Author Topic: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi  (Read 20575 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« on: December 23, 2011, 05:43:57 AM »

Dosto,

Our Senior Member Sh Bhishma Kukreti Ji has compiled some exclusive information on "Management Guru" which we are sharing here for your information. Hope would appreciate the write-up by Kukreti Ji.  This is written in Garhwali Language.
Mangament Guru -1
प्रबंध शास्त्री -१

बृहस्पति : महान मैनजमेंट गुरु

बृहस्पति ko  जनम महात्मा बुद्ध से भौत पैल भारत मा ह्व़े छौ.
महाभारत मा इन लिख्युं च बल बृहस्पति न प्रबंध शास्त्र पर एक लाख से बिंडी श्लोक लेखी था. पण य़ी श्लोक कुजाण कख हरची गेन धौ. याने कि बृहस्पति काश्लोकुं तै रटि क च्यालों नि सम्बाळ .बृहस्पति सैत च चार्वक गुरु था. इन बुले जान्द बल बृहस्पति न शासन तंत्र पर अपणा नियम बणे छा अर बृहस्पति का

नियमतर्क शास्त्र सम्मत छया .अर बृहस्पति का शास्त्र को नाम नीति शास्त्र या दंड शास्त्र च!(By Bhishma Kukreti).

M S Mehta
 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #1 on: December 23, 2011, 06:49:22 AM »
Mangament Guru -2
प्रबंध शास्त्री  -2
शुक्र : दुनया का महानतम शासन शास्त्र गुरु (Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers )                   Bhishm Kukreti        
शुक्र का नाम भार्गव ऋषि बि च . ऋषि भार्गव या शुक्र का रच्यां श्लोकुं तैं शुक्र नीति बुले जान्द शुक्रनीति मा राजा , राजकुमार का कर्तव्य अर राजा क वास्ता मानक छन जो आज का हिसाब से कै बि चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर (सी.ई.ओ., C .E .O ) का वास्ता
भौत इ काम की बात छन. क्वी बि चीफ एक्जीक्यूटिव शुक्र नीति तैं पौड़ी लयाल त वै तैं कुछ हौर पढ़णे जरोरात नी च शुक्र नीति मा यूँ विषय  पर नियम छन :
१-राजा या त दिवता जन ह्व़े सकद य राक्छ्ज जन

२-राजा तैं प्रजापालक hon चएंद याने कि आज को हिसाब से सी .ई.ओ. तैं कस्टमर अर एम्लोयीज ओरियेंटेड हूण  चएंद 

३-प्रबंधक का वास्ता उत्तराधिकारी की खोज अर वैकी शिक्षा पर ध्यान  दीण जरुरी च

४- राजा या मुख्य प्रबंधक तैं अधिकार्युं क रैण -सैण (रहण सहन ) को पूरो इंतजाम कर्ण जरोरी च

५- कै बि राज/प्रबंध/ मैनेजमेंट  मा राजा/सी.ई.ओ. ,
राजा/सी.ई.ओ. का दगडया,कोष (रिसोर्स ), सल्ला  दीण वल़ा(सलाहकार ),राष्ट्र /संगठन /कौर्पोरेसन, राष्ट्र /संगठन /कौर्पोरेसन तैं बचाणो ब्युंत (रणनीति )सेना ( कामकाजी )  आदि महत्व पूर्ण छन अर आँख, कंदुड़,मुख, मां, हाथ अर खुट्ट जन होंदन
६-मंत्रपरिषद या सलाकार समीति मा सुपात्र हूण च्यान्दन अर समीति मा  मनोविज्ञान, ऑटो सजेसन ,रण नीति कार, विचारक, जणगरु , कार्य निर्भाहक (एक्जीक्यूसन ), दूत या डिप्लोमसी का ज्ञांता होवन

 
७- मंत्री परिषद्/ टॉप लेवल  मैनेजमेंट मा गुण संपन, चरित्रवान, जणगरु/विद्वान्, बीर , हितैसी वल़ा लोक चएंदन 
८-सी.ई.ओ.या राजा का दायित्व च- योग्यता क हिसाब से अधिकार्युं तैं नियुक्त करे जौ अर वू तैं पूरो निर्देश दिए जाओ जन से वो अफिक काम कना रावन . सी.ई.ओ.या राजा तैं
कर्म्चारियुं भरण पोसन को पूरो इंतजाम करण चएंद . सूचना को
९- कोष मा ब्रिधी अर खर्च को पूरो इंतजाम हूण चएंद (रिसोर्स मैनेजमेंट ) अर सूचना को औण -जौण  को समुचित प्रबंध.

१०- सी.ई.ओ. या राजा तैं  रण नीति को जणगरु हूण चएंद

११- राजा या सी.ई.ओ. तैं अपण अर प्रतियोग्युं क बल का बारा मा हर समौ पूरी जानकारी हूण चएंद

१२- कार्यालय सम्बन्धी जानकारी बि सी.ई.ओ./राजा तैं हूण जरोरी च
               
भीष्म की सल्ला च जब भी क्वी बड़ो पद पर जान्दो वै तैं शुक्र नीति जरोर पढ़ण
चएंद . मीन सी.ई.ओ का वास्ता लिखीं भौत सी किताब बांचिन पण सी. ई.ओ का वास्ता शुक्र नीति से बढ़िया किताब अबी तलक रचे ही नि गे अगर कैन सी.ई.ओ का बान लिखी त जेनेरल मैनेजमेंट पर ल्याख अर रण नीति पर कुछ नि ल्याख अर रण नीति पर लेखी त जनरल मैनेजमेंट पर नि ल्याख पण शुक्र नीति मा सौब बथों पर लिख्युं च

