Author Topic: Districts Of Uttarakhand - उत्तराखंड के जिलों का विवरण एवं इतिहास  (Read 78604 times)

purushotamsati

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 601
  • Karma: +3/-0
Districts Of Uttarakhand -CHAMOLI
« Reply #90 on: January 02, 2010, 07:59:45 PM »
Gwaldham

About 3 Kms from Baijnath, the main highways goes to Bageshwar and a side road branches off to Gwaldam. This is a delightful route as besides the presence of birds, adding a winsome note, one passes through terraced fields and thick pines set against a backdrop of the Himalayas, and one can watch the Trishul peaks coming even closer. Gwaldam with its salubrious climate is a little heaven nestling in the woods. In this area, upto Talwari , there are several orchards generally of apple. From Gwaldam, the road winds its way through dense forests and terraced fields dotted with rustic cottages of small towns known as Tharali and Narain Bagar to meet the Ranikhet-Pandukhal road at a place called Simli, which is 8 Km short of Karnaprayag. Gwaldam is 149 Km from Nanital and 22 km from Baijnath.

Kagbhusandi Lake

This is a small oblong lake with emerald green water. It is at an altitude of 5230 m near Kankul Pass(5230 m), and is almost a kilometer in length. Myriad blossoms decorate its banks during the season, a wildest profusion of colours make the trekker forget the hardships and the exhaustion of the trek. Set in the lap of Hathi Parvat (6730 mts.), the lake can be approached either from Bhiundhar village, near Ghangria, or from Vishnu Prayag. The trek from the former is a little easier in gradient, but is longer. The trek from Bhiundhar passes through thick bear-infested, forests and stretches of stinging nettles. The only shelters here are the shepherd huts. This trek also involves walking long distances across glacial moraines and over slippery rocks. Two huge rocks on a spur of Hathi Parvat are described as a crow(Kaga) and an Eagle (Garuda). The locals believe that the crow is animatedly conversing with Garuda on the affairs of the universe. Another version has it that a learned Brahmin of Ayodhya once incurred the wrath of the sage Lomas who lived here and was changed into the form of crow by the sage.

Nandadevi Sanctuary

The Sanctuary has been converted to a National Park and temporarily closed for visitors on environmental considerations. It has an average altitude exceeding 4500 m and is surrounded by as many as seventy ofty peaks, the Nandadevi (7817 m) being the highest. It is in the form of cup with lush green meadows, chuting white waterfalls, and rich wild flora and fauna. Sir Edmund Hillary described the Sanctuary as a god-gifted wilderness - India's training ground for adventure - and truly so. Eric Shipton wrote, amongst many superlatives for the Sanctuary, "All around us was mountain architecture more magnificent even than the great southern battlements of Everest ". Joshimath is the base for collection of stores, provisions, porters, guides etc. One route approaches the Sanctuary from Lata, on the Joshimath-Malari Route. One trek from there to Lata Kharak, an open, wild and grassy hilltop, providing a fabulous mountainscape all around.

The Lata Kharak

Dharansi Pass appears to be a long trek with many ascents and descents yet everything is forgotten when Nandadevi comes into view on crossing the pass. The trek follows a ridge traversing rocky surface till Malatuni Pass, where the other trek route from Rini (near Lata) following the Rishi Ganga river generally, via Kalikuna and Chinwari, meets. It is continuous descent of about 800 metres through alpine grassland thereafter, before Rishi Ganga is crossed at Deodi, wherefrom Trishul - Base camp trek via Bethartoli and Tridang bifurcates. Debrugheta meadow with its floral designs and the grandstand view of peaks around it is exhilarating. The Deodi - Ramni trek passes through dense forests of Junipers and Varieties of Rhododendrons. The Sanctuary opens up there.


purushotamsati

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 601
  • Karma: +3/-0
Districts Of Uttarakhand -CHAMOLI
« Reply #91 on: January 02, 2010, 08:00:47 PM »
Hemkund Sahib

Hemkund ( Lake of gold), is situated nearly 29 kms from Joshimath via Govindghat, is set in one of the famous beauty spots of the central Himalayas and has a lake of crystal clear water located in beautiful surrounding. The glaciers from Hathi Parvat and Sapt shring peaks feed the lake and a small stream called Himganga flows out of the lakes. It is believed that Guru Govind Singh , the 10th Guru of the Sikh faith had meditated on the bank of this lake in one of his earlier births, as alluded to in the holly Granth sahib. There is a Sikh Gurudwara and a Lakshman Temple build on the bank of the lake. It is believed Lakshmana was brought here after he fell unconscious in the war with Ravana.

