Author Topic: Tantra and Mantra of Garhwal, Tantra and Mantra of Kumaun, Tantra and Mantra of  (Read 80922 times)

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Culture of Garhwal and Kumaun

        Why Does an  Aghori Tantrik Use Human Skull for Tantrik Performances ?

             अघोरी तांत्रिक मानव खोपड़ी से तांत्रिक विधान क्यों करते हैं ?

 

        ( Mantra Tantra in Kumaun, Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Himalyan Shrines )

              Bhishma Kukreti

           यद्यपि कुमाऊं या गढवाल के ग्रामीण इलाकों में अघोरी तांत्रिक नही मिलते हैं किन्तु इस लेखक ने एक बार नयार गंगा संगम - व्यासचट्टी  में

       बिखोत मेले में मानव खोपड़ी की सहायता से एक स्त्री की छाया पूजते देखा था .

       वैसे यह बात आम लोगों हेतु चौंकाने वाला है किन्तु हट्ठ योग या अघोर पंथियों के लिए  मानव खोपड़ी एक पूज्य वस्तु है और इस के पीछे  विज्ञानं भैरव का निम्न सिद्धांत काम करता है

        कपालांतर्मनो  न्यस्य तिष्ठन्मीलितलोचन:

        क्रमेण  मनसो दाध्यार्त लक्षयेल्लक्ष्यमुत्तम  (विज्ञानं भैरव , ३४

   स्थिरता पुर्बक बैठकर , ऑंखें मूंदकर कपाल के आंतरिक भाग पर ध्यान केन्द्रित करो धीरी धीरे भैरव प्राप्ति हो जायेगी

    By fixing one's mind on the inner space of the skull and sitting motionless , with closed eyes , gradually by stablity of mind , one attains Bhairv

Copyright@ Bhishma Kukreti

 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun and Garhwal

         Why is a Pahwa Effected by Bhoot  Beaten by Kandali or Kingwd's Spikes ?

            भूत लगे पश्वा को कण्डाळी (बिछु घास ) या किन्गोड़ा से क्यों झपोड़ा जाता है ?

      (Mantra Tantra in Garhwal, Tantra Mantra in Kumaun, Himalayan Mantra and Tantra Literature)

 

                        Bhishma Kukreti
         प्राय: यह देखा गया है की गढवाल या कुमाऊं के गाँव में जब किसी पर भूत लग जाता है तो झाडखंडी रख्वाळी मंत्र पढ़ते हुए पश्वा को

कण्डाळी के पौधों से झपोड़ता या कभी कभी काँटों भरे किनगोड़ा की डाली से झपोड़ता है. वैसे यह आज अनुचित सा लगता है किन्तु इस तंत्र अनुष्ठान

के पीछे अनुभव किया गया भैरव तन्त्र सूत्र का हाथ है जो इस प्रकार है

            किंचिदगं विभिद्द्यादों  तीक्ष्ण सूच्यादिना तत:

          तत्रैद चेतनां युक्त्वा भैरवे निर्मला गति:     (विज्ञान भैरव , भैरव तन्त्र ९३ )

     यदि किसी अंग को सुई या किसी तेज नुकीली वस्तु से दबाया जाय और उस जगह व दर्द पर ध्यान दिया जाय तो भैरव स्तिथि //वर्तमान अव्षथा   प्राप्त हो जाती है

If any one pierces any limb or part of body with a sharp needle or instrument then by concentrating on that very point one attains the Bhairav state (Vigyan Bhairv 93 )

 Copyright @ Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun and Garhwal

            The  Burning of Red Chillies in Tantrik Performances

              तंत्रों में लाल मिर्च जलाने का रिवाज

     (Mantra tantra in Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun , Mantra Tantra in Himalayas )

                   Bhishma Kukreti
    गाँव हो शहर आपको कुछ तन्त्र कार्य में लाल मिर्च जलाने वाले मिल ही जायेंगे

  लाल मिर्च जलाने के पीछे भैरव तंत्र के दो सिद्धांत कार्य करते हैं . एक सिधांत है जिसमे भक्त को आती साँस, जाती साँस व स्वास नलिका में वहां जहाँ दोनों साँस मिलती हैं पर ध्यान देने का सिद्धांत है व दूसरा सिधांत छींक पर ध्यान देने का सिद्धांत है

   आप भी अनुभव करेंगे कि साँस लेने या साँस छोड़ने के एक एक क्षण पर जब आप सूक्ष्म ध्यान देन तो एक असीम आनन्द प्राप्त होने लगता है .

