Author Topic: Facts Freedom Struggle & Uttarakhand Year wise- आजादी की लडाई एव उत्तराखंड तथ्य  (Read 12618 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
कब क्या हुआ ?

1937- संयुक्त प्रान्त के चुनावों में उत्तराखण्ड से हरगोविन्दपन्त, जगमोहनसिंह नेगी, आनन्द सिंह, अनुसूया प्रसाद बहुगुणा, रामप्रसाद टम्टा का चयन।

1937 - फरवरी में लैंसडौन से कर्मभूमि पत्र का प्रकाशन। भक्तदर्शन, भैरवदत्त धूलिया का जुड़ाव।

1938 - 5, 6 मई श्रीनगर में राजनैतिक सम्मेलन। मुख्य अतिथि जवाहर लाल एवं विजयलक्ष्मी पण्डित।

1938 - गुमखाल से आगे पौड़ी तक सड़क बनाने के लिए 7 नवम्बर से गाड़ी सड़क आन्दोलन उग्र हुआ। सभी प्रतिनिधि सभाओं के प्रतिनिधियों ने इस्तीफे दिए।

1938 - 23 जनवरी, एम.एन.रॉय की अध्यक्षता में राजपुर (देहरादूनद्) में ‘टिहरी प्रजामण्डल’ की स्थापना।

1939 - 30 जून को दुगड्डा में राजनीतिक सम्मेलन, नेहरू जी का आगमन, सम्मेलन में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल।
1939 - 29,30 अक्टूबर को उभ्याड़ी (रानीखेत) में राजनीतिक सम्मेलन।

1940 - 8 दिसम्बर, डाडामण्डी कांग्रेस भवन में सत्याग्रह की रूपरेखा तैयार की गई।

1941 - डोला-पालकी के प्रश्न पर महात्मा गांधी द्वारा ब्रिटिश गढ़वाल में व्यक्तिगत सत्याग्रह पर प्रतिबन्ध।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
कब क्या हुआ ?

1941 - 23 फरवरी, डोला-पालकी कुप्रथा को समाप्त करने के लिए लैंसडौन में सम्मेलन। बलदेव सिंह आर्य एवं कलम सिंह को कुप्रथा समाप्त करने वाली कमेटी में रखा गया।

1941 - नैनीताल, हल्द्वानी, काशीपुर में व्यक्तिगत सत्याग्रह में भाग लेने के कारण कई महिलाओं को कारागार में भेजा, चमोली तहसील में 118 लोग गिरफ्तार, जिनको 1 दिन से 1 साल तक की सजा हुई।

1942 -भारत छोड़ो आन्दोलन के तहत देहरादून, नैनीताल, अलमोड़ा, पौड़ी में सैकड़ों लोगों की गिरफ्तारी हुई, जिन्हें देहरादून, बरेलीे, बिजनौर, देहरादून, रामपुर व अन्य जेलों में भेजा गया।

1942 - अगस्त में देघाट मल्ला में आन्दोलन को दबाने के लिए गोरी पुलिस के गोलीचालन से दो नवयुवक शहीद।

1942 - 5 सितम्बर को सल्ट के खुमाड़ में आन्दोलनकारियों पर पुलिस के गोली चालन में चार नवयुवकों की मौत। गांधी जी ने कुमाऊं की बारदोली कहा।

1942 - 31 अगस्त को देहरादून के डी.ए.वी. कालेज में छात्रों द्वारा धारा 144 का उल्लंघन कर गिरफ्तारियां दीं।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
कब क्या हुआ ?

