Author Topic: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI - उत्तराखंड के लोगों की उपलब्धियाँ  (Read 68230 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Re: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI PEOPLE & AWARDS
« Reply #40 on: October 31, 2007, 12:42:46 PM »

Chandi Prasad Bhatt

In 2005, he was awarded the Padma Bhushan award by the Government of India.

Chandi Prasad Bhatt (1934-) is an Indian social activist best known for his association with the Chipko Movement

Biography

Bhatt was born on June 23, 1934 and raised in Gopeshwar—a very small village, during his youth. Farmland was scarce in the overpopulated mountains, and so were jobs. Like most men of the mountain villages, Chandi Prasad was eventually forced to work in the plains, becoming a ticket clerk in Rishikesh for the bus company.

Bhatt felt deeply concerned over the plight of the mountain people as a whole, and he often walked through the mountains to talk to the villagers about their problems. Among the most important, of course, were the shortages in farmland and jobs. But added to these were oppressive government policies concerning the forests.

The villagers depended on the forests for firewood, fodder for their cattle, and wood for their houses and farm tools. But the government restricted huge areas of forest from their use, and then auctioned off the trees to lumber companies and industries from the plains—a practice inherited with little change from the British colonialists. Because of these restrictions and an ever-growing population, the mountain women found themselves walking hours each day just to gather firewood and fodder.

In 1956, Bhatt found hope when he heard a speech by the Gandhian leader Jayaprakash Narayan, who was on a tour of the area. Bhatt and other young people launched themselves into the Gandhian campaigns, organizing villages for economic development and fighting liquor abuse throughout the Uttarakhand.

By 1964, Bhatt had instituted the Dasholi Gram Swarajya Mandal (Society for Village Self-Rule) to organize fellow villagers in Gopeshwar for employment near their homes in forest-based industries, making wooden implements from ash trees and gathering and marketing herbs for aryuvedic medicine-and to combat vice and exploitation.

Curtailment of the villagers' legitimate rights to trees and forest products in favor of outside commercial interests enabled Bhatt, in 1973, to mobilize the forest-wise society members and villagers into the collective Chipko Andolan (Hug the Trees Movement) to force revision of forest policies dating from 1917. Women, who regularly walk three to five miles to the forest to gather and carry home fuel and fodder on their backs, took the lead. True to the movement's non-violent philosophy, these women embraced the trees to restrict their felling. Establishment of "eco-development camps" brought villagers together to discuss their needs within the context of the ecological balance of the forest. Stabilizing slopes by building rock retaining walls, the campers planted trees started in their own village nurseries. While less than one-third of the trees set out by government foresters survived, up to 88 percent of the villager-planted trees grew.

Bhatt and his society colleagues have been helped by sympathetic scientists, officials and college students. Yet theirs is essentially an indigenous movement of mountain villagers, and Chipko Andolan has become an instrument of action and education for members, officials and outsiders, in the realities of effective resource conservation.

Although Bhatt has attended meetings in lowland India and abroad as a spokesman for Chipko, he has remained a man of his community. He, his wife and five children continue to live the simple life of their Himalayan neighbors. In the process he has become knowledgeable and productive in helping ensure his peoples' hard won living.


Awards and recognition

1. In 1982, in recognition of "his inspiration and guidance of Chipko Andolan, a unique, predominantly women's environmental movement, to safeguard wise use of the forest" he was awarded the Ramon Magsaysay Award for Community Leadership.
2. In 2005, he was awarded the Padma Bhushan award by the Government of India.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Re: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI PEOPLE & AWARDS
« Reply #41 on: November 01, 2007, 04:01:31 PM »
उत्तराखंड का गौरव हैं निधि कोठियाल

देहरादून: निधि कोठियाल ने भरतनाट्यम के क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित कर उत्तराखंड का नाम रोशन किया है। विरासत में अद्भुत तरीके से नृत्य की प्रस्तुति दे उन्होंने वाहवाही बटोरी है। भरतनाट्यम में उन्होंने शिव स्तुति, कीर्तनम और तिल्लाना की बेहद सुंदर, मनभावन और आकर्षक प्रस्तुति दी। छह वर्ष की आयु से ही निधि ने नृत्य करना शुरू कर दिया था। नृत्य में उनका जुनून और दीवानगी की हद तक जज्बा है। छह साल की उम्र में ही निधि ने बिहु प्रतियोगिता में शिरकत की और प्रथम स्थान हासिल किया। अहमदाबाद में गंधर्व महाविद्यालय से उन्होंने क्लासिकल डांस (भरतनाट्यम) और हिंदुस्तानी संगीत में चार वर्ष का बुनियादी कोर्स किया। इसके बाद चेन्नई स्थित रुकमिणी देवी कालेज ऑफ फाइन आ‌र्ट्स से चार वर्ष का कोर्स किया। इसके बाद इसी कालेज से उच्चतर अध्ययन के लिए दो वर्ष का कोर्स किया। निधि लीला सैंमसन को अपना आदर्श मानती हैं। वह अहमदाबाद, जामनगर, बड़ोदरा और सूरत में शानदार प्रदर्शन कर चुकी हैं। इसके साथ ही तिरुवनंतपुरम में उन्होंने बेमिसाल प्रस्तुति दी थी। उनके पिता डीआर कोठियाल चीफ जियोफिजिस्ट हैं।

