Author Topic: Articles By Bhisma Kukreti - श्री भीष्म कुकरेती जी के लेख  (Read 562741 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1

        फूड  फोटोग्राफी म फोटोफ्रेम  मा  कार्यरत हाथ दिखाणो तकनीक
-
फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग -९
   Food  Styling for  Effective  Food Photography part -  9
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती 
-
  आपन देखि  होला कि  भौत सा  फूड   फोटो म कार्यरत हाथ दिखाए जांदन अर भौत सा फोटोग्राफर तो  फ़ूड फोटोग्राफ म कार्यरत हाथ दिखाणम सनकी हूंदन।  वास्तव म फोड़ फोटोग्राफ फ्रेम हठ फोटो म जान लायी जांद अर  फ़ूड म ऊर्जा आयी जांद।  फूड   फोटोग्रैफ म हथ  से दर्शक बि  हथ  चलाणो उत्सुक ह्वे जांद। फूड  फोटोग्राफ म हाथ से दर्शक इन समझद जन बूलयां वो सहायता करणु  हो ना कि दिखणु हो।   
  फूड  फोटोग्राफी म फोटो फ्रेम म  कार्यरत हाथ दिखाणो तकनीक  म निम्न बात आवश्यक छन -
  फोटो म कथा विचार -
 फूड  फोटोग्राफ म हाथ दिखाण    से  पैल कथा अवश्य सोची लेन अर वै हिसाबन ही हाथ कु प्रयोग फोटोग्राफ म करण चयेंद।  बिन बात का हाथ फोटोग्राफ की इंटेंसिटी तै समाप्त कर दींदन जबकि उद्देश्यात्मक अर   कार्यरत हाथ फूड फोटोग्राफी म चार चाँद लगाई दीन्द। हाथ फूड फोटो म कथा लाणो बड़ो तरीका च।
 साफ़ हथ -
 फोटो लीण  से पािल देख लीण  चयेंद  की फोटो फ्रेम आण  वळ  हठ साफ़ सुथरा होवन।  दिखण चयेंद कि  हथुं पर आटो , मसाला , टिल , राय , जख्या नि लग्युं हो।  हाँ फोटो लता की मांग हो तो ठीक च। 
 हाथ फॉक्स से भैर इ हूण  चएंदन -
 फूड फोटोग्राफ म हाथ वास्तव म सहायक प्रॉपर्टी च  ना कि केंद्रीय पदार्थ , इलै फॉक्स म त  हीरो पदार्थ ही फॉक्स म हूण  चयेंद ना कि  हथ।
 हाथों कु  कार्यरत हूण  आवश्यक च -
  फूड  फोटोग्राफ म हाथ महत्वपूर्ण छन किन्तु  वांकुण  केवल बेकार ही  हथ  ना अपितु कार्यरत हाथ ही दिखाण  चएंदन जु  फोटो  कथा तैं  गति द्यावन। 
 हथ कोमल अर  प्राकृतिक लगण  चएंदन -
 हथुं  मिश्रण सही हूण -
हथ दिखाण  म अन्य प्रॉपर्टीज बि  आवश्यक छन किंतु  सब्युंक मिश्रण चक्षुप्रिय ही हूण  चयेंद। 
हाथों पर प्रकाशौ  ध्यान आवश्यक च -
 हाथों पर प्रकाश कन पड़णो  च कु  ध्यान आवश्यक च।  निकट कु प्रकाश हथ तै हीरो बणै सकद त  कमजोर प्रकाश हथों महत्व ही कम क्र सकद। 
  फूड फोटोग्राफी  म फोटो तै एक कथा बताण  आवश्यक च अर यदि मानवीय स्पर्श हो तो फोटो  जीवित ह्वे  जांद  अर दर्शक फोटो से जुड़ जांद।  हथों से बढ़िया मानवीय स्पर्श क्या ह्वे सकद ! हाँ  चाहे व्यवसायिक फूड फोटोग्राफी हो  या सोशल मीडिया कुण  फूड  फोटोग्राफी हो सब जगा  हथ  दिखाण म सावधानी तो बरतण इ पड़द।  यी बात ध्यान दीण चयेंद कि फूड फोटो एक विशेष संस्कृति तै बि प्रदर्शित करद तो हाथों तै फोटो फ्रेम प्रयोग बि विशेष संस्कृति क प्रदर्शन वळ हूण  चयेंद।   
 
 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ?


