Author Topic: How To Promote Tourism - उत्तराखंड मे पर्यटन को कैसे बढाया जा सकता है?  (Read 22538 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
GOOD NEWS TOURISM POINT OF VIEW.

पहली बार काली नदी में राफ्टिंग प्रतियोगिता 21 सेFeb 18, 02:01 am

नैनीताल। ऋषिकेश की तरह ही अब केएमवीएन भी काली नदी में पिथौरागढ़ जिले में प्रति वर्ष राफ्टिंग प्रतियोगिता का आयोजन करने की तैयारी में जुटा है। इसके तहत पहली बार प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिता का जौलजीबी से घिंघरानी तक प्रतियोगिता का पर्यटन मंत्री प्रकाश पंत उद्घाटन करेगे। जिसमें एसएसबी, आईटीबीपी, बंगाल इंजीनियर रुड़की समेत प्रत्येक जिले से टीमें हिस्सा ले रही है।

विदित हो कि बीते दिनों कुमाऊं मंडल विकास निगम ने कुमाऊं में साहसिक पर्यटन की आपार संभावना को लेकर जिला पिथौरागढ़ में काली नदी पर प्रयोग किया था। इसके शुरुआती प्रयोग की सफलता से निगम अब ऋषिकेश की तरह वर्ष भर आयोजित करने की तैयारी में जुटा है। केएमवीएन जीएम आशोक जोशी ने बताया कि केएमवीएन, उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद व यूकेसीआरए के तत्वावधान में 21 से 23 फरवरी तक काली नदी पर जौलजीबी से घिंघरानी तक आठ किमी राफ्टिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। जिसमें एसएसबी, आईटीबीपी, बंगाल इंजीनियर्स रुड़की के अलावा गढ़वाल व कुमाऊं के प्रत्येक जिले से टीमें हिस्सा ले रहीं है। इसमें जहां एसएसबी, आईटीबी, बंगाल इंजीनियर्स अपने राफ्ट ला रही है। वहीं 14 राफ्ट ऋषिकेश से उपलब्ध कराए जा रहे है। इससे साहसिक पर्यटन को बढ़ावा मिलने की संभावना जताई।

उन्होंने बताया कि पहली बार प्रतियोगिता के दूरगामी सार्थक परिणाम निकलेंगे। प्रतियोगिता का 21 को जौलजीबी में पर्यटन मंत्री श्री पंत उद्घाटन करेगे। समापन सहकारिता मंत्री विशन सिंह चुफाल करेगे।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

17 Apr, 2008, 1528 hrs IST, PTI
 
 

DEHRA DUN: Uttarakhand government has roped in private tour operators to promote famous as well as lesser-known tourist destinations of the hill state through 'familiarisation tours' starting on Friday.

Uttarakhand Tourism Development Board (UTDB) has planned six 'familiarisation (FAM) tours' to various areas of Garhwal and Kumaon regions. Around 50 tour operators from across the country would be on a four-day visit to these regions from Apr 18 to 22, tourism secretary Rakesh Sharma said on Thursday.

Spots such as venue for SAF Winter Games 2009, tribal villages and Niti Valley which has recently been opened for foreign tourists has been selected as tourist destinations for these tours.

"We want to convey that Uttarakhand is an all-season multi-interest tourism state besides being a place for pilgrimage, trekking and rafting," Sharma said.

After the completion of FAM tours, the government expects the tour operators not only to bring more tourists to the state, but also give their feedback for an effective tourism promotion strategy. 

