Author Topic: Personalities of Uttarakhand/उत्तराखण्ड की प्रसिद्ध/महान विभूतियां  (Read 125575 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,400
  • Karma: +22/-1

Artists of Uttarakhand
Art, Artists, Art Historians of Garhwal and Kumaun
Himalayan Art
  Rajeev Lochan Bahukhandi : The Fine Artist of  Sketch, Water Color and Oli Pain Paintings
                                  Bhishma Kukreti
 Rajeev Lochan Bahukhandi was born in Saidhar village , Saindhar Patti of Pauri Garhwal , Uttarakhand .
 Raajeev Lochan sketched portraits of many great personalities of India and abroad. Rajeev lochan  Bahukhandi painted more than 150 paintings of water color and oil paints. Bahukhandi exhibited his painting various times at his Patti level..
   The paintings of Rajeev Lochan Bahukhandi are exhibited in the rooms of Rajkeey  Inter College , Bedikhal.
Ref: Garhwal ki Jeevit Bibhutiyan aur Garhwal ka Vaishihsthy
Copyright @ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,400
  • Karma: +22/-1
Artists of Uttarakhand
Art, Artists, Art Historians of Garhwal and Kumaun
Himalayan Art
Shiva Nand Nautiyal : A Great Himalayan Photographer and Experimental Photographer
                                  Presented by Bhishma Kukreti
               Late Sivanand Nautiyal ws born on 26 January  1916 in Shrinagar Pauri Garhwal, Uttarakhand . Nautiyal expired in Dehradun
   Sivanand Nautiyal passed five years Fine Art Degree course  from Lucknow College of Arts and Crafts in 1936 . Later on he practices photography in Lucknow and Nainital. From Lucknow, Shiva Nand Nautiyal shifted to Meerut and used to take photography profession in Mussorie, Kasmir, Kullu Manali, and many parts of Himachal Pradesh.  Shivanand Nautiyal shifted to Dehradun in 1956 and opened his photography studio there,
  Sivanand Nautiyal participated many solo and group photography exhibitions in Mumbai, Mysore, Delhi , Kolkatta, Lucknow, London and other places. Many Indian and foreign museums and art galleries preserved photographs of Nautiyal ,
  Nautiyal is always remembered for his photography of Himalayan geographical beauty. He did many experiments to get life in his photography. His work ‘Ghasiyari’ is remarkable piece of photographic genius, In this work , Shiva Nand Nautiyal  showed the stanzas of famous folk song ‘ he Unchi Dandyun Tum Nisi hwe Jawa ‘.
Ref: Garhwal Chitr Shaili ke Unnayak , Barrister Mukaandi Lal smriti Granth
  Copyright Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,400
  • Karma: +22/-1
Artists of Uttarakhand
Art , Artists, Art historians and critics of Garhwal and Kumaun
Himalayan art
      Mahima Krishn Semwal A fine Sculptor
                        Bhishma Kukreti
   Mahima Krishn Semwal was born in village Kot, Patti Bangar, Tihri Garhwal in 1928 . Semwal is seems to be a born sculptor.
   Mahima K Semwal  have already made more than two thousands of sculptures by carving stones or by  cement and stone. The sculptures of Mahima Krishn ranges from human portrait, animal portrait and idols of deities. The sculptures of Semwal are put in various public places of Garhwal and Kumaun regions
  Semwal got appreciations  from various groups and specially common man. Semwal will always be remembered for his teaching sculpturing science in rural areas of Garhwal-Kumaun.
Ref: Garhwal Ki Jeewit Bibhutiyan aur Garhwal ka Vaishisthya
Copyright@ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,400
  • Karma: +22/-1
Top Most Fine Artists of India
Artists  of Uttarakhand
Art, Artists, Art Historians and Critics of Garhwal and Kumaun
Himalayan Art
                Avtar Singh Panwar : One of the Greatest Sculptors of India
                                        Bhishma Kukreti
                      Late Avtar Singh Panwar is said to be one of the top most four Sculptors of India . Avtar Singh Panwar is also said to be one of the finest sculptors of world and Panwar got appreciations from all corners of the earth.
     Late Avtar singh Panwar was born in Dhanyo village of Lasya Patti of Tihri Garhwal, Uttarakhand , on 14 th January 1929 .
    After getting education from Tihri, Mossurie, and Dehradun,  he passed his graduation in Arts and Crafts from  Shanti Niketan where he came in contact with world famous artists as Nand Lal Bose.
    Avtar singh panwar contributed his art expertise in many fields for decoration of Congress Conferences of Lake city and Kalyani; Constitution of India, Shaheed Bhawan jaipur, and life sketches of Mahatma Gandhi on wall at Birla Bhawan Delhi.
            Avtar singh Panwar created sculptor portraits of hundred of great personalities of world as Mother Teresa, Badsha Khan, Indira Gandhi, N T Ramarao, Mahadevi Verma, Sunil Gavaskar, Amitabh Bacchan, Chandra singh Garhwali, Mukandi Lal Barrister, lalita Prasad Naithani, guru Taigore
  Avtar singh panwar exhibited his sculptors and other fine arts in tens of places as Mahballipuram, Varansi, Gwalior, Mysore, Delhi, Khujraho, Jammu-Kashmir, Baroda, Hong Kong, , Bangkok, Japan and many other places. His created sculptors are established at many prominent public places of India and abroad including Tihri, Pauri, Kotdwara.
  Panwar was a prominent and born trainer of art and he was called a Mobile Art Trainer of India.
  Tens of art lovers and critics appreciated his art skill as Hajari  Prasad Dwivedi, banarasi das, Dr Radhakamal Mukharjee, Nand Lal Bose
 Various organizations, art institutions awarded and honored Avtar singh Panwar
 Pnawar was also aart critics and art historians who wrote tens of articles on art and artists
  He had been head of department of art with Lucknow University.
Copyright @ Bhishma Kukreti, bckukreti@ggmail.com


