Poll

 क्या उत्तराखंड के पहाडी क्षेत्रो मे हवाई सेवा शुरू की जा सकती है ?

हौं / Yes
29 (100%)
नही / No
0 (0%)
कह नही सकता ? / Cant'say
0 (0%)

Total Members Voted: 29

Voting closed: March 04, 2012, 12:51:01 PM

Author Topic: Aviation Service - क्या उत्तराखंड के पहाडी क्षेत्रो मे हवाई सेवा शुरू होनी चाहिए  (Read 30418 times)


हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
पिथौरागढ। सीमांत तहसील के मजदूरों ने कैलाश मानसरोवर के लिए हवाई यात्रा शुरू करने की घोषणा का विरोध किया है। मजदूरों ने कहा है कि इस योजना से सीमांत के मजदूर बेरोजगार हो जायेंगे। मजदूर सरकार की इस योजना के विरोध में भाकपा माले की अगुवाई में लामबंद होने लगे है।

इस मसले को लेकर सीमांत तहसील धारचूला के घटयाबगड़ गांव में मजदूरों ने एक बैठक की, जिसमें मजदूरों ने कहा कि दो दशकों से चली आ रही इस यात्रा में कभी भी मजदूरों के हितों का ख्याल नहीं रखा गया। भारतीय क्षेत्र में काम करने पर मजदूरों को नाम मात्र की मजदूरी दी जा रही है, जबकि चीनी क्षेत्र में मजदूरों को भारतीय क्षेत्र की तुलना में चार गुना मजदूरी मिल रही है। मजदूरों ने कहा सरकार कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए हवाई सेवा शुरू कर पहले ही शोषण का शिकार मजदूरों से रोजी रोटी छिनने की कोशिश कर रही है,जिसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

बैठक में भाकपा माले राज्य कमेटी के सदस्य गिरिजा पाठक ने कहा कैलाश मानसरोवर यात्रा को सम्पन्न कराने में महत्वपूर्ण सहयोग देने वाले मजदूरों के साथ होने वाले हर अन्याय का विरोध किया जायेगा। जिला कमेटी के सदस्य जगत मर्तोलिया ने कहा कि प्रदेश सरकार को आम आदमी की कोई फिक्र नहीं है। उन्होंने सरकार के खिलाफ आम जनता से आगे आने का आह्वान किया।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0


We will have to compromise with cetain things, if we need develoment there.


पिथौरागढ। सीमांत तहसील के मजदूरों ने कैलाश मानसरोवर के लिए हवाई यात्रा शुरू करने की घोषणा का विरोध किया है। मजदूरों ने कहा है कि इस योजना से सीमांत के मजदूर बेरोजगार हो जायेंगे। मजदूर सरकार की इस योजना के विरोध में भाकपा माले की अगुवाई में लामबंद होने लगे है।

इस मसले को लेकर सीमांत तहसील धारचूला के घटयाबगड़ गांव में मजदूरों ने एक बैठक की, जिसमें मजदूरों ने कहा कि दो दशकों से चली आ रही इस यात्रा में कभी भी मजदूरों के हितों का ख्याल नहीं रखा गया। भारतीय क्षेत्र में काम करने पर मजदूरों को नाम मात्र की मजदूरी दी जा रही है, जबकि चीनी क्षेत्र में मजदूरों को भारतीय क्षेत्र की तुलना में चार गुना मजदूरी मिल रही है। मजदूरों ने कहा सरकार कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए हवाई सेवा शुरू कर पहले ही शोषण का शिकार मजदूरों से रोजी रोटी छिनने की कोशिश कर रही है,जिसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

बैठक में भाकपा माले राज्य कमेटी के सदस्य गिरिजा पाठक ने कहा कैलाश मानसरोवर यात्रा को सम्पन्न कराने में महत्वपूर्ण सहयोग देने वाले मजदूरों के साथ होने वाले हर अन्याय का विरोध किया जायेगा। जिला कमेटी के सदस्य जगत मर्तोलिया ने कहा कि प्रदेश सरकार को आम आदमी की कोई फिक्र नहीं है। उन्होंने सरकार के खिलाफ आम जनता से आगे आने का आह्वान किया।