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI PEOPLE & AWARDS
« Reply #42 on: November 01, 2007, 05:28:32 PM »
बुधवार को सरकार ने पुलिस महानिदेशक पद पर वरिष्ठ आईपीएस सुभाष जोशी की ताजपोशी कर दी है। इसके साथ ही दूसरे वरिष्ठ आईपीएस आलोक बिहारी लाल को महानिदेशक पद पर पदोन्नत करते हुए अभियोजन व रूल्स - मैनुअल का दायित्व सौंपा गया है। सूबे के चौथे पुलिस महानिदेशक जोशी ने बुधवार को सेवानिवृत्ता हुई देश की पहली महिला डीजीपी कंचन चौधरी भंट्टाचार्य से विधिवत कार्यभार ग्रहण किया।

पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री जोशी ने कहा कि सरकार ने उन पर जो विश्वास जताया है वह उस पर खरा उतरने का हमेशा प्रयास करेंगे। अपनी क्षमता, निष्ठा व ईमानदारी के साथ नई जिम्मेदारी को बखूबी निभाते हुए जनता व पुलिस में सांमजस्य बैठाएंगे। नवनियुक्त डीजीपी जोशी ने कहा कि प्रदेश की अलग संस्कृति है, उसी के अनुरूप कार्य किए जाएंगे। पुलिस के समक्ष बन रही मौजूदा चुनौतियों को महकमे के सभी आला-अफसरों के साथ विचार-विमर्श कर दूर करेंगे तथा हर पीड़ित को न्याय दिलाएंगे। उन्होंने कहा कि महकमे में सही काम करने वाले कर्मचारियों को प्रोत्साहित किया जाएगा,जबकि अन्य को सही रास्ते पर लाने की कोशिश की जाएगी। मूलरूप से झिजाड़ गांव अल्मोड़ा जनपद निवासी श्री जोशी का 21 साल की ही उम्र में आईपीएस के लिए चयन हो गया था। अपने बेहतरीन कैरियर के चलते वह कई साल तक केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर रहे। इसी रिकार्ड के चलते केंद्र ने वर्ष 1994 में उन्हें पुलिस पदक व वर्ष 2000 में राष्ट्रपति का पुलिस पदक से भी सम्मानित किया।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Re: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI PEOPLE & AWARDS
« Reply #43 on: November 02, 2007, 09:33:26 AM »
.उप्रेती वेद-वेदांग पुरस्कार से सम्मानितNov 02, 02:25 am

अल्मोड़ा। कुविवि परिसर अल्मोड़ा के संस्कृत विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष डा.जयदत्त उप्रेती को आर्य समाज शांताकुज मुम्बई द्वारा वेद-वेदांग पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

डा.उप्रेती को 25 हजार रुपये, शाल एवं श्रीफल देकर सम्मानित किया गया। डा.उप्रेती को यह सम्मान उनके द्वारा वेदों पर किये गये शोध तथा लेखन कार्य के लिए प्रदान किया गया है। मुम्बई से पुरस्कार लेकर लौटे डा.उप्रेती ने बताया कि उनके अलावा उक्त पुरस्कार स्वामी ऋतस्पति सरस्वती, स्वामी प्रेमानंद सरस्वती, प्रो.राम विचार, पं.प्रदीप शास्त्री, आचार्य योगेश शास्त्री, आचार्य आदेश शास्त्री सहित दो और विद्वान शामिल है।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Re: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI PEOPLE & AWARDS
« Reply #44 on: November 06, 2007, 09:57:17 AM »
.पुनियानी एकता पुरस्कार से सम्मानितNov 06, 02:35 am

अल्मोड़ा। उत्तराखण्ड लोकवाहिनी ने धर्म निरपेक्ष संगठनों से जुड़े प्रो.राम पुनियानी को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार से सम्मानित किये जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उलोवा के केन्द्रीय अध्यक्ष डा.शमशेर सिंह बिष्ट ने बताया कि प्रो.पुनियानी का वाहिनी के साथ भी संबंध है। डा.बिष्ट ने बताया कि प्रो.पुनियानी महाराष्ट्र फाउंडेशन अवार्ड फार सोशल वर्क पुरस्कार से भी सम्मानित हो चुके है।
http://www.merapahad.com/forum/index.php/topic,37.0.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Re: REMARKABLE ACHIEVEMENTS BY UTTARAKHANDI PEOPLE & AWARDS
« Reply #45 on: November 13, 2007, 10:15:37 AM »
रश्मि को मिला तीलू रौतेली पुरस्कारNov 13, 02:11 am