1944 - 25 जुलाई, श्रीदेव सुमन की टिहरी जेल में 84 दिन के अनशन के बाद मृत्यु।

1944 - गैर भारतीय मूल की सरला बहिन को आन्दोलन के लिए महिलाओं को उकसाने व
आन्दोलनकारियों के परिवारों की सहायता करने लिए 2 माह का कारावास।

1946-26 मई में गंाधीजी का दुबारा देहरादून आगमन। 1947 - 22 मार्च देहरादून के भोगपुर नरदेव शास्त्री की
अध्यक्षता में राजनीतिक सम्मेलन।

1947 - ब्रिटिश संसद में 18 जुलाई को माउन्टबेटन योजना के तहत एक्ट पारित कर देश विभाजन कर दो देश मुल्क बना दिए गए।

1947 - 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ। सभी जपनदों के कलेक्ट्रेटों पर यूनियन जैक के स्थान
पर तिरंगा फहराया गया।

1948 - 11 जनवरी, नागेन्द्रदत्त सकलानी एवं मोलू भरदारी कीर्तिनगर में पुलिस गोली के शिकार।

1948- जनवरी में टिहरी रियासत पर जनता का कब्जा, 1 फरवरी 1948 को अन्तरिम सरकार बनी।

1949 - 1 अगस्त, रियासत टिहरी का संयुक्त प्रान्त में विलय।

(संकलन: एल. मोहन)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
                     कब क्या हुआ था :?
               ================


 
1897      कोटद्वार-नजीमाबाद रेलसेवा शुरू

1899      काठगोदाम रेलसेवा से जुड़ा

1900      हरिद्वार-देहरादून रेल सेवा शुरू


1903      टिहरी नगर में पहिली बार विद्युत व्यवस्था

1905      देहरादून एयरफोर्स में एक्स-रे-संस्थान की स्थापना

1912      मवाली में क्षय रोग अस्पताल की स्थापना तथा मसूरी में विद्युत योजना

1914      गढ़वाली वीर दरवान सिंह नेगी को ‘विक्टोरिया क्रॉस’ प्रदान किया गया।

1918      सेठ सूरज मल द्वारा ऋषिकेश में ‘लक्ष्मण झूला’ का निर्माण

1922      ‘गढ़वाल राइफल्स’ को रायल की उपाधि एवं नैनीताल विद्युत प्रकाश से नहाया।

1926      ‘हेमकुन्ट’ साहिब की खोज।

1930      चन्द्रशेखर आजाद का दुगड्डा में अपने साथियों के साथ परीक्षण हेतु आगमन।

देहरादून में नमक सत्याग्रह।

मंसूरी में मोटर मार्ग प्रारम्भ।

1932      देहरादून में ‘इण्डिया मिलिट्री एकेडमी’ की स्थापना

1935      ऋषिकेश-देवप्रयाग मोटर मार्ग का निर्माण

1938      हरिद्वार-गोचर हवाई यात्रा ‘हिमालयन एयरवेज कम्पनी’ द्वारा शुरू।

1942      हैदराबाद रेजीमेन्ट का कुमांऊ रेजीमेन्ट में विलय।

1946      देहरादून डी.ए.वि.कॉलेज में कक्षायें शुरू

1948      रूड़की इन्जीनियरिंग कॉलेज विवि. बना

1949      टिहरी रियासत का उत्तर प्रदेश में विलय

अल्मोड़ा कॉलेज की स्थापना।

1953      रूड़·की में ‘बंगाल सैपर्स’ की स्थापना

1954      हैली नेशनल पार्क का नाम बदलकर जिम कार्बट नेशनल पार्क रखा गया।

1958      मंसूरी में डिग्री कॉलेज की स्थापना

1960      पंत नगर में कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय की आधारशिला

1973      गढ़वाल एवं कुमांऊ विश्वविद्यालय की घोषणा एवं चार नये जिलों की स्थापना

1999      चमोली में भूकम्प से 110 व्यक्तियों की मौत और अन्त में 9 नवम्बर 2000 को उत्तरांचल राज्य की स्थापना।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

