Recent Posts

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10
1
देवग्राम (उर्गम घाटी , चमोली ) में एक भवन में पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन
-
Traditional House Wood Carving Art from   Devgram  Urgam  valley   , Chamoli   
 गढ़वाल,कुमाऊंकी भवन (तिबारी, निमदारी,जंगलादार मकान, बाखली,खोली) में पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन, - 626
( काष्ठ कला पर केंद्रित ) 
 
 संकलन - भीष्म कुकरेती     
-
चमोली गढ़वाल में भिन्न भिन्न क्षेत्रों की अपनी भवन शैलियां विशेष हैं जैसे नीति घाटी , मलारी  घाटी , माणा  घाटी , उर्गम घाटी आदि में अपनी विशेष भवन शैलियां दर्शन होते हैं। 
प्रस्तुत देवग्राम (उर्गम घाटी ) का भवन दुपुर  व दुखंड भवन है।  भवन के आधार तल(ग्राउंड फ्लोर ) में  कमरों , खिड़कियों  में सपाट ज्यामितीय कटान के दरवाजे ही हैं।  भवन के पहले तल में छज्जा व छज्जा दास काष्ट के ही हैं व सपाट कटान के उदाहरण हैं। काष्ठ  के  छज्जे पर जंगल बंधा है , जंगल पर सात जोइडिडार स्तम्भ स्थापित हैं व स्तम्भ ज्यामितीय कटान के हैं।  आधार में ऊपर समांतर में तीन कड़ियाँ हैं जो रेलिंग बनाते हैं। 
निश्श निकलता है कि  भवन में काष्ठ  कला में ज्यामितीय अलंकरण की ही कला है। 
सूचना व फोटो आभार: त्रिभुवन डिमरी
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत:  वस्तु स्थिति में  अंतर   हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022 
गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली , मोरी , खोली,  कोटि बनाल  ) काष्ठ  कला अंकन ,   श्रंखला जारी   कर्णप्रयाग में  भवन काष्ठ कला,   ;  गपेश्वर में  भवन काष्ठ कला,  ;  नीति,   घाटी में भवन काष्ठ  कला,    ; जोशीमठ में भवन काष्ठ कला,   , पोखरी -गैरसैण  में भवन काष्ठ कला,   श्रृंखला जारी  रहेगी

2
मांश, दही, ल्हसी  क गुण 
-
चरक संहितौ सर्व प्रथम  गढ़वळि  अनुवाद   
 खंड - १  सूत्रस्थानम , 27th  सत्ताइसवां  अध्याय   ( अन्नपान विधि   अध्याय   )   पद  २७४  बिटेन २७६   तक
  अनुवाद भाग -  ३३८
गढ़वाळिम  सर्वाधिक पढ़े  जण  वळ एकमात्र लिख्वार-आचार्य  भीष्म कुकरेती
s = आधी अ
-
      !!!  म्यार गुरु  श्री व बडाश्री  स्व बलदेव प्रसाद कुकरेती तैं  समर्पित !!!
-
कै पदार्थक गुरु या लघु हूणौ  नियम पदार्थक मूल स्वभाव , संयोग , संस्कार (पकाण  आदि ) , परिमाण , आदि बथों  तेन विश्लेषण कौरी  करण  चयेंद।  जौंमा यी  बात गुरु म आंदन तौं  गुरु समझण , जु हळ का होवण स्यु हळ का (लघु ) समझण। 
निमर्दक  (मांस पकाणो  बनि बनि  ब्यूंत से  ) , नाना प्रकारौ पदार्थों का मिश्रण से ,पकायुं , आम , क्लिन्न , भुन्युं  अंतर् से गुरु , हृदय कुण प्रिय , वीर्यवर्धक , बलवान मनुष्यों कुण हितकारी च। 
मलै वळि दही तै खूब छोळि  वामा इलैची , दालचीनी , तेजपात , जवाण , नागकेशर , गुड़, आदो ,सोंठ दगड़ मिलैक बणी रसदार ताकवर पुष्टिकारी , वीर्यवर्धक , स्नेहक बलकारी , रुचियुक्त हूंद।
गुड़ दगड़ दही स्नेहक , हृदय कुण प्रिय अर वातनाशी हूंद। २७४-२७६

