Author Topic: Uttarakhandi Films & Music Albums Lyrics - म्यूजिक एल्बम के गीतो के बोल  (Read 8185 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
हे ब्वै नोनु की डेर हाँ ब्वारी से बैर
हे ब्वै नोनु की डेर हाँ ब्वारी से बैर
नाती नतनीयूँ की सैर व्हैग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
बचपन मा चै चै ज्वानी मा सैं सैं
बचपन मा चै चै ज्वानी मा सैं सैं
बुढापा हिंदोला की सैर व्हैग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
खैरी कैमा लगौं रुणा को कख जों
खैरी कैमा लगौं रुणा को कख जों
अब त अँखियों मा आंसूं नि राई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
विं ज्वानी की खुद अब आणि च सूद
विं ज्वानी की खुद अब आणि च सूद
जब कमर कुखा व्हैग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
उत्तराखंडी गीत है
बुढ़ापा ऐग्याई हाय हाय बुढ़ापा ऐग्याई
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
जगदीश बकरोला उत्तराखंड लोक गायक
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा औ
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा औ
जरा छुईं बता लगा जरा छुईं बता लगा
मेरी स्याळी सलोचना ऐ कनु के बैठी जों मि
मेरी स्याळी सलोचना ऐ कनु के बैठी जों मि
की बड़ी देर च हुनि की बड़ी देर च हुनि
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा
बैठी जा पलँग बिछो च चा मेरी चुलुमा धरिच
बैठी जा पलँग बिछो च चा मेरी चुलुमा धरिच
कैकी सरभरी हुँयीच कैकी सरभरी हुँयीच
चा तू पैकी जा
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा
मेरी स्याळी सलोचना ऐ कनु के बैठी जों
हां तू आज चा बणे दे अपर हथळ मि पिले दे
हां तू आज चा बणे दे अपर हथळ मि पिले दे
अब तू छूछी मेरी व्हैजै अब तू छूछी मेरी व्हैजै
सुदी ना ठगे मि
मेरी स्याळी सलोचना ऐ कनु के बैठी जों
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा
भिंडी दिन मा ऐई नैई छूछा कख च यूँ रैई
भिंडी दिन मा ऐई नैई छूछा कख च यूँ रैई
मि मा कुछ बी ना लुकैई मि मा कुछ बी ना लुकैई
सच सच बता
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा औ
मेरी साली सलोचना ऐ कनु के बैठी जों ई
तेरी मेरी सच्ची माया अफिं मिथे खेंच लाया
तेरी मेरी सच्ची माया अफिं मिथे खेंच लाया
जब मि तेरी याद आया जब तेरी मि याद आया
अफिं ऐग्यून मि
मेरी स्याळी सलोचना ऐ कनु के बैठी जों
की बड़ी देर च हुनि की बड़ी देर च हुनि
मेरी स्याळी सलोचना ऐ कनु के बैठी जों
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा औ
जरा छुईं बता लगा जरा छुईं बता लगा
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा
कनु के बैठी जों
घड़ेक बैठी जा
कनु के बैठी जों
घड़ेक बैठी जा
कनु के बैठी जों
घड़ेक बैठी जा
उत्तराखंडी गीत है
म्यारा जीजा राम सिंगा घड़ेक बैठी जा औ
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
रखड़ी तियौहार की सबी भे भेणु ते सुब कामना
भे भेणु को पियार आई रक्षाबंधन
शुभ दिन शुभ घड़ी
आरती अक्षत पिठे लगणु छो
