Author Topic: Review Of Uttarakhand Movies/Albums - उत्तराखंडी फिल्मो की समीक्षा  (Read 13180 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
REVIEW OF UTTARKHANDI MOVIES / ALBUMS

Dosto,

It has been more than 25 years since the Uttarkahandi movies has been started being made. Unfortunately, we could not have our own Film Industry / TV Channel so far. Growth of our film and music has directly affected in want of our Film Policy. Our people are still struggling for this. Most astonishingly, in several part of UK, there is no Cinema Hall.

However, inspite of these hindrances, people have now started making movies at full scale. Several feature and non-feature movies are also being made. Though, there is quality issues in some cases but I am sure coming days. This will start improving.

Under this thread, we will start reviewing of any Uttarkahandi Movie & Music Album with all possible details in order to generate interest of people interest amongst the viewer.

Hope our members will do the review of Movies / Albums with full details here.

Regards,

M S Mehta  

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0


पहली पहली फ़िल्म है यहाँ पर समीक्षा के लिए

मेरो सुहाग ( फीचर फ़िल्म)






मुख्य कलाकार
==========
अतुल साह, भावना भाकुनी, राम रतन काला आदि

निर्देशन - अनिल बिष्ट

गायक :  नरेंदर सिह नेगी, प्रीतम भरतवान, मीना राणा आदि
म्यूजिक : सोनी पमपम

निर्माता :  महेश चंद एव अजय शर्मा !

फ़िल्म :  अतुल साह (बीरू) जो की Bed करके भी बेरोजगार है उसकी मुलाकात गौरा नाम की एक लड़की से बस मे होती है !  अतुल एक गरीब घर का लड़का है जिसके पिता का बचपन में ही स्वर्गवास हो जाता है और परिवार का सारा भार उसके कंदों पर है !

इस पहली मुलाकात के बाद गौरा एव बीरू की दोस्ती प्यार मे बदल जाती है और इनकी मुलाकात कई बार सथानीय मेलो भी होती है ! जिसके फलस्वरूप एक दिन बीरू को एक दोस्त यह बात गौरा के पिताजी के कानो में डाल देता है और यहाँ पर फिर गौरा के पिता जी रिश्ता लेकर बीरू के घर जाते है !

कहानी में मोड़

बीरू के चाचा से पहले के कुछ पारिवारिक मतभेद है और जब बारात की तैयारी होती है उसी दिन बीरू का खून का चचेरा भाई कर देता है !  इस सदमे में गौरा के पिताजी का भी देहांत हो जाता है ! और सारे लोग गौरा को अबसकुन मानने लगते है !

However, due to some conspiracy, the case not registered against the individual. The accused father give bribe to patwari to hush up this case.

गौरा की सपथ

गौरा को इस घटना के बाद दूसरी शादी का प्रस्ताव आता है जिसे वह तुरुन्त ठुकरा देती है और विधाता सौघंध खाती है कि बीरू ही उसका अमर सुहाग है !

बाद में गौरा एक स्कूल चलती है जो बीरू के नाम से होता है ! जिसमे बीरू के भाई को भी नौकरी मिलती है !  बाद मे गौरा को पता चलता है कि बीरू का हतियार उसका चहेरा भाई है तो उसे वह सजा दिलाती है !


Film : This film shows a glimpse of real rural life of Uttarakhand.  Very real acting by Bhawana and Atul. The location of Uttarkashi and other parts of Uttarkahand is well picturized.

Songs of the moive :

   This movie has 3 songs -  Very melodious  song by Negi Ji and well dance direction

Star : **** (Vegy Good)



More about this movie :

http://www.merapahad.com/forum/upcoming-uttarakhandi-moviesalbums/'-8'-leo-viii-co's-releases/45/

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0


  नेगी जी की नयी वीडीय़ो एल्बम "मायाको मुन्डारो" एब बेहतरीन एल्बम है. इस एलबम में गाने इस तरह हैं -

1. भैना रे बजर्या भैना - शहरी जीजा से गांव की साली उत्तराखड के पारम्परिक पकवानों को खाने का आग्रह करती है लेकिन जीजा शहरी होकर बर्गर और पिज्जा खाने का आदी हो चुका है.

