Author Topic: नाटककार दिनेश बिजल्वाण का उत्तराखण्ड की पॄष्टभूमि पर आधारित नाटक "पंडेरा"  (Read 24796 times)

Dinesh Bijalwan

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
दि हाइ हिलर्स ने १९८३ से अब तक अनेक नाटक स्टेज किये
१. एक और आयाम-ले और निदेशक - सुरेश नौट्याल
२. फिरे राम - नि- मोहन राणा
३. अर्धग्रामेश्वर - ले- राजेन्द्र धस्माना - नि- मित्रानन्द कुकरेति
४. बान्जी गौडी - ले- उमाकान्त बलूनी- नि- मित्रानन्द कुकरेति
५. ग्य्या- मय्या -ले- उमाकान्त बलूनी- नि- मित्रानन्द कुकरेति
६- आफ्त का टोला- ले- आशा वर्मा - नि- मित्रानन्द कुकरेति
७- लिन्डरया छोरा- ले- कुसुम नौटियाल- नि- मित्रानन्द कुकरेति
८- जै सिन्ह काका - ले-नि - धीरज नेगी
९- जै भारत जै उत्तराख्न्ड - ले- राजेन्द्र धस्माना -नि- हरि सेमवाल
१०- गुमान सिन्ह रौतेला -ले- राजेन्द्र धस्माना -नि- हरि सेमवाल
११- समलौण - दिनेश बिजल्वाण - नि- हरि सेम वाल
१२- कैकु ब्यो कैकु ख्यो - दिनेश बिजल्वाण - नि- हरि सेम वाल
१३- पल्ट्नेर चन्द्र सिन्ह -दिनेश बिजल्वाण - नि- हरि सेम वाल
१४- चमत्कार-  ले ,नि- ललित मोहन थप्लियाल
१५- घर जवै और खाडू लापता -ले - ललित मोहन थप्लियाल नि- मोहन डन्ड्रियाल
१६- अदालत - ले- स्वरूप ढोन्डियाल - नि - लक्श्मी रावत

उपरोक्त नाट्को के अनेक शो  दिल्ली , देहरादून और पौडि मे हुए /

Dinesh Bijalwan

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
खीम सिन्ह जी , मुझे बहुत खुशी हुई कि आप भी  दि हाइहिलर्स के आरभिक सद्स्यो मे से है / कभि मिलिये / 

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Thanks Rajen ji in pics ke liye aur Dinesh ji humein High Hillers sanstha ki jaankaari dene ke liye.

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
मुबारक हो खीम सिंह जी, आपको एक पुराना साथी मिल गया। इस फ़ोरम की यही खूबसूरती है।  आप भी कला और रंगमंच के पुजारी हैं।  अपने पुराने साथी को पाकर अवश्य ही प्रसन्नता हुई होगी।
जारी/-

क्यो नही / बहुत खुशी हुई है / दी हाई हिल्लर्स ग्रुप से ही मैंने भी समाज से जुड़ना सिखा है/ अपनी निजी समस्यों की बजह से मै दी हाई हिल्लर्स ग्रुप के साथ नही चल पाया / इसी ग्रुप के तहत एक गोष्ठी का आयोजन किया था गोष्ठी का उद्दश्य था की दिल्ली मै दिल्ली की पहाडी सामाजिक संस्त्थाओ को एक झंडे तले लाना/ किंतु हम पहाडी है संस्थाओ के मुख्य कर्ता धर्ताओ के पास येसा समय ही नही होता की हम एक जुट हो जायं /  

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
खीम सिन्ह जी , मुझे बहुत खुशी हुई कि आप भी  दि हाइहिलर्स के आरभिक सद्स्यो मे से है / कभि मिलिये / 

दिनेश मुझे बहुत खुशी हुई है और आपसे जरुर मिलूँगा / दी हाई हिलर्स ग्रुप का एक साथी है रघुवीर सिंह भंडारी जी सेना भवन वाले भी बुराडी मे रहते है /  क्या आपको पता है श्री कन्हैयालाल dadiriyal जी गढ़वाल के नाटक करो मै से एक थे अर्ध्ग्रामेस्वर उन्ही की कृति है अपने जीवन के अन्तिम दिनों मै वे संतनगर बुराडी मै रह रहे थे मै उनसे कई बार मिला / निहायत ग्रामीण से लगाने वाले कन्हैयालाल जी लेखनी के धनी थे/ शायद उन्हेने नागराज भी लिखी है/

