Recent Posts

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10
1
महोदय,                                                                                                                                                                                               
                                                                                                                                                                                                         
 ग्राम कनरा (लमगड़ा) 1980 तक सड़क विहीन था ! अब जाकर कनरा तक सड़क पहुँची है ! जो आज भी कच्ची है l  किसी भी विभाग ने इसकी सुधि नहीं ली है ! यह ग्राम मुख्य धारा से कटा रहा l इस कारण यह विकास विहीन ग्राम बन गया !  सुरेश बडोला कहते हैं - ‘हमारे बुजुर्ग बताते हैं बद्रीविशाल के प्रति अटूट श्रद्धा के कारण बद्रीनाथ मंदिर की पूजा सभा में बडोला ब्राह्मणों का भी स्थान नियत है, जब कि कनरा (लमगड़ा) के बड़ोला ब्राह्मण भगवान् शिव के उपासक हैं ! इसलिए निवेदन है कि  मानस खंड मंदिर माला मिशन का लाभ उन मंदिरों को भी मिलना  चाहिए  जो लम्बे समय से उपेक्षित एवं पिछड़े हैं l  ऊँटेश्वर महादेव मंदिर जो गाँव कनरा में अवतरित हुए हैं, यह गाँव 1,000 वर्ष प्राचीन दुर्लभ ऊँटेश्वर महादेव मंदिर सालम पट्टी क्षेत्र में प्रसिद्द है l कनरा स्थित इस मंदिर हेतु अल्मोड़ा से लमगड़ा से चायखान से कनरा-तोक से कनरा तक अब मोटर रोड बन चुकी है l अल्मोड़ा से इसकी कुल दूरी 43 किमी है !                                                                         इस मंदिर की निम्न विशेषताएं हैं l                                                                                                                                                                   
 1)एक हज़ार वर्ष से भी अधिक प्राचीन है ! इसमें 12 देवालय स्थित है !                                                                                                                       
 2)यह स्वयंभू पृथ्वी/भूमि से स्वयं निकला हुआ अर्थात प्राकृतिक है l                                                                                                                             
 3)यह  शिवलिंग महादेव की जिव्हा के रूप में प्रकट हुआ है l                                                                                                                               
 4)भंडारे आदि आयोजनों में सैकड़ों भक्तजनों द्वारा अर्पित जल विलुप्त हो जाता है !                                                                                                           
 5)इस शिव लिंग की लम्बाई जमीन से ऊपर 7  फीट है और बांकी शिवलिंग प्रथ्वी के अन्दर है l इस शिवजिव्हा का उद्‌गम जानने हेतु हफ़्तों खुदाई की गई परन्तु इस शिवलिंग की लम्बाई का कोई पारावार नहीं मिला l                                                                                                                                                                       
 6)यह मंदिर पर्यावरण विभाग द्वारा संरक्षित है !                                                                                                                                                 
 7)शिव लिंग (शिव जिव्हा) दुर्लभ श्रेणी में आता है ! मेरी जानकारी में शिव जिव्हा के रूप में अन्य स्थानों में शिव जिव्हा के रूप प्रकट शिव लिंग नहीं है !                                                                          8) ऊँन्टेश्वर महादेव मंदिर के विषय में मंदिर के पुजारी पंडित खीमा नन्द बड़ोला का यह वीडियो चन्द्र शेखर बड़ोला के सौजन्य से प्राप्त हुवा है - https://www.youtube.com/watch?v=X_GfqH8ZUQg&t=1710s                                                                                                                           
 9)इसलिए अनुरोध है कि इस मंदिर को मानस माला मंदिर मिशन में शामिल करने की कृपा करें !                                                                                             
 10)  श्री कल्याणिका हिमालयन देवस्थानम न्यास कनरा-डोल (डोल आश्रम) कनरा की  ही भूमि पर स्थित है  और ऊँटेश्वर महादेव  मंदिर इसी  गाँव कनरा  में 6 किलोमीटर की दूरी पर है !                                                                                                                                                                                             
 11)लोकार्पण द्वारा पुजारी लीलाधर बड़ोला का इंटरव्यू :                                                                                                                 https://fb.watch/eZBipsYoug/
धन्यवाद !                                                                                                                                                                                           
भवदीय
                                                                                                                                                                                               