 -
*संवैधानिक चेतावनी : चरक संहिता पौढ़ी  थैला छाप वैद्य नि बणिन , अधिकृत वैद्य कु परामर्श अवश्य लीण
संदर्भ: कविराज अत्रिदेवजी गुप्त , भार्गव पुस्तकालय बनारस ,पृष्ठ   ३६३
सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती (जसपुर गढ़वाल ) 2022
शेष अग्वाड़ी  फाड़ीम ,चरक संहिता कु  एकमात्र  विश्वसनीय गढ़वाली अनुवाद; चरक संहिता कु सर्वपर्थम गढ़वाली अनुवाद; ढांगू वळक चरक सहिता  क गढवाली अनुवाद , चरक संहिता म   रोग निदान , आयुर्वेदम   रोग निदान  , चरक संहिता क्वाथ निर्माण गढवाली  , चरक संहिता का प्रमाणिक गढ़वाली अनुवाद , हिमालयी लेखक द्वारा चरक संहिता अनुवाद , जसपुर (द्वारीखाल ) वाले का चरक संहिता अनुवाद , आधुनिक गढ़वाली गद्य उदाहरण, गढ़वाली में अनुदित साहित्य लक्षण व चरित्र उदाहरण   , गढ़वाली गद्य का चरित्र , लक्षण , गढ़वाली गद्य में हिंदी , उर्दू , विदेशी शब्द, गढ़वाली गद्य परम्परा में अनुवाद , सरल भाषा में आयुर्वेद समझाना।  आयुर्वेद के सिद्धांत गढ़वाली भाषा में ; आयुर्वेद सिद्धांत उत्तराखंडी भाषा में, गढ़वाली भाषा में आयुर्वेद तथ्य , गढ़वाली भाषा में आयुर्वेद सिद्धांत व स्वास्थ्य लाभ

3

Time Table for the King for taking judicial decision
Duties (Raj dharma) of the Chief Executive Officer -40   
Judiciary System in the Organization /Country

Guidelines for Chief Officers (CEO) Series –448       
       Bhishma Kukreti (Marketing Strategist)
s= आधी –अ
-
न्यायान्पश्येतु मध्यान्हे पूर्वान्हे स्मृतिदर्शनम् I I53 II
मनुष्यमारणे स्तेये साहसेsत्यायिके सदा I
नत्वा वा प्रांजलि: प्र्ह्वो ह्यर्थी कार्य निवेदयेत् II54 II
It is the duty of the king to offer decision in noon time and before noon, the king should study old scripts (cases ) or listen them. However, in case of human killing, looting by force , or terristic activities, the king should take decision at any time.
(Shukraniti, Raj dharma Nirupan or “The Duties of a King” –  53, 54   )
-
Reference:
Shukraniti, Manoj Pocket Books, Delhi pp259
Copyright@ Bhishma Kukreti, 2022
Strategies for Executive for marketing warfare
Tactics for the Chief Executive Officers responsible for Marketing
Approaches   for the Chief Executive Officers responsible for Brand Image
Strategies for the Chief Executive Officers responsible for winning Competitors
Immutable Strategic Formulas for Chief Executive Officer
(CEO-Logy, the science of CEO’s working based on Shukra Niti)
(Examples from Shukra Niti helpful for Chief executive Officer)
Successful Strategies for successful Chief executive Officer
Duties (Raj dharma) of the Chief Executive Officer   


4
चूड़ा /चिवड़ा /बुखणो  गुण  व लक्ष्ण
-
चरक संहितौ सर्व प्रथम  गढ़वळि  अनुवाद   
 खंड - १  सूत्रस्थानम , 27th  सत्ताइसवां  अध्याय   ( अन्नपान विधि   अध्याय   )   पद  २७१  बिटेन  २७३  तक
  अनुवाद भाग -  ३३७
गढ़वाळिम  सर्वाधिक पढ़े  जण  वळ एकमात्र लिख्वार-आचार्य  भीष्म कुकरेती
s = आधी अ
-
      !!!  म्यार गुरु  श्री व बडाश्री  स्व बलदेव प्रसाद कुकरेती तैं  समर्पित !!!
-
पृथुका (चिवड़ा ) चूड़ा गुरु हूंद। भुन्युं चूड़ा कम खाण चयेंद।  जौक  चूड़ा पुटुकुंद अवरोध कोरी जीर्ण हूंद। अणभुन्युं  जौ  रेचक हूंद। सुप्या न्न अथवा  मूंग , उड़द आदि से बणीं वस्तु (चबेना  या बुखण )  वायुकारक , रुखा व शीतल हून्दन।  यूं तैं  घी /तेल (स्निग्ध वस्तु )  अर  लूणौ  दगड़  कम मात्रा म खाण चयेंद।  जु  धीमी आंच पर पकदन  सि कठोर व स्थूल हूंदन (आग म सिकण  बि )। यी भारी , देर से पचण वळ पुष्टिकारक बल दायी हूंदन। २७१ - २७३।  .