इसी तरह छींक आने से पहले छींक पर ध्यान दिया जाय (छींक नही आनी चाहिए ) तो एक असीम आनन्द प्राप्त अवश्य होता है

    उर्ध्वे प्राणों ह्याधो जीवो विसर्गात्मा पारोषरेत 

    उत्पति द्वितयस्थाने भरणद्भ्रिता स्तिति:   (विज्ञानं भैरव २४ )

   Bhairva answered , ' The exhailing breath should ascend and the inhailing breath should descend forming a visarga 9consisting of two points) .Their state of fullness is found by fixing them in the two places of their origin

  मरुतोतअन्तवर्हिर्वापी वियद्यगमानिववर्तनात
भैर्व्या भैर्व्स्येत्थ्म     भैरवी व्यज्यते वपु : ( विज्ञान भैरव २५ )

O Bhairavi , by focussing one's awareness on the two voids at the end of the internal and external breath , thereby the glorious form of Bhairav is revealed through Bhairavi

   न ब्रजेन विशेच्छक्तिर्म्रूदृपा विकासिते     

   निर्विक्ल्पत्या मध्ये ट्या भैर्वरूपता ( विज्ञानं भैरव २६ )

The enrgy of breath should neither move out nor enter , when the centre unfolds by the dissolution of thoughts then one attains the nature of Bhairav   

 क्षुताद्यन्ते   भये शोके ग्व्हरे वा रणाद्दृते

क्रित्हले क्षुधाद्यन्ते ब्रह्मसत्ता  समीपगा (विज्ञानं भैरव ११८ )

 At the begining and end of sneezing , in a state of fear or sorrow on top of an abyss or whole feeling from a battlefield , at the moment of intense curiosity , at the begining or end of hunger such astate comes close to the experience of Brahmana (Bhairav)

  तांत्रिक कर्मकांड में मिर्च का धुंवां या घी का धुपण पश्वा को साँस पर ध्यान देने व छींक पर ध्यान देने का एक योग क्रम है

Copyright @ Bhishma Kukreti

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Mystic knowledge of Kumaun and Garhwal

                         Why Do Dalya Gurus Use Ektara While Preaching Gorakhvani ?

                        ड़ळया गुरु एकतारा ही क्यों बजाते हैं ?

                       (Mantra, Tantra of Garhwal, Mantra Tantra in Kumaun, Himalayan Mantra and Tantra )

                        Bhishma Kukreti

         Those who spent their childhood life in rural Kumaun and Garhwal they will be familiar with Dalya Gurus or Aulya Gurus playing Ektara (Single String Musical instrument) while narrating the stories of Bharthari or Gorakh Literature . There is strong reason behind Dalya Gurus or Aulyas Gurus playing Ektara musical instrument and not other instruments while preaching

The following sutra of Vigyan Bhairav is the reason behind uses of Ektara by Dalya/Aulya Gurus

 तंत्र्यादीवाद्यमशब्देषु दीर्घेषु  क्रमसंस्थिते:

अन्यनचेता: प्रत्यन्ते परव्योमबपुभर्वेत (विज्ञानं भैरव - ४१ )

Shiva Says to Parvati ----- If one listens with undivided attention on sound of string musical instruments and others which are played successively and are prolonged , then one becomes absorbed in supreme ether of consciousness (Vigyan Bhairav or Bhairav Tantra, 41)

 

 As the sutra suggests that when a person focuses on the collective and prolonged sound of string , the person attains Bhairav ( being in present / not with fear of past nor worry of future.  The ektara playing becomes the medium of Shaktoupay with just touching Shambhupay

To manufacture sitar etc and travel along with Sitar or Vani etc is difficult the best alternate is Ektara which solves all purposes

 Even if you study or experience , you will find that modern music brings playing of string instrument for attracting audience and their attachment to music.

Copyright @ Bhishma Kukreti bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Mystical Knowledge of Kumaun and Garhwal

                              Why is Tantrik Performance is Performed on Top of Hill ?

