Author Topic: Today's Thought - पहाड़ के मुहावरों/कथाओं एवं लोक गीतों पर आधारित: आज का विचार  (Read 32537 times)

हुक्का बू

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 165
  • Karma: +9/-0
पोथी पूरा ये है-----

त्यर पहाड़, म्यर पहाड़, होय दुखों को ड्यर पहाड़,
बुजुर्गों ले जोड़ पहाड़, राजनीति ले त्वेड़ पहाड़,
ठेकदारों ने पफोड़ पहाड़, नान्तिनों ले छोड़ पहाड़।[/red]

Mukesh Joshi

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 789
  • Karma: +18/-1
हेके देखि लगई  अपनी देखि नांगी
मेरा बाबे की मति मरे मेखुनी से नि मांगी 
अनुबाद
दुसरे का अच्छा पहना  कर अपनी को नंगा देखा
मेरे बाप की मति मारी गई मेरे लिए ऐसा क्यों नि लाया 

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
हेके देखि लगई  अपनी देखि नांगी
मेरा बाबे की मति मरे मेखुनी से नि मांगी 
अनुबाद
दुसरे का अच्छा पहना  कर अपनी को नंगा देखा
मेरे बाप की मति मारी गई मेरे लिए ऐसा क्यों नि लाया 

Ati Sundar Mukesh Ji.

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
हिमालो ऊँचा डाना प्यारो मेरो देश
छबीलो गड़वाल मेरो रंगीलो कुमाऊँ[/
size]

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
आज हिमाल तुमन के धत्यूंछौ, जागौ-जागौ हो म्यरा लाल,
नी करण दियौ हमरी निलामी, नी करण दियौ हमरो हलाल।

Mukesh Joshi

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 789
  • Karma: +18/-1
प्यारा हिवाला की ऊँची सिराणीयू मा
छिटो न फेक दियो क्वी
सुरता रखीयान याकि .

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
दुःख बाटी भे कम होंछ
सुख बाटी भे बाडों

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0


को सुन दो मेरी खैरी
को गन दो मेरो दुःख !!

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0
दिना उन जाना रैया, मेरो पहाड़ माँ बहिना, बुत देखिया रैया !

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

वंश मा बुद्धि दे माता मुख मा अम्रत वाणी,
जयति जै-जै ज्वाल्पा माँ जोत जगदी रो तेरी

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22