Risky Pathak

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,502
  • Karma: +51/-0

जागरण कार्यालय, नैनीताल: सिंचाई सलाहकार समिति उपाध्यक्ष ऋषिराज डबराल ने विभागीय अधिकारियों से प्रदेश में पुराने तरीके बदल कर नए तरीके से कार्य करने व प्राकृतिक जल स्त्रोतों पर जलाशय बनाकर पर्यटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के निर्देश दिए। नैनीताल क्लब में सिंचाई विभाग के अधिकारियों की बैठक में श्री डबराल ने पिछले वर्ष के कार्य व नए वित्तीय वर्ष के प्रस्तावित कार्यो की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने कहा कि सिंचाई विभाग के पुराने ढर्रे को बदलकर अब नए तरीके से कार्य किया जाए। अधिकारियों को अन्य कार्यो के साथ-साथ प्राकृतिक जल स्त्रोतों के पास जलाशय बनाकर पर्यटन को बढ़ावा देने का कार्य करना चाहिए। उन्होंने मैदानी क्षेत्र के साथ ही विशेष रूप से पर्वतीय क्षेत्र में सिंचाई के साधन विकसित करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जलाशयों से पर्यटन को बढ़ावा देने की अपार संभावनाएं हैं। इससे पर्वतीय क्षेत्र से पलायन पर अंकुश लगेगा। उन्होंने नहरों की मरम्मत आदि के साथ ही सिंचाई व्यवस्था दुरुस्त रखने पर बल दिया। श्री डबराल ने पिछले वित्तीय वर्ष के कार्यो के साथ ही वर्तमान वित्तीय वर्ष के प्रस्तावित कार्यो की समीक्षा भी की। इस दौरान मुख्य अभियंता एबी पाठक, अक्षीक्षण अभियंता टीपी जुगरान, अधिशासी अभियंता दान सिंह कुटियाल, ट्यूबवैल डिविजन हल्द्वानी के अधीक्षण अभियंता विजय कुमार जैन, रामनगर के अधिशासी अभियंता डीसी टम्टा, अल्मोड़ा के डीसी सिंह, सहायक अभियंता संजय राज समेत अनेक अधिकारी मौजूद थे।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Mana emerging as a tourist destination in Uttarakhand
« Reply #43 on: May 19, 2008, 11:37:55 AM »
 
Mana emerging as a tourist destination in Uttarakhand

BADRINATH: Mana, a tribal village situated near Badrinath, is emerging as a tourist destination in Uttarakhand.

Mana is the base point to visit Vyas Gufa (cave), Ganesh Gufa, Bhim Pul (bridge) and Vasundhara Falls, places linked to the Hindu epic Mahbharata.

Many of the devotees visiting Badrinath come to Mana to offer prayers at these places.

Another interesting attraction at Mana is India's last tea shop in the region overlooking the narrow valley through which the river Ganga's main tributary, the Alaknanda flows.

"I had come to Badrinath, so I came to Mana. I felt really good when I had tea at the Last Tea shop. I am very happy and I truly believe that this is the best place in the whole world to visit," said Avdesh Kumar, a tourist from Lucknow.

The sparsely populated village in the upper reaches of Himalayas is mainly inhabited by the Bhotias, a tribe of the Indo-Mongolian race, having a unique heritage and culture.

The tribals live in Mana during summer months raising some short duration crops. They shift along with their cattle to lower reaches in late October, as the area remains covered under heavy snow for six months.

One of the major hereditary occupation of Bhotia tribals is making of tribal handicrafts.

The tribal village and the culture of Bhotia's is yet another attraction for the visitors at Mana.

"We treat this place as a major attraction for the tourists. It's a tribal area and has a different culture and style. So we believe that it should be preserved and we are working on the same," said Prakash Kant, Tourism Minister, Uttarakahand.

A quaint, mystic place hanging by the clouds in a picturesque setting, Mana wins the hearts of its visitors.


 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Uttarakhand to promote tourism through 'familiarisation tours ...Uttarakhand to promote tourism through 'familiarisation tours' is discussed at Indianprofits.com - Business News Papers.
indianprofits.com/www/forum/showthread.php?t=29849 - 42k - 30 May 2008 - 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Himalayas Calling: The famous Hindu pilgrimage shrine of Badrinath has always been a big draw.

DEHRA DUN: All roads seem to be leading to the higher Himalayan shrines, meadows and valleys these days for tourists rushing up the hills of Uttarakhand. Hotels and dharamshalas in Hardwar and Rishikesh are booked to capacity with local entrepreneurs doing brisk business here and all along the yatra route.

The Kedarnath area alone reported a queue of over 5,000 pilgrims trekking up to the shrine on Monday.

