Author Topic: Articles By Parashar Gaur On Uttarakhand - पराशर गौर जी के उत्तराखंड पर लेख  (Read 47867 times)

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
खंडूंरी जी के इस्ताफे पर प्रतिक्रिया

            "  बिंडी खाणु जोगी बण्यु अर पीली की बेल भूखी रैग्यु !"

      कभी कभी जरूरत से जायदा महत्वाकांक्षा आदमी थै पतन की ओर ली जांद !  महाभारत माँ धृतराष्ट्र आँखों से अन्धो छो,  दरसल वो आँखों से ना बल्कि दिमाक से भी अंधो छो !  वे की अपणा पुत्रो की प्रति मोह और उन्थै  राज्य की राज गदी माँ बैठाण की महत्वाकांक्षा उथै ले डूबी !  इनी कई उदाहरण छन जन की वेटिंग की लाइन माँ लगया अडवानी जी अर हमरा उत्तराखंड का मुख्या मंत्र्री भुवन चंद खंडूरी जी !

    खंडूरी जी जरूरत से ज्याद राजनैतिक छलांग लगाणा चक्क्ररमा मा , न त , पार ही लगी सका और नाही अप्णी राजनैतिक साख थै ही बचाई  साका !  ये चक्क्रम सी एम्  की  कुर्सी भी गवाई ,  दग्ड्मा  कई एक औरी की बलि  ( टी पि एस रावत)  भी  दे !  अर अबता , न  सी एम् की कुर्सी राइ ,   अर न एम् पी की ... ....  !  अबत हाशिया पर ही समझा ! जो   कभी आड़र  चलादा  छा ! .. जो ओरियु थै ,  घंटो घंटो अपणा कोठी का भैर खडा रखदा रैनी ,  अब उनकी अग्वाडी क्न्क्वाई जाला या मेरी समझम नि आणी चा !   याक्वी  बुल्दन  "   बिंडी खाणु जोगी बण्यु अर पीली की बेल भूखी रैग्यु  .... "

परासर गौड़  जून २३ ०९

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

Exactly right sir.

खंडूंरी जी के इस्ताफे पर प्रतिक्रिया

            "  बिंडी खाणु जोगी बण्यु अर पीली की बेल भूखी रैग्यु !"

      कभी कभी जरूरत से जायदा महत्वाकांक्षा आदमी थै पतन की ओर ली जांद !  महाभारत माँ धृतराष्ट्र आँखों से अन्धो छो,  दरसल वो आँखों से ना बल्कि दिमाक से भी अंधो छो !  वे की अपणा पुत्रो की प्रति मोह और उन्थै  राज्य की राज गदी माँ बैठाण की महत्वाकांक्षा उथै ले डूबी !  इनी कई उदाहरण छन जन की वेटिंग की लाइन माँ लगया अडवानी जी अर हमरा उत्तराखंड का मुख्या मंत्र्री भुवन चंद खंडूरी जी !

    खंडूरी जी जरूरत से ज्याद राजनैतिक छलांग लगाणा चक्क्ररमा मा , न त , पार ही लगी सका और नाही अप्णी राजनैतिक साख थै ही बचाई  साका !  ये चक्क्रम सी एम्  की  कुर्सी भी गवाई ,  दग्ड्मा  कई एक औरी की बलि  ( टी पि एस रावत)  भी  दे !  अर अबता , न  सी एम् की कुर्सी राइ ,   अर न एम् पी की ... ....  !  अबत हाशिया पर ही समझा ! जो   कभी आड़र  चलादा  छा ! .. जो ओरियु थै ,  घंटो घंटो अपणा कोठी का भैर खडा रखदा रैनी ,  अब उनकी अग्वाडी क्न्क्वाई जाला या मेरी समझम नि आणी चा !   याक्वी  बुल्दन  "   बिंडी खाणु जोगी बण्यु अर पीली की बेल भूखी रैग्यु  .... "

परासर गौड़  जून २३ ०९

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

Our Senior Member and Father of Uttarakhandi Cinema Shree Parashar Gaur ji written Book release ceremony video at Delhi.