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #2 on: December 23, 2011, 06:51:22 AM »
बकै अग्वाड़ी फड़की -३ मा

Mangament Guru -3
प्रबंध शास्त्री  -३ महाभारत : मैनेजमेंट इनसाईक्लोपीडिया 
Mahabharat : Mangement Encyclopedia
(Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers ) Bhishm kukreti महाभारत मा प्रबंध शास्त्र अर जुद्ध नीति का हरेक सूत्र छन . महाभारत की हरेक कथा मा प्रबंध विज्ञान की सीख  विदुर नीति, पाराशर नीति , श्रीमद भगवद  गीता , या विष्णु शहस्त्र नामा सी.ई.ओ  का वास्तामैनेजमेंट का सूत्रों की व्याख्या करदन विष्णु सह्श्त्र नामा मा विष्णु का जो हजार नाम छन वो सी.ई. ओ. का गुण छन चूंकि महाभारत भौत ही बड़ो च सी.ई.ओ का वास्ता पढ्न मा दिक्कत को काम च पण मैनेजरूं  अर सी .ई ओ सणि विदुर नीति , भगवद गीता अर विष्णु शहस्त्र नामा बंचन ही चयेंद
 
Mangament Guru -4 प्रबंध शास्त्री  -4
श्रीमद भगवद गीता अर अष्टावक्र की महागीता : ऑटो सजेसन को महामंत्र


Shrimad Bhagvad Geetaa : The best books on Auto Sugession
(Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers )                                                                            Bhishm Kukreti हिंदुऊँ न छै भरत का दर्शन शास्त्र , भगवद गीता , अष्टावक्र की महागीता तैं हिंदुऊं धर्म या सनातन पंथ  क शास्त्र बथैक दुनिया का भौत बड़ो नुकसान करी दे.  छै दर्शन शास्त्र,  भगवद गीता या महागीता कै बि रूप मा धार्मिक या पंथ शास्त्र नी छन सबी मनोविज्ञान का बाबत लिख्याँ शास्त्र छन ना कि हिंदु मुतालिक शास्त्र .

  श्रीमद भगवद गीता या अष्टवक्र की महागीता निपत्त मनोविज्ञान की किताब छन यूँ किताबों मा भगवान् या पंथ की क्वी इन बात नी च जो सनातन धर्म से समबन्धित ह्वावन ऑटो सजेसन समझणो बान द्वी किताब भली छन .

  ऑटो सजेसन मैनेजमेंट मा एक भौत ही जरुरी कौंळ च. मैनेजर अपणा  अधिकार्युं तैं ऑटो सजेसन का बल पर काम तैं पुरो करान्दन अर गीता या महागीता ऑटो सजेसन तैं बिन्गान्दन

      भीष्म कुकरेती की सलाह च जब बि मैनेजर गीता या अष्टावक्र की महागीता बांचन त धर्म का हिसाब से कत्तई नि बांचन बलकण मा ऑटो सजेसन का प्वाइंट से बांचन Copyright@ Bhishm Kukreti, Mumbai 2011
 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #3 on: December 23, 2011, 08:52:03 AM »


Mangament Guru -6

प्रबंध शास्त्री -6

   

                             जौन अडायर ; कार्य केन्द्रित नेतृत्व कू  पुरोधा     

                  John Adair : famous for Action Centred Leadership       

   ( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers


and Management Practices )

           

                              Bhishm Kukreti           
 

                जौन अडायर कू जनम १९३४ ब्रिटेन मा मा ह्व़े . वैन अपण शुरुवाती नय्करी मा भौत प्रकार का काम करीन

यन से ही जौन अडायर तैं पर्वाण गिरी (नेतृत्व ) क बारा मा भौत सा अनुभव ह्वेन. जब जौन अडायर

स्कोट गार्ड मा छौ त जौन अरब लीजन मा बेड़ोऊइन  रेजिमेंट मा राई . विश्व विद्यालय मा भर्ती

हों से पैल जौन अडायर ट्राव्लर मा काम कौर अर एक अस्पताल मा अर्दली बि राई

            कैम्ब्रिज विश्व  विद्यालय  मा डिग्री ल़ीणो बाद जौन रौयल मिलट्री अकादमी , सैंडहर्स्ट

मा लेक्चरर बौण . जब जौन अडायर इण्डस्ट्रियल सोसिएटी मा अस्सिस्टेंट दैरेक्त्र थौ

त जौन न Action Centred Leadership  सिद्धांत गढ़ी अर कार्य केन्द्रित सिद्धांत  लोगूँ समणी धार .
 
   १९७८ मा जौन अडायर दुनिया मा  पर्वाण गिरी ( नेतृत्व) अध्ययन   (Leadership Studies) को  पैलो प्रोफेस्सर बौण.

 जौन अडायर को कारण ही आज प्रबंध विज्ञानं मा  पर्वाण गिरी (नेतृत्व) पढाये जांद .

  जौन अडायर का कार्य केन्द्रित नेतृत्व का तीन मुख भाग छन :
 
 १- कार्य तैं पूरो कारो अर कार्य को निर्धारण  साफ़ हूण चएंद . 

