Author Topic: Proposal For Train Till Bageshwar - टनकपुर से बागेश्वर तक रेल लाईन का प्रस्ताव  (Read 46434 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

See the details.. of this route on Sl No 8..

This railways track is proposed but unforutnately no survey has been made on Tanakpur to Bageshwar Railway track.

People sometime cry on the street of bageshwar and nobody listen voice. In fact their voice is even not supported by the State Govt.

Amognst 28 new lines sactioned during Railway Budet 2007-2008. This track is at No 8.

102. A number of surveys have been taken up in the last two years. 65 surveys have already been completed. The remaining surveys are in various stages of progress. A large number of demands are continuously being received for taking up new projects, which are difficult to be fulfilled in the present scenario with large shelf of projects and limited resources. However, based on demands, following surveys are proposed to be taken up:


New Lines

1. Prantik-Siuri

2. Murkongselek-Pasighat

3. Kusheshwarsthan-Saharsa

4. Gunjaria-Gazole

5. Loharu-Bhiwani

6. Rama Mandi-Maur Mandi via Talwandi Saheb

7. Khurja-Raya new line via Mat, Surir, Bajna


8.   Tanakpur-Bageshwar

9. Rail link to Tonk - Devli

10. Anupgarh to Kolayat via Khajuwala

11. Khammam to Podattur

12. Edapally-Guruvayur

13. Sabarimala-Chenganur

14. Nagapattinam-Thirucheraipundi

15. Erode-Satyamanglam

16. Talguppa-Honavar

17. Sivok-Rangpo

18. Kalyan-Ahmedanagar

19. Lohna-Muktapur via Alinagar, Trimuhani, Bahedi, Shivajinagar

20 Sitamarhi-Jayanagar via Sursand, Bhithamod

21 Bhagwanpur –Samastipur via Mahua , Patepur, Tajpur

22. Veer-Hari Hareshwar

23. Lalganj-Bachhrawan via Gurubakshganj

Detailed speach link is here .

http://exim.indiamart.com/budget-2006-07/rail-budget2006-07/speech-railway-budget-06-07-part-1.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

See relevant news on the subject

Lalu nod for Tanakpur-Bageshwar railway line.

Friday, June 16 2006 15:53 (IST)   

Subscribe to Newsletter


Dehra Dun, June 16 (UNI) Union Railway Minister Lalu Prasad has given his nod for the 110 km long Tanakpur-Bageshwar railway line in Uttaranchal.

According to an official release issued here today, in a letter addressed to Chief Minister N D Tiwari, Railway Minister has stated that survey work would begin soon and fund provided from survey budget 2006-07 for Tanakpur-Bageshwar railway line.

In a bid to promote tourism in the state and connectivity being the most essential part, Mr Tiwari has further urged the Railway Minister to provide line from Mujaffarnagar to Haridwar which too have received positive reply from him.


http://news.oneindia.in/2006/06/16/lalu-nod-for-tanakpur-bageshwar-railway-line-1150454282.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

see garwal post news on the subject.


Tanakpur-Bageshwar rail track would cost Rs 2370 crores

ALMORA, 2 June (Agency): Union Railway Minister Laloo Prasad Yadav, who is currently on a tour of Uttarakhand, addressed a press conference here on Friday. While acknowledging the natural grandeur of the state’s countryside, he requested the state government to preserve and protect it. Calling the condition of railways in the region a challenge, he informed scribes that the survey for the 110 km long Tanakpur-Bageshwar railway line was in progress. He also admitted that the laying down of this line would require about Rs 2370 crores.
The Railway Minister also pointed out that it was because of his efforts and current policies that Indian Railways had been pulled out of a decades’ long spell of losses. He also promised that trains would soon be fitted with more comfortable berths for the travellers’ convenience and that special efforts would be made to rid the platforms of filth and garbage. He also threw comprehensive light on the Railway Ministry’s policies for the current year. On the topic of the looming Presidential elections, he refused to comment. 

 
http://www.garhwalpost.com/archives_newsdetail.php?news_id=77&news_head=Tanakpur-Bageshwar+rail+track+would+cost+Rs+2370+crores