पिठे लगणु छो
भैजी थे मुख धागो च धागो परहणु छो
तुमरी लाडी भूली छो लाडी रों सदानी
लाडी रों सदानी
स्वीकारा मेरी रखड़ी आसीस मंगणु छो ओं
रखड़ीयों को तियौहार आई रक्षाबंधन
रखड़ीयों को तियौहार आई रक्षाबंधन
सो दिन सौ बार आई रक्षाबंधन
भादों को तियौहार आई रक्षाबंधन
सुखी चिरंजीवी रैई मेरी प्यारी राणी भूली
मेरी प्यारी राणी भूली
सौ सौ असीस त्वै कुणी मेरी सबी धणी भूली
कांडों बी नि चुबु तेरी तों हाथ खुटीयूँ मा
तों हाथ खुटीयूँ मा
फूलों मा हैंस्दी खेल्दी रै ई सदानी भूली
भली हो भल्यार आई रक्षाबंधन
भली हो भल्यार आई रक्षाबंधन
सो दिन सौ बार आई रक्षाबंधन
भादों को तियौहार आई रक्षाबंधन
हे मेरी कुल देबि यों नोन्याली रक्षा करें
नोन्याली रक्षा करें
भला बुरा दिनों मा अपड़ो असीस यूँ का मुंडमा धरी
अजर अमर रखी संसार भे भेणु को पियार
भे भेणु को पियार
कुशल मंगल रखें सब थे राजी रखी ईं कुटुंबदरी
देब्तों का प्रताप आई रक्षाबंधन
देब्तों का प्रताप आई रक्षाबंधन
सो दिन सौ बार आई रक्षाबंधन
भादों को तियौहार आई रक्षाबंधन
रक्षाबंधन आई रक्षाबंधन आई
रक्षाबंधन आई रक्षाबंधन आई
भे भेणु को पियार आई रक्षाबंधन
भे भेणु को पियार आई रक्षाबंधन
सो दिन सौ बार आई रक्षाबंधन
भादों को तियौहार आई रक्षाबंधन
उत्तराखंडी गीत है
सौ दिन सौ बार आई रक्षाबंधन
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
छो छम छका छम
चला हिटा चला भैणीयू कौथिक उडीगे सुरकंडा का डंडे झम
छो छम छका छम
चला हिटा चला दग्डियूँ मेळा मा होळी मेरी सौंजड्या बांदे झम
श्री फल लाल चदरी देवी थे चढ़े ओंला
मन कामना पूरी व्है जैलि भगवती मनै औंला
श्री फल लाल चदरी देवी थे चढ़े ओंला
मन कामना पूरी व्है जैलि भगवती मनै औंला
छो छम छका छम
चला हिटा चला भैणीयू कौथिक उडीगे सुरकंडा का डंडे झम
ढोल दामो का मंडाण मा सबी मस्त बण्या हुला
रसीला गीतों का जम्का सबी रंगों मा रंग्या हुला
ढोल दामो का मंडाण मा सबी मस्त बण्या हुला
रसीला गीतों का जम्का सबी रंगों मा रंग्या हुला
छो छम छका छम
चला हिटा चला दग्डियूँ मेळा मा होळी मेरी सौंजड्या बांदे झम
जल बली जलेबी पकोड़ी जी भरी की खे औंला
स्वां स्वां स्वां उंदे ऊब जांदी चरखी मा सैर कै औंला
जल बली जलेबी पकोड़ी जी भरी की खे औंला
स्वां स्वां स्वां उंदे ऊब जांदी चरखी मा सैर कै औंला
छो छम छका छम
चला हिटा चला भैणीयू कौथिक उडीगे सुरकंडा का डंडे झम
बांदों की झलाक देख्ला थौलों मा आईं हुली
हौंसिया रोंसिया जिकोडी धक धक कनि हुली
बंदों की झलाक देख्ला थौलों मा आईं हुली
हौंसिया रोंसिया जिकोडी धक धक कनि हुली
छो छम छका छम
चला हिटा चला दग्डियूँ मेळा मा होळी मेरी सौंजड्या बांदे झम
छो छम छका छम
चला हिटा चला भैणीयू कौथिक उडीगे सुरकंडा का डंडे झम
छो छम छका छम
चला हिटा चला दग्डियूँ मेळा मा होळी मेरी सौंजड्या बांदे झम
छो छम छका छम
चला हिटा चला भैणीयू कौथिक उडीगे सुरकंडा का डंडे झम
स्वां
उत्तराखंडी गीत है
छो छम छका छम
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
जा जा बेटी नगणि बाजार दैजा दीयूल रुपयों हजार