२- काम पुरो करणों बान टीम बणाओ अर टीम तैं पूरी तरां संभाल़ो: एक व्यक्ति से क्वी बि काम नि ह्व़े सकुद

कार्य  पूर्ति का वास्ता टीम की जरुरत पड़दी . टीम मा टीम भावना हों जरूरी च. हरेक टीम मेम्बर तै जाणण

चएंद बल टीम मा एक्का (एकता) से हम जितला अर टीम मा ना-एक्का  (मतैक्य) हूण से  हमन फेल हूण .

३- व्यक्ति विकास पर संसाधन लगाओ : टीम व्यक्त्युं से बणद .कूड एक एक पथर से चिणे जांद.
 
इलै हरेक व्यक्ति को विकास जरूरी च. हरेक व्यक्ति तैं भौतिक सुख (ठीक तनख्वा) , मानसिक सुख जन कि

व्यक्ति की विशेष पच्छ्याणक (रेकोग्निसन ), उद्देस्यात्मक जिन्दगी , जिंदगी मा कुछ पाणे  इच्छा,

पद प्राप्ति, दान दीणे इच्छा पूर्ति अर कुछ ल़ीणे इच्छा संगठन से प्राप्त हूण चएंद

                पर्वाणु/नेतृत्व क  ख़ास काज/काम/कार्य 

 

 हरेक संगठन मा परवाणु बान  मुख्य काज/काम इन होंदन:

१- काम को साफ़ साफ़ निर्धारण : टीम अर हरेक व्यक्ति क बान काज /कार्य बिलकुल साफ़ हूण चयान्दन

याने कि काम निर्दिष्ट या उल्लेखित, नापण लैक, पुरु होंण  लैक,   यथार्थ, एंड समौ मा बंध्यू (टाइम बौंड टास्क) होंण चयांद .

२- योजना ; हर काज योजनाबद्ध होण चएंद

३-  काम की जानकारी ; काम काज की जानकारी सबि टीम सदस्यों तैं ठीक से दिए जाण चएंद

४-नियंत्रण अर निरीक्षण  : हरेक काम तबी पुरु होंद जब काम पर ठीक से नियंत्रण ह्वाऊ , नियंत्रण को नियम च

कम से कम संसाधन मा ठीक  काम . यि तबी होंद जब समन्वय पुर्बक नियंत्रण सिस्टम ह्वाऊ

५-  परीक्षा : हरेक काम समौ समौ पर परीक्षा होण  चएंद अर निरीक्षण मा य़ी तत्व होण जरुरी छन

६- प्रेरक शक्ती : हरेक काम मा प्रेरक शक्ति हों जरुरी च .  सन्गठन मा प्रेरक शक्ति ल़ाणो/आणो वास्ता -

नेता तैं अफिक प्रेरित होंण  चएंद, उन तैं संगठन मा ल्याओ जो प्रेरित छन, हरेक व्यक्ति तैं व्यक्ति मानो याने

हरेक व्यक्ति महत्वपूर्ण च, काम हूण लैक अर कुछ ललकार लैक काम हूण चएंद, काम काज्यूँ  तैं सफलता/ विकास की जानकारी

दीणो इंतजाम होण  चएंद , सफलता/विकास प्रेरणास्पद होंद, काम काज्यूँ इनाम आदि मिलण चएंद अर काम काज्युं तैं

पच्छ्याणक मिलण  चएंद.

७- संगठन शक्ति : पर्वाण/नेता/नेतृत्व  मा संगठन बणोण अर संगठन चलाणे सक्यात /शक्ति होंण  चएंद

८- पर्वाण उदाहरण जरोर प्रस्तुत करदो

                  पर्वाण /नेता तैं समौ  पर काज पूरो करणे नीयत   
 
              जौन अडयार न पर्वाण  का बान कुछ नियम काज समौ पर पुरा करणो बान बणेन :

१- समौ पर काज पुरो करणो बान तत्पर रौ

२- लम्बा समौ क बान गोल/साफ़ उद्देश्य  बणाण

३- मध्य क्रम का गोल बि बणाण जरोरी च

४- दिन की योजना बणये जौ अर वां पर पूरी तरां से काम करण चएंद

५- जब बढिया समौ होऊ त भौत काम कारो म

६- काम तैं संगठित ह्वेक कारो

७- बैठक /मीटिंग को ठीक से प्रबंधन जरुरी च

८- काम दुसरो तैं दीण जरोरी च अर इन काम प्रभावी ढंग से हूण चएंद

९- टाइम पर काम पूरो करणे आदत अर चाहत हूण जरोरी च

१०- स्वास्थ्य पैलो बकै काम पैथर 

          जौन अडायर क लिखीं किताब

 जौन अडायर की किताबु ब्यौरा इन च :

1- Action Centered Leadership 1984

2- The Skills of Leadership, 1984

3- Effective Motivation , 1987

4- Understanding Motivation , 1990

5- Hand book of Management and Leadership, 1998

 

 बकै फड़की 6 मा बाँचो.....

To be continued on part 6.....
 


Copyright @ Bhishm Kukreti

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #4 on: December 23, 2011, 09:32:42 PM »
Management Guru -7

प्रबंध गुरु -७


                    इगौर अनसौफ्फ़ : संस्थान मा रणनीति को पुरोधा         

             

                      Igor Ansoff : Famous for Corporate Strategy


                                                    Bhishm Kukreti
                 
इगोर अन्सौफ्फ़ पैलू प्रबंध गुरु छौ जैन  दुनया तै  संस्थानु मा रण नीति कि जरोरात का बारा मा चितळ/सचेत  कार .

