Author Topic: उत्तराखंड से प्रथम - FIRST FROM UTTARAKHAND !!  (Read 42169 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
गढ़वाल मैं जन-जागरण के प्रथम ब्यक्ति

०१-प्रथम अंग्रेजी पड़ने वाला गढ़वाली   पंडित लक्छमी दत नैथानी
०२-प्रथम इन्ट्रेन्स उत्तीर्ण गढ़वाली        पंडित आत्माराम गैरोला
०३-प्रथम अंडरग्रेज्वेत (इंटरमीडीइट)       पंडित गोविन्द प्रसाद घिल्डियाल
०४-प्रथम एडवोकेट हाईकोर्ट             पंडित तारादत गैरोला
०५-प्रथम यल यल बी                 पनदिर विर्ज्मोहन चंदोला
०६-प्रथम बी यस सी                  पंडित अनुसूया प्रसाद घिल्डियाल
०७-प्रथम एसी जूनियर इंजिनीअर       पंडित कुलानंद बड़थ्वाल
०८-प्रथम रेंजर                      पंडित सदानंद गैरोला
०९-प्रथम कानूनगो                   पंडित शालिग्राम वैष्णव
                                  पंडित तारादत खंडूरी
१०-प्रथम अंग्रेजी कवी                 बी डी काला(सुमाडी )

Information provided by our member : Devbhoomi.

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,046
  • Karma: +59/-1
गढ़वाल संभाग मैं प्रथम मुंशी - पंडित शिवानन्द खंडूडी

प्रथम सूबेदार मेजर               -ठाकुर शिव सिंह नेगी

प्रथम हेड मास्टर                   -मिस्टर डी ए चोफीन

प्रथम श्रीनगर हाईस्कूल के संस्थापक -पंडित कुलानंद बहदुर,अम्बिकदत बहुगुणा

प्रथम गढ़वाली भाषा मैं कुस्तक प्रकाशक  -पंडित गोविन्द प्रसाद घिल्डियाल

प्रथम कुली एजेंसी के संस्थापक(१९०८)     -ठाकुर जोधसिंह नेगी

गढ़वाल मैं सड़क यातायात का शुभारम्भ २२ फरवरी १९४४ (प्रथम वाहन जी० यम० ओ० यु०, यु० पी० न० २९ )

प्रथम चालक                                       -गोकुल सिंह नेगी, वाहन मालिक मख्क्नलाल टेकचंद

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
उत्तराखण्ड के पहले व्यक्ति, जिन्हें रमन मैग्सेसे पुरस्कार प्राप्त हुआ- श्री चण्डी प्रसाद भट्ट

विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,670
  • Karma: +21/-0
उत्तराखंड के प्रथम परखनली शिशु ( Test-tube baby ) का जन्म 13 जून 2001 को सैनी आईo वीo एफo फर्टिलिटी रिसर्च सेंटर देहरादून में हुआ.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
Govind Ram Ghildiyal : First Garhwali

Govind Prasad ghildiyal has many distinctions in Garhwal and among Garhwalis. Govind Prasad was first Garhwali who passed Intermediate and Govind Prasad Ghildiyal is also first Garhwali who became Graduate .
Rai Bahadur Govind Prasad Ghildiyal is the first Garhwali who became Deputy Collector .
Govind Ghildiyal was born in Dang , near Shrnagr , Pauri Garhwal, Uttarakhand on 24th May, 1870.
Govind Ghildiyal was also first Garhwali personality who published book in Garhwali prose and George Griyerson referred the work of Ghildiyal in his famous work in ‘Linguistic survey of India’ .
Govind Ghildiyal is the first Garhwali who published translation of Hitopadesh in Garhwali, which means he is the first person who initiated Garhwali language prose.
Govind Ram Ghildiyal published the translation of the works of Shakespeare (Othello) and Goldsmith (Hermit) in Hindi. He also published a fine commentary book ‘ Garhwali Rajputon aur Brahmanon ki Sainik Seva’
Govind Ram Ghildiyal expired on 19th July, 1922 in Lansdowne.