                                 तांत्रिक पूजा पहाड़ी की  ऊँची चोटी में करने का कारण


                         (Mantra  Tantra of Garhwal, Tantra Mantra of Kumaun , Mantra Tantra of Himalayas )

                                                                               Bhishma Kukreti

  Usually in Garhwal, Kumaun and  Nepal,  the last Tantrik Performance is carried out either  near a river , Gad Gadan, or on top of a hill (Usually top of village boundary  )  .

  The reason is that earlier Tantriks were from Shaivya sects  , that is why they applied  the principles of  of Vigyam Bhairav (Other names are - Bhairav tantra or Shiv Upnishad ) , Tantralok and Rudra Mala .

  The following two shlokas of Vigyan Bhairav are  the reasons  for performing Tantrik performances on the top of a hill

      आकाशं विमलम पश्यन कृत्वा दृष्टिं निरंतराम

     स्तब्धात्मा तत्क्षणद्देवी भैरवम वपुराप्नुयात (विज्ञान  भैरव , ८४ )

1- Looking at the clear sky , the Bhakta  should fix one’s stare without blinking and makes one’s body motionless . In that very instant , O Goddess ! one attains the Devine (Bhairav ) nature ( Vigayn Bhairav, 84)

     लीनं मूर्ध्नि वियत्सर्व भैर्व्त्वैन भावयेत

    तत्सर्व भैरवाकार तेज्स्तत्वम समाविशेत (विज्ञान भैरव , ८५ )

2- The Bhakta  should contemplate  the entire sky which is nature of Bhairav as if it is pervading one’s head. Then one experiences everything as the form of Bhairav and one enters into the glory of Devine nature (Bhairav Tantra , 85 )

  In both the cases, the Bhakt is advised on to look whole sky and then focusing , The whole sky is visible only on top of a hill. That is one of  reasons that  Tantrik Performance is also executed on top of a hill (from where sky is fully visible)

(This write up is about to analyze the mystical knowledge of Garhwal, Kumaun and Nepal and not to promote or condemns Mantra or Tantra )

Copyright Bhishma Kukreti, bckukreti@gmail.com

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Culture of Garhwal and Kumaun

                      Role of Peacock's Feather in  Mantrik or Tantrik Performances

                       मान्त्रिक या तांत्रिक अनुष्ठानो में मयूरपंख की अहमियत 

                     (Mantra Tantra of Garhwal , Tantra Mantra of Kumaun, Mantra Tantra of Himalayas )

                           Bhishma Kukreti

             आपने देखा होगा  कि मान्त्रिक या तांत्रिक म्युर्प्न्ख अपने पास रखते हैं और मान्त्रिक तांत्रिक अनुष्ठान में पश्वा (भक्त या जिस पर भूत लगा है )

   को मयूरपंख दिखाता है       

     वास्तव में यह विज्ञान भैरव या भैरव तंत्र या रुद्रालय तंत्र का एक सिद्धांत का  व्यवहारिक रूप है जो इस प्रकार से है
         शिखीपक्षेश्चित्ररूपैरमंड़लै शून्यपंचकम

      ध्यायातोअनुत्तरे शून्य प्रवेशो  हृद्यम भवेत ( विज्ञान भैरव : ३२)

Lord Shiva says to Parvati --- By mediating on the five voids of the senses which are like colours of peacock's feathers , the yogi enters in the heart of absolute Void

     आम मनुष्य इन्द्रियों के शून्य को नही जानता किन्तु  यदि मनुष्य देर तक मयूरपंख को निहारता रहे तो वह वर्तमान (जहाँ भूतकाल की शरम नही और भविष्य की इच्छा या चिंता नही )  में पहुंच जाता है

   इसी भैरव तंत्र के सिद्धांत को व्यवहारिक जामा पंहुचाने हेतु झाडखंडी पश्वा को बार बार मयूरपंख दिखाता है

(This article is to analyze the Mantra and Tantra Philosophy of Kumaun and Garhwal and not to support or condem the philosophy)

 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Culture and Spiritual Philosophy of Kumaun and Garhwal'

                                  Uttarkashi : The Prominet Centre  of Mantra and Tantra Creation 



                             चौडिया मसाण मंत्र

                                  (Mantra Tantra in Kumaun, Tantra Mantra in Garhwal, Mantra tantra in Himalaya

                                          Bhishma Kukreti

    Uttarkashi region  being the source place of Ganga and Yamuna reverend rivers had been the place where many spiritual concepts were created  in Sanskrit and in local languages.