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1
   फ़ूड फोटोग्राफी  हेतु   आवश्यक प्रॉपर्टीज   
-
व्यक्तिगत  किचन में   आकर्षक फ़ूड फोटो खींचने के ट्रिक्स /गुर 
फ़ूड  फोटोग्राफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग पर कुछ   ध्यान दीण  लैक बथ
 प्रभावशाली फ़ूड फोटोग्रॉफी वास्ता  फ़ूड स्टाइलिंग , भाग -१०
   Food  Styling for  Effective  Food Photography part -  10
जसपुर तैं  छायाचित्रों द्वारा प्रसिद्धि दिलाण वळ  फोटोग्राफर श्री चंद्र मोहन जखमोला तैं  समर्पित
-
   भीष्म कुकरेती 
-
 जु  जु  सोशल मीडिया म अपण  खैंचीं  फोटो पोस्ट करण  चांदन वु हमेश संसय म रौंदन कि  फ़ूड फोटोग्राफी  कुण  सही प्रॉर्टीज क्या क्या छन।  घरम  फ़ूड फोटोग्राफी वास्ता निम्न वस्तुओं की जरूरत हूंद -
प्लास्टिक ट्रेज -
ट्रेज जु  बि  डयार म ह्वावन  जनकि  जेमिनी बॉल्स , ग्लास बाउल्स , बाटर बाउल्स , कढ़ाई ,भड्डू , फुल्टा , डाडू , कड़छी , पलटा ,  छाज ,  पैन ,  हो साक त लखड़ै  थाळी, कांसी थाळी , कांसा कट्वरि , रंगीन या सफेद  एप्रिन, पेपर तौलिया , तौलिया , बनि बनि प्लेट्स , गिलास , चमच , छुर्री कांटा , कप , कितली , टेबल  कवरिंग क्लॉथ , नेपकिन्स , जग या पारम्परिक लुट्या ,फूल दान , मसलादानी (आवश्यक हो तो ) आदि।  मेज या किचन स्टोव आदि  व कटलरी  जनकि  ओवन थाली काळी , चंळुँ , छन्नी , आदि  या टोस्ट मेकर आदि
 सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती

 Food styling and Food Photography;  फ़ूड स्टाइलिंग और फ़ूड फोटोग्राफी , फ़ूड फोटोग्राफी हेतु फ़ूड स्टाइलिंग आवश्यकता; क्या उत्तराखंडी भोजन को भी फ़ूड स्टाइलिंग की आवश्यकता पडती है ? फ़ूड फोटोग्राफी में किन किन रसोई उपकरणों व आवश्यक  वस्तुओं की आवश्यकता होती है, फ़ूड फोटोग्राफी में  आवश्यक प्रॉपर्टीज की आवश्यकता