Risky Pathak

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,502
  • Karma: +51/-0
Aap Sab ke Vichaaro se Me Bhi Sehmat hu...
If Uttrakhand Me Prayatan Ki Sthiti Sudhaarni Hai to Sugam Sthaano ke liye Aasan Vyawastha Hone Chahiye. Or Is Hawai Patti Ke Khulne se Ye Sambhav Ho sakta Hai. Isse Kailash Mansarovar Yatriyo ke Liye Bhi 1 Vikalp Or Khul Jayega..
Jha Tak Majdooro Ki Baat hai, To jaisa Mehta ji Ne Kha Compromise to Karna hi padegaa...

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
अब फाटा से शुरू होगी पवन हंस की हवाई सेवा

फाटा/रुद्रप्रयाग। गत वर्ष तक यात्राकाल के दौरान अगस्त्यमुनि से भगवान केदारनाथ तक तीर्थ यात्रियों को अपनी हवाई सेवाएं दे चुकीपवन हंस प्राइवेट लिमिटेड अब फाटा से सेवा शुरू कर रही है। इसके लिए कंपनी ने भूमि पूजन के साथ हैलीपैड निर्माण कार्य शुरू कर दिया है।

फाटा से दो किमी पीछे लगभग बीस नाली भूमि पर पवन हंस लि. ने सोमवार से हैलीपैड निर्माण शुरू कर दिया है। इस अवसर पर कंपनी के डीजीएम अशोक कुमार ने बताया कि प्रदेश सरकार के विशेष आग्रह पर वे इस यात्रा सीजन से अगस्त्यमुनि के बजाय फाटा से अब अपनी हवाई सेवाएं भगवान केदारनाथ पहुंचने वाले तीर्थ यात्रियों को देंगे। स्थानीय जनता ने उन्हे भूमि उपलब्ध करवाकर पूर्ण सहयोग दिया है। भविष्य में वे इस क्षेत्र के विकास में भी पूर्ण सहयोग करेगे। श्री कुमार ने कहा कि वह भगवान केदारनाथ की यात्रा को सुगम बनाने के लिए तीर्थ यात्रियों को विगत वर्षो से हवाई सेवाएं देते आ रहे हैं तथा उनका प्रयास रहेगा वह आगे भी वह इस क्षेत्र में अपना पूर्ण सहयोग देंगे। उन्होंने यह भी बताया कि केदारनाथ के अतिरिक्त बद्रीनाथ तथा हेमकुंड के लिए हवाई सेवाएं शुरू की जाएंगी। हैलीपैड निर्माण हेतु ग्राम खड़िया तथा ग्राम खाट के नौ परिवारों ने लगभग बीस नाली भूमि उपलब्ध करवाई गयी।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

Unfortunately, there is no move to start air-services in UK.


Ready to take off


Scheduled operations in the country have seen a significant rise in traffic leading to air congestion beyond one's imagination. In such cases, helicopter transportation seems ideal; not only because of its restricted seating capacity, but also its accessibility to places. By Chetan Kapoor

It is said that in the mid-1500s, the legendary Italian Leonardo da Vinci first sketched what is today known as a helicopter. However, it was not until the late 1930s when Igor Sikorsky translated this sketch into the first practical rotary-wing aircraft. Going by the statistics, there were a total of approximately 27,000 civil helicopters in the world by the end of 2007, with only 175 in India - a mere 0.6 per cent for over one billion people. Clearly, India is highly under-serviced when it comes to offering helicopter services to its population. However, things may soon change.

The Directorate General of Civil Aviation (DGCA) has declared the year 2008 as the year of helicopter services; a little compensation for a segment that has so far gone unattended as far as support infrastructure is concerned.

