Author Topic: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण  (Read 79011 times)

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #60 on: June 05, 2010, 04:41:56 PM »

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #61 on: June 15, 2010, 01:23:33 PM »

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #62 on: June 15, 2010, 01:24:17 PM »

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #63 on: September 14, 2010, 04:30:48 PM »
शुभ कार्यों पर महिलाओं द्वारा पहने जाने वाले "रंग्वालि पिछौड़े" पर भी "ऐंपण" की तरह ही डिजायन बनाये जाते हैं.


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #64 on: October 07, 2010, 03:26:53 PM »
उत्तराखंड कला और संसकिरती का ऐसे ही प्रचार करते रहो सर,

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #65 on: October 07, 2010, 03:28:59 PM »
ऐपण शब्द का हिंदी में क्या अर्थ होता है ?

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #66 on: November 06, 2010, 01:51:46 PM »
ऐंपण कला का अस्तित्व अब भी बरकरार

पिथौरागढ़।   बाजार में आर्टिफिशियल ऐंपण आने के बावजूद यहां पर लोग हाथ से ऐंपण बनाने   के काम में अपना हुनर आज भी दिखा रहे हैं। कुछ स्वयंसेवी संस्थाओं ने इस   कला को जीवित रखने का प्रयास किया है। दिवाली पर नगर में करीब 50 प्रतिशत   घरों में आज भी हाथ से ऐंपण तैयार किए गए हैं। ग्रामीण अंचलों में यह   परंपरा काफी समृद्ध है।निधि संस्था के   अध्यक्ष डा. सुनील पांडे ने बताया कि उनकी संस्था ऐंपण कला सिखाने के लिए   समय-समय पर प्रशिक्षण शिविर लगाती है। इसमें महिलाओं को लक्ष्मी चौकी,   विवाह चौकी, दिवाली की चौकी तैयार करने के तरीके सिखाए जाते हैं। इस कला   में दक्ष ज्योति भट्ट ने बताया कि हाथ से तैयार ऐंपण में ज्यादा निखार आता   है। इनको पूजा स्थल की जरूरत के हिसाब से बनाया जाता है।  बाजार   में मिलने वाले आर्टिफिशियल ऐंपण में इस तरह की बारीकी नहीं मिलती।   डीडीहाट में भी महिलाओं ने दिवाली के लिए घरों में हाथ से ही ऐंपण तैयार   किए। दीपावली के लिए ऐंपण डालती एक महिला। 

Source : Amar Uajala
   

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #67 on: November 06, 2010, 01:59:48 PM »
ऐंपण शब्द "अल्पना" से सम्बन्धित लगता है..

ऐपण शब्द का हिंदी में क्या अर्थ होता है ?

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #68 on: November 29, 2010, 01:38:51 AM »
पिछले दिनों नैनीताल के वृन्दावन पब्लिक स्कूल में आयोजित की गई अन्तर्विद्यालयीय "ऐंपण प्रतोयोगिता" में प्रतिभागियों द्वारा बनाये गये कुछ ऐंपण..
 
साभार - नवीन जोशी जी
 

 

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Re: Aipan: Uttarakhand Art - ऐपण
« Reply #69 on: November 29, 2010, 01:41:34 AM »
कुछ और सुन्दर ऐंपण..
 

 

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22