Kuari Pass

"Standing at the Kuari Pass facing north, the vision sweeps from the gorges of Trishul in the east to the peaks of Kedarnath in the west - the Kedarnath, Chaukhamba, Nilkantha, Kamet, Gauri Parbat, Hathi Parbat, Nandadevi, Bethartoli, Dunagiri - all arranged in a stupendous arc … Southwards the foothills stretch wave upon wave on to the dim haze of the distant plains". Lord Curzon went upto the Kuari Pass in 1905. So the trek is called Curzon Road. One can approach the Pass from Tapovan via Khulara, or Joshimath via Auli, Gorson, Chitrakantha; or Joshimath via Mrig, Tugasi, Khulara. All the above three treks meet at Gailgarh, only 5 kms. north of Kuari Khal (Pass). From the south the Pass can be reached from Ghat via Ramni but is longer than the other three, of which the Tapovan route is the shortest (21 kms.). Auli and Gorson Bugyals are charming meadows and the nature - lovers prefer to use this route for outward trek and return by Tapovan route. The Ghat route is favourite with trekkers. The entire area is rich in exotic flora and fauna besides primitive jungles with associated hazards. The beautiful range of Delisera is only a day's trek from the Kuari Pass. It presents a spectacular sight. On the far side of it is the Nandadevi Sanctuary. Snow on the range is visible till about August when it melts entirely and await the next winter.

Rudranath Temple

It is one of the panch Kedars. The face of Lord Shiva is worshipped at Rudranath temple in a natural rock temple as Neelkantha Mahadeva. Lord Shiva is worshipped here as Neelkantha. The temple is situated amid thick forest at a height 2286 m. From Gopeshwar 4 kms motorable road is available upto village Sagar from where 20 kms. trek leads to Rudranath and can be approached from Joshimath as well, by trekking about 45 kms. The temple provides magnificent view of Hathi Parvat , Nandadevi, NandaGhunti, Trishuli and many other. There are numbers of holy Kunds (Tanks) near Rudranath temple namely Suryakund, Chandrakund, Tarakund etc. The Baitarini, the divine river flows pass behind the temple.


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
टिहरी गढ़वाल के इतिहास में शायद पहली बार सन् 1850 के आसपास विलसन ने अछूते शंकु वनों का 400 रुपए की नाममात्रा वार्षिक राशि देकर अप्रतिबंधित पट्टा हासिल कर लिया। जंगल के पट्टेदार के रूप में विलसन ने निस्संदेह ऊंचे पहाड़ों के अछूते जंगलों का अंधाधुंध विनाश किया। करीब 15 बरस तक वह पूरी निष्ठुरता से अपना कुल्हाड़ा चलाता रहा और उसने टकनौर, बाड़ाहाट तथा भंदर्सू के पहाड़ों को देवदार के पके वृक्षों से विहीन कर दिया। उसके दोहन ने चुन-चुन कर सबसे बढ़िया माल उठा लिया और काटे हुए अधिकांश पेड़ों को जंगल की धरती पर सड़ने के लिए छोड़ दिया।

एस.पी. साही ने नॉर्दर्न फारेस्ट रेंजर्स कॉलेज मैगजीन के सन् 1961-62 के अंक में लिखा है कि विलसन द्वारा जंगल में छोड़े गए माल, वृक्षों के लट्ठे और पुराने ठूंठों के दूर-दूर तक फैले कब्रिस्तान थे। मौसम के विनाशकारी थपेड़ों की मार खाते हुए इन्हें लगभग एक शताब्दी का लंबा समय गुजर चुका था।