Alternative approach

As mentioned above, helicopters can be a one-stop mode of transportation in this age of technological advances for the corporate, VIPs, evacuations or medical emergencies, primarily because of the minimal infrastructure support it needs - namely, a helipad. Its ability to verically take-off and land without the use of runways speak volumes about the services helicopter operators can provide to the high and mighty, far-flung places in the country and beyond. However, despite all these positives, helicopter services aren't exploited to their fullest potential, perhaps because of the tag of exclusivity that comes along with it. "A single engine five-six seater helicopter costs around Rs 70,000-80,000, while a twin engine costs Rs 80,000-90,000 per hour in addition to the fuel cost - which being unavailable at most places, necessitates sending by road transportation, thus further adding to the cost," informs P K Ratta, CEO, Aviation Division of Raymond that provides helicopter and private jet charter services.

Nonetheless, leading players like the state-run Pawan Hans and private players like United Helicharters, Global Vectra Helicorp and Deccan Aviation, amongst others see potential in this business. With a fleet of 36 helicopters - 17 Dauphin SA365Ns, nine Dauphin AS 365N3s, four Bell 407s, three Bell 206L4s, two Mi-172s and one Robinson R-44 - Pawan Hans is India's leading helicopter service provider, Pawan Hans has played an integral role in linking inaccessible regions. At the international seminar on Helicopter Operations held in July 2007 in New Delhi, R K Tyagi, chairman and managing director, Pawan Hans said, "We have deployed helicopters in different states, particularly in the north eastern regions of Arunachal Pradesh, Meghalaya, Sikkim and Tripura for the running of regular passenger services. We also operate inter-island passenger services under the aegis of Lakshwadeep and Andaman and Nicobar administration. Helicopters also play a very important role when it comes to oil exploration from offshore." Offshore helicopter services also include personnel and cargo transportation, production tasks, search and rescue operations, etc

In addition, helicopter services are increasingly used by politicians during election rallies, for aerial video shooting and photography, charters, air ambulance and also for passenger services by some operators. According to industry reports, 30 per cent of helicopters in the country are used in offshore operations, 40 per cent for VIP/corporate, 28 per cent for charters and 2 per cent for the purposes of heli-tourism and heli-skiing.

Turbulence ahead

The biggest obstacle dampening the growth of helicopter services is that of infrastructure - at most times helicopters are made to take-off and land on makeshift helipads, or at the airports. A rotorcraft can manoeuvre to and from places inaccessible to a fixed-wing aircraft, and surprisingly both are treated alike by the ATC, leading to further congestion. According to V Krishnan, chief executive, OSS Air, "Infrastructure is grossly inadequate. Congestion at airports do not auger well for the rotary-wing business. The answer is rooftop (elevated) helipads and heliports."

Citing an example from the city of Mumbai, helicopter services are often delayed owing to congestion in the skies. Furthermore, passengers are made to travel to the Juhu airport before boarding the helicopter, thereby questioning the very purpose of using a helicopter to travel. Adds Ratta, "There are very few helipads which are approved (in Mumbai) and most of the people use makeshift helipads. One cannot find a helipad which is used by everybody except for the Mahalaxmi Race Course. The two helipads on top of buildings which have now been approved are restricted only for private use. In fact one still operates from airport to airport, and not helipad to helipad which has defeated the very purpose of having a helicopter inducted to travel to distances otherwise unapproachable, and make things faster."

However, Col Jayanth K Poovaiah, executive director, Deccan Aviation believes, "Helicopter transportation is a new phenomenon in the country as people are just getting used to the concept. Globalisation will lead to the increased use of modern transportation like helicopters, and offices, hotels, as also hospitals will have helipads."

Another disconcerting issue that is plaguing the industry is that of unsystematic growth. New players are entering with a fleet of one, two or three helicopters for private use, giving these away as charters while not in use. Thus, on the one hand while there is growth in the number of helicopters, on the other this affects the market as operators could fix any price they deem fit for services offered by them as seen in the fixed-wing segment, which ultimately led to consolidation and rationalisation. Perhaps, the same is to be seen here.

The path ahead

There is no doubt that corporate and political usage has led to the maximum utilisation of helicopter services. However, there is more to helicopters than just charters and offshore operations. Heli-tourism, heli-skiing and air ambulance facilities are gaining momentum worldwide as well as in India. Operators like King Rotors and Deccan Aviation are already offering Heli-tourism packages - travel to tourist destinations, hill stations, day tours and overnight getaways - in various parts of Kerala, Mysore, Cauvery, Hampi, Belur, and Kabini.