     

 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 17,400
  • Karma: +22/-1
Art, Artists and Art Historians of Garhwal , Kumaun
Artists of Uttarakhand
Himalayan Art
Shrimati Sarla Raman : A historian and Critics of Garhwali Art
                   Bhishma Kukreti
 
 Sarla was born in 1926. After passing degree from Prayag sangeet Sabha, M.A from Agra University, Sarla Raman did pass .M A in Art and Crafts from Meerut University.
       Sarla Raman did Ph.D on the theme “ Garhwal me Lalit Kala : ek Shastriy Adhyan “ from Garhwal University in 1981
             Sarla Raman exhibited her art works in many cities and centers.  Sarla had been teaching art in D A V College Dehradun till her  retirement
    Sarala Raman  wrote and published many articles on art specially Garhwali arts and artists
         Sarla Raman is wife of famous artist Ranveer Saxena
  Sarla Raman helped dr Bhakt Darshan in collecting data of artists of Garhwal for a memorable book  Garhwal ki Chitrshaili ke Barrister Mukandi Lal  .
Copyright Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com



lalit.pilakhwal

  • Newbie
  • *
  • Posts: 19
  • Karma: +4/-0
कन्हैयालाल डडरियाल
जन्म - ११-नवम्बर-१९३३
ग्राम -नैनी पट्टी-मवालास्यु
पौढ़ी गढ़वाल उत्तराखंड

एक कवि,साहित्यकार,और एक लेखक
 
प्रकाशित रचनाये             
" मंगतू " खंडकाव्य- १९६०
"अज्वाल" कविता संग़ाहे (भाग- १-२) - १९६७-२००४
"कुयेडी" गीत संग़ाहे -   १९९०
"नागराजा" महाकाव्य (भाग - १-२-३-४) -१९९३-१९९९-२००९

अनेक नाटक ,उपन्यास,खंडकाव्य,कविताये
 
कन्हैयालाल डडरियाल जी ने लिखी है
 
         
 

विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
विकास के लिए संघर्षशील रहे शोबन सिंह जीना