जा जा बेटी नगणि बाजार दैजा दीयूल रुपयों हजार
ना ना बाबा मै नि जांदू नि जांदू बाबा नगणि बाजार

जा जा बेटी नगणि बाजार दैजा दीयूल रुपयों हजार
ना ना बाबा मै नि जांदू नि जांदू बाबा नगणि बाजार

जा जा बेटी नगणि बाजार त्वै जा दीयूल नगणि बाजार
जा जा बेटी नगणि बाजार त्वै जा दीयूल नगणि बाजार

तख जो बाबा क्या खाणु खांदा तख जो बाबा क्या लाणू लांदा
तख जो बाबा क्या खाणु खांदा तख जो बाबा क्या लाणू लांदा

खांदा बेटी फाफरा पोळीलांदा बेटी ऊना की चोळी
खांदा बेटी फाफरा पोळी लांदा बेटी ऊना की चोळी

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू
तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू

जा जा बेटी उंदा गंगाडु त्वै जा दीयूल उंदा गंगाडु
जा जा बेटी उंदा गंगाडु त्वै जा दीयूल उंदा गंगाडु

तख जो बाबा क्या खाणु खांदा तख जो बाबा क्या लाणू लांदा
तख जो बाबा क्या खाणु खांदा तख जो बाबा क्या लाणू लांदा

खांदा बेटी झंगोरू जाणु लांदा बेटी पछनडू लाणू
खांदा बेटी झंगोरू जाणु लांदा बेटी पछनडू लाणू

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू
तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू

जा जा बेटी फन्डेसा लाणा त्वै जा दीयूल फन्डेसा लाणा
जा जा बेटी फन्डेसा लाणा त्वै जा दीयूल फन्डेसा लाणा

तख जो बाबा क्या खाणु खांदा तख जो बाबा क्या लाणू लांदा
तख जो बाबा क्या खाणु खांदा तख जो बाबा क्या लाणू लांदा

लांदा बेटी मडुआ साडी खांदा बेटी कोदा को बाड़ी
लांदा बेटी मडुआ साडी खांदा बेटी कोदा को बाड़ी

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू
तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू
जा जा बेटी नगणि बाजार त्वै जा दीयूल नगणि बाजार

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू
जा जा बेटी उंदा गंगाडु त्वै जा दीयूल उंदा गंगाडु

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू
जा जा बेटी फन्डेसा लाणा त्वै जा दीयूल फन्डेसा लाणा

तख्त बाबा कतै नि जांदू ना ना बाबा जुगै नि जांदू

उत्तराखंडी गीत है
जा जा बेटी नगणि बाजार दैजा दीयूल रुपयों हजार
गायक नरेंद्र सिंग नेगी जी
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
मन भरमैगे मेरी ..सुधबुध ख्वेगे,

मन भरमैगे मेरी ..सुधबुध ख्वेगे,
सुणी तेरी बांसुरी सुर,
सुणी तेरी बांसुरी सुर,
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!

भौंरा-पुतला फूल छोड़ीक,
चखुला अपणा घोर छोड़ीक
रंगमत हवेकी अंगना तेरी धुन सुणीक,
सुरीली धुन सुणीक
गोरू-बखरों की टोली तखी हुण लेगे,
सुणी तेरी बांसुरी सुर
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!

डाली बोटी सबी झुमि झुमिक
धरती पे देखा चुमी चुमीक
मै मौल्यार लेण लगन तेरी धुन सुणीक
रसीली धुन सुणीक
हिंवाली कंठी यों गलण लेगे
हिंवाली कंठी यों गलण लेगे
सुणी तेरी बांसुरी सुर
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!

कोंपल फुटीयू बा मूळ मूळ
हैंसण लगेंन बणि ते फूल
मठ मठ हवा चलण लगे सुणी बांसुरी सुर
सुणी बांसुरी सुर
गढ़ा गदनियों सियू साठ तम हुण लेगे
सुणी तेरी बांसुरी सुर
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!
बण मा सुरे-सुर बांसुरी...बण मा सुरे सुर !!