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
तो राज्य में जल्द होंगे 18 जिले !
विकास धूलिया, देहरादून प्रदेश सरकार विधानसभा चुनाव की नजदीकी को देखते हुए राज्य में जल्द नए जिलों के गठन की तैयारी में है। अगर सब कुछ योजना के मुताबिक हुआ तो इसी महीने पांच नए जिले अस्तित्व में आ सकते हैं। इनमें से दो नए जिले गढ़वाल और तीन कुमाऊं में गठित किए जाने की तैयारी है। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए अब चंद महीनों का ही वक्त बाकी है। इस कारण चुनावी वर्ष में प्रदेश भाजपा सरकार लोक लुभावन घोषणाओं में कोई कमी नहीं कर रही है। इस कड़ी में प्रदेश सरकार इन दिनों राज्य में कुछ जिलों के गठन की तैयारी में है। नए जिलों के सृजन में अब तक अड़ंगा यह लग रहा था कि कुछ समय पहले तक जनगणना प्रक्रिया के कारण नई प्रशासनिक इकाइयों के गठन पर रोक थी। अब जबकि सरकार के समक्ष इस तरह की कोई बाध्यता नहीं है, इस बात की प्रबल संभावना नजर आ रही है कि शीघ्र नए जिलों की घोषणा कर दी जाए। दरअसल, राज्य की भाजपा सरकार की रणनीति राज्य के अलग-अलग हिस्सों में काफी लंबे समय से उठ रही नए जिलों की मांग को पूरा कर ऐन चुनाव के वक्त भाजपा के पक्ष में माहौल तैयार करने की है। यह बात दीगर है कि राजस्व विभाग के स्तर पर नए जिलों के गठन को लेकर कोई बहुत अधिक होमवर्क अभी तक नहीं हुआ है। राज्य में जिन नए जिलों के गठन की मांग वर्षो से उठती रही है, उनमें कोटद्वार (पौड़ी गढ़वाल), काशीपुर (ऊधमसिंह नगर), रानीखेत (अल्मोड़ा), पुरोला (उत्तरकाशी), डीडीहाट (पिथौरागढ़) मुख्य हैं। इसके साथ ही पिछले कुछ महीनों से कुछ अन्य जिलों के सृजन की मांग भी राज्य के अलग-अलग हिस्सों से उठी है। इनमें धुमाकोट, रामनगर, प्रतापनगर, बड़कोट, बीरोंखाल, रुड़की आदि शामिल हैं। उपलब्ध जानकारी के अनुसार, जिन मौजूदा जिलों का विभाजन कर नए जिलों का सृजन किए जाने की संभावना है, उनमें पौड़ी गढ़वाल, ऊधमसिंह नगर, अल्मोड़ा, उत्तरकाशी ल्लऔर पिथौरागढ़ शामिल हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों भाजपा प्रदेश प्रभारी थावर चंद गहलौत ने भी नए जिलों के गठन के संकेत दिए थे। इस लिहाज से संभावना जताई जा रही है कि सरकार 15 अगस्त को इस तरह की घोषणा कर सकती है।  srot - dainik jagaran

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
लाखामंडल बने यमुनोत्री जिला मुख्यालय
====================


कांडोई-बौंदूर क्षेत्र और उत्तरकाशी जिले के डेढ़ दर्जन से अधिक जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर लाखामंडल को यमुनोत्री का जिला मुख्यालय बनाने की मांग की है। जनप्रतिनिधियों ने कहा देवनगरी लाखामंडल उत्तरकाशी और टिहरी दोनों जिले का केंद्र बिंदु है।

रविवार को लाखामंडल में आयोजित जनप्रतिनिधियों की बैठक में कांडोई-बौंदूर व उत्तरकाशी क्षेत्र के डेढ़ दर्जन ग्रामप्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने यमुनोत्री जिला मुख्यालय विषय को लेकर चर्चा की। जनप्रतिनिधियों ने कहा यमुनोत्री का जिला मुख्यालय बनाने को देवनगरी लाखामंडल उपयुक्त है।

धौरा-पुड़िया की ग्रामप्रधान अनिता, कांडोई की ग्रामप्रधान दर्शनी देवी, क्षेत्रपंचायत सदस्य लावड़ी रणवीर सिंह, ग्रामप्रधान मौठी, रोशनी देवी व उत्तरकाशी के ग्राम पंचायत छमरोटा के प्रधान रामप्रसाद व धारी के ग्रामप्रधान दिनेश रावत ने कहा यमुनोत्री जिला मुख्यालय बनाने को लाखामंडल से बेहतर कोई जगह नहीं है।

उन्होंने कहा लाखामंडल उत्तरकाशी व टिहरी दोनों जिले का केंद्र बिंदु है। उन्होंने इस संबंध में सीएम को ज्ञापन प्रेषित कर लाखामंडल को यमुनोत्री जिला मुख्यालय बनाने की मांग की है।


Source Dainik jagran

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,329
  • Karma: +22/-1
    गंगा सलाण में शिल्पकार डोला पालकी आन्दोलन

