Author Topic: Live Chat With Parashar Gaur(Father Of Uttrakhand Cinema) On 10 Sep 2008 10:00AM  (Read 23604 times)

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
Aree Rajen ji
Kertath  to mai huaa ..., aap jese sajjano ka pyaar paaker... Badhu Pahad mera hi nahi hum sab ka hai chaye o Kerdarnath se ho , ya Dwarahata se  .. hum sab ise matti ki dain hai.. iska Rin hai hum per

K C Joshi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 17
  • Karma: +1/-0
namaskar & welcome on merapahad

एम.एस. मेहता /M S Mehta 9910532720

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 40,899
  • Karma: +76/-0

Gaur Ji,

Marathi, Tamil and other regional languages of film industry for promote their films, we even do not have a TV channel. Have ever got any proposal from anywhere in this regard or any initiative from Govt side ?

shwetabindaas

  • Newbie
  • *
  • Posts: 6
  • Karma: +1/-0
Namaskar Gaur Ji,
Aap pahaadon se door hote hue un khubsurat wadiyon ki kami mehsus karte honge apne jeewan mein? Kya karte hain aap jab aapko Pahadon ki yaad aane lagti hai( I mean kis tarah se aap apne aap ko pahadon se juda hua maante hain?)

Rajen

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 1,345
  • Karma: +26/-0
धन्यवाद Sir, आपने अभिभूत कर दिया.  पहाड़ की संस्कृति को सिनेमा के माध्यम से उबारने और उसे बुलंदियूं पर लेजाने के लिए सभी पहाड़ के लोगों की दृष्टी आप की ओर है.  "गौरा" की अपार सफलता की कामना करते हैं. 


Aree Rajen ji
Kertha to mai huaa ..., aap jese sajjano ka pyaar paaker... Badhu Pahad mera hi nahi hum sab ka hai chaye o Kernath se ho ya Dwarahata se  .. hum sab ise matti ki dain hai.. iska Rin hai hum per

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0

गौर जी,

जग्वाल से आपने उत्तराखंडी फिल्मो की नींव रखी पर उसके बाद हमारे फिल्मो ने बहुत अछ्ही progress नही की इसका क्या कारण हो सकता है ?

==========================================================
सर,  आप प्रशन का उत्तर member के पोस्ट के आगे quote  कर दे सकते है  उससे प्रशन उत्तर एक साथ दिखायी देंगे ?
  Film  ke baad , Cd or ved ka jab chalan howaa to do baat saaf dekhe de...
ek ki ,  film ko  KEWAL haal me jaker he dekha ja sakta hai    , jab ki , cd vcd gher me baith ker dekha ja sakta hai o bhi apne pure pariwar ke sath

dusra   vecd or cd ki keemat bahut kam jab ki film ki ticket jayad..  Log Hall ki bajay Gher me dekhna pasand kerne lage .. nateej Hall  me film ki preti rujhan ki kamee ke karan hall bandh hone lage... Ye sab se bad factor bana hamre film ko age na badane me.

पंकज सिंह महर

  • Core Team
  • Hero Member
  • *******
  • Posts: 7,401
  • Karma: +83/-0
गौर साहब,
        आपने उत्तराखण्ड सरकार से फिल्म जगत को स्थापित न करने के लिये क टिप्पणी की थी कि "बांझ औरत से आप बच्चे की अपेक्षा कैसे कर सकते हैं" तो क्या आप और हम यानि कि आम जन एक सहकारी संगठन बनाकर फिल्म जगत स्थापित करने के बारे में सोच सकते हैं? मतलब कि हम लोग मिलकर इस बाझ औरत से टेस्ट ट्यूब बेबी को पैदा करवाने की सोच सकते हैं?

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
Dhnyabad joshiji
aap ki subh kamnau ke liye.. umeed hai sab theek hogaa waha per.

Parashar Gaur

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 265
  • Karma: +13/-0
गौर साहब,
        आपने उत्तराखण्ड सरकार से फिल्म जगत को स्थापित न करने के लिये क टिप्पणी की थी कि "बांझ औरत से आप बच्चे की अपेक्षा कैसे कर सकते हैं" तो क्या आप और हम यानि कि आम जन एक सहकारी संगठन बनाकर फिल्म जगत स्थापित करने के बारे में सोच सकते हैं? मतलब कि हम लोग मिलकर इस बाझ औरत से टेस्ट ट्यूब बेबी को पैदा करवाने की सोच सकते हैं?

 haal me Manayberji

sabse pahe dhnaybad..

app hamesh her subject per apne paine drishtee gade rakhte hai.. jo kam se kam mujhe bahut achaa lagta hai...

keun nahi  ? Jab aaj ke youg me her cheez ka samadhan hai.. Banjh aurt to kya dhosiy sahib apne hall me he pada hogaa  ek , yaha America me ek ADMEE ne  bachaa deya hai.. jab yesa ho sakta hai to pahad me kun nahi..

हुक्का बू

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 165
  • Karma: +9/-0
यह एक दुःखद परिदृश्य है कि उत्तराखण्ड में फिल्म जगत को प्रमोट करने के लिये ८ साल बाद भी कोई नीति सरकार ने नहीं बनाई। पूर्ववर्ती राज्य उ०प्र० में एक "फिल्म बन्धु" नाम से सरकारी संस्था हुआ करती थी, जो सरकार और फिल्म इंड्रस्ट्री के बीच में संवाद-सेतु का काम करती थी.....उ०प्र० में शूटिंग आदि के लिये यह संस्था प्रयास करती थी और फिल्मकारों को उत्तराखण्ड में आने के लिये प्रोत्साहित भी करती थी।  लेकिन हर चीज, हर शासनादेश के लिये उ०प्र० का मुंह देखने वाली उत्तराखण्ड सरकार को यह नहीं दिखाई दिया।
      गौर साहब मेरा तो आपसे और फिल्म जगत से जुड़े लोगों से अनुरोध है कि आप लोग इसी सरकारी संस्था की तर्ज पर एक समानान्तर संस्था उत्तराखण्ड में शुरु कर दें और आम जनता आप लोगों के साथ है। क्योंकि हमारे पास ऎसे-ऎसे शूटिंग लोकेशन हैं, जो स्विटजरलैंड में भी नहीं हैं....हमें अपनी फिल्म इंड्रस्ट्री स्थापित करने के साथ-साथ हिन्दी और अन्य भाषाई फिल्मों को उत्तराखण्ड में शूटिंग करने के लिये बुलाना चाहिये।

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22