1857 के गदर से आई कुमाऊं में क्रांति की लहर

अल्मोड़ा: ब्रितानी हुकूमत के अत्याचारों से त्रस्त गुलाम हिंदुस्तानियों के 1857 का विद्रोह गदर नाम से इतिहास में दर्ज हो गया। यही था स्वतंत्रता आदोलन का पहला सशक्त शंखनाद। इसने दक्षिण से उत्तर व पूरब से पश्चिम तक के भारतवासियों को अंग्रेजों के खिलाफ खड़ा कर दिया। कुमाऊंभला इससे भला कैसे अछूता रह सकता था। पहाड़ के बाके वीर संग्राम में कूद गए। इसकी भनक जैसे ही अंग्रेजी शासकों के कमिश्नर रैमजे हेनरी को लगी वह तत्काल कुमाऊं पहुंच गया। उसने कुमाऊं व गढ़वाल में मार्शल लॉ लागू कर दिया। सारी आंदोलनकारी गतिविधियों पर रोक लगा दी गई। अब ब्रिटिश साम्राज्य के हुक्मरानों का अत्याचार और बढ़ गया। गरम दल के कई स्वतंत्रता संग्रामियों को नैनीताल के एक गधेरे में फांसी पर लटका दिया गया। उस गधेरे का नाम ही फांसी गधेरा पड़ गया। आज भी वह इसी नाम से जाना जाता है। 1958 आते-आते इसकी आग काली कुमाऊं में उग्र बगावत के रूप में फैल गई। विशुं पटट्ी के देश भक्त कालू सिंह महरा, आंनद सिंह फत्र्याल व विशन सिंह करायत आर-पार के संघर्ष के लिए कूद गए। आंनद सिंह फत्र्याल व विशन सिंह करायत को सरकार का विद्रोही करार देते हुए अंग्रेजों ने उन्हें गोली से उड़ा दिया। कालू सिंह महरा को आजीवन जेल की सजा सुनाई गई। इसी दौर में स्वामी विवेकानंद अल्मोड़ा आए। उनके ओज का परिणाम था कि लाला बद्री साह ठुलघरिया ने आर्थिक मदद के लिए आंदोलन में दिल खोल कर पैसा दिया। तभी युवा स्वामी सत्यदेव का भी आगमन हुआ। उन्होंने परतंत्रता  के खिलाफ खड़े हो कर स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए संघर्ष का पाठ पढ़ाया। जिससे अनेक युवा प्रभावित हुए। उनमें ज्वाला दत्त जोशी, वाचस्पति पंत, हरीराम पांडे, सदानंद सनवाल, शेख मानुल्ला व बद्री साह प्रमुख आंदोलकारियों में गिने जाते हैं। उसी दौर में देशभक्ति भावना व अंग्रेजी सरकार के खिलाफ आग उगलने वाली साप्ताहिक पत्रिका 'अल्मोड़ा अखबार' ने बगावत का झंडा बुलंद कर दिया।  अल्मोड़ा से निकला यह समाचार पत्र राष्ट्रीय पत्रिका बन गई। इस पत्रिका का संपादन कुर्माचल केसरी बद्री दत्त पांडे, विक्टर मोहन जोशी व जयंिहंद का नारा देने वाले महान स्वतंत्रता सेनानी राम सिंह धौनी जैसे संग्रामी ने किया।
 इंसेट-
 प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन की प्रमुख गतिविधियां
 - 1914 में बद्री दत्त पांडे, लाला चिरंजी लाल, डॉ. हेम चंद्र जोशी, मोहन जोशी ने होम रूल लीग की स्थापना की।
 - 1917 में कुमाऊं परिषद की स्थापना हुई। अग्रणी भूमिका में भारत रत्‍‌न पं.गोविंद बल्लभ पंत, बद्रीदत्त पांडे, तारा दत्त गैरोला, बद्री दत्त जोशी, प्रेम बल्लभ पांडे, बैरिस्टर मुकंदी लाल, इंद्र लाल साह, मोहन सिंह दरम्वाल रहे।
 - 1920 में महात्मा गांधी के नागपुर अधिवेशन में बद्रीदत्त पांडे के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल कुली बेगार अन्याय को लेकर मिला।
 - 1921 में मकर संक्रांति के दिन कुली बेगार के रजिस्टरों को सरयू में प्रवाहित किया गया।
 -1941 में गांव-गांव में सत्याग्रहियों ने स्वाधीनता आंदोलन चलाया
 - पांच सितंबर 1942 को खुमाड़ में अंग्रेजों ने गोली चलाई, जिसमें गंगा राम, खीमानंद व चार दिन बाद चूड़ामणी, बहादुर सिंह की मौत हो गई।