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
रेल लाइन निर्माण की मांग पर बागेश्वर में जुलूसFeb 11, 02:10 am

बागेश्वर। टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन निर्माण की मांग को लेकर संघर्ष समिति ने बागेश्वर में जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। संघर्ष समिति ने रेल मंत्रालय से आगामी रेल बजट में ही वित्तीय स्वीकृति प्रदान करने की मांग करते हुए शीघ्र ही दिल्ली में धरना प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष गुसाई सिंह दफौटी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में वक्ताओं ने कहा कि पहाड़ में रेल लाइन निर्माण के बाद ही यहां का समुचित विकास हो सकता है। रेल लाइन निर्माण से यहां के औद्योगिक, सामरिक, व्यावसायिक विकास के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। रेल मंत्री ने हाल ही में बागेश्वर का भ्रमण करते हुए रेल लाइन निर्माण को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान की है। लेकिन केंद्र सरकार वित्तीय स्वीकृति प्रदान नहीं कर रही है। जिस कारण मामला लटकता जा रहा है। वक्ताओं ने कहा कि यदि इसी रेल बजट में यदि वित्त आवंटित नहीं किया गया तो दिल्ली में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। बाद में संघर्ष समिति ने नगर में जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया तथा केंद्र सरकार को संबोधित एक ज्ञापन प्रेषित किया। सभा का संचालन जगत सिंह खेतवाल ने किया।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_4166601.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Uttarakhand waits for better connectivity
« Reply #24 on: February 14, 2008, 11:25:52 AM »
Uttarakhand waits for better connectivity

Statesman News Service
DEHRADUN, Feb. 13: With barely a fortnight left for the announcement of the Railway budget, people here are not only waiting for the arrival of trains in the hill regions like other Himalayan states but are also looking forward to better rail connectivity with other states.
The visits of railway minister Mr Lalu Prasad to Uttarakhand many a time in the past and his promise of better rail links have raised the hope of the people of this hill state.
A few months ago, the minister admitted the need to have the Rishikesh-Karnaprayag and Tanakpur-Bageshwar rail links as part of the national plan. It is believed that there could be some announcement in this regard in the rail budget. Past surveys have recommended the rail link on the Rishikesh-Karnaprayag route. The first survey was done in 1919 on the initiatives of the then deputy commissioner of Garhwal JM Clay. The next survey was done in 1996, by the then minister of state for Railways Mr Satpal Maharaj. But the rail link on the hills here remained a dream.
Experts find no impediments to the construction of rail routes here. Dr PC Nawani, director of the Geological Survey of India, who is a consultant to the Rail line Plan in Jammu and Kashmir, says the hills of Uttarakhand are fit for the rail links. “The situation here is more favourable compared to Jammu and Kashmir as the rocks here are harder,” Dr Nawani said.
“It is perhaps due to the lack of political will that the hills of Uttarakhand are still without trains,” Mr Naveen Gupta, a trader said. He reasoned: “If there can be trains in Jammu and Kashmir, Himachal Pradesh and Darjeeling, why not in Uttarakhand?”
The people also long for the Doon-Saharanpur rail line, a double rail line from Doon-Luxar and its electrification, a fast train to Mumbai and direct trains to other parts of the country, particularly Bangalore and Goa.
With the growing number of tourists, it is essential to have better rail connectivity, Mr LM Sharma, an insurance company manager said. According to him, the Doon-Saharanpur line would help frequent travellers as it would shorten by two hours the distance from Dehradun to Delhi. It would be about 30-35 km, railway officials said.


http://www.thestatesman.net/page.news.php?clid=2&theme=&usrsess=1&id=190770

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
पहाड़ में रेल लाइन निर्माण को कसी कमरFeb 18, 02:01 am

बागेश्वर। रेल मंत्रालय द्वारा पेश किये जाने वाले रेल बजट से पूर्व सरकार पर दबाव बनाने के लिए यहां लोगों ने अब आक्रामक रुख अपना लिया है। पहाड़ में रेल लाइनों के निर्माण के लिए अब जनता ने पूरी तरह से कमर कस ली है। जनता ने सड़क पर संघर्ष के जरिये आवाज बुलंद करने का निर्णय लिया है तो जनप्रतिनिधियों ने भी विधान सभा के जरिये केंद्र सरकार पर दबाव बनाने की रणनीति तैयार कर ली है।

