Author Topic: Etymology & Geography - उत्तराखंड,गढ़वाल तथा कुमाऊ की नामोत्पति,और भूगोल  (Read 21177 times)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,048
  • Karma: +59/-1
७-सौन्दर्य स्थालियाँ

उत्तराखंड हिमालय विश्व-बिख्यात तीर्थों बद्रीनाथ,केदारनाथ आदि हैं,यहाँ आकर वर्ष भर लाखों यात्री प्रकिरती की सौन्दर्यमयी वन-वाटिका का आनन्द प्राप्त करते हैं!फूलों की घाटी रुद्रनाथ,

तुंगनाथ,कालीमठ,रूपकुंड,पिंडारी,ग्लेशियर,वैजनाथ,चौकारी,मुनस्यारी,चौख्टिया,भुवाली आदि रमणीक स्थान विभिन्न प्रकार के फल-फूलों,जड़ी-बूटियों तथा विर्क्षों के दर्शन करते हैं !

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,048
  • Karma: +59/-1
८-वन्य प्राणी

राज्य के वनों में विभिन्न प्रकार के वन्य-प्राणी पाए जाते है ! यहाँ पाए जाने वाला कस्तूरी मिर्ग संसार भर में प्रशिध है ! इसके अतिरिक्त रीछ,बाघ,काखड,घुरड,शेर,चिता,जंगली सूअर,बारहसिंघा,आदि मूल्यवान वन्य जीव-जंतु पाए जाते हैं !उंचाई वाले क्षेत्रों में मनमोहक मुनाल पक्षी पाया जाता है !

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,048
  • Karma: +59/-1
उत्तराखंड की वन नीती



१-उत्तराखंड के वनों का पर्यावर्णीय स्थिरता तथा पारिस्त्तिथिक संतुलन स्थापित करना !

२-जैव विविधता तथा वन्य जंतु संरक्षण !

३-प्राकिर्तिक वनों तथा विर्क्षारोपन का वैज्ञानिक एवं टिकाऊ प्रबंध !

४-बंजर भूमि ,नदियों,जलाशयों तथा जल स्रोतों का विकास,जलागम क्षेत्र में वनीकरण मिटटी व भूमि-संरक्षण !

५-वनों की उत्पादकता में विरधी करना !

६-इंधन चारा तथा काष्ठ आदि वनोपजों द्वारा स्थानीय दुर्लभ आर्थिक स्थिति वाले परिवारों की सहायता !

७-वैकल्पिक स्रोतों का पता लगाना !

८-वनों तथा ब्य्व्साहिक पर्यटन के माध्यम से से स्वरोजगार के साधन जुटाना !

९-स्थानीय जनता की सहभागिता,वन-पंचायत तथा संयुक्त  वन-प्रबंधन को प्रोसाहित करना तथा समग्र विकास में महिलाओं की भूमिका सुनिश्चित करना !

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22