(http://www.jagran.com)


विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
[justify]11 जनवरी उत्तराखंड के इतिहास का महत्वपूर्ण दिन है। इसी दिन 1948 में टिहरी रियासत में राजशाही से मुक्ति पाने के संघर्ष में नागेंद्र सकलानी और मोलू भरदारी शहीद हुए। आजादी की लड़ाई के दो मोर्चे थे। अंग्रेजी गुलामी और रियासतों में राजाओं के जुल्मी राज से मुक्ति पाना। अंग्रेजों से मुक्ति तो 15 अगस्त 1947 को हो गई, पर टिहरी में राजशाही के दमन से निजात पाने की जद्दोजहद चलती रही।

30 मई, 1930 में उत्तरकाशी के रवाईं क्षेत्र में जलियांवाला कांड की तरह तिलाड़ी गोलीकांड हुआ। इस षड्यंत्र को रच टिहरी रियासत ने जुल्म करने में अपने औपनिवेशिक प्रभुओं की बराबरी करने की कोशिश की। 25 जुलाई 1944 को 84 दिन के अनशन के बाद श्रीदेव सुमन की शहादत हुई। इन बलिदानों के बाद भी टिहरी में जनता पर शाही दमन जारी रहा। सभी राजनीतिक अधिकार राज दरबार में बंधक थे। नाममात्र की खेती पर भी राजा ने भारी कर थोप दिए थे। किसानों पर होने वाले जुल्म के विरुद्ध दादा दौलतराम और नागेंद्र सकलानी के नेतृत्व में किसानों को संघर्ष के लिए संगठित किया गया। युवा नागेंद्र सकलानी देहरादून में शिक्षा ग्रहण करने के दौरान कम्युनिस्ट पार्टी के संपर्क में आए। डांगचौरा के किसान आंदोलन में पुलिस बड़ी मुश्किल से उन्हें गिरफ्तार कर सकी। लंबे अरसे तक वह राजा की कैद में रहे। प्रसिद्ध इतिहासकार डा. शिव प्रसाद डबराल ‘चारण’ की पुस्तक ‘उत्तराखंड का इतिहास’ भाग-6 में ‘टिहरी गढ़वाल राज्य का इतिहास’ (1815-1949) में नागेंद्र सकलानी के पत्रों के अनुसार जेल में फटे-पुराने और गंदे कंबल दिए जाते थे। भीषण ठंड में कपड़ों के अभाव में बंदी सो भी नहीं पाते थे। सकलानी एक पत्र में लिखते हैं कि ऐसा प्रयत्न किया जाता था कि राजनीतिक बंदी दरबार के सम्मुख घुटने टेक दें। राजशाही की अन्यायकारी व्यवस्था का अंदाजा नागेंद्र सकलानी और दादा दौलत राम द्वारा 10 फरवरी 1947 को जेल में किए गए अनशन की मांगों से होता है। कई मांगों में से उनकी एक मांग यह थी कि या तो मुकदमे वापस हों या सुनवाई ब्रिटिश अदालत में हो। अंग्रेजों के न्याय के पाखंड को भगत सिंह और उनके साथी पहले ही बेपर्दा कर चुके थे। टिहरी के राजनीतिक बंदी यदि उनकी अदालत में इंसाफ की कुछ उम्मीद देख रहे थे तो समझा जा सकता है कि रियासत में न्याय किस कोटि का रहा होगा। उक्त अनशन का समाचार फैलने पर देशी राज्य लोक परिषद, कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी, टिहरी राज्य प्रजामंडल आदि ने तत्काल राजनीतिक बंदियों की रिहाई की मांग की। मजबूरन राजा ने घोषणा की कि 21 फरवरी 1947 को राजनीतिक बंदियों को मुक्त कर दिया जाएगा।