Many -2 congrats to Gaur Ji.


http://www.youtube.com/watch?v=O1h4c2hbY1Y

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
मित्रो  मुझे नेगी जी हांकांग से एक लिस्ट भेजी  उसके अनुसार में यहाँ पर  पौडी/ टेहरी/ उत्तरकाशी /  चमोली  में
पट्टी के अनुसार गड़ है  उनकेम बारे में  लेख रहा हूँ ! अब पट्टी तो जान गए है   कृपया  आप में से कोई जानता है की ये गड़ इस पट्टी में किस गौं  के आस पास है

   चमोली  में
 गढ का नाम           पट्टी का नाम         कहा है/ किस गौ के पास है ?

१ चाँदपुर गढ              चांदपुर                       ????
२. चोंडागढ                   "                                               ?
३. तोपगढ़                    "                                               ?
४ राणिगढ़                राणिगढ़                         ?
५ कोलापुरगढ़              लोह्बा                          ?
६ बधाणगढ़                   "                                               ?
७ लोह्बागढ़                लोह्बा                         ?
८ दसोलीगढ़                दसोली                         ?
९ नागपुरगढ़                नागपुर                         ?
१०  कंडारगढ़               तली कालीफ़ाट                   ?

     __________________________________________________________________________

जिला पोडी में               पट्टी                कहा है/ किस गौ के पास है ?

११.    जोन्यागढ़            अजम्रेर                         ???
१२.   धन्यागढ़             ईड्वालस्यूं                        ?
१३.  सवलीगढ़             सावली                           ?
१४  गुजुडू गढ़            गुजुडू                            ?
१५  बदलपुर              बदलपुर                          ?
१६  देवलगढ़              चलाणस्युं                        ?
१७  नयालगढ़             कटुल स्यूं                        ?
१८  अजमेरगढ़            अजमेर                          ?
१९  कोटागढ़              ईड्वालस्यूं                        ?
२०  लंगूरगढ़              लंगूर                            ?
२१  पावगढ़               गंगासलाण                       ?
२२.  ईड्वालगढ़             ईड्वालस्यूं                       ?
२३  बनगढ़                गंगासलाण                      ?
२४  गढ़कोटगढ़            माल्या ठाँगू                      ?
२५  जोनपुर गढ़           बनेल स्यूं                        ?
२५  फ्ल्याणगढ़             पौडी                           ?
२६  नैलचामिगढ़              "                                                 ?
२७  बनगढ़                  "                                                 ?
२८  चम्बागढ़               उदयपुर                        ?
 २९ चोंद्कोट गढ़             चोंद्कोट                       ?
३०  उफ्फुगढ़                उदयपुर                        ?
      

_____

टिहरी गढ़वाल                 पट्टी                कहा है/ किस गौ के पास है ?

२७  बडारगढ़                बंगर                          ???
२८  भरदार गढ़              भरदार                          ?
२९  भरपूर गढ़               भरपूर                          ?
३०  चीला गढ़               चीला                           ?
३१  भिलंगढ़                 सोनीभिलग                      ?
३२  कूईलगढ़                नरेंदर नगर                      ?
३३  सिलगढ़                 भरदार                          ?
३४  हिन्दुउगढ़                हिंदवा                          ?
३५  मुंजणी गढ़               टिहरी                          ?
३६  रैकागढ़                    "                                                 ?
३७  चोलागढ़                  रमोला                         ?

   _______________________________________________________________________________

उत्तरकाशी                     पट्टी                कहा है/ किस गौ के पास है ?

      ईदियाकोट  गढ़             बड़कोट                        ???
      मुंगरा गढ़                  रवाई                           ?
      खानजी गढ़                  "                                                  ?

   _____________________________________________________________________

 रुद्रप्रयाग                      पट्टी                कहा है/ किस गौ के पास है ?

       कौलीगढ़                   बछ्णस्यूं                         ???
       लोईगढ़                       "                                                   ?
       नवासुगढ़                      "                                                   ?
       भुवना गढ़                     "                                                    ?
       लोदनागढ़                     "                                                     ?
       हियणी गढ़                   "                                                       ?

      * कठूढ़ गढ़                    थाती कठूढ़                        ?


