Author Topic: Corrupt Methods/Tricks Being Followed - भ्रष्टाचार करने के भ्रष्ट तरीके  (Read 8652 times)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भ्रष्टाचारियों को पकड़ो और नंगा करके चौराहे पर ले जाकर बिजली के खम्बे पर बाँध दो और जनता  के हवाले कर दो  जूतों से मारने के लिए !

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भ्रष्ट शासन को दूर करने के लिए एकजुट हों पूर्व सैनिक
-------------------------------------------------
जखोली में आयोजित उत्तराखण्ड रक्षा मोर्चा के सम्मेलन में क्षेत्र के सभी पूर्व सैनिकों से एकजुट होने का आह्वान किया गया। साथ ही जनभावनाओं के अनुरूप राज्य के चहुंमुखी विकास पर जोर दिया गया।

 
रविवार को ब्लॉक मुख्यालय जखोली में आयोजित रक्षा मोर्चा के सम्मेलन में मुख्य अतिथि सेनि ब्रिगेडियर एसएस पटवाल ने कहा कि राज्य में बढ़ रहे भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए आम जनता के साथ ही पूर्व सैनिकों को एकजुटता के साथ आगे आने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पृथक राज्य निर्माण के पीछे जो जनभावनाएं जुड़ी थी, उनके अनुरूप अभी तक राज्य का विकास नहीं हो पाया है।

ऐसे में आगामी विधानसभा चुनावों में राज्य में प्रत्येक नागरिक को सोच विचार कर मतदान करना होगा। प्रदेश प्रवक्ता रघुवीर सिंह बिष्ट ने कहा कि रक्षा मोर्चा का उद्देश्य राज्य में भ्रष्टाचार को समाप्त करने का शसक्त व सुशासन स्थापित करना।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_8266714.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भ्रष्टाचार के खात्मे को आगे आएं महिलाएं
=====================

महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनीता वर्मा ने महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ यदि प्रभावी कदम कोई उठा सकता है तो वह मातृशक्ति ही है।

हरिद्वार मार्ग स्थित होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनीता वर्मा ने बुधवार को स्वर्गाश्रम में होने वाले महिला कांग्रेस के मंडलीय सम्मेलन की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि संगठन को और तेजी से आगे बढ़ाने के लिए कर्मठ महिलाओं को संगठन से जोड़ने की आवश्यकता है।

यह सम्मेलन इस दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। महिला कांग्रेस प्रत्येक बूथ पर इकाई का गठन करने जा रही है, जिसमें पांच लोगों को पदाधिकारी नियुक्त किया जाएगा। सम्मेलन में कार्यकर्ताओं को यूपीए सरकार की उपलब्धियों को जनता तक पहुंचाने के लिए प्रशिक्षित करने की कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारें केंद्र की उपलब्धियों को हथियाने का प्रयास कर रही है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_8374437.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Uttarakhand cabinet clears powerful Jan Lokpal-like bill
« Reply #13 on: October 30, 2011, 04:18:49 AM »
Uttarakhand cabinet clears powerful Jan Lokpal-like bill

Dehradun: The Uttarakhand cabinet gave the  Jan Lokpal Bill a green signal in a meeting chaired by chief minister  B C Khanduri on Saturday. The strong Lokayukta would have the chief minister, all ministers, MLAs, top bureaucrats including IAS officers, and all government servants under its ambit.

 The Uttarakhand Lokayukta Bill, 2011, will now be tabled in the 70-member Uttarakhand assembly during its two-day session commencing on Monday. The bill is a replica of Anna's Jan Lokpal Bill and Khanduri's move to act decisively on it is a clear sign of being in line with public sentiments ahead of state elections in February 2012.

 The lower judiciary is also included in the Lokayukta net but judges of the Uttarakhand high court would fall outside the purview of the Lokayukta. The Lokayukta can also investigate former chief ministers, former ministers and retired officers.  Khanduri himself had been made the CM in an attempt to salvage the BJP's image as his predecessor Ramesh Pokhriyal Nishank's government was mired in corruption cases and was fast losing public trust.

