Author Topic: Wild Animal Menace In Uttarakhand-उत्तराखण्ड में जंगली जानवरों का आतंक  (Read 25901 times)

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भालू से हमले से घायल व्यक्ति दिल्ली रेफर


कौसानी (बागेश्वर)। गत दिवस कौसानी के मोलीधार लौबांज निवासी केवल प्रसाद की हालत गम्भीर है। उसे हल्द्वानी से दिल्ली सफदरगंज चिकित्सालय में इलाज के लिए रेफर कर दिया है। शासन-प्रशासन द्वारा अब तक कोई सहायता राशि न दिए जाने से इलाज में दिक्कतें आ रही है। इधर जिला पंचायत सदस्य ललित फस्र्वाण ने इलाज हेतु चंदा करना प्रारम्भ कर दिया है।
गुरुवार को लौबांज के मोलीधार निवासी 33 वर्षीय केवल प्रसाद पुत्र हरीराम पर दो भालू चिपट पड़े थे तथा उसे गम्भीर रूप से घायल कर उसकी आंख निकाल दी थी जिसे ग्रामीणों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया जहां चिकित्सकों ने उसे हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया था। कौसानी के जिला पंचायत सदस्य ललित फस्र्वाण ने बताया कि उसे दिल्ली के सफदरगंज के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
उन्होंने वन विभाग समेत जन प्रतिनिधियों पर आरोप लगाया कि अब तक उसे इलाज हेतु कोई आर्थिक सहायता उपलब्ध नहीं कराई गई है जिस कारण उसके इलाज में दिक्कतें आ रही है। उन्होंने बताया कि वे घायल व्यक्ति के इलाज के लिए चंदा कर रहे हैं जिसे शीघ्र दिल्ली भेजा जाएगा। श्री फस्र्वाण ने चेतावनी दी है कि अगर शीघ्र वन विभाग ने उसके इलाज का खर्चा न उठाया व भालूओं को मारने के आदेश न दिए तो वे प्रभागीय वनाधिकारी कार्यालय में आमरण अनशन प्रारम्भ कर देंगे। इधर उप प्रभागीय वनाधिकारी शिवराज चंद ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद विभाग द्वारा घायल की हरसंभव सहायता की जाएगी।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5745299.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
गरुड़ में बाघ ने दो मवेशी मारे

गरुड़(बागेश्वर)। तहसील के विभिन्न गांवों में इन दिनों बाघ का आतंक छाया हुआ है। बाघ ने दिगोली गांव के एक व्यक्ति की गौशाला में घुसकर दो गायों को अपना शिकार बना लिया। ग्रामीणों ने प्रशासन से मुआवजा प्रदान किए जाने की मांग की है।

तहसील के दिगोली, पिटलाकोट, पूर्वी अयारतोली, रामपुर, चनोली, थापल, मटेना, कनेड़ी, सिल्ली, लौंबांज आदि गांवों में गत कई माह से बाघ का आतंक छाया हुआ है जिस कारण गांवों में दहशत है। दिगोली गांव के दरवान सिंह के गौशाला में गत रात्रि बाघ ने घुसकर उसकी दो गायों को निवाला बना लिया जबकि मोहन राम के कुत्ते को भी अपना शिकार बनाया। ग्रामीणों के अनुसार बाघ दिन में भी आबादी के नजदीक झाड़ियों में छिपा रहता है। ग्रामीणों ने बाघ को पकड़ने की मांग की है। इधर जिला पंचायत सदस्य ललित फस्र्वाण ने प्रभावित परिवार को मुआवजा प्रदान किए जाने की मांग की है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5753963.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
ग्रामीण क्षेत्रों में जंगली सुअरों का आतंक


Sep 12, 11:05 pm


डीडीहाट(पिथौरागढ़): डीडीहाट के ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों जंगली सुअरों का आतंक छाया हुआ है। जंगली सुअर झुंडों की शक्ल में खेतों में घुसकर फसलों को भारी क्षति पहुंचा रहे है। परेशान किसानों ने वन विभाग से सुअरों को मारने की मांग की है।

