Author Topic: Personalities of Uttarakhand/उत्तराखण्ड की प्रसिद्ध/महान विभूतियां  (Read 125461 times)

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #80 on: December 13, 2007, 02:24:52 PM »
पंकज दा बडोनी जी की दुर्लभ फोटोज उपलब्ध कराने के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद......

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #81 on: December 13, 2007, 03:53:39 PM »

Mahar Da,

Very goo d and exlusive information you have provided.

thanx.

उत्तराखण्ड के गांधी: स्व० इन्द्रमणि बड़ोनी जी

मेरा पहाड़ / Mera Pahad

  • Administrator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 333
  • Karma: +3/-1
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #82 on: December 13, 2007, 04:14:14 PM »
Wah Mahar ji +1 karma is exclusive photo ke liye.

आन्दोलनकारियों के साथ बड़ोनी जी

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #83 on: December 18, 2007, 02:22:09 PM »
सुन्दरलाल बहुगुणा

चिपको आन्दोलन के प्रणेता सुन्दरलाल बहुगुणा का जन्म ९ जनवरी, सन १९२७ को देवों की भूमि उत्तराखंड के सिलयारा नामक स्थान पर हुआ । प्राथमिक शिक्षा के बाद वे लाहौर चले गए और वहीं से बी.ए. किए ।

सन १९४९ में मीराबेन व ठक्कर बाप्पा के सम्पर्क में आने के बाद ये दलित वर्ग के विद्यार्थियों के उत्थान के लिए प्रयासरत हो गए तथा उनके लिए टिहरी में ठक्कर बाप्पा होस्टल की स्थापना भी किए । दलितों को मंदिर प्रवेश का अधिकार दिलाने के लिए उन्होंने आन्दोलन छेड़ दिया ।

अपनी पत्नी श्रीमती विमला नौटियाल के सहयोग से इन्होंने सिलयारा में ही 'पर्वतीय नवजीवन मण्डल' की स्थापना भी की । सन १९७१ में शराब की दुकानों को खोलने से रोकने के लिए सुन्दरलाल बहुगुणा ने सोलह दिन तक अनशन किया। चिपको आन्दोलन के कारण वे विश्वभर में वृक्षमित्र के नाम से प्रसिद्ध हो गए ।

बहुगुणा के 'चिपको आन्दोलन' का घोषवाक्य है-

   क्या हैं जंगल के उपकार, मिट्टी, पानी और बयार ।
   मिट्टी, पानी और बयार, जिन्दा रहने के आधार ।

सुन्दरलाल बहुगुणा के अनुसार पेड़ों को काटने की अपेक्षा उन्हें लगाना अति महत्वपूर्ण है ।बहुगुणा के कार्यों से प्रभावित होकर अमेरिका की फ्रेंड आफ नेचर नामक संस्था ने १९८० में इनको पुरस्कृत भी किया । इसके अलावा उन्हें कई सारे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया ।