 "The objective of the bill is not just to eradicate corruption but also to maintain transparency and professional honesty in government functioning," Khanduri said.

 Comprising five members under a chairperson, the Lokayukta would have the scope to increase its member strength to seven depending on its needs. The spectrum of punishments is wide and starts with a minimum sentence of six months and goes on to a maximum of life imprisonment.

http://timesofindia.indiatimes.com/india/Uttarakhand-cabinet-clears-powerful-Jan-Lokpal-like-bill/articleshow/10537055.cms

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
उत्तराखंड में साकार होगा अन्ना का सपना

देहरादून:
उत्तराखंड में अन्ना का एक बड़ा सपना साकार होने जा रहा है. उत्तराखंड की विधानसभा में सोमवार को जनलोकपाल की तर्ज पर बनाया गया लोकायुक्त विधेयक 2011 पेश होगा.

खास बात है कि बीजेपी सरकार की इस पहल का कांग्रेस ने भी साथ देने का फैसला किया है. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री भुवनचंद्र खंडूड़ी के मुताबिक प्रस्तावित लोकपाल बिल में टीम अन्ना के सुझाव भी शामिल किए गए हैं.

इस बिल के मुताबिक लोकपाल प्रशासनिक और आर्थिक रूप से स्वतंत्र होगा, जिले स्तर पर शिकायतों का निपटारा होगा, मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री और मंत्रियों के अलावा वरिष्ठ अधिकारी भी इसके दायरे में होंगे.

गौरतलब है कि जनलोकपाल बिल के लिए अन्ना के आंदोलन के बाद उत्तराखंड पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है जहां जनलोकपाल की तर्ज पर लोकपाल बिल पास होगा.

वैसे इस बिल को लाने में बड़ा हाथ विधानसभा चुनाव का भी है जो तीन महीने बाद राज्य में होनेवाला है

http://star.newsbullet.in/india/34-more/17669-2011-10-31-03-09-47

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
 राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए जनता को भी ईमानदारी की राह पर चलना होगा। उन्होंने कहा कि कर्णप्रयाग रेल लाईन के शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री को स्वयं आना चाहिए। रविवार को अपने गढ़वाल दौरे पर मुख्यमंत्री ने चौरास में पूर्व सैनिकों के गौरव सेनानी सम्मेलन में शिरकत की। साथ ही, थत्यूड़ ब्लॉक मुख्यालय में लोनिवि के नवनिर्मित गेस्ट हाउस समेत 3193.64 लाख की योजनाओं का लोकर्पण व शिलान्यास किया।

चौरास स्टेडियम में पूर्व सैनिक सम्मेलन व गढ़वाल रायफल्स के मेडिकल कैंप का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सैनिकों व पूर्व सैनिकों की मांगों के निस्तारण के लिए प्रयासरत है। वीरता चक्र व मेडल विजेता सैनिकों की पुरस्कार राशि में वृद्धि उनके प्रयास से हुई है। पौड़ी में सैन्य कैंटीन व अन्य मांगों पर भी जल्द कार्रवाई होगी। श्रीनगर विधायक बृजमोहन कोटवाल ने पर्वतीय क्षेत्रों में स्थापित होने वाले उद्योगों में पूर्व सैनिकों को आरक्षण की मांग उठाई।

गढ़वाल रायफल्स लैंसडौन के कमांडेंट ब्रिगेडियर शरत चंद्र ने कहा कि सेना माह में दो बार मोबाइल कैंटीन व हॉस्पिटल दूरस्थ क्षेत्रों में भेजती है। सेना की ईसीएच कैंटीन के लिए 50 लाख रु. की जरूरत है। सम्मेलन में कर्नल शमशेर सिंह, गढ़वाल विवि के कुलपति प्रो. श्रीकृष्ण सिंह, कुलसचिव डा. उदय रावत, सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास निदेशक ब्रिगेडियर एएन बहुगुणा, मेडिकल कालेज प्राचार्या डा. स्नेहलता सूद, भाजपा मंडल अध्यक्ष भारतभूषण कुकरेती, जिला सैनिक कल्याण बोर्ड अधिकारी कर्नल आरपी सिंह आदि मौजूद थे।