In the metros, helicopters can be used for multiple purposes - offering shuttle services to and from airports to city centres, for which Deccan Aviation is currently in talks with airports. However, in reality these would be successful only when helicopters with more seats are incorporated in the fleet to reduce the price-per-seat. In addition, helicopters can also be used to guide traffic. Suggests Ratta, "With traffic being as chaotic as it is in the cities, helicopters could well fly around the city, providing traffic updates - a practice performed the world over during peak hours. Also, if there is an accident on the highway, these can be used to pick up sick or injured passengers, as is done in America and Europe."

Pawan Hans also has plans to further connect to important tourism places in Uttaranchal such as Ghangharia and Hemkund Sahib, subject to necessary permissions. Important tourist destinations in Uttarakhand, Tamil Nadu - Coimbatore, Madurai, Kodaikanal and Rameshwaram; in Puducherry - the Chennai-Karaikal-Puducherry sector, will also be started. It also plans to construct a heliport in the NCR to meet the significant and growing demand for helicopter services, both in the government and business sector before the Commonwealth Games. Arun Mishra, joint secretary, ministry of civil aviation mentioned, "In a big country like ours, we just have one heliport. We need to set up infrastructure and promote this rotary wing operation as an independent operation rather than being clubbed with existing airports. This would ensure the growth in the sector as well as the efficient operations of helicopters."

Still, chartered helicopters will see an increase as more players continue to enter this space. Taking a cue from this, Airmid Aviation Services, a subsidiary of Indiabulls, is also venturing into non-scheduled operations with a twin engine helicopter, the EC 135.

With much to offer, a country like India can, and will definitely benefit from extensive use of helicopters. As the industry matures and initiatives taken by the government towards this segment begin to take flight leading to their increased utilisation, helicopters will definitely hover over a higher cloud.



http://www.expresstravelworld.com/200802/aviationworld16.shtml

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
Air Deccan resumes Delhi-Doon flights without fanfare
« Reply #46 on: March 31, 2008, 11:46:26 AM »

 
By Our Staff Reporter

Dehradun, 30 Mar: Air Deccan resumed its Delhi-Doon flight today.

Initially there would be 2 daily flights between New Delhi and Dehradun. The first regular flight (DN 510) from Dehradun after the renovation of Jolly Grant Airport took off at 7 a.m. in the morning, while the next flight, DN 516 took off at 5.20 p.m.

The 48 seater ATR-42 plane took off from Delhi (Flight No DN 509) at 5.45 a.m. and landed here exactly 1 hour and 10 minutes, later, at 6.55 a.m. It was carrying only 8 passengers. The plane later took off at 7 a.m. with 16 passengers on board.

The second flight (No DN 515) arrived at Doon with 22 passengers and left with 16 passengers again. There was no senior company representative as it was merely resumption of services following renovation of Jolly Grant Airport.


The company did not publicise the resumption of flights as it was not sure if regular flights would be permitted as security arrangements had not been set up till yesterday.

However, security hassles were overcome as the X-Ray machines and other security arrangements were set up today.

Pankaj Shah, Director, Global Passages Pvt Ltd, expressed satisfaction at the response from passengers. Speaking to Garhwal Post, he expressed the hope that the flights would soon be operating to their full capacity. The tariff of this low cost carrier ranges from Rs 500 per ticket (plus taxes amounting to Rs 2050) to Rs 1650 per ticket (plus taxes Rs 2050). Shah said that the service would be properly publicised now that the flights had resumed.

The airport has started operations from a temporary Terminal today. A new permanent terminal is under construction and is expected to take another 10 months to be completed, airport authorities added. Air Deccan plans to launch Airbus or Boeing services from Doon once the permanent terminal becomes operational, it was learnt.
 
http://www.garhwalpost.com/centrenewsdetail.aspx?id=1719&nt=City

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
डोईवाला (देहरादून)। जौलीग्रांट हवाई अड्डे से एयर डेक्कन की नियमित उड़ानें शुरू हो चुकी हैं। दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से चार यात्रियों को लेकर रविवार की सुबह एयर डेक्कन के पहले यात्री विमान ने देवभूमि उत्तराखंड की धरती को छुआ। रोजाना दो उड़ानें जौलीग्रांट से दिल्ली के लिए शुरू की गई हैं।

