Author Topic: Children Lori in Uttarahkandi Language - बच्चो की लोरिया पहाड़ी में ?  (Read 21539 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0



गोपाल बाबु गोस्वामी जी यह मार्मिक गाना!  एक पुरुष अपनी छोटी सी बच्ची बहुत रो रही है उसको मन रहा है ! इस बच्ची की माँ कही दूर पहाड़ मे घास काटने गयी है! काफी देर हो गयी रात होनी को है वह महिला अभी घर नहीं पहुची है और यहाँ बच्ची रो राई भूख के मारे! यह व्यक्ति चिंतित भी, देखिये यह गाना और सुनिए  एस्निप्स link से:

नान भौ डाड मारिये वे
वो हीरू घर आ जा ओह
घाम उन्छे गे, पड़ी रुमुक
ओह हीरू घर आ जा वे

चुप -२ है जा मेरी लाडली
छिट घडी मे आली इजुली
म्यर पथील दूध पिलाली
ओह हीरू घर आ जा वे .... २

वन घसियारी घर आगेनी
म्यर सुवा जाण कै रैगेयी
चुप -२ है जा मेरी लाडली
छिट घडी मे आली इजुली

घाम उन्छे गे, पड़ी रुमुक
ओह हीरू घर आ जा वे

उडानी सारी चढ़ पथील
दाई बोटी मे बैठ गये घोला
साझ हैगे नी आयी ईजू
ओह सुवा घर ये जा

नान भौ डाड मारिये वे
वो हीरू घर आ जा ओह
घाम उन्छे गे, पड़ी रुमुक
ओह हीरू घर आ जा वे ...

उखोऊ कुटी पानी ले गयी 
चेली बेटीया बौदी बराई
म्यर सुवा तू किले नी आयी
मन विचल म्यर हेगियो .

नान भौ डाड मारिये वे
वो हीरू घर आ जा ओह
घाम उन्छे गे, पड़ी रुमुक
ओह हीरू घर आ जा वे .
 
बाटा घाटा मे जानी का होली ..२
मेरी  रूपसी मेरी घस्यारी

नानी भौउ कैसे छुपानू
ये भगवाना के धाना कौनू
चेली लछिमा भूख लागी गे
ओह हीरू घर आ जा वे.
नान भौ डाड मारिये वे
वो हीरू घर आ जा ओह
 


Listen the Song Through this link :

http://www.esnips.com/doc/8424b2b4-b2e0-49ad-a302-f1187a803737/Nan-Bhau-bhokhi-raigiyo-5



पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
मैने एक तुकबन्दी वाली मिक्स लोरी बनाई थी, जब मेरी बेटी को मुझे सुलाना होता था-

आ जा निन्नू, आ जा रे,
नानी-नानी जियू हमारी,
सो जाली, ओ हो रे सो जाली।
चन्दा मामा आयेगा,
दही-भात लायेगा,
फिर बच्चा खायेगा
सो जा पोथी सो जा।
बच्चे की मम्मा किचन में,
भाड़-बर्तन धोती है,
जियू पोथी को सुलाने में,
पापा की आफत आती है।

सच मानिये ये लोरी २-३ बार रिपीट होते ही वह सो जाती थी। :D :D

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
 यह एक लोरी गीत है, जिसे शिशु को घूटनों में लिटाकर झूले की तरह ऊपर-नीचे झुलाते हुये गाया जाता है-

घुघूति-बासूति, क्य खांदी,
दूद-भात्ति, कैल द्याया, जिठ ब्वैला,
जिठ ब्वै कख चा, लारा धूणूक,
लारा कख छन, आगिल जैगि गिन,
आग कख चा, पाणिन मुझि गै,
पाणि कख चा, ढांगल पियाल,
ढांगू कख च, लमडि़ गाया,
त्यारु चुफ्फा, म्यारु पौ,
सरैं ख्यात मा, लड़ै कना औ।