उत्तराखंडी गीत है
भरमैगे मेरु..सुधबुध ख्वेगे,
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एल्बम : मन भरमैगे
गायिका : लता मंगेशकर

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
लुकी छुपी डरी डरी की

लुकी छुपी डरी डरी की
मन मा सांसों भरी की
लुकी छुपी डरी डरी की
मन मा सांसों भरी की
त्वै मिलण अयों छो
सौ सिंगार करि की
रूण झुण बरखा की झड़ी मा हाय
सौण भादों की कोयेड़ी मा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा

लुकी छुपी डरी डरी की
मन मा सांसों भरी की
लुकी छुपी डरी डरी की
मन मा सांसों भरी की
त्वै मिलण अयों छो
गाद गद्न्या तरी की
रूण झुण बरखा की झड़ी मा हां
सौण भादों की कोयेड़ी मा
ऐजा हे ऐजा हे गैल्या ऐजा
ऐजा हे ऐजा हे गैल्या ऐजा

कुंवारी कुंगली गति मा बरखा धेड़ूँ की मार चा
कुंवारी कुंगली गति मा बरखा धेड़ूँ की मार चा
कनो करी ढकोंण छा ई चदरी की आड़ चा
सजण नि देंद मिलण नि देंद
सजण नि देंद मिलण नि देंद
जल्मों की बैरी बरखा रिसाड चा
ईं बरखा समजै जा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा

गली नि जैली बून्द बरखा पाणी का जो पौडला
गली नि जैली बून्द बरखा पाणी का जो पौडला
खिळयूँ खिळयूँ रूप रंग और बी निखारला
नॉनी सी की गत मा मोतियों का बून्द
नॉनी सी की गत मा मोतियों का बून्द
थो खै निथर जाल तैरो कया बिगाडला
आंखियूँ की तिस बुझै जा
ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा

इकुली बिंदुली सुरमा लाल पौडर बगेगे
इकुली बिंदुली सुरमा लाल पौडर बगेगे
सज धज बिगाड़ी सियूंदी फुंदी रूझैगे
सौत सी निर्भगी ऐ हुली कख भटी
सौत सी निर्भगी ऐ हुली कख भटी
तन तरसे गे जान सुखै गे
ईं बरखा समजै जा
ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा

बरखा त निर्दोष च पर दोष क्वी जरूर चा
बरखा त निर्दोष च पर दोष क्वी जरूर चा
सच पूछ दी मैमा तेरी ज्वानी को कसूर चा
रत्नाली आंखीं घनघोर माया
रत्नाली आंखीं घनघोर माया
ज्वानी का ना समातन
मन चकाचूर चा
मन की बात बिंगे जा
ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा
ऐजा ऐजा रे गैल्या ऐजा

उत्तराखंडी गीत है
लुकी छुपी डरी डरी की
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

गोरी मुखडी मा हो लाल होंटडी जनि आहा
गोरी मुखडी मा हो लाल होंटडी जनि आहा

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

बांज आयारु कु बोण, फुल्यु बुरांस कनु,
हेरी साडी मा बिलोज लाल पर्यु हो जनु.

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

कुत्तर किन्गोड़ कफल, काली हिंसर लरतर
रसुला देवदारु की ठंडी ठंडी हवा सर सर

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

खिली मखमली बूग्यालू , मा सरेल क्या बुन
आंखी रेह्गेनी देखदी, स्वर्ग पहुंचगे मन

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

यन्न मा होलू कन जू मन माया नी जोड़लू
खेल माया कु ना खेल, पछतौन पोडालू

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

केल कुलायु की सेल , तेरा गेल फिर कब,
राजी राली दांडी काँठी, ऋतू बोडली जब,

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

उत्तराखंडी गीत अनुवाद किया है उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
बस चल चित्र के निचे लिखा है
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

गोरी मुखडी मा हो लाल होंटडी जनि आहा
गोरी मुखडी मा हो लाल होंटडी जनि आहा

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

बांज आयारु कु बोण, फुल्यु बुरांस कनु,
हेरी साडी मा बिलोज लाल पर्यु हो जनु.