                              भीष्म कुकरेती   



       जब भी कोई बड़ा आन्दोलन छिड़ता है तो साथ में कई स्थानीय सामजिक आन्दोलन भी चलने लगते हैं।
जब भारत व उत्तराखंड में स्वतंत्रता आन्दोलन  रहा था तो उत्तराखंड में भी कई स्थानीय सामजिक आन्दोलन भी उभर कर आये।
छोटे वर्ग के ब्राह्मणों द्वारा सर्यूळ ब्राह्मणों से  कई तरह से प्रतियोगिता में आना और कहीं कहीं बहिस्कार भी । ब्राह्मणों की कई जातियों द्वारा पहली बार हल चलाना भी इसी युग में देखा गया। स्वतंत्रता के एकदम बाद कई जगह कास्तकारों /खैकरो द्वारा उस जमीन को हडपना जिस जमीन पर वे सदियों से खेती कर रहे थे किन्तु मालिकाना हक नही मिल रहा था आदि भी स्वतन्त्रता आन्दोलन की ही देन है।

                             शिल्पकार संबंधी आन्दोलन


 उत्तराखंड में आर्य समाज और  आजादी की लड़ाई में शिल्पकारों में एक चेतना जागरण हुआ कि उन्हें भी मानवीय अधिकार मिलने चाहिए। ब्रिटिश क़ानून और जागरण के कारण शिल्पकारों को विद्यालयों में शिक्षा सुलभ हुयी।
आर्य समाज जनित जनेऊ आन्दोलन तकरीबन हर गाँव में चला। धीरे धीरे सवर्णों  ने शिल्पकारों के जनेऊ पहनना स्वीकार किया।
 गढ़वाल कुमाओं में शिल्पकारों द्वारा एक आन्दोलन बहुत लम्बा चला वः आन्दोलन था 'डोला -पालकी आन्दोलन' . शिल्पकार मनीषी व विचारक विनोद शिल्पकार लिखते हैं कि डोला पालकी आन्दोलन उत्तराखंड के मूल निवासी आर्य शिल्पकार जाति  के लोगों के स्वाभिमान का प्रतीक व  उनके मानवीय अधिकार प्राप्ति का एक ऐतिहासिक आन्दोलन था।

                              डोला पाली आन्दोलन की शुरुवात

    इतिहासकारों जैसे श्री विनोद शिल्पकार  आदि ने डोला पालकी आन्दोलन सन 1923 से 1947 तक माना जब कि उत्तर प्रदेश विधान सभा ने 'अयोग्यता निवारक अधिनियम ' बिल स्वीकृत किया किन्तु सन 1978 के करीब कुमाऊं का बलेछी काण्ड बताता है कि यह आन्दोलन कहीं अधिक सालों तक चला।  ढांगू पौड़ी गढ़वाल क्षेत्र में  सन 1952 -55 तक कई बार शिल्पकारों को डोला पालकी   से रोका गया। मऴळ (मल्ला ढांगू ) के जोगेश्वर प्रसाद कुकरेती आदियों को कैद भी किया गया था।

               रिवाज था कि शिल्पकार शादी में वर -वधू को डोला -पालकी में नही ले जा सकते थे।
 जबआर्य समाज, स्वतन्त्रता आन्दोलन व  इसाई धर्म परिवर्तन आन्दोलन से शिल्पकारों में अपने मानवीय अधिकारों को लेकर चेतना स्फुरण हुआ तो वरु वधू को डोला पालकी में ले जाने का आन्दोलन भी सामने  आया। चूँकि उस समय लेखक ब्राह्मण या राजपूत जाति के ही अधिक थे तो डोला पालकी का क्रमगत नही मिलता।
 श्री  विनोद शिल्पकार ने कुछ घटनाओं का संकलन किया है। डा शिव प्रसाद डबराल ने भी उत्तराखंड का इतिहास (ब्रिटिश काल ) में शिल्पकार आन्दोलन का जिक्र किया है किन्तु विनोद शिल्पकार इसे अपूर्ण व  गलत सूचनाओं के आधार वाले घटनाएँ बताकर खारिज करते दीखते हैं।
          सन 1923 में दुगड्डा के पास बोरगांव से कांडी (पट्टी बिचलोट) में डोला पालकी आन्दोलन हुआ।  सन   1924 में कोरिखाल से बिन्दलगांव की डोला पालकी शिल्पकार बरात पर हमला हुआ. बरात चार दिनों में वापस आई, श्री जयनन्द भारतीय व पंडित अर्जुन देव इस बरात में  शामिल थे
                                                ग्राम गोदी , लंगूर में डोला पालकी कांड