पर्यावरण को स्थाई सम्पति माननेवाला यह महापुरुष आज 'पर्यावरण गाँधी' बन गया है ।

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #84 on: December 20, 2007, 02:30:10 PM »
लोहाघाट (चंपावत)। देश की आजादी की पहली लड़ाई में काली कुमाऊं की अहम भूमिका रही है। यहां से अंग्रेजी हुकुमत के खिलाफ उठा विरोध का स्वर भले ही अंजाम तक न पहुंचा हो, लेकिन ब्रिटिश हुकूमत की चूलें हिलाने देने वाले इस विद्रोह ने पूरी क्रांति नया रंग दे दिया और इसी क्रांति के चलते काली कुमाऊं के महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने अपनी जान देश के लिए न्यौछावर कर दी।
   काली कुमाऊं में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बगावत का झंडा कालू सिंह महरा ने बुलंद किया। उन्होंने पहले स्वतंत्रता संग्राम में काली कुमाऊं के लोगों की मंशा को भी विद्रोह के जरिए जाहिर करावा दिया। हालांकि इसकी कुर्बानी उन्हे स्वयं तो चुकानी ही पड़ी साथ ही उनके दो विश्वस्त मित्र आनंद सिंह फत्र्याल व विशन सिंह करायत को अंग्रेजों ने लोहाघाट के चांदमारी में गोली से उड़वा दिया।
   आजादी की पहली लड़ाई में काली कुमाऊं में हुआ गदर आज भी इतिहास के पन्नों में दर्ज है। यहां कालू सिंह महरा के नेतृत्व में अंग्रेजों के खिलाफ हुई बगावत ने ब्रिटिश हुकूमत की चूलें हिला कर रख दी थी। सिर्फ कालू महरा ही नहीं बल्कि आनंद सिंह फत्र्याल और बिशन सिंह करायत ने भी अपने प्राणों की आहुति दी। कालू सिंह महरा का जन्म लोहाघाट के नजदीकी गांव थुआमहरा में 1831 में हुआ। कालू सिंह महरा ने अपने युवा अवस्था में ही अंग्रेजों के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद किया। इसके पीछे मुख्य कारण रूहेला के नबाव खानबहादुर खान, टिहरी नरेश और अवध नरेश द्वारा अंग्रेजों के खिलाफ बगावत के लिए पूर्ण सहयोग सशर्त देने का वायदा था। इसके बाद कालू माहरा ने चौड़ापित्ता के बोरा, रैघों के बैडवाल, रौलमेल के लडवाल, चकोट के क्वाल, धौनी, मौनी, करायत, देव, बोरा, फत्र्याल आदि लोगों के साथ बगावत शुरू कर दी और इसकी जिम्मेदारी सेनापति के रूप में कालू माहरा को दे दी गई। पहला आक्रमण लोहाघाट के चांदमारी में स्थिति अंग्रेजों की बैरेंकों पर किया गया। आक्रमण से हताहत अंग्रेज वहां से भाग खड़े हुए और आजादी के दिवानों ने बैरोंकों को आग के हवाले कर दिया।
   पहली सफलता के बाद नैनीताल और अल्मोड़ा से आगे बढ़ रही अंग्रेज सैनिकों को रोकने के लिए पूरे काली कुमाऊं में जंग-ए-आजादी का अभियान शुरू हुआ। इसके लिए पूर्व निर्धारित शर्तो के अनुरूप पूरे अभियान को तीनों नवाबों द्वारा सहयोग दिया जा रहा था। आजादी की सेना बस्तिया की ओर बढ़ी, लेकिन अमोड़ी के नजदीक क्वैराला नदी के तट पर बसे किरमौली गांव में गुप्त छुपाए गए धन, अस्त्र-शस्त्र को स्थानीय लोगों की मुखबिरी पर अंग्रेजों ने अपने कब्जे में ले लिया और काली कुमाऊं से शुरू हुआ आजादी का यह अभियान बस्तिया में टूट गया। परिणाम यह हुआ कि कालू माहरा को जेल में डाल दिया गया, जबकि उनके नजदीकी सहयोगी आनंद सिंह फत्र्याल एवं बिशन सिंह करायत को लोहाघाट के चांदमारी में अंग्रेजों ने गोली से उड़ा दिया।
   अंग्रेजों का कहर इसके बाद भी खत्म नहीं हुआ और अस्सी साल बाद 1937 तक काली कुमाऊं से एक भी व्यक्ति की नियुक्त सेना में नहीं की गई। इतना ही नहीं अंग्रेजों ने यहां के तमाम विकास कार्य रुकवा दिए और कालू माहरा के घर पर धावा बोलकर उसे आग के हवाले कर दिया। यह पूरा संघर्ष 150 साल पहले काली कुमाऊं के लोहाघाट क्षेत्र से शुरू हुआ और आज इसी याद को ताजा करने यहां के लोगों ने अपने अमर शहीदों की माटी को दिल्ली के लिए रवाना किया।

सौजन्य से- [Dainik Jagran,Thursday, May 10, 2007]

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #85 on: December 20, 2007, 03:46:40 PM »
Shri D. R. Singh Seepal   - The Renowned Sculptor