ब्रिटेन की संसद में प्रधानमंत्री क्लेमेंट एटली जून, 1948 से पहले भारत से अंग्रेजी राज के रुखसत होने का ऐलान कर चुके थे। जिस समय जवाहरलाल नेहरू के आह्वान पर देसी राज्यों की कई रियासतों के प्रतिनिधि संविधान सभा में हिस्सा लेने आ रहे थे, लगभग उसी वक्त टिहरी का राजा टिहरी गढ़वाल मेंटेनेंस ऑफ पब्लिक ऑर्डर एक्ट पर दस्तखत कर राजशाही के विरुद्ध उठने वाले प्रतिरोध को कुचलने का नया इंतजाम कर रहा था। राजा देश में चल रही हलचल को अनदेखा कर, दमनकारी राज कायम रखना चाहता था पर प्रजा हर हाल में शाही गुलामी से मुक्ति पाना चाहती थी।
मुक्ति की चाह और सकलानी के साहस के चलते टिहरी रियासत में सकलाना से शुरू होकर जगह-जगह आजाद पंचायतें कायम होने लगीं। आजाद पंचायतों ने राज कर्मचारियों को खदेड़ दिया, पटवारी चौकियों पर कब्जा कर लिया, शराब की भट्टियां तोड़ डालीं और राजधानी टिहरी पर कब्जा करने के लिए सत्याग्रही भर्ती करने शुरू किए। कीर्तिनगर में नागेंद्र सकलानी ऐसी ही आजाद पंचायत के गठन के लिए कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से गए थे। 10 जनवरी 1948 को उनकी अगुवाई में कीर्तिनगर में सभा हुई। राजा के न्यायालय पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा कर आजाद पंचायत की स्थापना की घोषणा कर दी गई। 11 जनवरी को राजा के एसडीओ ने पुलिस के साथ न्यायालय पर कब्जा करना चाहा तो लोगों ने उन्हें बंधक बनाने की कोशिश की। एसडीओ के आदेश पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए। गुस्साई जनता ने न्यायालय भवन पर आग लगा दी। भयभीत एसडीओ जंगल की तरफ भागने लगा। नागेंद्र सकलानी और मोलू भरदारी उसे पकड़ने दौड़े तो एसडीओ की गोली से दोनों शहीद हो गए।
पेशावर विद्रोह के नायक कामरेड चंद्र सिंह गढ़वाली के नेतृत्व में शहीदों का जनाजा टिहरी ले जाया गया और राजाओं के श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। पुत्र को गद्दी सौंपने पर भी राज्य पर नियंत्रण रखने वाला राजा नरेंद्र शाह टिहरी के अंदर नहीं घुस सका। प्रजामंडल की अंतरिम सरकार बनी और 1949 में टिहरी का भारत में विलय हो गया। कामरेड नागेंद्र सकलानी और कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य मोलू भरदारी की शहादत टिहरी राजशाही के ताबूत में अंतिम कील साबित हुई।
विडंबना है कि जिस राजशाही से मुक्ति पाने के लिए इतनी शहादतें हुई, पहली लोकसभा से लेकर चौथी लोकसभा तक और फिर दसवीं लोकसभा से लेकर आधी चौदहवीं लोकसभा और बीच के थोड़े अंतराल को छोड़ वर्तमान पंद्रहवीं लोकसभा में उसी राज परिवार के वारिस जनता के प्रतिनिधि बनकर पहुंचते रहे हैं।
कामरेड नागेंद्र सकलानी और मोलू भरदारी की शहादत ना केवल टिहरी रियासत के विरुद्ध निर्णायक शहादत थी, बल्कि यह जनता की मुक्ति के संघर्ष और कम्युनिस्ट आंदोलन की बलिदानी, क्रांतिकारी परंपरा का भी एक प्रेरणादायी अध्याय है।

प्रस्तुति-इन्द्रेश मैखुरी
साभार : अमर उजाला  [/justify]

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
कुमाऊं का स्वतंत्रता संग्राम
**********************

