Author Topic: Kumauni Holi - कुमाऊंनी होली: एक सांस्कृतिक विरासत  (Read 200939 times)

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
होली खेल रहे नन्द लाल,
मथुरा की कुंज गलिन में,
होली खेल रहे..............
मथुरा की कुंज गलिन में,
गोकुल की कुंज गलिन में,
 होली खेल रहे................
कान्हा भर पिचकारी मारी,
मोरी सूरत सारी बिगारी,
अरे अखियां हो गई लाल-गुलाल,
मथुरा की कुंज गलिन में,
 होली खेल रहे................
कोई गाये कोई नाचे,
कोई ताल से मृदंग बजाये,
सबकी चुनर हो गई लाल,
मथुरा की कुंज गलिन में,
 होली खेल रहे................
कोई नाच रहा कोई गाये,
कोई ढप-ढप ढपली बजावे,
कैसी छाई रही रे बहार,
मथुरा की कुंज गलिन में,
 होली खेल रहे................

sanjupahari

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 278
  • Karma: +9/-0

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
हमारे फोरम के सदस्य श्री सरोज जोशी ने इस साल पिथौरागढ ने बहुत धूमधाम से होली मनाई.. आप भी विडियो देखिये..

Kumaoni Holi " Gai Gai Asur teri nari.....

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
"गई-गई असुर तेरि नारि मन्दोदरि" होली का शेष भाग-

gai gai ashur continue

ढपली वादक - श्री सरोज जोशी

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Kumaoni Holi Bageshwar Video
« Reply #106 on: March 09, 2011, 02:41:27 PM »

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

From - Bhishma Kukreti.

जब होली खिलंदर किसी गाँव में प्रवेश करते हैं तो वे गाते हैं नृत्य करते हैं
                                                 
                                   खोलो किवाड़ मठ भीतर
                                    दरसन दीज्यो माई आंबे -झुलसी रहो जी
                                    तीलू को तेल कपास की बाटी
                                     जगमग जोत जले दिन राती -झुलसी रहो जी
इष्ट देव , gram dev पूजा के बाद होली नर्तक गोलाकार में नाचते गाते हैं
                                   जल कैसे भरूं जमुना गहरी जल कैसे भरूं जमुना गहरी 
                                    खड़े भरूं तो सास बुरी है
                                    बैठे भरूं तो फूटे गगरी ,   जल कैसे भरूं जमुना गहरी                         
                                     ठाडे भरूं   तो कृष्ण जी  खड़े हैं
                                       बैठे भरूं तो भीगे चुनरिया ,     जल कैसे भरूं जमुना गहरी                         
                                      भागे चलूँ तो छलके गगरी ,   जल कैसे भरूं जमुना गहरी                         
  यह अत्यंत जोशीला नृत्य  गीत  है जिसमे उल्ल्हास दीखता है और श्रृंगार भी है
   इसके बाद भजन गीत है जो उसी उल्हास के साथ नृत्य-गीतेय शैली का है
                                           -----2-------
                                       हर हर पीपल पात जय देवी आदि भवानी I
                                         कहाँ तेरो जनम निवास  जय देवी आदि भवानी I   
                                        कांगड़ा जनम निवास  , जय देवी आदि भवानी I
                                         कहाँ तेरो जौंला निसाण , जय देवी आदि भवानी I
                                           कश्मीर जौंल़ा निसाण , जय देवी आदि भवानी I
                                         कहाँ तेरो खड्ग ख़पर, जय देवी आदि भवानी I
                                          बंगाल खड्ग खपर , जय देवी आदि भवानी I
                                             हर हर पीपल पात जय देवी आदि भवानी I
                                                   --३--
     यह गीत भी होली में प्रसिद्ध है . यह गीत श्रृंगार व दार्शनिक है
                                           चम्पा चमेली के नौ दस फूला ,  चम्पा चमेली के नौ दस फूला
                                             पार ने गुंथी शिवजी के गले में बिराजे , चम्पा चमेली के नौ दस फूला 
                                            कमला ने गुंथी हार ब्रह्मा के  गले  में बिराजे , चम्पा चमेली के नौ दस फूला 
                                              लक्ष्मी ने गुंथी हार विष्णु के गले में बिराजे , चम्पा चमेली के नौ दस फूला
                                            सीता ने गुन्ठो हार राम  के गले में बिराजे , चम्पा चमेली के नौ दस फूला
                                             राहदा ने गुंथे हार कृष्ण के गले में बिराजे
                                                --४---
श्रृंगार व उत्स्साही रस भरा गीत है
                                              मत मरो मोहन पिचकारी
                                                काहे को तेरो रंग बनो है
                                              काहे को तेरी पिचकारी बनी है, मत मरो मोहन पिचकारी
                                               लाल गुलाल को रंग बनी है
                                                हरिया बांसा की पिचकारी , मत मरो मोहन पिचकारी   
                                                 कौन जनों पर रंग सोहत है
                                                 कौन जनों पर पिचकारी ,    मत मरो मोहन पिचकारी
                                                 रजा जनों पर रंग सोहत है
                                                रंक जनों पर पिचकारी ,     मत मरो मोहन पिचकारी
                                                       ---५--
            जब होली खेलने वाली टोली होली खेल चुके होते हैं तो उन्हें होली इनाम मिलता है (पहले बकरा मिलता था , अब पैसा आदि ) और उस समय यह आशीर्वाद वाला नृत्य गीत खेला जाता है 
                                              हम होली वाले देवें आशीष
                                               गावें बजावें देवें आशीष ---१
                                                बामण जीवे   लाखों बरस
                                                 बामणि जीवें लाखों बरस --२
                                                  जिनके  गोंदों में लड़का खिलौण्या
                                                  ह्व़े जयां उनका नाती खिलौण्या --३
                                                  जौंला द्याया होळी का दान
                                                    ऊँ थै द्याला श्री भगवान ----४
                                                   एक लाख पुत्र सवा लाख नाती
                                                   जी रयाँ पुत्र अमर रयाँ नाती ---५
                                                   हम होली वाले देवें आशीष 
                                                     गावें बजावें देवें आशीष
            सौजन्य एवम आभार :   
मूल स्रोत्र श्री शिव शरण धस्माना ग्राम बौन्दर , पिन्ग्लापाखा
 पुस्तक : डा शिवा नंद नौटियाल -----गढवाल के नृत्य गीत

खीमसिंह रावत

  • Moderator
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
             होली
देवर  संग भाभी खेले, जीजा के संग साली /
कांव कांव कौआ बोले,  होली है भई होली //
     कान्हा संग राधा खेले, ग्वालो के संग ग्वालिन /
     श्याम श्याम मीरा बोली,  होली है भई होली //
जोगी संग जोगन खेले, खप्पर के संग काली /
जय माता दी भक्त बोले,  होली है भई होली //
      शिव के संग गौरा खेले, गणों के संग नंदी /
       डम डम डम डमरू बोले,  होली है भई होली //
राम संग सीता खेले, तारा के संग बाली  /
राम राम बजरंगी बोले,  होली है भई होली // 
      फूलों संग तितली खेले, बगिया के संग माली  /
       कूं हूँ कूं हूँ कोयल बोले,  होली है भई होली //
सागर संग नदियाँ खेले, नालों के संग नाली /
झरझर झर झरना बोले,  होली है भई होली //
      चाँद संग चकोर खेले, मोर के संग मोरनी /
      गुटुर गुटुर कबूतर बोले,  होली है भई होली //
शराब संग बोतल हिले, प्याले के संग प्याली /
पिलाओ पिलाओ शराबी बोले,  होली है भई होली //


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22