डीडीहाट के खांकर, खोजा, पमस्यारी, दूनाकोट, पमतोड़ी, चौबाटी और मिर्थी क्षेत्रों में जंगली सुअरों का आतंक बना हुआ है। शाम ढलते ही झुंड की शक्ल में खेतों में घुस रहे सुअर तैयार फसलों को बर्बाद कर चुके है। कुछ गांवों में दिन में ही सुअर घुस जा रहे है। दिन में ग्रामीण हो हल्ला कर सुअरों को खदेड़ रहे है लेकिन रात्रि में सुअर फसलों को रौंद रहे है। सुअरों ने धान और मंड़वे की फसलों को व्यापक क्षति पहुंचा दी है।
सुअरों के भय से महिलाएं खेतों में जाने में भी भय महसूस कर रही है। हाट के क्षेत्र पंचायत सदस्य जोध सिंह बोरा ने बताया कि सुअरों से निजात दिलाये जाने की मांग को लेकर ग्रामीण कई बार वन विभाग से मांग कर चुके है। लेकिन आज तक विभाग की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। परेशान काश्तकारों ने शीघ्र सुअरों को आबादी से दूर खदेड़ने या मारने की मांग की है।

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
गरुड़ में सियार ने युवक को घायल किया



Sep 12, 10:45 pM

बागेश्वर: जनपद के विभिन्न गांवों में बंदरों, जंगली सुअरों के साथ ही अब पागल सियारों का आतंक होने लगा है। जिससे काश्तकार परेशान है तथा उनकी शासन-प्रशासन सुन नहीं रहा है उधर गरुड़ में पागल सियार ने देवनाई गांव में एक युवक पर हमला कर उसे गम्भीर रूप से घायल कर दिया।

नगर के समीपवर्ती गांवों समेत कौसानी, गरुड़, गागरीगोल, कांडा के कई गांवों में लम्बे समय से बंदरों का आतंक बना हुआ है साथ ही गत कई माह से गांवों में जंगली सुअरों का भी आतंक है। इधर गत कई दिनों से कई जगहों पर पागल सियारों का आतंक बना हुआ है गरुड़ प्रतिनिधि के अनुसार सिल्ली, मटेना, जिनखोला आदि गांवों में अब तक कई लोगों पर पागल सियारों द्वारा हमला किया जा चुका है। गत दिवस पागल सियार ने देवनाई के घटकनोला गांव में 19 वर्षीय दिनेश राम पर हमला कर उसे गम्भीर रूप से घायल कर दिया। दिनेश व ग्रामीणों द्वारा हल्ला मचाकर सियार को भगाकर किसी तरह अपनी जान बचाई। इसके अलावा विकास खंड के डूंगलोट, रिठाड़ व रणकुली में सुअरों ने काश्तकारों द्वारा उगाई गई फसल को नष्ट कर दिया है। ग्रामीणों ने पागल सियारों समेत सुअरों को मारने की मांग कई बार प्रशासन से मांग कर दी है परंतु उनकी कोई सुन नहीं रहा है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5784660.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
फसल को तबाह कर रहे हैं जंगली जानवर

कर्णप्रयाग (चमोली)। समय पर वर्षा न होने से पहाड़ के किसानों को इस बार भी सूखे का सामना करना पड़ा। खेतों में जो फसल है उसे भी जंगली जानवर तबाह कर रहे है।

वनों में लगी दावाग्नि के बाद जंगली जानवरों का रूख शहरों व गांवों की ओर अधिक हुआ है। कपीरी क्षेत्र के पाडली, फाला, सुणाई, खत्याड़ी, धनसारी, कंडारा, स्यान में जंगली सुअरों का आतंक कम होने का नाम नही ले रहा है। कई स्थानों पर भालू के आतंक से ग्रामीण दहशत में हैं। चांदपुर पट्टी के जाख, सुंदरगांव, पुडियाणी, गैरोली, चमोला में भी इन जंगली जानवरों ने किसानों की बची फसल को बर्बाद कर दिया है। बंदरों के आतंक से नगर क्षेत्र कर्णप्रयाग के कई वार्डवासी परेशान हैं।

