Author Topic: Hindi Movies Shoot In Uttarakhand - उत्तराखंड मे हुयी हिन्दी फिल्मो की शूटिंग  (Read 87441 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
ऋषि कपूर को भायी उत्तराखंड के पहाड़ की वादियां

देहरादून
रुपले पर्दे पर बॉबी, प्रेम रोग और अमर अकबर अंथोनी जैसी यादगार फिल्मों में अभिनय का जादू बिखेरने वाले मशहूर अभिनेता ऋषि कपूर ने राज्य की खूबसूरती को फिल्म निर्माण के लिए बेहद ही उपयुक्त बताया। देहरादून स्थित एफआरआइ में एक फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में दिल्ली से जेट एयरवेज की उड़ान से पूर्वाह्न करीब 11 बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे ऋषि कपूर की एक झलक पाने के लिए प्रशंसकों की दीवानगी देखते ही बन रही थी। प्रशंसकों ने उन्हें पुष्प गुच्छ भेंट किए। इस दौरान ऋषि कपूर ने कहा कि फिल्म निर्माण के लिए उत्तराखंड की प्राकृतिक वादियां और हिल स्टेशन बहुत ही उपयुक्त है। मसूरी, नैनीताल के साथ कई अन्य लोकेशन फिल्म निर्माण अच्छी साबित हो सकती हैं। इसके बाद प्रशंसकों का अभिवादन करते हुए ऋषि कपूर अपने काफिले के साथ देहरादून रवाना हो गए।

http://deepakraithegorkha.blogspot.com

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
करण जौहर का चालक नशे में कार चलाते धरा

फिल्म निर्माता-निर्देशक करण जौहर की यूनिट के चालक को पुलिस ने नशे में वाहन चलाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। वह रात में फिल्म यूनिट के लिए रेस्टोरेंट से खाना लेकर जा रहा था। इस दौरान पुलिस द्वारा शराब पीकर वाहन चलाने व हुड़दंग करने के आरोप में कुल 19 लोग गिरफ्तार किए गए। आरोपियों के छह वाहन सीज किए गए व मुकदमा दर्ज किया गया।

 सोमवार देर रात डालनवाला पुलिस ने राजपुर रोड पर शराबी वाहन चालकों के विरुद्ध औचक चेकिंग अभियान चलाया। इस दौरान बेतरतीब ढंग से और बेलगाम गति से घंटाघर की तरफ से आ रही एक वैन को पुलिस ने रोकना चाहा। चालक ने वाहन दौड़ा दिया। पुलिस ने ओवरटेक कर वाहन रोक लिया।



चेकिंग में चालक बुरी तरह शराब के नशे में धुत मिला। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और वाहन सीज कर दिया। इसी बीच फोन घनघनाने लगे। पड़ताल में पता चला कि आरोपी चालक फिल्म निर्माता-निर्देशक करण जौहर की फिल्म यूनिट का सदस्य है। इन दिनों करण जौहर देहरादून में अपनी फिल्म 'स्टूडेंट ऑफ द इयर' की शूटिंग कर रहे हैं। पुलिस ने आरोपी चालक के विरुद्ध पुलिस-एक्ट में मुकदमा दर्ज कर लिया। हालांकि, देर रात उसे थाने से जमानत पर रिहा कर दिया गया।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_8491086.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
मनी देवो भव: की शूटिंग देखने उमड़े लोग

विकासनगर: अतुल प्रोडेक्शन के बैनर तले बन रही हिंदी फीचर फिल्म 'मनी देवो भव:'  के कुछ सीन रविवार को आसन झील क्षेत्र में फिल्माए गए। बैराज किनारे शूटिंग में हीरो-हीरोइन के साइकिल चलाते सीन फिल्माए गए। फिल्म की शूटिंग देखने को आसपास के लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा।

 
निर्माता-निर्देशक अतुल पांडे व आनंद शिवा कुमारन की टीम ने 'मनी देवो भव:' फिल्म की शूटिंग आसन झील के पास की। फिल्म की पटकथा के तहत हीरो निखिल पांडे व हीरोइन नीरा सरकार ने आसन झील किनारे सड़क पर साइकिलिंगकरते कुछ सीन फिल्माए गए।