2. हर्सू मामा - जौनसारी गाना है, मीररन्जन नेगी जी का अभिनय व नृत्य इस गाने का मुख्य आकर्षण है.

3. दिल्ली वाला दयूरा - दिल्ली से आये हुए पङोसी देवर से एक महिला अपने पति के समाचार जानने को उत्सुक है.

4. हाथन हुसुकि पिलायी - उत्तराखण्ड के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर नेगी जी ने मजाकिये लहजे में गहरी चोट की है. चुनावों में पैसे और शराब बांट कर वोट बटोरने वाले नेताओं को निशाना बनाया गया है. गाने के अन्त में पूर्व मुख्यमन्त्री तिवारी जी व वर्तमान मुख्यमन्त्री खण्डूरी जी के Look-alike दिखाते हुए दोनों की कार्यप्रणाली पर भी नेगी जी ने अपने विचार रखे हैं.

5. चादरी और चादरी - पारम्परिक लोकगीत है, गांव के ग्वालों के साथ एक महिला गाय चराते हुए अपनी चादर सुखाने को डालती है. तेज हवा से सूखती हुई चादर उङ जाती है. इसी पर गाय चराने वाले लङके हंसी-मजाक करते हैं.

6. तिन कपाली पकङी - एक अति-आधुनिक युवती पर आधरित यह गाना पहाङों में तेजी से फैलती जा रही पश्चिमी संस्कृति की और ईशारा करता है.

7. भारी गरी है गै जिन्दगी - महंगाई की चौतरफा मार से त्रस्त एक गरीब आदमी की वेदना को दर्शाता यह गाना उत्तराखण्ड ही नहीं पूरे देश के निम्न मध्यवर्गीय और निर्धन लोगों की सच्ची कहानी कहता हुआ प्रतीत होता है.

8. देवभूमि को नौ बदलि - उत्तराखण्ड सरकार और इसके नेता किस तरह जनता के हितों को अनदेखा करते हुए विकास के नाम पर बङे बांधों को बनाने की अन्धी दौङ मे शामिल होने के लिये होङ कर रहे है? इसी विषय पर आधारित है यह गाना. ऊर्जा प्रदेश बनाने के नाम पर हजारों लोगों को विस्थापन की वेदना झेलनी पङ रही है. लेकिन उत्तराखण्ड की जनता को फिर भी बिना बिजली के अन्धेरे में ही रहना पङ रहा है. फिर क्या फायदा है, ऐसे विकास का?

Star : **** (VG)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0


Maa twei bagaire

Story , screen play & Dialogue-       Shushila Rawat
Lyrics                  -   Manish  Dimri, Shushila Rawat
Music                  -   Virender Negi
Play back Singer            _   Virender Negi, Padmendra Rawat,
                     KUSUM BIST, ANURADHA NIRALA,
                     GEETIKA ASWAL
Make-up               -   sajid khan   
Background music            -   vinod pandey
Camera               -   lucky saini
Assistant director         -    mahavir rawat

Producer               -   Krishna gaur

Director               -   shushila rawat

Artistas

Pitamber               -   khushal singh bist
Savitri               -   shushila rawat
Rakesh               -   rakesh gaur
Jyotsna               -   sangeeta negi
Doctor               -   rajesh malgudi   
Nandu                  -   kishor juglaan
Pushpa               -   kusum bist
Pandit               -   mahbir rawat

Child actors
Shivani               -    shivani gaur
Sapna                  -   sapna gaur
Rakesh (kid)            -   TARUN GAUR
NANDU                  -   SHUBAM GUSSAIN

Supporting actors

Bhaskar dev bounthiyal
Raju
Rajeev
Vimal gaur
Pradeep
Nature


 

Film ‘Maa Twei Bagair’ is based on the real incedents of a family in  Uttrakhand.  The film is based on the life   of a woman- Savitri, who faces all the difficulties of life courageously  with firm belief in Bhagul Nath  (Lord Shiva).  Her four kids, one after the other die in the hostile climate and inadequate  facilities.  Her huband Pitamber is sympathetic to her but her mother in law is not kind enough to understand her  pain. Craving for a grand son, the mother in law tries  to compel Pitamber to have another marriage.   To  get out of  this tight corner, Pitamber decides  to leave it on  fate and calls for a panditji  for consultation.   The  panditji after consulting  the birth charts  (Janm Kundalies) of Pitamber and Savitri  assures them that they will be blessed with two more kids.   The prophecy  turns true.