कुमाऊं में शिक्षा के प्रचार-प्रसार, ग्रामीण समस्याओं के निराकण तथा समाज में व्याप्त कुरीतियों, कुप्रथाओं को दूर करने तथा लोगों के सामाजिक स्तर को ऊपर उठाने के लिए शोबन सिंह जीना हमेशा प्रयासरत रहे। अल्मोड़ा के ग्राम सुनौली में 4 अगस्त 1909 को कृषक परिवार में जन्मे शोबन सिंह जीना ने प्रारंभिक शिक्षा अल्मोड़ा में ग्रहण करने के बाद नैनीताल से हाईस्कूल किया तथा इंटर अल्मोड़ा से कर बीए एवं एलएलबी की परीक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय से उत्तीर्ण की। इसके बाद उन्होंने अल्मोड़ा में वकालत प्रारंभ की। वह 1936 में जिला परिषद शिक्षा समिति, अल्मोड़ा के अध्यक्ष निर्वाचित हुए। इस पद पर रहते हुए उन्होंने जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में नये विद्यालय स्थापित करने में अहम भूमिका निभाई। सन् 1954 में अल्मोड़ा में भारतीय जनसंघ की स्थापना हुई जिसमें उनकी अग्रणी भूमिका रही तथा वह दीर्घकाल तक भारतीय जनसंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष भी रहे। भाजपा के शीर्ष नेताओं की पंक्ति में शामिल शोबन सिंह जीना आरंभ से ही पृथक पर्वतीय राज्य के पक्षधर रहे। सन् 1988 में उन्होंने अल्मोड़ा में राष्ट्रीय संगठनों के कार्यकर्ताओं के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि यदि उत्तरांचल का विकास करना है तो यहां के निवासियों को स्वाभिमान के साथ अपने अधिकारों की रक्षा करनी है तो उसके लिए पृथक उत्तरांचल राज्य की स्थापना अपरिहार्य है। इस निमित्त हमें संघर्ष करना होगा। इस मांग को लेकर उन्होंने 1989 में अल्मोड़ा में जुलूस निकाला तथा इसके लिए आयोजित जनसभा में भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी उपस्थित रहे थे। शोबन सिंह जीना अल्मोड़ा के विधायक बनने के बाद सन् 1977 से 1979 तक उत्तर प्रदेश के पर्वतीय विकास मंत्री भी रहे। इस अवधि के दौरान उन्होंने पर्वतीय क्षेत्र के विकास के लिए अनेक विद्यालय, चिकित्सालय स्थापित कराने के साथ अनेक पुलों, मोटर मार्गों, पेयजल व पर्यटन संबंधी योजनाओं के क्रियान्वयन तथा पर्वतीय भत्ता आदि को साकार रूप दिया। सन् 1979 में मंत्री पद से त्याग देने के पश्चात भी श्री जीना पृथक पर्वतीय राज्य के पक्षधर होने के कारण उत्तरांचल की राजनीति में सक्रिय रहे। वह संघर्ष और समस्याओं को उठाने में कभी पीछे नहीं रहे, इसी की का परिणाम था कि 1975 के आपातकाल के दौरान उन्हें जेल की यात्रा करनी पड़ी। व्यक्तित्व बहुआयामी के धनी शोबन सिंह जीना का जब दो अक्तूबर 1989 को निधन हुआ तो लोगों इस दुखद समाचार को सुनकर हतप्रभ रह गए। शोबन सिंह जीना द्वारा विकास के क्षेत्र में किए उल्लेखनीय कार्यों को कभी नहीं भुलाया जा सकता। उनकी रिक्तता प्रदेश की जनता को सदैव सालती रहेगी।

साभार : अमर उजाला


विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
पं. नैन सिंह रावत ने मध्य एशिया का बनाया था अद्भुत मानचित्र
कदमों से नापे थे हजारों मील



पंडित नैन सिंह रावत की गिनती उन भारतीयों में की जाती है जिन्होंने अपनी विलक्षण प्रतिभा से अंग्रेजों को अपना कायल बना दिया था। पढ़े लिखे न होने के बावजूद पंडित नैन सिंह रावत अंग्रेजों की नजरों में किसी शिक्षाविद् से कम न थे। अपनी अद्भुत इच्छाशक्ति के दम पर 19वीं शताब्दी के इस महान अन्वेषक ने पैदल 13 हजार मील से अधिक दूरी तय कर मध्य एशिया का कालजयी मानचित्र तैयार किया था।
21 अक्टूबर 1830 में उत्तराखंड के सुदूरवर्ती मिलम गांव के एक गरीब लाटा बूढ़ा के घर जन्मे पंडित नैन सिंह रावत ने किताबों से नहीं बल्कि अनुभव से शिक्षा प्राप्त की। आर्थिक तंगी के चलते 1852 में घर छोड़कर व्यापार शुरू कर दिया। व्यापार के सिलसिले में कई बार तिब्बत गए जहां उनकी मुलाकात यूरोपीय लोगों से होती रही। इन्हीं से उन्होंने जीवन की असल शिक्षा ली। उन्हें तिब्बती, हिन्दी, अंग्रेजी और फारसी का अच्छा ज्ञान था। 1855 में रॉयल जियोग्राफिकल सर्वे ऑफ लंदन ने उन्हें मध्य हिमालय के पूर्ण सर्वे का जिम्मा सौंपा। उनकी प्रतिभा को देखते हुए अंग्रेजों ने उन्हें चीफ पंडित के विशेष नाम से नवाजा। पंडित नैन सिंह ने 1855 से 1865 के बीच पैदल कुमाऊं से काठमांडू, मध्य एशिया से ठोक-ज्यालुंग और यारकंद खोतान की तीन जोखिम भरी यात्राएं की। केवल कंपास, बैरोमीटर और थर्मामीटर की मदद से उन्होंने संपूर्ण मध्य एशिया का विज्ञान और भूगोल से जुड़ा मानचित्र तैयार कर दिया। इस मानचित्र ने आधुनिक युग में न केवल भारतीय उप महाद्वीप बल्कि मध्य एशिया में विज्ञान से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को समझने में बड़ी भूमिका अदा की। 1895 में इस विलक्षण व्यक्तित्व ने संसार को अलविदा कह दिया।


