Poll

Do you think traveling in hill buses are safe & comfort ?

Yes
3 (12%)
No
17 (68%)
Not at all
3 (12%)
Can't say
2 (8%)

Total Members Voted: 25

Author Topic: Increasing Road Accidents In Uttarakhand - उत्तराखंड मे बढ़ती सड़क दुर्घटनायें  (Read 30164 times)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
दुर्घटना में दो युवकों की मौत
=====================

ट्रक मोबाइक भिड़ंत में मोबाइक सवार एक युवक की मौत हो गई। जबकि दूसरे घायल को काशीपुर लाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया। ट्रक भी पास के ही खड्डे में पलट गया। इससे हाईवे में तीन घंटे तक जाम लगा रहा। पुलिस ने कड़ी मशक्कत कर यातायात को सुचारु कराया।

बुधवार की रात करीब एक बजे ग्राम भोगपुर निवासी लखविंदर पुत्र हरदेव सिंह गांव निवासी साथी रेशम पुत्र दरबारा के साथ मोबाइक से अफजलगढ़ से आ रहा था। बताते हैं कि मारिया स्कूल के पास सामने से आ रहे ट्रक ने मोबाइक को चपेट में ले लिया। हादसे में लखविंदर की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि रेशम गंभीर रुप से घायल हो गया जिसे काशीपुर रेफर किया गया। रास्ते में उसने भी दम तोड़ दिया।

घटना के बाद ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया। इससे हाईवे पर जाम लग गया। पुलिस ने भारी मशक्कत के बाद वाहनों को निकलवाया। कोतवाल ने बताया कि मामले की रिर्पोट दर्ज नहीं करवाई गई है।
http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7304460.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
दो सड़क दुर्घटनाओं में पांच की मौत
================================


सड़क दुर्घटनाओं में पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि चार लोग घायल हो गए। घायलों में दो को बेस अस्पताल श्रीनगर के लिए रेफर कर दिया, जबकि दो घायलों का जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है।

मंगलवार की देर शाम चमोली-निजमुला मोटरमार्ग पर गाड़ी गांव के समीप टीटरी धार में चमोली से निजमुला की ओर जा रही जीप संख्या यूके 07 टीए 0373 अनियंत्रित होकर सड़क से करीब दो सौ मीटर गहरी खाई में जा गिरी। इससे उसमें सवार वाहन स्वामी नयन लाल (29 वर्ष) पुत्र आलमू लाल निवासी ग्राम सैंजी, धूम सिंह (32 वर्ष) पुत्र मदन सिंह व सैन सिंह (20 वर्ष) पुत्र हुकम सिंह निवासी ग्राम ब्यारा की मौके पर ही मौत हो गई। चालक दिनेश सिंह (24 वर्ष) पुत्र भजन सिंह व नरेंद्र सिंह (19 वर्ष) पुत्र बादर सिंह ग्राम ब्यारा गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना की सूचना पर ग्रामीण तत्काल बचाव के लिए घटना स्थल पर पहुंचे तथा उन्होंने पुलिस व प्रशासन को भी इसकी सूचना दी। ग्रामीणों ने दोनों घायलों को मंगलवार की देर रात जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनका उपचार चल रहा है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7423839.html