सिमली। डिम्मर, नाकोट, कोली, गबनी, जेंटा, मटियाला, धारकोट में भी आये दिन जंगली सुअर दिन-रात फसलों को हानि पहुंचा रहे हैं। जनप्रतिनिधियों ने वन विभाग से जंगली सुअरों को मारे जाने की अनुमति भी मांगी, लेकिन प्रशासन का सुस्त रवैया हालात पर काबू नहीं कर सका है। ग्रामीण राम ंिसह, आशा देवी, बीना देवी, कांती देवी, जयदीप गैरोला, हेमंत सेमवाल, मोहन लाल ने जानवरों के आतंक से निजात दिलाने की वन विभाग से मांग की है।

देवाल। ब्लाक क्षेत्र के एरेठा, देवसारी, मेलमिंडा, मुंदोली, ताजपुर, हरनी, वांण, रामपुर, तोरती, घेस, बलाण व चोंटिग में भी सुअरों ने काश्तकारों की खड़ी फसल को खासा नुकसान पहुंचाया है। पूर्व प्रधान मदन राम, महिपाल सिंह, महिपत ने जंगली जानवरों के आतंक से निजात की मांग की है।

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
नरभक्षी गुलदार हुआ पिंजरे में कैद, राहत

पौड़ी गढ़वाल। मवालस्यूं पट्टी के डयूल्ड गांव व आसपास में सक्रिय नरभक्षी गुलदार को वन विभाग ने पिंजरे में कैद कर लिया है। प्रभागीय वनाधिकारी गढ़वाल वन प्रभाग डीएन सेमवाल ने बताया कि कुछ दिन पूर्व डयूल्ड गांव में और इससे जुड़े अन्य गांवों में गुलदार का आतंक था। गुलदार ने एक बालिका को भी निवाला बनाया था।

 इसके बाद मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक ने गुलदार को नरभक्षी घोषित कर दिया। गुलदार पकड़ने के लिए वन विभाग ने क्षेत्र में पिंजरा लगाया था। आज गुरुवार सुबह दमदेवल रेज के डयूल्ड गांव से गुलदार पिंजरे में फंस गया। गुलदार को पौड़ी लाया गया है, यहां उसका इलाज किया रहा है। उन्होंने बताया कि गुलदार मादा है, जिसकी उम्र करीब पांच वर्ष है।

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
गरुड़ के कई गांवों में पागल सियारों का आतंक

गरुड़ (बागेश्वर)। तहसील के कई गांवों में कई माह से पागल सियारों का आतंक छाया हुआ है। पागल सियार ने रिठाड़ व द्यौनाई गांव में दो बच्चों पर हमला कर उन्हे घायल कर दिया। ग्रामीणों ने पागल सियारों को मारने व पशु चिकित्सालय व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में एंटी रेबीज उपलब्ध कराने की मांग की है। तहसील के द्यौनाई, रिठाड़ समेत सिल्ली, मटेना आदि गांवों में कई माह से पागल सियारों का आतंक बना हुआ है। इन सियारों द्वारा अब तक दर्जनों मवेशियों समेत कई बच्चों व युवकों पर हमला किया जा चुका है। गत दिवस पागल सियार ने रिठाड़ गांव के ढाई वर्षीय बच्चे दीपक सिंह पुत्र मोहन सिंह पर हमला कर उसे गम्भीर रूप से घायल कर दिया। इसके अलावा अन्य घटना में द्यौनाई निवासी 12 वर्षीय सुंदर सिंह पुत्र गोपाल सिंह पर पागल सियार ने हमला कर दिया जिससे वह गिर पड़ा तथा सियार ने उसकी पीठ को बुरी तरह जख्मी कर दिया।