गोपेश्वर (चमोली)। एथलेटिक्स में दो बार राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभाग करने वाली कुमारी रश्मि बिष्ट को राज्य स्थापना दिवस के मौके पर जिलाधिकारी ने प्रसिद्ध तीलू रौतेली पुरस्कार से सम्मानित किया।

राज्य स्थापना दिवस की वर्षगांठ पर जिला मुख्यालय के कलेक्ट्रेट में आयोजित हुए कार्यक्रम में जिलाधिकारी डीएस गब्र्याल ने जिला पंचायत उपाध्यक्ष भगत सिंह बिष्ट की पुत्री कुमारी रश्मि को तीलू रौतेली पुरस्कार से सम्मानित किया है। उल्लेखनीय है कि रश्मि ने दो बार राष्ट्रीय स्तर पर एथलेटिक्स में प्रतिभाग कर राज्य का नाम रोशन किया है। रश्मि 800 व 1500 मीटर की दौड़ में प्रतिभा की धनी है। जबकि राज्य स्तर पर रश्मि ने कई खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेकर बेहतरीन प्रदर्शन किया है। वर्तमान में रश्मि राजकीय इंटर कालेज बैरागना में कक्षा 12वीं में अध्ययनरत है।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
बागेश्वर। नगर निवासी धीरेद्र परिहार राज्य की ओर से नेशनल फुटबाल प्रतियोगिता में भाग लेंगे। उनका चयन राज्य की अंडर-19 टीम में हुआ है। फुटबाल एसोसिएशन के कोच नीरज पांडे ने बताया कि धीरेद्र विवेकानंद विद्या मंदिर में कक्षा 12वीं के छात्र है। उन्होंने गत दिनों उत्तराखंड की टीम में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर राष्ट्रीय प्रतियोगिता में अपना स्थान सुरक्षित करा लिया है। उनकी इस उपलब्धि पर फुटबाल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुल्तान खां आदि ने प्रसन्नता व्यक्त की है।


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
छह बाल वैज्ञानिकों का प्रदेश स्तर के लिए चयनNov 15, 02:52 am

अगस्त्यमुनि (रुद्रप्रयाग)। जनपदीय बाल विज्ञान कांग्रेस के समारोह में राज्य स्तर के लिए छह बाल वैज्ञानिकों का चयन किया गया।

पंद्रहवीं बाल विज्ञान कांग्रेस का जनपदीय सम्मान समारोह राजकीय इंटर कालेज अगस्त्यमुनि के विज्ञान हाल में संपन्न हुआ जिसमें जनपद के विभिन्न विद्यालयों के बाल वैज्ञानिकों ने प्रतिभाग किया। बाल वैज्ञानिक के निर्धारित विषय जैव विविधता प्रकृति बचाएं भविष्य संवारे को समझा प्रोजेक्ट के माध्यम से वैज्ञानिक सोच प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर विभिन्न विद्यालयों से लगभग 25 बाल वैज्ञानिकों ने प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी चंद्रशेखर सेमवाल ने कहा इस वैज्ञानिक युग में नई-नई सोच उत्पन्न करने के लिए शिक्षकों को नई-नई तकनीक के बारे में जानकारी प्राप्त कर उन्हे पढ़ाना चाहिए। विशिष्ट अतिथि पूर्व जिला विद्यालय निरीक्षक पुष्कर सिंह कंडारी ने कहा वैज्ञानिक सोच रखने वाले छात्रों को अधिक समय देकर उनका मार्ग दर्शन सही होना चाहिए। राज्य स्तर के लिए चुने गए बाल वैज्ञानिक के सीनियर वर्ग में तनुजा रावत चिल्ड्रन इंटर कालेज अगस्त्यमुनि, अमित बुटोला राजकीय इंटर कालेज अगस्त्यमुनि, कु. सुरभि काला बाइंका रुद्रप्रयाग एवं जूनियर वर्ग से शैलेश बहुगुणा सरस्वती विद्या मंदिर अगस्त्यमुनि, सचिन राइंका फाटा, नंदकेश्वरी भट्ट कउमावि मयकोटी ने परचम लहराया।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Dr Hafiz receives Inventor of the Year Award