Information by : Bhishma Kukreti.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
Mahachand Padma : The First Garhwali Shilpkar I A S

Adaptation: Bhishma Kukreti

Garhwalis will always remember Late Mahachand Padma for his industriousness and his oath to provide a pride to Shilpkar of Garhwal. By being first Garhwali shilpkar as I A S .

Mahachand was born on 8th July , 1937, in village Oad Gaon (Arya Nagar) , patti-Piglapakha, British Garhwal (Pauri Garhwal). His father’s name was Veer Singh and mother’s name was Raduli Devi. The family profession of Veer Singh was constructing the building (Oad).

After passing fourth standard (on that time fourth standard was called primary) from Mahadev Sain, Maha Chand Padma was sent to Jahri Khal (near Lainsdown) for further study and he was brilliant who passed middle standard (7th standard) by first class. Though the economical condition of veer Singh was not so strong but looking the brilliancy of bright boy Mahanchand, his parents sent him to Dehradun for further study and he took admission in Mission School Dehradun . The economical adverse conditions did not become obstacle for Mahachand . He passed twelfth (Intermediate) from Mission School Dehradun

Young Mahachand was ambitious, industrious and futuristic too . He wanted to study further from D. A. V. College Dehradun but the family economic condition did not allow him to take admission in B A in D. A .V. College Dehradun

. Mahachand got job in Public Works Department as Upper division Clerk (UDC).

When D. A. V . College started morning classes for B A students, Mahachand took admission in B. A. in D .A.V.College and passed the degree.

In 1960, he married to Sushila (daughter of Butha Singh), who was also High School pass Shilpkar girl. In 1960, a girl from Shilpkar family was rarest most incident.. His wife Sushila became inspirational force for him and he passed LLB after marriage.

In 1964, he passed I. A. S . exam and became first Shilpkar I .A.S. officer of Garhwal.

He was selected for Himachal Cadre (H.A S). Mahachand worked as S.D.M, Upper Secretary, A.D.C and lastly as Director in Indian the government services.

He expired on 2nd July 1979 as blood cancer patient at the mere age of forty-one only.

H e was simple and courtesies person and his colleagues and subordinates liked him very much

We Garhwalis salute him for enhancing our pride and the self-esteem of Shilpkar worls of Garhwal

Courtesy : Arya, Vinod, 2009,Uttarakhand ka Upekhshit Samaj aur Uska Sahitya, New Krishna printers, Lucknow, pp-10-13