             2 फरवरी 1929 को श्री पंचम सिंह की पालकी वाली वारात गोदी से बिसोखी जा रही थी। डाडामंडी के पास सवर्णों ने बारात पर हमला क्र दिया। तीन दिन तक बाराती नदी  किनारे बैठे रहे। पटवारी कानूनगो की मदद से बरात बिसोती पंहुची। वापसी पर सवर्णों ने बारात पर हमला किया और डोला पालकी को भेळ में फेंक दिया या कहें तो लूट लिया। 19 दिनों तक बरातियों ने धरना दिया। तब जाकर 21 फरवरी को सरकारी संरक्षण में बरात वापस गोदी पंहुची।

                                      लंगूरी -मैन्दोली क्षेत्र में डोला पालकी आन्दोलन 

                   सन 1933 में लंगूरी मैंदोली क्षेत्र में शिल्पकारों की डोला पालकी बरात पर हमला हुआ और केस निचली अदालत में पंहुचा। निचली अदालत ने सवर्णों के पक्ष में निर्णय सुनाया। किन्तु 21 फरवरी  1936 को अलाहावाद उच्च न्यायालय ने शिल्पकारों के पक्ष में निर्णय दिया। यह दिन डोला पालकी आन्दोलन का एक सुवर्ण दिन माना जाता है।

                                         
                                          दुगड्डा में शिल्पकार सम्मेलन


    शिल्पकार जातीय उधार अभियान के तहत डोला पालकी आन्दोलन चला रहे थे तो स्वर्ण इस नये रिवाज के विरुद्ध में शिल्पकारों के डोला पालकी बरात में विघ्न डाल रहे थे। तब शिल्पकारों ने एक विशाल जन सभा का दुगड्डा में किया। आयोजकों ने सरकार को अल्टीमेटम दिया कि यदि डोला पालकी में सवर्णों द्वारा विघ्न को रोका नही गया तो शिल्पकार सत्याग्रह करेंगे।
                    यहीं 24फरवरी 1929 को पांच हजार शिल्पकारों ने इसाई धर्म अपनाने का निर्णय लिया। लेकिन आर्य समाजी नेताओं के समझाने से यह निर्णय समाप्त किया गया। किन्तु यह भी सत्य है कि दुगड्डा के नजदीक बोरगाँव और बिंदलगाँव के कुछ हरिजन इसाई बन ही गये।
                                           तिमल्याणी उदयपुर (यमकेश्वर) डोला पालकी काण्ड

                 जून 1939 में तिमल्याणी में शिल्पकारों की डोला पालकी वाली बरात पर सवर्णों ने हमला किया और डोला पर आग लगा दी गयी। पटवारी और कानूनगो की भी कुछ नही चली। तब श्री जया  नन्द भारतीय ने उत्तर प्रदेश के प्रधान मंत्री श्री गोविन्द  पन्त को  भेजा गया। फिर बरात सरकारी संरक्षण में निकाली गयी।
           किन्तु रिवाज टूटने के भय से सवर्णों ने सरकारी नियमों को नही माना और सभी जगह शिल्पकारो के डोला पालकी का विरोध होता  रहा। सन   1940 में ओडगांव (एकेश्वर) की घटना इतिहास में  है जब शिल्पकार शिरोमणि श्री गंगा राम आर्य के नेतृत्व में गैंगी लडकी की बरात जा रही थी तो डोला पर आग लगा दी गयी।