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1

पाक चन्द्रिका : हिंदीs  पैलो  प्रमाणिक  पाक   कला  ग्रन्थ


भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -११

भारतम ब्रिटिश कालम  कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग -  ११
Cookbooks in British Period in India
s = आधी अ
-
   भीष्म कुकरेती
-
  हिंदी साहित्य के इतिहासकारोंन  स्वर्गीय मणिराम   शर्मा पर जुल्म ही  कार बल उन ऊं  तै  हिंदी   इतिहास  पुस्तकों म  स्थान  नि  दे   जबकि  १९२६म प्रकाशित  स्व मणिराम  शर्मा  कु  ग्रंथ ' पाक चंद्रिका '  तै चाँद प्रेस लिमिटेड न १९३४ म पा पंचौं  संस्करण प्रकाशित कार अर  हर संस्करणम  कम से कम २०००  प्रति छपिन।  मि  तै १९३४  क ही रिकॉर्ड मील पैथर  हौर संस्करण   बि प्रकाशित ह्वे  ह्वाल तो कुजाण।  सैत च इथगा पुस्तक संख्या त देवकी नंदन खत्री क बि नि बिक होला।   मणिराम  शर्माक  हिंदी विकास मा योगदान अविस्मरणीय च। 
 मनीराम शर्मा क  पाक चंद्रिका को  पैल  संस्करण  वूंको  गोलोकवासी हूणो  बाद छप अर  सम्पादिका छे    विद्यावती शगल जबकि  चौथो संस्करण (१९३४ )  कु  सम्पादक छा मुंशी नौजदीक  श्रीवास्तव।   
प्रथम संस्करण की सम्पादिका विद्यावती क कथन च बल " भारत म पाक कला क औपचारिक शिक्षा क आभाव च "  . जबकि  ग्रंथ रचयिता क मनण  छौ बल " शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम" अर्थात शरीर की यत्नपूर्वक रक्षा न करने से अकाल में ही क्षय हो जायेगा।   
सब्युं तै  अच्छा भोजन  चयेंद किन्तु कनै  पकाण की चिंता कै  तै नि  रौंदी का सिद्धांत का कारण ही चाँद  प्रेस लिमिटेड  अर मणिराम   शर्मा न ग्रंथ प्रकाशित कार।  ग्रंथ बड़ो च  जु  ५४५ पृष्ठों ग्रंथ च।  पाक चंद्रिका म निम्न खंड अर  प्र्तेक खंड म  अध्याय छन -
====प्रथम खंड =====
----प्रथम अध्याय --
पाक विद्या
आहार परोजन
पाक शिक्षा संबंधी प्रश्न
षटरस भोजन
-द्वितीय अध्याय --
गुणावगुण प्रकरण
पाक प्रकरण
दालादि प्रकरण
खिचड़ी प्रकरण
दलियादि  प्रकरण
कढ़ी प्रकरण
----द्वितीय खंड ----
रोटी प्रकरण
चटनी प्रकरण
रायता प्रकरण
अचार प्रकरण
मुरब्बा प्रकरण
दुग्धादि प्रकरण
खीर प्रकरण
घृतान्न प्रकरण
पकवान आदि प्रकरण
मधुरान्न  प्रकरण
मिष्ठान प्रकरण
हलुवा प्रकरण
मोदक प्रकरण
फलाहार प्रकरण
षंगीय मिष्ठान प्रकरण
तृप्ति प्रकरण - चाट
परिशिष्ट - गृह विज्ञान
प्रकरणों व खंड क अध्यायों से साफ़ दर्शित च की ग्रंथ सपमूर्ण पाक कला क ग्रंथ च जखमा  गृह विज्ञान व पाक शिक्षा पर वृहद चर्चा हुईं च। 
 ग्रंथ म भोज्य पदार्थों गन अवगुणों - पौष्टिक तत्व  पर ,, भोजन अवयवों मात्रा व राशि व पाक विधि पर विस्तृत चर्चा करे गे।  मणिराम  शर्मा कृत 'पाक चंद्रिका म  भारत का लगभग सभी भोजन का पाक विधि बताईं  छन। 
आश्चर्य च बल इथगा विस्तृत ग्रंथ की चर्चा ही नि  दिखे ना ही  कै  आज का पाक कला पुस्तकों म ना ही हिंदी इतिहास समीक्षा पुस्तकों म जबकि  पुस्तक को आकर व वितरित विवरण आज बि प्रासांगिक च। 
 आशा च क्वी ना क्वी भविष्य म मनीराम शर्मा क 'पाक चंद्रिका पर विश्तृत चर्चा कारल अर  मणिराम  शर्मा तै वो स्थान द्यालो जान्का  मणिराम शर्मा हकदार छन। 
ग्रंथ इंटरनेट पर उपब्ध च। 
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्र


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1
    आधुनिक पाक विज्ञान

आधुनिक  पाक विज्ञान: हिन्दीम  सर्वपर्थम ग्रंथ जिसमे गैर भारतीय भोजन रेसिपी भी सम्मलित है !   
आधुनिक  पाक विज्ञान: हिन्दीम  सर्वपर्थम ग्रंथ  जैमा  गैर भारतीय भोजन की रेसिपी भी सम्मलित  छन !
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  - १३