डीएन बड़ोला,  निवासी ग्राम कनरा                                                                                                                                                                                                                                                                                            अध्यक्ष, प्रेस क्लब, रानीखेत l Mobile 9412909980                                                                                             




2
माननीय मुख्य  मंत्री श्री पुष्कर धामी  जी के विचारार्थ !                                                                                                                                           
                                                                                                                                                                                                       
1)चार धाम यात्रा में तीर्थ यात्रियों की अनियंत्रित भीड़ को देखते हुए पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि तीर्थ यात्रियों को चार धाम यात्रा का अवसर साल में केवल एक ही बार मिलेगा, तीर्थ यात्री अगले साल से एक से ज्यादा बार चार धाम यात्रा में नहीं जा पायेंगे ! इससे उन सभी श्रद्धालुओं को बहुत मानसिक कष्ट होगा जो बद्रीनाथ जी के कपाट खुलने व बंद होने समय प्रति वर्ष नियमित रूप से वहाँ जाते है ! इसके अतिरिक्त उत्तराखंड के उन तीर्थ यात्रियों को भी, जो अक्सर बद्रीनाथ जी के दर्शन हेतु जाते रहते हैं !  मंत्री जी का कथन  सही है कि चार धाम यात्रा के इतिहास में पहली बार तीर्थ यात्रियों की संख्या का नया रिकॉर्ड बन रहा है और भीड़ संभाले नहीं संभल पा रही है ! इस भीड़ को संभालने के लिए मंत्री जी ने कहा कि चार धाम यात्रा में प्रतिबन्ध लगाना पढ़ सकता  है !

2)इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए  ‘कुमायूं में चार धाम मान्यता अभियान’ के संयोजक डी एन बड़ोला ने मुख्य मंत्री धामी  जी से अपील की है  कि चार धाम यात्रा में अभूतपूर्व ब्रद्धि को देखते हुए बद्रीनाथ धाम से लौटते तीर्थ यात्रिओं को कर्णप्रयाग हाईवे से होते हुए कुमायूं के नए प्रस्तावित धामों के दर्शन हेतु जागेश्वर धाम, हाट कालिका मंदिर व पातळ भुवनेश्वर मंदिरों, जिन  तीनों मंदिरों को  8वी शताब्दी में आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा स्थापित किया था, उनके दर्शन हेतु भेजे हेतु भेजने हेतु सुविधा दी जाय और उनके लिए आवश्यक  इंतजाम लिए जाय  ! इन मंदिरों को तीर्थ यात्रिओं के लिए खोल देना चाहिए !  उक्त तीनों मंदिर सरकार द्वारा पहले से ही मंदिर माला मिशन के अंतर्गत शामिल किये जा चुके हैं !                                                         
 इसके अतिरिक्त कल्यानिका कनरा- डोल आश्रम में 1760 किलो वजनी  अष्टधातु से बने विश्व के सबसे बड़े श्री यंत्र की स्थापना के उदघाटन के अवसर पर 18 अप्रैल,1918 को तत्कालीन  राज्यपाल डॉ के के पॉल ने घोषणा की कि विश्व प्रसिद्द ‘श्री कल्याणिका हिमालयन देवस्थानम न्यास कनरा-डोल (डोल आश्रम)’ को  उत्तराखंड के पांचवे धाम के रूप में पहिचाना जाएगा l  उन्होंने कहा -https://www.youtube.com/watch?app=desktop&v=VVfVNJUZ8_M                                                                                           “उत्तराखंड की देवभूमि अपने चार धाम के लिए तो जानी जाती है लेकिन अब यह आश्रम उत्तराखंड का पांचवां धाम बनने जा रहा है ! अपने उदघाटन भाषण में उत्तराखंड के तत्कालीन राज्यपाल डॉ० केके पॉल ने कहा कि डोल आश्रम को पांचवे धाम के नाम से पहिचाना जाएगा l” 
 
