Author Topic: Wild Animal Menace In Uttarakhand-उत्तराखण्ड में जंगली जानवरों का आतंक  (Read 25667 times)

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,904
  • Karma: +76/-0
The cases of people being attached by wild animal are increasing in UK day-by-day. There may be the reason of high rate of deforestation what is why these animals are entering in man inhabited areas and attacking people.

There have many incidents during the year where peoples were attached by Tigers etc. Many people lost their lives by animal attack.


Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
जेल कॉलोनी में हिरन का पीछा करते घुसा गुलदार
====================================

जेल कॉलोनी में एक हिरन का पीछा करते-करते एक गुलदार घुस गया। स्थानीय लोगों ने शोर मचाकर गुलदार को वहां से भगाया। कॉलोनी में काफी महीने से टूटी दीवार से आए दिन जंगली जानवर घुस आते हैं, इसके चलते जेल कॉलोनीवासी खासा परेशान हैं।

रोशनाबाद जेल कॉलोनी की दीवार का एक हिस्सा पिछले एक माह से टूटा है। दीवार को जंगली हाथी ने तोड़ा था। बंदीरक्षक राकेश के घर के पास ही दीवार टूटी है। बीती रात 11 बजे बंदीरक्षक राकेश अपने घर के बाहर खड़े थे। तभी उन्होंने देखा कि एक हिरन वहां से भागा। अभी वह देख ही रहे थे कि एक गुलदार भी वहां से हिरन का पीछा करते हुए निकला। हिरन कॉलोनी के अंदर घुस आया और गुलदार भी उसका शिकार करने के लिए कॉलोनी में घुस गया। राकेश ने अन्य लोगों को जब बताया तो लोगों ने शोर मचाकर गुलदार को वहां से भगाया। स्थानीय निवासी राजा कुंवर सिंह, मदन पाल और जयसिंह पुंडीर ने कहा कि दीवार एक माह से टूटी है, लेकिन अभी तक सही नहीं हुई है। इसके चलते अक्सर जंगली जानवर कॉलोनी में घुस आते हैं।

इस संबंध में राजाजी नेशनल पार्क के निदेशक एसएस रसायली ने बताया कि हाथी अक्सर दीवार तोड़ देता है। जल्द ही दीवार को पूरी मजबूत तरह से बनाया जाएगा।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7345384.html

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
गुलदार का निवाला बनी किशोरी का शव बरामद
===================================


घनसाली, निज प्रतिनिधि: बालगंगा रेंज के वन बीट अमरसर के ग्राम पंचायत धनसाणी में शनिवार की रात गुलदार ने आंगन से उठाकर 13 वर्षीय किशोरी सुषमा को निवाला बना लिया था, किशोरी का शव रविवार को गांव के नजदीक बरामद हुआ। ग्रामीणों ने विभाग के खिलाफ प्रदर्शन कर तब तक शव न उठाने का निर्णय लिया है जब तक कि शिकारी दल को मौके पर नहीं भेजा जाता है।

बीती शनिवार रात्रि को ग्रामीणों के खोजबीन के बाद किशोर का शव नहीं मिला पाया था, लेकिन रविवार सुबह गांव के नीचे सिलडी नामे तोक में किशोरी का शव बरामद कर लिया गया। रविवार को मौके पर ही मृतका का पोस्टमार्टम कर दिया गया।

 ग्रामीण वन विभाग से गुलदार को आदमखोर घोषित कर मारने की मांग कर रहे हैं। दहशत से भयभीत ग्रामीणों का कहना है कि वन विभाग को इस घटना की जानकारी दी गई थी लेकिन 18 घंटे बाद भी वन विभाग का कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा, इससे क्षेत्र के लोगों में वन विभाग के प्रति रोष बना हुआ है।

 प्रदर्शन करने वालों में पूर्व प्रधान गब्बर सिंह कठैत, दिनेश लाल, भीमलाल आर्य, शक्तिलाल शाह, देव सिंह कंडारी, प्रेमलाल त्रिकोटिया, धूम सिंह, धूम सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल थे। उधर प्रभागीय वनाधिकारी एमके जोशी का कहना है कि क्षेत्र में गुलदार को मारने के लिए शिकारी दल शीघ्र भेजा जाएगा।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
अब घर की रसोई में घुसा बाघ
=====================

रामनगर: टाइगर कॉरिडोर से सटा सुंदरखाल गांव बाघ की दहाड़ से फिर थर्रा उठा। कुछ दिन की शांत रहने के बाद बाघ आसपास ही नहीं मंडराया बल्कि इस बार वह एक ग्रामीण के घर से सटी रसोई में जा घुसा और पूरा सामान बिखेर डाला। इधर वन कर्मियों ने कहा, रसोई के फर्श पर मिले पदचिह्न गुलदार के हैं। बहरहाल, गांव में एक बार फिर दहशत का माहौल है।

