Author Topic: मेरा रानीखेत बीमारी नहींRanikhet disease Name found in Poultry should b changed  (Read 2607 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

दोस्तों,

जैसा कि आप जानते होंगे उत्तराखंड का सबसे खूबसूरत हिल स्टेशन में से एक रानीखेत अल्मोड़ा जिले में स्थिति है जहाँ विभिन्न पर्यटन स्थल होने के साथ साथ कुमाऊ रेजिमेंट सेंटर का सेंटर भी है।  लेकिन इस शहर का नाम एक बीमारी के नाम से भी जोड़ा गया है जो मुर्गियों में पायी जाती।  ऐसा कहा जाता है मुर्गियों में पायी जानी वाली एक है जो घातक बीमारी रानीखेत में पायी गई लेकिन इसका अभी तक कोई इलाज नहीं मिल पाया। लेकिन वैज्ञानिको ने अपने शोध में ही इस बीमारी का नाम इस सुन्दर शहर के नाम से रख दिया जिससे शहर से छवि से देखा जा रहा है।  इस विषय में विभिन्न सामाजिक कार्यकर्ता ने अपना मत रखा और सरकारों से अनुरोध किया है की इस बीमारी का नाम रानीखेत के बजाय कुछ और रखा जाय ताकि इस शहर का नाम बदनामी या अलग दृष्टि से न देखा जाय। 

सामाजिक कार्यकर्ता सतीश जोशी जी ने इस विषय में बहुत लम्बा सघर्ष किया और अभी भी उनका संघर्ष जारी है।  मै जोशी के कुछ लेख इस टॉपिक में पोस्ट कर रहा हूँ और आपकी राय अपेक्षित है। 

By Satish Joshi - satish_j@hotmail.com

In 2012 (November) a news on the death of Peacocks' at a Noida village was published in the Hindustan Times.  That was my first encounter with an offensive reality that the National Bird(s)  were killed by an avian flu, named as Ranikhet.
    II.   
                             Name of other city/place in the country has never been shared for such notoriety but the Ranikhet belatedly learned to got a unique distinction, whereby an avian disease which may kill chicken, duck, pigeons and even the National bird has been disgracefully co-existed with same name for several decades.   
 
  III.          As per my understanding, the Constitution of India does not permit defamatory use of any place's name. However, one of my native place was found referred inappropriately and in a derogatory manner on several occasions due to a wrong reason, which is indeed a  violation or / and contempt of the Constitution.

 
  IV.     he Constitution of India also entrusts fundamental duties on citizens to  ensure compliance of constitutional provisions.

     V.          Thus, to enquire about Ranikhet (Disease)'s origin, official interpretations and premise, an RTI was filed  in 2012 with the Animal Husbandry department, Agriculture Ministry, New Delhi.  After persuasion the Department redirected the application to two Avian Institutes based at Bareilly and Bhopal with a direction that the replies be sent directly to the applicant. One of the Institute conveyed its inability in providing any detail while reply from other Institute is yet to come.  My follow up with the State authorities proved futile though local MLA claimed to have raised and highlighted the fact in one of the Assembly session.  Recently, the Public Grievance portal (DOPT) refused to redress the issue.

 
  VI.     Under this scenario I started gathering facts which are now being summarized and reproduced hereunder to evolve an understanding on the subject.
Ranikhet (Place) spread in around 29 Kilometer radius is a renowned tourist destination in Kumaon hills of Uttrakhand. Situated at 1829 meter height (from the sea level) Ranikhet is the Head Quarter of Kumaon Regiment and has gracious historical background.   

 
The Indian Railway runs a train called 'Ranikhet Express' between Jaisalmer (Rajesthan) and Kathgodam (Nainital).  Incidentally, unlike other trains named after the place of origin here the place Ranikhet is almost 70 KM's away. 

 
As per the 'Free Dictionary'  Ranikhet or Newcastle disease is a serious  paramyxovirus disease of poultry and other (including psittacine and passerine) birds. Clinical signs ofNewcastle disease virus (NDV) include coughing, gasping and sneezing, diarrhea, petechiae, twisted neck, andparesis of legs and wings. Three strains exist: lentogenic, mesogenic, and velogenic, the last is the most pathogenic(mortality to 100%, may present with peracute signs or sudden death).