 
परासर गौड़  

 

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,048
  • Karma: +59/-1

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
    Ek Vyang                                  "  एकता सम्मलेन "
 
  पहाडियों ने एक समेलम को आयोजन करी ! ये समालन की आवसकता इलै पडी की वख का लोग आपस मा   जाती का आधार पर , राजनैतक आधार पर,  सोच का आधार पर ,  अलग अलग ग्रुपो माँ छा ब्ट्या  !   कुछ्ल  ये फैसला कारी,   की ,  इबरी दा वो नेता बुलौण ,  जू ,  ई दलगत राजनीत से उपर सोचु ,  जैका बिचार हम सब से अलग हो और सबसे बडी बात,  जू हम सब थै एकठा को देऊ !   
 
        समेलना दिन हर जिला बीटी जनकी  चौनकोट /बहार स्यूं / नागपुर /राठ आदि आदि का लोग आया ! मंच बणयेगे ! जगह जगह पोस्टर चिपकाए गिनी अर मंच पर एक बडो पो़स्टर लटकयेगे जैमा लिख्यु छो  ........   
 
                        " एकता की मिसाल, हमारू गढ़वाल  "     
 
 भीड़ जुटी ! पंडाल भरै  ..  मंच माँ सबसे पैली कुर्सियों लेकी घ्रोलरोल सुरु हुवे की,  कु कु बैठ्ला ! माइक से उकी  आवाज सब्यु थै छै सुणीणी !.....
 
  "------ नही जी नै .. नेताजी का बगल मी बैठुलू  .. "
 
त हैकु बुनू ...  "___ तू किलै भै ,  मी किलै  ना  ? "
 
पैलू वालू बोली  .. " अब्बे तेरे ओखात च , मेरा बगलमा बैठना की ?  सकल देखिच एनम ???  बडू आयु च नेता  बणण वलु !
 
तिसरल बीच माँ बोली अजी   ... " किलै छा लाणा .. पैली नेता जी थै त आणि देवा  "
 
  जनि ,  नेता जी एनी ,   मच माँ उका बगल्म बैठना का बाना कुई इनै लम्डी , कुई उनै .! तभी  कैल माइक से बुनू सुरु कैरी ...
 
   " -- भांइयु .. आप लोग शाती का साथ बैठा .. नेता  जी आज हम सब थै एकठा कना का वास्ता आया छन  उकी `सोच,,   उका बिचार से आप लोग उन भी परचित छो की,   वो,  पहाड़ की एकता का वाता कतका चिंतित छन !    मी नेता श्रोमणी श्रीदास श्रीशिंह जी बिनती करदू की वो , हम थै रास्ता बतैकी जू हम अलग अलग हिसौ माँ ब्ट्या छा सब थै एक मंच पर लैकि  ये एकता समेलन थै सार्तक करी   .. नेता जी ...  "
 
  नेताजिल माइक पड़ी और सुरु ह्यैनी ......
 
        " ____ म्यारा मुल्का रैबासियु ..   पहाड़.... अब वो पहाड़ नि रायु  !   पाहड का पहाडी ,  बहुत अगनै बड़ीगीन  !   इथ्गा अग्वाडी ... की ,  यख बटी जू जाद , वो वापस नि आदु ....  ( तालिया  बजदी  )  तब वो,  वख भी संथा बणादी !   केका बाना  ! ..  तराकिक बाना  ! ..  ,    भ ले मुल्के ना, . अपणी सै  ..  ( तालिया .. )
 
   हमरु पहाड़ , हमरु गडवाल माँ एकता की बात त,   गाडा गड्नो से देखि ल्या ... सब मिली नयार माँ मिलदी अर नयार गगाजिम !
 
   तबी बीचम  कुई  चिलाद  " नेताजी जिदाबाद . श्रोमणी श्रीदास श्रीशिंह जी ... जिंदाबाद  .."
नेताजी फिर सुरु हुआ ------
 
  "  .. देखना  ये पडाल माँ कई जिला का लोग छन आया  जनकी एक ( आदिमा क ओर इसार कैकी )  आप .. आप  गगाँगाड़ी ,  , आप सैलाणी , आप  अर वो ---,  वो ,    फार  वो  ---   
रा  अ  आ  ठी     ( राठी ) ....
 