The tourists seem to be lapping up the sweet roasted corn, plums and other hill fruits being sold by enterprising children on the roads near the villages. “We have enjoyed the yatra better this time, and if such enthusiasm continues among the local shopkeepers and young entrepreneurs, Uttarakhand will soon graduate to one of the best destinations in the country,” observed Seema and her husband J. Mukherjee from Kolkota.

Similar sentiments were aired by Ramaswamy from Bangalore and Santokh Singh from Amritsar.

“According to official estimates, about one lakh visitors have enjoyed a holiday or pilgrimage at Badrinath, Kedarnath, Yamunotri and Gangotri so far this season and a lot more are expected to do so in the next few weeks,” said State Tourism Development Board Joint Director A.K. Dwivedi.

The pilgrims and nature-lovers’ rush can also be seen at Govindghat from where one treks through a magnificent landscape either to the Sikh shrine of Hemkunt Sahib or the Valley of Flowers.

“Special arrangements have been made to provide better facilities to the visitors. Chief Minister Bhuwan Chandra Khanduri is briefed on the situation every day,” said Mr. Dwivedi.

Mr. Dwivedi urged the travellers to follow the road safety rules and lodge a complaint with the local officials if they get a raw deal anywhere. “We come to the Himalayas to enjoy and appreciate nature and should try to return with the choicest memories and not tragedies,” he said.


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

During my recent visit, i saw a some developments towards this front. Some helipads are under construction in many areas. If Helicopter service is started in UK hill area, tourism will definitely florish there.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Uttarakhand govt to offer tax holiday to tourism sector
« Reply #47 on: August 05, 2008, 09:49:54 AM »
Uttarakhand govt to offer tax holiday to tourism sector

KOLKATA: Uttarakhand government has decided to extend tax holiday and other benefits to tourism industry and hotels in the state that is home to attractions like Rishikesh and Haridwar, Tourism Minister Prakash Pant said on Monday.

"In the industrial policy announced by the state government up to 2010, tourism has been given the status of industry and as such tax holiday and other benefits will be extended to tourism indsutry," Pant told reporters at a press conference.


He said tourism budget in the state, created seven years back, has increased to Rs 92 crore from Rs 82 crore in the previous year.

The state government, he said, encourages private-public partnership to promote tourism in the state where tourists outnumbered population. Uttarakhand has a population of 84 lakh while the number of tourists visiting the state in 2007-08 was 2.22 crore, he said.

In the first six months of the current year, over 1.41 crore tourists including nearly 58,000 foreign tourists had visited Uttarakhand, he said.

The focus of the Uttarakhand Tourism Board was to develop tourism-related resources of the state in an eco-friendly manner with active participation by private sector and local communities.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
देवभूमि वह भी सुरम्य न हो, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। उत्तराखंड को कुदरत ने ही कुछ ऐसी खूबसूरती प्रदान की है कि यहां आने वाला हर शख्स राज्य की सुरम्य वादियों में खोकर रह जाता है। बार-बार उसकी आकांक्षा होती है कि वह पुन: देवभूमि के दर्शन करे। प्रकृति प्रदत्त इस सुषमा को और संवारने का बीड़ा राज्य सरकार ने उठाया है। सरकार के इस कदम को राज्य के हित में महत्वपूर्ण कदम माना जा सकता है। यह सही है कि प्रकृति ने राज्य को बड़ी संख्या में सुरम्य स्थल प्रदान किये हैं लेकिन अगर इन्हें और मनभावन बना दिया जाए तो निश्चित तौर पर इनकी खूबसूरती में चार चांद लग जाएंगे। पीपीपी मोड में राज्य सरकार कम से कम आधा दर्जन पर्यटक स्थलों का रूप निखारने जा रही है। इस सिलसिले में विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जा रही है। इंटीग्रेटेड चारधाम यात्रा टर्मिनस को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है। उत्तराखंड आने वाले पर्यटक चाहे धार्मिक मकसद से आ रहे हों या फिर सिर्फ यायावर के रूप में, यहां के प्राकृतिक स्थल देखने से स्वयं को वंचित नहीं कर पाते। इसका फायदा राज्य को दो रूपों में मिलता है। पहला फायदा ज्यादा राजस्व के रूप में मिलता है और दूसरा फायदा यहां के काफी लोगों को रोजगार के रूप में मिलता है। बड़ी संख्या में लोग तीर्थयात्रियों की सेवा कर पुण्य लाभ अर्जित करते हैं, साथ ही अतिरिक्त आय भी करते हैं। राज्य सरकार भी इस तथ्य से भलीभांति अवगत है। यही कारण है कि पर्यटक सर्किटों को नया लुक देने की कोशिश में है। फिलहाल सरकार उन्हीं स्थलों को टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित करने जा रही है, जो चर्चाओं में हैं। लेकिन तमाम ऐसे भी स्थल हैं जो चर्चाओंें में तो नहीं हैं, पर्यटक स्थलों के रूप में इस सूची में नहीं आये हैं, लेकिन हैं ये बहुत सुरम्य। राज्य सरकार को चाहिए कि वह अधिक से अधिक ऐसे स्थलों को चिह्नित करे और इनके लिए अतिरिक्त बजट की व्यवस्था कर इनका भी विकास कर इन्हें सुर्खियों में लाये। यह कदम राज्य और यहां के लोगों के लिए और श्रेयस्कर होगा।
 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Daju,