उधर, राजकीय इंटर कालेज ढांणा थत्यूड़ में जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने महिलाओं से राज्य के विकास में भागीदारी सुनिश्चित करने का आहवान किया। काबीना मंत्री खजानदास ने कहा कि धनोल्टी विधानसभा क्षेत्र में दो अरब से अधिक के विकास कार्य हुए हैं। उन्होंने कहा कि खंडूड़ी देश के पहले मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने स्वयं को जनलोकपाल बिल के दायरे में लाकर भ्रष्टाचार मिटाने का बीड़ा उठाया। खेल परिषद अध्यक्ष एनएस राणा व ब्लाक प्रमुख गीता रावत ने भी विचार व्यक्त किए।

इस अवसर पर पूर्व विधायक लाखीराम जोशी, जिलाध्यक्ष विनोद सुयाल, ज्ञान सिंह नेगी, महावीर रांगड़, राजेश नौटियाल, संजय नेगी, मनमोहन सिंह मल्ल, सुभाष रमोला, गजेन्द्र सिंह पंवार आदि उपस्थित थे।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_8418861.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

उत्तराखंड सरकार से सीखे केंद्र: केजरीवाल
सशक्त जनलोकपाल विधेयक के लिए आंदोलन चला रही टीम अन्ना ने उत्तराखंड विधानसभा में लोकायुक्त विधेयक पारित होने का स्वागत किया है। टीम ने विधेयक पारित करने के ‌लिए उत्तराखंड सरकार को बधाई दी है। टीम अन्ना के अहम सदस्य अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उत्तराखंड लोकायुक्त भ्रष्टाचार मुक्त शासन की दिशा में एक क्रांति है।

केजरीवाल ने कहा कि उत्तराखंड विधानसभा ने सर्वसम्मति से विधेयक पारित कर दिया। केंद्र सरकार को उत्तराखंड सरकार से सीख लेनी चाहिए। देखना है केंद्र क्या कदम उठाता है। टीम अन्ना के सदस्य प्रशांत भूषण ने कहा कि अब केंद्र का कोई बहाना नहीं चलेगा। केंद्र को उत्तराखंड जैसा सख्त कानून बनाना चाहिए।

लोकायुक्त विधेयक पारित होने पर बधाई दी
टीम अन्ना की कोर कमेटी की सदस्य किरण बेदी ने उत्तराखंड के नए लोकायुक्त विधेयक के पारित होने पर राज्य की जनता को आज बधाई देने के साथ ही इसे अन्ना के आंदोलन की पहली जीत बताया। राजधानी देहरादून के सेंट जोसेफ स्कूल पहुंची बेदी ने कहा कि राज्य सरकार ने एक मजबूत लोकायुक्त विधेयक ला कर सारे देश में एक नजीर पेश की है। उन्होंने कहा कि अन्ना के दोबारा अनशन करने की धमकी के बाद टीम अन्ना ने भी आंदोलन के लिए तैयार होने की घोषणा कर दी है।

आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर की उत्तर प्रदेश में आगामी भ्रष्टाचार विरोधी यात्रा को लेकर कि रण बेदी ने स्पष्ट किया कि वह उनकी इस मुहिम में पूरी तरह साथ हैं। उन्होंने श्रीश्री रविशंकर की यात्रा को भ्रष्टाचार के खिलाफ नैतिकता जाग्रत करने के लिए की जा रही यात्रा बताते हुए कहा कि बिना नैतिकता के भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती है और हम उ%नके साथ हैं।

(Source -Amar Ujala).