सह-निर्माता निर्बल वैद के अनुसार अतुल प्रोडेक्शन की यह पहली हिंदी फीचर फिल्म है। इस फिल्म की पूरी शूटिंग देहरादून, विकासनगर, धनोल्टी, मसूरी समेत आसपास के क्षेत्र में होगी। फिल्म में अस्सी फीसदी कलाकार डीआइटी कॉलेज व देहरादून थियेटर ग्रुप के हैं।

36 दिनों तक चलने वाली इस फिल्म की शूटिंग 6 जुलाई को पूरी होगी। फिल्म की कहानी में हीरो निखिल एक मध्यमवर्गीय परिवार से है, जबकि हीरोइन नीरा करोड़पति परिवार का किरदार निभा रही है। फिल्म में प्रशांत सिसोदिया के गीतों को सुनिधि चौहान व सोनू निगम ने स्वर दिया है।





Source dainik Jagran

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
ऋषि कपूर ने की सरोवरनगरी में शूटिंग

प्रशंसकों के साथ फोटो खिंचवाए, मीडिया से रहे दूर


यशराज बैनर की फिल्म औरंगजेब की शूटिंग के लिए तीन दिनों से थे शहर में

 नैनीताल (एसएनबी)। गुजरे जमाने के फिल्मस्टार ऋषि कपूर बीते तीन दिनों से सरोवरनगरी में हैं। मंगलवार को उन्होंने नैनी सरोवर के पूरे दो चक्कर लगाये, प्रशंसकों के साथ फोटो खिंचवाये, लेकिन मीडियाकर्मियों से दूरी बनाकर रहे। वह सरोवरनगरी की प्राकृतिक सुंदरता से खासे प्रभावित दिखे। मंगलवार को सुबह करीब साढ़े 10 बजे वह होटल से निकले, माल रोड होते हुए तल्लीताल पहुंचे और वहां से सीधे निकलने के बजाय गाड़ी कलेक्ट्रेट-राजभवन रोड की ओर मोड़कर वापस डीएसबी से मस्जिद तिराहे पर उतर गये और फिर नैनी सरोवर का दूसरा चक्कर भी लगाया। गौरतलब है कि ऋषि कपूर इन दिनों फिल्म औरंगजेब की शूटिंग में व्यस्त हैं। यह फिल्म अमिताभ स्टारर त्रिशूल फिल्म की रिमेक बताई जा रही है। इस फिल्म में वह खलनायक की भूमिका में हैं और प्रेम चोपड़ा वाला रोल कर रहे हैं। फिल्म में निर्माता निर्देशक बोनी कपूर के बेटे अर्जुन कपूर और मलयालम अभिनेता पृथ्वीराज नायक तथा पाकिस्तानी अभिनेत्री सलमा आगा की पुत्री साशा आगा उर्फ जारा नायिका की भूमिका में हैं। जैकी श्राफ व अमृता सिंह भी फिल्म में हैं। इधर तीन दिन से फिल्म की शूटिंग सरोवरनगरी के अयारपाटा क्षेत्र में स्थित एक कोठी में चल रही है।


'औरंगजेब' ने मचाई आफत, ताक पर रखे कायदे-कानून

नैनीताल (एसएनबी)। औरंगजेब फिल्म की शूटिंग के लिए तड़के से लोअर माल रोड पर वाहनों का आवागमन बंद कर दिया गया था। फोटो खींचने पर भी पाबंदी थी। यदि किसी ने फोटो खींच ली तो कैमरा छीनकर उसकी फोटो भी डिलीट करवा दी गई। अनेक लोगों से फिल्म यूनिट के सदस्यों की तकरार भी हुई। यही नहीं फिल्म यूनिट के लोगों ने उत्तराखंड हाईकोर्ट के आदेशों से नगर की वाहनों के लिए प्रतिबंधित ठंडी सड़क पर भी कायदे-कानूनों को ताक पर रखकर गाड़ियां दौड़ाई। मंगलवार को औरंगजेब फिल्म की शूटिंग लोअर माल रोड के तल्लीताल सिरे पर चुंगी और डांठ के पास हुई। यहां यूनिट के सदस्यों ने वाहनों पर कैमरा लगाकर लाल व नीली बत्ती लगी गाड़ियों को इस ओर से उस ओर दौड़ाते हुए सीन शूट किये।

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Famous Hindi movies Shoot in uttarakhand hills.

