Author Topic: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण  (Read 79035 times)

Mukul

  • Newbie
  • *
  • Posts: 48
  • Karma: +1/-0
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #30 on: December 29, 2008, 03:33:20 PM »
bahut badiya...

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #31 on: February 04, 2009, 03:13:38 PM »
तुलसी के पौधे के आध्यात्मिक महत्व व औषधी गुणों को देखते हुए पहाङ मे हर आंगन में तुलसी का पौधा लगाने की प्रथा है. इसे एक शुद्ध स्थान पर स्थापित किया जाता है. उस स्थान पर प्राय: एकादशी के दिन ऐपण दिये जाते हैं


पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #32 on: February 19, 2009, 04:40:02 PM »

kp.mishra

  • Newbie
  • *
  • Posts: 8
  • Karma: +0/-0
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #33 on: February 27, 2009, 04:47:24 PM »
aipan

umeshbani

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 137
  • Karma: +3/-0
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #34 on: February 27, 2009, 04:59:57 PM »
अब ये भी रेडीमेड मिलते है बाज़ार में लाओ और चिपका लो ........... धीरे धीरे हमारी या आने वाली पीढी कि महिलायाँ बनाना भी पसंद नहीं करेंगी



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #35 on: February 27, 2009, 05:11:08 PM »

Thank you mishra ji for putting these nice photo grapus of Epan. This is one the oldest art of UK. Somehow now-a-days not being used at a full scale in villages. The apparent reasons may be due to modernization.

aipan


Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #36 on: June 10, 2009, 08:10:05 AM »
पहाड़ की सांस्कृतिक धरोहर है ऐपण   (Jagran News) Jun 10, 02:01 am

रानीखेत (अल्मोड़ा)। नंदा देवी कमेटी द्वारा ऐपण, चित्रकला, काष्ठ शिल्प आदि की प्रदर्शनी का आयोजन जारी है। पहाड़ की सांस्कृतिक धरोहर ऐपण की प्रदर्शनी कला प्रेमियों द्वारा खूब सराही जा रही है। प्रदर्शनी में वीरांगना साह व मीनाक्षी साह द्वारा बनाई गई पारम्परिक ऐपण लोगों को खूब लुभा रही है। कलाकारों ने बताया कि लम्बे समय से पर्वतीय संस्कृति की पहचान ऐपण को बचाने के लिए कार्य कर रहे है। आज यह विधा लगातार खत्म होते जा रही है। इसी को बचाने के लिए यह एक प्रयास मात्र है। जिससे कि लोग इसको और आगे बढ़ा सकें। उन्होंने कहा कि विवाह, नामकरण, पूजा-पाठ आदि कार्यक्रमों में ऐपण बनाने की परम्परा बहुत पुरानी है। पहले चावल को पीस कर ऐपण बनाए जाते थे। आधुनिक समय में यह तरह-तरह के रंगों से बनाए जा रहे है। वीरांगना ने बताया कि पश्चिमी सभ्यता के प्रभाव के कारण विलुप्त होती जा रही है। युवाओं में ऐपण के प्रति रुझान कम होता जा रहा है। इसे बचाने के लिए सभी को एकजुट होकर प्रयास करने की आवश्यकता है। प्रदर्शनी देखने पहुंचे कला प्रेमियों ने कहा कि ऐपण हमारी सांस्कृतिक धरोहर है। उन्होंने वीरांगना व मीनाक्षी साह द्वारा इसे बचाने के प्रयास को प्रशंसनीय बताया। उन्होंने कलाकारों द्वारा बनाई गई कलाकृतियों को जमकर सराहा।

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: ऐपण - UTTARAKHANDI ART
« Reply #37 on: July 21, 2009, 04:32:23 PM »
सामान्यतया दरवाजों पर और पूजा की जगह पर बनाई जाने वाली ऐपण अब कलाकृति की तरह दीवारों पर भी टांगी जाने लगी है.. ये आइडिया बहुत अच्छा है. फ्रेम करने के बाद दीवार पर लटकी ऐपण बहुत सुन्दर लगती है..


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #38 on: September 13, 2009, 11:11:27 PM »

Apain




The artpiece depicts some Goddess... such paintings can be seen at the times of festival as 'Rangoli', reflecting strong culture value and immortal divinity

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #39 on: September 29, 2009, 02:22:22 PM »
aipan in painting form


साभार- http://gallerykuma.blogspot.com/

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22