 
Further, Wikipedia confirmed that the Newcastle disease (NDV) is a contagious bird disease affecting many domestic and wild avian species; it is transmissible to humans. It was first identified in Java, Indonesia, in 1926, and in 1927, in Newcastle-upon-Tyne, England (whence it got its name). However, it may have been prevalent as early as 1898, when a disease wiped out all the domestic fowl in northwest Scotland. Its effects are most notable in domestic poultry due to their high susceptibility and the potential for severe impacts of an epizootic on the poultry industries. It is endemic to many countries.

 
Sources confirmed that this poultry disease was detected in India at Ranikhet (Place) sometime before independence and as per the prevailing practices of naming a disease by the name of 'place of origin' it was named as Ranikhet.

 
Indian Veterinary Research Institute (IVRI)'s official website highlights its landmark moments and one of them is the development of a vaccine ('R2B') against Ranikhet (Disease), during pre-independent era, in the year 1940. The Institute also run Post Graduate degree programs in veterinary science to orient the students on subjects relating to animal and birds. The course content includes special mention of Ranikhet (Disease).

 
Similarly other commercial organizations, PSU's, NGO's, institutional, educational and State's Animal Husbandry Department's official website, newsletters, course content frequently mention about Ranikhet (Disease). Government's policy documents and vaccination program have mention of Ranikhet disease. Media also publishes the reports on related events, again using the name of Ranikhet (Disease).

 
Most of the commonwealth countries including neighboring Pakistan also identify and make use of Ranikhet (Disease) whenever it occurs, as we share a common heritage.

 
While it is highly objectionable to allow persistent use of Ranikhet as a disease it may be relevant to examine that why the need of indigenous name of same disease/symptoms was felt during British regime. No wonder if it had anything to do with gradual shifting of focus to a Colony to avoid a quality concern about home grown poultry products, in due course or maintaining prejudices of misusing underdeveloped or hated country (s), or a place thereof, to name a disease.

 
Post independence, the Indian Government thwarted an another attempt of British scientists when in year 2010 (August) a human disease was named as 'New Delhi metallo-beta-lactamase 1' after the name of our National Capital ironically because the infected Indian patient was a Delhite.  The diplomatic efforts saved the medical tourism of India which could otherwise be subject to an adverse perception in days to come.

It is believed that reiterating the name of Ranikhet as disease not only demeans a place of repute but also adversely affects local tourism and our poultry trade even Internationally, due to a sickening feeling towards place of origin.

 
 It may not be out of context to mention here that notoriety of any type may dampen prospects or brand, as realized by Tata Motors while renaming a new car model after Zika was notified also as a virus, during last years'.

           
Unfortunately, in India we have yet to realize the sensitivity towards disease naming practices and continue to use even other / friendly countries (or their constituents) name(s) with ease to refer to communicable or dreaded diseases.  For example, we  address medical conditions as Japanese encephalitis, Zika, Ebola, Hong Kong Flu, etc.

 
Keeping in view of these facts, on enquiring from WHO in 2015 about any existing policy on naming the diseases the organization evolved a guideline or model code of conduct on 'does' or 'don'ts' on naming, which is available on their official web site. The guideline is however recommendatory and not binding on member countries. The document is worth endorsable, also as a mark of solidarity for the cause or to dispense with an age old stigmatic practice.  By Satish Joshi



M S mehta

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
रानीखेत को अंग्रेजों ने दिया यह कैसा कलंक

कुदरती रूप से खूबसूरत शहर रानीखेत पर अंग्रेजों ने ऐसा कलंक लगाया जो आजादी के 65 साल बाद भी बरकरार है। दरअसल, ‘रानीखेत’ पक्षियों में खासकर मुर्गियों में वायरस से फैलने वाले रोग का नाम भी है। लेकिन यह बीमारी मोर और बतख में भी फैलती है। इस बीमारी का भारत के शहर से कोई संबंध तक नहीं है, बल्कि अंग्रेजों ने साजिशन इसका नाम न्यू कैसल से बदलकर रानीखेत रख दिया।
Sponsored Links You May Like
Pictures don’t do the Galaxy S8 justice
Samsung
  by Taboola
ग्रेटर नोएडा के कुछ गांवों में दो माह पहले इसी रोग के फैलने की खबर के बाद आरटीआई कार्यकर्ता ने केंद्र सरकार से इसकी जानकारी मांगते हुए इस माहामारी का नाम बदलने की मांग की है। रानीखेत बीमारी का इतिहास ज्यादा पुराना नहीं है। वर्ष 1938 में ब्रिटेन के न्यू कैसल शहर में मुर्गियों पर जानलेवा वायरस ने हमला किया था और इस वायरस का नाम उसी शहर के नाम पर रख दिया गया।

