Author Topic: Live Chat With Preetam Bharatwan(Jagar Samraat) On 16 Oct 2008 At 03:00PM  (Read 31973 times)

manjkholayogi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
  • Karma: +0/-0
namaskar pritam ji kan chha aap
aapaku program dekhi chau min gagwarhsyun lwali ma pichlya saal saradotsav ma
bhut hi kamal chayu aapaki jagar ar sundra chhori


bblindia

  • Newbie
  • *
  • Posts: 14
  • Karma: +0/-0
Mai  Bharat Bhushan Lekhwar

Pritam ji ka Mera pahad group mai hardik swagat hai.......!!!!!

Mujhe kaei Baar Pritam ji ko LIVE sunanai ka Mauka mila......!!!

2-3 baari surkanda temple mai bhi......!!!!

Uttaranchali Lok Sangeet/Geeton mai unka yaha prayash sarahniya hai.....!!!!

Meri yaha iccha hai ki Pritam ji ek acchi Si CD nikalai jismai sirf  Dhol, Nagara aur Masak Bean  dhun aur us mai pritam da ji aawaj..........
 
on net i hv seen punjabi dhol and scotich bagpiper  lots....lots......


All the best wishes and pray to maa  surkanada for his all good work and life...

Best Wishes & Regards

Bharat Bhushan Lekhwar
New Delhi/ Tehri Garhwal
9810655333,9810601333

Preetam Bhartwan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 33
  • Karma: +0/-0
Dhanyavaad Vijay bhaai aapke pyar aur sneh.

श्रीमान प्रीतम भरतवान जी मेरा पहाड़ में आपका बहुत बहुत स्वागत है |

मैं विजय सिंह बुटोला मूल रूप से ग्राम अमोली ,पट्टी बारजुला, टिहरी गढ़वाल का निवासी हूँ | वर्तमान समय में दिल्ली में रहता हूँ |

आज के इस व्यस्त जीवन में अपने पहाड़ से दूर जब में आपके गए गीत, भजन,जगार व् वार्ता सुनता हूँ तो मन को बड़ी प्रसन्नता होती है | मैं आपका आपके द्वारा गए गए गीतों को बहुत अधिक पसंद  करता हूँ ,सभी गीत कर्णप्रिय होते है  |

आप सर्वत्र जगार सम्राट के नाम से भी विख्यात है | इस आधुनिक युग में जहा हम सभी अपने संस्कार, लोक संस्क्रति व् लोक कला को बिसरते जा रहे है तो ऐसे में  आपके द्वारा जाए गीतों में हमें पुन: अपनी संस्कृति की याद आ जाती है और हम सब उसमे खो जाते है तथा चित्त में  एक नई आभा का अहसास होता है |

धन्य है आप जिनके फलस्वरूप आज हमें उत्तराखंड की पारंपरिक व् लोक संगीत  गायन शैली का श्रवण करने का अवसर मिलाता है | आपका यह प्रयास निसंदेह हम सभी के लिए प्रेरणास्रोत  है |

मेरी परमपिता परमात्मा से यही प्रार्थना  है की  आप दिन दुनी रत चौगनी तरक्की  करते रहे व आप  सदा इसी प्रकार अपने गायन शैली के माध्यम से हम सभी श्रोताओ को आनंदित करते रहे तथा हमें अपनी संस्कृति की याद दिलाते रहे |

शुभकामनाओ  सहित
विजय सिंह बुटोला
09891207791



 


Preetam Bhartwan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 33
  • Karma: +0/-0
Dhanyavaad Hem bhai bahut bahut dhanyavaad aapka.

प्रीतम जी हम लोगों के बीच आने के लिये आपने अपना अमूल्य समय निकाला.. उसके लिये धन्यवाद

Preetam Bhartwan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 33
  • Karma: +0/-0
Butola ji mujhe Gaayki virasaat main mili hai. Mere Dadaji aur Pitaji bahut achhe lok gaayak the. Saath main maine Sangeet ki vidhiwat shiksha bhi li hai. Aapke Saanskritik prem ke liye bahut bahut dhanyavaad. Apna sneh banae rakhiega.

श्रीमानजी कृपया यह बताइए की आपको गायन की प्रेरणा कह्ना  से मिली ?

Preetam Bhartwan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 33
  • Karma: +0/-0
Rajen ji Dhanyavaad.

नमस्कार प्रीतम जी, आपका हार्दिक स्वागत है.

अरुण भंडारी / Arun Bhandari

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 151
  • Karma: +2/-0
प्रीतम जी में ये भी जानना चहूँगा की आप को उत्तराखंड के संगीत के परेणा कहा से मिली और उत्तरखंड के संगीत में आप के आदर्श कोन -कोन है?

Preetam Bhartwan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 33
  • Karma: +0/-0

UKF MANOJ NEGI

  • Newbie
  • *
  • Posts: 8
  • Karma: +0/-0
PREETAM JI NAMASKAR MAI MANOJ NEGI POURI GADWA EKESHWAR SE HUN
OR ABHI DELHI MAI HUN. AAPKA BAHUT BAHUT DHANYABAAD MERA PAHAD KO KEEMTI SAMAY DENE KE LIYE.........OFFICE SE AANE KE BAAD AAPKE GANE SUNKAR SARI THAKAWAT DOOR HO JATI HAI.

ESHWAR AAPKI AAWAJ OR LEKHNI KO OR PENI DHAR DE.

Preetam Bhartwan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 33
  • Karma: +0/-0
Pahad ka mool sangeet humar Jaagar aur Lok geet chhan aur samay samay pai aap logun ki pyar aur sneh ini mildi rauh Dhanyavaad.

preetam ji me sabse peeli aapaaku bahut bahut aabhari chawa ju aapal hamari sanskriti tha apna geeton dwara naye disha de aur hamari naye peedhi tha ye se awagat karai

 

Sitemap 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22