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

कुत्तर किन्गोड़ कफल, काली हिंसर लरतर
रसुला देवदारु की ठंडी ठंडी हवा सर सर

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

खिली मखमली बूग्यालू , मा सरेल क्या बुन
आंखी रेह्गेनी देखदी, स्वर्ग पहुंचगे मन

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

यन्न मा होलू कन जू मन माया नी जोड़लू
खेल माया कु ना खेल, पछतौन पोडालू

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

केल कुलायु की सेल , तेरा गेल फिर कब,
राजी राली दांडी काँठी, ऋतू बोडली जब,

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,
मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

मालू ग्वीरालू का बीच खीनी सकीनी आहा,,,,

उत्तराखंडी गीत अनुवाद किया है उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
बस चल चित्र के निचे लिखा है
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
नेगी जी:
जै -जै बोला जै भगवोती नंदा
नंदा ऊँचा कैलाश की जै
कोरस:-
जै -जै बोला जै भगवोती नंदा
नंदा ऊँचा कैलाश की जै। ..बोला
नेगी जी:-
जै भोला तेरु चौ सिंग्य खाडू ,
तेरी छतोली रिंगाल की जै..
नेगी जी:-
काली कुलसारी की,देवी उफराई की
कोरस:- नंदा राज राजेश्वरी
नेगी जी:-
बगोली की लाटू हीत - बिनषर की
कोरस:- नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी:-
ईडा बधाण की ,जमन सिंग जडोधा
कासुवा कुवरो की.. .नंदाराजेश्वरी
माता मैणावती ,तेरी पिता जीहेमंत की
नेगी जी,
जै -जै बोला जै भगवोती नंदा
नंदा ऊँचा कैलाश की जै
कोरस:-
जै भोला तेरी चौसिंगा खाडू ,
तेरा छातोदिरिगाल की जै
नेगी जी:
नौटी का नौटीयालू की
सेम कसेमवालो की
कोरस:- नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी
देवाल कदेवालियो की
नौना कनवानियो की
कोरस:- नंदारा जराजेश्वरी
नेगी जी: देवीनन्द केसरीकी '
छ कुडाकश्तियों की
१२ थोकी बामणो की . नंदा राजराजेश्वरीकी .
कसम द्वारतोली,डोली पुरद हिण्डोली की जै जै भोला.....
नेगी जी,
जै भोला जै भगवतीनंदा
नंदा ऊँचा कैलाशकी जै
कोरस:-जै भोला तेरी चौसिंगा खाडू ,
तेरा छतोदी रिगाड़ की जै.. नेगी जी:-
डिमर का डिमरी यु की
मलेथा मलेथियो की ..कोरस:- नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी:
कोटीखंडियो की
नेगी जी:
नैनी का नोंन्यालों की गरोला थाप्लियालो की
चेपुड़ीयों का थोकदारो की
कोरस:- नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी:
ईष्टखंडीयाल ,तेरा नियोतिनिशान की .
जैभोला. . जै भोला जै भगवतीनंदा
नंदाऊँचा कैलाशकी जैकोरस:-जैभोला तेरीचौसिंगा खाट,
तेरा छतोदीरिगाड़ की जै..
नेगी जी:
माता की मलारीकीशैलेश्वर बनौली की..
कोरस : नंदा राजराजेश्वरी...
नेगी जी:
मनोलामनोडीयो कीदेवरडा देवराडी की
कोरस :नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी :
चमोली खंदोला की चौदहा स्याणो देयो सिह भोसिह की
कोरस :नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी:
तांबा का पात्र तेरा रिन्गदा छतर की. जै.. जै बोला
जैभगवतीनंदा
नंदा ऊँचा कैलाश की जै
कोरस:-जैभोला तेरीचौसिंगा खाडू ,तेरा छतोली रिगाल की जैनै
नेगी जी: : नैनीताल अल्मोडा की राणछुला बैजनाथ की
कोरस : नंदाराजराजेश्वरी
नेगी जी
कोट माईडंगोली कीदानपुर सनेती की.
कोरस : नंदा राजराजेश्वरी
नेगी जी:
बदिया बागेश्वर कीमरतोली जोहार की,
अलमिलाम ,मिताय की...नंदाराजेश्वरी.
कोरस:-जै जै बोला
नेगी जी,
ईष्ट देवी नंदा, नंदा कुमोँन गड़वाल की..
नेगी जी,
जै भोला जै भगवती नंदा
नंदा ऊँचा कैलाश की जै
उत्तराखंडी भाषा को बढ़वा देने के लिये
जै -जै बोला जै भगवोती नंदा
चल चित्र के निचे गीत लिखा है बस
उत्तराखंड मनोरंजन तुम थै कंण लग जी?
बालकृष्ण डी ध्यानी
देवभूमि बद्री-केदारनाथ

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22