नैनीताल। पंडित नैन सिंह रावत के जीवन पर एशिया की पीठ पर किताब लिखने वाली डीएसबी परिसर हिन्दी विभाग की वरिष्ठ प्राध्यापिका प्रो.उमा भट्ट बताती हैं कि नैन सिंह ने मानचित्र में दूरी की गणना अपने कदमों से की थी। वह 33 इंच का कदम रखते और 2 हजार कदमों को एक मील मानते थे। इसके लिए उन्होंने 100 मनकों की माला का प्रयोग किया। वह 100 कदम चलने पर एक मनका गिरा देते थे। पूरी माला जपने तक 10 हजार कदम यानी 5 मील तय हो जाते थे।

श्रोत : अमर उजाला

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
मां की प्रेरणा से सच हुआ सपना




    पहाड़ के गांव की साधारण लड़की, आज देश के प्रतिष्ठित संस्थान में वैज्ञानिक है। अंतरिक्ष की दूरियां नापती यह लड़की है हिमानी बहुगुणा। शिक्षिका मां ने बेटी का सपना सच करने के लिए दिन रात एक किया और सफलता हिमानी की झोली में आ गिरी।


26 वर्ष की उम्र में अंतरिक्ष उपयोग केंद्र हैदराबाद में तैनात पहाड़ की बेटी हिमानी अपनी सफलता के लिए अपनी मां की प्रेरणा और पिता के सहयोग को श्रेय देती है। मदर्स डे पर हिमानी हैदराबाद में है और इस खास मौके पर मां को बहुत मिस कर रही हैं।


चंबा विकास खंड के साबली गांव में जन्मी हिमानी बहुगुणा बचपन से वैज्ञानिक बनने का ख्वाब देखती थी। प्रारंभिक शिक्षा सरकारी स्कूल में हुई। 2001 में राजकीय बालिका इंटर कॉलेज चंबा से हाईस्कूल किया और इसके बाद एमकेपी कालेज देहरादून से इंटरमीडिएट। गोविन्द बल्लभ पंत घुड़दौड़ी से इलेक्ट्रोनिक्स में बीटेक  कर राज्य में 21 वां स्थान प्राप्त किया।


बीईटी की परीक्षा में देशभर में 81वां स्थान प्राप्त किया। इसके बाद दो ंवर्ष तक बीएसएनएल में जेटीओ के पद पर कार्य किया। 2010 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की परीक्षा उत्तीर्ण की और वैज्ञानिक बन बचपन का सपना साकार किया। हिमानी वर्तमान में अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र अहमदाबाद में कार्यरत है। वह राज्य की एकमात्र लड़की है जो इसरो में वैज्ञानिक है।
मां की लाडली हिमानी
हिमानी की मां राजेश्वरी बहुगुणा शिक्षिका हैं और पिता रमेश बहुगुणा समाज कल्याण विभाग में एडीओ। उनका कहना है कि हिमानी बहुगुणा वक्त किताबों में डूबी रहती थी। उसका बचपन से सपना था कि वैज्ञानिक बने। वे चाहते थे कि हिमानी सिविल सेवा में जाए, लेकिन वह वैज्ञानिक बनना चाहती है। हिमानी मां की लाडली हैं और उनके सपने को सच करने में मां ने अहम भूमिका निभाई।

'बचपन से सपना था कि वैज्ञानिक बनकर कुछ नया करूं। पिता चाहते थे कि सिविल सेवा में जाकर नाम कमाऊं। मां ने उन्हें समझाया कि जो मै बनना चाहती हूं, वही बनुं। बचपन से विज्ञान ही प्रिय विषय था। मां ने हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा दी, आज उनके मार्गदर्शन और सहयोग के कारण ही यहां तक पहुंच पाई। मदर्स डे पर उनको ढेर सारा प्यार'
हिमानी बहुगुणा
   
http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_9245029.html

Hisalu

  • Administrator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 337
  • Karma: +2/-0

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22