Shri D.R. Singh Seepal is renowned sculptor of Uttaranchal whose presence in the field of sculptor is being felt in the idols and statues of various great personalities that have been carved by him and put in different important premises of Uttaranchal and Uttar Pradesh. In recognition of his contribution and achievement in the field of art and sculpture the Government of Uttar Pradesh nominated Sri Seepal as a member of State Lalit Kala Academy in the year 1991-92. Also, the department of culture, Government of Uttar Pradesh had nominated him in the state panel of Sculptor in 19993 followed by the panel of “Experts Sculptor” in the year 2002. After creation of Uttaranchal Sri Seepal’s horizon of creativity spread all over the newly carved State also and as a result he was felicited by the veteran leader and the Chief Minister of Uttaranchal Honourable Sri Narayan Dutt Tiwari in 2002 on the occasion of unveiling ceremony of 9 feet long bronze statue of late Indramani Badoni (the pioneer of Uttaranchal State Movement) created by Sri Seepal.

Born on 4th of April, 1958 in a tribal family of father Sri Dalip Singh Seepal, Sri D.R. Singh Seepal hails from the last village namely “Seepu” situated on the Indo-Tibet border in Darma Valley of Tehsil Dharchula, District Pithoragarh in Uttaranchal. Sri Seepal was thus raised and nurtured in the Lap of pristine beauty of nature. Rich tribal folk cultural heritage was in his veins and he had a great love and fascination since childhood for the beautiful range of Panchachuli which was always there to inspire child D.R.’s dream as a sculptor. In his remote village there were no opportunities of learning and he had to travel almost 50 kms on foot to reach Dharchula to enroll in high school, but the impulse of a sculptor urged him travel on the road to success despite all adverse circumstances. He, on his own started making small idols depicting local tribal culture and ritual by using husk of mustard as a raw material which was easily available in the village. With the passages of time the creative and imaginative skill of Sri Seepal propelled his innate talent and he became popular in the area as “DR-Kalakar”.

After doing the secondary education from the home district, Sri Seepal’s passion for art and sculpture brought him to Ruhelkhand University Barielly for higher education, where he did his post graduation in Fine Arts in first division and also with second position in University. While doing graduation the renowned artist Sri R.S. Bisht had visited the University as an examiner and after evaluating Sri Seepal’s creative art, had forecasted for his earning laurels in the field of art in the years to come. During post graduation he completed research project on “Folk Art of Kumaon (Shauka Tribe)”. After completing post graduation, Sri Seepal landed in Lucknow in search of an employment. There he organised a solo-exhibition of his sculptures in the year 1981 which was highly appreciated by the renowned sculptor Sri Avtar Singh Panwar. Sri Panwar advised him to enroll in art college Lucknow but adverse financial circumstances did not allow him to follow this noble advice. However, Sri Seepal got opportunity to display his talent in sculpture under Sri Avtar Singh Panwar also.

Sri Seepal was a painter by training but the limitations of this medium, particularly in respect of touch, ultimately urged him to be a sculpture where he could have a feel of his creativity by touching whatever he created. This transition from painting to sculptor brought about a remarkable transformation in Sri Seepal and thus he was able to combine the delicacy of painting with solidity and substance of sculpture. As result, Sri Seepal is now peerless in the art of manifestation of portraits with his creativity and imagination skill. The statues and idols with cement concrete, bronze and marble carved by Sri Seepal are so vivid and that always give lively effect to the spectators
.


साभार : rungmung.net

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #86 on: December 20, 2007, 03:48:45 PM »
A few worth-mentioning creations by seepal jee in Uttar Pradesh as well as Uttaranchal to the credits of this worthy sculptor included;

In Uttar Pradesh

1. 60 ft. X 7ft. replica and tableau of freedom struggle in Sharda Garden at Lucknow.

2. 18 ft. high statue of Gautam Budha at Ambedkar Sodh Sansthan, Lucknow.

3. 12 ft. high bronze statue of Maharana Pratap at Lucknow.

4. 9 ft. high bronze statue of Dr. Ram Manohar Lohia at Lohia Trust, Lucknow.