बागेश्वर के विधायक चंदन दास ने आगामी विधान सत्र में संकल्प पत्र पेश करने का निर्णय लिया है जबकि टनकपुर-बागेश्वर रेल निर्माण संघर्ष समिति ने रेल बजट से पूर्व दिल्ली में प्रधानमंत्री से मुलाकात करने व धरना प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है। विधायक चंदन दास ने बताया कि वह आगामी विधान सभा सत्र में बागेश्वर को रेल से जोड़े जाने की मांग को लेकर संकल्प पत्र पेश करने की योजना बना रहे है। उन्होंने बताया कि विधान सभा में बड़े मामलों व योजनाओं के लिए संकल्प पत्र पेश किये जाते है। जिसमें फिर नियम 87 के तहत सदन में चर्चा की जाती है। चर्चा के बाद सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव केंद्र सरकार को जाता है। विधायक ने कहा कि हालांकि पहाड़ में लगभग चार रेल मार्गो के निर्माण की मांग विगत कई वर्षो से की जा रही है। लेकिन वह आगामी सत्र में टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन के निर्माण के लिए ही संकल्प पत्र पेश करेगे। इधर रेल निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष गुसाई सिंह दफौटी ने बताया कि वह रेल बजट पेश होने से पूर्व एक बार दिल्ली में प्रधानमंत्री से मिलकर वार्ता करेंगे। उन्होंने कहा कि रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने रेल मार्ग निर्माण के लिए स्वीकृति दे दी है लेकिन प्रधानमंत्री कार्यालय बजट का आवंटन नहीं कर रहा है। इसके लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से एक बार मिलकर इस समस्या से अवगत कराया जाएगा। यदि वार्ता सकारात्मक नहीं रही तो उसी दिन से दिल्ली के जंतर मंतर में धरना देते हुए अनिश्चत कालीन प्रदर्शन शुरू कर दिया जाएगा। इधर जनता ने भी रेल मार्ग निर्माण के लिए सड़कों पर उतरने का संकल्प लिया है। रेल मार्ग निर्माण की मांग को लेकर हर माह होने वाले जुलूस प्रदर्शन में लोगों की भारी संख्या को देखते हुए लगता है कि लोगों ने अब आर पार की लड़ाई लड़ने का मन बना लिया है। टनकपुर में भी आंदोलन शुरू होने से बागेश्वर की आंदोलनकारी की जनता को बल मिला है। यदि उक्त सभी का सामूहिक प्रयास रंग लाता है तो वह दिन दूर नहीं जब पहाड़ में रेल की छुकछुक आवाज सुनायी देगी। लोगों को विश्वास है कि विगत कई वर्षो से किये जा रहे प्रयास को केंद्र सरकार नजरअंदाज नहीं करेगी।


एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
 लाइन निर्माण की मांग पर बागेश्वर में विशाल प्रदर्शनFeb 25, 02:05 am

बागेश्वर। मंगलवार को पेश होने वाले रेल बजट में टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन के निर्माण के लिए बजट आवंटित किये जाने की मांग को लेकर रविवार का रेल निर्माण संघर्ष समिति ने ढोल नगाड़ों के साथ विशाल जुलूस निकाला। इस दौरान वक्ताओं ने केंद्र सरकार पर रेल लाइन निर्माण के मामले में पहाड़ की उपेक्षा करने का आरोप लगाया।

स्थानीय पर्यटक आवास गृह में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए संघर्ष समिति के नेताओं ने कहा कि पहाड़ में रेल लाइन निर्माण के बाद ही यहां का विकास हो सकता है। पर्यटन, सामरिक, व्यापारिक दृष्टि से रेल निर्माण वरदान साबित होगा। रेल मंत्री ने टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन निर्माण की घोषणा जरूर की है लेकिन सर्वे के लिए बजट आवंटित नहीं किया जा रहा है। जिस कारण लोगों में निराशा व आक्रोश व्याप्त है।



एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
रेल लाइन निर्माण के लिए महिलाओं ने संभाली कमानFeb 26, 02:24 am

बागेश्वर। टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन निर्माण के लिए अब महिलाओं ने कमान संभाल ली है। मंगलवार को महिलाओं ने बैठक करते हुए रेल लाइन की सर्वे के लिए धन आवंटन की मांग करते हुए चेतावनी दी कि यदि इस मांग की उपेक्षा की गयी तो रेल निर्माण संघर्ष समिति के नेतृत्व में उग्र आंदोलन किया जाएगा।

महिला नेत्री निर्मला दफौटी की अध्यक्षता में संपन्न बैठक में वक्ताओं ने कहा कि ब्रिटिश शासन काल में टनकपुर-बागेश्वर मोटर मार्ग की सर्वे की गयी थी। मगर उसके बाद भारत सरकार ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि पहाड़ में रेल लाइन निर्माण के बाद ही विकास हो सकता है। पर्यटन, सामरिक व व्यावसायिक दृष्टि से रेल लाइन का निर्माण बेहद जरूरी है। विगत कई वर्षो से रेल लाइन निर्माण की मांग कर रही रेल निर्माण संघर्ष समिति को भी रेल मंत्री लालू यादव ने सिर्फ आश्वासन देकर शांत करने का प्रयास किया है। जबकि सर्वे के लिए धन देना चाहिए था। महिलाओं ने बुधवार को संसद में पेश होने वाले रेल बजट में वित्त आवंटन की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि यदि रेल निर्माण की मांग को नजरअंदाज किया गया तो वह उग्र आंदोलन करेगे। साथ ही उन्होंने रेल निर्माण संघर्ष समिति के आंदोलन को समर्थन देते हुए कहा है कि वह संघर्ष समिति के नेतृत्व आंदोलन करेगे।

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
 टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन 


यदि आज प्रस्तुत होने वाले रेल बजट में इस कार्य के लिये धन आबंटित हो जाता है तो भी आंदोलन जारी रखना पड़ेगा क्योंकि सरकारी काम कैसे होता है सब जानते हैं ।

    रेल मंत्री ने टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन निर्माण की घोषणा जरूर की है लेकिन सर्वे के लिए बजट आवंटित नहीं किया जा रहा है। जिस कारण लोगों में निराशा व आक्रोश व्याप्त है। 

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
सीएम ने रेल मंत्री को भेजा टनकपुर-बागेश्वर रेल मार्ग का सर्वेFeb 26, 02:24 am

नैनीताल। मुख्यमंत्री बीसी खंडूरी ने टनकपुर-बागेश्वर रेल मार्ग का सर्वे केंद्रीय रेल मंत्री लालू यादव को भेजा है। 29 फरवरी को सदन में रखे जा रहे रेल बजट के मद्देनजर मुख्यमंत्री के प्रस्ताव को प्रासंगिक माना जा रहा है। डीएसबी परिसर के भूगोल विभाग द्वारा रेल मार्ग के निर्माण को पर्वतीय क्षेत्र की भौगोलिक संरचना के अनुरूप बताया गया है। सर्वे जनवरी के दूसरे सप्ताह में मुख्यमंत्री को भेजा गया था। भूगोल विभाग के डा. जीएल साह के नेतृत्व में सर्वे को टनकपुर-बागेश्वर रेल मार्ग के निर्माण को अपरिहार्य बताया गया। जीआईएस, रिमोट सेंसिंग व उपग्रह चित्रों की मदद से किए गए सर्वे में रेल लाइन के निर्माण को भौगोलिक व भू-गर्भीय दृष्टि से उपयुक्त पाया गया है। श्री साह ने बताया कि रेल मार्ग कुमाऊँ के आर्थिक जीवन की लाइफ लाइन बनेगा। विदित हो रेल मंत्री पूर्व में भी रेल मार्ग पर सहमति जता चुके है। उधर, रेल बजट के निकट आने के साथ-साथ टनकपुर व बागेश्वर में रेल मार्ग की मांग को लेकर आंदोलन तेज हो गया है।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22