 इगोर अन्सौफ्फ़ को जनम रूस मा १९१८ मा ह्व़े छौ अर फिर परिवार सैत  वो १९३६ मा अमेरिका ऐ गे चौ. अमेरिका मा इगोर न

गणित मा पी एच डी कार . अन्सोफ्फ़ न पैली रैंड संस्थान मा काम करी अर फिर १९५० मा लौक्कहीड   एयर क्राफ्ट कौर्परेसन 

मा चले गे जख इगोर वैस प्रेजिडेंट बौण.

    १९६३ मा इगौर कर्निएज विश्व विद्यालय  मा प्रोफेसर बौण .अर फिर अमेरिका अर यूरोप का कथगा इ विश्व विद्यालायुं मा गौन्त्या

प्रोफ़ेसर ( विजिटिंग प्रोफ़ेसर )  बौण .

          जब तलक १९६८ मा इगौर की किताब ' कोरपोरेट स्ट्रेटिजी ' नि छापे छे , तैबारी तलक संस्थानु मा फैदमंद भविष्य क वास्ता योजना , रण नीति

क बारा मा क्वी घड्यान्द(सोचना  )  इ नि छौ . 'कोरपोरेट स्ट्रेटिजी' किताब छपणो परांत   संस्थानु मालिकुं अर बड़ा मैनेजरूं  क बिंगण/समज  मा आई

बल हरेक संस्थान का वास्ता एक सै रण नीति चएंद 


              अगौर का 'संस्थान- रणनीति ' का ख़ास नियम

१- वस्तुओं क बाज़ार मा कथगा स्कोप च ? संस्थान तै पता होण चएंद कि वास्तव मा संस्थान कै ब्योपार मा च अर वै ब्यापार अर

वस्तुओ का बाज़ार मा कथगा अवसर, कथगा क्षेत्र, कथगा विस्तार ह्व़े सकुद .

२- विकास /बढ़ोतरी का बारा मा चेतना अर अगने बढ़ोतरी का अवसर क्या छन ?

३- प्रतिस्पर्धा का लाभदाई गुण प्राप्त करण : हेरेक कम्पनी मा कुछ खासियत हुंदी जवा खासियत प्रतिस्पर्धा मा हौरी प्रतियोग्युं से

बढिया हुंद. कंपनी तैं वै प्रतिस्पर्धी गुण को ख़ास विकास करण चएंद ( Taking Competative Advantage)

4- समन्वय : सब्बी जांणदन कि कै बि संस्थान मा २ + २ = ४ ना बल्कण   मा चार से जादा हुंद (The whole is greater than sum of parts)

समग्र  हिस्सौं जोड़ से जादा ही होंद . इन मा संस्थान मा हरेक विभाग अर व्यक्ति का हौरी विभाग अर व्यक्त्युं से समन्वय जरुरी च जां से समग्र

हिसौं को जोड़ से जादा ह्व़े जाव.

                        बदलाव से कठिनाई

बदलौ त एक सत्य च अर बदलीन परिस्थिति मा संस्थान मा बदलाव जरुरी च . पण हरेक संसथान मा बदलाव अलग ढंग से, अपण माफिक  ही होण चएंद

१- कुछ बदलाव इन होंदन जु धीमी  गति से हुन्दन अर पैलि पछ्याँणन मा ऐ जान्दन

२- विस्तार ; कुछ वस्तु इन होंदन जौंक बाज़ार स्थिर होंद अर बढ़ोतरी धीरे धीरे हुंद

३- ग्राहकुं मानसिकता मा फटाफट बदलाव औण  वस्तु या इंडस्ट्री मा फटाफट बदलाव आन्दन

४- वस्तुं मांग ख़तम : कुछ कारणों से वस्तु मांग  या इंडस्ट्री ख़तम ह्व़े जांद अर संस्थान अंदाज लगै ल्युन्द

५- अचाणचको बदलाव : कै बि कारणु से अचाणचक बदलाव आन्द अर इन बदलाव क बारा मा संस्थानु तै अंथाजण /अंदाज करण मुस्किल ही होंद.


The Important works of Igor Ansoff

1- Article ' Strategies for Diversification , 1957

Books किताब


1- Corporate Strategy' 1968

2- From Strategic Planning to Strategic Management 1975 (coo-authorship)

3-Strategic Managemnt 1979

4-Implanting Strategic management 1984



To be Continued on Part 8th

बकै फड़कि -८ मा

Copyright @ Bhishm Kukreti 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #5 on: December 24, 2011, 12:04:36 AM »
Mangament Guru -8

प्रबंध शास्त्री -8
 
 

                                    आर. मेरेडिथ बेलबिन  : टीम कर्तव्य सिधान्तुं बुबा जी                                

 

                                      R. Meredith Belbin : Father of Team Role Theory

 

 ( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers and

Management Practices, Management Gurus, Marketing Management Guru, Qaulity Mangement Guru, Operation Managemnt Guru  )   

                   

                               Bhishm Kukreti

  आर.मेरेडिथ बेलबिन तैं टीम कर्तव्युं  सिधान्तुं बुबा जी बुले जांद , मेरेडिथ बेलबिन  कू जलम सन १९२६ मा ह्व़े छौ. मेरेडिथ मैनेजमेंट स्कूलूं मा

पढान्दू   छौ . जब कैम्ब्रिज मा औद्योगिक प्रसिक्षण अन्वेषण मा मेरेडिथ टीम प्रबंधन पर अन्वेषण करणों छौ त वै तैं

कथगा इ नई बात मालुम ह्वेन अर मेरेडिथ न टीम कर्तव्युं  पर आठ सिद्धांत की खोज कार जु पत्थर नौ सिद्धांत ह्वेन

 

टीम की जरोरात : 

 

१- टीम मा फ्लेक्जिविटी/लचीलापन  या लोच हूण चएंद

२- टीम, संगठन या  अर संस्थान मा सांस्कृतिक जुगत/युक्ति या सांस्कृतिक बदलाव तैं पाणो  वास्ता सहकार हूण जरोरी च

३- संगठन, टीम या संस्थान मा समस्या-निदान ,सुधारवादी विचारधारा अर समस्या-निदान व सुधारुं बान  पर्याप्त सुविधा बि हूण चएंद .