@ Copyright: Bhishma Kukreti, Mumbai, May 2009

Courtesy : Bhisham Kukreti Ji.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
Great Garhwali Personality:
            Allat Nath Bhatt ‘ Suri : First  Sanskrit Poet of Garhwal
                                                      Bhishma Kukreti
  Garhwal and Kumaun had been the regions where many Sanskrit scriptures , and modern languages books were created by creative.
 However, the past creative of India never mentioned their names in the scripture and historians find difficult to know about the whereabouts . However, the creative of  these scriptures have provided the historical references and glimpses of social structure of their time.
  Credit goes to eminent most historian of Uttarakhand , Dr Shiv Prasad Dabral for providing the details of first Garhwali  Sanskrit poet  Allat Nath Suri or Allad Nath Suri.(Refr-1)
  Alladnath was the son of an intellectual and knowledgeable Sanskrit Pundit Sidh Laxaman. His date of birth is unknown but it is sure that he created his verses in thirteenth century. By the names of both pundits, we may certainly guess that Nath sect was a prominent sect of Uttarakhand in thirteenth century. He was born in the time of  Ekchakra regime ruled by Chauhan dynasty or Bahban dynasty (Kane).
Ekchakra kingdom seemed to be near Chakrata Dehradun , Ekchakranagari was capital and the kingdom was extended at the bank of  Yamuna. King Suryaman suggested  Allad Bhat Suri for  writing the history of  I.e ek Chakra regime ,  Allatnath Bhatt Suri was profound pundit of Vedas, logics, grammar, Smritis and Garhwali geography too
   Allatnath created a very remarkable book called ,’ Nirnayamrit’ in Sanskrit. It is proof that within short period of its creation, Nirnayamrit got immediate recognition and authentic book of ‘Dharmashastra or Neetishashtra (Kane). There are references of  Nirnayamrit in authentic scriptures of Dharmashashtra as Nirnanaysindhu, Daytatva, Teerthnirnaya, Kalnirnaya,  Nirnayadeepak, Shradhkriyakaumadi.
  There are stanzas in Nirnayamrit , which help for knowing the historical details of Garhwal of twelfth and thirteenth centuries.
The hand written  manuscript of Nirnayamrit is available at Bhandarkar Institute, Mumbai and it is published twice. One copy of the book is available in Berline museum (Professor Bavor)
  Allat Bhatt Suri created another book in Sanskrit ‘Sakalpuran sammuchaya’
Many knowledgeable Garhwalis as Sadanand Jakhmola, Lalita Prasad naithani, Rama Prasad Ghildiyal ‘Pahadi’ , Dr shiva Nand Nautiyal anda non Garhwali scholars Kamala Ratnam, Banarasi Das Chaturvedi  voiced that Kalidas was first Garhwali  Sanskrit  . However , there is no universal agreement about Kalidas being a Garhwali who was born in Kaviltha village of Chamoli Garhwali but there is no any disagreement about the authenticity that Allatnath Bhatt was first Garhwali Sanskrit poet .
References:
1-Dabral, Shiv Prasad, Uttarakhand ka Itihas, Bhag-4, Veer Gatha Press Dogadda, Garhwal, India, pp94-95
2-Kane, Dharmashashtron ka Itihas
3-Bavar, Collected works of Bhandarkar-2,page 143
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2009

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
गिनीज बुक में दर्ज होगा मदन महर का नाम
चम्पावत: आरटीआई के तहत एक दिन में 365 जानकारियां मांगने वाले बसपा जिलाध्यक्ष एडवोकेट मदनसिंह महर का नाम गिनीज बुक ऑफ व‌र्ल्ड रिकार्ड के लिए सूचना आयोग ने भेज दिया है। मुख्य सूचना आयुक्त अनिल नेगी और सचिव राधा रतूड़ी ने एक पत्र के जरिए यह जानकारी दी है। जिसमें एमसीएफ संस्था में जुड़ने के फैसले का स्वागत किया गया है। साथ ही उनसे तीन सौ सूचनाएं 28 मार्च तक और मांगने को कहा है। इससे पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त रहे आरएस टोलिया उन्हें सम्मानित करते हुए प्रशस्ति पत्र भेंट कर चुके हैं। महर ने बताया कि उन्हें अपै्रल माह से पांच वर्ष तक के लिए तीन लाख रुपये का वार्षिक मानदेय भी मिलेगा।