 
   तबी जै पर नेताजिल उगली से इशारा कई छो  वो चिलाई --------------
 
 ' -- अबै ... कोच राठी ई  ई  !   अर कैखुणि बोली तिल राठी ..    बतामिईज  क ख्याकू ..  //  ( बगाल्वल से बोली)  जरा ईनै लोदी मेरी तै लाठी  .. ये थै बतोदु छो  कोच  राठी .. ???   
  भीड़ भड़की  ...घापरोल   ह्वई .. मन्चै तरफ लोग  भागा  ! "  मारो -- मारो ये नेता थै जू हम थै बुनू राठी  .. ! "
 
  कुरच्म  कुर्चयूओ  का बाद नेता युगे अर स्यु गे !   कैल मईक फेकी !   , कैल  कुर्सी !    त कैल.. बैनर फाडा  .. थोडा देरा बाद भीड़ तितर-बित्तर .. 
 
एकता का नाम पर  मंच पर वो पोस्टर हवा छो लटकियु !  जेमा लिख्यु छो   
 
                   " एकता की मिसाल, हमारू गढ़वाल  "   
 
 
परासर गौड़ date 28 july 09



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
excellent articles sir..

    Ek Vyang                                  "  एकता सम्मलेन "
 
  पहाडियों ने एक समेलम को आयोजन करी ! ये समालन की आवसकता इलै पडी की वख का लोग आपस मा   जाती का आधार पर , राजनैतक आधार पर,  सोच का आधार पर ,  अलग अलग ग्रुपो माँ छा ब्ट्या  !   कुछ्ल  ये फैसला कारी,   की ,  इबरी दा वो नेता बुलौण ,  जू ,  ई दलगत राजनीत से उपर सोचु ,  जैका बिचार हम सब से अलग हो और सबसे बडी बात,  जू हम सब थै एकठा को देऊ !   
 
        समेलना दिन हर जिला बीटी जनकी  चौनकोट /बहार स्यूं / नागपुर /राठ आदि आदि का लोग आया ! मंच बणयेगे ! जगह जगह पोस्टर चिपकाए गिनी अर मंच पर एक बडो पो़स्टर लटकयेगे जैमा लिख्यु छो  ........   
 
                        " एकता की मिसाल, हमारू गढ़वाल  "     
 
 भीड़ जुटी ! पंडाल भरै  ..  मंच माँ सबसे पैली कुर्सियों लेकी घ्रोलरोल सुरु हुवे की,  कु कु बैठ्ला ! माइक से उकी  आवाज सब्यु थै छै सुणीणी !.....
 
  "------ नही जी नै .. नेताजी का बगल मी बैठुलू  .. "
 
त हैकु बुनू ...  "___ तू किलै भै ,  मी किलै  ना  ? "
 
पैलू वालू बोली  .. " अब्बे तेरे ओखात च , मेरा बगलमा बैठना की ?  सकल देखिच एनम ???  बडू आयु च नेता  बणण वलु !
 
तिसरल बीच माँ बोली अजी   ... " किलै छा लाणा .. पैली नेता जी थै त आणि देवा  "
 
  जनि ,  नेता जी एनी ,   मच माँ उका बगल्म बैठना का बाना कुई इनै लम्डी , कुई उनै .! तभी  कैल माइक से बुनू सुरु कैरी ...
 
   " -- भांइयु .. आप लोग शाती का साथ बैठा .. नेता  जी आज हम सब थै एकठा कना का वास्ता आया छन  उकी `सोच,,   उका बिचार से आप लोग उन भी परचित छो की,   वो,  पहाड़ की एकता का वाता कतका चिंतित छन !    मी नेता श्रोमणी श्रीदास श्रीशिंह जी बिनती करदू की वो , हम थै रास्ता बतैकी जू हम अलग अलग हिसौ माँ ब्ट्या छा सब थै एक मंच पर लैकि  ये एकता समेलन थै सार्तक करी   .. नेता जी ...  "
 
  नेताजिल माइक पड़ी और सुरु ह्यैनी ......
 