There is only scope but resources have not been utilized.



देवभूमि वह भी सुरम्य न हो, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। उत्तराखंड को कुदरत ने ही कुछ ऐसी खूबसूरती प्रदान की है कि यहां आने वाला हर शख्स राज्य की सुरम्य वादियों में खोकर रह जाता है। बार-बार उसकी आकांक्षा होती है कि वह पुन: देवभूमि के दर्शन करे। प्रकृति प्रदत्त इस सुषमा को और संवारने का बीड़ा राज्य सरकार ने उठाया है। सरकार के इस कदम को राज्य के हित में महत्वपूर्ण कदम माना जा सकता है। यह सही है कि प्रकृति ने राज्य को बड़ी संख्या में सुरम्य स्थल प्रदान किये हैं लेकिन अगर इन्हें और मनभावन बना दिया जाए तो निश्चित तौर पर इनकी खूबसूरती में चार चांद लग जाएंगे। पीपीपी मोड में राज्य सरकार कम से कम आधा दर्जन पर्यटक स्थलों का रूप निखारने जा रही है। इस सिलसिले में विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जा रही है। इंटीग्रेटेड चारधाम यात्रा टर्मिनस को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है। उत्तराखंड आने वाले पर्यटक चाहे धार्मिक मकसद से आ रहे हों या फिर सिर्फ यायावर के रूप में, यहां के प्राकृतिक स्थल देखने से स्वयं को वंचित नहीं कर पाते। इसका फायदा राज्य को दो रूपों में मिलता है। पहला फायदा ज्यादा राजस्व के रूप में मिलता है और दूसरा फायदा यहां के काफी लोगों को रोजगार के रूप में मिलता है। बड़ी संख्या में लोग तीर्थयात्रियों की सेवा कर पुण्य लाभ अर्जित करते हैं, साथ ही अतिरिक्त आय भी करते हैं। राज्य सरकार भी इस तथ्य से भलीभांति अवगत है। यही कारण है कि पर्यटक सर्किटों को नया लुक देने की कोशिश में है। फिलहाल सरकार उन्हीं स्थलों को टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित करने जा रही है, जो चर्चाओं में हैं। लेकिन तमाम ऐसे भी स्थल हैं जो चर्चाओंें में तो नहीं हैं, पर्यटक स्थलों के रूप में इस सूची में नहीं आये हैं, लेकिन हैं ये बहुत सुरम्य। राज्य सरकार को चाहिए कि वह अधिक से अधिक ऐसे स्थलों को चिह्नित करे और इनके लिए अतिरिक्त बजट की व्यवस्था कर इनका भी विकास कर इन्हें सुर्खियों में लाये। यह कदम राज्य और यहां के लोगों के लिए और श्रेयस्कर होगा।
 


 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22