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भ्रष्टाचार के खिलाफ आगे आने का आह्वाहन
========================

टीएचडीसी इंडिया के सौजन्य से सतर्कता जागरूक सप्ताह के तहत प्रतापनगर प्रखंड के कठुली में गोष्ठी आयोजित की गई, जिसमें लोगों को भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए आगे आने का अह्वान किया गया।

गुरुवार को कठुली में आयोजित गोष्ठी में टीएचडीसी के मुख्य सतर्कता आयुक्त हिमांशु बडोनी ने कहा कि पूर्व उप प्रधानमंत्री स्व. सरदार बल्लभ भाई के जन्मदिवस 31 से एक सप्ताह के चलने वाले इस कार्यक्रम के गांव-गांव में गोष्ठी आयोजित कर लोगों को भ्रष्टाचार के खिलाफ लामबंद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गोष्ठी में सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी जा रही है।

 टीएचडीसी के मुख्य महाप्रबंधक डीके गोविल ने कहा कि टीएचडीसी टिहरी बांध से प्रभावित ग्रामीणों को सामाजिक दायित्व के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में अनेक कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, जिसमें स्वास्थ्य शिविर, कम्प्यूटर शिक्षा, टैंट, स्कूली बच्चों को नि:शुल्क पुस्तकें व यूनिफार्म आदि वितरित किया जाते हैं।

 इस अवसर पर महाप्रबंधक सामाजिक उत्तरदायित्व राकेश खरे, हेनगबि के डॉ. मोहन पंवार, कठुली के प्रधान मस्ता सिंह पंवार, एसडी उनियाल, वाईएस चौहान आदि उपस्थित थे।

Source dainik Jagran

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
हिमालय से निकली नई गंगा से उम्मीद

उत्तराखंड ने राज्य में लोकायुक्त के गठन की कवायद पूरी कर ही दी। इसे लोक-लाज का तकाजा मानिए या फिर इस राज्य के विधायकों में बची अवशेष शुचिता, लोकायुक्त का यह प्रस्ताव विधानसभा में सर्वसम्मति से पारित हुआ। इस तरह उत्तराखंड देश का ऐसा पहला राज्य बन गया, जिसने भ्रष्टाचार से शापित देशवासियों को त्रण दिलाने वाली गंगा का वह प्रतिरूप बहाया, जिसके लिए पिछले कुछ समय से देश भर में त्रहि-त्रहि मची थी।
 अब प्रदेश की जनता के लिए पहली आवश्यकता यह है कि इस पहल का असर धरती, आसमान, नदी, पहाड़ सब पर दिखे। किसी भी यज्ञ का शुभ लाभ यदि कुछ समय बाद दिखाई न पड़े, तो वह निष्फल ही माना जाता है। बारिश के लिए किए जाने वाले यज्ञ के कुछ देर बाद यदि आसमान पर घटाएं न घिरें, तो उसे आडंबर कहलाते देर नहीं लगती। उत्तराखंड से की जाने वाली पहल सारे देश के लिए विशेष महत्व रखती है। यदि इसका परिणाम निराशाजनक निकलता है, तो देश भर में इस प्रयोग के प्रति कुंठा, हताशा व नकारात्मकता की भीषण काली आंधी उठ सकती है।  <ins><ins></ins></ins> भारत में भ्रष्टाचार संभवत: ईश्वर के बाद सर्वाधिक सर्वव्यापी है। यह इतना अमूर्त, मायावी तथा शक्तिशाली दैत्य है, जो अपने रूप, रंग और स्थल बहुत आसानी से बदल देता है। अन्ना हजारे के आंदोलन से और चाहे कुछ हुआ हो या न हुआ हो, लेकिन देश का जन-गण-मन अपने अधिनायकों के सामने प्रश्नवाचक मुद्रा में उठ खड़ा हुआ है। यही लोकतंत्र की पहली और शायद आखिरी शर्त है। अब बिडंबना यह  है कि जनता हमेशा इस तरह खड़ी नहीं होती। उसे इस तरह आलोड़ित होने में दशक और कभी-कभी सदियां भी लग जाती हैं। इस पहल का एक प्राथमिक सूत्र यह है कि जनता हमेशा जागरूक बनी रहे। वह अपने लिए बार-बार किसी अन्ना या इतिहास के आह्वान की प्रतीक्षा न करे। इतिहास को अपनी एक पलक के झपकाने में भी सदियां बीत जाती हैं। दूसरी बात यह है कि लोकपाल या लोकायुक्त भी ऐसे ही मनुष्य होंगे, जैसे हमारे सांसद, अधिकारी या न्यायाधीश हैं। इस अपशगुन के प्रति भी हम पहले से ही सजग क्यों न रहें कि लोकायुक्त या लोकपाल नामक मांगलिक-प्रतीकों को भी भ्रष्टाचार की जंक छीजने न लगे। फिर भी हम एक कदम आगे बढ़े हैं। दूसरा कदम तब तक नहीं उठाया जा सकता, जब तक पहला न उठाया जाए। इस पहल का स्वागत भी ऐसे ही करें, जैसे हमने पहली बार चांद पर अपने पांवों के निशान पड़ने के बाद किया था। अनेक अवसरों पर यह सूक्ति उच्चारित की जाती है, ‘इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।’ इस बार हिमालय से सचमुच नए युग की तारणहार गंगा निकली है। उसे रास्ता दें, प्रदूषित न करें। उसके तटों पर हर 12 साल बाद नहीं, बल्कि हर दिन कुंभ का आयोजन करें।
 (ये लेखक के अपने विचार हैं)