        " ____ म्यारा मुल्का रैबासियु ..   पहाड़.... अब वो पहाड़ नि रायु  !   पाहड का पहाडी ,  बहुत अगनै बड़ीगीन  !   इथ्गा अग्वाडी ... की ,  यख बटी जू जाद , वो वापस नि आदु ....  ( तालिया  बजदी  )  तब वो,  वख भी संथा बणादी !   केका बाना  ! ..  तराकिक बाना  ! ..  ,    भ ले मुल्के ना, . अपणी सै  ..  ( तालिया .. )
 
   हमरु पहाड़ , हमरु गडवाल माँ एकता की बात त,   गाडा गड्नो से देखि ल्या ... सब मिली नयार माँ मिलदी अर नयार गगाजिम !
 
   तबी बीचम  कुई  चिलाद  " नेताजी जिदाबाद . श्रोमणी श्रीदास श्रीशिंह जी ... जिंदाबाद  .."
नेताजी फिर सुरु हुआ ------
 
  "  .. देखना  ये पडाल माँ कई जिला का लोग छन आया  जनकी एक ( आदिमा क ओर इसार कैकी )  आप .. आप  गगाँगाड़ी ,  , आप सैलाणी , आप  अर वो ---,  वो ,    फार  वो  ---   
रा  अ  आ  ठी     ( राठी ) ....
 
 
   तबी जै पर नेताजिल उगली से इशारा कई छो  वो चिलाई --------------
 
 ' -- अबै ... कोच राठी ई  ई  !   अर कैखुणि बोली तिल राठी ..    बतामिईज  क ख्याकू ..  //  ( बगाल्वल से बोली)  जरा ईनै लोदी मेरी तै लाठी  .. ये थै बतोदु छो  कोच  राठी .. ???   
  भीड़ भड़की  ...घापरोल   ह्वई .. मन्चै तरफ लोग  भागा  ! "  मारो -- मारो ये नेता थै जू हम थै बुनू राठी  .. ! "
 
  कुरच्म  कुर्चयूओ  का बाद नेता युगे अर स्यु गे !   कैल मईक फेकी !   , कैल  कुर्सी !    त कैल.. बैनर फाडा  .. थोडा देरा बाद भीड़ तितर-बित्तर .. 
 
एकता का नाम पर  मंच पर वो पोस्टर हवा छो लटकियु !  जेमा लिख्यु छो   
 
                   " एकता की मिसाल, हमारू गढ़वाल  "   
 
 
परासर गौड़ date 28 july 09




Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
मनोती  !


सुबेर सुबेर  बोडी जी ..  भगवान् जी की पुजा कनि छै !  गिचै गिच पुटुक छै कुछ  बबराणी  !

मिन बोली  "--  बोडी जी , क्या छा मँगणा ..??

 वा बोली   " --   अपणो राज  ?

"  अपणो राज   ...माने  ? "

" अरे  लाटा .. अपणो उत्तराखंड  ?"

" वो  अलग  राज्य  ..../// ??

' हां - वी  -- वी ..."

 मिन  बोली   ... " अगर मिली जा .., त , तू क्या करली  ??

वा बोली  .. "  पत्ता  नि ...... ?

 parashar gaur  ist august 0
9

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
विवशता !

मुझे ,
मेरी भूख  और गरीबी  दोनों
हाथ उठाने पर मजबूर करती है
और ,
बिवश करती है मुझे
एक नए अत्याचार को जन्म देने के लिए !

तुम्हारे उपदेश
बार बार मेरे आडे आ जाते है
"आहिंसा  परमो धर्मा  .."
जहा धर्म ही नहीं  -- वहाँ
वहाँ उसका अस्थित्वा कहा है बोलो ?

धर्म तो --,
अब एक राजनैतक हथकंडा बन गया है
जब चाहा ,  जिसने चाहा
इस्तमाल कर लिया  !

देखते नहीं , इसके नाम पर
लाशो का अम्बार ...
सुनते नहीं , मासूम  बच्चो  की चीखे
बेबस महिलाओं की चित्कारे
फिर भी कहते हो  ... " शांती "  !

