Author Topic: उत्तराखंडी नाटकों की शुरुआत (गढ़वाली, कुमाऊंनी) - UTTARAKHANDI PLAYS !!  (Read 19132 times)

Dinesh Bijalwan

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #10 on: January 21, 2009, 01:11:27 PM »
Dear Rawatji,

Aaap thik kah rahe hain.    Aadrneeya Dandriyalji ne  Naatak Bhi likhe the- Unke  Do Naatakon ke Naam -  Kansanukaram aur Swambar hain.  Unka Aakhri Naatak  Shansah-e- Awam tha.  Jo Manchit  Nahi hua.  Is  naatak ke Script  ya to Khushall Singh Bistji ya Mitra Nand Kukreti ji ke paas hogi.  Jo is  ka Maanchan karna Chahte the.  Par Yah sambhav nahi ho paya tha.   Mujhe is liye yaad hai ki  Dandriyaal ji ne yah naatak mujhe  dictate kiya tha.      Par   Dandriyalji  Naatkaar se jyada Kavi ke roop me jane jate hain.   Garhwali Boli par unke pakad gazab ki hai.    Unke Kirtya- Chantho ka Dhweed, Anjwaal, Nagarja Bahag-1, Bhag-2 adi  bahut hi  ucch koti ki hai.

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #11 on: January 21, 2009, 02:09:49 PM »
Rawatjee

  Dandriyal jee per bhee  Aaa  rhahun   unper bhi  . . ek kaam karto hun,  inspite ke mai bhumIka ke sath lekho  pura vivran deta hun KAB , KAUN , KAHA  KISNE,  KES SANTHA DWAARA .. yesa lkhta hun ...

Bijlwaanjee,

maine High hiller ke do play dekhe thai.. ek Banjee gaudi shayan shree ram center me.. ek AFFACS hall .. unka jikar bhe aara hai..  kyaa yaad delye aapne  ager aapko yad ho ya apne swayamber play  dekha ho to maini ek 5 Min ke bhumeeka nibhaye the .. 'Hijada" ke..  Mittra aur daundriyal jee mere pass aaye thai is role ko kheln ke liye..

ek kaam ker de to kirpa hogee .. 1984 ke baad kaun kaun se naatak huyre hai delhi me unkabare me patta de to achaa hogaa


Dinesh Bijalwan

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #12 on: January 21, 2009, 02:42:51 PM »
 एक और आयाम-ले और निदेशक - सुरेश नौट्याल (1983)
२. फिरे राम - नि- मोहन राणा (1984)
३. अर्धग्रामेश्वर - ले- राजेन्द्र धस्माना - नि- मित्रानन्द कुकरेति (1986) & (1987)
४. बान्जी गौडी - ले- उमाकान्त बलूनी- नि- मित्रानन्द कुकरेति 1987
५. ग्य्या- मय्या -ले- उमाकान्त बलूनी- नि- मित्रानन्द कुकरेति  1987 & 1989
६- आफ्त का टोला- ले- आशा वर्मा - नि- मित्रानन्द कुकरेति 1989 ( In association with Jagar)
७- लिन्डरया छोरा- ले- कुसुम नौटियाल- नि- मित्रानन्द कुकरेति1991
८- जै सिन्ह काका - ले-नि - धीरज नेगी 1992
९- जै भारत जै उत्तराख्न्ड - ले- राजेन्द्र धस्माना -नि- हरि सेमवाल-1995,1997
१०- गुमान सिन्ह रौतेला -ले- राजेन्द्र धस्माना -नि- हरि सेमवाल 1992, 1997
११- समलौण - दिनेश बिजल्वाण - नि- हरि सेम वाल-1998
१२- कैकु ब्यो कैकु ख्यो - दिनेश बिजल्वाण व मोहन बिस्ट- नि- हरि सेम वाल1999
१३- पल्ट्नेर चन्द्र सिन्ह -दिनेश बिजल्वाण - नि- हरि सेम वाल- 2001
१४- चमत्कार-  ले ,नि- ललित मोहन थप्लियाल-1999
१५- घर जवै और खाडू लापता -ले - ललित मोहन थप्लियाल नि- मोहन डन्ड्रियाल , 1999
१६- अदालत - ले- स्वरूप ढोन्डियाल - नि - लक्श्मी रावत-2001
ये नाट्क तो हाई हिल्लर्स ने किये / इन्के अलावा भारत रन्ग महोत्स्व और इन्दिरागान्धी क्लाकेन्द्र के सानिध्य मे भि निम्न  नाट्क हुए:
पाच भै क्ठैत- ष्री नगर  डा पुरोहित की टीम
चक्र्व्योह -     व्ही-
बुड्देवा  - वही-
जीतु बग्द्वाल (ढोल दमौ के साथ)
रम्मण
बीस सौ बीस