सत्तर के दशक में देश के सुप्रसिद्ध उद्योगपति बिरला द्वारा जौलीग्रांट में बनाए गए इस प्राइवेट हवाई अड्डे को बाद में सरकार द्वारा अधिकृत किया गया। शुरुआती दौर में कभी-कभार हवाई जहाजों के उतरने के बाद धीरे-धीरे यहां से नियमित सेवाओं की शुरुआत की गई। पूर्व में बने साढ़े तीन हजार फीट के रन-वे को बढ़ाकर सात हजार फीट लंबा बनाया गया। कुछ समय पूर्व इसी हवाई अड्डे पर उत्तराखंड के इतिहास में सबसे बड़ा बोइंग विमान भी उतारा गया था। दिल्ली से विदेशी मेहमानों को लेकर आया यह विमान 737 श्रेणी का उत्तराखंड की धरती पर उतरने वाला पहला यात्री विमान बना। गत वर्ष मार्च में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा हवाई अड्डे के विस्तारीकरण के चलते एयरपोर्ट से सभी प्रकार की हवाई सेवाएं बंद कर दी गई थीं। हालांकि पिछले कुछ महीनों में जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर निजी विमानों के उतरने का क्रम भी जारी रहा। रविवार की सुबह 6.45 मिनट पर दिल्ली से एयर डेक्कन की पहली हवाई फ्लाइट के जौलीग्रांट हवाई अड्डे पर उतरते ही यात्रियों के लिए नियमित हवाई सेवा का शुभारंभ हो गया। ग्लोबल पैसेज के पंकज शाह ने बताया कि दिल्ली से जौली हवाई अड्डे पर एयर डेक्कन की पहली फ्लाइट प्रात: 6.45 पर उतरी, जिसमें चार यात्री आए थे। दिल्ली वापसी में 15 यात्रियों को लेकर विमान ने उड़ान भरी। शाम चार बजे दिल्ली से एयर डेक्कन की हवाई सेवा से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर 4.45 मिनट पर उतरने वाले विमान से 22 यात्री आए। जबकि 14 यात्रियों ने 5 बजकर 20 मिनट पर दिल्ली के लिए उड़ान भरी। एयरपोर्ट पर सुरक्षा भी चाक-चौबंद नजर आई। जेपी द्विवेदी ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की सुरक्षा व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त किया गया है। एयरपोर्ट कंट्रोलर रमेश कुमार ने बताया कि रविवार से शुरू हुई इस नियमित हवाई सेवा का लाभ आम यात्रियों को मिल सकेगा।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

i also saw this news on ETV UK yesteday. This is nice.

डोईवाला (देहरादून)। जौलीग्रांट हवाई अड्डे से एयर डेक्कन की नियमित उड़ानें शुरू हो चुकी हैं। दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से चार यात्रियों को लेकर रविवार की सुबह एयर डेक्कन के पहले यात्री विमान ने देवभूमि उत्तराखंड की धरती को छुआ। रोजाना दो उड़ानें जौलीग्रांट से दिल्ली के लिए शुरू की गई हैं।