दगड मा प्रक्षेपण योजना बि हूण चएंद

४- हरेक व्यक्ति क प्रतिभा की पछ्याणक अर प्रतिभाऊं क समुचित प्रयोग बि हूण जरोरी च

 

बेलबिन का कुछ और सिद्धांत :

बेलबिन न पैथर (१९९० मा) टीम मनेजमेंट का बारा मा कुछ हौरी सिद्धांत बे देन

१- संस्थान मा

२- काम काज मा लचीलापन तैं प्रोत्साहन

३- टीम भावना तैं प्रोत्साहन अर टीम भावना की प्रगति वास्ता प्रतिबधता

४- सांस्कृतिक परिवर्तन तैं टेक/समर्थन

५- काम अर कामगत्यूँ  का बान सुधार का वास्ता जरोरी उपकरण अर सुविधा

आर. मेरेडिथ बेलबिन की टीम मनेजमेंट किताब का वजै से कार्पोरेट  जगत मा टीम भावना की बात भौत जोरू से अबी तलक चलदी


 Books of R .Meredith Belbin

 1- Management Teams: Why They Succeed and Fail, 1981

2- Team Role at Work , 1993

3- The Coming Shape of Organization, 1996

4- changing the Way We work, 1997

 


To be Continued on Part 9th

बकै फड़कि -9 मा

Copyright @ Bhishm Kukreti

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #6 on: December 24, 2011, 02:38:38 AM »


Mangament Guru -9

प्रबंध शास्त्री -

                                              वारेन बेन्निस : नेतृत्व गुरु     

                              Warren Benis : The  Leadership  Guru                                     

 ( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers and

Management Practices, Management Gurus, Marketing management Guru, Qaulity Mangement Guru,

Operation Managemnt Guru )



                        Bhishm Kukreti
             
          वारेन बेन्निस को पैलो लेख  १९५९ मा छपी छौ अर १९८५ मा 'लीडर्स'  किताब छपणो परांत प्रबंध शाश्त्र्युं न बेन्निस तैं नेतृत्व गुरु क पदवी दे .
 
वारेन बेन्निस को जनम न्यू यौर्क मा सन १९२५ मा ह्व़े छौ. वाकी पढे लिखै एम्.आई.टी . संस्थान मा ह्व़े. बेन्निस डगलस मक्ग्रिगोर क

प्रेरणा सिद्धांत वाई  (Theory  Y ) को बड़ो चेहता थौ अर बेन्निस क डगलस मक्गिगोर का दगड बड़ा भला सम्बन्ध ह्वेन . बेन्निस न कथगा इ
 
कालेजुं  मा पढ़ाई  . १९७१ मा वारेन बेन्निस तैं सिनसिनाटी विश्व विद्यालय को अध्यक्ष बणयेगे . वानर भविष्य वक्ता बि च अर वै तैं संस्थानु, व्यौपार, राजनीति

क बारा मा भविष्य बांचणे ( Futurologist ) महारथ हासिल च. 
 
 

               निपुण नेताओं या सक्षम नेतृत्व का ख़ास गुण

वारेन न नानुस का दगड निपुण नेता या सक्षम नेतृत्व का ख़ास गुण इनब तैन  :

१- ध्यान : निपुण नेता मा दूरदृष्टि से ध्यान देने क्षमता होंद . अर एक खास अजेंडा हुंद . असली नेता अपण गोल का प्रति प्रतिबद्ध  होंद

अर दूसरों पर पूरो ध्यान /टक्क दींदु

२- सूचना शास्त्री  : निपुण नेता कम्म्युनीकेट/सूचना आदान प्रदान   करण मा विशेषग्य  हुंद.सक्षम नेता अपण दूरदृष्टी  लोगूँ

तक पौन्चांदु अर लोकु तैं काम करणों तैयार बि करदो .सफल नेता  बुल या लिखन मा उस्ताद हुंद जां से लोक वैकी बात भली तरां से

बींगी/समज जावन .

३- भरोसामंद  : सक्षम नेता हौरुं पर भरोसा करद अर लोक नेता पर भर्वस करदन  . नेता की विशेष साख हुंदी जां से लोग नेता पर विश्वास करदन .

४- सकारात्मक सोच : सक्षम नेता सकारात्मक सोच का बदौलत , इमानदार सोच का बदौलत , हौर्युं तैं अपण बश मा करद

५- निपुण नेता मा जु जन च वै तैं उन्नी स्वीकार करणे ताकत अर गुण  हूंद

६- सक्षम नेता वर्तमान मा जिंदु रौंद

७- निपुण नेता हरेक तैं प्रयाप्त आदर दींदु अर हौर्युं पर ध्यान दीणे कौंळ जाणदो च .

