Author Topic: Idioms Of Uttarakhand - उत्तराखण्डी (कुमाऊँनी एवं गढ़वाली) मुहावरे  (Read 105386 times)

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
" या दोणी छाजेली या  रोली बाजेलि "
यानि कि या तो गे दिखने मई सुन्दर हो या फिर खूब दुधारू हो .. इसका प्रयोग कन्याओं के लिए भी किया जाता है |

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
"लाट ग्वोरुक सकुनी बाछ " ..
मतलब कि गरीब परिवार का भागवान एवं सफल बच्चा . 

विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
कहावत : 'जस ब्यु उस बालड़'

शब्दार्थ : जैसा बीज वैसी बाली।

भावार्थ : माता-पिता में जिस प्रकार के गुण होते हैं वही गुण उनकी सन्तान में भी होते हैं।

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
" लै कनि चीज ह्याव "
 मतलब किसी उपहार स्वरूप दी हुयी वस्तु का तिरस्कार करना .

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
बांजकी लकड़ी कयेदी भली
थोकदार की चेली स्येडी भली

मजबूत / बड़े आदमी से सम्बन्ध लाभकारी ही होते है!

विनोद सिंह गढ़िया

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,676
  • Karma: +21/-0
कहावत : 'न पटियांक गोपी बामण'
शब्दार्थ : कोई नहीं मिला तो गोपी बामण ही सही

भावार्थ :
नजदीक के आदमी की कोई इज्जत नहीं होती, उसे सिर्फ उस समय काम में लाया जाता है जब कोई भी आदमी काम करने को नहीं मिलता है।

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
"सासु लि बुवारि थै कौ, बुवारि लि च्यल थैं कौ, च्यलै लि कुकुर थैं कौ, कुकुरैलि पुछड हिलै दि .
मतलब - किसी सौंपे हुये कार्य को टालना . 

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Satyavachal Gadiya ji :)

कहावत : 'न पटियांक गोपी बामण'
शब्दार्थ : कोई नहीं मिला तो गोपी बामण ही सही

भावार्थ :
नजदीक के आदमी की कोई इज्जत नहीं होती, उसे सिर्फ उस समय काम में लाया जाता है जब कोई भी आदमी काम करने को नहीं मिलता है।


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

तेल थ्वाड, चिप डात भौत

यानी - तेल कम, चिपचिपाहट ज्यादा

- दिखावा करना

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
जां कुकुड़ नै हुन वां रात नै ब्यानी ? यानि की किसी भी व्यक्ति या वस्तु के बिना कोई भी कार्य हो सकता है |

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22