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
दिनेश जी बताये की क्या अब भी ग्रुप चल रहा है उसकी पूरी जानकारी दे / अब उसके निदेशक कौन है कब मीटिंग होती है / एक बार मीटिंग मै जाना  चाहता हूँ /

Dinesh Bijalwan

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
Rawatji group abh bhee chal raha hai.  Susheela Rawat Group ki director hain.  Mahine me ek bar group ki meeting hoti hai kisi bhi sadsya ke ghar par.  vaise group ka  mukyalay - a-8 Jal Bihar hai jo khushaal Singh Bisht ji ka niwaas sthaan hai.  Ab group ke jyadatar sadsya idhar udhar bikhar gaye hain.  Kuch sadsya  phari boli main CD film bana rahin hain.

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
fn gkbZ fgylZ xzqi
¼ls esjk l{kkrdkj½

gkW ! gkW ;kn vk;k flrEcj efgus dh 18oha rkfj[k Fkh] foB`ByHkkbZ iVsy Hkou (jQh ekxZ)  dk gfjr izkax.k esa Hkkoh dfo] ys[kd] xk;d@xkf;dk] laxhrK] jktuSfrd usrk] ,oa lektlsoh ioZrh; ;qokvksa dk lewg ,d lqIr izk;%laLFkk dks iqu% tkx`r djus ds fy;s vius n`< ladYiksa] u;s mRlkg]  o [kqys fopkjksa ds lkFk ,d= gq;s FksA

iwoZ lwpukvkas ds vuq:Ik ;qokvksa dh mifLFkfr cgqr de FkhA dqN {k.kksa dh izrh{kk fdlh ds vkus ds fy, dh xbZ] eqB~Bh Hkj yksxksa dh mifLFkfr us eu dks fopfyr rks fd;k fdUrq u;s lekt ls tqMus dh tks vuqHkwfr vUr%eu dks Nw jgh Fkh og l’kDr FkhA igkMh jkLrksa dh HkkWfr eu esa vusdkusd mrkj&p<ko vkrs tkrs jgsA izrh{kk dk {k.k O;FkZ gh x;k vkus okyk flQZ le; gh FkkA tks yksx vk;s Fks dkQh rks ugh Fks exj mRlkg dh deh ugh FkhA ;gh vk/kkj Fkk lHkk dk ’kqHkkjEHk djus dkA

bZ’ojh; oUnuk ,d Loj esa gqbZ] rRi’pkr lHkk lapkyu ds fy, ,d ;qok lkFkh Jh lqjs’k ukSfV;ky dks loZlEefr ls pquk x;kA lapkyd egksn; us Loifjp; nsdj  mifLFkr ;qokvks ls viuk viuk ifjp; nsus dk vkxzg fd;kA laf{kIr ifjp; esa ,d ckr lHkh esa leku Fkh & fuLokFkZ Hkko ls dk;Z djus dh bZPNkA Loifjp; dk nkSj [kRe gqvk] lapkyd egksn; dh vuqefr ls ,d ;qok lkFkh Jh eksgu jk.kk ^tks laLFkk dk laLFkkid lnL;ksa esa Fks* us laLFkk dk thou o`rkar tUe ls ysdj 18 flrEcj 1983 rd dk lquk;k] xhrk ds ifo= mins’k dh rjg lcus ,dkxz fpr ls lquk fdUrq chp&chp esa gYdh&gYdh dkukQwlh dh vkoktsa vkrh Fkh ekywe ugh gks ldk fd ;s vkoktsa D;k O;Dr djuk pkgrh gSaA fodV ifjfLFkfr;ksa ds mRiUu gksus ds ckotwn yksx bls tqMsa jgs ;k dk;Z djrs jgs] lquus okyksa ds psgjs ij vk’p;Z ds Hkko lkQ >yd jgs Fks] u;s yksxksa ds mRlkg ls vkRe fo’okl tkx mBk lHkh ,d Loj es dg mBs vkxs dk lapkyu ge lc feydj djsaxsA bl jLe vnk;xh ds ckn vkt dh cSBd ;gh ij [kRe rks gks x;h ijUrq fopkjksa dh [kRe u gksus okyh mFky iqFky tkjh jghA