In the course of time  Savitri gives  birth to her 5th & 6th child.  The kids survive with the grace of  Lord Shiva.  Time passes and elder son Rakesh during his college days falls in love with Jyotsna.  Pitamber can’t tolerate it but after Savitri’s persuasions, he has to yield in and  finally the love wins.   Rakesh emerges as a winner on the  professional front  ,too.  He establishes a  construction company and settles in the city with  his parents, wife, younger brother Nandu and two pretty daughters.    Luck keeps on smiling on the family till  Savitri falls ill.  Rakesh takes her to a Hospital.  Doctor diagnose it as a minor attack but Savitri realizes that her end is near.  Therefore, she wants to pay a list visit to  Lord Bhagul Nath but Rakesh due to his preoccupation   could not fulfill  her last wish and she passes away.  After her death , Rakesh feels guilty for not sparing enough time for his mother and not   fulfilling her last wish.  This feeling grows out of proportion and he falls sick.  His condition deteriorates day by day and  every one  in the family  gets  worried.   Pitamber  asks Jyotsna to remember  Daari Devi.    Savtri  looking  from  her heavenly abode the   condition of  Rakesh  emerges  in  his dream and  helps him to understand the secret of life and overcome his  illness.

by : Dinesh Bilajwan

अरुण/Sajwan

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 69
  • Karma: +2/-0
Thanx Mehta Ji
Ab to ye Picture Jarur dekhni padegi

Parashar Gaur

  • Moderator
  • Sr. Member
  • *****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
one suggestion

I know it easy not is task but.. if u want to make review of a film than u have to have some knowledge person who knows about the depth of film.. he can give his imparsal thoughts on it  . I am not in favour of  any body write an write up about the film

parashar gaur

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0
Sir,

I fully agree with your views. The person who review any film should have depth knowledge into related field.

But our basic idea here is to generate some awareness / interest amonst about people about UK’s movies. What we have observed several times, people even do not know the name of some of popular movies.

By putting videos, photos, and writing story of any movies, people would like to buy them from market. However, we would not write any critic here and would give the cost and story details only. Unfortunately, UK’s people are crying for a regional film industry since long but Govt is mute on this subject.

When we will have a industry some learned people will do the reviewing work of movies like Hindi Cinema.. ha ha.. sir. This seems to be just a dream.

This was the only basic idea behind opening this thread. 


one suggestion

I know it is not is task but.. if u want to make review of a film than u have to have some knowledge person who knows about the depth of film.. he can give his imparsal thoughts on it  . I am not in favour any body write an write up about the film

parashar gaur

Anubhav / अनुभव उपाध्याय

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 2,865
  • Karma: +27/-0
गौरा..
     
     एक राजनैतिक व्यंगात्मक फ़िल्म है. जो गौरा के इर्द गिर्घ घुमती है !  गौरा मेरे पहाड़  की नारी का प्रतीक है राजनेता और राजनीती कितनी नीचे गिर गयी की वो अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी कर सकती है..  गौरा उसी घिनौनी राजनीती का शिकार होती है   !   इस में जोड़े सबी तंत्र  जैसे एम् पी,  विधायक  जो राज सता के प्रतीक   बिलोक का बी डी ओ  व चोकी का पटवारी जो सरकारी तंत्र का प्रतीक है ! पंचम गौं का छोड़ भया नेता जो अपनी स्वार्थ  के लिए लूथी जैसे गरीब को अपना सिकार बना कर उनकी बनी बनाई जिंदगी को उजाड़ देते है !

