Author Topic: Live Chat With Meer Ranjan Negi(Chak De India Fame) On 27 Aug 2008 At 12:00PM  (Read 39846 times)

Mir Ranjan Negi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 35
  • Karma: +3/-0
Pl read about my life's journey in my book getting published within ten days "From Gloom to Glory"


झलक दिखलाजा का प्रस्ताव जब आपके पास आया था तो .. आपने कुछ सोचा था कि.. आपका तो ये कुछ हट कर लाइन है...

लेकिन आपका काम बहुत ही सराहनी था .   उसकी कुछ यादे  ... आपके पास जो आप .. हम लोगो में बाटना  चाहते है....


Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
नेगी जी क्या भारत की हॉकी टीम २०१२ लन्दन ओलिम्पिक में खेल सकती है? और क्या कोई पदक भी ले सकती है?

Mohan Bisht -Thet Pahadi/मोहन बिष्ट-ठेठ पहाडी

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 712
  • Karma: +7/-0
thanku sir definitly i will......
Pl read about my life's journey in my book getting published within ten days "From Gloom to Glory"


झलक दिखलाजा का प्रस्ताव जब आपके पास आया था तो .. आपने कुछ सोचा था कि.. आपका तो ये कुछ हट कर लाइन है...

लेकिन आपका काम बहुत ही सराहनी था .   उसकी कुछ यादे  ... आपके पास जो आप .. हम लोगो में बाटना  चाहते है....


Mir Ranjan Negi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 35
  • Karma: +3/-0
Governament is still not doing what is required of them.. More and more talent hunting should be undertaken and groomed in a systematic way.

Daju,

Apko Uttarakhand me aishi kaun si sabse badi samasya lagti hai jishe aap merapahad team ke youth ko sambhalane ko kahenge???  


हेम पन्त

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 4,326
  • Karma: +44/-1
That's great... we will certainly read it and motivate others to read this book

Pl read about my life's journey in my book getting published within ten days "From Gloom to Glory"

Quote from: मोहन सिंह बिष्ट/THET PAHADI [/quote

Mir Ranjan Negi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 35
  • Karma: +3/-0
I am feeling elated as though I am at  my native town UttaraKhand but you know I always think above all castes and creed and one must strive to do something good for the society in any way.. It was wonderful chatting with all of you. Take very good care of your health.. May God give all of you what ever you deserve.. Bye for now.. Chak de India.

is samay jab sab aapse sawal kar rahe hain to kaisa feel ho raha hai?

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
नेगी जी,
        आपने हम लोगों से चैट करने के लिये जो समय निकाला, उसके लिये हम आपके आभारी हैं। आपने हमारे प्रश्नों को गंभीरता से देखा और उनका उत्तर दिया। आप उत्तराखण्ड की शान हैं और हमें गर्व है कि आप इस फोरम पर आये।
      मेरा पहाड़ टीम आपकी शुक्रगुजार है, आशा है भविष्य में भी आप हम लोगों का मार्गदर्शन करते रहेंगे।

जय भारत! जय उत्तराखण्ड!!

Mohan Bisht -Thet Pahadi/मोहन बिष्ट-ठेठ पहाडी

  • MeraPahad Team
  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 712
  • Karma: +7/-0
THANKU SO MUCH NEGI JI.. BAHUT BAHUT DHANYAWAAD

Meena Pandey

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 138
  • Karma: +12/-0
thanks sir to share ur time & view

annupama89

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 83
  • Karma: +5/-0
रजनीश भाई द्वारा लिया गया नेगी जी का इंटरव्यू

कहते है की कुछ लोग इस दुनिया में सदियों में एक बार होते है कयोंकी वो आम इन्सान से काफी हट कर होते है वो एक मिसाल बन जाते है एक प्रेरणा एक प्रकाश बन जाते है, वो प्रकाश जो कई सदियों तक लोगों को रास्ता दिखाता है एसी ही एक मिसाल है श्री मीररंजन नेगी, जिनका नाम आते ही आपको सरलता और सहजता का एहसास होने लगता है. आइये आज नेगी जी से मिलकर उनसे जीवन जीने का और जीतने का राज जानने की कोशिश करते है.