5. 9 ft. high bronze statue of Dr. Ram Manohar Lohia at Awadh University Faizabad.

6. 9 ft. high bronze statue of Chaudhury Charan Singh at Meerut.

7. 9 ft. high cement statue of Chaudhury Charan Singh at Saharanpur.

8. 9 ft. high cement statue of Chaudhury Charan Singh at Sardhana, Meerut.

9. 9 ft. high cement statue of late Brahama Dutta at Farukhabad.

10. 7 ft. high bronze statue of Lal Bahadur Shashtri at Annexy, Lucknow.

11. 7 ft. high statue of Mahatma Gandhi at Shahjahanpur.

12. 7 ft. high marble statue of Sahuji Maharaj, Ambedker Sodh Sansthan, Lucknow.

13. 7 ft. high marble statue of Jyotiba Fule, at Ambedker Sodh Sansthan, Lucknow.

14. 7 ft. high marble statue of Narayan Guru, at Ambedkar Sodh Sansthan, Lucknow.

15. 7 ft. high marble statue of Kabirdas at Ambedkar Sodh Sansthan, Lucknow.

16. 5 ft. high statue of Sant Ravidas at Shahjahanpur.

17. 3 ft. high cement statue of Pandit jawahar Lal Neharu at neharu Yuva Kendra.

18. 3 ft. high statue of Sardar Ballabh Bhai Patel at Shahjahanpur.

19. 3 ft. high statue of Dr. Bhimrao Ambedkar at Shahjahanpur.

20. Statue of martyr Sheshnath Singh at Gajipur.

21. Statue of martyr Ishtiyar Khan, Gajipur.

22. 2 ft. high statue of Maharana Pratap at Civil Lines, Allahabad. ***

23. Statue of Bhimrao Ambedkar, Ambedkar Sodh Sansthan, lucknow.

24. Sand stone statue of Gautam Budha at Kushinagar.


In Uttaranchal

1. 12 ft. high statue of Maharana Pratap at Dehradun

2. 9 ft. high statue of late Indramanai Badoni at Dehradun.

3. 9 ft. high cement statue of Thakur Dev Singh Bisht in DSB Campus of Nainital University.

4. 9 ft. high cement statue of Jesus Christ at Pithoragarh.

5. 9 ft. high bronze statue of Swami Ramteerth at Tehari Garhwal.

6. 9 ft. high statue of Shoban Singh Jeena at Jeena Campus, Kumaon University.

7. 7 ft. high statue of Ravindra Nath Tagore at Government Degree College, Pithoragarh.

8. 7 ft. high bronze statue of Victor Mohan Joshi at Almora.

9. Mascot for All India Winter Sports Meet at Auli, Joshimath.

10. Two grand statues at Nainital Club.

11. 3ft. high bronze statue of late Baldev Singh Arya at Dugadda, Pauri Garhwal.

12. Statue at Government Inter College, Dharchula.


Sri Seepal richly deserve the national awards like Padma Shri for having transcended the limitation of his social background and mainstreamed his innate skills and talent as a sculptor of repute and consistency in excellence.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #87 on: April 17, 2008, 12:37:52 PM »
डॉक्टर डी. डी. पंत  (आप रौशनी हैं हमारे लिए)


यह वाकया उस जमाने का है, जब देश को आजादी मिली ही थी। हिमालय के दूर-दराज गांव के अत्यंत विपन्न परिवार का एक छात्र नोबेल विजेता और महान भौतिकविद सर सी.वी. रमन की प्रयोगशाला (रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट, बेंगलूर) में अपना शोधकार्य समेट रहा था। घर की माली हालत बेहद खराब थी। रमन साहब ने उसे भारतीय मौसम विभाग की शानदार नौकरी कर लेने का सुझाव दिया। गांधी को अपना आदर्श मानने वाले छात्र को निर्देशक का प्रस्ताव कुछ जंचा नहीं- मैं आपकी तरह शिक्षक बनना चाहता हूं। रमन साहब हंस पड़े, बोले- तब तुम जीवन भर गरीब और उपेक्षित ही रहोगे।


