Author Topic: FREEDOM FIGHTER OF UTTARAKHAND - उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी  (Read 74452 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
देघाट के शहीद
  • हरिकृष्ण ( -1942 )
  • हीरामणि ( -1942)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
जेलों में शहीद संग्रामी
  • रतन सिंह पुत्र दौलत सिंह ,बोरारौ (1916-)
  • उदय सिंह पुत्र भवान सिंह ,बोरारौ (1917-)
  • किशन सिंह पुत्र दान सिंह,बोरारौ (1906-)
  • बाग सिंह पुत्र खीम सिंह ,बोरारौ (1905-)
  • दीवान सिंह पुत्र खीम सिंह ,बोरारौ (1905-)
  • अमर सिंह पुत्र देव सिंह ,बोरारौ (1918-)
  • त्रिलोक सिंह पांगती, चनौदा आश्रम
  • विशन सिंह , चनौदा
  • रामकृष्ण दुमका, हल्दूचौड
  • दीवान सिंह , पहाड़कोटा (-1943)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

सेनानी दुर्गादत्त ओली का भावपूर्ण स्मरण

50वीं पुण्यतिथि पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी दुर्गादत्त ओली का भावपूर्ण स्मरण किया गया। खेतीखान में आयोजित कार्यक्रम में शामिल लोगों ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। इस मौके पर सेनानी उत्तराधिकारी संगठन के जिलाध्यक्ष महेश चंद्र चौड़ाकोटी ने कहा कि तत्कालीन विषम परिस्थितियों में पंडित दुर्गादत्त ओली की ओर से देश की स्वतंत्रता के लिए योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि सेनानी के बताए मार्ग के अनुसरण से ही आज समाज और देश उन्नति कर सकता है।
शिक्षाविद सीएल वर्मा ने खेतीखान में स्थित इंदिरा पार्क में सेनानी दुर्गादत्त ओली के साथ ही पूर्णानंद जोशी की मूर्ति लगाए जाने की मांग प्रमुखता से उठाई। उन्होंने कहा कि दुर्गादत्त ओली और पूर्णानंद जोशी का बलिदान आने वाली पीढ़ी याद रखेगी। इस अवसर पर मीडिया प्रभारी चक्रपाणि ओली ने भी विचार रखे।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
शतकवीर स्वाधीनता सेनानी रणजीत सिंह नेगी नहीं रहे
मेहलचौरी: 110 वर्षीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रणजीत सिंह नेगी का निधन हो गया। बुधवार को धुनारघाट स्थित घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

शतकवीर रणजीत सिंह ने मंगलवार की शाम ग्राम सिलंगी दाड़मडाली स्थित पैतृक आवास पर अंतिम सांस ली। उनका जन्म अक्टूबर 1904 में सिलंगी गांव में हुआ था। 22 वर्ष की उम्र में वह गोरखा राइफल में भर्ती हुए थे। बाद में वह स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ गए और आजाद हिंद फौज में रहकर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ लोहा लिया। आजादी की लड़ाई के दौरान स्व.रणजीत सिंह नेगी ने वर्मा, सिंगापुर, जर्मनी और जापान की यात्राएं भी की। अंग्रेजों से लड़ाई के दौरान वे कई बार घायल भी हुए थे।

बुधवार को राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। उप जिलाधिकारी गैरसैंण केएस नेगी ने सरकार की ओर से उन्हें पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। पुलिस गार्द की सशस्त्र सलामी के बाद उनके ज्येष्ठ पुत्र प्रेम सिंह नेगी व फतेह सिंह नेगी ने चिता को मुखाग्नि दी। अंतिम यात्रा में सैकड़ों लोगों ने शामिल होकर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Bhishma Kukreti
7 hrs ·