3)यदि चार धाम यात्रियों को कुमायूं में चार धाम यात्रा के  नए तीर्थ स्थलों के दर्शन करवाने के लिए कर्णप्रयाग हाई वे द्वारा रानीखेत-अल्मोड़ा एवं पूरे कुमायूं क्षेत्र हेतु प्रेरित किया जा सके तो कुमायूं की आर्थिकी में बहुत सकारात्मक बदलाव आएगा तथा पर्यटन एवं धर्मिक पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा !

4)कुमायूं के यह चार धाम बारह माह खुले रहते हैं ! अगले वर्ष जब  बद्रीनाथ के कपाट खुलेंगे नए रिकॉर्ड बनने निश्चित है l उस समय किसी भी परेशानी से बचने के लिए श्रद्धालुओं  की  रिकॉर्ड तोड़  भीड़ को बद्रीनाथ से कर्णप्रयाग हाईवे से रानीखेत– अल्मोड़ा एवं पूरे कुमायूं को तीर्थ यात्री नए तीर्थों के व नए पर्यटक स्थलों की खोज एवं नवीन एडवेंचर की खोज करने हेतु पर्यटकों को नए स्थलों की खोज का भी आनंद मिलेगा !   वह पौराणिक काल के  हमारे अनेक  मंदिरों के साक्षात् दर्शन भी कर पायेंगे !                                                     

5) हवाई यात्रिओं के लिए जहां एक तरफ जॉली ग्रांट हवाई अड्डा  देहरादून में है तो कुमायूं से वापस अपने गंतव्य जाने के लिए भी नैनी सैनी  हवाई यात्रा उनका इन्तजार करता मिलेगा ! इस प्रकार उनकी यात्रा अत्यंत शुभ रहेगी !

डी एन बड़ोला                                                                                                                                                                                   
संयोजक.                                                                                                                                                                                             
कुमायूं में चार धाम मान्यता सोसियल मीडिया अभियान,  बड़ोला कॉटेज, रानीखेत
                                                                                                 

3
Man has stopped eating Man, but not killing Man?
 
            In the creation of the Almighty, Man is the most intelligent, powerful, yet horrible living being. During my early life, when I was a student of English Literature, I read an article by Joseph Lynd about this wonderful creation of God – The Man. I don’t remember the exact words but his narration of the Man was something like this. What a strange animal is the Man who walks with only two legs. His body has several joints, yet he can walk and run fast with two legs. In fact in the Universe all the animals stand with four legs, but Man is the only two-legged animal. Strange! The Man and his better half grow grass like hairs and enthusiastically decorate them and in the modern times now by spending a sizeable amount on hair decoration. Having two twinkling eyes, pregnant with
emotions, considers himself the best creation of the Universe and boasts of being the most beautiful living creation of the Almighty. Now he flies in the Sky, dives into the Sea and does anything or everything, which he ever fancied.   

            Always vigilant and fighting for his existence, man is a social animal. Looks after his kith and kin and now dutifully leads a married life, eats, excretes, sleeps and produces carbon copies of himself, sometimes frequently, thus adds up the numbers to his race. Man has no doubt stopped eating Man, but what a paradox has not stopped killing Man. Today Man is the most wretched and ruthless killer, as everyday we hear of the Terrorists killing innocent men and women. He has amassed all weapons of disaster. A soft push or touch on the Atomic Button by any Atomic Power Country can be instrumental in finishing off the living beings including human race. Very well knowing this he has redoubled his efforts to continue his efforts to amass mass weapons of destruction. He is trying to find cure for Cancer, Diabetes, Aids and other diseases, but new diseases appear to tell the Man that it is no use to challenge the God, who is Almighty, Omnipotent, Omnipresent and Omniscient. At least for now the Man must think and brood. He must think why he is killing his own race. He should stop killing man, if it so happens, world will again be a place to live at peacefully without and kind of fear. (D.N.Barola)