Q- आप उत्तराखंड में किस जगह से है?
Ans - मेरे पिता जी ओटला गाव जो की मचखाली और अल्मोड़ा के बीच मे है और माता जी मेरी पौडी से है लेकिन मेरी परवरिश मध्य प्रदेश मे हुई है और पिछ्ले कई सालो से मे मुम्बई मे हूँ पर आप तो जानते है की मुझे प्रदेशों के नाम ना तो सुनाई देते है ना दिखाई देते है मुझे सिर्फ एक नाम सुनाई देता है INDIA
Q- आपको पहाड़ी व्यक्तित्व केसा लगता है?
Ans- मेरे हिसाब से पहाड़ी व्यक्ति बहुत ही सहज, ईमानदार और परिश्रमी होते है इसीलिये हम लोग आज भी अधिकतर सेना मे ही है जंहा सच की कद्र होती है. पर बड़ी ख़ुशी होती है ये देख कर की आज उत्तराखंड के लोग हर जगह आगे आ रहे हैं.
Q- आपने अपने जीवन में हॉकी ही कयों चुना?
Ans- ( हसते हुए) अब केयोंकी पहाड़ी ख़ून है तो मेरे अन्दर उर्जा ( Energy) बहुत थी हालंकि में ऐसे माहोल में पला बड़ा हूँ जंहा सिर्फ क्रिकेट का ही बोल-बाला था, पर में एक जगह खड़ा रहकर गेंद का इंतिज़ार नहीं कर सकता था तो जब मेने हॉकी खेलना सुरु किया तो मुझे लगा की अपनी उर्जा को में यंहा जादा अच्छे ढंग से लगा सकता हूँ, इसलिये मुझे फुटबाल, बेटबिनटन, टेबलटेनिस सुरु से बहुत पसंद था और इन सभी खेलो मे भी मेरा बहुत अच्छा प्रदर्शन रहा है.
Q-  पहाड़ी संगीत सुनते है?
Ans- मुझे बहुत पसंद है लेकिन हम लोग सुरु से ही बहार रहे है तो बहुत जादा नहीं सुनपाए, फिर भी नरेंदर सिंह नेगी और गोपाल बाबु गोस्वामी के कई गाने सुने है..
Q- आपको नहीं लगता की उत्तराखंड सरकार कभी भी अपने खिलाड़ियों को या उन सभी लोगों को जिन्होंने ने देश दुनिया में नाम किया है ना तो उनकी सरहाना करती है, ना ही कभी उनके साथ कोई अपनेपन का बय्वाहार करती है?
Ans - हॉकी के खिलाड़ियों के साथ सोतेला बय्व्हार हमेसा से ही हुआ है चाहे वो कोई भी राज्य हो पूरे हिंदुस्तान में हॉकी के खिलाडियों को कभी भी सरकार ने अपनेपन की दृष्टि से नहीं देखा. उत्तराखंड में बहुत प्रतिभा जिनका लोहा आज दुनिया मान रही है लेकिन अगर आज कुछ लोग जो उत्तराखंड से है और देश दुनिया मे नाम कमा रहे है और उनके बारे में उत्तराखंड के लोग ही नहीं जानते है तो इसके लिए पूरी तरह से सरकार जिम्मेदार है जिसने कभी उन लोगों को अपनापन ही नहीं दिया जो बहुत दुःख की बात है.
Q- आप ने कुछ सोचा है उत्तराखंड के बारे में जो आप वंहा करना चाहते हो?
Ans- सबसे पहली बात तो में अपने लोगों से मिलना चाहता हूँ अपने लोगों के बीच आना चाहता हूँ और उत्तराखंड में हॉकी को आगे बढाना चाहता हूँ जेसे नैनीताल मे पहले एक टूर्नामेंट होता था जो टूरिस्ट को भी बहुत आकर्षित करता था, में उसको काफी बड़े स्तर पर करना चाहता हुं, इसके अलावा मेरा एक बेटा था "अभिरंजन नेगी" 19yrs का जिसकी एक सड़क दुर्घटना मे म्र्त्यु हो गई मैने उसके नाम से हॉकी फौंडरेसन बनाईं है जिसकी एक संस्था में उत्तराखंड में भी खोलना चाहता हुं
और चाहता हुं की उत्तराखंड के जवानों की जो उर्जा है उसको खेल के मैदान तक लाऊँ और देश को ऐसे खिलाडी दूँ जिन पर देश को नाज़ हो.