रमन साहब की बात सचमुच सही साबित हुई। हजारों छात्रों के लिए सफलता की राह तैयार करने वाले प्रो. देवी दत्त पन्त अपने जीवन की संध्या में आज भी लगभग गुमनाम और उपेक्षित हैं। बीती सदी के पांचवें दशक में जब नैनीताल में डीएसबी कालेज की स्थापना हुई तो प्रो. पन्त भौतिकविज्ञान विभाग का अध्यक्ष पद संभालने आगरा कालेज से यहां पहुंचे। वह स्पेक्ट्रोस्कोपी के आदमी थे और उन्होंने यहां फोटोफिजिक्स लैब की बुनियाद डाली। जाने-माने भौतिकशास्त्री और इप्टा (इंडियन फिजिक्स टीचर्स ऐसोसिएशन) के संस्थापक डी.पी. खण्डेलवाल उनके पहले शोधछात्र बने। उस जमाने में शोध को आर्थिक मदद देने वाली संस्थाएं नहीं थीं। दूसरे विश्वयुद्ध के टूटे-फूटे उपकरण कबाडि़यों के पास मिल जाया करते थे और पन्त साहब अपने मतलब के पुर्जे वहां जाकर जुटा लेते थे। कबाड़ के जुगाड़ से लैब का पहला टाइम डोमेन स्पेक्ट्रोमीटर तैयार हुआ। इस उपकरण की मदद से पन्त और खण्डेलवाल की जोड़ी ने अपने जीवन का सबसे महत्वपूर्ण शोधकार्य किया। यूरेनियम के लवणों की स्पेक्ट्रोस्कोपी पर हुए इस शोध ने देश-विदेश में धूम मचाई। इस विषय पर लिखी गई अब तक की सबसे चर्चित पुस्तक (फोटोकैमिस्ट्री ऑफ यूरेनाइल कंपाउंड्स, ले. राबिनोविच एवं बैडफोर्ड) में पन्त और खण्डेलवाल के काम का दर्जनों बार उल्लेख हुआ है। शोध की चर्चा अफवाहों की शक्ल में वैज्ञानिक बिरादरी से बाहर पहुंची। आज भी जिक्र छिड़ने पर पुराने लोग बताते हैं- प्रो. पन्त ने तब एक नई किरण की खोज की थी, जिसे `पन्त रे´ नाम दिया गया। इस मान्यता को युरेनियम लवणों पर उनके शोध का लोकfप्रय तर्जुमा कहना ठीक होगा।

कुछ समय बाद प्रो. पन्त डीएसबी कालेज के प्रिंसिपल बना दिए गए। उनके कार्यकाल को डीएसबी का स्वर्णयुग माना जाता है। न केवल कालेज के पठन-पाठन का स्तर नई ऊंचाइयों तक पहुंचा बल्कि प्रो. पन्त की पहल पर छात्रों के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अलग से कक्षाएं लगने लगीं। एक बेहद पिछड़े पहाड़ी इलाके के लिए इस पहल का खास अर्थ था। उस जमाने में शहरों में पहुंचने वाले किसी पहाड़ी नौजवान की पहली छवि अमूमन ईमानदार घरेलू नौकर की होती थी। पहाड़ की जवानी मैदान के ढाबों में बर्तन धोते या फिर सीमा पर पहरेदारी करते बीतती थी। ऊंची नौकरियों में इक्का-दुक्का भाग्यशाली ही पहुंच पाते थे। प्रो। पन्त के बनाए माहौल ने गरीब घरों के सैकड़ों छात्रों को देश-विदेश में नाम कमाने लायक बनाया। उस जमाने के जाने कितने छात्र आज भी अपनी सफलता का श्रेय देते हुए उन्हें श्रद्धापूर्वक याद करते हैं।


