Author Topic: Learn Kumaoni & Garhwali - सीखे कुमाऊनी और गढ़वाली (मी उत्तराखंडी छौ) के साथ  (Read 12837 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
चन्द्र सिंह गढ़वाली
23 अप्रैल ..... आज के ही दिन 1930 में [ गढवाली कुमाऊँनी हिन्दी में ]
~गढवाली में ~

भारतीय इतिहास मा चन्द्र सिंह गढ़वाली ते पेशावर कांड क नायक का रूप मा याद करे जांदु। २३ अप्रैल १९३० कुण हवलदार मेजर चन्द्र सिंह गढवाली का नेतृत्व मा रॉयल गढवाल राइफल्स क जवानों ना भारत क आजादी कुण लडन वॉल निहत्था पठानों पर गोली चलाण से इन्कार कर दे छ्याई। बिना गोली चलायां, बिना बम फट्या पेशावरमा इतना बड़ू धमाका हवेगयाई छ्याई कि एकाएक अंग्रेज भी खौंले गीं....... नमन हमर उत्तराखंड क यीं महान हस्ती ते!!!!

~कुमाऊँनी में ~

भारताक इतिहास मा चन्द्र सिंह गढ़वाली कै पेशावर काण्डाक नायकाक रूप मा याद कियो जांछ. 23 अप्रैल 1930 को दिन हवलदार मेजर चन्द्र सिंह गढ़वालीक नेतृत्व मा रॉयल गढ़वाल राइफलाक जवानन ले भारतीय आज़ादीक खातिर लड़न व्ल निहत्थ पठानन पर गोली चलून है इनकार कर हाल्यो थ्यो. बिन गोली चलाया, बिन बम फोड़या पेशावर मा इतुक बड़ धमाको भ्यो कि अंग्रेज ले अचानक आश्चर्य मा रै ग्या थ्यान... नमन हमर उत्तराखंडाक यस महान हस्ती कै. [अनुवाद हिमांशु करगेती / महेंद्र स राणा ]

~हिन्दी में ~

भारतीय इतिहास में चन्द्र सिंह गढ़वाली को पेशावर काण्ड के नायक के रूप में याद किया जाता है. 23 अप्रैल 1930 के दिन हवालदार मेजर चन्द्र सिंह गढ़वाली के नेतृत्व में रॉयल गढ़वाल राइफल के जवानो ने भारतीय आज़ादी के लिए लड़ने वाले निहत्थे पठानों पर गोली चलाने से इनकार कर दिया था. बिना गोली चले, बिना बम फोड़े पेशावर में इतना बड़ा धमाका हुआ कि अंग्रेज भी अचानक से हक्के बक्के रह गए थे . नमन हमारे उत्तराखंड के इस महान हस्ती को.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
नए वर्ष का सन्देश [ कुमाऊँनी - गढवाली - हिन्दी में ] इस पन्ने व् सभी उत्तराखंडियो के नाम / भारतीयों के नाम
https://www.facebook.com/meeuttarakhandi
~कुमाऊँनी~

हिन्दू नय्य सालैकि सबै भारतवासिन कै बधै अर सुबकामना
संवत् 2070 कि शुरुआत चैत्र शुक्ल पक्षाकि प्रतिपदा 11 अप्रैल 2013, दिन बृहस्पतिवार बठे छू। नय्य संवत्सराक नाम पराभव छ अर यो शक 1935 को प्रारम्भ ले छ धर्मशास्त्रुन क वील चैत्र शुक्ल पक्षाकि प्रतिपदा बठे सतयुगाकि शुरुआत मानि गैछि ब्रह्माजील सृष्टिक रचना येई दिन बठे शुरू करिछ।
[ अनुवाद हिमांशु करगेती]

~गढवाली~

हिन्दू नयु सालेक सबी भारतवासियों तें बधै अर सुबकामना !!!
संबत २०७० कु शुरुआत चैत शुक्ल पक्षे प्रतिपदा ११ अप्रैल २०१३, दिन वृस्पतिबार बटी च। नयु संबत्सर कु नौ पराभव अर शकः १९९५ कु शुरू च, धर्मशाशतरोंक हिसाब से चैत शुक्ल पक्ष प्रतिपदा बटी ही सतयुग शुरू ह्वै ची, ब्रह्मा जीन सृष्टिक रचना ये दिन बटी ही शुरू कैर ची।
[ अनुवाद महेन्द्र सिंह राणा ]

~हिन्दी ~

हिन्दू नववर्ष सभी भारतवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं !!!
संवत् 2070 का प्रारम्भ चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा 11 अप्रैल 2013, दिन बृहस्पतिवार से है। नवीन संवत्सर का नाम पराभव तथा शकः 1935 का प्रारम्भ है धर्मशास्त्रों के अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से ही सतयुग का आरम्भ माना गया है ब्रम्हा जी ने सृष्टि की रचना इसी दिन से प्रारम्भ की थी।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22