 -
*संवैधानिक चेतावनी : चरक संहिता पौढ़ी  थैला छाप वैद्य नि बणिन , अधिकृत वैद्य कु परामर्श अवश्य लीण
संदर्भ: कविराज अत्रिदेवजी गुप्त , भार्गव पुस्तकालय बनारस ,पृष्ठ   ३६२
सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती (जसपुर गढ़वाल ) 2022
शेष अग्वाड़ी  फाड़ीम ,चरक संहिता कु  एकमात्र  विश्वसनीय गढ़वाली अनुवाद; चरक संहिता कु सर्वपर्थम गढ़वाली अनुवाद; ढांगू वळक चरक सहिता  क गढवाली अनुवाद , चरक संहिता म   रोग निदान , आयुर्वेदम   रोग निदान  , चरक संहिता क्वाथ निर्माण गढवाली  , चरक संहिता का प्रमाणिक गढ़वाली अनुवाद , हिमालयी लेखक द्वारा चरक संहिता अनुवाद , जसपुर (द्वारीखाल ) वाले का चरक संहिता अनुवाद , आधुनिक गढ़वाली गद्य उदाहरण, गढ़वाली में अनुदित साहित्य लक्षण व चरित्र उदाहरण   , गढ़वाली गद्य का चरित्र , लक्षण , गढ़वाली गद्य में हिंदी , उर्दू , विदेशी शब्द, गढ़वाली गद्य परम्परा में अनुवाद , सरल भाषा में आयुर्वेद समझाना।  आयुर्वेद के सिद्धांत गढ़वाली भाषा में ; आयुर्वेद सिद्धांत उत्तराखंडी भाषा में, गढ़वाली भाषा में आयुर्वेद तथ्य , गढ़वाली भाषा में आयुर्वेद सिद्धांत व स्वास्थ्य लाभ

5
 

कांडा (सितोन्स्यूं पौड़ी ) के   बछेटी  भवन में   गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन

-
    Tibari, Traditional  House Wood Art in House of Kanda  Sitaunsyun  Pauri Garhwal       

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन  -625


 संकलन - भीष्म कुकरेती   

-
कांडा (सितोन्स्यूं पौड़ी ) का  बछेटी  भवन  दुपुर  व दुखंड  भवन है।   कांडा (सितोन्स्यूं पौड़ी ) के बछेटी  भवन  की तिबारी बड़ी सुन्दर व आकर्षक तिबारी है।  आश्चर्य है कि  भवन में पारम्परिक गढ़वाली खोली नहीं है जो कि  पौड़ी गढ़वाल में कम ही दिखती हैं किन्तु चमोली व रुद्रप्रयाग में अधिकतर घरों में खोली आवश्यक  अर्चना होती है।
प्रस्तुत कांडा (सितोन्स्यूं पौड़ी ) के बछेटी  भवन  में पहले तल मजिल ) में दो तिबारियां (बरामदे ) हैं एक में तीन स्तम्भ व एक तिबारी में  दृष्टिगोचर हो रहे हैं।  प्रत्येक स्तम्भ एक सामान है।  स्तम्भ के तल में अधोगामी पद्म पुष्प , ड्यूल व ऊपर उर्घ्वगामी पद्म पुष्प से आकर्षक कुम्भियाँ निर्मित हुयी है।  यही संरचना ऊपर दोहराई गयी है व तब ऊपरी कुम्भी से थांत  आकर की आकृति शुरू होती है जो ऊपर छत आधार के नीचे दो कड़ियों  से मिल जाता है।  ऊपर दो स्तम्भों के तोरणम (  चाप , मेहराब , arch ) निर्मित है व तोरणम के  प्राकृतिक कला अंकन हुआ है।   
आश्चर्य है कि  तिबारी के शीर्ष में देव मूर्ति नहीं लगी है।  शायद निकल गयी होगी।
 निष्कर्ष निकलता है कि कांडा (सितोन्स्यूं पौड़ी ) के बछेटी  भवन  में ज्यामितीय व प्राकृतिक अलंकरण कला अंकन हुआ है। 


सूचना व फोटो आभार: विनोद बछेटी

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है . भौगोलिक स्थिति व  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: यथास्थिति में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022

गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान ,बाखली ,  बाखई, कोटि बनाल  ) काष्ठ  कला अंकन नक्काशी श्रृंखला  जारी रहेगी,पौड़ी गढ़वाल के भवनों की काष्ठ कला , उत्तराखंड भवनों की काष्ठ कला    * पौड़ी की लकड़ी  नक्कासी

6

ग्युं क पंजरी,  हलवा आदि  विवरण
-
चरक संहितौ सर्व प्रथम  गढ़वळि  अनुवाद   
 खंड - १  सूत्रस्थानम , 27th  सत्ताइसवां  अध्याय   ( अन्नपान विधि   अध्याय   )   पद २६९   बिटेन  २७०  तक
  अनुवाद भाग -  ३३६
गढ़वाळिम  सर्वाधिक पढ़े  जण  वळ एकमात्र लिख्वार-आचार्य  भीष्म कुकरेती
s = आधी अ
-
      !!!  म्यार गुरु  श्री व बडाश्री  स्व बलदेव प्रसाद कुकरेती तैं  समर्पित !!!
-
ग्युं क आटो म घी मथिक (मिलैक )  या घी म पकैक नाना प्रकार का जो भि पकवान पकाये जान्दन यी सब गुण तृप्तिकारी , वीर्यवर्धक व खाणम आनंददायी हूंदन।  इनि ग्यूं  आदि पदार्थुं  तै  बिंदी देर तक अग्नि संयोग से पकाये जांद  त ग्युं गन गुरु से लघु ह्वे जांद।  इनि ग्यूंकी पीठि (लोई ) . धान्य पर्पट , भारी  हूंदन किन्तु संस्कार से लघु करे जांदन।  इलै वैद्य तैं संस्कारों विचार कौरि गुणों निश्चय करण  चयेंद।  २६९ -२७०। 
 -
*संवैधानिक चेतावनी : चरक संहिता पौढ़ी  थैला छाप वैद्य नि बणिन , अधिकृत वैद्य कु परामर्श अवश्य लीण
संदर्भ: कविराज अत्रिदेवजी गुप्त , भार्गव पुस्तकालय बनारस ,पृष्ठ   ३६२
सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती (जसपुर गढ़वाल ) 2022
शेष अग्वाड़ी  फाड़ीम ,चरक संहिता कु  एकमात्र  विश्वसनीय गढ़वाली अनुवाद; चरक संहिता कु सर्वपर्थम गढ़वाली अनुवाद; ढांगू वळक चरक सहिता  क गढवाली अनुवाद , चरक संहिता म   रोग निदान , आयुर्वेदम   रोग निदान  , चरक संहिता क्वाथ निर्माण गढवाली  , चरक संहिता का प्रमाणिक गढ़वाली अनुवाद , हिमालयी लेखक द्वारा चरक संहिता अनुवाद , जसपुर (द्वारीखाल ) वाले का चरक संहिता अनुवाद , आधुनिक गढ़वाली गद्य उदाहरण, गढ़वाली में अनुदित साहित्य लक्षण व चरित्र उदाहरण   , गढ़वाली गद्य का चरित्र , लक्षण , गढ़वाली गद्य में हिंदी , उर्दू , विदेशी शब्द, गढ़वाली गद्य परम्परा में अनुवाद , सरल भाषा में आयुर्वेद समझाना।  आयुर्वेद के सिद्धांत गढ़वाली भाषा में ; आयुर्वेद सिद्धांत उत्तराखंडी भाषा में, गढ़वाली भाषा में आयुर्वेद तथ्य , गढ़वाली भाषा में आयुर्वेद सिद्धांत व स्वास्थ्य लाभ

7
Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters, and Traditional Plays

                   गढवाली लोक नाटकों / लोक  गीतों में    अवहित्थ     भाव

Review of Characteristics of Garhwali Folk Drama, Folk Theater/Rituals and Traditional Plays part -45