http://www.livehindustan.com/news/editorial/guestcolumn/article1-story-57-62-198997.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Anna Hazare praises Uttarakhand CM, slams Gujarat
« Reply #19 on: November 05, 2011, 07:25:52 AM »
Anna Hazare praises Uttarakhand CM, slams Gujarat


The passage of the Lok Ayukta Bill in Uttarakhand today earned Chief Minister BC Khanduri praise from Anna Hazare, who urged the Centre and other states to follow suit, even as he slammed BJP government in Gujarat for not enacting a similar measure.
"The Lok Ayukta Bill passed by the Uttarakhand assembly and its Chief Minister BC Khanduri is big thing for the country.... Very soon you will see its effect when this law reaches the villages and people will start to feel its powers," Hazare said after meeting Khanduri here.
In reply to a poser on whether he was supporting BJP, Hazare said, "Even Gujarat is a BJP ruled state. But it is not implementing the Lok Ayukta Bill for the past so many years. It is not easy to make such law and it requires a concerted effort of everyone which requires a strong leadership."
Praising Khanduri, he said the country is governed by the rule of law and its system is based on justice.
"We have chosen the top-most people here to make strong laws, and I think this work done by Khanduri is very important as it can show a new path to the entire nation."
He said the Centre and other states should also follow Uttarakhand's example.
Appearing before a Parliamentary Committee yesterday, Team Anna had demanded that the government version of the Lokpal Bill should follow the Uttarakhand model.
"I feel assured that Uttarakhand will become the headmaster for the entire nation for this law," he said.
Hazare said he was not praising any particular party but a person who has worked for the passage of the Lok Ayukta Bill.
Asked if UPA passes the Lokpal Bill in the Winter Session of Parliament, he said, "We will definitely support them. Whosoever works for the betterment of the country, we would respect them. I will surely visit Uttarakhand."
Khanduri said Hazare has been his "inspiration" for the passage of the bill.
The Uttarakhand Lok Ayukta Bill brings under its purview the chief minister, ministers and government servants, including IAS and IPS officers, and with a provision for punishment extending up to life imprisonment.


http://www.dnaindia.com/india/report_anna-hazare-praises-uttarakhand-cm-slams-gujarat_1607632

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22