 Many Mantras of Kumaun-Garhwal were also created in Uttarkashi region and it seems Uttarkashi was also a prominent centre of Mantrik Tantrik institutions

according to the research of Dr Vishnu Datt Kukreti, Chaudiya Beer Masan Mantra and tantra were created in Uttarkashi along with many more Mantras and Tantrik performances too.

Chaudiya Beer Masan is a Mantra Booklet wherein there are more than 150 lines in 21 pages of 19x12 centemeters . Dr Vishnu datt kukreti found the manuscript in the collection of late Mahesha Nand Baluni , village Uttinda, Dhangu, Pauri Garhwal.  . It is to be note that Balunis of Uttind Bagon were famous mantriks and Tantriks of Dhangu area and their working area was more famous in Langur (Gumkhal area)  and easter Dabralsyun (Chailusain area)

 Chaudiya Beer Masan is from Narsing sect of Nathpanth and whose mother was Mahakali and father was Khaprachor . He is one of the brothers of Narsing

It seems he was born in Gangotri area as Bhakta asks him to full his desire other wise Chaudiya masan will have problem in source of Bhagirathi 

 श्री गणेशाय नमह , ॐ नमो गुरु जी को आदेस, बैरागणि माता को आदेस : अंत पौन कु आदेस, चंद सुर्ज को आदेस ; प्रथमे नाद बुद भैरों को आदेस , पिंगळी जटा को आदेस.........

........ दाई दुश्मन को बाण उखेल,  भाट बामण को बाण उखेल : ठाडा ठडसेरी  को बाण उखेल : मौनी तपेसी को बाण उखेल : छोटा बड़ा भाई की घात उखेल : इतना बाण कु उखेली नी लायी तो भागीरथी मूल को बासो नी पाई :......

Chaudiya masan is described as who changes colour according to direction, was expert of eight Asans , was well aware  of eighteen Dhyans and definitely the creator of this Mantra was from Uttarkashi area

 Dr Purushottam Dobhal also indicated that once, Uttarkashi was prominent centre of Mantra - Tantra Vidya of Garhwal -Kumaun

This author is witness that around 1960-1961 Fikwal of Gangotri Dham used to come in Salan area (South Pauri Garhwal )and used to preform many tantrik aided by Mantras for their disciples .

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Folk Literature of Kumaun and Garhwal

     Fodi Bayali Mantra of Uttarakhand and Vedic Mamntra

     फोड़ी बायाळी /ततार दीण मंत्र और वैदिक मंत्र

     

(Mantra Tantra of Garhwal Kumaun, Mantra Tantra in Himalaya)

                      Bhishma kKukreti

  वैदिक मंत्र किसी देवता या भगवान निर्मित मंत्र नही हैं अपितु स्थानीय भाषाओँ में उपलब्ध साहित्य को ग्यानी ऋषियों ने

वैदिक संस्कृत में रचे और श्रुतियों द्वारा हजारों सालों तक सुरक्षित रखा .

 गढवाल कुमाओं में कई स्थानीय आवश्कता हेतु मंत्र रचे गये . फोड़ी बयाळी या ततार दीण वला मंत्र एक चिकित्सा मंत्र है . सीट पीत शरीर पर आने पर भी इसी तरह का मंत्र पढ़ा जाता है जिसमे मान्त्रिक या तांत्रिक घाव  पर दूब या सिंवळ /सिंयारू ( बोयमीरिया मैक्रोफिला ) के पत्तों को पाणी में भिगोकर घाव या फोड़ी पर धीरे धीरे स्पर्श करता है . पाणी अधिक गिराया जाता है. सिंयारू के पत्ते वास्तव में एंटी वाइरल  या एंटी बैकटी रियल  पत्ते हैं  . साथ साथ मान्त्रिक फोड़ी ब्याली का मंत्र भी पढ़ता है . यदि गाव प गया हो तो गरम सुई से उसे छेदा  जाता है और पीप बाहर निकाला जाता है

   फोड़ी बयालि मंत्र नरसिंग वाली मन्त्रावली  का एक भाग है  जिसमे ७० पंक्ति हैं जो इस प्रकार है