                                    Bhishma Kukreti

                According to Bharat’s Natyashastra (7/79); dissimulation sentiment is demonstrated in drama by irrelevant talk, looking down, broken speech and pretended patience
        Dissimulation sentiment in drama is to show the deceptive quality of a character. To show dissimulation characters the performer changes the subject of talk immediately, speaks differently or irrelevant talks.
          I remember a mini Garhwali folk drama played by Badi-Badan in Jaspur, Malla Dhangu, Pauri Garhwal, North India in the month of Chait (15th March-14th April) in 1964-65. 
                     एक गढवाली लोक नाटक में अवहित्थ     भाव
 पंडी जी (व्यासपीठ से ) - सुणो ! चोरी करण माहापाप च। चोरी करण से नरक मिल्द ।
एक शिल्पकार (दर्शक दीर्घा से भैर  )- पण पंडी जी परसि त तुम गलादार  जीक मूळा चुराणा छया। 
पंडी जी ( इना उना दिखद )- ऊँ ऊँ  …मूळा … की चोरी चोरी नि बुले जांद। चलो अब कृष्ण सद्भामा विवाह की कथा सुणो
   In this mini drama a Pundit is preaching about the sins of theft. Suddenly a Shilpkar reminds the Pundit that day before Pundit Ji was stealing radish from village council chief.
Pundit replies that stealing radish is not theft. The role of Pundit was played by a Badi was marvelous in showing the sentiment of dissimulation. Performer (Badi) was able to show concealing the intensions. 
  Badis (a professional class –caste) were great dramatists to show the negativity in the society.


Copyright@ Bhishma Kukreti 22/11/2013

Review of Characteristics of Garhwali Folk Drama, Community Dramas; Folk Theater/Rituals and Traditional to be continued in next chapter.

                 References
1-Bharat Natyam
2-Steve Tillis, 1999, Rethinking Folk Drama
3-Roger Abrahams, 1972, Folk Dramas in Folklore and Folk life 
4-Tekla Domotor , Folk drama as defined in Folklore and Theatrical Research
5-Kathyrn Hansen, 1991, Grounds for Play: The Nautanki Theater of North India
6-Devi Lal Samar, Lokdharmi Pradarshankari Kalayen 
7-Dr Shiv Prasad Dabral, Uttarakhand ka Itihas part 1-12
8-Dr Shiva Nand Nautiyal, Garhwal ke Loknritya geet
9-Jeremy Montagu, 2007, Origins and Development of Musical Instruments
10-Gayle Kassing, 2007, History of Dance: An Interactive Arts Approach
11- Bhishma Kukreti, 2013, Garhwali Lok Natkon ke Mukhya Tatva va Charitra, Shailvani, Kotdwara
12- Bhishma Kukreti, 2007, Garhwali lok swangun ma rasa ar Bhav , Chithipatri
Xx




Notes on Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Haridwar Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Dehradun Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Tehri Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Uttarkashi Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Chamoli Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Rudraprayag Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Pauri Garhwal; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Garhwal, Uttarakhand; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Garhwal, Himalaya; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Garhwal, North India; Dissimulation Sentiment in Garhwali Folk Dramas, Folk Rituals, Community Theaters and Traditional Plays from Garhwal South Asia
गढवाली लोक नाटकों में अवहित्थ   भाव; टिहरी गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में  अवहित्थ भाव;उत्तरकाशी गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में  अवहित्थ  भाव;हरिद्वार गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में अवहित्थ   भाव;देहरादून गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में  अवहित्थ  भाव;पौड़ी गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में  अवहित्थ  भाव;चमोली गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में    अवहित्थ भाव; रुद्रप्रयाग गढ़वाल के गढवाली लोक नाटकों में   अवहित्थ भाव;

8
Protection of Regional Traditional Laws and Culture
-
Duties (Raj dharma) of the Chief Executive Officer -38   
Judiciary System in the Organization /Country

Guidelines for Chief Officers (CEO) Series –446       
       Bhishma Kukreti (Marketing Strategist)
s= आधी –अ
येषां परम्पराप्राप्ताः पुर्वजैरप्यनुष्ठिता: II
त एव तैर्नं दुष्येयुराचारान्नेतरस्य तु I
Those customs are received by those citizens (discussed earlier) from their ancestors and the ancestors practice those customs regularly. Those citizens should not be punished fro following their customs.
 (Shukraniti, Raj dharma Nirupan or “The Duties of a King” –50 , 51    )
-
Reference:
Shukraniti, Manoj Pocket Books, Delhi pp259
Copyright@ Bhishma Kukreti, 2021
Strategies for Executive for marketing warfare
Tactics for the Chief Executive Officers responsible for Marketing
Approaches   for the Chief Executive Officers responsible for Brand Image
Strategies for the Chief Executive Officers responsible for winning Competitors
Immutable Strategic Formulas for Chief Executive Officer
(CEO-Logy, the science of CEO’s working based on Shukra Niti)
(Examples from Shukra Niti helpful for Chief executive Officer)
Successful Strategies for successful Chief executive Officer
Duties (Raj dharma) of the Chief Executive Officer   

