीएचडी करने चमोली गढ़वाल आए तटो यहीं के होकर रह गए.
कर्णप्रयाग के क़रीब नउटी नाम के एक गाँव में वे चार साल रहे और फिर 1990 से वे रवाइन जौनसर इलाक़े में रह रहे हैं.
स्थानीय परंपराओं के प्रति उनके समर्पण से अभिभूत होकर एक स्थानीय बुज़ुर्ग ने बद्री प्रसाद नौटियाल का नाम दिया.
नौटियाल साहब
आज पहाड़ों में वे बद्री प्रसाद नौटियाल के ही नाम से लोकप्रिय हैं.
नउटी गाँव के वासुदेव मैथानी कहते हैं,"यहाँ आए तो एंथ्रोपोलॉजिस्ट की हैसियत से लेकिन अब उनका मन यहाँ रम गया है. लोगों से घुलने-मिलने के लिए वे उनके हर काम में शामिल होते हैं, गाय-भैंस को चारा-पानी देने, मंड़ाई-कटाई, यहाँ तक कि कभी वे हल भी पकड़ लेते हैं".
 
 
हमारे देवी-देवताओं को आस्था ने जन्म दिया है. मैदानों की ओर चले गए पहाड़ियों में अब आस्था नहीं बची है और जिनकी है भी वह भय की है, और प्रोफ़ेसर सैक्स की आस्था प्रेम की है
[/t][/t]
[/t]
सुरेश काला
चमोली में प्रोफ़ेसर साहब अगर किसी को कहीँ दीख जाएँ तो लोग तपाक से पूछ बैठते हैं- "और नौटियाल जी क्या हाल है?".
पान वाले को पता है कि उनके लिए कौन-सा पान लगाना है और चाय वाली भी जानता है कि उन्हें कैसी चाय चाहिए.
प्रोफ़ेसर सैक्स ने यहाँ की धार्मिक मान्यताओं की वैज्ञानिक और तार्किक विवेचना की है.
नंदाजात का उदाहरण देते हुए वे कहते हैं,"इसमें पहाड़ की महिलाओं की पीड़ी देखी जा सकती है. माई की प्यार की याद सँजोए और ससुराल के बेगानेपन में जीती, दिन-रात श्रम करती महिला का प्रतीक है नंदा देवी".
काम
प्रो. सैक्स ने 'द माउंटेन गॉडेस' और 'डांसिंग द सेल्फ़' के नामों से यहाँ की लोकसंस्कृति पर किताब भी लिखी है.
उनके ख़ास मित्र और हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय में अँग्रेज़ी के प्रोफ़ेसर डी आर पुरोहित उनके बारे में कहते हैं,"ये आदमी असाधारण बुद्धि रखता है और आम आदमी की तरह जीता है. गढ़वाल की संस्कृति का उन्हें तो ऐसा ज्ञान है कि गुप्तकाशी में जब एक आचार्य से उन्हें मिलाया तो आचार्य चकित रह गए".
प्रोफ़ेसर सैक्स के साथ मिलकर उत्तराँचल के लोक नाट्य कला पर काम कर रहे सुरेश काला के शब्द कुछ यूँ हैं,"हमारे देवी-देवताओं को आस्था ने जन्म दिया है. मैदानों की ओर चले गए पहाड़ियों में अब आस्था नहीं बची है और जिनकी है भी वह भय की है, और प्रोफ़ेसर सैक्स की आस्था प्रेम की है".
प्रोफ़ेसर सैक्स की एक जर्मन शिष्या कैरन पोलित भी रिचुअल हीलिंग के उनके शोध में उनकी मदद कर रही हैं और वे भी पिछले डेढ साल से यहीं हैं.
प्रो. सैक्स गढ़वाल यूनिवर्सिटी में लोक केंद्र की स्थापना पर भी काम कर रहे हैं.
(source - http://www.bbc.co.uk/hindi/regionalnews/story/2003/10/031030_william_sax.shtml)
[/td][/tr][/table][/td][/tr][/table][/td][/tr][/table]

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
देवआनंद का नैनीताल कनेक्शन
« Reply #59 on: December 05, 2011, 06:15:11 AM »
नैनीताल। सदाबहार अभिनेता देवआनंद का नैनीताल से रोचक संबंध रहा है। यहां उन्होंने अपनी फिल्म कलाबाज के अधिकांश हिस्सों की शूटिंग तो की ही थी उनकी पुत्री ने विवाह भी नैनीताल में ही किया। देवआनंद ने नैनीताल की एक युवती को अपनी फिल्म में हीरोईन का रोल भी आफर किया था। यद्यपि युवती ने उसे स्वीकार नहीं किया।
देवआनंद ने अपनी फिल्म कलाबाज के अधिकांश हिस्से की शूटिंग नैनीताल में की थी। फिल्म की शूटिंग जनवरी 1975 में यहां बारापत्थर, टिफिन टॉप, फ्लैट्स और हनुमानगढ़ी में हुई थी। फिल्म की लीड़िग लेडी उस दौर की नंबर वन हीरोईन जीनत अमान थीं। अन्य कलाकारों में असरानी, देव कुमार, मारूति आदि थे। हनुमानगढ़ी में फिल्म के गीत अरे रूठे हैं तो मना लेंगे..... के अनेक दृश्यों का फिल्मांकन किया गया था। इसका संगीत कल्याणजी-आनंदजी ने दिया था और गीत को किशोर कुमार और आशा भोसले की लोकप्रिय जोड़ी गाया था। फिल्म की शूटिंग के दौरान एक मजेदार वाकया हुआ था। नैनीताल की एक युवती नीता साह अपने मामा के साथ टिफिन टॉप में चल रही शूटिंग देखने गई थीं। जीनत अमान उनके बालों की चमक से बड़ी प्रभावित हुईं और उनसे जानना चाहा कि वे इसके लिये कौन सा कॉस्मेटिक प्रयोग करती हैं। नीता के बताने पर कि वे प्राकृतिक रूप से ही ऐसे हैं जीनत ने देवआनंद को यह बात बताई। देवआनंद भी नीता के सौंदर्य और व्यक्तित्व से बहुत प्रभावित हुये और उन्होंने तत्काल उन्हें अपनी अगली फिल्म में मुख्य भूमिका आफर कर दी। हालांकि नीता ने इसे अस्वीकार कर दिया। बाद में नीता का विवाह जाने माने व्यवसाई इंडिया होटल के योगेश साह से हुआ था। यह संयोग ही है कि बाद में देवआनंद की पुत्री देवीना ने नैनीताल में ही विवाह किया। विवाह की कानूनी प्रक्रिया कराने वाले एडवोकेट कैलाश बल्यूटिया ने बताया कि उनकी कोर्ट मैरिज जनवरी 2006 में एनआरआई नरेंद्र बाली से हुई थी। विवाह में नरेंद्र का एड्रेस मसूरी का था। और उत्तराखंड के एटॉर्नी जनरल रह चुके वरिष्ठ अधिवक्ता एलपी नैथानी ने गवाह की औपचारिकता निभाई थी।

Source - Amar Ujala.

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22