फिर हिंदुस्तान में जब यह रोग आया तो यहां भी उसे न्यू कैसल ही कहा गया, लेकिन आजादी से पहले एक बार रानीखेत में मुर्गियों के न्यू कैसल रोग की चपेट में आने की सूचना पर इसका नाम बदलकर रानीखेत कर दिया। ताकि दुनिया में न्यू कैसल शहर की बदनामी न हो। दुर्भाग्यवश, अब भी हिंदुस्तान में जहां भी यह वायरस फैलता है, वहां इसे ‘रानीखेत’ ही कहा जाता है। उत्तर भारत में इस रोग का फैलाव तो कभी-कभार ही होता है, लेकिन दक्षिण और पश्चिम भारत में कई बार यह रोग मुर्गियों के लिए महामारी सरीखा होता है।

ग्रेटर नोएडा के गांवों में रानीखेत रोग के फैलने की खबर आने के बाद दिल्ली में पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेड और मूल रूप से उत्तराखंड के मासी गांव निवासी सतीश जोशी ने सूचना का अधिकार के तहत भारत सरकार के पशुपालन, डेयरी और मतस्य पालन विभाग से इसके बारे में जानकारी मांगी, लेकिन उन्हें संतोषजनक जवाब नहीं मिला। इस विभाग के लोक सूचना अधिकारी ने अब सह सचिव को जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

सतीश जोशी ने उत्तराखंड में नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट के सामने भी यह मामला रखा है। उनका कहना है कि उत्तराखंड के खूबसूरत स्थान की अस्मिता पर यह बड़ा दाग है। किसी स्थान के नाम से बीमारी का नाम रखना उचित नहीं है। उन्होंने आरटीआई के जरिए प्रश्न पूछने के साथ रानीखेत रोग का नाम बदलने का भी सुझाव दिया है, और मुहिम चलाई है।

पर्यटकों में क्या जाएगा संदेश
रानीखेत सिर्फ प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण ही नहीं बल्कि सेना की कुमाऊं रेजीमेंट का मुख्यालय भी है। इस जगह के दीदार के लिए देश भर से सालभर पर्यटक आते रहते हैं। ऐसे में पक्षियों के रोग का नाम रानीखेत रखने वाले अंग्रेजों की कारस्तानी में अब तक कोई बदलाव नहीं होना आजाद भारत के छोटे और सुंदर शहर का दुर्भाग्य है। ऐसे में पर्यटकों या फिर अन्य लोगों में रानीखेत का क्या संदेश जाएगा, यह समझा जा सकता है।

http://www.amarujala.com/uttarakhand/nainital/britishers-kept-disease-name-on-name-of-ranikhet