9

  मेरग  ( जोशीमठ , चमोली ) में एक भवन में  पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन,
-
Traditional House Wood Carving Art from  Merag,  Chamoli   
 गढ़वाल,कुमाऊंकी भवन (तिबारी, निमदारी,जंगलादार मकान, बाखली,खोली) में पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन, - 624
( काष्ठ कला पर केंद्रित ) 
 
 संकलन - भीष्म कुकरेती     
-
मेरग  के आस पास के भवनों की सूचना मिली हैं।   मेरग  ( जोशीमठ , चमोली )  का  प्रस्तुत  भवन  दुखंड व दुपुर  भवन है जिसके उबर में (दान ) भंडार व गौशाला होगी।  तल मंजिल में काष्ठ कला दर्शाने हेतु कुछ महत्वपूर्ण आकृति नहीं है।
भवन के पहले तल में बरामदे पर जंगला  बंधा है।  जंगला आकर्षक है।  जंगल में ६ से अफिक  स्तम्भ /खम्भे हैं जो चौखट व सपाट हैं।  आधार में एक उप जंगल अन्य बंधा है।  दो लकड़ी की डंडियों या कड़ियों के मध्य XIX जैसे आकृति स्थापित है जो आकर्षक है। 
  मेरग  ( जोशीमठ , चमोली )  के   प्रस्तुत  भवनमें केवल ज्यामितीय कटान  की कला उपस्थित है व प्राक्रितिक , मानवीय अलंकरण नहीं दिखे। 
सूचना व फोटो आभार: सूरज राणा
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत:  वस्तु स्थिति में  अंतर   हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022 
गढ़वाल,  कुमाऊँ , उत्तराखंड , हिमालय की भवन  (तिबारी, निमदारी , जंगलादार  मकान , बाखली , मोरी , खोली,  कोटि बनाल  ) काष्ठ  कला अंकन ,   श्रंखला जारी   कर्णप्रयाग में  भवन काष्ठ कला,   ;  गपेश्वर में  भवन काष्ठ कला,  ;  नीति,   घाटी में भवन काष्ठ  कला,    ; जोशीमठ में भवन काष्ठ कला,   , पोखरी -गैरसैण  में भवन काष्ठ कला,   श्रृंखला जारी  रहेगी

10
वियतनाम हिन्दू संस्कृति का चिन्ह ( पराक्रम से संकटो से पार पए जांद)
-
सरोज शर्मा-जनप्रिय लेखन श्रंखला