4

कुठार (मल्ला ढांगू , द्वारीखाल ) के एक भवन में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन
-
    Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Kuthar, Malla  Dhangu, Dwarikhal  Pauri Garhwal       

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन--653   


 संकलन - भीष्म कुकरेती   

-
कुठार  (, मल्ला ढांगू  )  से एक भवन की सूचना मिली है।  कुठार में प्रस्तुत भवन दुपुर -दुखंड है।  तल तल (ग्राउंड फ्लोर ) में कमरों , खड़कियों के दरवाजे आम ज्यामितीय कटान की कड़ियों व तख्तों से बने हैं।  पहले तल में बरामदे पर निमदारी  (तिबारी का दूसरा रूप ) स्थापित है।  निमदारी  में चार स्तम्भ हैं।  स्तम्भों के आधार व ऊपर चौखट ा  मोटे  , जायमितीय कटान से बने हैं  किन्तु मध्य में कड़ी महीन है जो स्तम्भ को आकर्षित बना देते हैं।  निमदारी के अंदर वाले छोर में भी इसी प्रकार के स्तम्भ हैं। 
निमदारी  ज्यामितीय कटान अलंकरण का उदाहरण है। 

सूचना व फोटो आभार: राजेश कुकरेती

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है . भौगोलिक स्थिति व  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: यथास्थिति में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022
Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Pauri Garhwal     

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन निरंतर   

Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Pauri Garhwal      to be continued

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन निरंतर चलता रहेगा

5
बाराकोट (चम्पावत ) के एक भवन  (१ ) के एक भाग की काष्ठ कला अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन
-
Traditional House Wood carving Art of Barakot ,  Champawat, Kumaun 
कुमाऊँ ,गढ़वाल, के भवन ( बाखली,   खोली , )  में ' कुमाऊँ  शैली'   की   काष्ठ कला अंकन , अलंकरण, उत्कीर्णन  -652
 संकलन - भीष्म कुकरेती   
-
बाराकोट से कुछ भवनों की सूचना मिली हैं।  आज एक भवन में काष्ठ चर्चा होगी।  भवन का मुख्य बड़ा भाग  दुपुर व दुखंड है व बालकोनियाँ बनतीं हैं।  एक भाग तिपुर वाला है जिसकी चर्चा आज होगी।  तिपुर   वाले भाग में तल तल (भू मंजिल ) में काष्ठ कला दृष्टिकोण से कोई विशेष उल्लेखनीय संरचनाएं नहीं हैं।  पहले व दूसरे तल में बालकोनी पर जंगले  बंधे हैं व दोनों तलों के जंगलों या छाज या  झरना  में स्तम्भ स्थापित हुए हैं जो छज्जे से ऊपर शीर्ष तक हैं।  आधार पर भी रेलिंग हैं व रेलिंग मध्य लघु जंगले  स्थापित हुए हैं।  रेलिंग के मध्य XX I XX  नुमा सपाट लघु स्तम्भ लगे हैं। 
 बाराकोट  के इस बड़े भवन (बाखली ) के तिपुर  वाले भाग में   छाज , खंरे या जंगले  में   सपाट ज्यामितीय कटान की ही कला दृष्टिगोचर हो रही है। 
बाराकोट  के इस भवन संख्या १ में दूसरा भाग दुपुर  है व  तल तल (ग्राउंड फ्लोर ) में द्वारों व खड़कियों के द्वारों पर सपाट कटान की काष्ठ है।  पहले तल में छज्जों को खिड़कियों के द्वारों से ढका गया है व् आम कुमाउनी शैली के छाज ढक्कन नहीं दृष्टिगोचर हो रहे हैं। 
निष्कर्ष निकलता है कि  बाराकोट का भवन संख्या १ में  काष्ठ , गरा मिटटी कला में शैली में उत्कृष्ट निकट है।   बाराकोट भवन संख्या १  में  सपाट ज्यामितीय अलंकृत कटान ही दृष्टिगोचर हो रहा है। 
सूचना व फोटो आभार : जय ठक्कर संग्रह
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी।  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022