भारतम ब्रिटिश कालम  कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १२ 
Cookbooks in British Period in India -13
-
   भीष्म कुकरेती
-
   ब्रिटिश राजम में बीसवीं सदी के प्रथम खंड,म  हिंदी में पाक विधि , पाक विधान अर्थात रेसिपी  ग्रंथ प्रकाशन शुरू ह्वे ।  हिंदीक   प्रथम प्रमाणिक रेसिपी  ग्रंथ  मणिराम  शर्माको   पाक चंद्रिका  मने जांद  इनि  रह   भारतीय , सामिष , असामिश व गैर भारतीय भोजन सहित वृहद पाक विधि ग्रंथ  ' आधुनिक पाक विज्ञानं (निरामिष व अमिष )   रचणो  श्रेय पंडित नृसिंहराम शुक्ल  तै जान्दो।    प्रस्तुत  पंडित नृसिंहराम शुक्ल द्वारा रचित   ' आधुनिक पाक विज्ञान ( Vegetarian   and  Non  vegetarian ) यानि (निरामिष व अमिष)  पुस्तक मंदिर मथुरा द्वारा सन  १९३९ म प्रकाशित ह्वे .   पुस्तक की भूमिका दाऊ दयाल गुप्ता 'साहित्यरत्न 'न  लेखी ।     
   आधुनिक पाक विज्ञान ( Vegetarian   and  Non  vegetarian ) यानि (निरामिष व अमिष) म  निम्न मुख्य अध्याय छन  -
   भोजन क्या है , कैसे करना चाहिए , स्थान व रसोइया कैसे हो इत्यादि
 निरामिष के लिए - कच्ची रसोई , पक्की रसोई , पकवान ,मिठाई , नमकीन ,फलाहार , चटनी ,रायता , मुरब्बा , फल , इत्यादि
मांसाहारियों हेतु - मांस , मछली , कोफ्ता , कबाब , पुलाव ,अंडा इत्यादि।
अंग्रेजी भोजन हेतु - मांस मछली के आलावा , डबल रोटी , बिस्किट्स, सलाद , विदेशी दाल चावल ,रोटी इत्यादि।
 विटामिन कै  कै   भोजनम मिलदो  की जानकारी भी  दियीं  च । 
पुस्तक गृहस्त , रसोईयीए व हलवाइयों के लिए लाभकारी है। 
  वै   समयौ   अनुसार  इ  ना  आज भी २२० पृष्ठ  कु  प्रस्तुत    आधुनिक पाक विज्ञान ( Vegetarian   and  Non  vegetarian ) यानि (निरामिष व अमिष)  ग्रंथ  प्रासंगिक व लाभकारी च। 
ग्रंथ म पाणी  साफ़ करण  जन अध्याय बि  च। 
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन, aadhunik paak vigyan


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1

                डालडा कुकबुक कु योगदान

-
भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -१३
Coockbooks in India  - 13

भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त   कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - १
Cookbooks in Independent  India  -  1
-
   भीष्म कुकरेती
-
 डालडा कम्पनी क स्थापना १९३७ म हिंदुस्तान लिवर न करी।  १९३० तक  हिंदुस्तान वनस्पति मैन्यू फैक्चरिंग वनस्पति कम्पनी  घी आयात हून्द  छौ।  तब हिंदुस्तान  वनस्पति कम्पनी (अब यूनिलीवर ) न फैक्ट्री स्थापित कार।  १९३७ बिटेन  डच कम्पनी क डाडा  अर लिवर क मेल से डालडा बण।  यु लम्ब सालुं तक चलण  वळ ब्रैंड च।
 डालडा न कई मार्केटिंग इनोवेशन  बि  करिन  एक च लोगुं  तै भिन्न भिन्न क्षेत्रों भोजन पकाण  सिखाण।  हम्म जानकारी च बल १९४७ म डालडा  एडवाइजरी सर्विस न  हिंदी , अंग्रेजी , तमिल  व बंगाली म एक कुकरी  बुक प्रकाशित कार।   पाकिस्तान म यांक प्लेटिनम संस्करण बि  छप अर खूब पढ़े जांद प्रशंसित हूंद। 
डालडा कुक बुक क तिसर  संस्करण १९५१ म प्रकाशित ह्वे।  १९६६ अर १९७८ का संस्करण नेट पर उपलब्ध छन। 
 डालडा कम्पनी क वनस्पति घी को प्रसार ही ना एक क्षेत्र क रेसिपी दुसर  क्षेत्र वळ तै उपलब्ध कराण म भौत च। 
डालडा न कुकबुक  परकसन संस्कृति  तै अगवाड़ी   बढ़ाई  । 
 