इन्मे बुड्देवा और रम्माण मे मुखौटौ  का प्र्योग किया गया /   बीस सौ बीस उत्त्रखनड आन्दोल्न पर अधारित था त्तथा यह कला दर्प्ण उत्तरकाशी ने किया /   

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #13 on: January 26, 2009, 02:15:57 PM »
गढ़वाली नाटक , कब कौन कहा किस ने लेखा कहा खले गए , कौन डिरेक्टर था संस्था कौन थी
इन नाटको की  इस सूचना को किसी भी रूप में प्रिंट करना या छापने से पहले लेखक से अनुमति लेनी
जरूरी है

.   1914
     नाटक का नाम ..  भगत प्रह्लाद
   लेखक .. भवानी दत्त थपलियाल " सती"
      स्थान ..शिमला .. संथा .. पत्ता नही  डेट .. पत्ता नही

२  १९५०
   नाटक का नाम ..  भरी भूल 
   लेखक .. जीत सिंह नेगी
   खेला गया ..  देहरादून / देहली   
   डेट  पत्ता नही.. स्थान पत्ता नही..
     उपलब्धि .. विमला /कांता थपलियाल सिस्टर्स  का स्टेज में आना !

३  १९५८
   नाटक का नाम ..  दुर्जन की कछडी
   लेखक ,, ललित मोहन थपलियाल
   स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
   डारेक्टर .. ललित मोहन थपलियाल
   दिनांक .. पत्ता नही 

४   खडू लापत्ता 
    लेखक ,, ललित मोहन थपलियाल
    स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
    डारेक्टर .. ललित मोहन थपलियाल
    दिनांक .. पत्ता नही 

५  1959
     अछरयू को ताल
   लेखक ,, ललित मोहन थपलियाल
   स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
   डारेक्टर .. ललित मोहन थपलियाल
   दिनांक .. पत्ता नही 

६  १९५९
   एकीकारण
   लेखक ,, ललित मोहन थपलियाल
   स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
   डारेक्टर .. ललित मोहन थपलियाल
   दिनांक .. पत्ता नही 
     
७   १९६६
    दुनो जनम
    लेखक ... किशोर घिदियाल
    स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
    दिनांक .. पत्ता नही  डिरेक्टर का पत्ता नही

८   घर जवाई
   लेखक ,, ललित मोहन थपलियाल
   स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
   डारेक्टर .. ललित मोहन थपलियाल
   दिनांक .. पत्ता नही 

९   एक जाओ अगने 
    लेखक ... किशोर घिदियाल
    स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
    दिनांक .. पत्ता नही  डिरेक्टर का पत्ता नही

१०   एन भी चलदा
    लेखक .. गिरधर कंकाल
    स्थान  ..सरोजिनी नगर कामनेटी हाल
    दिनांक .. पत्ता नही  डिरेक्टर का पत्ता नही

   नोट ... ऐ सारे नाटक एंकाकी थे / इनमे  स्त्री का पाट आदमी  खेला करते थे

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #14 on: January 27, 2009, 10:50:13 AM »
बिजल्वान जी और गौङ जी, इस महत्वपूर्ण जानकारी के लिये आप दोनों का धन्यवाद! यह हमारा सौभाग्य है कि आप जैसे प्रतिष्ठित नाटककार हमारे फोरम से जुङे हैं... अधिक जानकारी का इन्तजार रहेगा..

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #15 on: January 27, 2009, 11:49:22 AM »
नाटक लिखा गया 1914
     नाटक का नाम ..  भगत प्रह्लाद
   लेखक .. भवानी दत्त थपलियाल " सती"
   भगत प्रह्लाद का पहला मंचन १९३० में हुआ

भवानी दत्त थपलियाल " सती" द्वारा १९१२ में जय विजय नाटक लिखा गया



गढ़वाली नाटक , कब कौन कहा किस ने लेखा कहा खले गए , कौन डिरेक्टर था संस्था कौन थी
.   1914
     नाटक का नाम ..  भगत प्रह्लाद
   लेखक .. भवानी दत्त थपलियाल " सती"
      स्थान ..शिमला .. संथा .. पत्ता नही  डेट .. पत्ता नही

   नोट ... ऐ सारे नाटक एंकाकी थे / इनमे  स्त्री का पाट आदमी  खेला करते थे


Dinesh Bijalwan

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #16 on: January 27, 2009, 02:12:38 PM »
एक नाट्क था  क्यू एम जी  जो अस्सी के दशक  के अन्तिम बरसो मे खेला गया था , इसे चन्द्रकिसोर  नैथानी ने लिखा था / दिल्ली के मकानमालिको और किरायेदारो  के आपसी सम्बन्धो  पर आधारित य्ह नाट्क  बहुत ही लोकप्रिय  हुआ / मन्जु बहुगुणा इस्की नायिका थी/