Leading Freedom Fighters of Garhwal
Compiled by Bhishma Kukreti
1- Laxman Singh Kathait (village : Bansar, Tihri Garhwal0 , 1882 fought against Begar Pratha of Tihri riyasat
2- Sadanand Kukreti Gweel Jaspur published Vishal Kirti (19120-24) from Lainsdown and inspired people for complete freedom and Swadeshi. He had to close down publication due to order of DM
3-in 1911, Barrister Mukandi Lal revived Congress in Pauri
4- Jeeva Nand Dobhal
4-Ram Prasad Nautiyal
5-Bhakt Darshan
6-Kriparam Mishr
7- Bhairv Datt Dhulia
8-Devkinandan Dhani
9- Pratap Singh Negi
10-Shri Dev Suman
11- Ramesh Chand Bahukhandi
12-Kamal Singh Negi
13- Jaya Nand Bhartiy
14-Shankar Datt Dobhal
15- Shyam Singh Negi
16-Anand Sharan Raturi
17-Dayannd student
18- Premdatt
19- Bhagvati Prasad Panthari
20 Daulat Ram
21- Nagendra Saklani
22- Maulsingh
23-Chandra singh Garhwali
24- Lalita Prasad Naithani
25- Aditya Ram Dudhphudi
26- Jagmohan Singh Negi
27- Hemvati Nandan Bahuguna
28- Baldev Singh Arya
29- Indra Singh t
30= Bachulal Bhatt
31- Raghnandan Prasad Bahuguna
32- vishvamber Datt Chandola
33-Keshva Nand joshi
34- Bhaskara Nand Maithani
35- Ram Singh Driver
36-Bhola Datt Chandola
37-Bhairav Datt Baduni
38-Brahma Nand Thapliyal
39- Kotwal Singh Negi
40- Bhileshwara Nand Dobhal
41-Loka Nand Nautiyal
42-Mahesha Nand Thapliyal
43- Harshmani Baduni
44- Rudri Datt Bahukhandi
45-Bhola Datt mamgain
46- Chhawan Singh Negi
47-Vishnu Singh Rawat
48- master Jagat singh
49- Chandra Singh Rawat
50-Hari Datt Bhadola
51-Mukund Singh
52-Gokul Singh Negi
53- Umrao Singh Rawat

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
नहीं रहे स्वतंत्रता सेनानी जगदीश शरण

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी जगदीश शरण पांडे का निधन हो गया। वह 95 वर्ष के थे। उन्होंने आजाद हिंद फौज में शामिल होकर स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया था। जगदीश शरण पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे।

शवयात्रा में आए गणमान्य लोग
वृहस्पतिवार को विश्वनाथ घाट में राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की गई। प्रभारी जिलाधिकारी डॉ. इकबाल अहमद, उप जिलाधिकारी रिंकू बिष्ट, पुलिस उपाधीक्षक आरएस ह्यांकी आदि अधिकारियों ने दिवंगत पांडे के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। पुलिस की टुकड़ी ने भी सलामी दी।

शवयात्रा में संसदीय सचिव मनोज तिवारी, सांसद अजय टम्टा, पालिकाध्यक्ष प्रकाश जोशी समेत शहर के कई गणमान्य लोग शामिल हुए।

विधानसभा अध्यक्ष ने जताया शोक
स्वतंत्रता सेनानी पांडे पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। बुधवार देर सायं उन्होंने अंतिम सांस ली। गुरुवार को� विश्वनाथ घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की गई। चिता को मुखाग्नि उनके पुत्रों ने दी। पांडे अपने पीछे पत्नी कलावती देवी, छह पुत्र� और एक पुत्री समेत भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
लौह पुरुष संग लड़ने वाले चंद्र सिंह का निधन - Dehradun

लौह पुरुष बल्लभ भाई पटेल के साथ स्वतंत्रता संग्राम की लौ फूंकने वाले चंद्र सिंह नेगी का 105 साल की आयु में स्वर्गवास हो गया।

स्व. नेगी ने आजादी की लड़ाई के दौरान गुलबर्गा और कराची की जेलों में यातना भरी रातें काटी थीं। उनके निधन पर मुख्यमंत्री हरीश रावत समेत अन्य नेताओं ने गहरा दुख व्यक्त किया है। सोमवार को हरिद्वार में राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

रविवार देर रात ढाई बजे करीब चंद्र सिंह नेगी ने अपने धर्मपुर स्थित आवास नेगी भवन में अंतिम सांस ली। स्व. नेगी के पुत्र ईश्वर सिंह ने बताया कि उनके पिता स्वतंत्रता संग्राम के दौरान देश की दर्जनभर जेलों में बंद रहे हैं। शुरुआत से ही वे सरदार बल्लभ भाई पटेल के साथ रहे।

गुलबर्गा समेत दो-तीन जेलों में चंद्र सिंह नेगी के बंदी रहने का रिकार्ड मिला है। गुलबर्गा में वह छह महीने बंद रहे थे। ईश्वर सिंह ने बताया कि उनके पिता अक्सर बताते थे कि ब्रिटिश हुकूमत उन्हें पकड़वाकर जंगलों में फिंकवा देती थी। वहां से वे फिर वापस आ जाते थे।

भारत छोड़ो समेत अन्य आजादी के आंदोलनों में चंद्र सिंह नेगी आगे-आगे रहे हैं। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नेगी के निधन को अपूर्णनीय क्षति बताया। पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन के लिए भाजपा नेता त्रिवेंद्र सिंह रावत, मेयर विनोद चमोली, विधायक उमेश शर्मा काऊ, एसडीएम रामजी शरण शर्मा आदि उनके आवास पर पहुंचे। (amar ujala)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0


Freedom Fighter

Name :  Vaidh vishnu duttg
Birth Place kankhal,haridwar
Kankhal dakghar ko funka
Freedom Fighting Struggle  1942 me jail bhi gaye 6 months ke liye
 

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22