Author Topic: Proposal For Train Till Bageshwar - टनकपुर से बागेश्वर तक रेल लाईन का प्रस्ताव  (Read 46679 times)

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
Mehta ji jahan tak mujhe lagta hai iska 1 kaaran humari Pahad main kam aabaadi bhi hai.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
मैने पहले भी इसमें तथ्य दिये थे कि कैसी-कैसी जगहों पर रेल मार्ग हैं

टनकपुर से बागेश्वर तक की इस प्रस्तावित योजना की लम्बाई १३७ किलोमीटर है, जिसमें से ६७ कि०मी० लाईन अंतराष्ट्रीय सीमा (भारत-नेपाल) के समानान्तर है और पंचेश्वर से यह योजना सरयू नदी के समानान्तर है। इस कारण इस योजना में कोई सामाजिक विस्थापन भी नहीं होना है, क्योंकि महाकाली और सरयू नदी दोनों भ्रंश घाटियों में बहती हैं। यह घाटियां भौगोलिक स्थिति से काफी मजबूत हैं, इसके अतिरिक्त इस प्रस्तावित योजना में चार बड़े रेल पुलों का निर्माण होना है और इनकी चौड़ाई भी मैदानी क्षेत्रों की तुलना में अत्यन्त कम होगी।
        पर्वतीय योजनाओं में मुख्य रुप से तकनीकी पक्ष मात्र ऊंचाई ही है, लेकिन इस लाईन को टनकपुर (समुद्र तल से ऊंचाई ८०० मीटर) से बागेश्वर तक पहुंचने में ६१० मीटर की ऊंचाई को पार करना होगा। अन्य पर्वतीय रेल योजनाओं की ऊंचाई की तुलना की जाय तो कालका से शिमला तक से ९८ कि०मी० की दूरी तय करने में १४३३ मीटर की ऊंचाई पार करनी पड़्ती है जब कि इस योजना में १३७ कि०मी० में मात्र ६१० मीटर की ही ऊंचाई को पार करनी पड़ेगी। इसके अतिरिक्त कांगड़ा और कश्मीर की तुलना में और ऊंचाई पार करनी पड़्ती है।

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
३०-०६-२००८ को  नव भारत दिल्ली संस्करण में रेलवे का विज्ञापन आया है कि रामनगर से दिल्ली उत्तराँचल सम्पर्क क्रांति कुछ ही दिनों में चलने लगेगी / समय और तारीख कि जल्दी घोषणा होगी/

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Trains to hills in Uttarakhand on the cards
« Reply #53 on: October 09, 2008, 12:38:04 PM »
In a move to give a major boost to the infrastructure sector in Uttarakhand, the Indian Railways is planning to take trains from Rishikesh to the hilly town of Karanprayag, and also to Kalsi area, bordering Himachal Pradesh from Dehra Dun city.

 
For this purpose, the department is undertaking fresh surveys, which are in final stages, officials said.

For the 126-km long Rishikesh-Karanprayag route in Garhwal region, 60 to 70 per cent of the survey has already been completed. The total cost of the project is Rs 1,372 crore.

The remaining survey is expected to be completed in two months time. The rail route will be Rishikesh-Devprayag-Srinagar-Karanprayag, along the rivers Ganga and Alaknanda. The department intends to take a broad-gauge line to Karanprayag from Rishikesh.

Top officials described the move by the Railways as a major decision, which will help in boosting the local infrastructure of the hill state, which is plagued by bad road conditions, especially during the monsoon. “This will also give a flip to the tourism in the hills,” the official said.

On the Dehra Dun-Kalsi route, the survey is expected to be completed in one-month time. In this route, the total distance would be 50 km and the cost of the project is being assessed.

Besides this, the Railways will also make arrangements for the double-line track on the Luxor-Haridwar-Dehra Dun route. The department would also construct over-bridges on this route.


http://www.business-standard.com/india/storypage.php?autono=336762

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Train to Garhwal still a distant dream
Dehra Dun (PTI): Even as the Kashmir valley has got a train service, the rail link to Garhwal and Kumaon hills in Uttarakhand still remains a distant dream.