6

कोठार (पौड़ी ) के एक भवन के जंगले में   काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन

-
    Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Kothar Pauri Garhwal       

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन--651   


 संकलन - भीष्म कुकरेती   

-
कोठार में प्रस्तुत  जंगला दुपुर व दुखंड है व जीर्ण शीर्ण अवस्था में है।  भवन के पहले तल (मंजिल ) में बालकोनी में छज्जे पर चार स्तम्भ (खाम ) वाला जंगल अभी भी विद्यामन है व भवन अपने युवा काल में  आकर्षक भवनों में गिना जाता रहा होगा। 
भवन में जंगल में चार स्तम्भ दृष्टिगोचर हो रहे हैं।  स्तम्भों के आधार में छिलपट्टी  लगाकर मोटा कर दिया गया है।  स्तम्भों के आधारके कुछ  ऊपर व ऊपरी भाग में पृथ्वी समांनातर तीन चार  कटान किये गए हैं जो स्तम्भ को विशेष छवि प्रदान करते हैं। 
शेष भवन में काष्ठ कला  स्तम्भ कला जैसे ही ज्यामितीय ही है।   

सूचना व फोटो आभार: अरविन्द मुदगिल

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है . भौगोलिक स्थिति व  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: यथास्थिति में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022
ibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Pauri Garhwal     

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन निरंतर   

Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Pauri Garhwal      to be continued

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन निरंतर चलता रहेगा

7

बडोली (बडोळी )  के एक भवन में  काष्ठ कला

-
    Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Badoli, Ekeshwar Pauri Garhwal       

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन--650   


 संकलन - भीष्म कुकरेती   

-
 बडोली  से सुनील बडोला ने कुछ भवनों के चित्र भेजे हैं।  प्रस्तुत भवन प्रथम तल पर जंगल बंधा है।  जंगले  में स्तम्भ हैं।  स्तम्भ के आधार में मोटाई लिए हैं।  ड्यूल है फिर ऊपर कलयुक्त अंकन युक्त स्तम्भ है। 
स्तम्भ में कलयुत अन्न हुआ है।  स्तम्भ में कलयुक्त अंकन हुआ है। 

सूचना व फोटो आभार: सुनील बडोला

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है . भौगोलिक स्थिति व  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: यथास्थिति में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022
ibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Pauri Garhwal     

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन--   

8
 

 बलुती (नैनीताल ) के एक भवन में काष्ठ कला
-

   Traditional House Wood Carving Art in Baluti  Nainital; 
   कुमाऊँ, गढ़वाल, केभवन ( बाखली,तिबारी,निमदारी, जंगलादार मकान,  खोली, )  में कुमाऊं शैली की  काष्ठ कला, अंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन-649