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #17 on: January 27, 2009, 02:33:05 PM »
११.  २ फरबरी १९६९
नाटक का नाम .. औंसी-की-रात 
लेखक .. पाराशर गौड़
संथा .. पुष्पांजली रंगशाला
खेला गया .. आई आई ऍम आ  हाल इंदरप्रस्था  मार्ग में
निरदेसक  . पाराशर गौर/कशेव ध्यानी
कलाकार ..  लीला नेगी, मुधू धय्नी, समत राम बह्ग्ती, पाराशर गौर, रामप्रसाद ध्यानी. ब्रह्मानंद कोटनाला  दिदेश पहाडी आदि
नोट.. पहला नाटक जो हाल में खेला गया टिकटलगाकर  ! पहली बार स्त्री पात्रो ने स्टेज में भाग  लिया देहली व अन्य सहरो में ८ -१० रिपीट शो होए .!

१२ सन १९७०
नाटक का नाम .. जुन्ख्याली रात
लेखक   दिनेश पहाडी
संथा .. पुष्पांजली रंगशाला
खेला गया .. आई आई ऍम आ  हाल इंदरप्रस्था  मार्ग में
निरदेसक  .  कशेव ध्यानी
कलाकार ..  लीला नेगी, मुधू धय्नी, समत राम बह्ग्ती, पाराशर गौर, रामप्रसाद ध्यानी. ब्रह्मानंद कोटनाला दिदेश पहाडी आदि !

१३    सन १९७०
नाटक का नाम ..  कन्या दान
लेखक .. सुदामा प्रसाद प्रेमी
संस्था .. पर्वतीय युवक संघ
निर्दशक .. पाराशर गौड़
प्रस्तुत  .. आई  आई ऍम ऐ  हाल इंदर प्रष्टा मार्ग
कलाकार ..कुमारी राजी , विजय थपलियाल शारदा नेगी  आदि

सन २५ दसंबर १९७१
नाटक का नाम .. चोली   
लेखक .. पाराशर गौड़
निर्दासक ..पाराशर गौड़
संथा .. पर्वतीय युवक मंच
जगह खेला गया .. आल इंडिया मेडिकल अस्सो . हाल  आई आई टी ओ  में !
कलाकार .. पाराशर गौर .. रमेश मंदों लिया दिएंश कोठियाल सतेंदर परंदियाल कुमारी राजी .. रामप्रसाद धय्नी शारदा नेगी आदि !

१४   सन १९७१
नाटक का नाम ... गवाई( एंकाकी )
लेखक .. पाराशर गौड़
निर्दासक ..पाराशर गौड़ 
संस्था .. गुजुदु विकाश परिषद्.
जगह .. पंचकुया रोड काम्नती हाल 
कलाकार .. पाराशर गौड़, रामप्रकाश रुडोला सुरेश भट  आदि !

१५   सन १९७१
नाटक का नाम .. चटी की एक रात  ( रूपान्तर ) 
लेखक .. प्रेम लाल भट
निरादेसक .. विशवा मोहन बडोला
संस्ता .. हिमालय कला संगाम
जगह .. सरदार पटेल सभागार
कलाकार .. पाराशर गौड़.. वुवनेश्वर ज्याल आदि 

१६  सन १९७२
नाटक का नाम .. खबेश
लेखक .. मदन डोभाल;
निरदेसक ... होश्यार सिंह रावत
संस्था .. गडवाल परगतिशील मंडल
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग.
कल्लाकर .. पाराशर गौड़..चिंतामणि बर्थवाल.. सरोज गोसाई कुक्रती धामी जी .


                                           आगे .....................

17 सन १९७५
नाटक का नाम ..  जक जोड़
लेखक ..  राजेंदर धस्माना
निरदेसक  मोहन डंडरियाल
संस्था ..  जागर
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग.

18 सन १९७५
नाटक का नाम ..  टिचरी
लेखक ..  चिंतामणि  बर्थवाल
निरदेसक ..होश्यार सिंह रावत
संस्था .. गडवाल परगतिशील मंडल
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग.
कलाकार .. पराशर गौड़ ,जगदेश दौन्दियाल होशियार सिंह रावत  आदि

19  सन १९७६
नाटक का नाम ..  अर्ध ग्रामेश्वर
लेखक .. राजेंदर धस्माना 
निरदेसक .. मोहन डंडरियाल
संस्था ..  जागर
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग
कलाकार .. पराशर गौर  रीना नैथानी, एम् बौंठियाल पंचम सिंह चनदर सिंह रही गिरधर कंकाल आदि

20 सन १९७६
नाटक का नाम ..  तिम्ला का तिम्ला खतया ....
लेखक ..    पराशर गौर
निरदेसक .. मोहन डंडरियाल
संस्था ..   आंचलिक रंगमंच
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग
कलाकार .. पराशर गौर सुशीला चंदोला राजेश्वरी पस्बोला रामप्रसाद ध्यानी रामप्यारी नेगी आदि