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0


इस खूबसूरत शहर के नाम से बीमारी, चौक जाएंगे आप



उत्‍तराखंड के खूबसूरत पर्यटक स्‍थलों में से एक है रानीखेते है। आप हैरान हो जाएंगे कि यह एक बीमारी का नाम भी है। इस बीमारी का नाम बदने की मांग प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंच गई है।
रानीखेत, [जेएनएन]: रानीखेत का नाम पढ़कर आपके जहन में एक पर्यटन स्थल की तस्वीर उभरती होगी। समुद्रतल से करीब 1829 मीटर ऊंचाई पर स्थित यह स्थल प्रकृति की नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर है, लेकिन आपको हैरानी होगी कि रानीखेत मुर्गियों में होने वाली एक बीमारी का नाम भी है। जिसका रानीखेत से कोई लेना देना नहीं है। इस बीमारी का नाम बदलने को लेकर लोग आवाज उठ रही है। शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंच गई है। आइए जानते हैं पूरा मामला।
पर्यटन स्थल रानीखेत
रानीखेत उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में स्थित एक पर्यटक स्थल है। उत्तराखंड पर्यटक विकास निगम के अनुसार रानीखेत तत्कालीन राजा सुधरदेव का अपनी रानी पद्मावती को उपहार में दिए महल व आसपास के खेतों का इलाका था। रानीखेत तकरीबन 27 किलोमीटर में फैला हुआ क्षेत्र है। गौरवपूर्ण इतिहास वाली कुमाऊं रेजिमेंट का मुख्यालय भी यहां स्थित है। इतना ही नहीं देश के नौ छिद्रों वाले गोल्फ मैदानों में से एक यहां स्थित है। भारतीय रेल ने काठगोदाम से जैसलमेर (राजस्थान) तक चलने वाली ट्रेन का नाम भी 'रानीखेत एक्सप्रेस' रखा है।
मुर्गियों में होने वाली बीमारी का नाम भी रानीखेत
रानीखेत पक्षियों में पायी जाने वाली एक संक्रामक बीमारी है। यह रोग कुक्कुट की सबसे गंभीर विषाणु जानित बीमारियों में से एक है। इस रोग के विषाणु पैरामाइक्सों को पहले न्यू कैस्टल डिजीज के नाम से जाना जाता था। ब्रिटिश शासनकाल में अंग्रेज वैज्ञानिकों ने इस बीमारी नाम रानीखेत रख दिया।
यह भी पढ़ें: अब पर्यटक 'राजाजी टाइगर रिजर्व' में ले सकेंगे एलीफेंट सफारी का लुत्फ
पीएमओ से बीमारी का नाम बदलने की मांग
संचार क्रांति के दौर में लोग विभिन्न माध्यमों से इनके खिलाफ अभियान भी चला रहे हैं। पिछले कुछ सालों से पहाड़ के मूल निवासी इसके खिलाफ अभियान चला रह हैं। इनमें से एक हैं दिल्ली निवासी सतीश जोशी। उन्होंने कुछ दिन पूर्व प्रधानमंत्री कार्यालाय (पीएमओ) में इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई। शिकायत में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से कहा कि इस नाम से एक खूबसूरत शहर की छवि धूमिल हो रही है। जोशी का कहना है कि किसी भी बीमारी को क्षेत्र के नाम से नहीं जोड़ा जाना चाहिए और इस बीमारी का नाम बदला जाना चाहिए।
यह भी पढ़ें: कुमाऊं में बनेगा धार्मिक व ऐतिहासिक विरासतों का ईको सर्किट
सोशल साइट पर चला रखा अभियान
सतीश जोशी और उनसे जुड़े दर्जनों सामाजिक कार्यकर्ता अब सोशल साईट पर भी इस बीमारी (रानीखेत) का नाम बदलने को अभियान चला रहे हैं। असल में आजादी के तुरंत बाद भारत सरकार को अंग्रेजों द्वारा स्थापित किए गए आपत्तिजनक नामों को बदलना चाहिए था, लेकिन 70 वर्ष बाद भी इस संबंध में कोई सकारात्क पहल नहीं की गई। उनका कहना है कि रानीखेत एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यहां देश विदेश के सैलानी आते है, लेकिन इस नाम को किसी बीमारी से जोड़ने से विदेशों में क्षेत्र की छवि खराब हो रही है।
यह भी पढ़ें: बर्फ पर बाइक का रोमांच उठाने को चले आइए उत्तरकाशी
बीमारी को स्थान के नाम से जोड़ने की थी परंपरा
ब्रिटिशकाल में किसी बीमारी को स्थान के नाम से जोड़ने की परंपरा थी। यह एक ही मामला नहीं। 2010 में 'न्यू डेल्ही मेटालो बेटा लैटमसे 1' नामक बीमारी के नाम का मुखर विरोध हुआ था। देश की राजधानी के नाम से जुड़ा होने के कारण इस बीमारी का नाम बदलाना पड़ा था। ऐसा ही मामला टाटा मोटर्स की जीका कार मॉडल को लेकर भी सामने आया था। जीका एक बीमारी का नाम भी है। बाद में कंपनी ने अपनी कार का नाम ही बदल दिया था।
यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: जागेश्वर, बैजनाथ व कटारमल में बढ़ेंगी पर्यटन सुविधाएं
डब्ल्यूएचओ ने प्रस्तुत की थी वैकल्पिक नीति
विश्व स्थास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी मानवीय बीमारियों के नामकरण के संबंध में 2015 में वैकल्पिक नीति प्रस्तुत की थी। डब्ल्यूएचओ का कहना था कि यदि किसी मित्र राष्ट को किसी बीमारी के नाम पर नकारात्मक बोध होता है तो उसे बदल देना चाहिए। सतीश जोशी का कहना है कि विदेशी धरती पर पैदा हुई बीमारी का नाम जोड़ना गल है। उन्होंने सरकार व जनप्रतिनिधियों से भी इसके खिलाफ सक्रियता से कार्य करने की अपील की है।
- See more at: http://www.jagran.com/uttarakhand/almora-ranikhet-is-city-and-name-of-disease-15436532.html#sthash.YivENDGy.dpuf