८- जख जोखिम बि ह्वाऊ तबी बि सफल नेता हौरुं पर भर्वस/विश्वास  करदो

९- काबिल नेता लोकुं तैं सही  पछ्याणक देन्दु

१०- योग्य नेता दूसरों तैं काम करणो रचनात्मक तरां से करणो छूट बि दींदु

           आधिकारिक नेता /नेतृत्व ( इम्पावर्ड लीडर )

इम्पावर्ड नेता इन हूंद :

१- इम्पावर्ड नेता मा कुछ बिगळयूँ /अलग/विशेष करणे हॉउस/राड़/हवस/प्रबल इच्छा होंद

२-इम्पावर्ड नेता मा हमेश सक्षमता सिखणे अर सक्षमता मा सुधार ल़ाणे गुब होंदन

३- सर्वजन उद्देश्य पूर्ति मा दूसरों तैं दगड मा लीं की प्रबल क्षमता इम्पावर्ड नेता मा होंद

४- रौंस : : इम्पावर्ड नेता   तैं काम करण मा Rouns  /मजा/आनन्द आन्द .

                रण नीतिपूरक व्याख्या 

 
इम्पावर्ड नेता बणणो बान रण नीति बि जरुरी च :

१- एक प्रबल कार्यकारी उद्देश्य और भविष्य

२- साधनु का  सामाजिक उपयोग  हूण चयेंद

३- इन काम करे जांद कि भैर  संस्थान या संगठन की बडे या प्रशंसा  होंद 

४- संगठन या संस्थान मा सिखणे आदत डाळण

                      पांच मिथ

              साधरणतया नेतृत्व या नेता क बारा मा लोगूँ राय कुछ हौरी छे अर वारेन बेन्निस न ये मिथ तोड़ीन   :

१- लोग बुल्दन बल नेतौं मा अपवादी गुण होंदन पण बेन्निस क बुलण च बल नही!  नेता मा अपवादी गुण नि होंदन य़ी गुण तैयार करे जान्दन

२-- लोग बुल्दन बल नेता जनम जात नेता हूंद पण बेन्निस बोल्दो बल ना नेता तैयार करे जान्दन

३--  लोग बुल्दन बल नेता मा करिश्मा का गुण होंण  जरुरी छन , बेन्निस बुल्दो बल सबी एक्सनी ही होंदन .  नेता क प्रसिद्ध होण पर इ  करिश्मा आन्द

४- लोग बुल्दन बल नेता टॉप पोस्ट मा ही खै सकदो पण बेन्निस को बुलण  च बल नै !इम्पावर्ड नेता   सबी जगा प्रभावी ह्व़े सकद

५- लोग बुल्दन बल नेता नियंत्रण करदो, नेता निर्देस दींदु अर चतुराई को काम करद पण बेन्निस को बुलंण  च बल इम्पावर्ड नेता स्ब्ब्युं क ऊर्जा तैं गोल का उपर

केन्द्रित करदो

 Books by  Management/leadership Guru Warren Bennis :

1- The Unconscious Conspiracy : Why Leaders can't Lead 1976

2- Leaders: Stratgies for Taking Charge (with Nanus), 1985

3- An Invented Life : Reflection on Leadership and Change, 1993

4- Organizing Geius : Secrets of Creative Collaboration , 1998

5- Manging People is Like Harding Cat , 1998

   
Management Guru Series to be Continued on Part 10th

 

  हैंको   Management Guru का बारा मा बकै फड़कि -१० मा  बाँचो

 

Copyright @ Bhishm Kukreti
                 

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #7 on: December 24, 2011, 08:33:42 AM »
Mangament Guru -10

प्रबंध शास्त्री - 10

                                  केन्नेथ ब्लान्कार्ड  : वन मिनट मैनेजर कू लिख्वार        

                    Kenneth Blachard : Famous for book- The One Minute manager

                                 

( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers and Management Practices,
Management Gurus, Marketing management Guru, Qaulity Mangement Guru, Operation Managemnt Guru )


                                      Bhishm Kukreti



                      वन मिनट  मैनेजर को लिख्वार केन्नेथ ब्लान्कार्ड k  अकादामीय प्रबंध शास्त्री अबी बि काट करदन कि वैन इन्नी चालू किताब लेखी.

पण यो बि एक सच छ.बल अबि तलक  'वन मिनट मैनेजर' की सहत्तर लाख कापी बिकी गेन अर पच्चीस से जादा भाषाओं मा यीं किताब को अनुवाद ह्व़े 

          केन्नेथ ब्लानकार्ड को जनम १९३९ मा ह्व़े अर विश्व विद्यालायुं मा प्रोफ़ेसर राई . केन्नेथ ब्लान्कोर्ड  ण नेतृत्व, प्रेरणा , अर बदलाव प्रबंध पर

अन्वेषण कौर अर किताब लेखिन .