उत्तराखंड में स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन की प्रारंभिक शुरुआत 1857 के दौर में एक तरह से काली कुमाऊं (वर्तमान चम्पावत जनपद ) से  हो चुकी थी। वहां की जनता ने अपने वीर सेनानायक कालू महरा की अगुवाई में विद्रोह कर ब्रिटिश प्रशासन की जड़ें एक तरह से हिला ही दी थीं। देखा जाय तो उत्तराखण्ड के स्वतंत्रता संग्राम के विद्रोहियों में कालूमहर व उसके दो अन्य साथियो का नाम ही सबसे पहले आता है।

वर्ष 1870 में अल्मोड़ा में डिबेटिंग क्लब की स्थापना के बाद 1871 में संयुक्त प्रान्त का पहला हिन्दी साप्ताहिक अल्मोड़ा अखबार  का प्रकाशन होने लगा।1903 में गोविन्दबल्लभ पंत और हरगोविन्द पंत के प्रयासों से अल्मोड़ा में स्थापित हैप्पी क्लब के माध्यम से नवयुवकों में राष्ट्रीय भावना का जोश भरने का काम होने लगा।  प्रारम्भिक दिनों में अल्मोड़ा अखबार  बुद्धिबल्लभ पंत के संपादन में निकला बाद में मुंशी सदानंद सनवाल 1913 तक इसके संपादक रहे। इसके बाद जब बद्रीदत्त पांडे इस पत्र के संपादक बने तो कुछ ही समय में इस पत्र ने राष्टी्रय पत्र का स्वरुप ले लिया और उसमें छपने वाले महत्वपूर्ण स्तर के समाचार और लेखों से यहां की जनता में शनैः-शनैःराष्ट्रीय चेतना का अंकुर फूटने लगा। 1916 में नैनीताल में कुमाऊं परिषद् की स्थापना होने के बाद यहां के राजनैतिक,सामाजिक व आर्थिक विकास से जुड़े तमाम सवाल जोर-शोर से उठने लगे।

वर्ष1916 में महात्मा गांधी के देहरादून और 1929 में नैनीताल व अल्मोड़ा आगमन के बाद यहां के लोगों में देश प्रेम और राष्ट्रीय आंदोलन का विकास और तेजी से होने लग गया था।  इसी दौरान विक्टर मोहन जोशी,राम सिंह धौनी, गोविन्दबल्लभ पंत, हरगोविन्द पंत, बद्रीदत्त पांडे, सरला बहन,शान्तिलाल त्रिवेदी, मोहनलाल साह, ज्योतिराम कांडपाल और हर्षदेव ओली जैसे नेताओं ने कुमाऊं की जनता में देश सेवा का जज्बा पैदा कर आजादी का मार्ग प्रशस्त करने में जुटे हुए थे। 1926 में कुमाऊं परिषद् का कांग्रेस में विलय हो गया। 1916 से लेकर 1926 तक कुमाऊं परिषद् ने क्षेत्रीय स्तर पर कुली बेगार,जंगल के हक हकूकों व भूमि बन्दोबस्त जैसे तमाम मुद्दों के विरोध में आवाज उठाकर यहां के स्वतंत्रता आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

1921 में उत्तरायणी के मेले पर बागेश्वर में बद्रीदत्त पांडे व अन्य नेताओं के नेतृत्व में कुमाऊं के चालीस हजार से अधिक लोगों ने कुली बेगार के रजिस्टर सरयू नदी की धारा में बहा दिये और इस कुप्रथा को हमेशा के लिए खतम करने  की शपथ ली। कुमाऊं का यह पहला और बड़ा असहयोग आंदोलन था। 1922 से 1930 के दौरान ब्रिटिश हुकूमत द्वारा जंगलों में जनता के अधिकारों पर लगायी गयी रोक के विरोध में जगह जगह आन्दोलन हुए और जंगलों व लीसाडिपो में आगजनी कर तथा तारबाड़ नष्ट करके जनता ने भारी असन्तोष व्यक्त किया।
गांधी जी जब 1929 में कुमाऊं आये तो जगह जगह उनकी यात्राओं और भाषणों से यहां की जनता में और तेजी से जागृति आयी। 1930 में देश के अन्य जगहों की तरह कुमाऊं में भी अद्भुत क्रांति का दौर शुरु हुआ। इसी बीच अल्मोड़ा से देशभक्त मोहन जोशी ने स्वराज्य कल्पना के प्रचार हेतु स्वाधीन प्रजा नामक पत्र का प्रकाशन प्रारम्भ कर दिया था। ब्रिटिश हुकूमत के विरोध में आवाज उठाने पर इस पत्र पर जुर्माना लगा दिया गया और स्वाभिमान के चलते जुर्माना अदा न करने पर इस पत्र का प्रकाशन बन्द हो गया।