     लूथी ने बिलाक से बैलो को खरीदने के लिए ६००० रुपये कर्जा लिए थे किसी कारन वो उन रुपये को वापस नही दे पाया ! गौं का पटवारी रबीदत्त विधयाक चट्टान सिंह का साल पंचुमु और बिलाक का बी डी ओ भवानी दत्त तीनो  मिलकर लूथी  की घरवाली गौरा को चौकी में बुलाते है..  उसके साथ घिनौनी  हरकत कर उसे मार कर पेड पर लटका देते है ताकि ये साबित हो जाए की गौरा ने "फांस"  खाई  है ना की उसको किसे ने मार है !

    पुलिस लूथी को सक के बेस पर बहुत तंग करती है. इसी बीच गौं का एक नौजवान  अजय जो गडवाल विश्व विधालय में ला कर रहा है जो छात्र संघ का अध्यक्ष भी है , उसे पत्ता चलता है की असल में दोषी वो नही  बल्कि रबिदुत्त , भवानी दत्त और पंचुमु है वो पुलिश से उनको पकड़ने को कहता है एसा न करने पर गडवाल बंद करने व आन्दोलोँ की धमकी देता है.. इधर एम् पी मथुरा दास और विधायक चटान सिंह में आपस में राजनीतिक रंजिश को लाकर रसा कस्सी चलती रहती है.. दोनों एक दुसरे को नीचा देखने के लिए कोई भी मौका हाथ से नही जाने देना चाहते !

   जब मथुरा दस को पता चलता है की चटान सिंह का साला इस केश में सामिल है बस फिर तो मथुरा दास  चटान की राजनैतिक हत्या करने पर जुगाड़ में अपनी गोटिया बीटाने में लग जाता है !  इधर भवानी दत्त मथुरा दस के पास पहुंचकर अपने को बचाने के लिए कहता है मथुरा दास उसे वो सरकारी गवाह बनाकर चटान को घेरने का पूरा पूरा खेल सुरु कर देता है  चटान चुप चाप सब कुछ देखता रहता है और सोचता है काश मथुरा दास की उस चाल की कोई काट की कोई जुगाड़ उसे मिलजाए की तभी मथुरा दस का लड़का भुवन जो कालेज में पड़ रहा है अब उसकी गर्ल फ्रेंड त्रिप्ती , जो कभी अजय की दोस्त होअया करती थी  वो उसके बचे की माँ बन जाती है  ! भुवन को जब पत्ता चलता है तो वो अपने दोस्त के कहने पर उसके अबोर्सशन के लिए शहर की जानी मानी डाक्टर इंदु जो की चटान सिंह की बहिन है  के पास जता है .. जब उसे पत्ता चलता है की वो मथुरा दस का लड़का है तो उससे सरे पेपर साइन करवाकर कल आने को बोलती है .. वो चट्टान को फ़ोन कर मिलाने को कहती है ! दोनों मिलते है वो उसे सारे प्रूफ़ देती है ! चट्टान सिंघको तो जैसे संजीवनी बूटी मिलगये थी  वो
मथुरा दास पर उलटा वर करता है  साथ में  धमकी देता है.. की अगर वो कल १० बजे तक उसके पास ना आया तो ये ख़बर वो प्रेस को देदेगा.. ! मथुरा दस उसके पास जाता हीवो  उससे कहता है .. तुम अगर प्रेस में जाते भो तो क्या होंगा?  जायद से जयाद,   दो चार दिन की बदनामी लकिन अगर  पंचुमु वाला केश कोर्ट में गया तो तुम्हरी बादाम के साथ साथ पंचुमु को ता जिन्दगी की सजा भी होसती ही ! और साथ में वो एक सनसनी बात खुलासा चटान सिंह से करता है .. उसके पास सरकारी मकानों के निर्माण  के दौरान उसके घपले की फाइल  जो अजय जो गडवाल विश्व विद्यालया के अध्यक्ष पास से उनको वो जब चाये मंगवा कर लाकर पुलिश में देकर तुमको जेल भिजवा सकता है.  चटान को एक सलाह देता है..  राजनीती में यहे अच्हा होंगा की तुम मरी पीठ खुजलाओ और मै तुमाहरी ! दोनों  आपस में समझोता कर लेते है. साथ में अध्यक्ष को उसके अगेंस्ट जाल बुनकर उसको त्रिप्ती की हत्या  जो कुछ दिन पूरब मथुरा के इशारों पर होई थी उसके के जुर्म में फसाने की कोशश करते है  !   म्क़ठुरा दस उससे भी समझोता करवा ललिता है की वो उसके बारे में अपना मुह बंद रखे  वरना टा जिन्दगी जेल में कटेगी ..!
    कुल मिलाकर  .. कहानी गौरा  को लाकर शुरू होती है .. गौर और उसका मुदा कही  खो  सा जाता  है  सामने आता है घिनौनी राजनीती का घिनौना चेहरा !