बाद में प्रो. पन्त उत्तर प्रदेश के शिक्षा निदेशक और कुमाऊं विश्वविद्यालय की स्थापना होने पर इसके पहले वाइस चांसलर बने। इस विश्वविद्यालय के साथ उनके सपने जुड़े थे। कुमाऊं व गढ़वाल विश्वविद्यालयों की स्थापना भारी राजनीतिक दबाव में एक साथ की गई थी। राज्य सरकार ने इन्हें खोलने की घोषणा तो कर दी लेकिन संसाधनों के नाम पर ठेंगा दिखा दिया। प्रो. पन्त इसे नामी-गिरामी विश्वविद्यालयों की कतार में लाना चाहते थे। इसलिए जब-जब कोई अपनी हैसियत की आड़ में विश्वविद्यालय को समेटने की कोशिश करता, वह पूरी ताकत से प्रतिरोध करते। तत्कालीन गवर्नर (और कुलाधिपति) एम् चेन्ना रेड्डी से प्रो. पन्त की ऐतिहासिक भिड़ंत को कौन भुला सकता है! एम् चेन्ना रेड्डी अपने किसी खासमखास ज्योतिषी को मानद डाक्टरेट दिलवाना चाहते थे। प्रो. पन्त के कुलपति रहते यह कैसे संभव था! वह अड़े और अंतत: जब बात बनती नजर नहीं आयी तो इस्तीफा देकर बाहर निकल आए। प्रो. पन्त के इस्तीफे की भारी प्रतिक्रिया हुई। लोग सड़कों पर उतर आए और अंतत: गवर्नर को झुकना पड़ा। पन्त साहब ने वापस वीसी की कुर्सी संभाली।


प्रशासनिक जिम्मेदारियों से मुक्त होने के बाद प्रो. पन्त अपनी लैब में वापस लौट आए और रिसर्च में जुट गए। दूसरी प्रयोगशालाओं और शोध निर्देशकों से कई मायनों में प्रो. पन्त बिलकुल अलक थे। लैब की नियमित बातचीत में नए शोधछात्रों के बचकाने तर्कों को भी वह बड़ी गंभीरता से सुनते और उनकी कमजोरियों को दूर करते। उनकी मेज के सामने लगे बोर्ड पर छात्र बारी-बारी से अपनी प्रॉब्लम पर चर्चा करते और अंत में प्रो. पन्त खुद उठकर बोर्ड के सामने पहुंच जाते। वैज्ञानिक दृष्टि के बुनियादी मूल्य भाषणों के बजाय उनके व्यवहार से छात्रों को मिलते थे। एक बार अपने एक प्रतिभाशाली छात्र (डा. प्रेम बल्लभ बिष्ट, जो अब आईआईटी मद्रास में प्रोफेसर हैं) के शोधपत्र में दिए गए विश्लेषण से वह संतुष्ट नहीं हो पा रहे थे। बिष्ट भी अपने तर्कों से समझौता करने को तैयार नहीं थे। अंत में प्रो. पन्त ने बेहद विनम्रता से कहा- तुम्हारी बात में दम है, हालांकि मैं इससे सहमत नहीं हूं। अब ऐसा करो, मेरा नाम लेखकों में शामिल करने के बजाय एकनॉलेजमेंट्स में डालकर पेपर छपने भेज दो। खोखली प्रोफेसरी के वजन से छात्रों को दबाए रखने वाले और ठीकपने की व्याधि से ग्रस्त विश्वविद्यालयी प्राध्यापकों की भीड़ में प्रो. पन्त अलग चमकते थे। उन्होंने माइकल कासा और हर्त्ज्बर्ग जैसे दिग्गज नोबेल विजेताओं के साथ काम किया था। ये दोनों वैज्ञानिक प्रो. पन्त की प्रतिभा के कायल थे और कई वर्षों तक उन्हें अमेरिका आकर काम करने के लिए उकसाते रहे। कासा से उनकी गहरी दोस्ती थी। वह हर साल क्रिसमस के आसपास उनका पत्र प्रो. पन्त की टेबल पर रखा मिलता।