 उन्हे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बैजनाथ में भर्ती किया गया। इधर ग्रामीण अर्जुन राणा ने बताया कि गांवों में लम्बे समय से पागल सियारों का आतंक छाया हुआ है जिस संबंध में वन विभाग समेत प्रशासन को अवगत कराया जा चुका है उन्होंने पागल सियारों के आतंक से निजात दिलाने की मांग की है। इससे पूर्व भी पागल सियार द्वारा सिल्ली, मटेना आदि गांवों में पागल सियार द्वारा कई मवेशियों समेत युवकों को घायल किया जा चुका है। ग्रामीणों ने पशुओं को एंटी रैबीज लगाने समेत सियारों को मारने की मांग की है।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5852001.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
बुजुर्ग महिला बनी बाघ का निवाला


Oct 21, 10:22 pm


रुद्रप्रयाग। जखोली ब्लाक के पिनगड़ी गांव में बाघ ने एक बुजुर्ग महिला को अपना निवाला बना लिया।

विकासखंड जखोली में लंबे समय से आदमखोर बाघ काआतंक है। मंगलवार सांय करीब सवा सात बजे ग्राम सभा रतनपुर के पिनगड़ी गांव की मैणा देवी पत्नी ईश्वर चन्द्र रतूड़ी (70 वर्ष) पर बाघ ने उस समय हमला किया, जिस समय वह आंगन में कार्य कर रही थी।
 बाघ ने महिला को आंगन से खेत में फेंका, जहां उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। महिला का पोस्टमार्टम जिला चिकित्सालय में किया गया।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5878384.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भालू ने उपप्रधान जी को भी नहीं छोडा


Oct 29, 10:18 pm

नाचनी (पिथौरागढ़)। भालू ने हमला कर डोर गांव की उप प्रधान को गंभीर रूप से घायल कर दिया। घायल प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र क्वीटी में उपचार चल रहा है। दिन दहाड़े भालू के हमले कर दिये जाने से महिलाएं वन्य क्षेत्रों में जाने से घबरा रही है।

जानकारी के अनुसार डोर की उप प्रधान तुलसी देवी पत्‍‌नी हयात सिंह गुरुवार को गांव की महिलाओं के साथ समीपवर्ती वन्य क्षेत्र में पशुओं के लिये चारा काटने गई थी। इसी दौरान झाड़ियों में छुपे भालू ने हमला कर तुलसी देवी को घायल कर दिया। तुलसी देवी की चीख सुनकर समीप ही घास काट रही अन्य महिलाओं ने जब शोर मचाया तो भालू जंगल की ओर भाग गया। भालू के हमले में तुलसी देवी के सिर और गले में गहरी चोटें आई।

महिलाओं की सूचना पर ग्रामीणों ने घायल तुलसी देवी को तत्काल प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र क्वीटी पहुंचाया। जहां पर घायल महिला का उपचार चल रहा है।



Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
भालुओं के हमले में महिला समेत दो घायल

 Oct 29, 02:32 am


गढ़वाल। गाजणा क्षेत्र में जंगल में घास काटने गई एक महिला पर भालुओं के हमला कर दिया। अपने बचाव में महिला ने दरांती से भालुओं का सामना कर उन्हें भगा दिया, लेकिन इस संघर्ष में उसके सिर पर काफी चोटें आई। उधर पौड़ी जिले के थलीसैंण प्रखंड के अंतर्गत चौथान पट्टी के सुंदर गांव निवासी एक व्यक्ति पर भालू ने उस वक्त हमला किया जब वह खेत में काम कर रहा था। दोनों घायलों को पौड़ी और उत्तारकाशी जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।

मंगलवार की देर सांय कमद गांव की सुंदरा देवी जंगल में घास काटने गई थी। इसी दौरान अचानक भालू और उसके दो शावकों ने उस पर हमला कर दिया। खुद को बचाने के लिए महिला ने दरांती से एक शावक पर जोर से वार किया तो तीनों वहां से भाग गये, लेकिन तब तक महिला बुरी तरह जख्मी हो गई थी। सूचना मिलने पर महिला को 108 वाहन से धौंतरी चिकित्सालय लाया गया। जहां से उसे उत्तारकाशी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। महिला के सिर पर 72 टांके लगाए गये। महिला की हालत देखने वन क्षेत्राधिकारी व अन्य कर्मचारी जिला चिकित्सालय पहुंचे।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_5895251.html

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22