21  सन १९७६
नाटक का नाम ..  तिम्ला का तिम्ला खतया ....
लेखक ..    पराशर गौर
निरदेसक .. मोहन डंडरियाल
संस्था ..   आंचलिक रंगमंच
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग
कलाकार .. पराशर गौर सुशीला चंदोला राजेश्वरी पस्बोला रामप्रसाद ध्यानी रामप्यारी नेगी आदि

22 सन १९७८
नाटक का नाम ..  अदालत
लेखक ..     स्वरुप ड़ौडियाल 
निरदेसक .. पराशर गौड़
संस्था ..    बारास्युं पारवारिक सम्मति
जगह .. फिन आर्ट्स थिएटर रफी मार्ग
कलाकार .. पराशर गौड़  सशी कान्त आदि

23 सन १९७८
नाटक का नाम .. बड़ी ब्वारी
लेखक ..      प्रेम लाल भट्ट   
निरदेसक .. विनोद रावत
संस्था ..    गद प्रवासी संगम
जगह .. सरदार पटेल भवन
कलाकार .. पत्ता नहीं

२४ सन १९७९
नाटक का नाम ..  नाटक बध कारा  ( हिंदी रूपान्तर )
रूपान्तर..कार    मदन डोभाल     
निरदेसक ..  मोहन डंडरियाल 
संस्था ..    आंचलिक रंग मंच
जगह ..  फ़ाइन आर्ट्स थिएटर
कलाकार  पराशर गौर , पंचम नेगी, ग्रीधर नौटियाल, राम प्रसाद नौटियाल आदि

२५  सन १९७९
नाटक का नाम ..   प्रहलाद (  रूपान्तर )
लेखक .. भवानिदत्त सती 
रूपान्तर..कार    राजेद्नेर धस्माना   
निरदेसक ..  मित्रा नन्द कुकरेती
संस्था ..     जागर
जगह ..    फ़ाइन आर्ट्स थिएटर
कलाकार   पंचम नेगी, ग्रीधर नौटियाल, राम प्रसाद नौटियाल आदि   

 
२५  सन १९७९
नाटक का नाम .. अमुसी की रात  कुमाउनी में ( गड्वाली नाटक औंसी की रात का रूपान्तर )
लेखक .. पराशर गौड़
रूपान्तर..कार   कान्हा पन्त   
निरदेसक ..   कान्हा पन्त
संस्था ..   पर्वतीय संगम कला केंदर   
जगह .. सरदार पटेल सभागार 
कलाकार    काना पन्त भारती शर्मा  आदि 

  आगे .....................

२६ सन  १९७९
नाटक का नाम .. अमुसी की रात  कुमाउनी में ( गड्वाली नाटक औंसी की रात का रूपान्तर )
लेखक .. पराशर गौड़
रूपान्तर..कार   कान्हा पन्त   
निरदेसक ..   कान्हा पन्त
संस्था ..   पर्वतीय संगम कला केंदर   
जगह .. सरदार पटेल सभागार 
कलाकार    काना पन्त भारती शर्मा आदि  !

२६ सन  १९८१
नाटक का नाम ..  मौस्याण बोई
लेखक ..  घनस्याम शर्मा 
निरदेसक ..    शारदा नेगी
संस्था ..   कंचन  रंगमंच
जगह ..  फ़ाइन आर्ट्स थिएटर   
कलाकार   पत्ता नहीं   !

२७  सन  1981
नाटक का नाम . नथुली
लेखक ..  प्रेम लाल भट्ट
निरदेसक ..  होशियार सिंह रावत
संस्था ..   उदंकार
जगह ..   सरदार पटेल सभागार
कलाकार   पराशर गौर, जगदीश ढौंडियाल  आदि

२८ सन  1982
नाटक का नाम . मंगुतु बौल्या
लेखक ..   स्वरुप डौडियाल
निर्देशक ..  होशियार सिंह रावत
संस्था ..   उदंकार
जगह ..   सरदार पटेल सभागार
कलाकार   प्रमोद डोभाल होशियार सिंह रावत  आदि






 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,893
  • Karma: +76/-0
Re: गढ़वाली नाटक की .... शुरुवात
« Reply #18 on: January 30, 2009, 01:24:22 PM »
name is B.S.Negi (Batohi)

 1. Duer Bhoj - it was directed by Mr. H.S.Rawat and Mr. Parashar Gaur also and it was witnessed by the people of Delhi, Rohtak, Dehradun and Pauri - 15 times.
 
2. Laati Ku Byo: it was played at Aiwan-e-Ghalib Auditoritum,

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,893
  • Karma: +76/-0
राजुला मालूशाही (कुमोअनी)

लेखक - जुगल किशोर

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22