अब तक अलग उत्तराखंड राज्य की मांग उठने लगी थी। प्रो. पन्त `स्मॉल इज ब्यूटीफुल´ के जबर्दस्त मुरीद थे। बड़े प्रदेश की सरकार के साथ उनके अनुभवों ने भी उन्हें छोटे राज्य की अहमियत से वाकिफ कराया और वह उत्तराखण्ड राज्य की मांग के मुखर समर्थक बन गए। इसलिए, जब अलग राज्य के लिए उत्तराखण्ड क्रांति दल का गठन हुआ तो नेतृत्व के लिए प्रो. पन्त के नाम पर भला किसको आपत्ति होती। और इस तरह विज्ञान की सीधी-सच्ची राह से वह राजनीतिक की भूल-भुलैया में निकल आए। उन्होंने यूकेडी के टिकट पर अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ सीट से लोकसभा के लिए चुनाव लड़ा और जमानत जब्त करवाई। शायद पेशेवर घुन्ने नेताओं के सामने लोगों को सीधा-सरल वैज्ञानिक हजम नहीं हुआ। बाद में यूकेडी की अंदरूनी खींचतान और इसके नेताओं की बौनी महत्वाकांक्षाओं से उकता कर प्रो. पन्त ने राजनीति से किनारा कर लिया और एक बार फिर अपनी प्रयोगशाला में लौट आए।.........

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #88 on: April 17, 2008, 12:39:33 PM »
 ........प्रो. पन्त का जन्म 1919 में आज के पिथौरागढ़ जिले के एक दूरस्थ गांव देवराड़ी में हुआ था। प्राथमिक शिक्षा गांव के स्कूल में हुई। पिता अम्बा दत्त वैद्यकी से गुजर-बसर करते थे। बालक देवी की कुशाग्र बुfद्ध गांव में चर्चा का विषय बनी तो पिता के सपनों को भी पंख लगे लगे। किसी तरह पैसे का इंतजाम कर उन्होंने बेटे को कांडा के जूनियर हाईस्कूल और बाद में इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई के लिए अल्मोड़ा भेजा। आजादी की लड़ाई की आंच अल्मोड़ा भी पहुंच चुकी थी। देवी दत्त को नई आबोहवा से और आगे बढ़ने की प्रेरणा मिली।


घर के माली हालात आगे पढ़ने की इजाजत नहीं देते थे। तभी पिता के एक मित्र बैतड़ी (सीमापार पश्चिमी नेपाल का एक जिला) के एक संपन्न परिवार की लड़की का रिश्ता लेकर आए। पिता-पुत्र दोनों को लगा कि शायद यह रिश्ता आगे की पढ़ाई का रास्ता खोल दे। इस तरह इंटरमीडिएट के परीक्षाफल का इंतजार कर रहे देवीदत्त पढ़ाई जारी रखने की आस में दांपत्य जीवन में बंध गए। इंटरमीडिएट के बाद देवी दत्त ने बनारस हिन्दू युनिवर्सिटी में दाखिला लिया। यहां उन्होंने भौतिकविज्ञान में मास्टर्स डिग्री पाई। ख्यातिनाम विभागाध्यक्ष प्रो. आसुंदी को इस प्रतिभाशाली छात्र से बेहद स्नेह था। देवी उन्हीं के निर्देशन में पीएच डी करना चाहते थे। प्रो. आसुंदी ने वजीफे के लिए तत्कालीन वाइस चांसलर डा. राधाकृष्णन से मिलने का सुझाव दिया। पन्त अर्जी लेकर राधाकृष्णन के पास पहुंचे। राधाकृष्णन स्पांडिलाइटिस के कारण आरामकुर्सी पर लेटकर काम करते थे। पन्त की अर्जी देख उनका जायका बिगड़ गया। बोले- आसुंदी आखिर कितने छात्रों को स्कॉलरशिप दिलाना चाहते हैं। हमारे पास अब पैसा नहीं है। निराश देवी दत्त वापस लौट आए। आसुंदी ने उन्हें ढाढ़स बंधाया और बेंगलूर में रमन साहब के पास जाकर रिसर्च करने को कहा। इस तरह देवराड़ी का देवी दत्त महान वैज्ञानिक सर सी.वी. रमन का शिष्य बन गया।
...