हलिया

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 717
  • Karma: +12/-0
यो क्या लेखि रखौ, म्यर पट्ट समझ में नि आयो हो महाराज.  जरा भलि कै बताऔ धैं क्या छु ये को मतबल?? :-\ :-\ :-[

fn gkbZ fgylZ xzqi
¼ls esjk l{kkrdkj½

gkW ! gkW ;kn vk;k flrEcj efgus dh 18oha rkfj[k Fkh] foB`ByHkkbZ iVsy Hkou (jQh ekxZ)  dk gfjr izkax.k esa Hkkoh dfo] ys[kd] xk;d@xkf;dk] laxhrK] jktuSfrd usrk] ,oa lektlsoh ioZrh; ;qokvksa dk lewg ,d lqIr izk;%laLFkk dks iqu% tkx`r djus ds fy;s vius n`< ladYiksa] u;s mRlkg]  o [kqys fopkjksa ds lkFk ,d= gq;s FksA

iwoZ lwpukvkas ds vuq:Ik ;qokvksa dh mifLFkfr cgqr de FkhA dqN {k.kksa dh izrh{kk fdlh ds vkus ds fy, dh xbZ] eqB~Bh Hkj yksxksa dh mifLFkfr us eu dks fopfyr rks fd;k fdUrq u;s lekt ls tqMus dh tks vuqHkwfr vUr%eu dks Nw jgh Fkh og l’kDr FkhA igkMh jkLrksa dh HkkWfr eu esa vusdkusd mrkj&p<ko vkrs tkrs jgsA izrh{kk dk {k.k O;FkZ gh x;k vkus okyk flQZ le; gh FkkA tks yksx vk;s Fks dkQh rks ugh Fks exj mRlkg dh deh ugh FkhA ;gh vk/kkj Fkk lHkk dk ’kqHkkjEHk djus dkA

bZ’ojh; oUnuk ,d Loj esa gqbZ] rRi’pkr lHkk lapkyu ds fy, ,d ;qok lkFkh Jh lqjs’k ukSfV;ky dks loZlEefr ls pquk x;kA lapkyd egksn; us Loifjp; nsdj  mifLFkr ;qokvks ls viuk viuk ifjp; nsus dk vkxzg fd;kA laf{kIr ifjp; esa ,d ckr lHkh esa leku Fkh & fuLokFkZ Hkko ls dk;Z djus dh bZPNkA Loifjp; dk nkSj [kRe gqvk] lapkyd egksn; dh vuqefr ls ,d ;qok lkFkh Jh eksgu jk.kk ^tks laLFkk dk laLFkkid lnL;ksa esa Fks* us laLFkk dk thou o`rkar tUe ls ysdj 18 flrEcj 1983 rd dk lquk;k] xhrk ds ifo= mins’k dh rjg lcus ,dkxz fpr ls lquk fdUrq chp&chp esa gYdh&gYdh dkukQwlh dh vkoktsa vkrh Fkh ekywe ugh gks ldk fd ;s vkoktsa D;k O;Dr djuk pkgrh gSaA fodV ifjfLFkfr;ksa ds mRiUu gksus ds ckotwn yksx bls tqMsa jgs ;k dk;Z djrs jgs] lquus okyksa ds psgjs ij vk’p;Z ds Hkko lkQ >yd jgs Fks] u;s yksxksa ds mRlkg ls vkRe fo’okl tkx mBk lHkh ,d Loj es dg mBs vkxs dk lapkyu ge lc feydj djsaxsA bl jLe vnk;xh ds ckn vkt dh cSBd ;gh ij [kRe rks gks x;h ijUrq fopkjksa dh [kRe u gksus okyh mFky iqFky tkjh jghA


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22