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
कार अलकनंदा में गिरी, चार की मौत
गौचर/कर्णप्रयाग। ऋषिकेश से बदरीनाथ जा रही शाहजहांपुर के श्रद्धालुओं की इनोवा कार गौचर ग्रेफ मोड़ पर अनियंत्रित होकर अलकनंदा में जा गिरी।
हादसे में चार लोगों की मौत हो गई, जबकि छह घायलों को सीएचसी कर्णप्रयाग में भर्ती कराया गया है। घायलों में से दो बच्चों सहित चार को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। जबकि, एक व्यक्ति लापता बताया जा रहा है। शुक्रवार अपराह्न करीब चार बजे शाहजहांपुर के यात्रियों को ऋषिकेश से बदरीनाथ ले जा रही इनोवा कार (डीएल-1-वीबी/3481) राष्ट्रीय राजमार्ग पर गौचर ग्रेफ मेस के मोड़ पर अनियंत्रित होकर अलकनंदा में जा गिरी। इससे तीन महिलाओं समेत चार लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घायलों को स्थानीय युवकों ने पुलिस और आईटीबीपी के जवानों के साथ मिलकर खाई से निकाला। उन्हें सीएचसी कर्णप्रयाग में भर्ती कराया। सीएचसी के सर्जन डा. राजीव शर्मा ने बताया कि घायलों में दो बच्चों सहित दो अन्य की हालत गंभीर है, जिन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। जबकि, अन्य दो खतरे से बाहर है।
इधर, आईटीबीपी, पुलिस व प्रशासन के जवान और अफसर मौके पर डटे थे। तहसीलदार सीएस चौहान ने बताया कि एक लापता व्यक्ति की तलाश जारी है।
ऋषिकेश से बदरीनाथ जा रहे थे यात्री, एक लापता, चार घायल हायर सेंटर रेफर
http://epaper.amarujala.com/svww_index.php

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
विभिन्न दुर्घटना में एक की मौत, 23 घायल





  गुप्तकाशी विभिन्न सड़क दुर्घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि 23 लोग घायल हो गए। पहली घटना, क्षेत्रांतर्गत गुप्तकाशी-ल्वारा-लंबगौंडी मोटरमार्ग के पास ट्रक के खाई में गिरने से चालक की मौत हो गई, जबकि दो लोग घायल हो गए। दूसरी घटना, छाम के चम्बा-उत्तरकाशी मोटर मार्ग पर छाम कंडीसौड के समीप बस सड़क पर पलट गई, जिससे 21 लोग घायल हो गए।


सोमवार शाम कारीब साढ़े पांच बजे गुप्तकाशी-ल्वारा-लंबगौंडी मोटरमार्ग पर लंबगौंडी की ओर जा रहा एक ट्रक गुप्तकाशी से चार किमी आगे अनियंत्रित होकर खाई में जा गिरा। इससे ट्रक चालक शिव सिंह नेगी (30 वर्ष) पुत्र मदन सिंह  निवासी देवागण की मौके पर मौत हो गई, जबकि दो अन्य सवार हिम्मत सिंह (29 वर्ष) पुत्र हरिकृष्ण निवासी रामपुर व लक्ष्मण (30 वर्ष) पुत्र प्रताप सिंह निवासी तुलंगा बुरी तरह घायल हो गए।


 स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना चौकी गुप्तकाशी को दी। मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने घायलों को 108 सेवा से स्वास्थ्य केन्द्र गुप्तकाशी में भर्ती कराया। वहीं,शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय भेज दिया गया है।
छाम: सोमवार को सुबह 9.30 बजे उत्तरकाशी से ऋषिकेश जा रही बस (यूए12-0003) चम्बा-उत्तरकाशी मोटर मार्ग पर छाम कंडीसौड के समीप पन्याली नामे तोक में पलट गई। इससे 21 लोग घायल हो गए। गंभीर घायलों को जिला अस्पताल रेफर किया गया।

 गंभीर घायलों में राजेन्द्र सिंह (35 वर्ष) पुत्री भीम सिंह निवासी कोटद्वार, मूर्तिराम (38 वर्ष) पुत्र सुंदर लाल निवासी नेरी, सरोजनी देवी (36 वर्ष) पत्नी कलम सिंह निवासी कौडू बड़ा, भुवनेश्वरी देवी (65 वर्ष) पत्नी धर्मानंद निवासी बयाड़गांव, एकादशी देवी (65 वर्ष) पत्नी सुंदरलाल निवासी मरोड़ा सिरांई व प्रेमा देवी (45 वर्ष) पत्नी बासुदेव निवासी ग्राम सैणसारी शामिल हैं। शेष अन्य 15 घायलों को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।



http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7997647.html



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
उत्तराखंड:पहाड़ी नागिन ने 2500 को डसा,848 लोगों की मौत
[/t][/t][/t]

[/t][/t]

   
 
सड़क दुर्घटनाओं में 848 लोगों की हुई मौत
 [/t][/t]
उत्तराखंड में पहाड़ी नागिन ने पूरे वर्ष करीब 2500 लोगों को डसा. इससे 848 लोगों की मौत हुई तथा 1554 लोग घायल हुए.
अपनी प्राकृतिक खूबसूरती तथा धार्मिक आस्था केन्द्रों के लिये मशहूर उत्तराखंड में पहाड़ी नागिन के नाम से कुख्यात बलखाती सड़कों ने गुजरे साल करीब 2500 लोगों को डसा और उन्हें या तो मौत की नींद सुला दिया या सदा के लिये अपंग बना दिया.
 