-
वियतनाम एशिया क इन देश च जैल संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा का पांच स्थाई देशों म से तीन फ्रांस, अमेरिका व चीन क आक्रमण थैं नेस्तनाबूद करण मा सफलता हासिल कैर।
बगैर आधुनिक अस्त्र-शस्त्र क केवल अपण संकल्प का बल पर यूं महाशक्तियो क मानमर्दन करणवल राष्ट्र वियतनाम से क्या भारत थैं प्रेरणा लींण चैंद?ई प्रश्न इलै उठणु च कि चीन कि विस्तार वादी नीति से मुकाबला करण मा भारत हिचकिचाहट क अनुभव करद दिखेंणु च, वियतनाम क महान नेता हो ची मिन्ह क कथन स्वतंत्रता एवं स्वावलंबन से मूल्यवान कुछ नी, वियतनाम से भारत का रिश्ता हमेशा मधुर रैं,
वियतनाम थैं दृढ़ संकल्प कि प्रेरणा कख बटिक मिलद?ऐकु उत्तर जांणिक आपथैं आश्चर्य ह्वाल, वियतनाम म दुसरी शताब्दि का शिलालेख मिलीं जु संस्कृत और ब्रह्मी लिपी मा छन। ई सरया दक्षिण पूर्व एशिया मा प्राचीन समय मा हिन्दुओ की मौजूदगी क प्रमाण च। वियतनाम कि शक्ति क मूल हिन्दू दर्शन और संस्कृति छै।
वियतनाम कि लोक आस्था क अनुसार तिन्या लोको म वास करणवली देवी मां कि पूजा कनकी यूनेस्को द्वारा मान्यता दियै गै छै।
वियतनाम का नामदिन्ह राज्य म मानवीय संस्कृति कि अनमोल धरोहर क रूप म यूनेस्को द्वारा धार्मिक आस्था कु प्रमाण पत्र प्रदान कियै ग्या छा, देवी पूजा प्राचीन समय का ऊं विश्वासो पर आधारित च जै म विभिन्न देवी देवताओ क अवतार कि अराधना क माध्यम से लोगों थैं अच्छु स्वास्थ्य संपत्ति प्राप्त हूंद छै, नामदिन्ह प्रान्त, वियतनाम कि राजधानी हनोई का दक्षिण मा 80 किलोमीटर दूर पव्ड़द, ई देवी मां संबधित पूजा करण वलों खुण सबसे बड़ तीर्थ स्थल क केन्द्र क रूप म जंणै जांद। ऐ राज्य मा 287 मंदिर व अन्य धार्मिक मान्यताओ संबधित अवशेष मौजूद छन,
इतिहास बतांद कि दक्षिण पूर्व एशिया म हिन्दुओ से संपर्क का चलदा शैव धर्म कु प्रसार ह्वाई। वियतनाम कु इतिहास 2700 वर्षो से भि ज्यादा पुरण च। वियतनाम क प्राचीन नौं चम्पा छाई, चम्पा का नागरिक चाम ब्वलेजांद छा,यूंक राजा शैव छा, द्वितीय शताब्दि म स्थापित चम्पा हिन्दू संस्कृति क प्रमुख केन्द्र छा,स्थानीय चाम नागरिको न हिन्दू धर्म भाषा, सभ्यता अपणै, भाषाई दृष्टि से चम्पा का लोग चाम ( मलय पाॅलिनेशियन) छा।
वर्तमान म चाम वियतनाम व कम्बोडिया सबसे बड़ अल्पसंख्यक छन ,प्रारंभ मा चम्पा का नागरिक व राजा शैव छाया। इस्लाम क उदय क बाद कुछ शताब्दि पैल इस्लाम यख जड़ जमाण बैठ ग्या, ज्यादातर चाम मुस्लिम छन पर हिन्दू और बौद्ध भि छन, जु मुस्लिम छन वू भि हिन्दू संस्कृति से पूरी तरह अलग नि ह्वै न।
हिन्दुओ का आण से यखका पूर्व निवासी हिन्दुओ क संपर्क से सभ्य ह्वै गिन। जु चम नौ से प्रसिद्ध ह्वै गिन। जु बर्बर और हिंसक छा वु चमलेच्छ और किरात नौ से जंणै गैन।
संपूर्ण वियतनाम म चीनी राजवंशो क शासन ज्यादा रै।
हिन्दू धर्म थैं राजधर्म क रूप मा स्थापित करणक बाद चम्पा म संस्कृत शिलालेख बणयै गैं व हिन्दू मंदिरो क निर्माण कियै ग्या। शिलालेखो क अनुसार चम्पा मा पैल महाराज भद्र वर्धन राजा छाई, जौंन 380 ईस्वी से 413 ईस्वी तक शासन कैर। मीशाॅन म राजा भद्र वर्मन न भदरेश्वर नौ क शिवलिंग की स्थापना कैर, भदरेश्वर महादेव कि पूजा सदियों तक जारी छै।
महाराजा रूद्र वर्मन न 529 ईस्वी म नै राजवंश कि स्थापना कैर, ऊंका पुत्र महाराज शंभु वर्मन उत्तराधिकारि बणीं, ऊं न भद्र वर्मन मंदिर क पुनःनिर्माण करै, मंदिर क नौ परिवर्तित कैरिक शम्भू भदरेश्वर राख, 629 म भद्र वर्मन कि मृत्यु ह्वै गै, ऊंका पुत्र कंदर्पधर्म राजा बणी जौंकि मृत्यू पश्चात प्रभाष धर्म उत्तराधिकारि हुंई 645 ईस्वी म मृत्यु ह्वै यूंकि भि ,सातवीं व दशवीं शताब्दि क बीच म राजवंश नौसेना शक्ति क प्रमुख केन्द्र बण ग्या।