Dinesh Bijalwan

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 305
  • Karma: +13/-0
Gaura is  a very nice movie from the Standard of Garhwali CD Films.  It has been directed by Sreesh Dobhal a NSD almuni and written by Brij Mohan Sharma, vetaran Garhwali theatre artist. But the central story belongs to Parashar Gaur and Brij Mohan has build up the script on that.   All the actors specially, Roshan Dhasmana as Mathura Das,  Avadh Kishor Patwal as Luthi and  Madan Mohan Duklan as Chattan Singh  were very impressive.   It was also nice to see old high hillar pals - Ramesh Thangriyal and Ravinder Gudiyal.  This film was screened in the 4th Internationational women film festival held at Delhi under the section- Male voice.
After the screening  Director Sreesh Dobhal had a question answer session with the audience.   Despite of the  limitations of low budget films  this film was definitely  different from   the lot we come across daily.     However, I  had pointed out to Sreesh Dobhalji to review the caption "  It should..........   beginning" as I felt   that a  car  is just coming to run over the hero and finish every thing in the last scene.    Thanks to parasarjee, Sreesh Bhai and Brij Mohan... keep on gentlemen...

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,912
  • Karma: +76/-0


घोड़ा दान (उत्तराखंडी हास्य फिल्म)
========================

============

कथा:

==============

यह फिल्म किसी अन्धविश्वास के इर्द गिर्द घूमती जो की हास्य nature की है !  इस फिल्म में मुख्य पात्र के रूप में एक पंडित जी है जो की किसी गाव में एक अध्यापक भी है और साथ में पंडित का काम भी करते है ! पंडित की पत्नी का पहले ही स्वर्ग वास हो जाता है ! लेकिन उसका लड़का हो की मंद बुद्धि का है !  लड़का बहुत करीब २५ साल के आस पास है के लेकिन इसकी हरकते ८-९ साल के बचो की जैसी है !

पंडित इस बच्चे को अपने साथ पंडित का काम सिखाने मे ले जाते है के यह लड़का वहां पर सारे काम उल्टा कर देता है जो की हास्यप्रद भी है !

घोड़ा दान का की साजिस

पंडित को अपने ब्रिति का काम करने के लिए पहाडो के बहुत जगह पैदल चलना होता है जैसे वह अपनी उम्र के अनुसार मुश्किल मे पाता है !

पंडित को ख्याल आता है इसके एक जजमान ठाकुर जिसके पास एक घोड़ा है ! पंडित जी साजिस रचते है और उस जजमान से कहते है की उनकी पिता का उनको सपना आया था और उन्हें स्वर्ग मे काफी पैदल चलना पड़ा है जिसे उनकी आत्मा दुखी है !

इसका निवारण अगर वे अपना घोड़ा पंडित को दान कर दे तो उनकी आत्मा को शांति मिलेगी ! ठाकुर राजी हो जाता है और अपनी पिता के आत्मा के शांति के लिए घोड़ा दान कर देता है

अब क्या पंडित और पंडित का लड़का एक एक कुंतल का वजन घोडे की सवारी करते रहते है और बेचारा घोडे का बुरा हाल ! इनकी साजिस की खबर किसी आदमी को पता होती है और वह एक दिन ठाकुर को बता देते है ! ठाकुर घुसे में अपना घोड़ा पंडित से वापस ले लेता है ! और पंडित की बड़ी बेज्ज्यती होती है !

हास्य
====

फिल्म में कई जगह पर पंडित के कार्य और षडयंत्र हास्यप्रद है और साथ ही उसके मंद बुधि लड़के है !

STAR = ***

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22