नैनाताल परिसर की फोटोफिजिक्स लैब प्रो. के नाम से देश की विज्ञान बिरादरी में जानी जाती है। इस लैब से उन्हें बेहद प्यार था। अपनी आधी-अधूरी आत्मकथा की भूमिका में एक जगह उन्होंने लिखा है कि वह मृत्युपर्यंत लैब के अपने कमरे से जुड़े रहना चाहेंगे। लेकिन नियति को कुछ और मंजूर था। रहस्यमय परिस्थितियों में एक दिन फिजिक्स डिपार्टमेंट का पूरा भवन आग की भेंट चढ़ गया। संभवत: यह फोटोफिजिक्स लैब के अवसान की भी शुरुआत थी। कई वर्षों तक अस्थाई भवन में लैब का अस्तित्व बनाए रखने की कोशिश की गई। बाद में फिजिक्स डिपार्टमेंट के भवन का पुनर्निर्माण हुआ तो फोटोफिजिक्स लैब को भी अपनी पुरानी जगह मिली। लेकिन अब इसका निश्चेत शरीर ही बाकी था, आत्मा तो शायद आग के साथ भस्मीभूत हो गई। प्रो. पन्त का स्वास्थ्य भी अब पहले जैसा नहीं रहा। वह नैनीताल छोड़ हल्द्वानी रहने लगे। इस लैब ने कई ख्यातनाम वैज्ञानिक दिए और कुमाऊं जैसे गुमनाम विश्वविद्यालय की इस साधनहीन प्रयोगशाला ने फोटोफिजिक्स के दिग्गजों के बीच अपनी खास जगह बनाई।


जिस किसी को प्रो. पन्त के साथ काम करने का सौभाग्य मिला, वह उनकी बच्चों जैसी निश्छलता, उनकी बुfद्धमत्ता, ईमानदारी से सनी उनकी खुद्दारी और प्रेम का मुरीद हुए बिना नहीं रहा। निराशा जैसे उनके स्वभाव में है ही नहीं। चाहे वह रिसर्च का काम हो या फिर कोई सामाजिक सरोकार, प्रो. पन्त पहल लेने को उतावले हो जाते। अपने छात्रों को वह अक्सर चुप बैठे रहने पर लताड़ते और आवाज उठाने को कहते। गांधी के विचारों को उनकी जुबान ही नहीं, जीवन में भी पैठे हुए देखा जा सकता है। जो कहते वही करते और ढोंग के लिए कहीं जगह नहीं। उनका जीवन इस बात का प्रमाण है कि अगर आप अपने विचारों पर दृढ़ रहें तो हताशा, निराशा और दु:ख मुश्किल से मुश्किल हालात में भी आपको नहीं घेरेंगे।


बीते 14 अगस्त को प्रो. पन्त 88 वर्ष के हो गए। सेहत ने उन्हें अपने घर तक जरूर बांध दिया है लेकिन आज भी उनमें जिजीविषा की पहले जैसी ज्वाला धधकती है। हमारा समाज उनका रिणी है। गांधी के रास्ते पर चलने वाले प्रो. पन्त का ecology में गहरा विश्वास है। वह अक्सर कहते हैं कि कुदरत muft में कुछ नहीं देती और हर सुविधा की कीमत चुकानी पड़ती है। अपने जीवन में उन्होंने बहुत कम सुविधाएं इस्तेमाल कीं लेकिन बदले में उनकी जरूरत से ज्यादा कीमत चुकाई।

साभार : bugyaal.blogspot.com/

sanjupahari

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 278
  • Karma: +9/-0
Re: Personalities of Uttarakhand
« Reply #89 on: April 22, 2008, 07:22:27 PM »
Jai Prakash Dabral wons the CNN-IBN real heroes award. They have selected 24 people from India from all walks of life to be real heroes/ Check out. its really nice
 
This one video # 11 around 3.16 and video #13 has Jai Prakash Dabral as saviour of environment in Uttaranchal (Chipko Andolan). Check out all 17 videos as are worth seeing.
http://ibnlive.com/videos/63621/04_2008/rh1904_5b/real-heroes-special-big-awards-night-with-real-stars.html

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22