(Source - Dainik Jagran)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
 

अव्‍वल रही पहाड़ों की बेटी


   अल्मोड़ा जैसे विषम भौगोलिक परिस्थिति वाले सीमांत जिले में किसी लड़की के लिए क्रिकेट खिलाड़ी बनने के बारे में सोचना आसान नहीं है. लेकिन अल्मोड़ा जिले के देवली गांव के खजांची मुहल्ले में रहने वाली 25 साल की एकता बिष्ट ने न केवल यह सपना देखा बल्कि इसे पूरा कर राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का नाम ऊंचा कर दिया. एकता अंतरराष्ट्रीय महिला क्रिकेट खेलने वाली उत्तराखंड राज्‍य की पहली महिला खिलाड़ी बन चुकी हैं.
बीसीसीआइ ने उत्तराखंड में किसी भी क्रिकेट संघ को मान्यता नहीं दी है इसलिए यहां के क्रिकेट खिलाड़ियों को अन्य राज्‍यों की टीमों में जगह बनानी पड़ती है. एकता को भी भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए इसी संघर्ष का सामना करना पड़ा. लेकिन कठिन मेहनत और पक्के इरादे के बल पर पहाड़ की इस बेटी ने दिखा दिया है कि नामुमकिन शब्द उसके लिए कोई मायने नहीं रखते हैं. सेना में सूबेदार पद से सेवानिवृत्त हुए एकता के पिता कुंदन सिंह बिष्ट और मां तारा बिष्ट का एकता ने गर्व से सिर ऊंचा कर दिया है.
स्कूल से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर चुकी एकता भारतीय टीम में जगह बनाने से पहले नॉर्थ जोन, इंडिया प्रेसिडेंट इलेवन के साथ ही 2006-07 से उत्तर प्रदेश महिला क्रिकेट टीम की सदस्य हैं. इसी साल जून-जुलाई में इंग्लैंड में आयोजित चार देशों की महिला क्रिकेट श्रृंखला के लिए पहली बार एकता का चयन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए हुआ है. इस श्रृंखला में एकता ने जो जोरदार प्रदर्शन किया है उसे देखते हुए उन्हें भारतीय महिला क्रिकेट टीम में लंबी रेस का घोड़ा माना जा रहा है.
बाएं हाथ की लैगस्पीनर और खब्बू बल्लेबाज एकता ने अब तक खेले कुल तीन मैचों में 5 विकेट हासिल किए हैं. यही नहीं, 28 ओवरों में से उन्होंने 6 ओवर में एक भी रन नहीं दिया और 2.92 की किफायती दर से कव्वल 82 रन खर्च किए. न्यूजीलैंड के खिलाफ 15 रन देकर तीन विकेट हासिल करने वाली एकता को मैन ऑफ दी मैच भी चुना गया था. उन्होंने अब तक केवल एक ही ट्वेंटी 20 मैच खेला है. एकता ने घरेलू क्रिकेट का सफर 2006-07 में उत्तर प्रदेश महिला टीम में जगह बनाने के साथ शुरू किया था और पहले क्रिकेट सीजन में ही वह अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रही थीं.
अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला खेलकर लौटी एकता का अल्मोड़ा में जोरदार स्वागत हुआ. अल्मोड़ा में एकता के कोच रहे लियाकत अली कहते हैं कि क्रिकेट के प्रति उसके जुनून का उदाहरण इससे अच्छा और क्या होगा कि खजांची मोहल्ला स्थित अपने घर से तीन किमी दूर स्टेडियम आने वाली अकेली लड़की होने के बावजूद वह कभी भी आना टालती नहीं थी. एकता की मां तारा बिष्ट बताती हैं कि एकता तीन साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलती आ रही है.
एकता के लिए इंग्लैंड दौरा कई मायनों में खास रहा. पहला तो, इसी दौरे से उनका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कॅरियर शुरू हुआ और दूसरा, इसी दौरे के दौरान उन्हें रेलवे में नौकरी मिलने की खुशखबरी भी मिली. एकता को खिलाड़ी कोटे से हेड क्लर्क बनाया गया है. लेकिन आगरा में नियुक्ति मिलने के कारण उन्होंने अभी ज्‍वाइन नहीं किया है. दरअसल एकता ने रेलवे में आवेदन भेज आग्रह किया है कि उन्हें आगरा की जगह कानपुर में नियुक्ति दी जाए ताकि वे अपना अभ्यास जारी रख सकें.
भावी योजनाओं के बारे में एकता कहती हैं कि वे अगले साल होने वाले महिला विश्वकप में टीम का प्रतिनिधित्व कर जीत भारत के नाम करना चाहती हैं.
एकता बिष्ट के साथ बातचीत:
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आने वाली उत्तराखंड की पहली लड़की बनने पर कैसा लग रहा है?
भारतीय टीम में खेलना मेरा सपना रहा है जो इंग्लैंड दौरे के साथ पूरा हो गया. अब इस सपने को जीना है और आगे बढ़ाना है.
बचपन में कभी क्रिकेट खिलाड़ी बनने का सोचा था?
क्रिकेट खेलने का शौक बचपन से ही था. लेकिन सही मायने में क्रिकेट की शुरुआत 2001 से हुई. मैं 11वीं क्लास में थी तभी लियाकत सर से मुलाकात हुई जिन्होंने मुझे क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया.
इंग्लैंड में खेलने का अनुभव कैसा रहा?
बहुत कुछ सीखने को मिला. एक मैच में मैं मैन ऑफ द मैच भी रही.
उत्तराखंड में महिला क्रिकेटरों के लिए कितनी संभावनाएं हैं?
संभावनाएं असीम हैं, जरूरत है तो राज्‍य के क्रिकेट संघ को बीसीसीआइ से मान्यता मिलने की.