पखवाड़े भर तक सुंदरखाल में बाघ के पदचिह्न न मिलने व दहाड़ न सुनाई देने से खौफ कुछ कम हुआ था। मगर बीती सोमवार की रात बाघ फिर गांव में घुस आया। कुछ देर दहाड़ने के बाद वह ग्रामीण खुशाली राम रसोई में जा घुसा और सारा सामान अस्त-व्यस्त कर डाला।

सारी रात बाघ के खौफ से ग्रामीण अपने घरों से बाहर निकलने का साहस नहीं जुटा सके। मंगलवार को ग्राम प्रधान चंदन राम ने बताया कि वनकर्मियों ने पंजे के निशान देखने के बाद बताया कि रसोई में मिले पदचिह्न बाघ के नहीं गूलदार के हैं। ग्राम प्रधान ने कहा, अभी भी डरे सहमे ग्रामीण जंगल की ओर नहीं जा रहे हैं। मगर बाघ अथवा गुलदार के घरों में घुसना खतरनाक है। इससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। उन्होंने वन विभाग से ग्रामीणों की सुरक्षा के लिए गांव में वन कर्मियों का कैंप लगाए जाने की मांग भी उठाई है।


http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7357610.html

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
गुलदार ने युवक को किया जख्मी
नैनीताल/ बागेश्वर (ब्यूरो)। सरोवर नगरी के निकट नैनागांव में बुधवार को राह चलते युवक पर गुलदार ने हमला कर दिया। घायल युवक को बीडी पांडे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बल्दियाखान निवासी रमेश चंद्र आर्य ज्योलीकोट में लोनिवि में गैंगमेट है। वह सुबह पैदल ज्योलीकोट जा रहा था। करीब 8.30 बजे नैनागांव केसमीप गुलदार ने सीधे उनके सिर पर हमला बोल दिया।
http://epaper.amarujala.com//svww_index.php

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
The increasing incidents are seems to be due to tempering of Nature by human being, which is affecting Nature's ecosystem/food chain. Leopard has to DO or DIE. I also saw a beautiful Guldar crossing Haldwani-Almora Road at Ranibagh, the narrow road just above Goula river on 15th December, 2010 at 7.30 AM.

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
बहेड़ा अर्दगी में बच्ची को गुलदार ने मार डाला
घनसाली (टिहरी)। बहेड़ा अर्दगी में बीती रात एक बालिका को गुलदार ने घर की सीढ़ियों से उठाकर अपना निवाला बना लिया। काफी खोजबीन के बाद सुबह गांव के ऊपर झाड़ियों में उसका क्षत-विक्षत शव मिला। गुस्साये ग्रामीणों ने शव को लेकर मुख्य बाजार में जाम लगाते हुए गुलदार को मारने की मांग की। प्रखंड में एक माह में यह तीसरी घटना है।
भिलंगना रेंज कार्यालय के समीप बहेड़ा अर्दगी में नेपाली मूल की बालिका गोसरा थापा पुत्री वीर बहादूर सायं सात बजे घर की दूसरी मंजिल से नीचे आ रही थी। तभी घात लगाए बैठे गुलदार ने उसे उठा लिया। इसके बाद ग्रामीणों ने बालिका की काफी खोजबीन की, लेकिन उसका पता नहीं चल पाया। दूसरे दिन सुबह गांव के ऊपर झाड़ियों में बच्ची का शव मिला। घटना के बाद ग्रामीणों ने शव के साथ घनसाली बैरियर के पास चक्का जाम कर गुलदार को आदमखोर घोषित कर मारने और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग की। एसडीएम अनिल गर्ब्याल की ओर से गुलदार को मारने के लिए टीम बुलाने का लिखित आश्वासन मिलने पर जाम खोला गया। जाम लगाने वालों में प्रधान बचन सिंह, राजनीकातं सुरीरा, नरेंद्र डंगवाल, भीमलाल आर्य, रूपलाल, प्रेमनारायण कंसवाल सहित कई लोग शामिल थे।  :(
http://epaper.amarujala.com//svww_index.php

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
आक्रोशित लोगों ने मार्ग पर लगाया जाम

 

   घनसाली, निज प्रतिनिधि: क्षेत्र में गुलदार का आतंक बना हुआ है। एक माह के भीतर लगातार तीसरी बार किसी बच्चे का गुलदार का निवाला बनने से दहशत का माहौल बना हुआ है। विरोध स्वरूप गुरुवार को लोग सड़कों पर उतर आए और गुलदार को नरभक्षी घोषित करने की मांग करने लगे।