Although, the Indian Railways is undertaking various surveys for running train in both Garhwal and Kumaon regions,officials here said the train project in the hills of Uttarakhand is yet to be cleared by the railway ministry.

The former British government in India wanted to take train to the hill resort of Mussoorie for which it conducted a survey in the 19th century. However, no such moves were taken by the government in the post-Independence era.

Similarly, the train project for the hilly town of Bageshwar in Kumaon region is also lying in doldrums for the past two decades.

Railway officials here claims that a survey is being undertaken for laying a broad gauge track between Rishikesh and the hilly town of Karnprayag in Garhwal.

However, the officials did not give any date as to when the first train would arrive in Garhwal. The sources said the train to Garhwal can be possible by 2030.

Nevertheless, the railways has already completed 60 per cent of the survey on the 126-km Rishikesh-Karnprayag route. The total cost of the project is Rs 1372 crore.

http://www.hindu.com/thehindu/holnus/004200810121832.htm

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
अब दिल्ली कूच करेगी रेलवे निर्माण संघर्ष समिति    Nov 24, 10:24 pm

बागेश्वर। टनकपुर- बागेश्वर रेलवे निर्माण संघर्ष समिति द्वारा बागेश्वर तक रेलवे लाइन बनाए जाने के लिए अब दिल्ली में संघर्ष किया जाएगा। समिति इसके लिए जंतर-मंतर में आंदोलन करने की योजना बना रही है। आंदोलन की रणनीति तय करने के लिए समिति की 26 नवम्बर को बैठक होगी। जनपद वासियों को भगत दा के राज्य सभा में जाने से रेल लाइन निर्माण की स्वीकृति मिलने की उम्मीद जगी है। रेलवे निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष गुसाई सिंह दफौटी ने बताया कि केंद्र सरकारों द्वारा ब्रिटिश काल में की गई सर्वे के बाद भी इस ओर कोई खास कार्रवाई नहीं की जा रही है राज्य भ्रमण के दौरान रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने इसके निर्माण की घोषणा की थी परंतु इसके बाद भी इस पर कोई प्रगति होती नहीं दिखाई दे रही है। उन्होंने सांसदों पर भी टनकपुर-बागेश्वर रेलवे लाइन के निर्माण पर दिलचस्पी न लेने का आरोप लगाया साथ ही कहा कि कपकोट क्षेत्र के रहने वाले पूर्व मुख्यमंत्री व विधायक भगत सिंह कोश्यारी के राज्य सभा सांसद चुन लिए जाने के बाद एक नई उम्मीद जगी है कि श्री कोश्यारी राज्य सभा सांसद बनने के बाद इस मुद्दे को प्राथमिकता से उठाएंगे व सरकार पर दबाव बनाएंगे। उन्होंने बताया कि समिति की 26 नवम्बर को पर्यटक आवास गृह के समीप बैठक आहूत की गई है जिसमें दिल्ली जंतर-मंतर में प्रदर्शन करने समेत रेल मंत्री आदि से मुलाकात की जाएगी।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

This is a good news.. let us wait for progress.

