Author Topic: Manasvi Mamgai Femina Miss India from UK- मनस्वी ममगाई फेमिना मिस इंडिया 2010  (Read 11540 times)

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Manasvi Mamgai Miss India - In Nainital
« Reply #40 on: May 18, 2010, 12:33:17 PM »
"दैनिक जागरण" की खबर

नैनीताल। फेमिना मिस इंडिया-2010 मनस्वी ममगांई का लक्ष्य अब मिस व‌र्ल्ड प्रतियोगिता का ताज हासिल करना है। वह अभी से इस प्रतियोगिता की तैयारी में जुट गई है। उसका मानना है कि जीवन में रुकावटे तो आती रहती है, लेकिन आगे बढ़ने की ललक का त्याग नहीं करना चाहिए।
सोमवार को नैनीताल क्लब में मीडिया कर्मियों से मुखातिब फेमिना मिस इंडिया व‌र्ल्ड मनस्वी ने अपने नैनीताल में बिताए पलों को याद करने के साथ ही भविष्य की योजनाओं का जिक्र किया। नैनीताल से अपना भावनात्मक लगाव बताते हुए उसका कहना था कि दुनिया के अन्य शहरों की अपेक्षा उसे नैनीताल से सर्वाधिक प्यार एवं दुलार मिलता है। सफलता का श्रेय अपनी मां प्रभा को देते हुए उसका कहना था कि वह आज जिस मुकाम पर पहुंची है उसका पूरा श्रेय मां की परवरिश व प्रोत्साहन को जाता है। भावी योजनाओं के संबंध में वह बोली कि अक्टूबर माह में मिस व‌र्ल्ड प्रतियोगिता है, जिसका प्रशिक्षण जल्द शुरू होने वाला है। इसलिए उसका सपना है कि उत्तराखंड की लड़की दुनियां की सिरमौर बने। मनस्वी ने बच्चों को पर्यावरण जागरूकता कार्यक्रमों में प्रेरित करने की भी मंशा जताई।

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Source - Hindustan news paper
 
Miss India Manasvi Mamgai is in Nainital these days.
 
फेमिना मिस इंडिया मनस्वी ममगाई ने मंगलवार को नयना देवी मंदिर में परिजनों के साथ मत्था टेका और विश्व सुंदरी का मुकाम हासिल करने को मन्नत मांगी। ठंडी रोड के प्रसिद्ध पाषाण देवी मंदिर में पूजा के साथ ही मनस्वी ने नैनीङील में नौकायन का आनंद भी उठाया।
अपनी मां प्रभा नैलवाल व ननिहाल के अन्य लोगों के साथ सुबह ही मनस्वी मंदिर पहुंच गई। यहां वह पहले भी आती रही हैं लेकिन इस बार उनके लिए कुछ खास ही था। मां प्रभा का बचपन भी यहीं बीता है। बेटी की इस उपलब्धि में वह कहीं न कहीं मां का आशीर्वाद मानती हैं और आगे की सफलता के लिए मां से एक बार फिर से आशीर्वाद लेने पहुंची थी। मनस्वी को भी मां पर पूरी आस्था है।
यहां पूजा के बाद पूरा परिवार ठंडी रोड स्थित मां पाषाण देवी सहित ग्वल ज्यू व शनिदेव मंदिर भी गया। इस दौरान कई प्रशंसक भी मनस्वी से मिले। उत्तराखंड की इस उदीयमान बाला ने सभी से बड़ी सहजता से मुलाकात की।
मनस्वी ने फिर से साफ किया कि भले ही वह कहीं रहे लेकिन नैनीताल बार-बार आती रहेंगी। इस दौरान उनके साथ नानी पुष्पा नैलवाल व मामा एडवोकेट तुमुल नैलवाल आदि भी मौजूद थे। इधर गत देर सायं मनस्वी ने मल्लीताल स्थित तिब्बती मार्केट से खरीददारी भी की।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
हमारे सदस्य श्री नवीन जोशी जी का विस्तृत लेख-
 
पहाड़ की बेटी ने छुवा आसमान, मनस्वी बनी `मिस इण्डिया वर्ल्ड´ 

नवीन जोशी, नैनीताल। पहाड़ चढ़ने के लिए पहाड़ सा होंसला, विश्वास व काबिलियत होनी चाहिऐ, यह आज तक सिर्फ सुना जाता है. तन, मन, मस्तिष्क और मानस की सुन्दरता की समन्वय 'पहाड़ की बेटी' मनस्वी ममंगई नाम की लड़की ने इस कथन को सही साबित करते हुऐ देश भर की मध्यमवर्गीय समाज की लड़कियों के लिए सौन्दर्य प्रतियोगिताओं की एक नयी राह खोल दी है। उसने मुम्बई में आयोजित देश की सबसे प्रतिष्ठित और धनाढ्य व हाई-प्रोफाइल वर्ग की लड़कियों के लिए मानी जानी वाली 'पेंटालून फेमिना मिस इण्डिया वर्ल्ड २०१०' (पीएफएमआई) का खिताब जीत लिया है। जीवन में सभी प्रतियोगिताओं की `टॉपर´ बनने का अनोखा रिकार्ड रखने वाली मनस्वी की बीते चार वर्षों में खिताबों की हैट-ट्रिक है, अब उसके आगे `मिस वर्ल्ड´ प्रतियोगिता का नया आसमान है, जिसे जीतने का उसके साथ ही उसके परिजनों को भी पूरा विश्वास है।
जीवन में सभी प्रतियोगितओं की `टॉपर´ रहने का अनोखा रिकार्ड, यह थी पुरस्कारों की हैट-ट्रिक, आगे मिस वर्ल्ड बनने का पूरा भरोसा