Q- जीवन के सबसे बुरे उतार चढ़ाव देखे है आपने, किसी भी इन्सान को तोड़ देने के लिए काफी था पर आपने केसे आपने आप को समय से जीतना सिखाया?
Ans -  सच है की जो कुछ भी मेरे साथ हुआ वो किसी भी इन्सान को तोड़ देने के लिए काफी था यंहा तक की मेरे भी मन में कई बार आया की इस तरह के जीवन का क्या फायदा जब आप के साथ साथ आपके परिवार को भी जिल्लत उठानी पडे फिल्म " चक दे इंडिया" में जो भी दिखाया वो सच्चाई से काफी दूर था, मेरे घर का पानी काट दिया बिजली काट दी, घर के सीसे तोड़ दिए पत्थर मारे और हर जगह गद्दार गद्दार की आवाजे लोगों ने यंहा तक कहां की  एक - एक  गोल का एक - एक लाख लीया है मैने. उस वक़्त मुझे लगा की लोग आत्महत्या कयों करते है लेकिन मेरे विरोध मे सिर्फ वो ही लोग थे जो मुझे नहीं जानते थे, बाकी मेरे परिवार ने और मेरे दोस्तों ने कभी मेरा साथ नहीं छोड़ा केयोंकी उनको विस्वास था मुझपे. केयोंकी अगर आप सच्चे है तो आप के लोग कभी आप का साथ नहीं छोडेंगे. फिर मुझे ये लगा की में तो एक खिलाडी हूँ और खिलाडी एक योद्धा [fighter] होता है और योद्धा का काम है लड़ना जब तक वो  जीत ना जाये इस उम्मीद से में हमेशा परिस्थितियों से लड़ता रहा  कयोंकि आखिरकार मे एक खिलाडी हूँ.
Q- 51 साल की उम्र है आपकी और आप [Sony TV] का एक शो कर रहे है "झलक दिखला जा" बाकी सभी लोग आपसे उम्र में काफी जवान है, उसके बाद भी आपने इस चुनोती को स्वीकार किया क्या लगता है आपको?
Ans- सबसे पहले तो में ये बता देना चाहता हूँ की ये शो मेने पेसे या नाम के लिए नहीं किया, ना ही मेंने अपनी तरफ से कभी कोई इच्छा रखी की में एसा कुछ करु.
अभी एक पत्रकार ने मेरे शो के बारे में लिखा की नेगी को वोट डांस की वजह से नहीं सीनियर सिटिजन की वजह से मिलेगा, जो की लोगों को अच्छा नहीं लगा अरे मुझे तो लगता है की आदमी की उम्र 45-50 के बाद से सुरु होती है मुझसे लोगों को उम्मीद थी की मे डान्स कर लूँगा और मुझे पता है की में कर सकता हूँ तो में कर रहा हूँ और लोग कहते है की में अच्छा कर रहा हूँ, जबकि इस फिल्ड में मै बिल्कुल नया हूँ..