-
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1

   निकट भविष्य म भोजन प्रचनल (ट्रेंड्स ) (निकट भविष्य को फूड ट्रेंड्स )
-
भीष्म कुकरेती
-
-
  कोविड  19  को प्रभाव से सबसे बिंडी प्रभावित ह्वे भोजन।  चला दिखला औण वळ  समौ म क्या क्या  भोजन प्रचलन परिवर्तन की भविष्यवाणी हूणी छन -
अ - मनिख व्यक्तिगत तौर पर अपण व्यक्तिगत शारीरिक  प्रकृति  क प्रति अति सचेत ह्वे गे। 
आ - कोरिना क डौर  बनी बनी भोजन प्रचलन तै जन्म दीणू  च।
कुछ भविष्यवाणी -
१- होटल म भोजन खपत कम ह्वेलि।
२- घर म पकण वळ सप्लायरों तै अधिक व्यापर मीलल।  याने होम मेड फ़ूड डिलीवरी की मांग बढ़लि।
३- जब तक कोरिना डौर राल तो बुफे या सामूहिक भों म कमी  ही रैली।
४- स्ट्रीट फूड म बि  जु  साफ़ सुथरा रालो वैकि विक्री बढ़ली।
५-  वर्क फ्रॉम होम से घर कु  भों म ाटाशिस वृद्धि ह्वेलि।
६- लेफ्ट ओवर भोजन - लेफ्ट ओवर भोजन क्या बच्युं  भोजन को  सदुपयोग पर जोर रालो अर  घर म बि  नया नया प्रोयग भोजन पर होला।
८- हंडेलीवरी होटल को प्रचलन हौर बढ़ल पर होटल वळों तै  स्व्छ्तम भोजन डेलिवरी की गारंटी दीण पड़ल
९ -  जु  होटल आयुर्वेदक , सिद्ध भोजन आदि शब्द व रेसिपी पर अनुसंधान व मार्केटिंग कारल  वो जीतल।  इनि होम डेलिवरी होटलों व ब्रैंडो पर भी लागू होलु .
१०- आयुर्वेदिक मसललों व  आयुर्वेदिक स्वाद वर्धक पदार्थों  की खपत बढ़ली।  इनि आयुर्वेदिक मुखवास की भी खपत बढ़ली।
११- लोग बजट से अधिक महत्व आयुर्वेदिक भोजन पर बल द्याला।
१२- होम डेलिवरी होटलों मीनू कम ह्वे जाला।
१३- होटल वळ  आयुर्वेदक मील किट ब्याचल याने आयुर्वेदिक मील डब्बा।
 १४- अल्कोहल व सिगरेट  खपत कम ह्वेलि।
१५ग्रीन टी जन भोजन पर जोर रालो।
१६- आयुर्वेदिक ज्यूस  मांग म वृद्धि जन जल जीरा आदि
१७- सलाद की मांग बढ़ली
सर्वाधिकार @ भीष्म कुकरेती , २०२१



Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1
   

मॉडर्न कुकरी फॉर टीचिंग एंड द ट्रेड : भारतीय पाक विधा क विश्वकोश

भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -14

भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त   कुक  बुक प्रकाशन कोअर ब्यौरा  भाग - 2
Cookbooks  after  Independent  India  - 2 
-
   भीष्म कुकरेती
-
मॉडर्न कुकरी  फौर  टीचर्स  ऐंड द  ट्रेड  आधुनिक भारत  की एक महत्वपूर्ण ग्रंथ च। यु ग्रंथ १९४६ म छप छौ अर  अब  बी छपेणु रौंद , ग्रंथ वास्तव म एक संदर्भ ग्रंथ च। 
मॉडर्न कुकरी फौर टीचर्स ऐंड  द ट्रेड की लेखिका पदम् श्री थंगम एलिजाबेथ फिलिप्स च। 
थंगम फिलिप्स कु जन्म सन 1921 म केरल म ह्वे छौ। तंगम की शिक्षा दीक्षा वोमंस कॉलेज चेन्नई , लेडी इरविन कॉलेज दिल्ली,से ह्वे अर थंगम न मास्टर की डिग्री अमेरिका से पायी।  थंगम न कोलकता म कॉलेज नौकरी शुरू कार अर  श्री लंका म  एक कॉलेज म होम इकोनॉमिक्स विभाग शरू कार। १९५० म थंगम वापस भार आयी अर  भारतीय कृषि  मंत्रालय म शामिल ह्वे। कुछ वर्ष वाद वा मुंबई आयी अर होटल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट ज्वाइन करी। थंगम न कति ग्रंथ लिखिन।  थंगम फिलिप्स तै कई अंतर्राष्ट्रीय पुरुष्कार बि मिलेन अर  १९७६ म पदम् श्री मील।  देहवसान २००९ केरल म। 
 थंगम एलिजाबेथ फिलिप्स भारत म होटल मैनेजमेंट अर हॉस्पिटलिटी मैनेजमेंट विचार की संस्थापकों म एक च। 
थंगम की पुस्तक 'मॉडर्न कुकरी ' इनसाक्लोपीडिया माने जांद। प्रस्तुत ग्रंथ छात्रों , अध्यापकों व होटल व्यापार वळों  कुण बड़ो उपयोगी ग्रंथ च। 

 पुस्तक म निम्न अध्याय छन-
  कुकरी थिओरी-   ये अध्ययम मुख्य - कुकरी मटिरियल्स  अवयव व तयारी ,पकाणो तरीका , सूप्स , फिश ,मांशाहारी पाक विधि ,मुर्गी , सब्जियां व सलाद  , चीज , दालें  ,सजवट /गार्निशिंग ; पश्चिमी भोजन म मसाला, पेय पदार्थ , भोजन दुबर गरम करण ,फ़ूड प्रोसेसिंग ,रोगियों कुण  भोजन पकाण , भोजन भण्डारीकरण सिद्धांत ,भोजन संरक्षण ,भोजन योजना , लघु कैलोरीज भोजन , कॉल गैस , स्टीम आदि , भोजन पाक शब्दावली , भारतीय भोजन शब्दावली , हिंदी शब्दावली , नाप अर तौल ,मीनू सुझाव 
इंडियन कुकरी :- अनाज, दालें ,सब्जी , अंडे , मछली , मीट , मिठाई , अल्पाहार
वेस्टर्न कुकरी : बेसिक्स ऐंड इंटरम्मीडिएट :- सूप्स,अंडे ,मछली , मीट ,सब्जी , ठंडी मिठाई, गरम मिठाई , शखरि भोजन , सॉसेज 
मॉडर्न कुकरी की भाषा सरल  च अर भोजन पाक कला व पोषण का प्रत्येक पक्ष की विवेचना हुईं च। 

 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1


 उन्नीसवीं सदी कु  बंगालम पाक विधि ग्रंथ प्रकाशन

भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  -१७

भारतम ब्रिटिश कालम  कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग -  १५
Cookbooks in British Period in India 15
-
   भीष्म कुकरेती   


-
  आज बंगाल अफु तै संस्कृति निर्देशक प्रदेश बुल्दो  तो वांक पैथर ब्रिटिश काल म पुस्तकों प्रकाशन एक महत्वपूर्ण कारण च।  कुकरी बुक रेसिपी म बि बंगाल न अग्ल्यार ले छे।
बंगाली म सबसे पैल कुकरी बुक 'पकराजेश्वर; सन १८३१  म छप।  दुसर पाक विधि गपुस्तक 'व्यंजन रत्नाकर'  १८५८ म प्रकाशित ह्वे।  फिर इन बुले जांद बल एक  गुमनाम बंगाली महिला न पाक प्रबंध ' नाम से १८७९ एक पुस्तक छाप।
 फिर बी बिप्रदास मुख्योपध्याय  पुस्तक '  शौक़ीन  खाद्य-पाक  (प्रकाशन वर्ष  १८८९)।  पैथर  ये पुस्तक का द्वी जिल्द एक जिल्द म करी पाकप्रणाली ' नाम से छप।
मुखोपध्याय सन १८८३  म  एक  रेसिपी मासिक 'पाकप्रणाली नाम से  छाप । 
पुनः एक महत्वपूर्ण पाक विधि पुस्तक छप।  सन १९०० म प्रज्ञा सुंदरी देवी न आमिष व निरामिष आहार नाम से पुटक छाप।  यांक पैथर आमिष संस्करण छपे गए व फिर तिसर संस्करण १९०७ म निरामिष नाम से छप। 
यांक बादक बंगाली रेसिपी ग्रंथों सूचना पैलि  दिए गए छे।
 
 सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन


Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1
 
फूड स्टाइलिंगम (भोजन सजावटम)आम गलती
-
भीष्म कुकरेती
 
-
 फोटोग्राफी वास्ता हम लोग  भोजन सजावट करदां किन्तु अधिकतर कुछ आम गलती हूंदन जौं पर ध्यान आवश्यक च -
१-  बड़ी भारी थाली या प्लेटौ प्रयोग - बड़ी थाली /प्लेट /तस्तरी प्रयोग से भोजन छुट /कम  अनुभव  हूंद। या कढ़ाई गहरी अर भोजन कम दिखाण  बि गलती च। 
२- props या चीज वस्तुओं भीड़ - भौत सा लोक भोजन सजाणो  बान  आस पास  बिंडी / अधिक वस्तु /  प्रॉपर्टीज (props ) जमा  कर दींदन जु वास्तव म कन्फ्यूजन अधिक पैदा करद अर  भोजन क महत्व बि कम हूंद।
३-  खाणो खाणो बान  सजावट - भौत  बार क्या अधिकतर  समय  फूड  फोटोग्राफी समय भोजन इन धरे जांद  कि मेमानों बान  खाणा खाणो  भोजन टेबल म धरे जांद. वास्तव म भोजन फोटो क सही कोण  देखि धरण चयेंद।
४-  इकु  रंगो  भौत  सा वस्तु -  या एकी रंग भौत बार दिखाण भौत दैं फ़ूड स्टाइलिस्ट या फोटोग्राफर एक या द्वी कलर की वस्तु /भोजन बिंडी  धर दींदन।
५- धनिया /हरो हर्ब्स नि  धरण - भोजनम   हरा धणिया , पोदीना पत्ती , गंदेलो पत्ता , तुलसी पत्ता नि  रखण या  डळण।  जबकि हरा पत्ता ताजगी लांदन।
६- हरी सब्जी / पळ्यो  -खीर , झुळी - फाणु दिखाणम  जल्दबाजी या कल्पनाहीनता -  भौत से हरी भुज्जी, एकि जन दिखेंदन तो पछ्याणयौ  वास्ता यूंक  पत्ती /टहनी व् पत्ती फोटो म  नि  दिखाण . उनी फाणु -कढ़ी/झुळ्ळी, पळ्यो -खीर  इकजनि  दिखेंदन तो यूंको अवयव नि  दिखाण  गलती ही ह्वे।  यूंको अवयव /सामग्री अवश्य दिखाओ। 
७- बाड़ी/ झंग्वर   दिखाणम लापरवाही।  बाड़ी/झंगोरा  तै कलाएक्ट ढंग से दिखाण  चयेंद।  सबसे बढ़िया तरीका च पक्यूं  बाड़ी -झंग्वर  तै कटोरी म धारो मथि से कीटो /पटकाओ अर फिर उल्टो करी  प्लेट उंद  सावधानी से खैणे द्यावो। 
८- रंग सिद्धांत नि समझण - प्रत्येक रंग प्रत्येक रंग क दगड़ नि  फबद तो रंग सिद्धांत कि को रंग कै  रंगो दगड़  फबद  समझण  आवश्यक च।
९-   प्रॉपर्टी /वस्तु  गलत सलत  जगा म धरण  या वस्तु कखम कखम धरणो ज्ञान नि  हूण 
    फूड  फोटो याने  दर्शकों तै आँख्यूं  से खलाण . तो फूड स्टाइलिंग क छुट मुत मुट गलती सुधारण  आवश्यक च। 
-
Copyright @ Bhishma Kukreti , 2021 
फूड स्टाइलिंग म मिस्टेक , फ़ूड स्टाइलिंग म गलती , फ़ूड स्टाइलिंग म आम गलती, भोजन सजावट म अशुद्धि

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,051
  • Karma: +22/-1

मीनाक्षी अम्मल: असंभव तै संभव बणाण  वळि

 ( समाइथु पार कूक बुक की लेखिका )

मीनाक्षी  अम्मल :   एक साधारण गृहणी एक कुकबुक प्रकाशजीत करणो  बाद तमिलनाडुम  प्रसिद्ध  हुयी 

एक साधारण गृहणी एक कुकबुक प्रकाशजीत करने बाद तमिलनाडुम  प्रसिद्ध ह्वे !