बुधवार की रात भिलंगना रेंज के वन विभाग के कार्यालय के पास अरदिंगी में नेपाली मूल की गौसरा थापा (8 वर्ष) पुत्री बीर बहादुर थापा अपने घर के आंगन में टहल रही थी। इस दौरान गुलदार ने बालिका को उठा ले गया। गुरुवार सुबह बालिका का आधा खाया शव जंगल से मिला। लोगों ने इसकी सूचना सुबह ही स्थानीय प्रशासन दे दी थी। किसी भी अधिकारी के घटनास्थल पर न पहुंचने पर आक्रोशित ग्रामीणों व बाजारवासियों ने शव के साथ बाजार में घंटों जाम लगा दिया। साथ ही विभाग व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे।
लोगों का कहना है कि जब तक वन विभाग व प्रशासन बालिका के परिजनों को आर्थिक सहायता, गुलदार को नरभक्षी घोषित कर उसे मार देता और क्षेत्र में शिकारी दल को तैनात नहीं कर देता तब तक वे जाम नहीं खोलेंगे। लोगों का कहना है कि प्रखंड में लगातार एक माह के भीतर तीसरी घटना से दहशत का माहौल बना हुआ है। उन्होंने आरोप लगाया कि वन विभाग इस और कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

इस दौरान स्थानीय व्यापारियों व लोगों ने बालिका के परिजनों को आर्थिक सहायता भी दी। जाम लगाने वालों में भगवान सिंह, अब्बल चौधरी, सुन्दर सिंह कठैत, भीम लाल आर्य, रजनीकांत सुरीरा, श्रीराम सेमवाल, प्रेम कंसवाल, डा.नरेन्द्र डंगवाल, जयवीर मियां, विनोद बडोनी, महादेव नौटियाल सहित भारी संख्या में लोग मौजूद थे।

उधर, इस संबंध में भिलंगना रेंज अधिकारी केएस भंडारी का कहना है कि विभाग के उच्च अधिकारियों को अवगत कराया गया है शीघ्र ही गुलदार को आदमाोर घोषित किया जाएगा। समाचार लिखे जाने तक देर रात जाम नहीं खुल पाया था।
http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7397161.html

   

Anil Arya / अनिल आर्य

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,547
  • Karma: +26/-0
भालू ने महिला की आंखें निकालीं, कान फाड़ा
घनसाली(टिहरी)। भिलंगना प्रखंड में पट्टी गोनगढ़ के ग्राम पंचायत गोना में खेतों में काम कर रही एक महिला पर जंगली भालू ने हमला कर उसे बुरी तरह से घायल कर दिया। गुस्साए भालू ने महिला की दोनों आंखें नोच डालीं। ग्रामीणों ने आपातकालीन सेवा 108 की मदद से उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बेलेश्वर में भर्ती कराया जहां से उसे गंभीर हालत के चलते मेडिकल कालेज श्रीनगर रेफर कर दिया गया।
प्रखंड के गोना निवासी रामपति देवी पत्नी मदन सिंह शुक्रवार शाम चार बजे खेतों में काम कर रही थी। तभी एकाएक जंगली भालू आ गया और उसने महिला पर हमला बोल दिया। पैनाड़ा के प्रधान पूरब सिंह पंवार ने बताया कि भालू ने महिला की दोनों आंखें निकाल दीं और कान फाड़ दिया। महिला के चिल्लाने परआसपास के खेतों मे काम कर रही अन्य महिलाओं ने शोर मचाकर बड़ी मुश्किल से भालू को भगाया।
गंभीर रूप से घायल महिला को ग्रामीणों ने 108 की मदद से स्वास्थ्य केंद्र बेलेश्वर में भर्ती कराया। लेकिन चिकित्सकों ने उसकी गंभीर गंभीर हालत को देखते हुए उसे श्रीनगर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया है।
खेतों में काम कर रही महिला पर शाम के समय किया हमला
Source- epaper.amarujala

Devbhoomi,Uttarakhand

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 13,047
  • Karma: +59/-1
महिला पर बाघ का हमला, गंभीर
======================

कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के बाद अब रामनगर वन प्रभाग में बाघ ने महिला पर हमला कर दिया। साथी महिला के चीखपुकार मचाने पर बाघ महिला को घायल कर छोड़ गया। उसे चिकित्सालय में भर्ती कराया गया।

उत्तरी खताड़ी शांतिकुंज निवासी सावित्री देवी पत्‍ि‌न प्रताप सिंह शुक्रवार को अपनी साथी फारेस्ट कंपाउड निवासी चंपा देवी के साथ रामनगर वन प्रभाग के अंतर्गत कोसी रेंज बैलगढ़ बीट के सूखास्रोत के समीप लकड़ी बीन रही थी। तभी बाघ ने दहाड़े मारते हुए सावित्री देवी पर हमला कर दिया। अचानक हुए इस हमले से सावित्री देवी ने चिल्लाना शुरू कर दिया। कुछ दूर ही लकड़ी बीन रही उसकी साथी चंपा ने हिम्मत दिखाते हुए शोर मचाना शुरू कर दिया। इससे बाघ उसे जख्मी कर जंगल की ओर चला गया। उधर महिला को तत्काल संयुक्त चिकित्सालय लाया गया। महिला के हाथ, सिर व कमर में बाघ के पंजे के निशान लगे है। महिला का चिकित्सालय में उपचार चल रहा है।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttranchal/4_5_7434583.html

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22