Author Topic: नाटककार दिनेश बिजल्वाण का उत्तराखण्ड की पॄष्टभूमि पर आधारित नाटक "पंडेरा"  (Read 24795 times)

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
उत्तराखण्ड की पॄष्टभूमि पर आधारित नाटक "पंडेरा"

      दिल्ली में समय-समय पर उत्तराखण्ड की पॄष्टभूमि पर आधारित अनेक कार्यक्रम होते रहते हैं। मैं यहां पर एक नाटक के कुछ चित्रों को प्रस्तुत कर रहा हूं।  यह नाटक दिल्ली के  LTG Auditorium  में खेला गया था।  इस नाटक का Screen play ’मेरा पहाड़’ के सदस्य, श्री दिनेश बिजल्वाण ने लिखा।  नाटक काफ़ी सफ़ल रहा और रंग मंच की दुनिया में काफ़ी प्रसंसा भी हुई।  यह नाटक श्री राजेश्वर उनियाल के उपन्यास "पंडेरा" पर आधारित है।
  नाटक के कथानक की अधिक जानकारी देने हेतु मैं अपने मित्र श्री दिनेश बिजल्वाण जी से ब्यक्तिगर रूप से मिल कर निवेदन करुंगा और ये चित्र जो मैने उनकी एल्बम से चुरा के यहां डाल दिये हैं उसकी भी जानकारी उनको दे दुंगा।  आपसे बिनती है कि नाटक के कथानक के आने का इंतजार धैर्य से करें।
धन्यबाद।

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0



मंच पर श्री हरीश रावत के साथ ग्रुप के सदस्य


Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
नाटक के कुछ दॄश्य:



Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0



Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Dhanyavaad Rajen ji humein is naatak ke baare main batane ke liye. Main Shri Dinesh ji se request karunga ki kripya humein is naatak ke baare main aur bataen.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
धन्यवाद राजु दा,
     ऎसे रचनाशील व्यक्ति की हमसे छिपी इस प्रतिभा का दर्शन कराने के लिये। वैसे फोटो देखकर लग रहा है कि यह एक फौजी की कहानी है, जो लड़ाई में विकलांग हो जाता है और उसके त्याग की ही यह कहानी होगी......वैसे कथानक का इंतजार रहेगा।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22