इस लोक बाल गीत मे शिशु के साथ वार्तालाप किया जा रहा है।


पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
एक और बाल गीत

उतलु पुतलु, भलु गिचलु,
चुप ह्वै जालु, म्यारु थुपलु,
आ बिराऊ, आ बिराऊ,
म्यरा थुपुल कि, गिचि चाट,
चुप ह्वै जादि, कुत पुचलु,
भलु च म्यारु, छ्वटु बुबुलू,
आ रे मूसा, आ रे मूसा,
म्यरा चुंचलू की खुट्टि काट,
आ रि कौव्वा, आ रे कौव्वा,
म्यरा कुतलू कु चुफ्फा छांट,
चुचुलू मुतुल कूम्ता, कुंतलु,
चुप ह्वै जालु म्याअरु बछरु॥

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
मेरी स्वर्गीय दादी जी बच्चों को सुलाने के लिये ये लोरी गाती थी-

नानु-नानु बंशि को बालो - नन्द जी को लाल रे
आओ बाला जमुना में खेलि जाओ ख्याल रे...

dayal pandey/ दयाल पाण्डे

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 669
  • Karma: +4/-2
मैने एक तुकबन्दी वाली मिक्स लोरी बनाई थी, जब मेरी बेटी को मुझे सुलाना होता था-

आ जा निन्नू, आ जा रे,
नानी-नानी जियू हमारी,
सो जाली, ओ हो रे सो जाली।
चन्दा मामा आयेगा,
दही-भात लायेगा,
फिर बच्चा खायेगा
सो जा पोथी सो जा।
बच्चे की मम्मा किचन में,
भाड़-बर्तन धोती है,
जियू पोथी को सुलाने में,
पापा की आफत आती है।

सच मानिये ये लोरी २-३ बार रिपीट होते ही वह सो जाती थी। :D :D
Pankaj ji ye aadhunik lori lagati hai

Meena Rawat

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 849
  • Karma: +13/-0
घुघूती बासूती आम को छे
भाड़ में छे
की करने छे
पू हाल ने छे
एक्क पूवा मी दे काच्चो  छे
जाल पेन  रक्ख दे
भल कन्न खुनु :D :)









मैंने कुछ इस तरह से ये सुनी है

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
पाण्डे जी ये एक tailor made लोरी है जो पंकज दा ने अपनी बेटी जिया के लिये बनाई है.

मैने एक तुकबन्दी वाली मिक्स लोरी बनाई थी, जब मेरी बेटी को मुझे सुलाना होता था-

आ जा निन्नू, आ जा रे,
नानी-नानी जियू हमारी,
सो जाली, ओ हो रे सो जाली।
चन्दा मामा आयेगा,
दही-भात लायेगा,
फिर बच्चा खायेगा
सो जा पोथी सो जा।
बच्चे की मम्मा किचन में,
भाड़-बर्तन धोती है,
जियू पोथी को सुलाने में,
पापा की आफत आती है।

सच मानिये ये लोरी २-३ बार रिपीट होते ही वह सो जाती थी। :D :D
Pankaj ji ye aadhunik lori lagati hai

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0


भौ की निनुरी ये जाली, चुप-२ आँखी भै जाली
फूल दिसाण छजै जाली, दू दू भाति खै जाली !

मुसी खटपट जहाँ करिए, माखी भिन भिन झन करिए !
घुघूती घू घू झन करिए, कोयल कू कू झन करिए!

कुकुर हूँ हूँ झन करिए, बिराऊ म्याऊ म्याऊ झन करिए !
बाकरी मै मै झन करिए, सुवा टे टे झन करिये !

बाछी हम्मे झन करिए, भैसी बाई झन करिए !
दातुली छणमाण झन करिए, तौली डीनमिन झन करिए

कसनि तू मुख झन पड़िये, डाडू तू माठु माठु रडीए!
बड बजियु की हवाक सुनिए , हलकी भै गुडघुड करिए !

कविता चारू चन्द्र पाण्डेय जी

Harish Rawat

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 72
  • Karma: +2/-0
कदु बढ़िया लोरी छीन आहा मज ए गो पड़ बे ....आब मी ले याद कर लिहिनु म्योर काम ले लागोल कुछ सालों बाद ....
महेता दाज्यू  बहुते बड़ी छू यो topic .,....

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22