      ॐ नमो आदेस मोट पीर का आदेस मर्दाने पीर को आदेस ......माता मन्दोगीरी की दुद्दी खाई : इस पिण्डा की रखल करी ... ॐ नमो आदेस : आदेस पर्थमे ड़ोंकी ड़ोंकी की सौंकी सोंकी की मदोगीरी : मन्दोगीरी की सात बैण कुई बैण , फोड़ी की बयाळी ; कु डैण : कुई टाणगेणा : कुई चुडळी , कुई बैण चमानी, ......रक्त फोड़ी , अनुन फोड़ी ...जल फोड़ी , थल फोड़ी , वरणफोड़ी , सीत , पीत खतम करे माराज .............इस पिंड की रखल करी .... सिर चढ़ी पेट पढ़ी श्री राजा रामचन्द्र की दूवाई फोर्मन्त्र इसुरोवाच यो च फोड़ बयालि  को मंत्र

                       वैदिक मंत्र

   अथर्व वेद में इसी भाँति कई मंत्र मिलते हैं अथर्व वेद की एक संहिता में दूब की प्रशंशा इस प्रकार है (अध्याय एक, संहिता सात )

                        पिशाचादी से उत्पन पाप , विप्र श्राप  आदि को नाश करने वाली देव निर्मित बीरुष जड़ी मुझको हर प्रकार के शापों से मुक्त कर .......

हे मणे ! नीचा मुख करके फैली हुयी जड़ के समान उपर उठी हुयी सैकड़ों ग्रन्थि वाली " दुर्बा " द्वारा तुम हमे श्राप मुक्त करो .......

                          इस तरह कहा जा सकता है की जल , जड़ी बूटी के साथ साथ मंत्र के योग से चिकित्सा प्ध्हती भारत में वेदों से भी पहले रही है

मंत्र जहां मानसिक बल प्रदान करते हैं वहीं जड़ी बूटी भौतिक चिकत्सा में सहायक होती थीं

Copyright Bhishma Kukreti bckukreti@gmail.com

       

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
Culture of Kumaun and Garhwal

                 Gantha ki Samagri  a Performance  of Kumaun Garhwal

                गांठा कि  हेतु तांत्रिक सामग्री

                (Mantra Tantra in Garhwal, Mantra Tantra in  Kumaun , Tantra Mantra in Uttarakhand , mantra Tantra in Himalaya )

                    Web   Presentation  by Bhishma Kukreti

                Collected and Edited by Abosh Bandhu Bahuguna

         Normally, the language of Mantrik or Tantrik literature of Kumaun and Garhwal is Braj/Khadi Boli but here, the language is Garhwali . This change clearly states/ indicates that this manuscript is quite new  (around ninteenth century and afterwards. It also clearly shows tha Abodh Bandhu Bahuguna edited it according to his wordings too )