संकलन - भीष्म कुकरेती
-
ग्रामीण नैनीताल  से कई काष्ठ कला युक्त भवनों की सूची मिलीं हैं अधिकतर FB  से।  आज बलुती के एक जीर्ण शीर्ण भवन की काष्ठ कला पर चर्चा होगी।  प्रस्तुत भवन दुपुर व दुखंड है।  भवन में खोली , दोनों छाजों  के स्तम्भों के अतिरिक्त अन्य कक्षों(दानों )  , मोरियों (खिड़की ) के द्वारों व स्तम्भों में ज्यामितीय कटान की कला विद्यमान है। 
खोली व दोनों छज्जों के स्तम्भ कला दृष्टि से एक समान हैं।  स्तम्भों के आधार में अधोगामी पद्म पुष्प दल , ऊपर ड्यूल व इसके ऊपर उर्घ्वगामी पद्म पुष्प की संरचना अंकन हुआ है।  इस संरचना के बाद खोली के स्तम्भ में ऊपर इसी संरंचना की पुनरावृति हुयी है।  छज्जों के स्तम्भ ऊपरी पद्म पुष्प दल के ऊपर सपाट दिख रही हैं। 
छायाचित्र से साक्ष्य होता है कि  भवन भव्य था व कष्ट कला दृष्टि से उत्तम प्रकार का था।
भवन में ज्यामितीय व प्राकृतिक अलंकृत कला दृष्टिगोचर हो रही है।  संभवतया खोली के शीर्ष (मुरिन्ड , मथिण्ड ) में कोई देव आकृति रही होगी।
सूचना व फोटो आभार: उमेश नगरकोटी  (FB )
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी।  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: नाम /नामों में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022 
raditional House Wood Carving Art in Nainital;  continued
   कुमाऊँ, गढ़वाल, केभवन ( बाखली,तिबारी,निमदारी, जंगलादार मकान,  खोली, )  में कुमाऊं शैली की  काष्ठ कला, अंकन,अलंकरण, उत्कीर्णन निरंतर

9


  तपोण  गांव (जोशीमठ , चमोली ) के एक भवन  संख्या १  की पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन
-
Traditional House Wood Carving Art from  Tapon, Joshimath, Chamoli   
 गढ़वाल, के  भवन (तिबारी, निमदारी,जंगलादार मकान, बाखली,खोली) में पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन, -649
( काष्ठ कला पर केंद्रित ) 
 
 संकलन - भीष्म कुकरेती     
-
चमोली गढ़वाल में प्राचीनतम से लेकर नई शैली के काष्ठ कलयुक्त भवनों की सूची मिलीं हैं।  आज तपोण  गांव (जोशीमठ , चमोली ) के एक भवन की काष्ठ कला शैली पर चर्चा होगी।
तपोण  गांव (जोशीमठ , चमोली ) का प्रस्तुत भवन  दुपुर  व दुखंड है।  प्रस्तुत भवन में तल तल (ground floor ) व पहले तल पर काष्ठ कला महत्वपूर्ण है।
 भवन के तल तल में एक कक्ष को छोड़ अन्य कक्षों व खड़कियों के द्वार  ज्यामिति कटान से निर्मित हैं।  खोली के द्वार भी सपाट हैं किन्तु स्तम्भ कलेक्ट व अंकन युक्त हैं।  स्तम्भों के आधार में अधोगामी पद्म दल की संरचना उत्कीर्णित हुयी है , ऊपर ड्यूल है व इसके ऊपर एक चौखट में स्वयं हंस की गर्दन संरचना दृष्टिगोचर हो रही है।  इस विशेष  स्वयं गर्दन संरचना (जो अब तक के सर्वेक्षण में  गढ़वाल में कम ही पायी गईहै )  के ऊपर स्तम्भ तीन भागों में खड़ी / वर्टिकली में बंट गए हैं।  एक खड़े भाग में प्राकृतिक बेल बूटों का अंकन हुआ है जैसे केले के फल हों।  मुरिन्ड /मथिण्ड  (शीर्ष  की कड़ी ) चौखट है (जितनी छायाचित्र में दिख रही है ) व उस चौखट में चतुर्भुज या बहुभुजीय देव मूर्ति स्थापित हुयी है। 
भवन में पहले तल पर काष्ठ छज्जा बंधा है जिस पर जंगलें   स्थापित हुए हैं।  मुख्य जंगल पर दस या ग्यारह स्तम्भ हैं जो सपाट चौखट हैं।  आधार पर रेलिंग है व रेलिंग मध्य उप जंगल बंधा है जिस पर XIX  नुमा लघु स्तम्भ हैं।  सभी काष्ठ संरचनाएं ज्यामितीय कटान से निर्मित हुए हैं।
  निष्कर्ष निकलता है कि  तपोण  गांव (जोशीमठ , चमोली ) के  प्रस्तुत भवन में ज्यामितीय कटान , प्राकृतिक व मानवीय अलंकरण की कला विद्यमान है।  संभवतया देव मूर्ति धातु की है। 
सूचना व फोटो आभार: नंद किशोर हटवाल
यह लेख  भवन  कला संबंधित  है न कि मिल्कियत  संबंधी  . मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत:  वस्तु स्थिति में  अंतर   हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .
Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022 
Traditional House Wood Carving Art from     , Chamoli   
 गढ़वाल, के  भवन (तिबारी, निमदारी,जंगलादार मकान, बाखली,खोली) में पारम्परिक गढ़वाली शैली की  काष्ठ कला अलंकरण, उत्कीर्णन  अंकन