Q- आप को उत्तराखंड सरकार से वंहा के लोगों से किस तरह की उम्मीदे हैं?
Ans- में वहा आना चाहता हूँ, अपने लोगों का प्यार चाहता हूँ मेरी दिली ख्वाइश है की अपने लोगों के बीच में रहूँ और वंहा की सरकार मुझे बुलाए कुछ करने का मोका दे ताकि में उत्तराखंड के स्पोर्ट्स के लिए कुछ कर सकूं. मुझे सिर्फ आप सभी लोगों से प्यार की उम्मीद हैं जो मेरे लिए सबसे बड़ी उपलब्धि होगी. मुम्बई मे भी गढ़वाल भ्रात मंडल वालो ने मुझे "गड रतन" से सम्मानित किया जिसके लिए मे उनका आभारी हूँ.
Q- मीर रंजन नेगी इस नाम के पीछे कोई राज़?
Ans- मेरे पिता जी क्रन्तिकारी थे कम्युनिस्ट थे तो इस नाम का मतलब होता है शांति का दूत.
वेसे मेरा बचपन का सतेंदर सिंह नेगी था आज भी घर में लोग मुझे सत्ती बुलाते है
.
Question to Mrs Negi - किस तरह की यादे जुडी है उत्तराखंड से?
Ans- बहुत याद आती है कोई भी पहाड़ी सरनेम {Sur name} दिख जाता है तो लगता है की २ मिनट बात कर लेते, कंही पार्टी में भी जाते है तो अपना पहाड़ी गाना "बेडू पाको बारो मासा" और पहाड़ी डान्स भी करते है, बाल मिठाई , अरसे वंहा की ठंड सब बहुत याद आता है, यंहा तक की मैने अपने बेटे को बोला है की दोस्ती यारी अपनी जगह है पर शादी पहाड़ी लडकी से ही करना. मे दिल से चाहती हूँ की हमारे घर में पहाड़ी बहु आये.
Question to Mrs Negi- आपने भी नेगी जी के साथ कई बुरे वक़्त देखे है, तो ऐसी कोन सी चीज है नेगी जी के पास जिसके कारण हर बुरे वक़्त से नेगी जी जीत जाते है?
Ans- इनके अन्दर सहन शक्ति बहुत गजब की है, दूसरा मेने कभी इनको किसी का ग़लत करते नहीं देखा.
Question to Mrs Negi- 1982  में जब आप की शादी होने वाली थी उस वक़्त नेगी जी के ऊपर ज़माने भर के ग़लत इल्जाम लगाए गये तब आपके परिवार ने शादी का विरोध नहीं किया ?
Ans- तब सिर्फ हमारी सगाई हुई थी और में विशेस रूप से इनका मेच देखने दिल्ली गई थी पर कुछ कारणों से मे मेच नहीं देख सकी जिसका शुक्रिया में आज ऊपर वाले से करती हूँ वरना लोग मेरे कारण भी इनको बदनाम कर सकते थे, हमारे परिवार ने कभी इनसे कोई शिक़ायत इसलिये नहीं की केयोंकी हम लोग जानते है की नेगी जी केसे इन्सान है सिर्फ वो ही लोग नेगी जी को ग़लत बोल सकते थे जो कभी इनसे मिले ना हो या जिन्होंने मीडिया की बात पर भेड़चाल की तरह भरोसा किया हो..
Question to Mrs Negi - कहते है की जो इन्सान पूरी दुनिया के लिए अच्छा होता है वो घर के लिए बहुत अच्छा नहीं होता है? तो नेगी जी की कोन सी बाते है जो आपको पसंद नहीं है?
Ans- मुझे इनसे कोई शिक़ायत नहीं है सिवाए इसके की ये मेरा और बच्चो का समय भी बहार ही देते है एक दो दीन पहले ही मै इनको कह रही थी की जब से तुम झलक दिखलाजा कर रहे हो तब से तुम घर में भी झलक दिखाने के लिए ही आते हो..
Question to Mrs Negi आज जब सब कुछ वापस ठीक हो गया है तो किस चीज की कमी महसूस करते हो?
ansसबसे बड़ी चोट जो हमें मिली है वो हमारे बेटे की है ये हादसा १९८२ से भी बहुत बुरा था आज भी हमे उसकी बहुत कमी महसूस होती है.
Question to Mr and Mrs Negi क्या कहना चाहेंगे आप उत्तराखंड के लोगों से?
बस हम यही कहेंगे की आप ही लोगों के बीच के लोग है, हमेसा हमें आपके प्यार और स्नेह की जरुरत है...
Interview by: Rajneesh Agnihotri (Global Moderator, Mera Pahad Forum)

bahut aacha interview hai padhkar bahut aacha laga
thanks

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22