 राज्य पुलिस मुख्यालय के आंकड़े बताते हैं कि जाते साल सड़क दुर्घटनाओं में कुल 848 लोगों की मौत हुई तथा 1554 लोग घायल हुए. तेजी से वाहन चलाने तथा लापरवाही के चलते 1346 दुर्घटनायें हुई. उधमसिंहनगर जिले में सबसे अधिक 407 दुर्घटनायें हुईं, जिनमें 279 की मौत हुई, जबकि 392 लोग घायल हुये. वर्ष 2010 में इस जिले में दुर्घटनाओं की संख्या 402 रही थी, जिनमें 237 लोगों की मौत हुई तथा 395 लोग घायल हुये.
 
 गुजरते साल में सबसे खास बात यह रही कि मात्र दस दुर्घटनाओं को छोड़ दिया जाए तो बाकी सभी दुर्घटनायें तेजी से वाहन चलाने तथा लापरवाही के चलते हुईं. वाहन की खराबी से चमोली में छह घटनायें हुई जबकि चट्टान गिरने से इसी जिले में तीन दुर्घटनाएं हुई,अन्य कारणों से मात्र एक दुर्घटना हुई.
 
 आंकडों के अनुसार राज्य में यात्रा सीजन के दौरान बाहर से आने वाले वाहनों में एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ लगी रहती है जिसके चलते सर्पीली सड़कों पर उनका संतुलन बिगड़ जाता है और हादसा होता है. इसके अलावा तीखे मोड़ पर नियंत्रण छूटने, चालक को झपकी आने, शराब पीकर वाहन चलाने तथा ओवरलोडिंग दुर्घटनाओं के मुख्य कारण रहे.
 
 गुजरते साल के आंकड़ों पर नजर डालें तो प्रत्येक महीने में औसतन 70 व्यक्तियों की मौत हुई जबकि यह आंकड़ा वर्ष 2010 में एक कम 69 था. दुर्घटनाओं के मामले में हरिद्वार जिला दूसरे नंबर पर रहा. इस जिले में कुल 317 दुर्घटनायें हुईं, जिनमें 168 लोग मारे गये तथा 322 घायल हुये. वर्ष 2010 में यहां 313 दुर्घटनाओं में 210 लोग मारे गये और 331 घायल हुये.
 
 आंकड़े बताते हैं कि सड़क दुर्घटनाओं के मामले में राजधानी देहरादून तीसरे नंबर पर रहा. गुजरे साल में राजधानी में कुल 274 दुर्घटनाओं में 156 लोग मारे गये तथा 228 घायल हुये. वर्ष 2010 में देहरादून में कुल 299 दुर्घटनाओं में 144 लोग मारे गये तथा 244 अन्य घायल हुये.
 
 पर्यटन नगरी के नाम से मशहूर नैनीताल जिले में गुजरे साल में कुल 161 दुर्घटनायें हुईं, जिनमें 77 लोग मौत की नींद सो गये जबकि 158 लोग घायल हुये. इसी जिले में वर्ष 2010 में 171 दुर्घटनायें हुईं, जिनमें 94 लोग मरे तथा 168 घायल हुए. यहां सभी दुर्घटनायें तेजी तथा लापरवाही से वाहन चलाने के कारण हुईं.
 
 हिन्दुओं के सर्वोच्च तीर्थ बद्रीनाथ धाम वाले चमोली जिले में गुजरे साल 46 दुर्घटनायें हुईं, जिनमें से छह वाहन की खराबी तथा तीन चट्टान गिरने से हुईं. शेष 37 दुर्घटनाओं में 65 लोग मारे गये तथा 121 घायल हुये. इसी जिले में वर्ष 2010 में 40 घटनायें हुईं, जिनमें 50 लोगों की मौत हुई तथा 128 लोग घायल हुये.
 