सत्तर के दशक में देश के सुप्रसिद्ध उद्योगपति बिरला द्वारा जौलीग्रांट में बनाए गए इस प्राइवेट हवाई अड्डे को बाद में सरकार द्वारा अधिकृत किया गया। शुरुआती दौर में कभी-कभार हवाई जहाजों के उतरने के बाद धीरे-धीरे यहां से नियमित सेवाओं की शुरुआत की गई। पूर्व में बने साढ़े तीन हजार फीट के रन-वे को बढ़ाकर सात हजार फीट लंबा बनाया गया। कुछ समय पूर्व इसी हवाई अड्डे पर उत्तराखंड के इतिहास में सबसे बड़ा बोइंग विमान भी उतारा गया था। दिल्ली से विदेशी मेहमानों को लेकर आया यह विमान 737 श्रेणी का उत्तराखंड की धरती पर उतरने वाला पहला यात्री विमान बना। गत वर्ष मार्च में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा हवाई अड्डे के विस्तारीकरण के चलते एयरपोर्ट से सभी प्रकार की हवाई सेवाएं बंद कर दी गई थीं। हालांकि पिछले कुछ महीनों में जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर निजी विमानों के उतरने का क्रम भी जारी रहा। रविवार की सुबह 6.45 मिनट पर दिल्ली से एयर डेक्कन की पहली हवाई फ्लाइट के जौलीग्रांट हवाई अड्डे पर उतरते ही यात्रियों के लिए नियमित हवाई सेवा का शुभारंभ हो गया। ग्लोबल पैसेज के पंकज शाह ने बताया कि दिल्ली से जौली हवाई अड्डे पर एयर डेक्कन की पहली फ्लाइट प्रात: 6.45 पर उतरी, जिसमें चार यात्री आए थे। दिल्ली वापसी में 15 यात्रियों को लेकर विमान ने उड़ान भरी। शाम चार बजे दिल्ली से एयर डेक्कन की हवाई सेवा से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर 4.45 मिनट पर उतरने वाले विमान से 22 यात्री आए। जबकि 14 यात्रियों ने 5 बजकर 20 मिनट पर दिल्ली के लिए उड़ान भरी। एयरपोर्ट पर सुरक्षा भी चाक-चौबंद नजर आई। जेपी द्विवेदी ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की सुरक्षा व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त किया गया है। एयरपोर्ट कंट्रोलर रमेश कुमार ने बताया कि रविवार से शुरू हुई इस नियमित हवाई सेवा का लाभ आम यात्रियों को मिल सकेगा।


पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0

देहरादून। राज्य के रिमोट पर्वतीय क्षेत्रों में बनी हवाई पट्टियों के माध्यम से हवाई सेवा की कवायद तेज की जा रही है। तीनों पर्वतीय हवाई अड्डों को फिलहाल हेलीकाप्टर सेवा से जोड़ने की योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

पहले पिथौरागढ़, गौचर तथा चिन्यालीसौंड़ हवाई पट्टियों को पीपीपी मोड में विकसित करने के बारे में उड्डयन महकमा सोच रहा था। बाद में यह बात सामने आई कि अभी इन हवाई पट्टियों का व्यावसायिक स्तर ऊंचा नहीं हो पाया है, इसलिए कोई कंपनी इन्हें पीपीपी मोड में विकसित करने के लिए संभवतय: आगे न आए। इस योजना के तहत इच्छुक कंपनियों को टर्मिनल बिल्डिंग में व्यावसायिक गतिविधियां शुरू करने की सुविधा देने पर विचार किया जा सकता है। यदि वहां भूमि उपलब्ध हो तो उसे होटल आदि बनाने के लिए लांग टर्म लीज पर भूमि दी जा सकती है। इनकी संभावना फिलहाल न दिखाई देने पर अब इन हवाई अड्डों के संचालन के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू करने पर विचार किया जा रहा है। पिछले दिनों अपर मुख्य सचिव इंदु कुमार पांडे की अध्यक्षता में हुई बैठक में उत्तराखंड इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट कारपोरेशन को इस प्रक्रिया पर नजर रखने की जिम्मेदारी दी गई है। रिमोट एरिया में एयर कनेक्टिविटी बढ़ाना इसका लक्ष्य है। गोचर, पिथौरागढ़ तथा चिन्यालीसौंड़ के लिए फिलहाल 19 सीटर हेलीकाप्टर सेवा शुरू की जाने वाली है। इसके साथ ही केदारनाथ तो पहले से ही हेलीकाप्टर सेवा चल रही है, अब इस साल से बदरीनाथ तथा घांघरिया के लिए भी हेलीकाप्टर सेवा शुरू की जा रही है। आने वाली सात मई को इसका ट्रायल किया जाएगा। राज्य में हवाई सेवा संचालन के लिए इंड्स एयरवेज प्राइवेट लिमिटेड ने भी अपनी रुचि दिखाई है। जल्द ही मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक हाई पावर कमेटी बनेगी, जो मामले में अंतिम निर्णय लेगी।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22