भारतम म पाक शास्त्र ग्रंथ रचना इतिहास   भाग  - 18

भारतम  स्वतंत्रता उपरान्त    कुक  बुक प्रकाशन को ब्यौरा  भाग - 3

Cookbooks after Independent India  - 3 
-
   भीष्म कुकरेती     


-
वींक दगड  एक द्वी  वर्षौ नौनु , सास छे अर कटटर बमणी   विधवा    एस मीनाक्षी अम्मलन प्रत्येकका उत्तरदायित्व भली भाँती निभायी।  मिनाक्षी अम्मल म  शक्तिशाली हथियार छै जिंदगी दगड़ संघर्ष करणो एक कि  मिनाक्षी भोजन पकाणम अति दक्ष महिला छे अर मीनाक्षी अम्मल दृढ इच्छा शक्ति की स्वामिनी छे।  मिनाक्षी अम्मल बड़ी परिश्रमी छे। 
"मीनाक्षी अम्मल  पचास आदम्युं  कुण  बि   कुशलता से भोजन पकाई लींद छे। "   मीनाक्षी क झड़नाती पत्नी   प्रिय राजकुमार लिखदि।  वै  बगत असुविधाओं दिन छ तो भीड़क वास्ता भोजन पकाण सरल काम नि छौ प्रत्येक प्रोसेस विधि क कार्य अफ़ु करण पड़द  छौ, आउटसोर्सिंग या जन पिस्यां मसल , मिक्सर गरिन्द्र जन उपकरण उपलब्ध नि  छा ,  किन्तु मिनाक्षी अम्मल एक दृढ निश्चयी महिला छे तो कर लींद छे।
 मीनाक्षी अम्मल इथगा ब्यूँतदार  रुसाल छे कि  रिस्तेदार , पछ्याण वळ  बार बगत  जन बड़ी जीमण , तीज  त्यौहार  मा  मीनाक्षी अम्मल की सौ -सैता  लींदा  छा।
 मीनाक्षी  अम्मल कु  ममा जी  बड़ा वकील साब  छा।  वकील साब के  वी  . कृष्णा स्वामीन मीनाक्षी  अम्मल  तै  परिवार जनो म प्रचारित करणो  वास्ता एक रेसिपी बुक प्रकाशित करणो  बार बार उत्साहित कार।
रेसिपी  गुटका  लिखद  लिखद  बड़ो ह्वे  गे।
वै  बगत  क्वी  विधवा इन  काम कारो  तब सुणन ही कठिन छौ। पर मीनाक्षी तो भोजन पाक कला की मीरा जन भक्तणी  छे।  अर साथ छौ ममा की इच्छा।
 जब पुस्तक छप तो एकदम प्रसिद्ध तो नि  ह्वे पर  जॉन  पौढ़   वून  अफि  मुख जवानी पुस्तक की प प्रचार कि  नवविवाहिता ट्रंक कौल करी मीनाक्षी से फोन पर भोजन पाक कला सीखदा  छा।  धीरे धीरे मिनाक्षी एक बड़ी सेलिब्रिटी, लीजेंड्री  बण  गे।  सन १९५१  म ' मीनाक्षी क कुकबुक 'सामाइथु पार '  नाम से  छप
मीनाक्षी  ५६ वर्ष की आयु म १९६२ म कैलाशवासी ह्वे  किन्तु मीनाक्षी की पुस्तक न मिनाक्षी अम्मल तै अमर बणाइ  दे। 
   

सर्वाधिकार@ भीष्म कुकरेती
भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास; ब्रिटिश राज में  भारत में पाक शास्त्र / cookbooks  ग्रंथ इतिहास;    ग्रंथ इतिहास;  श्रृंखला जारी रहेगी , Cookbooks in British Period in India ; भारत म ब्रिटिश युग म पाक शास्त्र  ग्रंथ प्रकाशन


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22