1930 में ही नमक कर को तोड़ने में डांडी यात्रा में गांधी जी के साथ ज्योतिराम कांडपाल भी शामिल हुए। इसी वर्ष कई जगहों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की कोशिसें भी की गयी जिसमें बहुत से स्वयंसेवकों को लाठियां तक खानी पड़ीं। 25 मई 1930 को अल्मोड़ा नगर पालिका के भवन पर झण्डा फहराने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी धारा 144 लगने और लाठी चार्ज किये जाने के बाद भी भीड़ का उत्साह कम नहीं हुआ देशभक्त मोहन जोशी व शांतिलाल त्रिवेदी गम्भीर रुप से घायल हो गये तब सैकड़ों की संख्या में संगठित महिलाओं के बीच श्रीमती हरगोविन्द पंत श्रीमती बच्ची देवी पांडे व पांच अन्य महिलाओं ने तिरंगा फहरा दिया। 1932-1934 के मध्य कुमाऊं में मौजूद जाति-पाति व वर्ण व्यवस्था को दूर करने का कार्य भी हुआ और अनेक स्थानों पर समाज सुधारक सभाएं आयोजित हुईं। संचार तथा यातायात के साधनों के अभाव के बाद भी स्वतंत्रता संग्राम  की लपट तब यहां के सुदूर गांवां तक पहुंच गयी थी इसी वजह से 1940-41 के दौरान यहां व्यक्तिगत सत्याग्रह भी जोर शोर से चला।

1942 का वर्ष कुमाऊं के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। 8 अगस्त 1942 को जब मुम्बई में कांग्रेस के प्रमुख कार्यकर्त्ताओं के साथ ही गोविन्द बल्लभ पंत की गिरफ्तारी हुई तो इसके विरोध में सम्पूर्ण कुमाऊं की जनता और अधिक आंदोलित हो गयी। ‘भारत छोड़ो‘ आंदोलन को कुचलने के लिए स्थानीय नेताओं व लोगों की बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां की गयीं। जगह-जगह जुलूस निकालने और हड़ताल के साथ ही डाक बंगले व भवनों को जलाने तथा टेलीफोन के तारों को काटने की घटनाएं सामने आयीं। अल्मोड़ा नगर में स्कूली बच्चों ने पुलिस पर पथराव भी किया।अंग्रेजों द्वारा आजादी के सेनानियों के घरों को लूटने व उनकी कुर्कियां करने तथा उन्हें जेल में यातना देने के इस दमन चक्र ने आग में घी का काम कर दिया।

वर्ष 1942 के 19 अगस्त को देघाट के चौकोट, 25 अगस्त को सालम के धामद्यौ तथा 5 सितम्बर को सल्ट के खुमाड़ में जब ‘भारत छोड़ो‘ आंदोलन के तहत सैकड़ो ग्रामीण जनों ने उग्र विरोध का प्रदर्शन किया तो भीड़ को नियंत्रित करने ब्रिटिश प्रशासन के पुलिस व सैन्य बलों ने निहत्थी जनता पर गोलियां बरसायीं जिसके कारण इन जगहों पर नौ लोग शहीद हुए और दर्जनों लोग घायल हुए। सोमेश्वर की बोरारौ घाटी में भी आजादी के कई रणबांकुरो पर पुलिस ने दमनात्मक कार्यवाही की और चनौदा के गांधी आश्रम को सील कर दिया था।

चन्द्रशेखर तिवारी
दून पुस्तकालय एवं शोध केंद्र, देहरादून।
मोबा. 8979098190

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22