मनस्वी की ननिहाल नैनीताल में है। उसके नाना चन्द्रशेखर नैलवाल यहां प्रभागीय वनाधिकारी रहे। वह मनस्वी की नानी पुष्पा नैलवाल, मामा तुमुल नैलवाल व मामी मीनू के साथ यहीं मेविला कंपाउण्ड में रहते हैं। ममगाईं परिवार मूलत: प्रदेश के दूरस्थ बागेश्वर जिले के गरुड़ कश्बे के निकट गड़सेर गांव का निवासी है। मनस्वी की मां प्रभा और पिता जन्मेजय नैलवाल नैनीताल के ही डीएसबी परिसर से पढ़े। मां ने यहीं से एमए किया, और पिता ने ग्रेजुऐशन के बाद एमएलएनआर कालेज से इंजीनियरिंग की। बहरहाल नौकरी पर अपने कार्य को तरजीह देते हुऐ उन्होंने दिल्ली से कांट्रेक्टिंग शुरू की। यहीं 1988 में मनस्वी का जन्म हुआ। बाद में वह चण्डीगढ़ चले गऐ। इस बीच मनस्वी अपनी ननिहाल नैनीताल आती रही।कुमाउनी व्यंजन 'भट्ट की चुड़कानी' व 'पालक का कापा' आज भी उसके पसंदीदा ब्यंजन हैं. उसे नैनी सरोवर में बोटिंग करना व यहाँ के चिड़ियाघर में घूमना भी बहुत पसंद है.  यहां 10 वर्ष की मनस्वी ने वर्ष 1998, 99 और 2000 में लगातार तीन वर्ष मल्लीताल `जूम लेण्ड´ में होने वाली साह मेमोरियल स्केटिंग प्रतियोगिता जीत कर प्रतियोगिता की रनिंग ट्राफी भी हासिल की। चण्डीगढ़ के हंसराज पब्लिक स्कूल से प्रथम श्रेणी में इंटर करने के बाद परिजन चाहते थे कि वह इंजीनियरिंग करे, परन्तु उसने अपने बचपन की ख्वाहिस 'मोडलिंग' की ओर कदम बढ़ाये, इस दौरान माता-पिता में चल रहे अलगाव को नजरअंदाज करते हुए वह एलीट माडलिंग कंपनी से जुड़ गई और वर्ष 2006 में ही उसने कैरियर का पहला खिताब `इण्डिया मॉडल हंट´ जीत लिया। वर्ष 08 में उसने मलेशिया में आयोजित हुई `मिस इंटरनेशनल टूरिज्म प्रतियोगिता´ में देश का प्रतिनिधित्व किया और इसे भी वह जीत कर ही लौटी। इधर शुक्रवार की मध्य रात्रि उसने प्रख्यात फिल्म निर्माता मधुर भण्डारकर व विपुल अम्रुतलाल शाह जैसे निर्णायकों के समक्ष पेंटालून फेमिना मिस इण्डिया वर्ल्ड 2010 के 18 फाइनलिस्टों को पछाड़ते हुऐ वह मुकाम हासिल कर लिया, जिसे पाना देश की मध्यमवर्गीय लड़कियों के लिए आज से पहले कभी सम्भव न हुआ । प्रतियोगिता की शर्तों के अनुसार उसे मधुर भण्डारकर की फिल्म मिलनी भी तय है। लेकिन उसकी मंजिल देश के लिए `मिस वर्ल्ड´ का खिताब वापस लाना है।
मिसाल हैं मनस्वी और प्रभा
आज भी लड़कियों को वर्जनाओं से घिरा मानने वाले समाज में मनस्वी एक मिसाल है। वह अपने माता पिता की इकलौती सन्तान है। उसके परिजनों का कहना है कि उसने वह कर दिखाया जैसा उसके जैसी मध्मवर्गीय लड़कियां ख्वाब में भी नहीं सोच भी नहीं पातीं, और लड़कों के लिए भी यह संभव नहीं होता. और यह भी सच्चाई है कि मनस्वी की इस सफलता के पीछे भी एक अकेली महिला यानि उसकी मा प्रभा नैलवाल ही हैं, जो चार वर्ष पूर्व पति से अलगाव के बाद अकेले  दम उसे यह मुकाम दिला पाई हैं.
हाईकोर्ट में अधिवक्ता उसके मामा तुमुल नैलवाल ने बताया कि अपनी जीत के तुरन्त बाद उसने उसने यह विश्वास जताया। तुमुल सहित सभी परिजनों को भी उसके विश्वास पर पूरा विश्वास है, साथ ही अब पूरे प्रदेशवासियों की निगाहें भी उसकी ओर लग गई हैं। उसकी इस उपलब्धि से यहां उसकी ननिहाल में बेहद हर्ष का माहौल है। परिजन मिठाइयां बांट रहे हैं। घर में बधाइयां देने वालों का ताँता लगा हुआ है।


 

 
मनस्वी की उपलब्धि पर उसकी नानी को मिठाई खिलते मामा-मामी.
 
साभार- http://newideass.blogspot.com/2010/05/blog-post.html

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22