 देश के द्वादश शिवलिंगों में एक केदारनाथ के धाम रूद्रप्रयाग जिले में छह दुर्घटनाओं में तीन लोगों की मौत हुई तथा छह अन्य घायल हुये. यहां वर्ष 2010 में कुल 22 दुर्घटनायें हुई थीं, जिनमें 13 लोगों की जान गई तथा 55 अन्य घायल हुए.
 
 राज्य पुलिस मुख्यालय सूत्रों ने बताया कि राज्य में दुर्घटनाओं को कम करने के लिये कई कारगर कदम उठाये गये हैं. इसके तहत वाहनों के उत्तराखंड में प्रवेश के समय उन्हें पंजीकृत करने तथा चारधाम यात्रा के समय का निर्धारण करना शामिल है!

http://www.samaylive.com/regional-news-in-hindi/uttarakhand-news-in-hindi/136602/uttarakhand-year-nearly-2-500-people-bitten-by-snake-hill-848-pe.html
[/td][/tr][/table][/td][/tr][/table]

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
उत्तराखंड में बस खाई में गिरी, 27 की मौतभाषा ॥ देहरादून : उत्तराखंड में देहरादून के पास चकराता में बुधवार को एक बस 200 मीटर गहरी खाई में गिर गई। एक्सिडेंट में बस पर बैठे 27 लोेगों की मौत हो गई जबकि 25 अन्य घायल हो गए। घायलों में चार की हालत गंभीर बतायी जा रही है। अभी तक एक्सिडेंट की वजह का पता नहीं चल पाया है।
 राज्य के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने मामले में मैजिस्ट्रेट जांच का आदेश दे दिया है। उन्होंने मरने वाले लागों के परिजनों के लिए एक-लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है। इसके अलावा गंभीर तौर पर घायल लोगों को पचास-पचास रुपये दिए जाएंगे। राज्यपाल अजीज कुरैशी ने भी घटना पर दुख व्यक्त किया है। आपदा प्रबंधन एवं राहत केंद्र (डीएमएमसी) ने बताया कि बस पर 52 लोग बैठे हुए थे। बस हनोल से विकासनगर जा रही थी। रास्ते में फिसल कर यह खाई में जा गिरी। घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती करा दिया गया है। अधिकतर पीडि़त स्थानीय लोग हैं। देहरादून के डीएम रविनाथ रमण ने बताया कि एक्सिडेंट इतना जबर्दस्त था कि बस बुरी तरह पिचक गई और कई लोगों के शव क्षत-विक्षत हो गए।

(source navbharat times)

Mahi Mehta

  • Guest

Govt must ensure proper safety measure for commuters.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
पिथौरागढ़ में मैक्स खाई में गिरी, 16 की मौतधारचूला से सात किलोमीटर दूर तांथरधार के पास बुधवार सुबह करीब सात बजे मैक्स जीप के खाई में गिरने से 16 लोगों की मौत हो गई। मृतकों में सात महिलाएं शामिल हैं। हादसे में चालक समेत छह लोग घायल हुए हैं जिन्हें पिथौरागढ़ जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दुर्घटना की जानकारी मिलते ही प्रशासन और पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। डीएम डा. नीरज खैरवाल ने घटना की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दिए हैं। जीप में कुल 22 लोग सवार थे। हादसे का कारण जीप का ओवर लोड होना बताया जा रहा है। मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने घटना पर गहरा दुख जताया है।

दूध लेकर धारचूला के लिए हुए थे रवाना
रांथी गांव से रोज की तरह बुधवार सुबह मैक्स जीप (यूके 05 टीए 0137) दूध के केन लादकर धारचूला के लिए निकली थी। जीप में 22 लोग सवार थे। रांथी से करीब पांच किलोमीटर आगे पहुंचते ही चालक संतुलन खो बैठा और वाहन 100 फिट नीचे खाई की ओर लुढ़कने के बाद नीचे धारचूला-तवाघाट नेशनल हाईवे पर जा गिरा। कुछ लोगों की नजर दुर्घटनाग्रस्त वाहन पर पड़ी तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी और खुद राहत काम में जुट गए। हादसे में 14 लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। एक महिला ने अस्पताल ले जाते रास्ते में जबकि एक व्यक्ति की धारचूला अस्पताल पहुंचने के बाद मौत हुई।