Shahjada (1955), Coffee House (1957), Pardeshi (1957), Haryali or Rasta (1962), Son of Soil (1962), Ganga kee lahre (1964), Ayee Milan kee Bela (1964), Himalay kee Goad Me (1965), Teesari Manjil (1966), Dulhan ek Raat Kee (1966)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0

(1967), Haseena Maan Jaygee (1968), Aadmi or Insan (1969), Holi Aaye re (1970), Sampoorn Teerth Yaatra (1970), Targen 303 (1970), Aan Milo Sajna (1970), Ganga Tera Paani Amrat (1971), Patanga (1971), Aap aaye bahar aayee (1974), Sanyasi (1975)
Veeru Ustaj (1977), Badrinath Dham (1980), Ram Teri Ganga Maili (1985), Farishte (1990), Salami (1993), Himalay kee anchal me (1994), Chardham (1997), Ajun Pandit (1999), Sirf tum (1999), Rahna hai tere dil me 2001
a few seconds ago ·
- Wakt, Gumrah, Kati patang, Bheegi raat, kala baaj, Hukumat, Jaanu, Madhumati, Himalayputra, Vivah, border etc etc.

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,351
  • Karma: +22/-1
Manoj Chandola: Using Hindi Film for Platform Spreading Kumaoni-Garhwali culture
Life Sketches of Kumaon-Garhwali (Uttarakhandi) Film Activists- 21

Review of Development of Garhwali-Kumauni (Uttarakhandi) Films, Music Albums, Documentary films -33
                                                Bhishma Kukreti
[Using Hindi Film for Platform Spreading Kumaoni-Garhwali culture; Using Hindi Film for Platform Spreading Hills of Uttarakhand  culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Nainital culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Ranikhet culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Almora culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Bageshwar culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Champawat culture; Using Hindi Film for Platform Spreading Pithauragarh  culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Chamoli Garhwal culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Rudraprayag culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Pauri Garhwal culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Tihri Garhwal  culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Uttarkashi culture]

    Manoj Chandola hails from Pokhari village, Kanda Patti of Bageshwar , Kumaon. Manoj Chandola was born in 1964. From his student life, Chandola was attached to theatre.
    Manoj is attached to a Hindi film ‘Rajula’ (produced by Priyanka Chandola and Rama Upreti and penned and directed by Nitin Tiwari). Manoj wrote lyrics for the film. The music is composed by Sudhir and Milind for Rajula.
    Film Rajula attempts for understanding the power of ‘Woman in Love’. Ravi a journalist is in search of unique love story for his documentary film and encounters with famous Kaintura folklore Rajula Malu Shahi. The film goes with folk story of Rajula Malu Shahi and modern day life together. The feature film is very challenging from screenplay point of view. The film reveals many complicated human relationship and the realities.
  The film is filmed in Uttarakhand and shows beauty and harmony of Hills of Uttarakhand. There are 25 dialogues in Kumauni and Garhwali in the film.
   When this author talked with Manoj Chandola he revealed that the Rajula team is using Hindi language as platform to show the culture and past of Garhwal-Kumaon (Uttarakhand).
  Rajula got first prize for Best Audience preference Award in International Film festival 2012.
         
(Based on Telephonic Talk had with Manoj Chandola 9811189814)

Reference: Bhishma Kukreti, 2013, उत्तराखंडी फिल्मों का संक्षिप्त इतिहास
Copyright@   Bhishma Kukreti 5/4/2013
Life Sketches of Kumaon-Garhwali (Uttarakhandi) Film Activists to be continued… 22

