Author Topic: Proposal For Train Till Bageshwar - टनकपुर से बागेश्वर तक रेल लाईन का प्रस्ताव  (Read 47278 times)

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
रेल  बजट  में  उत्तराखंड के लिए कुछ भी नही?  :'( :'(

खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
खंडूरी जी और लालू जी एक ही पार्टी के होते तो शायद खंडूरी जी की बात में दम होता/

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
 रावत जी,  जब उत्तराखंड के एक महान नेता ख़ुद रेल मंत्रालय में मंत्री रहते हुए कुछ नही कर पाए तो किसी और का क्या दोष ? ? ? ?   सिक्का तो अपना ही खोटा है.  >:( >:(

खंडूरी जी और लालू जी एक ही पार्टी के होते तो शायद खंडूरी जी की बात में दम होता/


खीमसिंह रावत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 801
  • Karma: +11/-0
बिल्कुल सही कहा आपने सर जी

हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
उत्तराखण्ड के लोगों को एक बार फिर से मायूसी मिली... लोगों की तकलीफ देखकर न सही, क्षेत्र के सामरिक महत्व को देखते हुए तो सरकार को पहाङों में रेल-मार्ग बिछाने पर विचार करना ही चाहिये...

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0

Sahab Ji,

kaya kare.. hamara koi strong representation hai nahi hai centre mai. There no doubt there have been high profile politicians from UK in centre time to time but no boday ever fought for this.

Otherwise like other state, there could have railways track in UK also. .. . 


उत्तराखण्ड के लोगों को एक बार फिर से मायूसी मिली... लोगों की तकलीफ देखकर न सही, क्षेत्र के सामरिक महत्व को देखते हुए तो सरकार को पहाङों में रेल-मार्ग बिछाने पर विचार करना ही चाहिये...

umeshbani

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 137
  • Karma: +3/-0
उत्तराखण्ड के लोगों को एक बार फिर से मायूसी मिली... लोगों की तकलीफ देखकर न सही, क्षेत्र के सामरिक महत्व को देखते हुए तो सरकार को पहाङों में रेल-मार्ग बिछाने पर विचार करना ही चाहिये...
अरे हेम दा राजनीत में शेत्रवाद और वोट की राजनीत होती है
लालू जी ने भी वही किया है बिहार के लिए ट्रेन और जोड़ दी है और बुलेट प्रूफ़ की बात कर रहे है इसमे उनका दोष नही है कल उन्होंने बिहार में ही वोट मांगने  जाना है न की उत्तरांचल मे जहाँ उनकी पार्टी ही नही है .............?
जनता ही ग़लत लोगों को चुनती है ................? जब उत्तरांचल के नेता सरकार मे थे तब उनहोंने क्या किया .........?
जनता उनसे सवाल करे...............? रोड तक सही नही करा पाए ट्रेन तो दूर की बात है ....................
कुछ दुर्भाग्य भी है नही तो कम से कम एक प्रधानमंत्री तो उत्तरांचल ने दिया होता ....................
प्रधानमंत्री कोई उत्तरांचल का होता तो कम से कम शर्म के वजह से कुछ विकास तो करता

savitanegi06

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 66
  • Karma: +2/-0
Umesh ji aapki baat se shayad sabhi sahmat na ho,

Aaj ki tareekh me Uttarakhand me sadako ki jo sthith hai wo kafi sarahniya hai, rajya banne se pehle jab hum gaon jate the to safar me samay lagta tha, lekin aaj wahan ki sadakein , shahar ki sadako se behtar hain,

savitanegi06

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 66
  • Karma: +2/-0
baat kuchh had tak neta logo par bhi nirbhar karti hai,
Lalu Prasad Yadav jameen se jude huye Neta hain, jo unhone sangharsh se prapt ki hai, aur chunav jeetne ke liye kya karna chahiye sab malum hai,

Aisa nahi hai ki Uttarakhand ne kaddawar neta desh ko pradan nahi kiye, Bahut se Neta uttarakhand se gaye hain jinme, Pt. G B Pant, Mr. K C Pant, Mr. M M Joshi, Mr. N D Tiwari etc......

Tiwari ji 4 baar UP ke CM rahe, koi unse kaam ka hisaab kyon nahi mangta,

umeshbani

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 137
  • Karma: +3/-0
सविता जी मै यह नही कहता कि विकास नही हुआ है मगर विकास जितना होना चाहिय  है उतना नही हुआ है ..............

सविता जी  तिवारी जी से भी हिसाब माँगा था जनता ने जिसका जबाब वो नही दे पाए  जिस कारन वो भारत के प्रधानमंत्री नही बन पाये !
 नही तो  राजीव गाँधी जी कि हत्या के बाद उनके प्रधानमंत्री बने के काफी चांस थे .....  लेकिन उत्तरांचल कि जनता ने ही विकास के नाम मे मांगे गए वोट मे फ़ैल कर दिया.............?

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22