 वन मिनट मैनेजर क कुछ काम :


१- गोल बणाण 

२- लोकुं बडे करण खासकर जु नजीक च

३- साफ़ बिंगण/समजण वळी   बात करण  अर विशेष पर इ जादा  टक्क /ध्यान

४- भावनाओं तैं आपस मा बंटण

५- जरुरी हो त वै काम तैं टळण नि चयेंद बलकण मा वैबरी करण चयेंद

५- कैकी गलती ह्वाऊ त बिलकुल सै तरां से सही बात बथाओ

६- लोकुं भलो गुण का बारा मा बि बात करण चएंद

७- काम की शुरुवात अर काम सक्रियता मनेजर को , नेता क काम च

८- सै आचरण

९- मनेजर काम पूर होण पर भावनाऊँ  तैं एक हैंको दगड बंटद, बडे लैक काम की बड़े करद , टिक्वा'/समर्थन  दींदु 

              कीमत पर पांच बात


१- मुख्य काम क्षेत्र की सही व्याख्या

२- डाटा को सही तरां से संकलन अर बढ़ोतरी को समौ पर मूल्याँकन   

३- लोकुं तैं काम की योजना, शुरुवात, अर मूल्यांकन मा शामिल करण

४- परिशिक्ष्ण पर जोर दीण

५- मूल्याँकन (बडे, आलोचना अर परिशिक्ष्ण )

 

 Books by Kenneth Blanchord

 1- The One Minte Manager, 1983

2-Putting One Minute Manager to work (with Lorber0, 1985

3- Leadeshipa nad One Minute Manager (Coauthored ), 1986

4- The One Minute Manager Meets the Monkey, 1990 (co-author)

5- The one Minute manager Builds High Performing teams (Co-author) , 1993


Management Guru Series to be Continued on Part 11th



हैंको Management Guru का बारा मा  फड़कि -11 मा बाँचो



Copyright @ Bhishm Kukreti

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #8 on: December 25, 2011, 12:40:10 AM »

Mangament Guru -11

प्रबंध शास्त्री - 11

                  डेल कार्नेजी : 'हाउ टु  विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुंस पीपल' को  प्रसिद्ध लिखवार   

           
              Dale Carnegie : Famous For 'How To Win Friends and Influence People                   



( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers and

Management Practices, Management Gurus, Marketing management Guru, Qaulity Mangement Guru,

Operation Managemnt Guru )


                                 Bhishm Kukreti

              डेल कार्नेजी (१८८८-१९५५ ) क जनम एक गरीब किसाण को ड्यर ह्व़े . अपण पच्छ्याणक बणोणे वास्ता कार्नेजी वाद विवाद

प्रतियोग्यताऊं हिस्सा लींद छ्याये अर पैथ्रां वो सब्बी प्रतियोग्य्तौ तैं जितत गे  . पैल कार्नेजी सेल्स मैन, फिर वैन अपण बुजिनेस शुरू कार पण

दुयूं मा कामयाबी हासिल नि ह्व़े. फिर वैन कमीशन मा एक कोचिंग क्लास मा 'पब्लिक स्पीकिंग कौर्स' पढ़ाण शुरू कार. पैसा ट जादा नि मिलेन

पण ये क्षेत्र मा वैको नाम ह्व़े गे . अर फिर वैन 'पुब्लिक स्पीकिंग कोर्से 'से नाम अर डाम कमें. १९३६ मा डेल कार्नेजी की किताब 'हौ  टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुएंस पीपल'

क्या छप कि कार्नेजी को नाम दुनिया प्रसिद्ध हूण लगी गे . तब बिटेन आज तक    'हौ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुएंस पीपल' किताब कि लाखों कापी बिकी गेन.

आज बि लोग  'हौ टु विन फ्रेंड्स एंड इन्फ्लुएंस पीपल' तैं टक्क लगे क बांचदन .


                                   दगड्या कन बणोण अर लोखुं पर कने असर/प्रभाव  डालण का नियम



अ- छै (६) नियम जां से लोक तुम तै पसंद कारन



१- इन दिखाओ बल तुम हैंक मा रूचि दिखाणो छवां /मतलब हैंक  तैं लगण चएंद बल तुम वैकी फिकर करणा  छवां 

२- खुश मिजाजी , सकारात्मक अर ख़ुशी से बचळयाओ या सकारात्मक , खुस अर खुश मिजाज राओ

३- लोगूँ तैं ऊंक नाम से भट्याओ/ पुकारो

४- लोगूँ बात जादा सुणो अर सुणणे आदत डाल़ो

५- लोगूँ (जु समणि च)  बारा मा जादा ब्वालो अपण बारा मा कम से कम बवालों

६- दूसरों तैं सही महत्व द्याओ अर समणि वाळ तैं लग ण चएंद तुम वै तैं महत्व दीणा छ्न्वां


 ब- बारा (१२) नियम कि लोग तुमर तरां घड्याण/सुचण/सोचना लगी जान्दन:

१- फोकट/अनावश्यक क घपरोळ /विवाद से बचो

२- दुसरो विचार/धारणा टक्क लगैक सुणो अर दुसर तैं इन कबि बि नि ब्वालो  कि वो गलत च

३- गलती ह्वाऊ त अपण गलती तैं स्वीकार कारो

४- दगड्या पन /दोस्तानापन दिखाओ . हैंक  तैं लगण चएंद बल तुम वैको दगड्या/दोस्त छवां   

५- इन बवालों कि दुसर तुमर दगड ह्व़े जाओ

६- हैंक  मनिख/मनिख्याणि  तैं जादा बुलणो मौक़ा द्याओ अर अफिक कम कम से कम ब्वालो

७- हैंक तैं लगण चएंद ई विचार वैका छन

8- दुसर क विचारूं तैं महत्व द्याओ

9- दुसरो विचार अर इच्छा कि  पूरी कदर कारो

१० - अप ण विचारूं मा कुछ ड्रामा डाल़ो  मतबल विचारूं मा कुछ खौंळयाण/आश्चर्य वळी बात हूण चयेंद