अब दिल्ली कूच करेगी रेलवे निर्माण संघर्ष समिति    Nov 24, 10:24 pm

बागेश्वर। टनकपुर- बागेश्वर रेलवे निर्माण संघर्ष समिति द्वारा बागेश्वर तक रेलवे लाइन बनाए जाने के लिए अब दिल्ली में संघर्ष किया जाएगा। समिति इसके लिए जंतर-मंतर में आंदोलन करने की योजना बना रही है। आंदोलन की रणनीति तय करने के लिए समिति की 26 नवम्बर को बैठक होगी। जनपद वासियों को भगत दा के राज्य सभा में जाने से रेल लाइन निर्माण की स्वीकृति मिलने की उम्मीद जगी है। रेलवे निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष गुसाई सिंह दफौटी ने बताया कि केंद्र सरकारों द्वारा ब्रिटिश काल में की गई सर्वे के बाद भी इस ओर कोई खास कार्रवाई नहीं की जा रही है राज्य भ्रमण के दौरान रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने इसके निर्माण की घोषणा की थी परंतु इसके बाद भी इस पर कोई प्रगति होती नहीं दिखाई दे रही है। उन्होंने सांसदों पर भी टनकपुर-बागेश्वर रेलवे लाइन के निर्माण पर दिलचस्पी न लेने का आरोप लगाया साथ ही कहा कि कपकोट क्षेत्र के रहने वाले पूर्व मुख्यमंत्री व विधायक भगत सिंह कोश्यारी के राज्य सभा सांसद चुन लिए जाने के बाद एक नई उम्मीद जगी है कि श्री कोश्यारी राज्य सभा सांसद बनने के बाद इस मुद्दे को प्राथमिकता से उठाएंगे व सरकार पर दबाव बनाएंगे। उन्होंने बताया कि समिति की 26 नवम्बर को पर्यटक आवास गृह के समीप बैठक आहूत की गई है जिसमें दिल्ली जंतर-मंतर में प्रदर्शन करने समेत रेल मंत्री आदि से मुलाकात की जाएगी।

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
 रेलवे लाइन निर्माण के लिए दर्जनों लोग दिल्ली रवाना (JAGRAN NEWS) Dec 22, 02:06 am



बागेश्वर। टनकपुर-बागेश्वर रेलवे लाइन का निर्माण किए जाने की मांग को लेकर रेलवे लाइन निर्माण संघर्ष समिति के दर्जनों सदस्य रविवार को दिल्ली रवाना हो गए। आंदोलनकारी सोमवार को जंतर-मंतर में धरना देंगे व प्रदर्शन करेगे। आंदोलनकारियों ने रेलवे लाइन निर्माण न होने तक आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जनपद के विभिन्न स्थानों के दर्जनों आंदोलनकारियों ने दिल्ली में प्रदर्शन के लिए कूच किया। इस दौरान आंदोलनकारियों ने कहा कि अब रेलवे लाइन निर्माण न होने तक वे चैन से नहीं बैठेगे। संघर्ष समिति के अध्यक्ष गुंसाई सिंह दफौटी ने कहा कि जनपद की जनता अब नेताओं की कोरी बयानबाजी में आने वाली नहीं है तथा वे टनकपुर-बागेश्वर रेलवे लाइन का निर्माण होने तक संघर्ष जारी रखेंगे।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

This is atleast a good move.. It seems that without agitation, nothing is going to be in order in UK and everywhere.

रेलवे लाइन निर्माण के लिए दर्जनों लोग दिल्ली रवाना (JAGRAN NEWS) Dec 22, 02:06 am



बागेश्वर। टनकपुर-बागेश्वर रेलवे लाइन का निर्माण किए जाने की मांग को लेकर रेलवे लाइन निर्माण संघर्ष समिति के दर्जनों सदस्य रविवार को दिल्ली रवाना हो गए। आंदोलनकारी सोमवार को जंतर-मंतर में धरना देंगे व प्रदर्शन करेगे। आंदोलनकारियों ने रेलवे लाइन निर्माण न होने तक आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जनपद के विभिन्न स्थानों के दर्जनों आंदोलनकारियों ने दिल्ली में प्रदर्शन के लिए कूच किया। इस दौरान आंदोलनकारियों ने कहा कि अब रेलवे लाइन निर्माण न होने तक वे चैन से नहीं बैठेगे। संघर्ष समिति के अध्यक्ष गुंसाई सिंह दफौटी ने कहा कि जनपद की जनता अब नेताओं की कोरी बयानबाजी में आने वाली नहीं है तथा वे टनकपुर-बागेश्वर रेलवे लाइन का निर्माण होने तक संघर्ष जारी रखेंगे।

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22