                                गांठा की सामग्री

                       संकलन : अबोध बंधु बहुगुणा

      अब गांठा की सामग्री लेषीत. पैल धूप देण . गेगाड़ो सुकाण  . गैणा गू . रतागुळी की  जड़ . . सूकी हल्दी . वज बराह की मेंमण . मर्च की जड़ .      रूद्र का फूल . हड़ताळ गंधप इति .चीजी को धूप देणो  . पैल़े गाऊं माझा जब गांठो करणों होव ट सामिग्री गुगुळ काल़ो बिष . भुत्केश कस्तुरी , काला धतूरा को जड़ . हींग, :बर्ज : :    सर्वजीवनु डाला सर्व जीवनु नकल जडों सुदा आँक को जड़ , इति चीजे कठा पीसिक कूतिक चन्दन सि बणाण  तांको गोला बणोण : स्र्व्जीव्नु की अमीर ,सर्व औषधि एक रतगुळी    की जड़ सपेद पपड़ी की जड़ इति चीज सब भसम बनौण विभूति बणोण अपणा अंग पर मली तब सीर पर ल़ाणी  नाग पर ल़ाणी बिडोणी पर ल़ाणी आफुक बि गांठो करणो येती चीजे सब गांठों पर धरणी  दुखियों पर गांठा ल़ाण : षड मन्तर करणो ; सात सुट को पाणी झुंजण की जड़ डाळी सुदा तुलसी की जड़ डाळी सुदा ताछडि कि जड़ डाळी सुदा हिश्रा कि जड़ डालि सुदा किलगोड़ा  कि जड़ डाळी सुदा इति चीजौन षड मंत्र करणो  : सात बेरी सात चुल़ू दुखी सणी पेणु कु देणा और गांठों पर राज्श्थान कि माटी हरताल गंधप कुमाळी को माटो जड़ाउ को सिंग घोड़ाखुरि इति छेजे गांठों पर धरणी बिच गाँव मांझ कालिच्क्र लेखणो चक्र कि काख पर लांग पर हणमंत उठौणो : कुडा माझ श्रीनादबुद भैरों उठौणो काल़ो मेड़ो का आठ अंगुळ सींग होवन सो मेडा जापणो  काळी कुत्ती सणी  सात घरु कि खीचडि खैलौणी गाऊं मांझ भौत दुःख पोड त इतना जतन करणो बडो लोचडा पड़े त कोरा घडा पर येकोत्र सै कांडा धरणा : सरा गौं को सतनाज सब का नंग बाळ धरणो : वई घडा पर सर्व द्र्ष्तु का जड़ हरताल गंधण इति चीजे घडा पर धरणी सेमळ कि डाळी घडा पर धरणी घडा को मुख मुन्दिक मुणज्याड़ो बाँधणो कूड़ामांझ धरौणो तब भलो होऊ : जब भलो होव तब दिसौ  माझ चार बले दीण  चार दिसौ खीचड़ो पूरब बकरा उन्न मुर्गा पसीम गेगाड़ो दक्षिण ब्रजमुखो स्वा सेर को रोट अपणा   इष्ट देव को काटणो  गांठा तोड़ी देणा व गांठ घडा मा फूकी देणो व हणमंत पाणी मांझ सेल़ाइ देणो : तब गाँव को इष्टदेवता पुजणो गाईदान करौणो  गाओ सुजाई देणो तब भलो हवे : पैल अफूको गाँठ करणो आफो खंडत  चौंळ

 नि खाण  अपणो आसण अलग रखणो पराळ को आसण राखण एक बेळी भोजन करणो आफो तख को दूद दही नि खाणो अस्त्री संगम नि करणो तब करामात रंद : तीन दप ताईं षड़ मंत्र दुरोणो तब लोचड़ो जाव शुभम शुभम शुभम

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,224
  • Karma: +22/-1
आपको मन्त्रों तंत्रों का विरोध का अधिकार कतई नही है यदि आप कर्मकांड में विश्वाश करते हैं !

            सप्तशती के विरोध में कुछ नही और कुमाउनी गढ़वाली मन्त्रो के विरोध में इतना हो हल्ला ???????????????//

प्रिय मित्रो

मुझे आश्चर्य होता है कि जब से मैंने गढवाली - कुमाउनी मन्त्रों के बारे में मेल भेजना शुरू किया भूत सी प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं

अधिकतर प्रशंशा में हैं व कुछ विरोध में हैं

विरोध में भी कुछ बेतुके विरोधी स्वर हैं कुछ सही स्वर हैं

मन्त्र साहित्य के विरोधियों से मेरा प्रश्न है कि यदि आप मार्कन्डेय  पुराण के सप्तशती मन्त्रों की भर्त्सना नही करते हो तो आप गढवाली मन्त्रों कि भर्त्सना कैसे कर सकते हो ?

गढवाली मंत्र कि बुराई  इसलिए कि ये मंत्र स्थानीय या ब्रज  भाषा में हैं और मार्कन्डेय  पुराण के सप्तशती मन्त्रों  क़ी प्रशंशा इसलिए क़ी ये मंत्र संस्कृत में हैं!!!!!!

आईये जरा सप्तशती के मन्त्रों (देवी महात्म्य) क़ी बाँनगी  देखिये और फिर कुमाउनी गढवाली मन्त्रों को निहारिये . आपको पता चलेगा क़ी इन दोनों साहित्य में कुछ अंतर नही केवल भाषा का फरक है

वाह ! संस्कृत में छपा मंत्र सही और बर्ज/खड़ी बोली/कुमाउनी/गढवाली भाषाओँ में छपा मंत्र तुच्छ ? किसने अधिकार दिया आपको स्थानीय भाषा को तुच्छ समझना और संन्स्कृत  को बड़ी भाषा समझना ????