10
खुबानी (जह्रीखाल , पौड़ी गढवाल )  में भवन संख्या ३  के पहले तल में काष्ठ कला

-
    Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Khubani, Jahrikhal  Pauri Garhwal     

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन--648   


 संकलन - भीष्म कुकरेती   
-
आज  खुबानी के    दूसरे  भवन में जंगले  की  काष्ठ  कला पर  चर्चा होगी।  प्रस्तुत चित्र में दो जंगलेदार  भवन हैं आज पहले तल पर स्थापित जंगले  की काष्ठ कला पर चर्चा होगी।  प्रस्तुत भवन दुपुर  व दुखंड है।  आधार तल पर कोई काष्ठ संरचना के दर्शन नहीं हो रहे हैं।  पहले तल में आकर्षक जंगला बंधा है जो भवन को प्रसिद्धि दिलाने में सफल हुआ है। 
भवन में काष्ठ छज्जा स्थापित है जिस पर दस स्तम्भों से अधिक का जंगल बंधा है।  जंगल की विशेषता यह है कि  जंगले   के बड़े स्तम्भों के ऊपरी भागों में तोरणम निर्मित हुए हैं।  तोरणम के स्कंध में संभवतया बेल बूटों की कला अंकित हुयी है।
मुख्य जंगले   के आधार पर एक अन्य जंगला स्थापित हुआ है। काष्ठ छज्जे के ऊपर  एक दो फिट के ऊपर एक कड़ी (रेलिंग ) है व जिस पर लघु स्तम्भ स्थापित हुए हैं।  यह आधार का जंगल व मुख्य जंगले पर तोरणम इस भवन को विशेष बना देते हैं। 
भवन में ज्यामितीय कटान की ही कला है किन्तु आकर्षक शैली है।  संभवतया तोरणम में प्राकृतिक अलंकरण हुआ है। 

सूचना व फोटो आभार: रघुबीर सिंह बिष्ट

यह लेख  भवन  कला संबंधित  है . भौगोलिक स्थिति व  मालिकाना   जानकारी  श्रुति से मिलती है अत: यथास्थिति में अंतर हो सकता है जिसके लिए  सूचना  दाता व  संकलन कर्ता  उत्तरदायी  नही हैं .

Copyright @ Bhishma Kukreti, 2022

Tibari, Traditional  House Wood  Art  and Carving Art in House of, Pauri Garhwal      to be continued

पौड़ी गढ़वाल, के  भवनों  (तिबारी,निमदारी,जंगलेदार मकान,,,खोली ,मोरी,कोटिबनाल ) में  गढवाली  शैली   की  काष्ठ कला अलंकरण,  उत्कीर्णन , अंकन निरंतर चलता रहेगा

Pages: [1] 2 3 4 5 ... 10