११ - दूसरों भली आदत को बारा मा ब्वालो

१२-  आखिरैं,  बात मा कुछ चैल्लेंज /ललकार हूणि चएंद

                   लोगूँ मा बदलाव लाणो ९ नियम



१- लोगूँ सै बडे जरुर कारो अर लोगूँ कि सराहना करो

२- लोगूँ की गलती पर ध्यान देर से लाओ याने गलती क बारा मा पैल नी ब्वालो 

३- पैल अपणी गलती बथाओ फिर दूसरों गलती क बारा मा ब्वालो

४- सीधा निर्देस/ऑडर नी द्याओ बलकण पैल सवाल कारो

५- लोगूँ बेज्जती नी कारो बलकण मा दुसर तैं गर्व महसूस  करण द्याओ

६- दूसरों तैं उत्साहित कारो , उलार द्याओ . सुधार हूणो बाद  लोगूँ क सही मा बड़ें कारो

७- लोगूँ तैं आदर द्याओ

८- लोगूँ तैं सांत्वना द्याओ, लोगूँ तैं प्रोत्साहन द्याओ  कि काम भौत सरल च .

९- लोगूँ तैं इन लगण चएंद कि यो ऊंको ही काम च अर लोगूँ तैं काम मा ख़ुशी/लाभ/फैदा  दिखाओ





                  मन जिताऊ  बुळणो कौंळ /कला , ब्युंत/तरीका


१- शुरू मा क्वी धमकादार उदाहरण  दयावो

२-  इन बात कारो बल लोग ध्यान दीण बिसे जावन , इन बात कारो कि लोक टक्क लगैकी सुणण बिसे जावन 

३- लोगूँ तैं पूछो अर लोगूँ तैं हाथ खड़ करणो उकसाओ

४- बात इन कारो कि जखमा प्रदर्शनी जन भाव ह्वावन

५- बीच बीच मा कुछ सस्पेंस वाळी बात बि कारो

६- लोगूँ तैं भरवस होंण  चएंद कि वो चावन तो वांछित  काम ह्व़े जालो या

लोगूँ तैं लग ण चएंद बल अगर लोग चावन त उंकी इच्छा पूरी ह्व़े जाली


Books by  Dale Carnegie


1- How to Win Frieds and Influence People, 1994

2-How to Enjoy Your Life and Your Job, 1990

3- How to Stop Worrying and Start Living , 1990


आज बि इथगा सालुं  बाद डेल कार्नेजी क किताब खूब बिकदन



Management Guru Series to be Continued on Part 12th



हैंको Management Guru का बारा मा फड़कि -12 मा बाँचो



Copyright @ Bhishm Kukreti

Bhishma Kukreti

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 18,355
  • Karma: +22/-1
Re: Let Us be Effective Manager (Mangament Guru)-By Bi
« Reply #9 on: December 25, 2011, 03:11:31 AM »
Mangament Guru -12

प्रबंध शास्त्री - 12

                अलफ्रेड चांडलर : जैन सिद्ध कार बल  ब्यापार इतियास   प्रबंध हथियार च 

          Alfred Chandler: famous for Bussiness  History as Management Tool                 



( Notes on Management Theories from Old age till date, Notes on Managemnt Thinkers and

Management Practices, Management Gurus, Marketing management Guru, Qaulity Mangement Guru,

Operation Managemnt Guru, Human Resourse Development  Management Guru   )


                  Bhishm Kukreti             

          चांडलर को नाम मनेजमेंट विज्ञान अर कला मा भौत बड़ो नाम च. चांडलर कू जनम १९१८ मा ह्व़े वैकी पढे नोर्थ करोलिना विश्व विद्यालय मा ह्व़े.

चांडलर न हार्वर्ड व.वि से पी.एच.डी करी. चांडलर  को आकर्षण बुजिनेस इतिहास मा ह्व़े अर वैन हार्वर्ड वि.वि. प्रेस बिटेन 'हेनरी वारनम पूर : बिजिनेस  एडिटर ,

अनालिस्ट, एंड रेफोर्मेर' किताब किताब छाप अर वैको बड़ो नाम ह्व़े. चांडलर को स्वर्गवास २००७ मा ह्व़े

  एम्.आई.टी मा पढ़ान्द पढ़ान्द वैन ब्योपार इतियास पर खूब काम कार अर अगने हार्वर्ड वि.वि मा बिजिनेस हिस्ट्री क प्रोफ़ेसर  बौण 

  चांडलर की मेहनत से मैनेजमेंट का विद्वानु अर ब्यापार्युं तैं समज मा आई कि ब्योपार क इतिहास से ब्यापारिक निर्णय ल़ीण मा सुविधा ह नि हुंद

बल्कण मा सै निर्णय बि लिए जान्दन . बिजिनेस इतियास से रणनीति तैयार करण मा बि सुविधा हुंदी .

 

     Books by Alfred Chandler

1- Strategy and Structure, 1962

2-The Visible Hand : The Managerial Revolution in American Business , 1977

3- Management  Hierarchies , 1980

4-The Coming of managerial Capitalism, 1985

5- Scale and Scope: The Dynamics of Industrial Capitalism

6- The  Big Business and The Wealth of Nations , 1997

7- The Dynamic Firms, 1998

 

 

 
Management Guru Series to be Continued on Part 13th



हैंको Management Guru का बारा मा फड़कि -13 मा बाँचो



Copyright @ Bhishm Kukreti

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22