                       सप्तशती का सामूहिक कल्याण हेतु मंत्र

         देव्या यया ततमिदं जगदात्मशक्त्या निश्शेष देवगणश्क्तिस्मुह्मुर्त्य ......... भक्त्या नता: स्म विदधातु शुभानि सा न :

                          विश्व की रक्षा के लिए

            या श्री : स्वयम सुक्रितिनाम भवनेश्व लक्ष्मी पापत्म्नाम क्रित्ध्याम हृद्येसू बुद्धि:...... तां त्वा नता : स्म परिपालय देवी विश्वम

                                  भय नाश के लिए मंत्र

              क-        सर्वरूपे सर्वेशे सर्व शक्तिस्मविन्ते भ्येभ्यस्त्राही नो देवी दुर्गे देवी नमोस्तुते

               ख़ - एत्तत्ते वदनम सौम्यं लोचनत्रयभूषितं पातु न : स्र्व्भीतिस्य कात्यानी न्मोस्तुतु ते

                            रोग नाश के लिए

                रोग्नाशेषानपह्न्सी तुष्टा रुष्टा तू कामान सकलां भीषटान , त्वामाश्रितानां न विपन्नराणां  , त्वामाश्रिता  हाश्र्यन्ता प्र्यन्ति

                                   महामारी नाश के लिए

           जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालनी, दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु  ते

                               बाधा शांति के लिए

                     स्र्व्बाधा प्रशमन त्रैलोक्य्स्यखिलेश्वरि , एवमेव त्वया कार्य मस्मद्वैरीविनाशम

                                    वैक्रितिक्म रहस्यम कुच्छ नही संस्कृत में तांत्रिक अनुष्ठान ही है

   यदि आप मर्केंडेय पुराण (देवी पुराण ) पढ़ें तो पाएंगे कि वैक्रितिक्म रहस्यम  कुछ नही अपितु तांत्रिक अनुष्ठान ही है

      अब आईये गढवाली -कुमाउनी मन्त्रों को निहारिये

       गढवाली -कुमाऊं में निम्न मंत्र व तन्त्र हैं

नादबुद,               जंत्र विधि ,            कामरू जाप,         नरसिंगवाली ,      महाविद्या , विरावली मंत्र ,       नेत्रपाली मंत्र,

मन्त्र्वाली,           रखवाली ,            नरसिंग की चौकी ,    हथ हणमंत ,   चुड़ैल का मंत्र ,    भैरववाली, मैमंदा रखवाली

घटथापना ,       दखिण दिसा ,        चुड़ा मंत्र ,     आप रक्षा ,    काली की रखवाली ,      अष्ट बली , कूर्माश्टक, कलुवा की रखवाली

मन्त्रावली,          डैण की रखवाली , फोड़ी बयाळी  ,       जूर (ज्वर ) ,    तोड़ी रखवाली,    मंत्र गोरील काई , पंचमुखी हनुमान , सेळी बिधि, भैर्वाश्टक,       चौडियाबीर मसाण , सेळी बयाली ,     हनुमान उखेल, बाघ गाडण , दडीया   मंत्र , दरियावली , गणित प्रकाश,   स्र्व्जादु उखेल, समैण ,         सन्क्राचार्ज बिधि,      षेत्रिपाल ,       लोचडा मंत्र ,   सैद्वाली ,   अन्छरवाली , उखेल,    ओल्याचार , भऊनाबीर , गुरु पादुका , गांठा , गुसाईं पादुका , श्रीनाथ सकुलेष, सौ से अधिक फुटकर मंत्र , मोचावली , फुटकर सबदी  , नाथ निघ्न्तु छिदरवाली , इंद्रजाल

      यदि आप इन मन्त्रों को पढो तो पाएंगे की इनमे और मार्केंडेय  पुराण या सोलह कलाओं के कर्मकांडी साहित्य में अधिक अंतर नही है केवल कर्मकांडी साहित्य संस्कृत में हैं व मन्त्र तंत्र जन भाषा में है

    जो मन्त्रों व तंत्रों का विरोध करते हैं वे जन भाषा विरोधी हैं

मन्त्रों तंत्रों का विरोध के वे ही अधिकारी हैं जो अपने घर में कर्मकांड नही करवाते हैं .संस्कृत में वाचन मंत्र हैं और  पूजा का सामान साहित्य तन्त्र हैं .   यदि सन्स्कृत  भाषाई मंत्र तन्त्र मान्य हैं तो फिर जन भाषाई साहित्य की तौहीन क्यों ?

                                     

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22