Dehradun, 18 Nov: Dr Anil Hafiz of Agro-Environment Laboratory, Rudrapur, was conferred the ‘Inventor of the Year 2007’ Award by the Uttarakhand Council for Science and Technology (UCOST) on the concluding day of the Second Regional Science Congress held at the Administrative Training Academy, Nainital.
He was handed over the Award by Dr Somnath Ghosh, Chairman, National Research Development Corporation, New Delhi. Hafiz was awarded the prize for his effective, permanent and eco-friendly Paddy Pest Management. His Pest Management would help farmers avoid using pesticides and also increase their production per hectare, produce quality crops, and also help in preservation of the environment. Meanwhile, Chief Secretary SK Das awarded the Youth Scientist Award-2007 to the budding researchers and scientists. The Award included a Memento and certificate.
The Awardees included – Agricultural Science: Rahul Kumar (ICFAI), Nilima Joshi (GB Pant University), Dr G Silva Kumar (VPKS, Almora).
Biotechnology: Dr Sandip Arora (Pantnagar University), Tripti Negi (WII), Namrata (SBS Institute). Botany: Dr Manju Sundriyal (GB Pant), Monica Vats (DAV, Dehradun), Shubhra Bhandari (FRI).
Chemistry: CS Chinauriya (Kumaon University), Dr KP Singh (Pantvarsity), Dr T Rashmi (FRI). Geology: AK Naithani (Garhwal University), Rakesh Dumka (Kumaon University), Dr Manju Pandey (Kumaon University).
Environmental Science: VK Sethi (Gurukul Kangdi), Dr Ira Tiwari (Kumaon Varsity), Dr LS Lodhiyal (Kumaon Varsity).
Health Science: Ajay Semalti (HNBG U), Rekha Bisht (SGRR), Runjhun (SBSI). Physics: Gunjan Purohit (HNBGU), MS Mehta (Kumaon Varsity), Ravindra Kumar (Pantvarsity).
Zoology: Dr DP Uniyal (UCOST), Dr Chinmaya Joshi (Dwarahat Government College), Dr N Pimola Devi (DAV, Dehradun).
Engineering: Dr. SK Panigrahi (IIT, Roorkee), Dr S Chankrawarti (CBRI,Roorkee).
Maths/Statistics/Computer Science: Rajesh Joshi (ICFAI), Dr JS Rautela (Kumaon Varsity).
Home Science: Manisha Gehlot (Pantvarsity), Ashiya (Pantvarsity). Director of the Council Dr Rajendra Dobhal disclosed that it would provide one month’s expenditure to awardees in any institute across the country.
Overall expenditure of their travel and training would be borne by the Council. He said that it would be the Council’s endeavour to provide Rs 8,000 and Rs 13,500 to all Young Scientists award recipients, temporary staff and research students for the coming 5 years.
Present on the occasion were HNB Garhwal University Vice Chancellor Dr AN Purohit, Dr Kusum Arunachalam, Dr DP Uniyal, Dr VP Purohit, Professor GL Shah, Dr Veena Pandey and Dr Sunil Naithani


News source :http://www.garhwalpost.com/news_detail.php?news_id=3934

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
अंतर्राष्ट्रीय धावक होशियार ने बढ़ाया जिले का गौरवNov 20, 02:16 am

पिथौरागढ़। जिले के होनहार अंतर्राष्ट्रीय धावक होशियार सिंह ने आल इंडिया मैराथन दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर जिले का गौरव बढ़ाया है। यह मैराथन 17 नवम्बर को आसाम में सम्पन्न हुई।

गुवाहाटी में 13 नवम्बर से 17 नवम्बर तक 56 वीं पुलिस एथलेटिक्स मीट में आयोजित 42 किमी.की मैराथन दौड़ में होशियार सिंह ने स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने इस प्रतियोगिता में तीसरी बार स्वर्ण पदक हासिल किया है। मालूम हो सीमा सुरक्षा बल में निरीक्षक के पद पर तैनात होशियार सिंह मूल रूप से जनपद के पधेड़ा गांव के रहने वाले है। जनपद से ही अपना खेल कैरियर शुरू करने वाले होशियार इससे पूर्व कई अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक हासिल कर जिले का नाम गौरवान्वित कर चुके है। उनकी इस उपलब्धि पर उनके कोच आरएस धामी, जिला क्रीड़ाधिकारी धर्मेन्द्र भट्ट, महाविद्यालय के शारीरिक शिक्षा प्रभारी पीएस बिष्ट, एथलेटिक्स संघ के अध्यक्ष प्रो.जीत सिंह ज्याला, राजेश उप्रेती, त्रिलोक बिष्ट, डा.आर पी पाठक, भूपेन्द्र डसीला सहित तमाम खिलाड़ियों ने खुशी जताई है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_3918723.html

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22