एक गांव के ही हैं मृतक
सभी मृतक रांथी ग्राम पंचायत के धामीगांव और बोरागांव तोक(एक ग्राम पंचायत में शामिल कुछ परिवारों के छोटे गांव) के निवासी थे। मृतकों में जगत सिंह (27) पुत्र विजय सिंह, वीर सिंह (35) पुत्र धन सिंह, हयात सिंह (32) पुत्र सोनू नाथ, मदन सिंह (48) पुत्र हर सिंह, मसुती देवी (55) पत्नी देव सिंह, जानकी देवी (40) पत्नी प्रताप सिंह, रुकम सिंह (32) पुत्र पान सिंह, भानमती देवी (35) पत्नी गोपाल सिंह, जैना देवी (35) पत्नी हर सिंह, मीना देवी (25) पत्नी राजेंद्र नाथ, मान सिंह (33) पुत्र गगन सिंह, केशर सिंह (55) पुत्र राय सिंह, जानकी देवी(37) पत्नी दान सिंह और सोमनाथ (30) पुत्र जगन्नाथ की मौके पर मौत हो गई।

कमला देवी (30) की धारचूला से पिथौरागढ़ लाते रास्ते में ही मौत हुई जबकि धन सिंह (24) पुत्र खड़क सिंह ने अस्पताल में दम तोड़ा। हादसे में घायल हुए हिमांशु (20), कबीर (27), पार्वती देवी (27), बृजेश (9), रविनाथ (17), चालक बलबहादुर (55) को पिथौरागढ़ अस्पताल में भर्ती किया गया है। उपजिलाधिकारी प्रमोद कुमार, पुलिस क्षेत्राधिकारी महिपाल सिंह, थाना प्रभारी पीएस दानू भी घटनास्थल पर पहुंचे।

मौके पर ही किया गया पोस्टमार्टम
जीप हादसे में मौके पर मारे गए सभी लोगों का पोस्टमार्टम घटनास्थल पर ही किया गया। दोपहर बाद पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम की कार्रवाई शुरू हुई।पुलिस तथा प्रशासन के अधिकारियों की मौजूदगी में डाक्टरो डा. डीके श्रीवास्तव और डा. सचिन प्रकाश ने पोस्टमार्टम किया। नगर पंचायत अध्यक्ष दशरथी खैर ने शवों को अंतिम संस्कार को ले जाने के लिए वाहनों की व्यवस्था की।

शोक में बंद रहा बाजार
दुर्घटना में 16 लोगों की मौत की खबर मिलते ही तहसील मुख्यालय में शोक की लहर दौड़ गई। धारचूला के व्यापारियों ने दोपहर बाद अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखे। विधायक हरीश धामी ने हादसे पर दुख जताते हुए कहा कि मृतकों के परिजनों को समुचित आर्थिक सहायता दिलाई जाएगी। पूर्व विधायक काशी सिंह ऐरी ने भी घटना पर शोक व्यक्त किया है।


http://www.dehradun.amarujala.com/news/city-hulchul-dun/accident-in-dharchula-16-dead/



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
उत्तराखंडः चंद्रभागा में गिरी बस, 16 की मौत



बदरीनाथ हाईवे पर श्रीनगर से जुयालगढ़ पुल से एक बस अनियंत्रित होकर नदी में गिरने से 16 लोगों की मौत हो गई। इस हादसे में 15 यात्री घायल हुए हैं। गंभीर रूप से घायल तीन लोगों को देहरादून रैफर किया गया है।

इनमें एक घायल को स्वास्थ्य मंत्री अपने साथ हेलीकॉप्टर से दून ले गए। हादसे की वजह तेज रफ्तार और ओवर लोडिंग बताई जा रही है।