Review of Garhwali and Kumauni Films, music albums, documentary films (Uttarakhandi) to be continued...34
Notes on Using Hindi Film for Platform Spreading Kumaoni-Garhwali culture; Using Hindi Film for Platform Spreading Hills of Uttarakhand  culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Nainital culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Ranikhet culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Almora culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Bageshwar culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Champawat culture; Using Hindi Film for Platform Spreading Pithauragarh  culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Chamoli Garhwal culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Rudraprayag culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Pauri Garhwal culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Tihri Garhwal  culture; Using Hindi Film for Platform Spreading  Uttarkashi culture to be continued…

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
फिल्म "कांची" की टीम शूटिंग के लिए उत्तराखंड पहुंची

बॉलीवुड की जल्द आने वाली फिल्म "कांची" के निर्देशक सुभाष घई फिल्म की शूटिंग के लिए 150 कलाकारों और तकनीकी सहायकों सहित फूलों की घाटी उत्तराखंड में पहुंच गए हैं।  प्रेम कहानी की फिल्मों के लिए प्रसिद्ध सुभाष घई ने कहा, ""हम 15 दिन की शूटिंग के लिए जा रहे हैं।
 
 फिल्म का 40 प्रतिशत भाग बन चुका है।""  इस फिल्म में बंगाली अभिनेत्री मिष्टी मुख्य भूमिका निभा रही हैं, जिनकी सफलता को लेकर फिल्म निर्माता आश्वस्त हैं।  घई ने कहा, ""मिष्टी प्रतिभावान अभिनेत्रियों में से एक हैं। वह बहुत अच्छी हैं।
 
 "कांची" में आप उनका प्रदर्शन देखकर मेरा विश्वास करेंगे। वह इस साल की सफल अभिनेत्रियों में से एक होंगी।""  सुभाष की इस फिल्म में कार्तिक तिवारी मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। कार्तिक ने इससे पहले फिल्म "प्यार का पंचनामा" और "आकाशवाणी" में भी अपना किरदार निभाया था।  फिल्म "कांची" की कहानी एक 18 वर्षीय पह़ाडी ल़डकी की यह नाट्कीय यात्रा का वर्णन करती है।

khaskhabar.com

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
हिंदी फिल्म - करिये क्षमा (1985) का यह प्रसिद्ध गीत जो यसुदास जी ने गाया है। इस गीत में उत्तराखंड के कुमायू क्षेत्र के देव स्थल, प्राकृतिक सुंदरता इत्यादि के बारे में बहुत ही अच्छी तरह से उल्लेख किया गया है। मैंने पूरे गाने को सुनकर आज बोल को लिपिविधि किया है। उम्मीद है आपको पसंद आएगा। You can listen this song through this video link

ना कोई अकबर हो
ना कोई बाबर हो
न कोई था हुमायु।
सब यहाँ दिल के सहजादे ये है देश कुमॉयू,
हमरो देश है कुमायूँ !

नैनीताल में नैना देवी शिव जागे जागेश्वर
ओहो ओहो शिव जागे जागेश्वर ,,,,
अल्मोड़ा में नंदा देवी संगम में बागेश्वर
ओहो ओहो संगम में बागेश्वर ,
,गंगोली हाट के पाताल भुंवेश्वर
चितई का गोलू देव माना जाए घर घर
पग पग पर यहाँ तीर्थ मंदिर
नित उठ शीश नवाऊ

ना कोई अकबर हो
ना कोई बाबर हो
न कोई था हुमायु।
सब यहाँ दिल के सहजादे ये है देश कुमॉयू,
हमरो देश है कुमायूँ !

कुदरत ने इसे सुंदरता के दिए अनमोल खजाने
तन मन प्राण जुड़ाने वाले झरने ताल सुहाने
देवदार चीड़ बाज, खड़े सिर ताने
नियोली, घुघूती कफू, चिड़ियों के तराने
चैत मॉस खिले फुलवा बुरांश के शोभा देख लुभाऊ।

ना कोई अकबर हो
ना कोई बाबर हो
न कोई था हुमायु।
सब यहाँ दिल के सहजादे ये है देश कुमॉयू,
हमरो देश है कुमायूँ !

लम्बा जीवन देने वाली पर्वत की ये हवाए
प्यारे पयारे सब ये नज़ारे अपनी ओर बुलाये
नदान है जो इन्हे ठुकराये जाये
आओ यही रहकर इन खजानो को बचाये
मुझे को अभिमान कि मै इस माटी का कहलाऊ

ना कोई अकबर हो
ना कोई बाबर हो
न कोई था हुमायु।
सब यहाँ दिल के सहजादे ये है देश कुमॉयू,
हमरो देश है कुमायूँ !