चम्पा का बन्दरगाह स्थानीय व विदेशी व्यापारियो क आकर्षकण क केन्द्र बणगैन। चीन,इंडोनेशिया व भारत क मध्य दक्षिण चीन सागर मा मसालों व रेशम क व्यापार क केंद्र चम्पा बण ग्या। चाम हिन्दुओ क स्वर्णिम अतीत रै।
चम्पा साम्राज्य दक्षिण वियतनाम व लाओस का कुछ हिस्सों तक फैलयूं छाई। चम्पा कु राजा शैव धर्मावलम्बी छा और अनेक मंदिरो कु निर्माता छाई, हिन्दू संसकृति का चिन्ह आज भि हिन्दू मूर्तियो व लाल ईंट का मंदिरो मा आज भि देख सकदौ।1471 मा उत्तरी दिशा बटिक वियतनामी सम्राट न आक्रमण कैर जैमा चम्पा कि हार ह्वै। युद्ध म 1,20,000 लोग युद्ध बन्दी हुंई या मरे गैं। इन अनुमान लगयै जांद चम्पा क राजा महाजन थैं युद्ध बंधी बणयै ग्या। चाम हिन्दुओ न ऐ भाग म अपण नियंत्रण ख्वै द्या ।पुनः ऐ पर काबिज नि ह्वै सका। आठवीं शताब्दि से हि अरब का व्यापारी चम्पा पौंछण लगीं, मुसलमानो न चाम मा अपण धर्म प्रचार शुरू कैर, सतरहवी शताब्दि तक चाम क शाही परिवार न इस्लाम स्वीकार कैर, धीरे धीरे शैव ब्राह्मणो और नागवंशीय क्षत्रियों थैं छोड़िक अधिकांश चम इस्लाम का अनुयाई बणि गैं।वस्तुस्थिति या च कि वियतनामी चम मा मुस्लिम बहुसंख्यक छन। आज भि वियतनाम क मध्य क्षेत्रीय प्रान्तो म चाम का स्मारको और मंदिरो का भग्नावशेष मौजूद छन। वियतनाम मा चाम का सैकड़ो हजारों वंशज मौजूद छन, जु सदियों से आपस मा विवाह और सामाजिक एकीकरण कि प्रक्रिया मा वियतनामियो क दगड़ एकाकार ह्वै गिन। ई निम्न आर्थिक स्थिति वला क्षेत्रो मा रैंदिन ।
वियतनाम सरकार अपण नागरिकों कि जातीय व सांस्कृतिक पछयाण थैं मान्यता दीण म ऊंकि सहायता करण कि नीति क पालन करद।
चाम संस्कृति कि नृत्य कला व परंपरा अच्छी तरह से संरक्षित छन। पोलिश व भारतीय पुरातत्विदो कि सहायता से चाम स्मारको कि देखरेख व संरक्षण कियै जांद। चाम क पुरातत्विक स्थल मीशान या मायसन थैं यूनेस्को द्वारा धरोहर घोषित किए ग्या।
व्यापार समुद्री आवागमन संबंधी सरोकारों और फ्रांसिसी औपनिवेशिक शाशन क अन्तर्गत रोजगार हेतू भारतीय यख पौंछिन। ई भारतीय अपणि मातृभाषा व वियतनामी भाषा, और फ्रेंच भि ब्वलदा छा, ई मुख्यतः उत्तरी शहर हनोई और दक्षिण म साइगाॅन मा बसयां छा,द्वी विश्वयुद्ध क काल म भारतीय भी यख पौंछिन, नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्र नाथ टैगोर भि साइगाॅन पौंछिन। कुछ दिन तक एक परिवार म ठैरिन। आजाद हिन्द फौज कि शौर्य गाथा से वियतनाम भि अछूतू नि रै। नेताजी सुभाष चंद्र बोस ताईवान यात्रा से पैल साइगाॅन क होटल मा ठैरा छा ।
1975 मा साइगाॅन क पतन व साम्यवाद क उदय क समय दक्षिण वियतनाम म 25,000 लोग भारतीय समुदाय का छा।यूंका खुदरा व्यापार जनकि कपड़ा, हस्तशिल्प, आभूषण, किराना मा वर्चस्व छाई। 1976 म साइगाॅन नाम क नौ हो ची मिन्ह सिटी रखै ग्या। यखका प्राचीन मंदिरो कि देखरेख चेट्टियार समुदाय का वियतनामी वंशज करदिन।
समुद्र क्षेत्र म चीन कि बढ़ती धमक व हिमालय क्षेत्र म बार बार अतिक्रमण कि प्रवृति से भारत म संकट कि स्थिती बणीं रैंद। इनमा वियतनाम, ताईवान, इत्यादि दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों व जापान क माध्यम से भारत चीन थैं सोचणा खुण मजबूर कैर सकद। जतगा ध्यान सरकार पश्चिमी एशिया मा केन्द्रित करद उतगा दक्षिण पूर्व एशियाई देशों म नि करद। वियतनाम क इतिहास हमथैं सबक दींद कि समझौता न पराक्रम से ही संकटो से पार पयै जांद।

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10