                                            कस्याळी (उदयपुर पट्टी ) डोला पालकी काण्ड

   जिस जनरेसन का मई हूँ उस युग वालों को कस्याळी कांड की याद अवश्य होगी। मैंने भी बचपन में कस्याळी कांड के बारे में सुना  था। कस्याळी उ . प्र के  .भुत पूर्व मंत्री स्व श्री जगमोहन सिंह नेगी  का पैत्रिक गाँव है।
            जून  1945 के दिन कस्याळी से जिठवा  शिल्पकार युवक की बरात ग्वाड़ी  गाँव जानी थी। हरिद्वार से आर्यसमाजी नेता पंडित वेद  व्रत शर्मा, स्वामी ओम  प्रकाशानंद व  ब्रह्मचारी बालकराम जी भी बरात में थे। दुल्हे को  डोला में जाना था किन्तु आस पास के  गाँवों से सैकड़ों स्वर्ण डोला रोकने के लिए इकट्ठा हो गये थे। इस पर दोनों समुदायों के बीच  हुयी कि गाँव में वर पालकी में नही बैठेगा।
 ग्वाड़ी गाँव में बरात तो पंहुच गयी। वहां भी सैकड़ों की संख्या में आस पास गे गाँवों से स्वर्ण आ गए थे। स्थिति अत्यंत तनावपूर्ण हो गयी थी। स्वर्ण डोला पालकी ही नही। वर पक्ष को वधू झबरी को  नही ले जाने की हठ  बना रखे थे।
फिर यह निश्चय हुआ कि यदि वर पक्ष का हरेक बाराती  पचास पचास रुपया दंड भरेगा तो   वधू गाँव से जा सकेगी। आर्यसमाजी नेताओं ने बात   नही मानी।
 जब झबरी व जिठ्वा की बरात डोला -पालकी में चली तो कुछ नही हुआ। गाँव के बीच में  सैकड़ों स्वर्ण आ गये और गाँव के शिल्पकार डॉ कर भाग खड़े हुए किन्तु आर्य समाजी नेताओं ने डोला पालकी को कंधे पर उठा लिया।  फिर रास्ते में सवर्णों द्वारा डोला पालकी को छीना  गया। बारात समूह   छिन्न भिन्न हो गया। हरिद्वार से आये नेताओं को भी चोट आई और इन्हें रात में किसी खेत में काटना पड़ा। लमखेत के श्री हीरा लाल टमटा ने इन नेताओं को शरण दी। वास्तव में रुक   गयी। 30 जून 1946 को पटवारी और कानूनगो के संरक्षण में बरात विदाई हुयी। यह संघर्ष एक साल तलक चला। इसीलिए इतिहास में कस्याळी काण्ड एक प्रमुख घटना मानी जाती है।

                         गढ़वाल के शिल्पकारों के अधिकारों को रास्ट्रीय स्तर पर ले जाना


      फिर इन नेताओं व अन्य शिल्पकार नेताओं ने अपना आन्दोलन  कर र दिया, तीनो नेता दुगड्डा पंहुचे। यंहा से इन नेताओं ने डोला पालकी अधिकार की सभी बातें कौंग्रेस के रास्ट्रीय स्तर के नेताओं, हिन्दू महासभा के नेताओं व  तक पत्र लिखकर बात पंहुचायी।
इसी समय जवाहर लाल नेहरु कोटद्वार चुनावी सभा में पंहुचे थे। वहां नेहरु जी ने इनकी बात सुनी  और अपना भाषण भे डोला पालकी से शुरू किया और सवर्णों से नेहरु जी ने प्रार्थना की कि वे शिल्पकारों के मानवीय अधिकार ना छीने।
नेहरु जी ने गढ़वाल चुनावी  भ्रमण में हर सभा में डोला पालकी की बात की। इस चुनावी भ्रमण में श्री बलदेव सिंह आर्य नेहरु जी के साथ ही रहे थे।
इस दौरान समाचार माध्यमों में डोला पालकी प्रकरण संबंधी  कई लेख प्रकाशित  हुए और शिल्पकार अधिकारों को समाज के सामने  रखा गया
गांधी जी ने भी डोला -पालकी पर लेख लिखा व श्री पन्त को एक आदेसयुक्त  पत्र भी लिखा।
सन 1947  में डोला पालकी  का विधेयक ' अछूत योग्यता निवारक बिल' के साथ पास किया गया। श्री बालकराम आर्य , प. वेद व्रत के अनुसार पन्त जी ने उन्हें धोखा  दिया कि डोला पालकी बिल अलग से क्यों नही पास किया
 
 बिल पास होने के बाद भी शिल्पकारों द्वारा डोला पालकी प्रयोग का विरोध होता रहा किन्तु धीरे धीरे शिल्पकारों को उनके अधिकारों को सामजिक  मान्यता मिली।

सन्दर्भ -विनोद शिल्पकार , 2009, उत्तराखंड का उपेक्षित समाज और उसका साहित्य )


Copyright@ Bhishma Kukreti 10/7/2013 आयोजन

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22