बदरीनाथ हाईवे पर श्रीनगर से 12 किमी दूर जुयालगढ़ पुल में नंदादेवी एक्सप्रेस की बस शनिवार सुबह करीब 11.22 पर अनियंत्रित होकर पुल की बाईं ओर की रेलिंग पर जा टकराई।

बस की रफ्तार इतनी तेज थी कि वह रेलिंग को तोड़ते हुए चंद्रभागा नदी में जा गिरी। बस में सवार 34 यात्रियों में से 16 की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 15 घायल हो गए। तीन यात्री बस के दरवाजे की ओर खड़े होने से वह सड़क पर ही छिटक गए।

हादसे ही सूचना मिलते ही कीर्तिनगर के कोतवाल एएस रावत मयफोर्स� पहुंच गए। कुछ देर बाद एसडीएम डीएस नेगी भी मौके पर पहुंचे। पुलिस के साथ ही जुयालगढ़ और मलेथा के ग्रामीणों ने बस के नीचे फंसे 15 घायलों को किसी तरह बाहर निकाला।

घायलों को आपातकालीन स्वास्थ्य सेवा 108 के साथ ही देवप्रयाग, कीर्तिनगर और श्रीनगर से पहुंची एंबुलेंसों से बेस अस्पताल पहुंचाया गया। तीन घायलों को हायर सेंटर रैफर किया गया जबकि 12 का उपचार बेस अस्पताल में चल रहा है।

बस गिरने से बनी झील
चंद्रभागा नदी में तिरछी फंसी बस से वहां झील सी बनने लगी और बस पानी में आधी डूब गई। बस को काटने के लिए कोई यंत्र या उठाने के लिए क्रेन उपलब्ध न होने से 16 यात्रियों को जान गंवानी पड़ी।

मृतकों को घटना के ढाई घंटे बाद तक चले राहत तथा बचाव कार्य से निकाला गया। इस दौरान करीब एक बजे तक एसपी टिहरी मुख्तार मोहसिन भी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। एसडीएम श्रीनगर भी इस मौके पर तैनात रहे।

1. सुनील (25 वर्ष) पुत्र भगतराम निवासी कर्णप्रयाग चमोली।
2. मसंत सिंह (63 वर्ष) पुत्र जीत सिंह निवासी बडा पाब टिहरी।
3. हर्षपति (30 वर्ष) पुत्र तुलसी राम निवासी मयाली रुद्रप्रयाग।
4. आशीष (27 वर्ष) पुत्र राजेंद्र प्रसाद निवासी नारायण बगड़ चमोली।
5. लक्ष्मण सिंह (30 वर्ष) पुत्र जितार सिंह निवासी ल्वाली रुद्रप्रयाग।
6. माधो सिंह रावत (31 वर्ष) पुत्र जगत बहादुर निवासी तिलवाड़ा रुद्रप्रयाग।
7. दर्शन सिंह (24 वर्ष) पुत्र शोभिया राम निवासी डुंगरी चमोली।
8. प्रीति (18 वर्ष) पुत्री मासंत सिंह बड़ा पाब टिहरी।
9. बसंती देवी (38 वर्ष) पत्नी हयात सिंह निवासी ल्वाली रुद्रप्रयाग।
10. राधादेवी (26 वर्ष) पत्नी माधो सिंह निवासी तिलवाड़ा रुद्रप्रयाग।
11. लखपत सिंह (46 वर्ष) पुत्र चंद्र सिंह निवासी निलारी मिंग गदेरा चमोली।
12. नरेंद्र सिंह (33 वर्ष) पुत्र भोपाल राम निवासी रिसान डुंगरी चमोली।
13. अमित लाल (23 वर्ष) पुत्र ललिता मिश्रा निवासी सिरोली डांगचौरा टिहरी।
14. मैणा देवी (50 वर्ष) पत्नी माखुल सिंह निवासी किमखोला आमणी टिहरी।
15. दिगपाल सिंह (28 वर्ष) पुत्र बंशीलाल निवासी नारायणबगड़ चमोली।
http://www.dehradun.amarujala.com/feature/city-hulchul-dun/bus-accident-in-srinagar-uttarakhand-hindi-news/?page=2

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22