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
A lot in a name: ‘Ranikhet disease’ leaves MLA fuming

“What’s in a name? That which we call a rose by any other name would smell as sweet.” These lines in Shakespeare’s play ‘Romeo and Juliet’ are often used to imply that the names of things do not affect what they really are.

But for Congress MLA Karan Mahara, the name matters. He braces for a fight over naming of a poultry disease after his constituency Ranikhet.

“I personally feel humiliated that the name of a disease is Ranikhet. Being born and brought up in this beautiful environment, I cannot accept that a disease is named after my assembly constituency,” Mahara told Hindustan Times on Saturday. “Britishers tried to humiliate Indians by naming viruses and diseases after our hometowns.”

Ranikhet, a picturesque hill station in Uttarakhand’s Almora district, has immense tourist potential.

Mahara has written to the World Health Organisation (WHO), demanding that the name of the disease be changed. “I will also get into a legal battle, if necessary, for this cause,” he added.

Ranikhet disease, also known as New Castle disease, dates back to 1938 when the strain of avian paramyxovirus was first reported in Newcastle followed by Ranikhet, say experts.

Ads by ZINC













The disease is fatal for birds, chicken and other fowls. It is characterised by respiratory problems, twitching of neck, and paralysis of legs and wings.

“The strain of the virus was found in Newcastle and then Ranikhet. So in Asian countries it is known as Raikhet disease, and in western countries, it is known as Newcastle disease,” said Dr Devki Pilkhwal, a veterinary officer with the Uttarakhand animal husbandry department.

Disagreeing with the notion that the name involves humiliation, she said, “If Ranikhet disease seems offensive, so can be Newcastle disease. It’s all a matter of perception.”

Citing examples of eponymous diseases named after scientists, GK Singh, director of the College of Veterinary and Animal Sciences, a division of GB Pantnagar University, said Parkinson’s disease was named after surgeon and geologist James Parkinson. “Similarly, German psychiatrist Aloysius ‘Alois’ Alzheimer published the first case of dementia and that’s how Alzheimer’s disease is known now,” Singh said.

“The question is why this issue wasn’t raised all these years, even after Uttarakhand’s formation?” Singh asked.

Mahara also has a problem with Chaubatia paste --made out of copper carbonate, lead oxide and oil seed -- used in apple trees to avoid fungus growth. Chaubatia is a settlement in Almora district.
http://www.hindustantimes.com/dehradun/a-lot-in-a-name-ranikhet-disease-leaves-mla-fuming/story-k8mtv6QTM9uX8FNUfpe76N.html

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Tag Archives: Ranikhet disease
Vaccine hope in battle against poultry deaths
Posted on January 25, 2016 by PostNews Network
Manish Kumar Bhubaneswar: A new oral pellet vaccine against the fatal Ranikhet disease has yielded overwhelming results in trials over two years in Khurda district, provided a ray of hope for those battling to avert mass backyard poultry deaths in … Continue reading →

http://www.orissapost.com/tag/ranikhet-disease/

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22