Na Koi Akbar (K. J. Yesudas & Hemlata)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Salute to Tighmanshu Dhuliya - A true uttarahand..
तिग्मांशू धूलिया को उत्तराखंड से लगाव

पहली बार ‌किसी फिल्म में दिखेगी टिहरी झील

फिल्म ‘यारा’ में टिहरी बांध की खूबसूरत झील और टिहरी राजशाही का पुराना किला और महारानी कौशल्य दरबार का टापू भी फिल्म में नजर आएगा। फिल्म के कुछ दृश्यों को झील के आसपास शूट किए गए। शूटिंग देखने के लिए लोगों की खूब भीड़ उमड़ी रही।

उत्तराखंड में खर्च हुए 3 करोड़
इस फिल्म के मुख्य दृश्य उत्तराखंड में फिलमाने की वजह से यहां के लोगों को थोड़े समय के लिए ही सही पर करीब 300 लोगों को रोजगार मिला।

सतीश शर्मा के मुताबिक इस फिल्म में केवल उत्तराखंड में करीब 3 करोड़ रुपए खर्च हुए जो यहां काम करने वाले यूनिट के लोगों और कलाकारों को मिले।

हालांकि डॉयरेक्टर तिग्मांशू धूलिया को इस बात का मलाल जरूर रहा कि उत्तराखंड में कोई फिल्म पॉलिसी न होने की वजह से उन्हें कई दिक्कतों का भी

तिग्मांशू धूलिया को उत्तराखंड से लगाव
एक सवाल के जवाब में तिग्मांशू धूलिया ने माना कि वो टिहरी में शूटिंग केवल इसलिए नहीं करने आए थे कि वो इसकी खूबसूरती से प्रभावित थे।

तिग्मांशू का मानना है कि टिहरी के विस्‍थापितों की टीस ने उन्हें यहां शूटिंग करने के लिए मजबूर किया। उनके उत्तराखंड में शूटिंग को लेकर तिग्मांशू की मां भी बहुत खुश हैं।

फिल्म की कहानी
जय-वीरू जैसे चार दोस्तों की कहानी है ‘यारा’। फिल्म का प्लॉट वर्ष 1970 के दौरान का है, लिहाजा कपड़ों का स्टाइल, मेकअप भी तभी का रखा गया है।

डायरेक्टर तिग्मांशु धूलिया की नई फिल्म को लेकर बेहद उत्साहित एक्टर विद्युत जामवाल बताते हैं, फिल्म के लिए 6 किलो वजन घटाया है। एब्स कम किए और स्टाइल बदलकर बाल भी बढ़ाए हैं।

स्‍थानीय कलाकारों को मिला मौका
जाने माने बॉलीवुड डॉयरेक्टर और उत्तराखंड टूरिज्म के ब्रांड एंबेसडर तिग्मांशू धूलिया उत्तराखंड में अपनी आने वाली फिल्म 'यारा' की शूटिंग के लिए आए थे।

उत्तराखंड में पंद्रह दिनों के शूटिंग शेड्यूल के बाद इस फिल्म के स्‍थानीय प्रोड्यूसर और फिल्म एक्सपर्ट सतीश शर्मा ने इस फिल्म से जुड़ी कुछ रोचक बातें शेयर की हैं।

सतीश शर्मा के मुताबिक इस फिल्म में कम से 50 स्‍थानीय कलाकारों को अच्छे रोल मिले हैं जबकि करीब 250 स्‍थानीय लोग 15 दिनों तक इस यूनिट से किसी न किसी तरह से जुड़े रहे। स्‍थानीय कलाकारों में रमन सिंह रावत, शुभम शर्मा, प्रशांत मिश्रा और अंकुर अरोड़ा की इस फिल्म में महत्वपूर्ण भूमिका है।

http://www.dehradun.amarujala.com/feature/city-news-dun/yaara-film-shooting-in-uttarakhand/?page=0

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22