http://aajtak.intoday.in/story.php/content/view/61276/9/79/International-Womens-Cricket-honored-in-Uttarakhand.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,849
  • Karma: +76/-0
  कुमाऊं का पहला बायो-गैस बिजलीघर तैयार        Feb 27, 08:33 pm    बताएं                ===जागरण विशेष====
= हल्दूचौड़ गौ सदन में गोबर गैस से जलेगी बिजली
= 13.50 लाख की लागत से बना, आठ केवी बिजली मिलेगी रोजाना
= अब बाजपुर गौ सदन में निर्माण की तैयारियां
गोविंद सनवाल, हल्द्वानी : गाय के गोबर से बिजली तैयार है। बस स्विच ऑन कीजिए और लाइट ऑन। कुमाऊं में पहला बायो गैस बिजलीघर बनकर तैयार हो गया। उत्तराखंड अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण (उरेडा) ने हल्दूचौड़ परमा स्थित गौ सदन में 13.50 लाख की लागत के आठ किलोवाट क्षमता के बिजलीघर का निर्माण किया है।
 गोबर के प्रयोग से अब बिजली के बल्ब भी जलेंगे। उरेडा ने बायो गैस बिजली संयंत्र का निर्माण कार्य पूरा कर इस दिशा में महत्वपूर्ण पहल की है। हल्दूचौड़ परमा में स्थित गौ सदन अब ऊर्जा निगम पर निर्भर नहीं रहेगा। सदन की जरूरत की बिजली अब उसे वहां पल रहे सैकड़ों गौ वंशीय पशुओं के गोबर से ही मिलने लगेगी। उरेडा ने 60 घन मीटर क्षमता के बायो गैस प्लांट के साथ गोबर गैस से संचालित होने वाले इंजन व जनरेटर की स्थापना यहां की है। इस संयंत्र को चलाने के लिए प्रतिदिन 12 कुंतल गोबर की जरूरत पड़ेगी, जिससे रोजाना आठ किलोवाट बिजली बनेगी। यह बिजली सदन की जरूरतों को पूरा कर लेगी। 13.50 लाख रुपए की इस परियोजना में उरेडा ने 40 हजार रुपए प्रति किलोवाट की दर यानी 3.20 लाख का अनुदान दिया, जबकि शेष 13.30 लाख की धनराशि पशुधन विकास बोर्ड ने दी। उरेडा के वरिष्ठ परियोजना अधिकारी एलडी शर्मा ने बताया कि कुमाऊं की यह पहली परियोजना सफल रही है। 15 दिन के भीतर इसे चालू कर दिया जाएगा। श्री शर्मा ने बताया कि साथ ही बाजपुर स्थित गौ सदन में भी बायो गैस बिजलीघर का निर्माण शुरू कर दिया गया है। जल्द ही इस कार्य में और तेजी आएगी। उनके मुताबिक कालसी एवं श्यामपुर (हरिद्वार) में यह संयंत्र पूर्व में लगाए गए थे, जिनके सफल संचालन के बाद ही कुमाऊं में भी इसे अपनाया गया


(Source Dainik Jagran).