 मुझे तो बस  ----
उस दिन का  इन्तजार है  जाब,
मेरे साथ  तुम्हारे भी हाथ  उठेगे  ?????
भले... दुआओं के लिए ही सही
तब ,
तुम्हरी  बिवश्ता तुमसे भी कहेगी
अत्याचार केवल तुमारे साथ ही नहीं हुआ
बल्कि मेरे साथ भी हो राहा है  ?

परशार  गौड़
२७ अकटुबर १९८८

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
ek vyang  TAJAA TAJAA
 
 
 
 चला ----, उ नि ऐनी त क्या हुवे  ....
 
 
      जतका बडो गौ , वेमा उतका बनी की जात अर लोग भी!    हमरा गौ माँ कई जात का लोग छन  जनकी  असवाल , बिस्ट  ,नेगी  रावत ,भंडारी , बिंजोला ,  भट  थपलियाल और काला  आदि आदि !  गौ कवी कारिज इनु नी .., की ,  जैमा घ्परोल नि हुवे  होलू !  कभी डाल्ला कटन लेकी त, कभी पंचैत का भानडॉ लेकी , त कभी तैलया खोल मैल्या खोल लेकी !     असवाल --,  रोतू से खार खांदा छा   त,    काला भटु से ...  !  बुनो मतलब यु च की बस ,  बाना चैद अर,    झगडै बाण खड़ी !   मजाल च जू कभी कुई काम चैन से निभी जा !
 
      नेगी जी की नौनी बियो की तारीख जनि नजीखु  आई ,   उनी  ..,   बाना खुज्यान बैठिनी . की,  कनकुवै ये  सुभ कारिजम बिखन डलेजा !  
 
 स्यु साब ...,   रोतुल बोली  "  पैली ---,   ब्योली बुब्बा पंचैत कु दंड दया,   फिर हम सामिल हुला ! "  ,
 
अस्वालुल बोली .. "   ठीक च साब , गौ माँ बेटी ब्यू च !  हम सब थै सामिल हुवे की कारज थै निभाण चैद पर ,  ईयुंन  , पोर ... जू  पंचैत डाला कटा छा वांकु क्या  होलू ?  जब तक ये पूरा पैसा नि देदा हम त कतई सामिल  नि हूय्वे  सकदा ...! "
 
भट जी बोली  "   ठीकी  छन असवाल जी बुना ! ... य   भै  ,  गौ माँ रैण त,   भो -भयात त निभानी पोडली  ! "
 
 गुसम  काला जी बिफरा .. ."  कैसे बात करते हो तुम लोग है ?  एक वार त ,  गौ की नाक का सवाल है ,
अर ऐच से तुम ...  अपणी अपणी  पुरानी बथो को रो रहे हो ?   निखत है तुम लोगो के लिए जू ,  इस सामाजिक काम में ऐन टैम पर अड़ंगा डाल रहे हो ! "   बहस जारी थी की तभी  दुल्हा वालो की तरफ बीटी  कुई आई  उ बोली ....    मी ब्योला की तरफ से ये रैबार लेकी आयु छो की  --------
 
                     "  ब्युलो बुब्बा राजी नि छ न आपका यख से रिश्ता कनु ? "
 
    सुणी सब सन्न रैगी !  भंडरीजिल जनि सुणी  उन सब्यु से बोली  " देख्याल आपल अपनी कामुकू नतीजा .. कख
ब्युओ छो हूणु  अर अब ,   स्य छा ....,   एक हैक कु गिचु दिख्णा !  अभी भी समझा ,  भोल तुम्हरी नौनियु का ब्युल भीत हुणा----- !    अगर इनी हाल राला अर इनी रिश्ता लौटयदै राला त, तब क्या होलू ?
 
  सब्युन एक स्वर म बोली     '-----  अछु हुवे जू उन ,  यु रिश्ता तोडी!  ..  अरे  बरात आई या नि आइली , पर चला .. ये बना से हमक त हुया ! हमरा सरया गौ अब एकत हवे  !    
परासर गौड़   ७ अगस्त ०९

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22